---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

विजय शर्मा का आलेख : बसाया हमने अपना जहाँ

साझा करें:

‘चि म्बोराजो से तीन सौ मील से ज्यादा दूर, कोटोपाक्सी से सौ मील दूर इक्वाडोर एंडीज के विशाल वीराने में, मनुष्यों की दुनिया से कटी हुई एक रहस्...

‘चिम्बोराजो से तीन सौ मील से ज्यादा दूर, कोटोपाक्सी से सौ मील दूर इक्वाडोर एंडीज के विशाल वीराने में, मनुष्यों की दुनिया से कटी हुई एक रहस्यमय पहाड़ी घाटी में अंधों का प्रदेश है.’ इस घाटी प्रदेश में जितने लोग हैं सब अंधे हैं. बच्चे, बूढे जवान सबके सब. यदि इस प्रदेश को हम पृथ्वी के नक्शे पर खोजने निकले तो खोजते रह जाएँगे. परंतु यह एक साहित्यिक वास्तविकता है. एक साहित्यकार की कल्पना का प्रदेश है. एच जी वेल्स ने अपनी कहानी ‘द कंट्री ऑफ द ब्लाइंड’ के लिए इस प्रदेश की सृष्ठि की है. इस कहानी की शुरुआत इसी वाक्य से होती है. इस कहानी के सारे क्रिया कलाप इसी अनोखी दुनिया में चलते हैं.

मनुष्य एक असंतुष्ट प्राणी है. उसका मन कभी तृप्त नहीं होता है सदा और और की माँग करता रहता है. एक माँग की पूर्ति हो नहीं पाती है कि दिल और माँगने लगता है. यह बात भी सही है कि जिस दिन वह संतुष्ट हो जाएगा उसी क्षण सारा विकास, सारी प्रगति रुक जाएगी. सारे अन्वेषण, सारी शोधें, सारी खोजें इसी असंतोष का नतीजा हैं. अगर ऐसा न होता तो नए नए दर्शनों का निर्माण न होता, वैज्ञानिक उपलब्धियाँ न होतीं, संस्कृति सभ्यता न पनपती. कभी खुशी के लिए, कभी गम में, , कभी हताशा-निराशा में, कभी क्रोध से भर कर मनुष्य इस दुनिया से अलग एक और नई दुनिया बसाना चाहता है. प्राचीन काल से आज तक हर दार्शनिक एक नए समाज की रूपरेखा प्रस्तुत करता आया है चाहे वह प्लेटो हो अथवा कार्ल मार्क्स. आगे भविष्य में भी यह सिलसिला जारी रहेगा. सारा साहित्य मनुष्य की इस अतृप्ति का हासिल है. उन्हीं शाश्वत विषयों प्रेम, भय, काम, रति, मृत्यु, जिजीविषा, प्रतिकार पर युगों युगों से कहानियाँ न लिखी जाती रही होतीं. आदमी के पास जो है उससे उसकी जरूरतें कभी पूरी नहीं होती है उस पर सदा कुछ नया करने की धुन सवार रहती है. कुछ लोग इस पूरी दुनिया से खुश नहीं हैं और आगे बढ़कर एक अलग, एक निराली दुनिया बसाना चाहते हैं. नया करने की ललक ने स्वर्ग की कल्पना को साकार किया कुछ लोग वहीं नहीं रुके उन्होंने नरक बना डाला. अधिकाँश धर्म एक नरक की कल्पना पर रुक गए हिन्दू धर्म एक नरक से संतुष्ट न रह कर असंख्य नरक की बात करता है. कोई मानता है कि स्वर्ग ऊ पर है और मरने के बाद ही प्राप्त होगा और नरक पृथ्वी के नीचे पाताल में है और बुरा कर्म करने वालों को उसमें जलना सड़ना होगा. कुछ लोग मानते हैं कि स्वर्ग नरक यहीं है उसको कहीं और कभी और जाकर खोजने की आवश्यकता नहीं है. त्रिशंकु सशरीर स्वर्ग जाना चाहता था यह सम्भव नहीं था. एक समय उसने अकाल के दौरान विश्वामित्र की सहायता की थी इसलिए विश्वामित्र ने त्रिशंकु के लिए अलग स्वर्ग की ही रचना कर दी.

साहित्यकार एक ऐसा ही प्राणी है जिसका मन इस समाज, इस दुनिया से खुश नहीं है वह अपनी रचनाओं में एक दूसरी दुनिया बसाना चाहता है. साहित्यकार की अपना जहाँ बसानी की इच्छा नई नहीं है न ही यह बात किसी खास स्थान के साहित्यकार के लिए लागू होती है. यह स्थान से बँधी नहीं है. प्राचीन, नवीन, पूरब, पश्चिम सब साहित्य में काल्पनिक स्थानों की झाँकी मिलती है. पहले रचनाकार अपनी कल्पना से एक स्थान का सृजन करते है फिर उस स्थान को इतना महत्व प्राप्त हो जाता है, उस पर लोग इस कदर विश्वास करने लगते हैं कि उसको वास्तविक स्थान से जोड़ कर देखने का प्रयास प्रारम्भ हो जाता है उसकी भौगोलिक, ऐतिहासिक खोज शुरु हो जाती है. ‘एटलांटिस’ जैसे स्थान की खोज में ऊ नेस्को के वैज्ञानिकों और पुरातत्वेत्ताओं की टीम भिड़ी हुई है.

