रचनाकार में खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

राजुला शाह की कहानी - जुबेर का नाम जुबेर

SHARE:

राजुला शाह जुबेर का नाम जुबेर “ अब्‍बा, कोयल․․․ उसके भीतर बैठा बच्‍चा बरसों पहले के शब्‍द बुदबुदा रहा था। अब्‍बा उसके साथ कोयल ढूँढने लग...

राजुला शाह

जुबेर का नाम जुबेर

image

अब्‍बा, कोयल․․․ उसके भीतर बैठा बच्‍चा बरसों पहले के शब्‍द बुदबुदा रहा था। अब्‍बा उसके साथ कोयल ढूँढने लगते। दोनों को कोयल कभी नहीं दीखती। वह तभी दिखती, जब वह दिखना चाहती। लेकिन वे हर बार उसे ढूँढते ओर वह हर बार ढूँढने का खेल बन जाता। कोयल बड़ी खिलाड़ी है․․․ अब्‍बा कहते और कोयल की नकल में आवाज निकालने लगते। कोयल खेल में शामिल हो, चिढ़ती जाती और अंततः उसका पंचन विकृत होकर फट जाता। बाप बेटा अपनी सफलता का जयघोष करते भीतर चले जाते। भीतर रसोई की खिड़की से कूदकर भागती बिल्‍ली पर अब्‍बा एक मग पानी डालकर कहते-

-चलो अब इसे निमोनिया तो हो ही जाएगा। बेटा बना फरीद ताली बजा-बजाकर हँसता और रात को नींद में गिरते हुए सोचता बिल्‍ली को निमोनिया हुआ होगा कि नहीं? बंद आँख लेटे बिल्‍ली, उसे भीगी-काँपती दिखती और फरीद रजाई को गले तक खींच लेता। उसकी आँख खुल जाती। खिड़की के बाहर हमेशा की तरह होती हवा, नीम के पीले पत्त्‍ाे झराती।”

तालियों के स्‍वर से चौंककर जुबेर ने अपने आसपास देखा। हॉल खचाखच भरा हुआ था। कथापाठ खत्‍म हो गया था। जुबेर सिगरेट मुँह में दबाए बालकनी का दरवाज़ा खोलने लगा। सिगरेट का धुँआ दरवाज़े के शीशे पर एक पर्त में छा रहा था। उस पार उड़ते पंछियों की छायाएँ उसे चीरती हुई निकल गईं। अभी दिन ढला नहीं था। हालाँकि तालियों के स्‍वर से चौंक जब जुबेर कुर्सी से उठा तो उसे लगा था बाहर रात हो चुकी होगी। लेकिन बाहर अभी भी दिन ही चल रहा था। जुबेर खाली छत पर धूप में चला आया। उसकी छाया चुपचाप आकर उसके पीछे खड़ी हो गई। जुबेर ने एक कश खींचा तो छाया ने भी। जुबेर सामने खड़े नीम में छिपी बैठी कोयल को ढूँढने लगा।

जुबेर का कथा में फरीद हो जाना, जुबेर पहचानता था। कभी-कभी उसका मन होता कि कथा गोष्‍ठी में खड़े होकर बोल दे कि असल में वही कथा का फरीद था, बल्‍कि यह भी कि कहाँ-कहाँ फरीद वह नहींथा, जो उसे होना चाहिए था। कृपया व्‍यर्थ में सभा का समय जाया ना करें- यह काल्‍पनिक स्‍वर उसके उबाल पर तुरंत ठंडे छींटे मार देता।

जुबेर का नाम जुबेर बड़ी खाला का दिया हुआ था। पास दूर के सभी लोग उसे इसी नाम से जानते थे। दरअसल अम्‍मीं खाला को बहुत मानती थीं। तिस पर दिल में एक अदद बिटिया की तमन्‍ना लिए अचानक बेटे के आ जाने पर वह नाम के इस नए संकट के लिए तैयार भी कहाँ थीं? उनके भीतर तो ‘सोफिया-सोफिया' यूँ बज रहा था, जैसे किसी गीत के पहले का कॉर्ड! सो ख़ाला अगर कहतीं तोउसका नाम फरीद भी रखा जा सकता था। बहरहाल ऐसी वैसी, कैसी भी तमाम संभावनाओं के बीच जुबेर का नाम जुबेर था, जो उसे खासा नापसन्‍द था। एक से एक नाम सुनता, उसके दिल में एक हूक सी उठती। कई दफे उसके जी में आया भी कि एफिडेविट देकर नाम बदलवा ले। इस बारे में, उसने ताहेरा से भी मशविरा किया था।

-नाम से क्‍या होता है, भला? ․․․वह सुबह-सुबह खिड़की के पल्‍ले हवा में पसारते हुए बोली थी- जुबेर से रेहान, रशीद या साहिल होकर तुम क्‍या बदल जाओगे? जुबेर को उसकी साफगोई बुरी तो लगी थी पर शायद वह ठीक ही कह रही थी। फिर भी, उसके मन में आया कि उसकी इस तमन्‍ना को भी थोड़ी तवज्‍जो तो दी जानी चाहिए थी। बहरहाल उस दिन के बाद उसने वह बात दोबारा नहीं छेड़ी थी। यह बात और है कि उस दिन के बाद से ताहेरा उसे कभी रेहान, तो कभी रशीद बुलाने लगी थी। जुबेर को अपने लिए यह नाम सुनना भला सा लगता, पर कभी शाम के ढलते उजाले में उसे लगता कहीं ऐसा ते नहीं कि ताहेरा उसका मज़ाक उड़ा रही हो․․․ यह ख्‍़याल जुबेर के बेहद मायूस कर देता। उस रात वह दीवार की ओर मुँह फेरकर सो जाता और जि़द में बिरूखा सा सुबह उसी करवट उठता। पता नहीं ताहेरा उसके इस बिरूझाने को ठीक-ठीक पकड़ पाती या नहीं, लेकिन अगली सुबह, ज्‍यों ही जुबेर ‘बीती ताहिर बिसार' के अपनी सहजता में लौटने की पहल करता, तो वह अपने अनजाने ही जैसे अपनी बारी को नाराजगी ठान लेती। इस बारे में उनकी आपस में कोई बात न होती लेकिन इस अनकहे में खेल के कायदों का लिहाज़ करते हुए दोनों चौबीस घंटे के इस तनी रस्‍सी के नाज में शामिल हो जाते। किसी तमाशबीन को शायद इस खेल के तनाव में ढील पड़ने की दूर-दूर तक कोई संभावना ना दीखती। उन दोनों कोखुद भी अगले उस पल के बारे में पता नहीं होता था कि जिसमें अचानक सब सामान्‍य हो जाने वाला होता था।

