नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

सीताराम गुप्ता का नए साल के संकल्पों पर आलेख

आलेख

 

द्वन्द्व की समाप्ति है संकल्प की पूर्णता

-सीताराम गुप्ता

नया साल आता है और चला जाता है। हर नये साल का हम उत्साहपूर्वक स्वागत करते हैं तथा नववर्ष की पूर्व संध्या पर आगामी वर्ष को बेहतर बनाने के लिए नये-नये संकल्प लेते हैं। मेरे ये पूछने पर कि इस साल नये वर्ष के अवसर पर आप क्या नया संकल्प ले रहे हैं मेरे एक मित्र बोले कि मेरे संकल्प कभी पूरे नहीं होते अत: मैंने संकल्प लेना ही छोड़ दिया है। कमोबेश हम सब के साथ यही होता है। या तो हम संकल्प लेते ही नहीं और यदि ले भी लें तो वे पूरे नहीं हो पाते। क्या कारण है हमारे संकल्पों के अधूरा रह जाने का?

हमारे संकल्पों के पूरा न होने का एक कारण तो यही है कि हम अपने संकल्प के प्रति आश्वस्त ही नहीं होते अर्थात् हमें विश्वास ही नहीं होता कि हमारा संकल्प पूरा हो जाएगा। और इस प्रकार हम एक विरोधी संकल्प ले लेते हैं कि ''मेरे संकल्प कभी पूरे नहीं होते।'' यह भी एक संकल्प है लेकिन नकारात्मक और अनुपयोगी संकल्प। यदि आप चाहते हैं कि आपके संकल्प पूरे हों तो सबसे पहले यही संकल्प लीजिए कि मेरे सभी सकारात्मक संकल्प या विचार सदैव पूर्ण होते हैं। यहाँ एक बात और भी महत्वपूर्ण है और वो ये कि हम जाने-अनजाने हर क्षण नये-नये संकल्प लेते ही रहते हैं। हमारे मन में उठने वाला हर विचार एक संकल्प ही तो है। यदि हम अपने अंदर ये विश्वास पैदा कर लें कि हमारे सभी सकारात्मक विचार या संकल्प पूर्णता को प्राप्त होते हैं तो जीवन में एक क्रांति आ जाए। हमारे असंख्य उपयोगी विचार पूर्ण होकर हमारे जीवन और पूरे समाज को बदल डालें। अत: सबसे पहले अपने संकल्प की पूर्णता के प्रति अपने मन में पूर्ण विश्वास पैदा कीजिए।

अब आपको अपने संकल्पों के पूर्ण होने के विषय में कोई संदेह नहीं रहा और आप पूरे जोशो-ख़रोश के साथ कुछ महत्वपूर्ण संकल्प ले लेते हैं लेकिन फिर भी निराशा ही हाथ लगती है। आखिर क्यों? हम सबमें अच्छे संकल्प लेने की क्षमता है और हम उपयोगी संकल्प ले भी लेते हैं अथवा उपयोगी विचारों का चुनाव कर भी लेते हैं लेकिन क्या हम किसी संकल्प को लेने के बाद अथवा किसी उपयोगी विचार का चुनाव करने के बाद उसकी उपयोगिता के तत्वों को अक्षुण्ण रख पाते हैं? शायद नहीं। विचार ही तो है कमजोर पड़ जाता है। या तो संकल्प की उपयोगिता पर ही संदेह होने लगता है अथवा संकल्प के विरोधी विचार ही सिर उठाने लगते हैं और द्वन्द्व शुरू हो जाता है।

द्वन्द्व की स्थिति में हमारे संकल्प की भावना पर बार-बार प्रहार होता है और मूल संकल्प कब और किस रूप में प्रभावी होकर वास्तविकता ग्रहण करता है हमें पता ही नहीं लगता। जीवन में द्वन्द्व या शंका के कारण परस्पर विरोधी विचार उत्पन्न होते रहते हैं।

