आकांक्षा यादव का आलेख : हिन्दी ब्लागिंग को समृद्ध करती महिलाएं

SHARE:

वर्तमान साहित्य में नारी पर पर्याप्त मात्रा में लेखन कार्य हो रहा है, पर कई बार यह लेखन एकांगी होता है। यथार्थ के धरातल पर आज भी नारी-जीवन ...


image

वर्तमान साहित्य में नारी पर पर्याप्त मात्रा में लेखन कार्य हो रहा है, पर कई बार यह लेखन एकांगी होता है। यथार्थ के धरातल पर आज भी नारी-जीवन संघर्ष की दास्तान है। नारी बहुत कुछ कहना चाहती है पर मर्यादाएं उसे रोकती हैं। कई बार ये अनकही भावनाएं डायरी के पन्नों पर उतरती हैं या साहित्य-सृजन के रूप में। पर न्यू मीडिया के रूप में उभरी ब्लागिंग ने नारी-मन की आकांक्षाओं को मानो मुक्ताकाश दे दिया हो। वर्ष 2003 में यूनीकोड हिंदी में आया और तदनुसार तमाम महिलाओं ने हिंदी ब्लागिंग में सहजता महसूस करते हुए उसे अपनाना आरंभ किया। आज 30,000 से भी ज्यादा हिंदी ब्लाग हैं और इनमें लगभग एक चौथाई ब्लाग महिलाओं द्वारा संचालित हैं। ये महिलाएं अपने अंदाज में न सिर्फ ब्लागों पर सहित्य-सृजन कर रही हैं बल्कि तमाम राजनैतिक-सामाजिक-आर्थिक मुददों से लेकर घरेलू समस्याओं, नारियों की प्रताड़ना से लेकर अपनी अलग पहचान बनाती नारियों को समेटते विमर्श, पितृसत्तात्मक दृष्टिकोण से लेकर पुरूष समाज की नारी के प्रति दृष्टि, जैसे तमाम विषय ब्लागों पर चर्चा का विषय बनते हैं।


हिंदी ब्लागिंग ने महिलाओं को खुलकर अपनी बात रखने का व्यापक मंच दिया है। तभी तो ब्लाॅगिंग का दायरा परदे की ओट से बाहर निकल रहा है। इनमें प्रशासक, डाक्टर, इंजीनियर, अध्यापक, विद्यार्थी, पर्यावरणविद, वैज्ञानिक, शिक्षाविद्, समाजसेवी, साहित्यकार, कलाकार, संस्कृतिकर्मी, रेडियो जाकी से लेकर सरकारी व कारपोरेट जगत तक की महिलाएं शामिल हैं। कामकाजी महिलाओं के साथ-साथ गृहिणियां भी इसमें खूब हाथ आजमा रही हैं। महिलाओं में हिन्दी ब्लागिंग आरम्भ करने का श्रेय इन्दौर की पद्मजा को है, जिन्होंने वर्ष 2003 में ‘कही अनकही‘ ब्लाग के माध्यम से इसकी शुरूआत की। पद्मजा उस समय ‘वेब दुनिया‘ में कार्यरत थीं। फिलहाल पद्मजा का यह ब्लाग अन्तर्जाल पर उपलब्ध नहीं है और उसे उन्होंने हटा दिया है। फिर भी इसे इंटरनेट आर्काइव पर देखा जा सकता है-http://web.archive.org/web/*/http://padmaja.blogspot.com/
आरंभिक हिंदी महिला ब्लागरों में पूर्णिमा वर्मन, प्रत्यक्षा सिन्हा, रचना बजाज, सारिका सक्सेना, सुजाता, नीलिमा, रत्ना, दीना मेहता, निधि श्रीवास्तव, मानोषी चटर्जी, रचना, डा. कविता वाचक्नवी इत्यादि का नाम लिया जा सकता है।

ब्लागिंग में हर क्षेत्र में काम करने वाली महिलाएं अपनी अभिव्यक्तियों को विस्तार दे रही हैं, अतः इनका दायरा भी व्यापक है। ये ब्लॉग सिर्फ साहित्यिक गतिविधियों- कविता, कहानी, लघुकथा, संस्मरण, यात्रा-वृतांत, आप-बीती, निबंध इत्यादि को ही प्राण वायु नहीं दे रहे हैं, बल्कि महिला ब्लागर्स समसामयिक मुद्दों से लेकर राजनैतिक-सामाजिक परिप्रेक्ष्य, भ्रष्टाचार, मंहगाई, पर्यावरण, धार्मिक विश्वास, खान-पान, संगीत, ज्योतिषी इत्यादि तक पर प्रखरता से लिख रही हैं। कभी अस्तित्ववादी विचारों की पोषक सीमोन डी बुआ ने ‘सेकेण्ड सेक्स’ में स्त्रियों के विरूद्ध होने वाले अत्याचारों और अन्यायों का विश्लेषण करते हुए लिखा था कि-“पुरूष ने स्वयं को विशुद्ध चित्त (Being-for- itself : स्वयं में सत्) के रूप में परिभाषित किया है और स्त्रियों की स्थिति का अवमूल्यन करते हुए उन्हें “अन्य” के रूप में परिभाषित किया है व इस प्रकार स्त्रियों को “वस्तु” रूप में निरूपित किया गया है।’’ कहीं-न-कहीं आधुनिक समाज में भी यह प्रवृत्ति मौजूद है और ऐसे में ब्लॉग स्त्री आन्दोलन, स्त्री विमर्श, महिला सशक्तिकरण और नारी स्वातंत्र्य के हथियार के रूप में भी उभरकर सामने आया है। यहाँ महिला की उपलब्धि भी है, कमजोरी भी और बदलते दौर में उसकी बदलती भूमिका भी।