कभी-कभी जुबेर इस तनी रस्‍सी पर संभल-संभलकर चलते हुए, बीच में ठिठक जाता। उसे रस्‍सी के आसपस का पूरा संसार जैसे फक्‍क्‌ से दीख जाता और वह अपना संतुलन खोकर ज़मीन पर आ पड़ता। आधी-अधूरी रात का हासिल अगले दिन पर लद जाता। सुबह उसकी नींद खुलती तो उसे लगता जैसे रात भर वह कोई सपना देख रहा था- किसी रेहान, असद किसी रशीद का। वह खुद को आईने में घूर-घूरकर देखता। एक पर एक कई चेहरे गिरकर तस्‍वीर को गड़बड़ा देते। अपना चेहरा खोकर जुबेर आईने से मुँह फरे लेता। आगे पीदे के कई कल और परसों सिमटकर उसके पास आ जाते और वह अपनी चिपचिपी हथेली में पकड़ी किताब मुंडेर पर रख देता।

आखिर कथा लेखक ने उसके चरित्र के साथ यह छेड़छाड़ क्‍यों की थी? वह तो उसका सबसे अजीज दोस्‍त हुआ करताथा। बचपन के तमाम किस्‍से -कहानियाँ, घटनाएं वह इसी जुबेर के साथ तो शेयर करता था। फिर उसके सारे नाते रिश्‍तेवालों में से कौन था जो निज़ामाबाद से उससे मिलने जाना चाहता था? उसकी माँ बेचारी अकेले कहाँ जातीं। मेरे हाथ ही उन्‍होंने जुबेर के लिए मीठे शक्‍करपारों से भरा डालडे का डिब्‍बा भिजवाया था। जुबेर के लिए भी अपने छोटे से कस्‍बे से बाहर इतनी दूर बम्‍बई जाने का वह पहला मौका था। रिज़र्वेशन था नहीं, उसे सारे रास्‍ते टॉयलेट के पास बैठकर जाना पड़ा था। उसके बाद बम्‍बई का वह रिक्‍शेवाला जो उसे गोल-गोल घुमाकर, खूब से पैसे ऐंठकर, उसे ना जाने कहाँ छोड़कर नदारद हो गया था। और फिर वह बिहारी जिसने बिना एक रूपया लिए उसे सही ठिकाने तक पहुँचाया था। खासी दूरी थी वहाँ से और जुबेर को बिठलाने से पहले ही उसे पता था कि उसकी जेब खाली थी, और शायद फटी हुई थी। लेकिन भलेमानस ने उसे कमल के हॉस्‍टल के ठीक सामने छोड़ा था। कमल तब कमरे में नहीं था। वह दो घंटे बाद लौटा था और जुबेर को नीचे बेंच पर बैठा देख अचरज से उसकी आँखें फैल गइ थीं। वह उसके गले लगकर रो पड़ा था- ‘जुबेर, तुमने मुझे बचा लिया, तुम आ गए दोस्‍त!'

पर कहानी में समीर फरीद को स्‍टेशन पर लेने जाता है। और उसको देखते ही कहता है- ‘फरीद अब तुम किस उलहने का पैगाम लेकर आए हो? मुझ पर रहम खाओ और वापस चले जाओ, दोस्‍त।'

‘कस्‍बा' को वह कई दिनों से पढ़ रहा था। इतना लम्‍बा समय उसे आमतौर पर किसी कहानी को पढ़ने मेंनहीं लगता था। जाने क्‍या था कि इसे वह खत्‍म ही नहीं कर पा रहा था। वह हर बार शुरू से शुरू करता और दादर स्‍टेशन पर ट्रेन से उतरकर ठगा सा खड़ा रह जाता। कुछ भी करके उसकी आँखों में यह दृश्‍य बनता नहीं था। वह कमल को स्‍टेशन पर आया नहीं देख पाता था। बस। उसके दृश्‍य में तो वही काना कुली होता था, जो उसे टे्रन से उतरते ही प्‍लेटफार्म पर इंतजार करता मिला था। और कथा से बाहर कमल जुबेर को लेने स्‍टेशन नहीं आया था।

-कम ऑन, जुबेर․․․ तुम इसे पर्सनली ले रहे हो। यह सिर्फ एक कथा है मेरे दोस्‍त, इसमें कुछ भी हो सकता है।

जुबेर ने आँखें बंद कर लीं। कान मेंरेल की सीटी बजने लगी। कथा के दृश्‍य में वह गोमती एक्‍सप्रेस के एस-3 डिब्‍बे से उतरने लगा। समीर सूटकेस उसके हाथ से लेते हुए बोला- फरीद अब तुम किस उलहने का पैगाम लेकर आए हो? मुझ पर रहम करो और वापस चले जाओ, दोस्‍त․․․

जुबेर और आँखें बंद ना रख सका। इस डायलॉग के बाद उसे हर बार कमल की माँ का दिया डालडे का पीला डिब्‍बा दिखाई देने लगता था। जुबेर की समझ में नहीं आता था कि ऐसे किसी दृश्‍य के बाद कथा आगे कैसे बढ़ सकती थी? बहरहाल कथा बदस्‍तूर आगे बढ़ती थी। लेकिन फरीद स्‍टेशन से ही लौट गया या समीर के संग उसके हॉस्‍टल गया, इसमें किसी की दिलचस्‍पी नहीं थी। इसलिए फरीद बना जुबेर अपने अदृश्‍य पीले डालडा के डिब्‍बे के साथ स्‍टेशन पर ही छूट गया था। जबकि पाठक समीर के साथ स्‍टेशन से बाहर निकल, सड़क पर तेज कदमों से चलते हुए हॉस्‍टल की छत पर पहुँच गए थे जहाँ हेमा उसका इंतजार कर रही थी।

जुबेर ने अपने भीतर उबलते गुस्‍से से बेचैन हो, दूसरी सिगरेट जला ली। कमल को क्‍या इसका ख्‍़याल भी था कि, जुबेर किस तरह बम्‍बई पहुँ था। आखिर वह उसे ऐसा एक वाक्‍य बोल भी कैसे सकता था, और क्‍यों? वह भी स्‍टेशन पर ही? कया यह संभव है कि अगर कमल स्‍टेशन पर आया होता तो वह ऐसा ही कोई वाक्‍य बोलता? और फिर अगर वह बोलता तो जुबेर उसके साथ हॉस्‍टल जाता या वहीं से लौट जाता?