विचार वास्तविकता का मूल है। पहले एक विचार ने स्वरूप ग्रहण करना प्रारंभ किया ही था कि दूसरे विचार ने दूसरा स्वरूप ग्रहण करना प्रारंभ कर पहले विचार को विकृत अथवा नेस्तनाबूद कर दिया। अब दूसरे विचार को तीसरे ने और तीसरे विचार को चौथे ने धराशायी कर दिया। हर विचार हर इच्छा अथवा हर संकल्प के साथ यही क्रम जीवनभर चलता रहता है। हम जीवनभर अच्छा सोचते हैं, बार-बार शुभ संकल्प लेते हैं लेकिन द्वंद्व के कारण हमारी अच्छी भावना या विचार टिक ही नहीं पाते अर्थात् संकल्प वास्तविकता को प्राप्त नहीं हो पाते। इस प्रकार जीवन में विभिन्न इच्छाओं, संकल्पों अथवा लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए द्वन्द्व की समाप्ति अनिवार्य है। द्वन्द्व की समाप्ति ही मनोवांछित उपयोगी जीवन जीने की अनिवार्य शर्त है तथा जीवन जीने की कला भी है। यहाँ अपनी सोच में थोड़ा दिशांतरण अथवा डाइवर्सिफिकेशन करना होगा अर्थात् एक और सोच विकसित करनी होगी और वो ये कि कोई भी नकारात्मक या विरोधी सोच मेरी सकारात्मक विचार प्रक्रिया को प्रभावित नहीं करती। इसे इस प्रकार भी स्वीकार किया जा सकता है कि केवल सकारात्मक सोच ही मेरे जीवन को प्रभावित करती है। यानी द्वन्द्व से उत्पन्न नकारात्मक या विरोधी सोच के विरुद्ध उसकी विरोधी एक अन्य सोच का विकास। यह एक एंटी वायरस डिवाइस की तरह काम करेगी। यह हमारे संकल्प अथवा उपयोगी मूल विचार को सुरक्षित रखने और उसे वास्तविकता में बदलने में सहायक एक विशुद्ध सकारात्मक विचार है।

जीवन में इच्छाओं का दमन करने की आवश्यकता नहीं है। इच्छाओं के अभाव में इस भौतिक शरीर का प्रयोजन ही क्या हो सकता है? जीवनोपयोगी, समाजोपयोगी इच्छाओं को उत्पन्न होने दीजिए और उन्हें वास्तविकता में परिवर्तित कीजिए लेकिन इसके लिए इच्छा के विरोधी भावों का त्याग भी अनिवार्य है। अब इच्छा के विरोधी भावों को मन में आने से कैसे रोका जाए?

हम डॉक्टर या न्यूट्रीशियन से परामर्श करके उचित आहार-विहार का चार्ट बनाकर उसका पालन करते हैं। ब्यूटी-पार्लर में जाकर चेहरे की तथा दूसरे अंगों की लिपाई-पुताई करा लेते हैं और स्थाई परिवर्तन के लिए उपलब्ध है कॉस्मेटिकसर्जरी। कपड़ों के चुनाव और डिजायनिंग के लिए पैफशन डिजायनर की सेवाएँ उपलब्ध हैं। शारीरिक सौष्ठव के लिए जिम हाजिर है। हर क्षेत्र में प्रशिक्षण की व्यवस्था सुलभ है। तो क्या विरोधी भावों के त्याग के प्रशिक्षण की व्यवस्था भी संभव है? अवश्य संभव है। जीवन में यही एक ऐसा क्षेत्र है जिसके प्रशिक्षण की परमावश्यकता है लेकिन हम इसी क्षेत्र की अधिकाधिक उपेक्षा करते हैं। क्योंकि इस प्रशिक्षण में बाह्य उपकरणों की आवश्यकता नहीं होती अत: यह प्रशिक्षण ही नहीं लगता या दिखाई देता।

विचारों का उद्गम मन है अत: मन के उचित प्रशिक्षण द्वारा न केवल उपयोगी विचारों का बीजारोपण संभव है अपितु साथ ही विचारों के विरोधी भावों का बीजारोपण रोकना भी संभव है। इसके लिए मन की साधना अनिवार्य हैं। मन की साधना अर्थात् मन को विकारों से मुक्त कर उसमें उपयोगी विचार या सुविचार डाल कर उस छवि को निरंतर दृढ़तर करते जाना। यही ध्यान अथवा मेडिटेशन है। पूरी ऊर्जा को एक ही केन्द्र बिन्दु पर एकत्र करना। धयान द्वारा अपेक्षित उपयोगी विचार, इच्छा अथवा संकल्प को कल्पनाचित्र या चाक्षुषीकरण ; विजुवलाइजेशन द्वारा लगातार दृढ़तर करके वास्तविकता में परिवर्तित करने की प्रक्रिया में विरोधी भाव उत्पन्न होने का प्रश्न ही नहीं उठता। ध्यान अथवा मेडिटेशन की सैकड़ों विधियाँ मौजूद हैं। किसी भी विधि से अभ्यास करें लाभ होगा ही।

नववर्ष में आप अच्छे संकल्प लें और आपके संकल्प पूर्ण हों इसी कामना के साथ।

-------------------

संपर्क -

सीताराम गुप्ता

ए.डी.-106-सी, पीतमपुरा,

दिल्ली-110034

फोन नं. 27313954

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.