2 लघुकथाएँ // देवेंन्द्र सोनी

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

दोहरी जिम्मेदारी


       सत्तर की उम्र पार कर रहे रमेश और उनकी पत्नी राधा अपनी बहू रमा की तारीफ करते नहीं अघाते । जब भी कभी उनसे मिलने कोई रिश्तेदार या पड़ोसी आये - रमा की तारीफों का सिलसिला चालू हो जाता । आगंतुक भी रस ले लेकर रमा की बडाई करते। साथ ही अपनी पढ़ी लिखी बहुओं का रोना रोते।
      रमेश उन्हें दिलासा देते और कहते - भाई जमाने के साथ चलना सीख लो। थोड़ी समझदारी रखो और अपने बच्चों को स्वतंत्र जिंदगी जीने का अवसर दो । बहू को बेटी सिर्फ कहो ही नहीं उसे बेटी मानो भी । फिर देखो आपकी बहुएं भी रमा की ही तरह सेवा करेंगी ।
       हां , स्वभाव तो अब हमको ही अपना बदलना होगा। सामंजस्य की पहल भी हमको ही करना होगी।
     आज भी रमेश के एक मित्र सुधीर उनसे मिलने आए थे। आते ही बोले - भाई रमेश । कहां गई - रमा बिटिया । आज तो उसने मुझे कांजीबड़ा खाने के लिए बुलाया था । कहीँ दिख नहीं रही ।
        ... तभी राधा अंदर से - कांजीबड़ा और मिठाई लेकर आती हुई बोलीं - अरे , भाई साहब । रमा ने ऑफिस जाने के पहले ही बना लिए थे और कहकर गई है - अंकल को जी भर के खिलाना , मांजी।
        अंकल को मेरे हाथ के कंजीबड़ा बहुत पसंद हैं ।


        तो , लीजिये - अपनी चहेती बिटिया के हाथ के - कांजी बड़ा । रमा भी आती ही होगी - ऑफिस से।  - कहते हुए राधा हंसने लगी ।
        अभी सब स्वादिष्ट व्यंजन का आनंद ले ही रहे थे कि तभी रमा भी आ गई । अंकल को चरण स्पर्श किया और बोली - पिताजी पहले अपनी आँखों में ड्रॉप डलवाइये । मुझे पता है आपने अभी तक ड्रॉप नहीं डाला होगा - यह कहकर रमा ड्रापर उठा लाई।
      रमेश और उनके मित्र की आँखों में सजलता साफ दिख रही थी - रमा के कर्तव्य पालन से।
       तभी राधा बोली - बेटा , पहले मुँह हाथ तो धो ले । आते ही सबकी फ़िक्र करने लगती है।
       रमा ने ड्रापर डाला और मुस्कुराते हुए अपने कमरे में चली गई।
      राधा बोली - देखा भाई साहब । कितना ध्यान रखती है सबका हमारी रमा बेटी ।

 
       सुबह घर का सारा काम करके जाती है ऑफिस और आते ही फिर अपने कामों में लग जाती है । मुझे तो कुछ करने ही नहीं देती।
        कहती है - माँ , पिताजी । आप सबकी जिम्मेदारी मेरी है । आपने भी तो मेरी खुशियों का ध्यान रखा। मुझे जॉब करने की अनुमति दी अन्यथा मेरा इतना पढ़ा लिखा किस काम आता ।
       आपने सदा मुझ पर विश्वास किया। इस विश्वास और अपनी जिम्मेदारियों को भला कैसे छोड़ सकती हूँ मैं।
       हां , राधा बहन। सच में आपने और रमेश भाई ने अपनी समझ से बहू को बेटी बना लिया - कहते हुए रमेश के मित्र सुधीर ने उनसे विदा ली ।
      जाते वक्त सुधीर के मन में भी एक संकल्प था - अपनी बहू को जॉब करने की अनुमति देने का  जो बहुत दिनों से उनसे अनुमति चाह रही थी ।
      आज रमा और उसके परिवार की खुशहाली का राज सुधीर को समझ आ गया था ।।


      वह समझ गए थे - खुशी , खुशियां देकर ही मिलती है। और बहु को बेटी सा अधिकार देने का महत्व भी।