- मुझे समझ में नहीं आता जुबेर, जुम खुद को इस कथा से इस कदर क्‍यों जोड़ रहे हो? इट्‌ज़ अ स्‍टोरी माय डियर․․․ इसमें फरीद और समीर है, कमल और जुबेर नहीं।

जुबेर अपने बचपन के दोस्‍त से जवाब में कुछ भी कह नहीं पाया था। एकदन्‍त, दयावन्‍त, चार भुजाधारी माथे सिंदूर सोहे मूषे की सवारी․․․ कमल के घर यह आरती रोज़ गाई जाती थी। जुबेर की आधी जिंदगी कमल के यहाँ बीतने से वह हर दिन इस आरती में शामिल था। पूरा कुलकर्णी परिवार रसोई के उस छोटे से कोने में सिमट हाथ जोड़े आँख बंद किए, ताली बजा-बजाकर गाता। जुबेर सिर्फ ताली बजाता और अलमारी के सामने की ज़रा सी जगह में सिमटे कुलकर्णी परिवार को देखता। अलमारी के एक शेल्‍फ में सफेद (कमल के पिताजी ‘सुफेद' बोलते थे) गणपति रखे होते- सिंहासन पर छत्र तले, हाथ में दो-चार लड्‌डू पकड़े। ऊपर नीचे के शेल्‍फों में स्‍टील के बरतन, दाल, चावल, मसालों के एल्‍यूमिनियम के डिब्‍बे रखे रहते। प्‍लास्‍टिक के डिब्‍बों में से कमल की माँ के बनाए शक्‍करपारे और मोदक झाँकते रहते। आरती के दौरान चुपचाप पड़ी इन चीज़ों को देखने में फरीद को बहुत मज़ा आता था। लेकिन इतने भारी गणेशे इतने छोटे से चूहे पर क्‍यों चलते थे? और उनका एक ही दाँत क्‍यों था? कमल की माँ के पास इन तमाम सवालों के जवाब मौजूद होते थे और उनके मुँह खोलते ही वे सारे जवाब कथाएँ बन जाते थे।

एक रात की बात है, गणेश जी बहुत से मोदक खाकर जा रहे थे। मूषक बेचारा पिचका जा रहा था। इतने में सामने से आते साँप को देखकर बिदका और गणेश जी लुढ़क पड़े। उनका पेट फूट गया। सारे मोदक निकलकर बिखर गए। इस नज़ारे कोदेख अकास के चाँद को हँसी आ गई। विनायक ने आव देखा ना ताव, अपना एक दाँत तोड़कर खिदखिदाते चाँद पर दे मारा। फिर उनकी नज़र पड़ी भीगी बिल्‍ली बने मूषक पर। कमबख्‍़त उनका वाहन होकर साँप से डरता था! उन्‍होंने आव देखा ना ताव, साँप को उठाया और कमरबंद की जगह बाँध लिया। तभी से उनका एक दाँत है, कमर पर साँप बँधा है और चाँद पर दाग․․․ कथाएँ तो सैकड़ों थीं जो उनके बचपन के आसपास बुनी-बिखरी थीं। लेकिन उनमें दोनों का साझा था। जो एक दिन जुबेर खुद कमल के लिए कथा बन जाए, ऐसी जुबेर ने कभी कल्‍पना नहीं की थी। क्‍या लेखक होने का मतलब था कि आप अपनी कथा में कुछ भी कर सकते थे? हुआ को अनहुआ भी?

कल कॉलोनी की पिकनिक में नागचून जाना है, याद है न आपको? ताहेरा उसकी प्‍लेट में शोरबा ढालते हुए पूछती। जुबेर चौंककर उसकी तरफ देखता। अभी तो उसकी बगल में पोखर में बंसी डाले कमल बैठा था, ये सुंदर-सी स्‍त्री कौन है जो उसकी प्‍लेट में शोरबा․․․ ओह ताहेरा․․․ हाँऽऽ कल है ना․․․ ताहेरा? वह सोचने लगा पोखर में मछली पकड़ने वाला कल इतना करीब और नागचून वाला कल इतना दूर क्‍यों लग रहा था? क्‍या वह बूढ़ा हो रहा था? अब्‍बा का भी बड़ी उमर में यही हाल हुआथा कि वे उसकी कल की बताई बात भूल जाते और अपने लड़कपन के किस्‍से यूँ सुनाते जैसे ‘कल ही की बात' हो। जुबेर कितना झल्‍ला जाता था उनकी स्‍मृति के इस बर्ताव पर। कई बार उसे लगता अब्‍बा महज़ उसे खिजाने के लिए ऐसा करते थे। उसे लगा जैसे बरसों बाद अब्‍बा पर का उसका शक आज अभी टूट रहा था।

तो क्‍या वह बूढ़ा हो रहा था? क्‍या ताहेरा बूढ़ी हो रही थी? वह नजर उठाकर अपनी बीवी की ओर देखता। उस चेहरे पर उसे अनेक ऐसी रेखाएँ दिखतीं जो अब से पहले उसकी नज़र में कभी नही आइर्ं होतीं। जुबेर कुर्सी खिसकाकर उठ जाता। उसे आजकल भूख सी लगनी बंद हो गई थी। ‘कस्‍बा' सोते-जागते उसके साथ रहने लगी थी। वह फरीद के ख्‍़यालों में दुबला रहा था। वह ख्‍़याल जैसे उसके पीछे पड़ गया था। कई दफे घर की सीढि़याँ उतरते हुए उसे अपने पीदे एक जोड़ा कदमों की आहट सुनाई देती। वह चेहरा थोड़ा घुमाकर कनखियों से पीछे देखता तो वहाँ कोई भी ना होता। उसकी परछाई भी नहीं। कभी सड़क पर चलते हुए उसे गुमाँ होता कि वह कहानी में चल रहा है। फज़र् करो कि वह फरीद हो तो उसे कैसे चलना चाहिए? अगर जुबेर और फरीद को दो अलग व्‍यक्‍ति मानना है तो उनके बीच के फर्क को तो दर्ज़ करना होगा। क्‍या फरीद उसकी छाया था कि चुपचाप उसके पीछे-पीछे चलता चला आए?

