रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

प्रभुदयाल श्रीवास्तव का बाल गीत - रोटी का सम्मान करें

रोटी का सम्मान करें
 

गोल गोल रोटी अलबेली
कितनी प्यारी लगती है
बिना शोरगुल किये बेचारी
गर्म तवे पर सिकती है|
 
त्याग और बलिदान देखिये
कितना भारी रोटी का
औरों की खातिर जल जाना
उसकी बोटी बोटी का|
 
बड़े प्यार से थाली में रख
जब हम रोटी खाते हैं
याद कहाँ उसकी कुर्वानी
कभी लोग रख पाते हैं|
 
इसीलिये जानो समझो
रोटी की राम कहानी को
नमन करो दोनों हाथों से
इस रोटी बलिदानी को|
 
गेहूं पिसकर आटा बनता
चलनी में चाला जाता
ठूंस ठूंस कर बड़े कनस्तर‌
पीपे में डाला जाता|
 
फिर मन चाहा आटा लेकर‌
थाली में गूंथा जाता
ठोंक पीट की सारी पीढ़ा
वह हँस‌ हँसकर सह जाता|
 
अब तक जो आटा पुल्लिंग था
वह स्त्री लिंग हो जाता
स्त्रीलिंग बनने पर उसका
लोई नाम रखा जाता|
 
हाथों से उस लोई पर‌
कसकर आघात किये जाते
पटे और बेलन के द्वारा
दो दो हाथ किये जाते|
 

बेली गई गोल रोटी को
गर्म तवा पर रखते हैं
रोटी के अरमान आँच पर‌
रोते और बिलखते हैं|
 
कहीं कहीं तो तंदूरों में
सीधे ही झोंकी जाती
सोने जैसी तपकर वह‌
तंदूरी रोटी कहलाती|
 
जिस रोटी के बिना आदमी
कुछ दिन भी न रह पाता
उस रोटी को बनवाने में
कहर किस तरह बरपाता|
 
इसलिये आओ सब मिलकर‌
रोटी का गुणगान करें
जहाँ मिले रोटी रख माथे
रोटी का सम्मान करें|

----

2 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.