नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

राहुल देव की कविता - अनिश्चित जीवन : एक दशा दर्शन

image

संसार सागर मेँ

तमाम गुणोँ और

अवगुणोँ के वशीभूत

पृथ्वी की तरह

अनवरत घूमती ज़िन्दगी का

एकाएक रुक जाना...

 

जिन्दगी के दो ही रूप

थोड़ी छाँव और थोड़ी धूप

और मृत्यु,

मृत्यु संसार का एकमात्र सत्य

जीवन की सीमित अवधि

अन्त निश्चित हर एक जीवन का

ब्रह्म सत्यं जगत मिथ्या...

 

हमराहियोँ के साथ चलते-चलते

किसी अपने का अचानक

एकदम से चले जाना किसी भूकम्प से कम नहीँ होता

अखण्डनाद मौनता बन जाती है

और समा जाती है वह अनन्त की गहराइयोँ

और अतीत की परछांइयोँ मेँ

भर आता है हृदय

और आदमी की लाचारी

उसे स्मृति के सघन वन मेँ

विचरने के लिए अकेला पटक देती है

विचारोँ का धुंधला अंकन गहरा जाता है

 

सांसारिकता और हम

हमारा वजूद बहुत छोटा है;

दो पक्ष-

जीवन-मृत्यु

दो पाटोँ के मध्य पिसते हम

अजीब चक्र है..

हमारे आने पर होने वाले उत्सव

मनाई जाने वाली खुशियाँ

और जाने पर होने वाला दु:ख

रिश्ते-नाते,दोस्त-यार,परिवार

सब का छूट जाना

 

धन-दौलत,जमीन-कारोबार

हमारा धर्म,हमारे कर्त्तव्य

हमारे अधिकार

अपेक्षाएँ और उपेक्षाएँ

रह जाता है सब यहाँ

और चली जाती है आत्मा

उस परमसत्ता से साक्षात्कार करने को..

नाहक इस देह के सापेक्ष

पूर्ण निरपेक्ष है प्राण

हमारी सीमा से परे का ज्ञान..?

सूक्ष्मजीव की आत्मा

मानवीय आत्मा

आत्मा एक है

सिर्फ शरीर का फर्क है...

गीता कहती है-

'कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन्....!'

 

प्रकृति और पुरुष

कर्त्ता और कर्म

अनिश्चित जीवन तत्व का मर्म

फिर भी कालखण्ड मंच पर

कुछ अच्छी आत्माओँ का

जल्दी चले जाना

एक विश्वासघात लगता है

इन्सानी फितरत देखिए

जब यह बात जेहन मेँ

अनायास कौँध जाती है

और हमेँ एकमात्र दिलासा देती है

शायद!

 

ईश्वर अपने प्रियजनोँ को शीघ्र बुला लेता है

या नियति को यही मंजूर था

हम पुन: घर लौटकर

अपने कामोँ मेँ

व्यस्त हो जाते हैँ

एक छोटे कौमा के बाद

अज्ञात पूर्णविराम साथ लिए हुए

तमाम अनिश्चित जीवन

पुन: गतिशील हो जाते हैँ

संसार चक्र इस भाँति

अनवरत चला करता है!!

--

- राहुल देव

Add.- 9/48 साहित्य सदन कोतवाली मार्ग

महमूदाबाद(अवध)

सीतापुर उ.प्र. 261203

<rahuldevbly.blogspot.com>

4 टिप्पणियाँ

  1. आज मैं भी इसी अंतर्द्वंद से गुजरा हूँ.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सच है इस पहेली में जो उलझे निष्कर्ष उतना ही जटिल हुआ है
      चलते है जो सीधी राह पर जीवन में सफल हुआ है
      राह सीधी थी मगर इन्सान फिर भी भटक गया
      कुछ माया कुछ मोह कि फांस में उलझ गया
      मानवता को भूल कर अपने तत्व को भुला बैठा
      क्या करने आये दुनिया में क्या करने में लगा दिया

      हटाएं
    2. सच है इस पहेली में जो उलझे निष्कर्ष उतना ही जटिल हुआ है
      चलते है जो सीधी राह पर जीवन में सफल हुआ है
      राह सीधी थी मगर इन्सान फिर भी भटक गया
      कुछ माया कुछ मोह कि फांस में उलझ गया
      मानवता को भूल कर अपने तत्व को भुला बैठा
      क्या करने आये दुनिया में क्या करने में लगा दिया

      हटाएं
  2. सच है इस पहेली में जो उलझे निष्कर्ष उतना ही जटिल हुआ है
    चलते है जो सीधी राह पर जीवन में सफल हुआ है
    राह सीधी थी मगर इन्सान फिर भी भटक गया
    कुछ माया कुछ मोह कि फांस में उलझ गया
    मानवता को भूल कर अपने तत्व को भुला बैठा
    क्या करने आये दुनिया में क्या करने में लगा दिया

    जवाब देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.