शुक्रवार, 19 अप्रैल 2013

राम नरेश ‘उज्‍ज्‍वल' की दस बाल कविताएँ

राम नरेश ‘उज्‍ज्‍वल' की दस बाल कविताएँ

clip_image002

.एक.

आज गाँव का मेला है!

clip_image004

भीड़ -भड़क्‍का रेला है,

आज गांव का मेला है।

नीचे झूला ऊपर झूला,

झूले ऊपर झूला है,

कहीं है सरकस, कहीं सिनेमा,

कहीं कान का झाला है,

कहीं आम अमरूद बिक रहे,

कहीं बिक रहा केला है,

आज गांव का मेला है।

काका-काकी घूम रहे है,

मतवाले से झूम रहे है,

गरम जलेबी देख देखकर,

काका बटुआ खोल रहे है,

काकी बोली जरा संभलकर,

यहाँ ठगों का हेला है,

आज गांव का मेला है।

खेल बिलौने सजे हुए हैं,

प्‍यारे गुड्‌डे-गुड़ियां हैं,

चोर सिपाही हाथी-घोड़े,

कुत्‍ता-बिल्‍ली, चिड़ियां हैं,

कुल्‍फी आइसक्रीम बिक रही,

कहीं चाट का हेला है,

आज गांव का मेला है

 

.दो.

छोटे-छोटे प्‍यारे-प्‍यारे

clip_image006!

छोटे-छोटे प्‍यारे-प्‍यारे।

आसमान में कितने तारे॥

दम-दम-दम-दम दमक रहे हैं,

मोती जैसे चमक रहे हैं,

उल्‍टी लटकी फुलवारी में ,

फूलों जैसे लटक रहे हैं,

जैसे जड़े हुए सोने के,

सुन्‍दर सलमा और सितारे।

छोटे-छोटे प्‍यारे-प्‍यारे ।ं

जादू मन्‍तर सा है इनमें ,

एक गिनूँ दूजा भूलू मैं,

मन करता है ऊॅचे उड़कर,

दौड़-दौड़ इनकों छू लूॅ मैंं,

कोई गिनकर यह बतला दे,

आसमान में कितने तारे,

छोटे-छोटे प्‍यारे-प्‍यारे॥

 

.तीन.

भोली चिड़ियाँ

clip_image008

भोली चिड़ियाँ बोल रही हैं।

कानों में रस घोल रही हैं॥

clip_image010

फुदक-फुदक कर दाना चुगती,

खेल-खेल में लड़ जाती हैं

दूर-दूर तक आसमान में,

झुण्‍ड़ बनाकर उड़ जाती हैं,

पेडों को अपना घर समझें,

चीं-चीं करके डोल रही हैं।

कानों में रस घोल रही हैं॥

clip_image012

ढूॅढ़-ढूंढ कर तिनके लाती,

अपनें घर को खूब सजाती,

उसमें रहतीं चिड़ियां रानी,

अपने बच्‍चों को दुलराती,

पास हमारे आकर बैठी,

जाने क्‍या-क्‍या बोल रही है।

कानों में रस घोल रही हैं॥

clip_image014

 

चार

ललचाया, पर खा न पाया

clip_image016

आज रात सपने में देखा,

पंख लगाकर उड़ता हूँ,

टिमटिम चाँद-सितारों को मैं,

छूता और पकड़ता हूँ।

तभी निकलकर एक परी ने,

मुझको अपने पास बुलाया,

फूलों के झिलमिल झूले पर,

मुझको काफी देर झुलाया।

clip_image018

उड़न खटोले पर बैठाकर,

परी लोक में सैर कराया,

फिर वह अपने महल ले गई,

पकवानों का थाल सजाया।

लेकिन तभी आ गई मम्‍मी,

हाथ पकड़कर मुझे जगाया,

पकवानों का थाल खो गया,

ललचाया पर खा न पाया॥

..........

 

पाँच

जंगल की होली

clip_image020

जंगल की होली में देखो

तरह तरह के रंग ।

खेल रहे हैं चूहे राजा

फिर मौसी के संग॥

बिल्‍ली ने भी पिचकारी भर

मारी सर-सर-सर।

चूहों की जब हालत बिगड़ी

बोले हम गये मर॥

मौका देखा जब हाथी ने

भरा सूँड़ में रंग।

जल की बरखा कर दी ऐसी

भीगे सबके अंग॥

सबने मिलकर मजा चखाया

लीपा पोता रंग।

जोर-जोर हाथी चिल्‍लाया

नहीं करो अब तंग॥

 

