370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

मम्मी-पापा की लड़ाई // ( सचित्र बाल कविता संग्रह) // हरीश कुमार 'अमित

मम्मी-पापा की लड़ाई

(बाल कविता संग्रह)

हरीश कुमार 'अमित

clip_image001

काम ही काम

clip_image002

सुबह-सुबह ही जागम-जाग,

और फिर स्कूल की भागम-भाग ।
दोपहर तक स्कूल में पढ़ाई,

घर पहुंचते बजते अढ़ाई ।

खाना खा होमवर्क में जुटते,

रात तलक हम इसमें खटते ।

हमको तो जरा न आराम,

सारा दिन बस काम-रही-काम ।


छुट्‌टियों का काम

clip_image003

हुई छुट्टियां स्कूल की जब
चिंटू जी हर्षाए,

खेले खूब खेल जी-भर

उछले-कूदे-खाए ।

मजे-मजे में पूरी छुट्टियां

इसी तरह बिता दीं,

आया याद काम छुट्टियों का
जब आखिरी छुट्टी आई ।
काम पूरा कर लेने की सोची
चिंटू जी ने रात-भर जागकर,
पर ग्यारह बजते-न-बजते

सोते मिले वे घोड़े बेचकर ।


इम्तहान

clip_image004

पास आ गए फिर इम्तहान,
है मुश्किल में अपनी जान ।
करने दो मुझे बस पढ़ाई,
बाटो न तुम मेरा ध्यान ।
कक्षा में अव्वल आऊंगा,
मैंने पक्का लिया है ठान ।
हो जाएगी जब खत्म परीक्षा,
सोऊंगा तब लम्बी तान ।


खुल गए स्कूल

clip_image005

खेलें अनेक कम्प्यूटर गेम्स,
देखा खूब टी.वी. - शीवी.,
खेला बहुत क्रिकेट-फुटबाल,
जीभर हमने की मस्ती ।

पर अब बदल गया है वक्त,
क्योंकि खुल जो गए हैं स्कूल,
करनी होगी खूब पढ़ाई,

सारी मस्ती जाएंगे भूल ।


कम्प्यूटर भाई

clip_image006

कम्प्यूटर भाई तो बड़ा सयाना,
अक्ल का जैसे हे यह खजाना ।
काम करे बस बजाते चुटकी,
इसके करतब तो हैं नाना ।

इसका लोहा तो भई अब,

सारी दुनिया ने है माना ।

बच्चा-बच्चा इसे जान गया है,
नहीं रहा अब यह अनजाना ।


रोटी

clip_image007

मजेदार होती है रोटी,

मीठी कितनी होती है रोटी ।
बिल्कुल सूरज-चंदा जैसी,

गोलमगोल होती है रोटी ।
सारे जग की भूख मिटाए,
जीवन-ज्योति होती है रोटी।
सागर में अपने स्वाद के,

हम सबको भिगोती है रोटी ।


बन्दर जी का टूर

clip_image008

बन्दर जी का बन गया टूर,
बोले, ''जाना है बडा दूर ।

गाड़ी के बदले जहाज से,

जाना भी हो गया मंजूर ।

मजे करूंगा खूब टूर में,

खाऊंगा खूब, घूमूंगा, दूर-दूर ।
पर ऐन वक्त पड़े बीमार,

हो गया सपना चकनाचूर ।
उनके बदले गए टूर पर,

उनके साथी मिस्टर लंगूर ।


वेतन का दिन

clip_image009

हर माह के अंतिम दिन,

कटते हैं पल-पल गिन-गिन ।

हों पर्स मम्मी-पापा के खाली,

आए काम तब गुल्लक मेरे वाली ।
कर-कर इन्तजार आता वह दिन,
मिलता है जब पापा को वेतन ।
आते जब पापा उस शाम को घर,
छा जाती रौनक सबके चेहरों पर ।
सब अपनी-अपनी मांगे गिनवाते,
सब की सुन, पापा बजट बनाते ।


मम्मी-पापा की लड़ाई

clip_image010

खूब है मम्मी-पापा की लड़ाई,
जरा देर भी चल न पाई ।
अभी-अभी तो रहे थे झगड़,
इक-दूजे पर रहे थे बिगड़ ।
पर अब मान गए हैं वो,

जैसे कुछ भी हुआ न हो ।
वेसे तो हें प्यार से रहते,

बीच-बीच में मगर झगड़ते ।
समझ नहीं यह मुझको आता,
उनके झगड़े कौन निपटाता ?