मलयालम लेखक ओ. वी. विजयन ने अपना इतिहास लिखने के लिए ‘खसाक’ का सृजन किया. भारतीय इंग्लिश लेखक आर. के. नारायण ने ‘मालगुडी’ रच डाला. आज बच्चा-बच्चा मालगुडी से परिचित है. ‘अल्फिस्टिया’ एक ऐसा स्थान है जिसका अस्तित्व मात्र इंटरनेट, मात्र वेब पर है. बीटल्स ने अपना ‘पेपरलैंड’ बसा लिया तो काफ्का ने अपना ‘कैसल’ बना लिया. जे. आर. आर. टोलकिएन को आधुनिक फंतासी का जनक माना जाता है. उन्होंने छोटा मोटा शहर या कोई प्रदेश न बना कर ‘मिडिल अर्थ’ (मध्य दुनिया ) ही बसा दिया. मार्शेल प्राउस्ट का ‘कॉम्ब्रे’, और स्टेफन लीकॉक का ‘मारीपोसा’ ऐसे ही काल्पनिक स्थान हैं.

तार्किक, गणितज्ञ, इंग्लिश लेखक लुई कैरोल ने १८६५ में एलिस के साथ साथ पाठकों को ‘वंडरलैंड’ में खूब घुमाया. बहुत कम लोग जानते हैं कि इस लेखक का वास्तविक नाम चार्ल्स लुटविग डॉगसन था. इस वंडरलैंड को कार्टूनिस्ट सर टेनियल जॉन ने अपने रेखांकन के द्वारा अमर कर दिया. अमेरिकन लेखक फ्रैंक बाउम क्यों पीछे रहते उन्होंने विजर्ड ऑफ ओज नामक १४ किताबें लिख डालीं किताबों की पाठकों के बीच लोकप्रियता का नतीजा यह हुआ कि उनके बाद कई और लेखक इसी नाम की किताबें लिखते रहे और लोगों को एक अनोखी दुनिया की सैर कराते रहे. मूल किताब १९०० में लिखी गई थी और इस में वर्णित ‘एमेराल्ड सिटी’ (पन्ना या हरित प्रदेश) को १९३९ में एक म्यूजिकल फिल्म बना कर परदे पर उतारा गया जिसे आज भी एक क्लासिक का दर्जा प्राप्त है. इस फिल्म ने जूडी गारलैंड को सिने जगत में सदा के लिए स्थापित कर दिया. दूसरे ओर एक भयंकर स्थान ‘जुरासिक पार्क’ का सृजन किया माइकेल क्रिचटोन ने जुरासिक पार्क नामक उपन्यास में. स्टीवन स्पीयलबर्ग ने इसी उपन्यास के आधार पर जुरासिक पार्क और लॉस्ट वर्ल्ड नाम से दो बहुचर्चित फिल्में बना दी, जिनमें रिचर्ड एटेनबरो काफी दिनों के बाद पुनः अभिनय करते दीखे. बच्चों के लिए लिखने वाली और आज की सर्वाधिक धनी लेखिका जे. के. रॉउलिंग के हैरी पोर्टर की निराली दुनिया बडों को भी खूब भाई. ‘हॉगवार्ट’ की अनोखी, जादूई दुनिया की रिकॉर्ड तोड बिक्री ने लेखिका को क्वीन एलीजाबेथ से भी ज्यादा धनी बना दिया. द्वितीय विश्व युद्ध के पश्चात कागज की कमी के फलस्वरूप इंग्लैंड में किताबों का उत्पादन प्रभावित हुआ था. इस मन्दी के दौर में एनिड ब्लाइटन कुछ गिने चुने लेखकों में से थीं जिनकी किताबों का उत्पादन न केवल जारी रहा वरन बढा. उन्होंने १९४९ से ‘नोडी’ श्रृंखला निकाली. अमेरिका में भले ही वे अनजानी हों परंतु उनके नोडी के ‘ट्वाय टाउन’ की सैर दुनिया के प्रायः सब देशों के बच्चे और बड़े बूढे शौक से करते हैं. मेरे संग नोडी से जुड़ा एक वाकया है. बहुत दिनों तक मैं नोडी शब्द को न मालूम क्यों नोबड़ी कहती और पढ़ती रही.

मालगुडी, गुलिवर, वंडरलैंड, एमराल्ड सिटी, हॉगवार्ट, टॉय टाउन जैसे स्थानों की रचना बच्चों के लिए की गई, वैसे बड़े इनका आनन्द कम नहीं उठाते हैं. परंतु कुछ लेखकों ने ऐसी दुनिया बसाई जिस जहाँ में केवल बड़ों की रसाई हो सकती है. ये जहाँ ज्यादा जटिल हैं. ज्यादा उलझनों से भरे हुए हैं. इनके निर्माण के पीछे एक भिन्न दर्शन काम करता है. ये जहाँ वयस्कों की ललक, उनकी लालसा का परिणाम हैं. मजा यह है कि इन काल्पनिक स्थानों में लोग विश्वास करते हैं और इनकी भौतिक खोज में आकाश पाताल एक किए रहते हैं.