छः

रंग-विरंगी होली

clip_image022

होली आई, होली आई।

रंग-विरंगी होली आई॥

clip_image024

लाल, गुलाबी, नीले, पीले,

हरे, बैंगनी, काले-काले,

रंगे-पुते चेहरों पर देखोे,

कैसे-कैसे लोग निराले,

झूम-झूम कर मस्‍ती में अब,

सबने मिलकर धूम मचाई,

होली आई, होली आई॥

clip_image026

फागुन के सब गीत गा रहे,

नाच रहे हैं ठुमक-ठुमक कर,

बेफिकरी में बड़े मजे से,

हाथ-पैर सब झटक-झटक कर,

काका-काकी, दीदी-भैया,

अम्‍मा-बप्‍पा, बाबा-दाई।

होली आई, होली आई॥

clip_image028

अरे-अरे मुनवा को देखो,

दौड़ाये लेकर पिचकारी,

मुनिया सराबोर है रंग में,

काँप रही थर-थर बेचारी,

फिर भी उछल-उछल कर सबकी,

रंगों से कर रही धुलाई।

होली आई, होली आई॥

 

सात

गली-गली में रौनक छाई

clip_image030

जगर-मगर दीवाली आई।

खुशियों की सौगातें लाई॥

सबने हैं घर द्वार सजाए ,

झिलझिल-झिलझिल दिये जलाए ,

चूरा , खील , बतासे लाए ,

बड.े प्रेम से मिल कर खाये ,

गली-गली में रौनक छाई

जगर-मगर दीवाली आई॥

clip_image032

खुशियों का त्‍योहार निराला ,

सबको कर देता मतवाला ,

छूट रहे गाेले,फुल-झडि.याँ ,

गूँज रही हैं , सारी गलियाँ ,

सबके मन में खुशियाँ छाई।

जगर-मगर दीवाली आई॥

 

आठ

न्‍यारा मोर

clip_image034

कितना सुन्‍दर प्‍यारा मोर।

जंगल का है न्‍यारा मोर॥

clip_image036

सुन्‍दर-सुन्‍दर पंखों वाला,

सर पे ताज धरे मतवाला,

राष्‍ट्रीय पक्षी है अपना,

इसे मारना सख्‍त मना,

जंगल में करता है शोर।

कितना सुन्‍दर प्‍यारा मोर॥

clip_image038

उसके पंखों में है जादू,

सबको कर देता बेकाबू,

जंगल में ही उड़ता खाता,

कभी-कभी वह नाच दिखाता,

सबको करता भाव-विभोर।

कितना सुन्‍दर प्‍यारा मोर॥

 

नौ

सबको प्रेम सिखाना है

clip_image040

पढ़ना लिखना बहुत जरुरी,

हरदम पढ़ते जाना है।

चाहे जितनी आफत आये,

कभी नहीं घबराना है।

अच्‍छे काम सदा करना है,

आलस दूर भगाना है।

सही राह पर चलते-चलते,

आगे बढ़ते जाना है ।

सेवा करके दीन-दुखी की,

सबको सुखी बनाना है।

नफरत करना नहीं किसी से,

सबको प्रेम सिखाना है।

 

दस

सोजा बिटिया रानी

clip_image042

सोजा बिटिया रानी,

तू है बड़ी सयानी।

तेरे पापा आएँगे

खेल-खिलौने लाएँगे॥

मैं भी जब छोटी थी,

अगर नहीं सो पाती थी।

तो मुझको मेरी मम्‍मी ,

लोरी यही सुनाती थी॥

लोरी सुन सो जाती थी,

सपनों में खो जाती थी।

सपनें में परियाँ आकर,

अपने घर ले जाती थी॥

सो जा मेरी बिटिया ,

तू है प्‍यारी गुड़िया ।

तेरे पापा आएँगे,

टाफी तुझे खिलाएँगे॥

--

राम नरेश ‘उज्‍ज्‍वल'

उप सम्‍पादक-‘पैदावार' मासिक

मुंशी खेड़ा,

अमौसी एयरपोर्ट, लखनऊ-226009

09616586495

 

जीवन-वृत्‍त

 

नाम ः राम नरेश ‘उज्‍ज्‍वल‘

पिता का नाम� ः श्री राम नरायन

विधा ः कहानी, कविता, व्‍यंग्‍य, लेख, समीक्षा आदि

अनुभव ः विभिन्‍न पत्र-पत्रिकाओं में लगभग पाँच सौ

रचनाओं का प्रकाशन �

प्रकाशित पुस्‍तके ः 1-‘चोट्‌टा‘(राज्‍य संसाधन केन्‍द्र,उ0प्र0

द्वारा�पुरस्‍कृत)

2-‘अपाहिज़‘(भारत सरकार द्वारा राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार�से पुरस्‍कृत)

3-‘घुँघरू बोला‘(राज्‍य संसाधन केन्‍द्र,उ0प्र0 द्वारा पुरस्‍कृत)

4-‘लम्‍बरदार‘

5-‘ठिगनू की मूँछ‘

6- ‘बिरजू की मुस्‍कान‘

7-‘बिश्‍वास के बंधन‘

8- ‘जनसंख्‍या एवं पर्यावरण‘

सम्‍प्रति ः ‘पैदावार‘ मासिक में उप सम्‍पादक के पद पर कार्यरत�

सम्‍पर्क ः उज्‍ज्‍वल सदन, मुंशी खेड़ा, पो0- अमौसी हवाई अड्‌डा, लखनऊ-226009

मोबाइल ः 09616586495

ई-मेल ः ujjwal226009@gmail.com 

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------