पापा․․․ आवाज़ सोफिया की होती। वह इधर-उधर सर घुमाकर देखता तो उसे वह कहीं दिखाई नहीं देती।

पापा․․․ इधर इधर․․․ पास की झाड़ी से आवाज़ आ रही होती। ऊधमचौकड़ी कनेर की झाड़ी में अपना खेल जमाकर बैठी होती। जुबेर अपने ख्‍़यालों में मुब्‍तिला वहाँ एक पल ठिठक जाता। क्‍या कनेर की झाड़ी में घर-घर खेलते इन बच्‍चों के बारे में जस का तस लिख डालने भर से कहानी बन जाएगी? कहानी के लिए दृश्‍य में क्‍या बदलाव दरकार होंगे? चलते-चलते दृश्‍य में मन्‍नू की दूकान आ जाती। कनेर वाले बच्‍चे वहीं खेलते छूट जाते। उन्‍हें वह किसी कथा सूत्र में पिरो पाए इससे पहले एक नया स्‍वर उसकी तंद्रा तोड़ता।

भाई साहब लीजिए। इस बीच तो आप दिखे ही नहीं। सब खैरियत तो है?

सब ठीक है मन्‍नू। थोड़ा बिज़ी था।

जुबेर मन्‍नू के चूना-कत्‍था लगे हाथों से पनामा का डिब्‍बा लेते हुए मन्‍नू के चेहरे को देखने लगता। मन्‍नू की कहानी बनाने के लिए उसके ‘चरित्र' में क्‍या जोड़ा और घटाया जाना होगा? क्‍या क्‍था में उसके चेहरे पर चेचक के ऐेसे ही दाग होंगे जो मन्‍नू के चेहरे पर हैं? वह क्‍या बात-बात पर ऐसे ही हँस पड़ता होगा जैसे मन्‍नू हँस पड़ता है? उसके पास भी क्‍या दो नीली-खाकी कमीज़ें होंगी जो वह बदल बदलकर पहनता होगा? और फिर कहानी का अंत? कया वह वर्तमान से भविष्‍य में छलाँग लगाते हुए मन्‍नू को एक दिन होटल का मालिक बनते दिखाएगी जो वह होना चाहता है और अभी है नहीं? कथा में क्‍या उसका यह स्‍वप्‍न पूरा होगा? क्‍या ज़रूरी था कि कथा लेखक को यह सब पता हो? या फिर कथा में कुछ नहीं होगा और वह उसे भूतकाल से शुरू कर वर्तमान की इस गुमटी तक लाकर यूँ छोड़ देगा कि-- मन्‍नू अपने होटल का सपना देखते हुए इसी तरह अपना पान पैलेस चलाता रहा। उसे उस दिन का इंतजार था कि जिस दिन वह आँखें खोलेगा तो उसके सामने मैनेजर का काउंटर होगा और उस पर तनकर बैठी सुनहरी चीनी बिल्‍ली का खिलौना हाथ हिला हिलाकर सबको भीतर बुला रहा होगा।

पर यह कथा बुन कौन रहा था? फरीद या जुबेर? इस बीच मन्‍नू दूसरे ग्राहकों में व्‍यस्‍त हो जाता। जुबेर पैसे उसके डिब्‍बे पर रख देता। और खुद कहाँ जाने निकला था यह भूलकर वह घर को लौट पड़ता। वो नागचून कब जाना था․․․ क्‍या कह रही थी ताहेरा?

तुम शायद दुःख है कि उसने तुम्‍हें, मसलन रेहान क्‍यों नहीं बनाया! ताहेरा आईने में उसे देख रही होती। जुबेर किताब से आँख उठाकर उसकी तरफ देखता। उसके मुँह पर मुस्‍कान की एक हल्‍की सी रेखा दीखती। क्‍या सचमुच, वह सोचने लगता, कथा में फरीद का नाम रेहान होने से क्‍या वाकई जुबेर की परेशानी कुछ कम हो जाती? क्‍या रेहान बनकर वह वैसा बन पाता जैसा वह बनना चाहता था? पर वह आखिर कैसा और क्‍या बनना चाहता था? ताहेरा कपड़े बदलकर अब आईने के सामने बैठी चोटी गूँथ रही होती। सोते समय वह रोज दो ढीली चोटियाँ किया करती थी। इतनी सुंदर बीवी कया जुबेर की हो सकती थी? और एक वह था जो अपने नाम बदलने का निर्णय तक नहीं कर पाया था․․․

‘रेहान! पंखा चलाऊँ?' वह ताहेरा का स्‍वर होता। जुबेर दीवार की तरफ मुँह फेरकर लेट जाता। वह फरीद से रेहान में आखिर क्‍या बन जातना चाहता था? पर कमल ने उसे कथा बना देने से पहले उससे पूछा नहीं था। कथा में अगर वह उसके लिए जुबेर से फरीद बन गया था, तो वह अब जीवन में उसके लिए क्‍या था? क्‍या ‘कस्‍बा' लिखने के बाद अब वे उसके मन में दो अलग-अलग व्‍यक्‍ति हो गए होंगे या एक दूसरे में डिज़ॉल्‍व होकर गड्‌ड-मड्‌ड हो चुके होंगे? कौन फरीद? कौन जुबेर?