इलियड और ओडिसी के रचयिता होमर के व्यक्तित्व की वास्तविकता को लेकर विवाद होता रहे पर उसके रचे ‘आइया’ को नकारना कठिन है. इस अंधे यूनानी कवि ने अपने बाद आने वाले बहुतेरे रचनाकारों को प्रभावित किया. दाँते, जॉन मिल्टन, मिग्युअल ड सर्वांटिस, एलैक्जेंडर पोप, जॉर्ज चैपमैन, रॉबर्ट फिटजराल्ड और जेम्स जॉयस सब होमर के ऋ णी हैं. इंग्लिश काव्य में रोमांटिक काव्य के प्रणेताओं में से एक सैमुअल टेलर कॉलरिज की प्रसिद्ध कविता कुबलाई खान के काल्पनिक स्थान जानाडू को कौन भूल सकता है? ऐसा ही एक काल्पनिक स्थान है ‘शांग्री ला’. कुनलुम पर्वतों के पश्चिम में स्थित यह एक रहस्यमयी आध्यात्मिक घाटी है जिसका निर्देशन एक लामासारी (बौद्ध विहार) से होता है. यह स्थाई यूटोपिया का पर्याय बन गया है जिस धरा पर प्रसन्नता शाश्वत है और जो बाह्य जगत से पूर्णरूपेण कटा हुआ है. १९३३ में ब्रिटिश लेखक जेम्स हिल्टन ने अपने उपन्यास ‘लोस्ट होराइजन‘ में शांग्री ला की कल्पना तिब्बत बौद्ध धर्म की परम्परा में वर्णित रहस्यमय शहर शाम्भाला के आधार पर की है. विलियम फॉक्नर का रहस्यमय ‘योक्नापटाफा’ मिसिसिपी के लाफेट काउंटी पर आधारित है जिसमें उन्होंने अपने पूर्वजों के साथ-साथ अमेरिकन आदिवासियों, अश्वेतों और गरीब श्वेतों तथा अन्य कई लोगों को बसाया है.

‘एल डोराडो’ एक ऐसा ही स्थान है जिसकी खोज में न मालूम कितने लोग भटके और भविष्य में कितने और लोग भटकेंगे. एल डोराडो का अर्थ स्पैनिश भाषा में स्वर्णिम होता है. दक्षिण अमेरिका में सोना आध्यात्मिक महत्व रखता है यह जीवन शक्ति और सूर्य का प्रतीक है. सोना प्राप्त करना मनुष्य की एक प्रारम्भिक ख्वाइश रही है. सारे रसायन शास्त्र की जड़ में सोना प्राप्ति की ख्वाइश ही रही है. यदि भारत सोने की चिडया न कहलाता तो भला इतने आक्रमणकारियों को आमंत्रित करता? एल डोराडो के सोने की खोज में अकेले और समूह में बहुत सारे लोग न मालूम कितनी कठिनाइयाँ उठाकर कुछ लोग हाथ मलते हुए वापस लौटे और कुछ कभी न लौट सके. फ्रांसिस्को ड ओरेलाना और वाल्टर राली ऐसे ही खोजी थे जिन्होंने एल डोराडो से सोना लने के लिए अनेक जोखिम उठए और अंत में जान गँवाई. वॉल्टर राली ने १५९५ में त्रिनीदाद पर चढाई की थी और जिनको भी वह मार सकता था उन सारे स्पेंनवासियों को उसने मार डाला था. वह एल डोराडो की खोज में ओरीनोको तक गया. उसे कुछ नहीं मिला लेकिन जब वह इंग्लैंड वापस गया तो उसने सबसे कहा कि उसे खजाना मिला गया है. उसके पास लोगों को दिखाने के लिए एक टुकड़ा सोना और थोड़ी सी बालू थी. उसने लोगों से कहा कि उसने ओरीनोको के तट पर एक चट्टान की चोटी से सोना खोद निकाला है. परंतु उसने जिस बालू को परीक्षण के लिए रॉयल मिंट को दिया था वह बेकार थी

उसमें सोने का नामोनिशान न था. और बाद में कई दूसरे लोगों ने बताया कि उसने उत्तरी अमेरिका से पहले ही सोना खरीद कर रख लिया था.

जब सब ओर से निराशा हाथ लगी तो तब उसने अपनी बात सिद्ध करने के लिए एक किताब लिखी जिस पर चार सदी तक लोग विश्वास करते रहे कि राली को सोना अवश्य मिला था. हालांकि उसकी किताब पढ़ना काफी कठिन है परंतु उस किताब का जादू जो सदियों तक लोगों के सिर चढ़ कर बोलता रहा उसके लम्बे शीर्षक में है. ‘द डिस्कवरी ऑफ द लार्ज, रिच अन्द ब्यूटीफुल एम्पायर ऑफ गुयाना, विथ अ रिलेशन ऑफ द ग्रेट एंड गोल्डन सिटी ऑफ मनोआ (विच स स्पेनियार्ड्स कॉल एल डोराडो) एंड द प्रोविंसेस ऑफ एमीरिया, एरोमाइया एंड अदर कंट्रीज विथ देयर रिवर्स एडज्वाइनिंग’. शीर्षक ही तीन लाइन में चलता है. सुनने में वास्तविक लगता है जबकि वह मुश्किल से मुख्य ओरीनोको तक ही गया था. और जैसा कि बहुत आत्मविश्वास वालों के संग होता है राली अपनी ही कल्पना के मकड़जाल में फँस गया. अधिकारियों ने इक्कीस साल बाद बूढे और बीमार राली को लन्दन की जेल से निकाल कर वह सोना लाने के लिए गुयाना भेजा गया जो उसके अनुसार उसने पाया था. इस चक्कर में उसका बेटा मारा गया. पिता ने अपनी प्रतिष्ठा, अपने झूठ, अपने दम्भ के लिए अपने बेटे को मौत के मुँह में ढकेल दिया. और तब राली के पास दुःख के अलावा कुछ न बचा. इतना ही नहीं उसे फाँसी के लिए लन्दन वापस आना पड़ा, जहाँ उसे फाँसी दे दी गई. इस तरह एल डोराडो के चक्कर में पड़ कर उसने अपनी और अपने बेटे की जान गँवाई. वाल्टर राली ने अपनी साहसिक यात्रा को एक रोमांटिक यात्रा वृतांत का रूप दे दिया. उनकी वर्णित परिमा नहर पर स्थित मानोआ टापू इतना भरोसे मन्द था कि दो सदी तक परिमा नहर नक्शे में भी दिखाई जाती रही. आज अनेक समृद्ध स्थान साहित्य में एल डोराडो के नाम से वर्णित हैं. इस पर गीत संगीत और फिल्म भी बनती रही हैं.

