रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

जीवन के तीन रंग


जीवन के तीन रंग

-डॉ. ओम प्रकाश एरन

(1)

धर्मराज ने राशन की दुकान पर पूछा-

उत्तर मिला “घासलेट अभी नहीं आया”

कुछ दिनों बाद पूछा उत्तर मिला-

“बीस तारीख तक आएगा”

बीस तारीख को गए तो कहा-

“कब से समाप्त हो गया, आप इतने दिन कहां थे?”

इसके बाद धर्मराज परिवार सहित

हिमालय की ओर चले गए

-----.

(2)

कालू रोज स्कूल आता है

काश टीचर भी रोज आते

कालू को रोज मिलता है चपरासी

वह उसी से बात करता रहता है

नियमित स्कूल आने का फायदा हुआ

वह बीड़ी पीना सीख गया

एक दिन टीचर आए

कालू को बुलाया

बोले, “तू पास है

ला, एक बीड़ी मुझे भी पिला

तेरी बीड़ी कुछ खास है.”

------.

(3)

नेताजी खिड़की के पास बैठकर

सुस्ता रहे थे

एक कव्वा कहीं से आया

अपना परम्परागत गाना गाया

फिर नेताजी से पूछा-

“मजा आया?”

नेताजी कव्वे को भगाते हुए बोले-

“न सुर, न ताल, न अक्ल

हमारे सामने हमारी ही नकल?”

----.

संपर्क:

शास्त्री नगर, रतलाम, मप्र. 457001

(साभार, साप्ताहिक उपग्रह, रतलाम. चित्र – कृष्णकुमार अजनबी की कलाकृति)

1 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.