‘मुझे पहचानते हो कमल?' वह अपने बचपन के दोस्‍त को पोखर किनारे झिंझोड़कर पूछना चाहता। पोखर का पानी सपने में आईना बन जाता और अपने सामने खड़े आदमी की बड़बड़ाहट से झुँझला, मुँह फेरकर दूसरी ओर चला जाता। किसी को अपना आईना नहीं बनाया जा सकता था। फरीद क्‍या जुबेर का आईना हो सकता था, जिसमें वह अपना आनेवाला कल देख पाता? जुबेर की इस कथा से कोई तो उम्‍मीद थी जो पूरी नहीं होती थी। ना जाने कितनी बार वह इस एक कहानी को पढ़ चुका था। हर बार वह वही की वही रही आती थी। एक शब्‍द भी यहाँ से वहाँ नहीं होता था। और इसमें जुबेर के अलावा और किसी को आपत्त्‍ाि नहीं थी। जो भी होना था वह पहले से तय था। चाहे कथा में हो या उससे बाहर, उसमें कोई फेरबदल नहीं हो सकता था। अम्‍मी की लाख तमन्‍नाओं के बावजूद जुबेर सोफिया नहीं बन सकता था। अब्‍बा की साथवाली सरकारी नौकरी अलबत्त्‍ाा उसने जरूर हासिल की थी, और फिर थोड़े समय में अब्‍बा के ओहदे से अँगुल भर ऊँचा ओहदा भी। किन्‍तु उसका शहर अब्‍बा के शहर से बड़ा था, यहाँ लोग चौगुने थे, सो उसका घर अब्‍बा के घर से कुछ छोटा ही ठहरता था। फिर शहर में तरह-तरह का सामान मिलता था, इसलिए उसकी जरूरतें भी अब्‍बा से ज्‍यादा थीं। कुल मिलाकर बदले हुए संदर्भ में जुबेर उतना संतुष्‍ट व्‍यक्‍ति नहीं था, जैसी उसकी अपने बारे में कल्‍पना थी। किंतु यही बात अगर ताहेरा कह देती तो वह झल्‍ला जाता। ना चाहते हुए भी वे बार-बार इस ‘तनी रस्‍सी के नाच' में शामिल हो जाते। और फिर जब उस दृश्‍य मं यकायक वह बिन्‍दु आता कि नट बने जुबेर की साँस टूटती तो उसे एक कौंध में जैसे तमाश्‍बीनों की आँख में अपना प्रतिबिम्‍ब दीख जाता। उस पल उसे अपना आप कुछ कुछ कथा के किसी चरित्र की तरह आँख सामने अलग सा दीखने लगता। अपने से अलग इस ‘दूसरे' पर उसे ऐसी माया होती, जैसी बाजार के चकाचौंध मेले से गुजरते, पिता का हाथ पकड़कर घिसटते एक रूआँसे जिद्‌दी बच्‍चे को देखकर होती थी। अक्‍सर वह बाजार में ऐसे किसी बिरूझे, अनमने बच्‍चे का पिता के हाथ से खिंचते, घिसटते, भीड़ में ओझल होना देखता खड़ा रह जाता। ना जाने उस बच्‍चे को क्‍या चाहिए रहा होगा, वह सोचता। और फिर आने वाले कई दिन यह बिम्‍ब उसके मन में जब तब कौंधता रहता। दफ़तर से लौटते हुए वह बस में अपने आसपास बैठे क्‍लांत, ऊँघते, पसीना-पसीना चेहरों को देखता। सभी के भीतर जैसे वही बिरूझा हुआ बच्‍चा बैठा दीखता। उसे ना जाने किस चीज़ की रट लगी रहती जो उसे मिलती नहीं थी। अगर यह रूसी कहानी होती और उसमें बुद्धू ईवान को बोला जाता जाओ वहाँ ना जाने कहाँ, लाओ उसे ना जाने किसे तो इवान बिना कुछ पूछे उसकी खोज में निकल पड़ता।

एक के बाद एक कई चेहरे उसके मन में डूबने उतराने लगे। कई शहर, कई वक्‍त, कई मौसम, कई दिन-रात आपस में गड्‌ड-मड्‌ड हो गए․․․ उन बूढ़े सरदारजी का क्‍या हुआ होगा, जो अमृतसर में रिक्‍शा चलाते थे, और उस मछुआरिन का, जिसे एक दिन अचानक शहर में आकर चिंदी मज़दूर बन जाना पड़ा था? कया उसके पति ने शराब पीना छोड़कर उसकी मदद करना शुरू किया होगा? उस होटल वाले का क्‍या हुआ होगा, जिसने अपने जन्‍मदिन की रात नशे में धुत्‍त हो, अपनी बीवी को ही गोली मार दी थी? क्‍या उसका होटल अभी चल रहा होगा? वह टैक्‍सीवाला․․․ जो जीवन की उमंग से भरा अपने परिवार को ‘देस' से बम्‍बई ले आने का मंसूबा पाले था, उसका क्‍या हुआ होगा?

कई अधूरी कहानियाँ जुबेर के जे़हन में कुलबुलाने लगीं। अचानक उसे गुमां हुआ कि शायद उसके पास भी बहुत सी कहानियाँ थीं चाहता तो वह भी उन्‍हें लिख सकता था। वह बालकनी की मुंडेर पर सिगरेट बुझाकर पीछे घूमा और दीवार से पीठ टिकाकर खड़ा हो गया। भीतर पार्टी में कमल को घेरे उसके प्रशंसक, पाठक आदि कई लोग अब भी खड़े भी आज शायद एक दोस्‍त की हैसियत से वहाँ नहीं था- वह तो उसके जीवन से निकलकर रेंगता हुआ उसकी कही कथा में चला आया था- एक चरित्र। शायद सारे मेहमानों को भी पता होगा कि वही कथा का फरीद था।

छत पर पसरे अंधेरे का फायदा उठाकर वह सीढि़याँ उतरने लगा। भीतर अब भी बहुत भीड़ थी। किसी को उसके ना होने का पता चलने की आशंका नहीं थी। दोबारा भीतर जाकर जुबेर का पार्ट अदा करने के ख्‍याल से ही उसे उब हो रही थी। वह जानना चाहता था, आखिर किस दिन, किस पल से वह कमल के लिए कहानी बन गया होगा। और उस पल के बाद? फरीद में से जुबेर को घटाया तो बाकी क्‍या? हासिल क्‍या? एक बार जुबेर से फरीद बनकर क्‍या संभव था कि वह कमल के लिए दोबारा जुबेर बन सके?

किसी को भी अपना आईना नहीं बनाया जा सकता जुबेर एक बर फिर आईने और दीवार के बीच करवटें लेने लगा। अम्‍मीं, खाला, भाईजान, मामू, जमीर, अमीना कोई भी तो उसका आईना नहीं बन पाया था। जाने कितनी रातें वह यूँ ही उस संभावित आईने से बेजार हो दीवार की ओर मुँह फेरकर सोया था। पर दीवार का आईना हो जाना उसने कीाी नहीं चाहा। ऐसी कई कई रातें उसने अपनी जि़द की करवट ही सोते गुजार दी थीं। एक वह होता और एक उसे समझा गया होता, जो वह होता नहीं। यह फाँक उसका जीना मुहाल कर देने को काफी होती। वह क्‍या था? और उसे क्‍या समझा जा रहा था? कहीं से कोई जवाब नहीं आता। ऐसे समय हर बार, उसके सबसे करीब अगर कोई रहा, तो यह दीवार ही, जो आज भी मुँह बाए थी। हर बार अगली सुबह तक उसमें एक सुराख हो जाता था।

अभी पौ फटने वाली थी। आँखों ही आँखों में जुबेर और दीवार ने रात की चादर में छेद कर डाला था। ताहेरा अभी सो रही थी। नींद में वह और सोफिया जुड़वाँ बहनें लग रही थी। जुबेर के बिस्‍तर पर सोते दो सजीले फरिश्‍ते-से ये लोग कौन थे?