लेखक अपनी कल्पना से यथार्थ खडा करता है और यथार्थ में अपनी कल्पना का रंग भरता है. कई लेखकों ने अपनी कल्पना के बल पर नए देशों नए स्थानों का निर्माण किया है और ये स्थान साहित्य में अमर हो गए हैं. मार्केस ने एक ऐसे ही काल्पनिक स्थान ‘मकोंडो’ की रचना की है. मार्केस का वन हंड्रेड इयर्स पढ़ना अपने आप में एक जादुई अनुभव है. यह किताब एक उपन्यास मात्र नहीं है इसमें प्रवेश करते ही पाठक एक विचित्र लोक में पहुँच जाता है. यह स्थान एक विशाल समृद्ध सम्पदा की खान है यहाँ की संस्कति यहाँ की सामाजिक संरचना सब अनोखी है. जितने भी काल्पनिक स्थानों का निर्माण आज तक हुआ है उनमें से यह स्थान सर्वाधिक रोचक, जटिल और लुभावना है. इसमें एक ओर दैनन्दिन जीवन के सारे सामान्य कार्यकलाप चलते हैं दूसरी ओर असम्भव, अलौकिक, अविश्वसनीय घटनाएँ घटती रहती हैं. यह एक बेशकीमती साहित्यिक विरासत है. मकोंडो में एक परिवार के पीढ़ी दर पीढ़ी के लोगों और उपनिवैशिक रोमांस की झलकियाँ वर्णित हैं. यदि यूटोपिया मार्क्सवादियों को भला लगता है तो मकोंडो का जन जीवन सब तरह के नजरिए के पाठकों को पसन्द आता है क्योंकि सामाजिक संघर्ष के कारण इसे वाम दृष्टिकोण से देखा जा सकता है साथ ही इसे साम्राज्यवादी नजरिए से भी व्याख्याइत किया जा सकता है. परिवार की महत्वपूर्ण भूमिका से परम्परावादी खुश हो सकते हैं. निराशावादियों के लिए आशा का मसाला इसमें मिलता है तो यहाँ के लोगों का दम्भी व्यवहार सुखभोगियों को सांत्वना प्रदान करता है. यह एक ऐसा स्थान है जो सब मिजाज के लोगों के लिए उपयुक्त है.

क्या कुछ नहीं घटता है मकोंडो में ? यहाँ जितनी निजी जीवन की चिंता है उतनी ही जनजीवन सार्वजनिक जीवन की चिंता नजर आती है. रोजमर्रा के क्रियाकलाप जैसे बच्चों की देखभाल, भाई बहनों के बीच ऊधमधाड़, उछलकूद, स्त्रियों की आपसी कलह, पति पत्नी की चुहल, दाम्पत्य का सुख सब पाठक की आँखों के समक्ष चलचित्र की भाँति चलते रहते हैं. वह उनमें शामिल रहता है, डूबता जाता है. क्या कुछ नहीं होता है मकांडो में जादुई अतियथार्थवाद का सटीक नमूना है यह प्रदेश. यदि वर्षा होती है तो होती चली जाती है, कुछ लोग जहाँ भी जाते हैं उनके सर पर तितलियाँ मंडराती रहती हैं, कुछ लोग कभी नहीं मरते हैं उनकी आयु का पता पाना मुश्किल है वह न घटती है न बढ़ती है, आकाश से पुष्प वर्षा होती है. सूखा पड़ता है बाढ़ आती है जो भी होता है अति होता है. सरकारी दमन का दृश्य आज के दृश्य से भिन्न नहीं है. खेतिहर मजदूर पर कहर टूटना मकोंडो की नियति है. गरीबी वहाँ भी अपने पैर जमाए हुए है लेकिन जीवन की मस्ती को पछाड़ नहीं पाती है. पारिवारिक जीवन, यौनेच्छा का विस्फोट, विद्रोह, रीति रिवाज, संस्कार, युद्ध, दमन, शर्णार्थियों की कतारें, भगोड़े तमाम बातें घटित होती हैं यहाँ. सबसे ज्यादा ध्यानाकर्षित करने वाली बात है मकोंडो में स्त्रियों का प्रभुत्व होना. मार्केस के जीवन में स्त्रियों की प्रमुखता और महत्व को वे स्वयं स्वीकार करते हैं फिर उनके बसाए प्रदेश में स्त्रियों की भूमिका प्रमुख क्यों न हो? इन सारे सूक्ष्म विवरण के लिए मार्केस ने खूब अध्ययन मनन और शोध किया है. इसके लिए मार्केस ने रसायन तंत्र, विष-औषध, बीमारियों, पाकशास्त्र, घरेलू दवाओं, कृषि शास्त्र खासकर केले की खेती, यौन विज्ञान का गम्भीर अध्ययन किया है. असल में मकोंडो महान अमेरिकी उपन्यास की क्रीड़ा भूमि है, समस्त मानव सभ्यता के उत्थान पतन की कहानी यहाँ घटित होती है. यह मानवता के उत्थान पतन की कहानी है. मकोंडो के निवासी धीरे-धीरे धनी और बुद्धिमान होते जाते हैं लेकिन इसके साथ ही वे अपनी जड़ों को, अपनी बेहतर परम्परा को खोते जाते हैं. एक समय आता है जब वे पतन की राह पर चलने लगते हैं.