होली के रंग

clip_image011

होली के रंग हैं कितने प्यारे ।
इनमें मिले हैं दिल हमारे ।

बचके कहां जाओगे भइया,

खेलेंगे होली हम संग तुम्हारे ।
रंग देंगे तुमको तो पूरा,

मिलकर अब सारे-के-सारे ।

अच्छा होगा खुद ही आ जाओ
रहो न बैठे अलग किनारे ।

रंग उड़ाएगे हम इतना,

रग जाएंगे बादल ये सारे ।


बारिश का मौसम

clip_image012

बारिश के मौसम में भैया

मोर नाचता ता-ता-थैया ।

छा जाए हरियाली सब ओर,
भर जाते नदी-ताल-तलैया ।
खुश हो जाता है हर कोई,

बच्चे, बूढ़े, हाथी, गैया ।

देखकर बरसात झमाझम,

कहते हैं तब मेरे भैया,

तलो पकौड़े गरम-गरम
देर करो न मेरी मैया ।'' -


मेरे पापा

clip_image013

रोज-रोज क्यों पापा अफिस जाते हैं,
ओर फिर सांझ-ढले ही वापिस आते हैं ।
कहता हूं हर रोज मैं, लेकिन वे फिर भी,
कभी-कभी ही टाफी-बिस्किट लाते हैं ।
समझ नहीं आता कि ऐसा क्यों होता,
लड़े कभी मम्मी से, कभी मुस्काते हैं ।
छुट्टी के दिन खूब खेलते हें मुझसे ।

पर शैतानी करने पर डपट लगाते हैं ।
और जब-जब आती है पहली तारीख,
नोट बहुत से मम्मी को पकड़ाते हैं ।


पापा और अखबार

clip_image014

रखा है क्या इस अखबार में
समझ नहीं मुझे आता,

जोहें बाट सुबह से इसकी
मेरे प्यारे-से पापा ।

जाते हर एक पन्ना चाट

इसका तो मेरे पापा जी,

पढ़े बगैर इसे न उनको

लगता कुछ भी अच्छा जी ।
अगर किसी दिन देर से आए

उनका यह प्यारा अखबार,
दरवाजे तक देखके आते,

कम-से-कम दस-बारह बार ।
लेकिन अगर ऐसा हो जाए
कि अखबार न आए,

उस दिन पापा की हालत

तो बतलाई न जाए ।


छतरी

clip_image015

हरदम रहती होशियार यह छतरी,
धूप-बारिश की पहरेदार यह छतरी ।
सह जाती हे सब कुछ खुद ही,

देखो कितनी दिलदार यह छतरी ।
साथ निभाती हैं सालों-साल,

जब-जब हो दमदार यह छतरी ।
सूना लगता है इसके बिन,

गुम जाए जो इक बार यह छतरी ।


दीवाली

clip_image016

दीपों का त्यौहार दीवाली,

खुशियों का है हार दीवाली ।
कितनी उजली हो जाती है,
दीवाली की रात काली ।

पूजा करते लोग शाम को,
अपनी-अपनी सजाकर थाली ।
सजे हुए बाजारों की तो,

होती इस दिन शान निराली ।
यही प्रार्थना अपनी अब तो,
आए बारम्बार दीवाली ।


पापा का गुस्सा

clip_image017

पापा का गुस्सा भी देखो है कैसा,

है यह बिलकुल बच्चों के गुस्से जैसा ।

जब-जब पापा हो जाते हमसे नाराज,

कहते हम-शैतानी से आएंगे बाज ।

कान पकड़ते, माफी मांगते पापा से,

अच्छे-अच्छे प्यारे-प्यारे से पापा से ।

इक पल में ही तब पापा जाते हैं मान,
खिल उठती फिर सबके होठों पे मुस्कान ।


पापा की डाक

clip_image018

समझ नहीं यह आता मुझको,
चिट्ठी मिलने पर पापा क्यों,

कभी-कभी खुश होते खूब,

कभी चढ़ जाता है पारा क्यों ।
जब न आती चिट्ठी मेरे यार,
कई-कई दिन तक लगातार,

बढ़ जाती तब चिन्ता उनकी,
करते डाक का बहुत इन्तजार ।


क्रिस्मस का त्यौहार

clip_image019

आया क्रिस्मस का त्यौहार,
समेटे खुशियों का अम्बार ।
आज जन्मदिन हे ईसा का,
जाने है सारा संसार ।

करें लोग पूजा गिरजाघरों में,
और बांटे आपस में प्यार ।
सुबह-सवेरे बच्चे पा जाते,

सांताक्लाज़ के प्यारे उपहार ।

आकाश

clip_image020

हे कितना प्यारा आकाश,
नीला-नीला-सा आकाश ।
जब छा जाएं बादल तो,
है टप-टप करता आकाश ।
दिन में उजला-सा दिखता,
रात को हो जाता काला ।
दिन में सूरज दिखलाए,
रात को चंदा मतवाला ।