नारंगी परदों से छनकर आती धूप, हौले से सोफिया को जगाने की कोशिश कर रही थी। रात पानी बरसा था। सड़क पार के जामुन की पत्त्‍ाियाँ धुली हुईथीं। जुबेर उठकर खिड़की के पास चला आया। उसने पर्दा सरकाया तो धूप का गोला बिखरकर कमरे में फैल गया। खिड़की के बाहर से गीली सौंधी मिट्‌टी और धुले चमकते पत्त्‍ाे कह रहे थे- रात बारिश आई थी। और धूप का टुकड़ा लाल फर्श पर नाचते हुए कहा रहा था- नहीं तो!

जुबेर ने सोफिया के कामन में फुसाफुसाकर कहा, -बारिश धूप का सपना थी। सोफिया करवट लेकर ताहेरा की ओर मुड़ गई। अब किसी भी पल वह आँखें खोल देने वाली थी। उठते ही झटपट अपना जादू फैलाकर खेल जमा लेने वाली थीं जुबेर की आरामकुर्सी उसका जादूघर थी। वह उसे जब जो बना दे, वह बन जाती थी। कभी बस, कभी रेल, कभी स्‍कूल, कभी घर। सोफिया जादू जानती थी। कभी थी जाती तो उसे ‘कुर्सी' बनाकर उसमें सो भी जाती थी।

जुबेर आरामकुर्सी की लम्‍बी पीठ से टिककर लेट गया। हवा भीतर उसके बाल फरफराने लगी। बंद आँख जुबेर को लेकर आरामकुर्सी आकाश के फेरे पर निकल पड़ी। हवा उसके चेहरे को ले उड़ चली। जुबेर ने आँखें और कसकर बंद कर लीं। वह खुद ही कमरे में बैठे हुए खुद को आकाश में उड़ते देखने लगा। इस चेहरे को देखकर कौन कह सकता था कि वह दिन भर में ना जाने कितनी दफे साहिल से फरहान से रशीद से फरीद से जुबेर में बनता मिटता रहा था? बंद आँखों के सामने आईना उसका खोया हुआ चेहरा लिए डोलने लगा। हाथों में अपना रोशनी से चुँधियाया चेहरा लिए जुबेर चुपके से खिड़की के रास्‍ते वापस चला आया। कमरा अभी जगा नहीं था। सोफिया नींद में मुस्‍करा रही थी

--

जे․ एम․ 10, सहियाद्री परिसर,

निराला नगर, भदभदा रोड, भोपाल - 462 003

--

(शब्द संगत / रचना समय से साभार)

(चित्र - सौजन्य : आशीष श्रीवास्तव)

COMMENTS

BLOGGER

विज्ञापन

----
.... विज्ञापन ....

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=complex$tbg=rainbow$count=6$page=1$va=0$au=0

विज्ञापन --**--

|कथा-कहानी_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$count=6$page=1$src=random-posts$s=200

|हास्य-व्यंग्य_$type=blogging$au=0$count=6$page=1$src=random-posts

-- विज्ञापन --

---

|लोककथाएँ_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$count=6$page=1$src=random-posts

|लघुकथाएँ_$type=list$au=0$count=5$com=0$page=1$src=random-posts

|काव्य जगत_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$count=6$page=1$src=random-posts

-- विज्ञापन --

---

|बच्चों के लिए रचनाएँ_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$count=6$page=1$src=random-posts

|विविधा_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$va=0$count=6$page=1$src=random-posts