माना जाता है कि यह मार्केस के बचपन के स्थान अराकटाका के नमूने पर निर्मित है. मकांडो कोलम्बिया के उत्तर के जंगल में स्थित है और यहाँ केले की खेती होती है. बांटु भाषा में मकांडो का अर्थ केला होता है. मकांडो नाम पहले-पहल मार्केस की कहानी लीफ स्टोर्म में आता है बाद में यह वन हंड्रेड इयर्स ऑफ सोलीट्यूड तथा अन्य कई कहानियों में आता है. यह नाम इतना प्रसिद्ध हो गया कि अराकटाका के लोग अपने शहर का नाम अराकाटाका मकांडो रखना चाहते थे. अपने उपन्यासों और कहानियों में वे पाठक को इस विचित्र स्थान मकांडो पर ले जाते हैं. जहाँ बहुत सी मायावी, जादुई बातें और घटनाएँ होती हैं यहाँ यथार्थ और स्वप्न, कल्पना सब घुलमिल जाते हैं उन्हें अलग करना कठिन है. इस उड़ान में फंतासी के साथ-साथ पारम्परिक दंत कथाएँ, वास्तविकता ऐसे गूँथी गई हैं कि जहाँ उन्हें स्पर्श किया जा सकता है साथ ही वे पहुँच के बाहर भी हैं. कभी लगता है लेखक रिपोर्टिंग कर रहा है, कभी लगता है वह एक स्वप्निल संसार की सृष्टि कर रहा है.

ऐसी ही एक दुनिया टोनी मारीसन ने रची है बल्कि उन्होंने एक साथ दो दुनिया रची है. एक स्थान मात्र पुरुषों के लिए निश्चित है जबकि दूसरे का सारा संचालन मात्र स्त्रियाँ करती हैं. नोबेल पुरस्कार प्राप्त के बाद १९९८ में मॉरीसन ने पैरडाइज लिखा. यह कहानी ओक्लाहोमा के ‘रूबी’ नामक स्थान काल्पनिक में ३६० जनसंख्या वाले एक छोटे से समुदाय की है. जिसका इतिहास बड़ा जटिल है गुलामी, शिकार, पूर्वाग्रह आदि से भरा हुआ. पूर्व गुलाम स्वयं शिकार में जुटे हैं. यह उन वास्तविक शहरों की कहानी है जहाँ केवल और केवल अश्वेत लोग रहते हैं पिछली सदी के आठवें दशक तक ऐसे शहर अमेरिका में अस्तित्व में थे. शायद आज भी हैं. एक समय का ‘द कॉन्वेंट’ के नाम से जाना जाने वाला लड़कियों का स्कूल अब अत्याचारी पतियों, प्रेमियों तथा सताए गए विगत से भागी हुई स्त्रियों की शरणस्थली है. इस शरणगाह पर नौ पुरुष आक्रमण करते हैं. इसमें मॉरीसन अश्वेत की पृष्ठभूमि, उनकी आपसी लड़ाई, आर्थिक झगड़ों, पूर्वजों की शत्रुता आदि का अन्वेषण करते हुए केवल अश्वेत के नगर ‘रूबी’ और मात्र औरतों के कॉन्वेंट का विश्लेषण करती हैं वे जानना चाहती हैं कि पुरुष क्यों अपने पितृसत्तात्मक स्वर्ग से डायनों को जड़ से समाप्त कर देना चाहते हैं. स्वर्ग कहाँ है और कौन इसका निवासी होता है आदि बातों के उत्तर खोजता यह पूरा उपन्यास इसी विचार के इर्द-गिर्द बुना गया है.

द न्यूयॉर्क टाइम्स को दिए एक साक्षात्कार में उनका कहना है कि ‘सभी स्वर्गों का वर्णन पुरुष परिक्षेत्र के रूप में होता है स्त्री बिना सुरक्षा के होती है और उसे खतरा तथा हस्तक्षेप करने वाली दखलन्दाजी करने वाली के रूप में जाना जाता है. जब यही स्त्री एक जुट हो कर शक्तिशाली होती हैं तब उस पर आक्रमण होता है.’ उन्होंने यह खूब रिसर्च करके, इतिहास का अध्ययन करके लिखा है. इस कथा में कोई भी पात्र कहानी के अंत तक कोई नहीं मरता है. मॉरीसन मानती हैं कि सारे स्वर्ग सारे यूटोपिया उन लोगों के द्वारा निर्मित होते हैं जो वहाँ रहते नहीं हैं लोग जिन्हें वहाँ प्रवेश की इजाजत नहीं होती है. एकाकीपन अलगाव सदा से यूटोपिया का हिस्सा रहा है. यह मॉरीसन का अपना विशिष्ठ तरीका है स्वर्ग के विचार को जानने समझने का, सुरक्षित स्थान, जहाँ सब कुछ इफरात में है, जहाँ कोई आपको हानि नहीं पहुँचा सकता है, स्वर्ग की खोजबीन करने का. इसे वे अपना तप मानती हैं. पर इन सबके साथ यह स्थान सबसे विलग है सबसे अलग थलग होता है. वे यह भी मानती हैं कि पृथकता में स्वयं को नष्ट करने के बीज भी छुपे होते हैं. वे समय के साथ बदलने से इंकार कर देते हैं. वे सब चीजों को दूर रखना चाहते हैं और इसी कारण स्वर्ग का नाश होता है.

