गुरुवार, 17 जनवरी 2013

मनोज 'आजिज़' की नज्म - कश्मकश

image

नज़्म 

कश्मकश 

       -- मनोज 'आजिज़'

बैठा, ख़ास मिजाज़ लिए 

की कुछ ख़ास अहसासों को 

ज़ब्त करूँगा 

किसी नज़्म या ग़ज़ल में 

बैठा,  बैठा ही रह गया 

ज़ेहन में कई ख़यालात 

रस्सा-रस्सी खेलते हुए 

आकर ठहर गए 

हैवानियत और इंसान 

के बीच रिश्ते को सोचकर ।

और इस बात पर भी कि --

चमक में मस्त,खोये लोग 

क्या नज़्म या ग़ज़ल को 

वक़्त दे पाएंगे?

जीने की दौड़ में 

क्या अदब छुट नहीं गया 

काफ़ी पीछे 

पुराना तमाशा जैसा !

बस, कलम और कागज़ भी 

कश्मकश में रहे 

कि शायद 

आज कुछ 

अच्छे ख़याल बांधूं

--

जमशेदपुर झारखण्ड 

09973680146

5 blogger-facebook:

  1. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 19/01/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब ... कागज़ कलम की कशमकश ...

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------