 आलेख कविता कहानी व्यंग्य 14 सितम्बर 14 september 15 अगस्त 2 अक्टूबर अक्तूबर अंजनी श्रीवास्तव अंजली काजल अंजली देशपांडे अंबिकादत्त व्यास अखिलेश कुमार भारती अखिलेश सोनी अग्रसेन अजय अरूण अजय वर्मा अजित वडनेरकर अजीत प्रियदर्शी अजीत भारती अनंत वडघणे अनन्त आलोक अनमोल विचार अनामिका अनामी शरण बबल अनिमेष कुमार गुप्ता अनिल कुमार पारा अनिल जनविजय अनुज कुमार आचार्य अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ अनुज खरे अनुपम मिश्र अनूप शुक्ल अपर्णा शर्मा अभिमन्यु अभिषेक ओझा अभिषेक कुमार अम्बर अभिषेक मिश्र अमरपाल सिंह आयुष्कर अमरलाल हिंगोराणी अमित शर्मा अमित शुक्ल अमिय बिन्दु अमृता प्रीतम अरविन्द कुमार खेड़े अरूण देव अरूण माहेश्वरी अर्चना चतुर्वेदी अर्चना वर्मा अर्जुन सिंह नेगी अविनाश त्रिपाठी अशोक गौतम अशोक जैन पोरवाल अशोक शुक्ल अश्विनी कुमार आलोक आई बी अरोड़ा आकांक्षा यादव आचार्य बलवन्त आचार्य शिवपूजन सहाय आजादी आदित्य प्रचंडिया आनंद टहलरामाणी आनन्द किरण आर. के. नारायण आरकॉम आरती आरिफा एविस आलेख आलोक कुमार आलोक कुमार सातपुते आशीष कुमार त्रिवेदी आशीष श्रीवास्तव आशुतोष आशुतोष शुक्ल इंदु संचेतना इन्दिरा वासवाणी इन्द्रमणि उपाध्याय इन्द्रेश कुमार इलाहाबाद ई-बुक ईबुक ईश्वरचन्द्र उपन्यास उपासना उपासना बेहार उमाशंकर सिंह परमार उमेश चन्द्र सिरसवारी उमेशचन्द्र सिरसवारी उषा छाबड़ा उषा रानी ऋतुराज सिंह कौल ऋषभचरण जैन एम. एम. चन्द्रा एस. एम. चन्द्रा कथासरित्सागर कर्ण कला जगत कलावंती सिंह कल्पना कुलश्रेष्ठ कवि कविता कहानी कहानी संग्रह काजल कुमार कान्हा कामिनी कामायनी कार्टून काशीनाथ सिंह किताबी कोना किरन सिंह किशोरी लाल गोस्वामी कुंवर प्रेमिल कुबेर कुमार करन मस्ताना कुसुमलता सिंह कृश्न चन्दर कृष्ण कृष्ण कुमार यादव कृष्ण खटवाणी कृष्ण जन्माष्टमी के. पी. सक्सेना केदारनाथ सिंह कैलाश मंडलोई कैलाश वानखेड़े कैशलेस कैस जौनपुरी क़ैस जौनपुरी कौशल किशोर श्रीवास्तव खिमन मूलाणी गंगा प्रसाद श्रीवास्तव गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर ग़ज़लें गजानंद प्रसाद देवांगन गजेन्द्र नामदेव गणि राजेन्द्र विजय गणेश चतुर्थी गणेश सिंह गांधी जयंती गिरधारी राम गीत गीता दुबे गीता सिंह गुंजन शर्मा गुडविन मसीह गुनो सामताणी गुरदयाल सिंह गोरख प्रभाकर काकडे गोवर्धन यादव गोविन्द वल्लभ पंत गोविन्द सेन चंद्रकला त्रिपाठी चंद्रलेखा चतुष्पदी चन्द्रकिशोर जायसवाल चन्द्रकुमार जैन चाँद पत्रिका चिकित्सा शिविर चुटकुला ज़कीया ज़ुबैरी जगदीप सिंह दाँगी जयचन्द प्रजापति कक्कूजी जयश्री जाजू जयश्री राय जया जादवानी जवाहरलाल कौल जसबीर चावला जावेद अनीस जीवंत प्रसारण जीवनी जीशान हैदर जैदी जुगलबंदी जुनैद अंसारी जैक लंडन ज्ञान चतुर्वेदी ज्योति अग्रवाल टेकचंद ठाकुर प्रसाद सिंह तकनीक तक्षक तनूजा चौधरी तरुण भटनागर तरूण कु सोनी तन्वीर ताराशंकर बंद्योपाध्याय तीर्थ चांदवाणी तुलसीराम तेजेन्द्र शर्मा तेवर तेवरी त्रिलोचन दामोदर दत्त दीक्षित दिनेश बैस दिलबाग सिंह विर्क दिलीप भाटिया दिविक रमेश दीपक आचार्य दुर्गाष्टमी देवी नागरानी देवेन्द्र कुमार मिश्रा देवेन्द्र पाठक महरूम दोहे धर्मेन्द्र निर्मल धर्मेन्द्र राजमंगल नइमत गुलची नजीर नज़ीर अकबराबादी नन्दलाल भारती नरेंद्र शुक्ल नरेन्द्र कुमार आर्य नरेन्द्र कोहली नरेन्‍द्रकुमार मेहता नलिनी मिश्र नवदुर्गा नवरात्रि नागार्जुन नाटक नामवर सिंह निबंध नियम निर्मल गुप्ता नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’ नीरज खरे नीलम महेंद्र नीला प्रसाद पंकज प्रखर पंकज मित्र पंकज शुक्ला पंकज सुबीर परसाई परसाईं परिहास पल्लव पल्लवी त्रिवेदी पवन तिवारी पाक कला पाठकीय पालगुम्मि पद्मराजू पुनर्वसु जोशी पूजा उपाध्याय पोपटी हीरानंदाणी पौराणिक प्रज्ञा प्रताप सहगल प्रतिभा प्रतिभा सक्सेना प्रदीप कुमार प्रदीप कुमार दाश दीपक प्रदीप कुमार साह प्रदोष मिश्र प्रभात दुबे प्रभु चौधरी प्रमिला भारती प्रमोद कुमार तिवारी प्रमोद भार्गव प्रमोद यादव प्रवीण कुमार झा प्रांजल धर प्राची प्रियंवद प्रियदर्शन प्रेम कहानी प्रेम दिवस प्रेम मंगल फिक्र तौंसवी फ्लेनरी ऑक्नर बंग महिला बंसी खूबचंदाणी बकर पुराण बजरंग बिहारी तिवारी बरसाने लाल चतुर्वेदी बलबीर दत्त बलराज सिंह सिद्धू बलूची बसंत त्रिपाठी बातचीत बाल कथा बाल कलम बाल दिवस बालकथा बालकृष्ण भट्ट बालगीत बृज मोहन बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष बेढब बनारसी बैचलर्स किचन बॉब डिलेन भरत त्रिवेदी भागवत रावत भारत कालरा भारत भूषण अग्रवाल भारत यायावर भावना राय भावना शुक्ल भीष्म साहनी भूतनाथ भूपेन्द्र कुमार दवे मंजरी शुक्ला मंजीत ठाकुर मंजूर एहतेशाम मंतव्य मथुरा प्रसाद नवीन मदन सोनी मधु त्रिवेदी मधु संधु मधुर नज्मी मधुरा प्रसाद नवीन मधुरिमा प्रसाद मधुरेश मनीष कुमार सिंह मनोज कुमार मनोज कुमार झा मनोज कुमार पांडेय मनोज कुमार श्रीवास्तव मनोज दास ममता सिंह मयंक चतुर्वेदी महापर्व छठ महाभारत महावीर प्रसाद द्विवेदी महाशिवरात्रि महेंद्र भटनागर महेन्द्र देवांगन माटी महेश कटारे महेश कुमार गोंड हीवेट महेश सिंह महेश हीवेट मानसून मार्कण्डेय मिलन चौरसिया मिलन मिलान कुन्देरा मिशेल फूको मिश्रीमल जैन तरंगित मीनू पामर मुकेश वर्मा मुक्तिबोध मुर्दहिया मृदुला गर्ग मेराज फैज़ाबादी मैक्सिम गोर्की मैथिली शरण गुप्त मोतीलाल जोतवाणी मोहन कल्पना मोहन वर्मा यशवंत कोठारी यशोधरा विरोदय यात्रा संस्मरण योग योग दिवस योगासन योगेन्द्र प्रताप मौर्य योगेश अग्रवाल रक्षा बंधन रच रचना समय रजनीश कांत रत्ना राय रमेश उपाध्याय रमेश राज रमेशराज रवि रतलामी रवींद्र नाथ ठाकुर रवीन्द्र अग्निहोत्री रवीन्द्र नाथ त्यागी रवीन्द्र संगीत रवीन्द्र सहाय वर्मा रसोई रांगेय राघव राकेश अचल