बटुआ

clip_image021

कभी हो मालामाल यह बटुआ,
होता कभी कंगाल यह बटुआ ।
कभी-कभी गुम भी हो जाए,

करता है कमाल यह बटुआ ।

कभी खिलाता खीर-मिठाई,

कभी करे बेहाल यह बटुआ ।

होता जब-जब ठसाठस भरा,

बदल देता है चाल यह बटुआ ।


रूमाल

clip_image022

देखो तो नीले, पीले, लाल,

तरह-तरह के ये रूमाल ।

चाहे पोंछो तुम इनसे हाथ,

या करो साफ फिर अपने गाल ।
जेब में हो रूमाल बढ़िया-सा,
तब-तब कैसी बन जाए चाल ।,
पर जब इसको जाए घर भूल,
हाल उस दिन हो जाए बेहाल ।


बच्चे

clip_image023

बच्चे तो सबको हैं भाते,

जीते हैं ये हँसते-गाते ।

होते हैं कितने शरारती,

ऊधम कैसे-कैसे मचाते ।

कुल्फी-टॉफी जैसी चीजें,

ये तो खूब मजे से खाते ।
भाता है इनके संग रहना,
खुशियां इतनी ये बरसाते ।
फूलों जैसे महका करते,

सब पर अपना प्यार लुटाते ।


० : हरीश कुमार 'अमित

प्रकाशक : सन्मार्ग प्रकाशन

16 यू बी. बैंग्लो रोड, जवाहर नगर
दिल्ली- 11०००7

प्रथम संस्करण २००३
शब्द-संयोजन : शर्मा कंप्यूटर्स

मुद्रक : पवन आफसेट

नवीन शाहदरा, दिल्ली-32

मम्मी-पापा की लड़ाई

(बाल कविता संग्रह)

हरीश कुमार 'अमित

परिचय

नाम हरीश कुमार ‘अमित’

जन्म 1 मार्च, 1958 को दिल्ली में

शिक्षा बी.कॉम.; एम.ए.(हिन्दी); पत्रकारिता में स्नातकोत्तर डिप्लोमा

प्रकाशन 700 से अधिक रचनाएँ (कहानियाँ, कविताएँ/ग़ज़लें, व्यंग्य, लघुकथाएँ, बाल कहानियाँ/कविताएँ आदि) विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित. एक कविता संग्रह 'अहसासों की परछाइयाँ', एक कहानी संग्रह 'खौलते पानी का भंवर', एक ग़ज़ल संग्रह 'ज़ख़्म दिल के', एक बाल कथा संग्रह 'ईमानदारी का स्वाद', एक विज्ञान उपन्यास 'दिल्ली से प्लूटो' तथा तीन बाल कविता संग्रह 'गुब्बारे जी', 'चाबी वाला बन्दर' व 'मम्मी-पापा की लड़ाई' प्रकाशित. एक कहानी संकलन, चार बाल कथा व दस बाल कविता संकलनों में रचनाएँ संकलित.

प्रसारण - लगभग 200 रचनाओं का आकाशवाणी से प्रसारण. इनमें स्वयं के लिखे दो नाटक तथा विभिन्न उपन्यासों से रुपान्तरित पाँच नाटक भी शामिल.

पुरस्कार-

(क) चिल्ड्रन्स बुक ट्रस्ट की बाल-साहित्य लेखक प्रतियोगिता 1994, 2001, 2009 व 2016 में कहानियाँ पुरस्कृत

(ख) 'जाह्नवी-टी.टी.' कहानी प्रतियोगिता, 1996 में कहानी पुरस्कृत

(ग) 'किरचें' नाटक पर साहित्य कला परिाद् (दिल्ली) का मोहन राकेश सम्मान 1997 में प्राप्त

(घ) 'केक' कहानी पर किताबघर प्रकाशन का आर्य स्मृति साहित्य सम्मान दिसम्बर 2002 में प्राप्त

(ड.) दिल्ली प्रेस की कहानी प्रतियोगिता 2002 में कहानी पुरस्कृत

(च) 'गुब्बारे जी' बाल कविता संग्रह भारतीय बाल व युवा कल्याण संस्थान, खण्डवा (म.प्र.) द्वारा पुरस्कृत

(छ) 'ईमानदारी का स्वाद' बाल कथा संग्रह की पांडुलिपि पर भारत सरकार का भारतेन्दु हरिश्चन्द्र पुरस्कार, 2006 प्राप्त

(ज) 'कथादेश' लघुकथा प्रतियोगिता, 2015 में लघुकथा पुरस्कृत

(झ) 'राष्ट्रधर्म' की कहानी-व्यंग्य प्रतियोगिता, 2016 में व्यंग्य पुरस्कृत

(ञ) 'राष्ट्रधर्म' की कहानी प्रतियोगिता, 2017 में कहानी पुरस्कृत

सम्प्रति भारत सरकार में निदेशक के पद से सेवानिवृत्त

पता - 304ए एम.एस.4ए केन्द्रीय विहार, सेक्टर 56ए गुरूग्राम-122011 (हरियाणा)

ई-मेल harishkumaramit@yahoo.co.in

------

बालगीत 4266649226148325727

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव