रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

ऋषिकेश खोड़के ' रूह' की कविता : जश्न

कविता

जश्न

Art04 (Small)

-ऋषिकेश खोड़के ' रूह'


रात की देगची मे
आज फिर
मेरा ग़म पकता है|


इस देगची मे
अक्सर मैने
अपना ग़म पकाया है,
आँसुओं से किया है तर
सुखा गला,
जाने कितनी बार
इसी तरह
मन की भूख को मिटाया है |


आज फिर
भूखा है मन,
आज फिर
मेरे पास है पकाने को
बहूत सा ग़म,
रुह की थाली मे है
बहूत सा दर्द,
आँखों की मशकों मे
ढेर सारा पानी है |


रात की देगची मे
आज फिर
मेरा ग़म पकता है |


आज फिर
जश्न होने वाला है |


(शब्द-यज्ञ पुस्तक से )

रचनाकार परिचय:
नाम : ऋषिकेश खोड़के "रुह"
जन्म : २५/०४/१९७५ , भोपाल (म.प्र.)
शिक्षा : एम. काम.,एम. एस. सी. ( कम्पयुटर साईंस )
वर्तमान व्यवसाय : साफ्ट्वेअर ईन्जीनियर , पूने ( महाराष्ट)
ईमेल: rishikeshkhodke@gmail.com , rishikeshkhodke@yahoo.co.in
ब्लाग : http://shabdayagya.blogspot.com , http://mahaanagarkaakavya.blogspot.com
रुचि : साहित्य लेखन/वाचन , गायन , दर्शनशास्त्र |
रचनायें विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं मे प्रकाशित | कविता,कहानी,गज़ल, लेख सभी विधाओं मे लेखन |
"शब्द-यज्ञ" पुस्तक प्रकाशित|
-- http://mahaanagarkaakavya.blogspot.com
http://shabdayagya.blogspot.com/
http://rishikeshkhodke.googlepages.com
elekhni.awardspace.com
संपर्कछ

ऋषिकेश खोड़के ' रूह'
Sr. Software Engineer
www.websitefactree.com
rishikeshkhodke@websitefactree.com
My Blogs

4 टिप्पणियाँ

  1. बेनामी12:55 pm

    nice poem , gr8 filling and gr8 composition to show pain with words like jushn

    जवाब देंहटाएं
  2. dukhon kee achchhi abhivyakti hai.

    Ratlamiji, mera blog 'chitthajagat' men naheen dikh rahaa hai. kyaa vajah ho sakati hai? please madad karen. my blog's name is- azadlub.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  3. विजय शंकर जी, आपकी रचना उसके लिए हर आदमी एक जूता है चिट्ठाजगत् में आ चुका है. कृपया 'सारे' कड़ी पर क्लिक कर अपनी प्रविष्टि देखें या फिर इस लिंक को खोलें -
    http://www.chitthajagat.in/?chittha=http://azadlub.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी कविता है।

    जवाब देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.