राकेश दुबे राकेश बिहारी राकेश भ्रमर राकेश मिश्र राजकुमार कुम्भज राजन कुमार राजशेखर चौबे राजीव रंजन उपाध्याय राजेन्द्र कुमार राजेन्द्र विजय राजेश कुमार राजेश गोसाईं राजेश जोशी राधा कृष्ण राधाकृष्ण राधेश्याम द्विवेदी राम कृष्ण खुराना राम शिव मूर्ति यादव रामचंद्र शुक्ल रामचन्द्र शुक्ल रामचरन गुप्त रामवृक्ष सिंह रावण राहुल कुमार राहुल सिंह रिंकी मिश्रा रिचर्ड फाइनमेन रिलायंस इन्फोकाम रीटा शहाणी रेंसमवेयर रेणु कुमारी रेवती रमण शर्मा रोहित रुसिया लक्ष्मी यादव लक्ष्मीकांत मुकुल लक्ष्मीकांत वैष्णव लखमी खिलाणी लघु कथा लघुकथा लतीफ घोंघी ललित ग ललित गर्ग ललित निबंध ललित साहू जख्मी ललिता भाटिया लाल पुष्प लावण्या दीपक शाह लीलाधर मंडलोई लू सुन लूट लोक लोककथा लोकतंत्र का दर्द लोकमित्र लोकेन्द्र सिंह विकास कुमार विजय केसरी विजय शिंदे विज्ञान कथा विद्यानंद कुमार विनय भारत विनीत कुमार विनीता शुक्ला विनोद कुमार दवे विनोद तिवारी विनोद मल्ल विभा खरे विमल चन्द्राकर विमल सिंह विरल पटेल विविध विविधा विवेक प्रियदर्शी विवेक रंजन श्रीवास्तव विवेक सक्सेना विवेकानंद विवेकानन्द विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक विश्वनाथ प्रसाद तिवारी विष्णु नागर विष्णु प्रभाकर वीणा भाटिया वीरेन्द्र सरल वेणीशंकर पटेल ब्रज वेलेंटाइन वेलेंटाइन डे वैभव सिंह व्यंग्य व्यंग्य के बहाने व्यंग्य जुगलबंदी व्यथित हृदय शंकर पाटील शगुन अग्रवाल शबनम शर्मा शब्द संधान शम्भूनाथ शरद कोकास शशांक मिश्र भारती शशिकांत सिंह शहीद भगतसिंह शामिख़ फ़राज़ शारदा नरेन्द्र मेहता शालिनी तिवारी शालिनी मुखरैया शिक्षक दिवस शिवकुमार कश्यप शिवप्रसाद कमल शिवरात्रि शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी शीला नरेन्द्र त्रिवेदी शुभम श्री शुभ्रता मिश्रा शेखर मलिक शेषनाथ प्रसाद शैलेन्द्र सरस्वती शैलेश त्रिपाठी शौचालय श्याम गुप्त श्याम सखा श्याम श्याम सुशील श्रीनाथ सिंह श्रीमती तारा सिंह श्रीमद्भगवद्गीता श्रृंगी श्वेता अरोड़ा संजय दुबे संजय सक्सेना संजीव संजीव ठाकुर संद मदर टेरेसा संदीप तोमर संपादकीय संस्मरण संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018 सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन सतीश कुमार त्रिपाठी सपना महेश सपना मांगलिक समीक्षा सरिता पन्थी सविता मिश्रा साइबर अपराध साइबर क्राइम साक्षात्कार सागर यादव जख्मी सार्थक देवांगन सालिम मियाँ साहित्य समाचार साहित्यिक गतिविधियाँ साहित्यिक बगिया सिंहासन बत्तीसी सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध सीताराम गुप्ता सीताराम साहू सीमा असीम सक्सेना सीमा शाहजी सुगन आहूजा सुचिंता कुमारी सुधा गुप्ता अमृता सुधा गोयल नवीन सुधेंदु पटेल सुनीता काम्बोज सुनील जाधव सुभाष चंदर सुभाष चन्द्र कुशवाहा सुभाष नीरव सुभाष लखोटिया सुमन सुमन गौड़ सुरभि बेहेरा सुरेन्द्र चौधरी सुरेन्द्र वर्मा सुरेश चन्द्र सुरेश चन्द्र दास सुविचार सुशांत सुप्रिय सुशील कुमार शर्मा सुशील यादव सुशील शर्मा सुषमा गुप्ता सुषमा श्रीवास्तव सूरज प्रकाश सूर्य बाला सूर्यकांत मिश्रा सूर्यकुमार पांडेय सेल्फी सौमित्र सौरभ मालवीय स्नेहमयी चौधरी स्वच्छ भारत स्वतंत्रता दिवस स्वराज सेनानी हबीब तनवीर हरि भटनागर हरि हिमथाणी हरिकांत जेठवाणी हरिवंश राय बच्चन हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन हरिशंकर परसाई हरीश कुमार हरीश गोयल हरीश नवल हरीश भादानी हरीश सम्यक हरे प्रकाश उपाध्याय हाइकु हाइगा हास-परिहास हास्य हास्य-व्यंग्य हिंदी दिवस विशेष हुस्न तबस्सुम 'निहाँ' biography dohe hindi divas hindi sahitya indian art kavita review satire shatak tevari undefined
नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3789,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,326,ईबुक,182,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2744,कहानी,2067,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,484,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,129,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,87,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,309,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,326,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,48,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,8,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,16,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,224,लघुकथा,806,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,306,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,57,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1880,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,637,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,676,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,52,साहित्यिक गतिविधियाँ,181,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,51,हास्य-व्यंग्य,52,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: राजुला शाह की कहानी - जुबेर का नाम जुबेर
राजुला शाह की कहानी - जुबेर का नाम जुबेर
http://lh3.ggpht.com/-hC1bIEWhvYI/UhNn2wLcIVI/AAAAAAAAVk8/KVah7Rz7ZxE/image%25255B2%25255D.png?imgmax=800
http://lh3.ggpht.com/-hC1bIEWhvYI/UhNn2wLcIVI/AAAAAAAAVk8/KVah7Rz7ZxE/s72-c/image%25255B2%25255D.png?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2013/08/blog-post_22.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2013/08/blog-post_22.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