370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

लघुकथा - "कली किसलय की प्रेम कहानी" - शोभा गोस्वामी

"कली किसलय की प्रेम कहानी"


एक कली तरु कि ऊंची शाखा पर इठलाती थी। जिस दिन उस को यह एहसास हुआ कि वह कितनी आकर्षक है, उसी दिन से प्रफुल्लित रहती थी कभी इतलाती, कभी लहराती झूम झूम कर आन्दित होती थी। हुस्न पर गुमां करना तो शायद उसने समय से पहले सीख लिया था। नव यौवन पर गुरूर था उसको ,भंवरे उसके आसपास मंडराते थे।

एक किसलय कली के समीप उसके सानिध्य को महसूस करता था। खामोशी से उसको निहारा करता था। दोनों एक ही समय अंकुरित हुए थे दोनों नव यौवन को स्पर्श कर रहे थे किसलय मन ही मन उस कली से मोहब्बत करता था इसलिए कली को निहार कर मन ही मन गुनगुनाता था-

मोहब्बत होती है क्या

      यह मुझको मालूम न था ,

आपको देखकर महसूस 

                       सा होने लगा।                                                                                    

कली को भी एहसास था कि किसलय उसको एक टक निहारा करता है पर वह तो अपनी हुस्न की अदा से मदमस्त रहती थी। जब कोई भंवरा उस कली के पास मंडराता था किसलय का दिल कहता-

शिरकत करा है दिल ने

            सिर्फ आपके लिए,

उल्फत कि नजर डालिए

               सिर्फ हमारे लिए।

एक दिन कली को एहसास हुआ कि यह

भंवरे तो मुझसे सच्ची मोहब्बत नहीं करते यह सिर्फ मेरे खिलने का इंतजार कर रहे हैं और यह किसलय मेरे समीप होकर भी मुझको स्पर्श नहीं करता बस एक टक निहारा करता है कली किसलय की प्रेम भरी नजरों को महसूस करने लगी थी और वह भी मन ही मन उसे प्रेम करने लगी। अब प्रियतम किसलय प्रेयसी कली थी। दोनों एक दूसरे को प्यार भरी नजरों से निहारा करते थे। किसलय गुनगुनाता था-

रुसवा न करना दिल से तसव्वुर हमारा,

       दिल है नादां यह मजबूर हमारा।

समय व्यतीत हो रहा था दोनों मोंह-मुग्ध हो रहे थे। कली खिल कर फूल बन रही थी और किसलय पल्लव दोनों एक दूसरे से सच्ची मोहब्बत करते थे ।कली गुनगुनाया करती थी-

दीवानी तेरे प्यार में हो गई रे पिया ,

छूकर मेरे मन को पारस कर दिया।

किसलय तो जैसे कली से बात करने का बहाना ढूंढा करता था। उसकी खुशबू से मदहोश रहता था और गुनगुनाता था-

कयामत आपके नूर ने ऐसा ढाया,

हम चैन खो बैठे दिल अपना गंवाया।

कली पर भी प्यार का सुरुर था और वह जवाब देती थी-

जो कदम उठा रही हूं

       वह कदम बहक रहा है,

मिली तुमसे क्या निगाहें

         मेरा दिल धड़क रहा है।

पर क्या मिलन है तो विरह तो जरूर होगा सच्चा प्यार किसी को मिलता नहीं दोनों के बिछुड़ने का समय आ गया। एक भंवरे ने उस का रस्वादन कल लिया। कली फूल बन गई ,एक दिन एक माली आया और फूल को तोड़ कर ले गया दो प्रेमी बिछड़ गए किसलय का दिल टूट गया उसके दिल से आवाज आई-

खुदा तूने यह कहर क्यों ढाया,

इश्क था मेरा क्यों मुझ से गंवाया।

पल्लव बन गया किसलय नि:शब्द सब देखता रहा उस की मोहब्बत फनां हो गई। उसने जीने की आस छोड़ दी। एक दिन एक पवन का झोंका आया उसको अपने साथ उड़ाकर ले गया और एक पवित्र प्यार का अंत हो गया।

लघुकथा 2648431175231310829

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव