रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

प्रेम जनमेजय का व्यंग्य "कौन कुटिल खल कामी" लोकार्पित

प्रेम जनमेजय जैसे ‘खतरनाक’ रचनाकारों से सावधान रहना चाहिए क्योंकि इनकी दृष्टि बहुत पैनी है । - कन्हैयालाल नंदन

‘कौन कुटिल खल कामी’ का लोकार्पण

-प्रवीण शुक्ल
कार्यक्रम संयोजक ‘अक्षरम्’

‘‘ व्यंग्य लेखन एक बहुत कठिन कर्म है जिसमें अपने को छिपाने की चतुराई नहीं चलती है । व्यंग्य लेखन और आत्मकथा लेखन में चतुराई नहीं चलती है । आप व्यंग्य के माध्यम से ऐसी मार करते हैं जो मार हो और लगे भी नहीं । प्रेम जनमेजय अपने लेखन के द्वारा ऐसा ही कठिन कर्म कर रहे हैं ।’ ये उद्गार प्रसिद्ध आलोचिका निर्मला जैन ने प्रेम जनमेजय के, ‘अक्षरम्’ द्वारा हिंदी भवन दिल्ली में आयोजित, ‘ग्रंथ अकादमी’ द्वारा सद्यः प्रकाशित व्यंग्य संकलन ‘कौन कुटिल खल कामी’ का लोकार्पण करते हुए व्यक्त किए । उन्होंने सबसे पहले लेखक को बधाई दी कि वह रचना के अकाल से बाहर निकल आया है । उन्होंने लेखक की इस बात की भी प्रशंसा की कि उसमें ईमानदारी जिंदा है और इसी ईमानदारी के तहत उसने भूमिका में अपने रचना-अकाल से संघर्ष करने में रवींद्र कलिया और ज्ञान चतुर्वेदी के सहयोग को रेखांकित किया है । प्रेम जनमेजय के व्यंग्य अपने प्रहार में निष्ठुर हैं पर उनमें मानवीयता निरंतर बनी हुई है । निर्मला जेन ने प्रेम जनमेजय के लेखकीय फक्कड़पन की प्रशंसा भी की ।



मुख्य अतिथि डॉ. कन्हैयालाल नंदन ने कहा कि प्रेम जनमेजय जैसे ‘खतरनाक’ रचनाकारों से सावधान रहना चाहिए क्योंकि इनकी दृष्टि बहुत पैनी है । इनकी कलम ईमानदार कलम है जो अपनी विसंगतियों पर भी बेहिचक प्रहार करती है । वे दिशायुक्त प्रहार करते हैं और निरर्थक बहकते नहीं हैं । उन्होंने कहा कि कुटिल खल कामी के गर्मागर्म बाजार में कौन नंगई कर रहा है और कौन इस सबमें उजला दिख रहा है इसका ज्ञान यह संकलन देता है । ज्ञान चतुवेर्दी ने कहा कि मैं इस संकलन को एक उपन्यास की तरह, बहुत सारे काम छोड़कर, एक ही सिटिंग में पढ़ गया, यह किताब की ताकत को बताता है । प्रेम जनमेजय ने इस किताब के द्वारा नई जमीन तोड़ी है और सही जगह तोड़ी है । प्रेम ने रेत में बीज डालने का काम किया है । उन्होंने अपनी सोच को तोड़कर बाहर आने का प्रयास किया है । प्रदीप पंत ने प्रेम जनमेजय की मुहावरेदार भाषा और विषय वैविध्य की प्रशंसा की । उन्होंने कहा कि प्रेम जनमेजय उन गिने चुने व्यंग्य लेखकों में हैं जो तात्कालिक घटनाओं पर मात्र व्यंग्यात्मक टिप्पणियां नहीं करते हैं अपितु दूर तक मार करने वाली रचना का सृजन करते हैं । और यही कारण है उनकी रचनाओं में नेताओं पर व्यंग्य कम हैं । हरीश नवल ने कहा कि प्रेम का व्यंग्य प्रयोजनीय व्यंग्य है । प्रेम ने भूमिका में अपने जिस अकाल की चर्चा की है, वो अकाल नहीं है बहुत दिनों से जिस जमीन पर कोई फसल नहीं उस जमीन के अधिक उर्वर होने की प्रक्रिया है । ये परती के बाद की परती-कथा है । प्रेम जनमेजय जैसा भाषिक प्रयोग हमारे समय के व्यंग्यकारों में बहुत कम है । दिविक रमेश ने कहा कि प्रेम जनमेजय उन गिने चुने व्यंग्यकारों में से हैं जिन्होंने व्यंग्य को फूहड़ होने से बाचाया है । भाषा पर इनकी पकड़ बहुत गहरी है । प्रेम जनमेजय की रचनाओं में एक तरह की महाकाव्यात्मकता है । ये खतरा मोल लेते हुए व्यंग्य करते हैं और स्वयं को भी कटघरे में रखते हैं । प्रेम की रचनाओं में हास्य की कमी है और ये व्यंग्य के साथ हास्य का घलमेल कम ही पसंद करते हैं और यही कारण है इनका हास्य भी चुटीला होता है ।



इस अवसर पर गद्य व्यंग्य पाठ का भी आयोजन किया गया जिसमें विष्णु नागर, ज्ञान चतुर्वेदी, प्रेम जनमेजय, प्रदीप पंत, हरीश नवल,राजेश कुमार ने अपनी रचनाएं पढ़ीं । कार्यक्रम का संचालन राजेश कुमार ने किया और धन्यवाद ज्ञापन अक्षरम् के अध्यक्ष अनिल जोशी ने किया । कार्यक्रम में प्रभाकर श्रोत्रिय, बालस्वरूप राही, शेरजंग गर्ग, अनूप श्रीवास्तव, प्रताप सहगल, प्रभात,नरेंश शांडिल्य, वीरेंद्र सक्सेना, जगदीश चंद्रिकेश, सुभाष चंदर मनोहर पुरी, पुष्पा राही, के0पी0सक्सेना ;दूसरे, ललित लालित्य समेत सौ से अधिक साहित्य प्रेमी उपस्थित थे ।


-------.

कौन कुटिल खल कामी

व्यंग्य संग्रह

व्यंग्यकार : प्रेम जनमेजय

प्रकाशक - ग्रंथ अकादमी, 1659, पुराना दरियागंज, दिल्ली 2

मूल्य - 200.00

----

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.