रूबी एक ऐसा स्वर्ग है जिसे प्रवास के लिए केवल अमेरिकन - केवल अफ्रीकन अमेरिकन ही नहीं खोज रहें हैं. जिन्होंने अपना देश, अपना घर छोड़ा है वे दूसरा घर खोज रहे हैं. दूसरे भी यही कर रहे हैं मगर दूसरों ने अपना घर छोड़ा है. अब वे वहाँ नहीं रहना चाहते हैं या वहाँ अब वे रह नहीं पा रहे हैं इसलिए रूबी खोज रहे हैं. अफ्रीकन अमेरिकन के घर खोजने में फर्क है वे ऐसा स्थान खोज रहे हैं जहाँ उनके अपने लोग हों अपनी आदतें अपनी सभ्यता संस्कृति हो जहाँ वे अपने आप में परिपूर्ण हों. इस दृष्टि से उनका स्वर्ग खोजने का उद्देश्य तनिक अलग है. रूबी के बाहर का कॉन्वेंट एक अलग स्वर्ग है. रूबी का पूरा शासन पुरुषों द्वारा चलाया जाता है जबकि कॉन्वेंट का शासन स्त्रियाँ चलाती हैं, पुरुषों द्वारा सताई गई स्त्रियों के द्वारा शासित है. मॉरीसन ने रूबी की पूरी व्यवस्था ओल्ड टेस्टामेंट के आधार पर की है. जो पितृसत्तात्मक है. जहाँ पुरुष अपनी स्त्रियों की सुरक्षा के प्रति बड़े सतर्क हैं. कॉन्वेंट की स्त्रियाँ पुरुषों का साथ नहीं चाहती हैं. यहाँ वे आपस में लड़ती झगड़ती हैं पर उन्हें भय नहीं है कि कोई उनका शिकार करेगा. रूबी में प्रोटेस्टेंट धर्म है जबकि कॉन्वेंट में धर्म संगठन पर आधारित नहीं है वह तकरीबन जादू के कगार पर है. दोनों के मूल्यों में आधारभूत भिन्नता है. यहाँ स्त्रियाँ सातवें दशक की हैं जिन्हें परम्परावादी अश्वेत भयंकर मानते थे. इस उपन्यास का एक पात्र रेवरेंड मैस्नर मॉरीसन के लिए बहुत विशिष्ठ है, बहुत अपना है, क्योंकि वह अपने धर्म के सिद्धांतों, नागरिकों के अधिकारों, नागरिकों के अधिकारों के विलय को लेकर बड़े धर्म संकट में है. वह युवाओं के सब कुछ से कट जाने को लेकर भी बड़ा परेशान है. वह काफी कुछ अन्ना केरेनीना के लेव की तरह है नैतिकता से उलझता हुआ. रेवरेंड मैस्नर बहस के लिए तैयार है. वह बच्चों की बात सुनने को राजी है. वाशिंगटन पोस्ट में १९९८ में मॉरीसन ने कहा, ‘‘केवल हम (मनुष्य) स्वर्ग की कल्पना कर सकते हैं, अतः चलो इसकी सटीक कल्पना करें, यह केवल मेरा तरीका, मेरा स्वामी, मेरी सीमाएँ, मेरे मूल्य, और आपको, आपको, आपको दूर रखना नहीं है. केवल हमीं यह कर सकते हैं. अतः इसके बारे में सोचें ... हाँ, स्वर्ग का अवसर बहुत क्षीण है. तो क्या?’’

पैरडाइज में दिखाए गए स्थल कुछ मायनों में बहुत खूबसूरत हैं और कुछ मायनों में बहुत खतरनाक. पैराडाइज की कथावस्तु १९७० में ओक्लाहोमा में काले लोगों के समूह द्वारा बहुत सारी अपनी औरतों को अपने सम्मान को बचाने के लिए मार देने की घटना पर आधारित है. वे सोचते थे कि ये स्त्रियाँ बुरी हैं और इसका असर उनकी नैतिकता पर पड़ता है. यह एक भीतर तक हिला देने वाली मार्मिक कथा है. निसन्देह मॉरीसन की रचनाओं में यह एक विशिष्ठ स्थान रखती है.

इंग्लिश राजनीतिज्ञ, कानूनविद, आदर्शवादी धार्मिक तथा लेखक थॉमस मूर अपने समय में एक ख्याति प्राप्त व्यक्ति था. १५२९ से १५३२ तक वह लॉर्ड चांसलर था. उसने एक काल्पनिक राज्य स्थापित किया जिसे उसने ‘यूटोपिया’ की संज्ञा दी. इस काल्पनिक राज्य की कीमत उसे अपनी जिन्दगी से चुकानी पड़ी. यह एक ऐसा राज्य है जहाँ किसी एक व्यक्ति की सत्ता नहीं है. १५१६ में उसने किताब यूटोपिया लिख कर इंग्लैंड के राजा हेनरी अष्टम को नकार दिया. सम्राट जो इंग्लैंड के चर्च का प्रमुख होता था उसे थॉमस मूर ने नकार दिया. उस पर राजद्रोह का मुकदमा चला और अंत में उसे फाँसी दे दी गई. उसकी मृत्यु के सात सौ वर्ष बाद कैथोलिक चर्च ने उसे संत की उपाधि प्रदान की और आज वह पूजा जाता है. यूटोपिया साहित्य का एक नया मुहावरा बन गया. एक ऐसा आदर्श और पूर्ण समाज जिसकी कल्पना तो की जा सकती है परंतु जिसका होना कठिन ही नहीं असम्भव है. इसके नाम में ही यह शामिल है.