******

लघु कहानी - नया सवेरा


         रूप लावण्य और संस्कारों की धनी रूपा ने जब अपने यौवन में कदम रखा तो उसके मन में अनेक सुनहरे सपने खिलने लगे ।
          सदा खिलखिलाती रूपा - अक्सर गुनगुनाती रहती थी - वो सुबह कभी तो आएगी ... !
        कई बार जानकर भी अनजान बनते हुए मैने उससे पूछा था , इस गाने के पीछे छुपे भावों को पर वह हौले से मुस्कुरा कर टाल जाती ।
          कभी कभी कहती - कुछ नहीं भाई । ये पंक्ति मुझे घर की कमजोर परिस्थितियों से जूझने की प्रेरणा देती हैं।
           रूपा मुझसे ऐसा कह जरूर देती थी मगर मैं समझता था इसके पीछे छुपा उसका दर्द । जानता था उसके घर के हालात ठीक नहीं । स्वाभिमानी पिता सब कुछ छोड़ - छाड़ कर तंगहाली का जीवन जी रहे थे । कुछ भी काम उन्हें उनकी उच्च शिक्षा के अनुरूप नहीं लगता । दो बेटे पिता की बेरुखी और तंगहाली से परेशान होकर दूसरे शहरों में जा बसे थे । उन्हें घर के हालातों से कोई लेना - देना नहीं था ।
        हारकर और अपने सपनों को मारकर रूपा एक अशासकीय संस्थान में काम करने लगी ।  घर में मां सिलाई - कढ़ाई कर लेती । जिंदगी तो कट रही थी  पर अब रूपा की वह खिलखिलाहट धीरे - धीरे गुम होती जा रही थी । हां ,अब भी अक्सर गुनगुनाती जरूर थी - वो सुबह कभी तो आएगी ।
       ..... और आख़िरकार एक दिन वो सुबह भी आ ही गई जब रूपा दुल्हन बनी अपने ससुराल चली गई । साल भर सब कुछ ठीक ठाक रहा पर ये सुबह , रूपा के की वह सुबह नहीं थी जो उसके जीवन को उजास से भर पाती ।
           नियति ने कुछ और ही लिख रखा था रूपा के जीवन में । फिर आई वह अँधेरी रात भी , जिसने ह्रदयाघात से छीन लिया उसके पति को । बज्र सा प्रहार हुआ था रूपा पर । पति के जाने के बाद ससुराल में कितने दिन प्रताड़ित होकर रहती रूपा । वापस आ गई मायके अपने ।
         रूपा के मजबूर पिता भी यही चाहते थे । रूपा मायके में रहकर ही पुनः नोकरी करने लगे ताकि घर में मदद मिल सके । उन्हें रूपा की भावनाओं की कद्र हो ऐसा उनके व्यवहार से कभी लगता नहीं था । रूपा भी क्या करती , जाने लगी फिर से काम पर । अब वह न तो गुनगुनाती थी और न ही खिलखिलाती थी । मुझसे भी कम ही बात करती थी ।
        आखिर रक्षाबंधन के दिन जब रूपा ने मेरी कलाई पर राखी बांधना चाहा तो मैने पहली बार अपना हाथ  पीछे खींच लिया । वह अचकचा गई ।
          बोली - भैय्या । ये क्या ।
         क्या आपकी यह अभागन विधवा बहन अब राखी बांधने के योग्य भी नहीं रही । बचपन से मैने आपको राखी बांधी है , कभी आपने अपना हाथ नहीं खींचा । फिर आज ये क्यों ? कहते हुए फफक पड़ी थी रूपा ।
       अपने सीने से लगाते हुए रुंधे गले से कहा था - मैंने - नहीं रे रूपा । ऐसा सोचा भी कैसे तूने ।
       हाँ , रुचना लगाने से पहले आज पहली बार तेरा ये भाई तुझे कुछ देना नहीं बल्कि कुछ मांगना चाहता है । बोल - करेगी अपने इस भाई की इक्षा पूरी ।
वह कुछ कहती , इससे पहले ही मैने कहा -  तुझे फिर से शादी करना होगा । पूरा जीवन पड़ा है अभी । मायके में भी ज्यादा दिन नहीं रह पाएगी रूपा। समझदारी से जीवन चलाना होता है। यह जरूरी नहीं कि जो एक बार घट गया वह दुबारा भी घटे । किसी की चिंता मत कर और अपने भविष्य के बारे में सोच ।
       यह सुन ,  भींग गई थी पलकें रूपा की । उसने मेरी कलाई आगे खींची और बांध दिया - रक्षासूत्र ।
        यह कहते हुए - वो सुबह भी कभी तो आएगी ही .......और फिर आई एक दिन वह नई सुबह भी जब मंदिर के प्रांगण से विदा हो गई नया संसार बसाने रूपा ।

****


        - देवेंन्द्र सोनी , इटारसी।

          प्रधान सम्पादक युवा प्रवर्तक
          मालवीय गंज , इटारसी।

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

1 टिप्पणी "2 लघुकथाएँ // देवेंन्द्र सोनी"

  1. अगर इस संसार में सारे लोग ऐसे ही हो जाएं तो सारे घर स्वर्ग हो जायेंगे..क्युकी कहा जाता है की जहाँ औरतों का सम्मान नही होता वह पर देवता भी नहीं आते.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.