अपने इस आदर्श राज्य में मूर एक यात्री को लाता है इस यात्री का नाम आर्कएंजेल की तर्ज पर राफेल हिथलोडे है. आर्कएंजेल सत्य का पर्याय है और हिथलोडे का अर्थ यूनानी भाषा में ‘बकवास करने वाला’ होता है. यूटोपिया शब्द को यदि अलग अलग हिस्सों तो यूनानी भाषा में उसका एक अर्थ ‘कोई स्थान नहीं’ तथा दूसरा अर्थ ‘अच्छा स्थान’ होता है. यह यात्री राफेल अपने लिए और गिल्स के लिए यूटोपिया की राजनीतिक व्यवस्था का वर्णन करता है. यहाँ का सामाजिक जीवन सटीक, उत्तम, तर्कपूर्ण और पूर्णरूपेण व्यवस्थित है. यूटोपिया में किसी के पास निजी सम्पत्ति नहीं है और धार्मिक सहिष्णुता का पालन होता है. किताब प्रमुख रूप से अनुशासन और व्यवस्था की बात करती है.

इसमें वर्णित समाज सर्वसत्तावाद का उदाहरण है आज के स्वतंत्रता के आदर्शों से सर्वथा भिन्न. इस दुनिया में बिना अधिकारियों की अनुमति के जन नीतियों पर बात नहीं की जा सकती है ऐसा करने पर मृत्यु दंड का प्रावधान है. निजी सम्पत्ति का प्रावधान न होने के कारण कार्ल मार्क्स के सिद्धान की तुलना इससे की जाती है. मार्क्स ईश्वर में विश्वास नहीं रखते थे जबकि यूटोपिया में धर्म है. यह धार्मिक सहनशीलता की बात करता है परंतु अनीश्वरवादी के लिए इस दुनिया में कोई स्थान नही है. मूर का सिद्धांत है कि यदि मनुष्य ईश्वर में आस्था नहीं रखता है या मृत्यु के बाद के जीवन में विश्वास नहीं करता है तो उस पर कदापि विश्वास नहीं किया जा सकता है. आज के समाजवादी यूटोपिया के प्रशंसक हैं. मूर का समुदाय बाइबिल के समुदाय पर आधारित है. बाद में बहुत सारे लेखकों ने यूटोपिया की अपने अपने साहित्य में नकल की. नाटककार रोबर्ट बोल्ट ने मूर के जीवन पर आधारित ‘अ मैन फॉर आल सीजन’ एक नाटक लिखा जिस पर बाद में इसी नाम से एक सफल फिल्म बनी. जिसे कई पुरस्कार प्राप्त हुए.

मध्य यूरोप में ‘रूरीटानिया’ एक ऐसा काल्पनिक राज्य है जिसमें एक लेखक ने अपनी तीन रचनाओं को स्थापित किया है. जी हाँ एंथॉनी होप ने १८९४ में ‘द प्रिजनर ऑफ जेंडा’, १८९६ में ‘द हार्ट ऑफ प्रिंसेस ओसरा’ तथा १८९८ में ‘रूपर्ट ऑफ हेंटजाऊ’ इसी काल्पनिक स्थान की भूमि पर रचा. बाद में आने वाले कई लेखकों ने इसी जमीन पर इन उपन्यासों के अगले क्रमिक भाग रचे. विज्ञान कथाकार साइमन हॉक्स ने ‘जेंडा वेनडेटा’ तथा जॉन स्पर्लिंग ने ‘आफ्टर जेंडा’ लिखा.

रूरीटानिया यूटोपिया से बिलकुल भिन्न, उसकी विरोधी दुनिया है यहाँ पूर्ण रूप से राजतंत्र है इस देश में जर्मन भाषा भाषी रोमन कैथोलिक लोगों का निवास है जिन पर तानाशाह राजा का शासन है और जनता जहाँ निरंतर पुलिस की निगरानी में रहती है, किसी को भी शक की बिना अपर गिरफ्तार किया जा सकता है. पूरा समाज अमीर और गरीब दो वर्ग में बँटा हुआ है. शर्तिया तौर पर यह रहने के लिए उपयुक्त स्थान नहीं है. लेकिन जब होप की इसी दुनिया को नाटक और फिल्म में प्रस्तुत किया गया तो उसे परि देश के सुन्दर रूप में दिखाया गया.

प्लेटो ने जिस विख्यात ‘एटलांटिस’ की चर्चा अपने डॉयलॉग में कितने युगों पहले की लोग आज भी उसकी खोज में आकाश पाताल एक किए हुए हैं. यूनानी भाषा में एटलांटिस का अर्थ होता है ‘एटलस का टापू’. एथेंस पर आक्रमण करते समय पराजित एटलांटिस एक दुर्भाग्यपूर्ण दिन समुद्र में डूब गया. प्लेटो ने अपने राजनीतिक सिद्धांतों के वर्णन के लिए इस टापू का सृजन किया था. प्लेटो का मकसद क्या था इस पर विद्वानों में मतभेद है कुछ का मानना है कि थेरा इरप्शन या फिर ट्रोजन युद्ध की पुरा स्मृति को उसने पुनर्जीवित किया है जबकि कुछ और लोग मानते हैं कि यह प्रेरणा उसने अपने समय की घटनाओं मसलन ३७३ ई पू के हेलिक के नष्ट होने या फिर सिसली के एथेंस पर आक्रमण से ग्रहण की है. बाद के बहुत से लेखक प्लेटो के एटलांटिस से प्रभावित रहे हैं फ्रांसिस बेकन ने ‘न्यू एटलांटिस’ रच डाला. आज भी यह कई फिल्मों , विज्ञान कथाओं और कॉमिक किताबों की प्रेरणा है. यह ऐतिहासिक परंतु उन्नत सभ्यता जो आज खो चुकी है का पर्याय है. बाद के बहुत से लेखक प्लेटो के एटलांटिस से प्रभावित रहे हैं फ्रांसिस बेकन ने ‘न्यू एटलांटिस’ रच डाला. आज भी यह कई फिल्मों, विज्ञान कथाओं और कॉमिक किताबों की प्रेरणा है. यह प्राक ऐतिहासिक परंतु उन्नत सभ्यता जो आज खो चुकी है का पर्याय है.

देश समाज की जर्जर स्थिति, कुरीतियाँ रचनाकारों के लिए बड़ी उर्वरक सिद्ध होती हैं. लेकिन अपने राजा, उसकी शासन प्रणाली, उसके दरबारियों के क्रियाकलापों की खामियों का वर्णन करने के लिए अत्यंत साहस की आवश्यकता होते है, भले ही यह वर्णन छद्म रूप में हास्य व्यंग्य की चासनी में डुबो कर किया जाए. यह साहस किया है जोनाथन स्विफ्ट ने. इसके लिए जिस मेधा की आवश्यकता है वह स्विफ्ट में है. जोनाथन स्विफ्ट ने १७२६ में आज से करीब तीन सौ साल पहले चार छोटे-छोटे ‘गुलिवर प्रदेशों’ का निर्माण कर दिया. वे तत्कालीन समाज की खासकर शासक समाज की कुरीतियों को मृदु फुहार से कठोर फटकार लगाते हैं. वे उस युग की अराजकता, दमन, अन्याय, अत्याचार, भ्रष्टाचार का भंडाफोड़ करते हैं , उस युग के लोगों विशेष तौर पर राजसी लोगों के अनैतिक व्यवहार, महत्वाकांक्षा, आडम्बर, भाई भतीजावाद, लिप्सा, षडयंत्र, खोखली बहसों से ऊब कर गुलीवर की यात्राओं पर निकल जाते हैं. वे पाठकों को चार द्वीपों की सैर कराते हैं पहला द्वीप नन्हें नन्हें लिलिपुट लोगों का है, इसके ठीक विपरीत दूसरे द्वीप के निवासी इतने बड़े हैं कि वहाँ आम ऊँचाई के आदमी लिलिपुट नजर आते हैं इस ब्रोवडि न्गनैन के दरबार में गुलिवर का खूब अपमान होता है. उस काल में विज्ञान का उद्भव हो रहा था परंतु स्विफ्ट को विज्ञान में न रूचि थी न विश्वास. इसीलिए जन उनका गुलिवर तीसरे द्वीप, वैज्ञानिकों के द्वीप में पहुँचता है तो इस द्वीप में वैज्ञानिक उड़ते रहते हैं और वे बेकार की बहस में सिर खपाते रहते हैं यहाँ भी गुलिवर की रसाई नहीं होते है तो वह तरह तरह के मनुष्यों से परेशान हो कर चौथे द्वीप में जाता है यह द्वीप बोलने वाले घोड़ों का है जो काफी बुद्धिमान हैं. स्विफ्ट में हास्य के लिए गजब की जीवंतता है. वह अपने समय और समाज की बुराइयों को, अपने मन की कडुआहट को हास्य की चासनी में डुबो कर परोसता है. वैसे इन द्वीपों को रचकर उसे काफी नुकसान उठाना पड़ा. यह रचना उसे बहुत मँहगी पड़ी. उसे राज कोप का भाजक बनना पड़ा, इनकी कीमत चुकाने के लिए अपना मानसिक स्वास्थ्य गँवाना पड़ा. बहुत कम लोग जामते हैं कि स्विफ्ट ने अपनी रचना का नाम ‘ट्रेवल्स इन टू सेवरल रिमोट नेशंस ऑफ द वर्ल्ड ः इन फोर पाट्र्स’ रखा था परंतु पाठकों ने उसे ‘गुलीवर ट्रेवल्स’ नाम से अमर कर दिया. अब प्रकाशक भी इसी नाम का उपयोग करते हैं.

ये कुछ नमूने हैं साहित्यकारों की अपनी दुनिया के. उन लोगों की दुनिया के जो इस समाज, इस दुनिया से राजी नहीं हैं, इस दुनिया को बदल डालना चाहते हैं जो कठिन (असम्भव नहीं ?) है. इन लोगों ने अपना एक अलग एक अनोखा जहाँ बसाया. यह सिलसिला यहीं नहीं थमता है कभी नहीं रुकेगा. अभी न मालूम कितने और रचनाकार अपनी विचित्र दुनिया का सृजन करेंगे. कवि (रचनाकार) को यूँ ही ब्रह्मा के समकक्ष नहीं माना जाता है.

((

( विजय शर्मा, १५१, न्यू बाराद्वारी, जमशेद्पुर ८३१००१. ई-मेलः vijshain@yahoo.com

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

|कथा-कहानी_$type=blogging$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|हास्य-व्यंग्य_$type=three$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|काव्य-जगत_$type=complex$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|आलेख_$type=two$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|संस्मरण_$type=complex$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|लघुकथा_$type=blogging$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|उपन्यास_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|लोककथा_$type=complex$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * |

| * उपन्यास *|

| * हास्य-व्यंग्य * |

| * कविता  *|

| * आलेख * |

| * लोककथा * |

| * लघुकथा * |

| * ग़ज़ल  *|

| * संस्मरण * |

| * साहित्य समाचार * |

| * कला जगत  *|

| * पाक कला * |

| * हास-परिहास * |

| * नाटक * |

| * बाल कथा * |

| * विज्ञान कथा * |

* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4061,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,338,ईबुक,193,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,112,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3023,कहानी,2265,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,542,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,99,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,346,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,68,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,16,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,28,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,244,लघुकथा,1255,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,327,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2009,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,711,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,797,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,17,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,88,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,208,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,77,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: विजय शर्मा का आलेख : बसाया हमने अपना जहाँ
विजय शर्मा का आलेख : बसाया हमने अपना जहाँ
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2009/04/blog-post_6651.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2009/04/blog-post_6651.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