हर महिला-ब्लागर का अपना अनूठा अंदाज है, अपनी विशिष्ट प्रस्तुति है। यहाँ भिन्न-भिन्न रूपों में पाएंगें- कुछ अनुभव, कुछ अहसास, कुछ शब्द, कुछ चित्र। वर्तमान में ‘चोखेर बाली‘ एवं ‘नारी‘ जैसे सामुदायिक ब्लागों पर नारियों से जुड़े मुद्दों पर जमकर बहस हो रही है। यहाँ समाज में व्याप्त स्त्री के प्रति भेदभाव से लेकर लैंगिक हिंसा और पुरुषवादी दर्प को चुनौती तक शामिल है। स्त्री प्रश्नों पर केन्द्रित हिन्दी का पहला सामुदायिक ब्लॉग ‘चोखेर बाली‘ को माना जाता है, जिसे 4 फरवरी 2008 को सुजाता तेवतिया और रचना सिंह ने आरंभ किया। इसके शीर्षक पर लिखे शब्दों पर गौर करें, जो कि इस ब्लॉग के आरंभ होने की कहानी खुद ही बयां करता है- ”धूल तब तक स्तुत्य है जब तक पैरों तले दबी है, उड़ने लगे, आंधी बन जाए..तो आंख की किरकिरी है, चोखेर बाली है।” नारीवादी विमर्श को प्रखरता से उठाने के चलते चंद समय में ही इस ब्लाग से तमाम ब्लागर व लेखक जुड़ते गए। इस ब्लाग की एक खासियत यह भी है कि इस पर महिला व पुरुष समान रूप से लिख सकते हैं। वर्तमान में इससे 40 से ज्यादा ब्लागर्स जुड़े हुए हैं एवं इस पर लगभग 500 पोस्ट प्रकाशित हो चुकी हैं, जो कि इसकी लोकप्रियता को दर्शाता है। ‘चोखेर बाली‘ कई बार पीडि़त महिलाओं की व्यथा को जस का तस देने के लिए भी चर्चा में रहा। वर्ष 2008 में ही रचना सिंह ने एक अन्य सामुदायिक ब्लाग ‘नारी‘ का आरम्भ किया।

जहाँ ‘चोखेर बाली‘ नारी-पुरुष दोनों को लिखने का मौका देती है, वहीं ‘नारी‘ ब्लाग पर सिर्फ महिलाएं ही लिख सकती हैं। स्पष्ट है कि यह पहला ऐसा सामुदायिक हिन्दी ब्लाग है जिस पर सिर्फ नारियाँ ही लिख सकती हैं। नारी ब्लॉग के ऊपर लिखा वाक्य इसकी भूमिका को स्पष्ट करता है- ”जिसने घुटन से अपनी आजादी खुद अर्जित की एक कोशिश नारी को ’जगाने की’, एक आवाहन कि नारी और नर को समान अधिकार है और लिंगभेद/जेंडर के आधार पर किया हुआ अधिकारों का बंटवारा गलत है और अब गैर कानूनी और असंवैधानिक भी। बंटवारा केवल क्षमता आधारित सही होता है।” इस ब्लाग के सम्बंध में एक अन्य बात गौरतलब है कि यहाँ सिर्फ गद्य पोस्ट ही प्रकाशित हो सकती हैं, पद्य रचनाओं के लिए ”नारी का कविता ब्लॉग” है। ‘नारी‘ ब्लाग में जहाँ नारी सशक्तीकरण के तमाम आयामों को प्रस्तुत किया गया, वहीं कई गंभीर बहसों को भी जन्म दिया। इस पर लगभग 900 से ज्यादा पोस्ट प्रकाशित हो चुकी हैं, जो कि इसकी लोकप्रियता को दर्शाता है। रचना सिंह को ब्लागिंग जगत में अपनी धारदार टिप्पणियों के लिए भी जाना जाता है। हालाँकि 15 अगस्त, 2011 से नारी ब्लॉग का सामुदायिक रूप खत्म हो गया है, और अब यह व्यक्तिगत ब्लॉग के रूप में संचालित है।


आज की महिला यदि संस्कारों और परिवार की बात करती है तो अपने हक के लिए लड़ना भी जानती है। ऐसे में नारियों के ब्लॉग पर स्त्री की कोमल भावनाएं हैं तो दहेज, भ्रूण हत्या, घरेलू हिंसा, आनर किलिंग, सार्वजनिक जगहों पर यौन उत्पीड़न, लिव-इन-रिलेशनशिप, महिला आरक्षण, सेना में महिलाओं के लिए कमीशन, न्यायपालिका में महिला न्यायधीशों की अनदेखी, फिल्मों-विज्ञापनों इत्यादि में स़्त्री को एक ‘आबजेक्ट‘ के रूप में पेश करना, साहित्य में नारी विमर्श के नाम पर देह-विमर्श का बढ़ता षडयंत्र, नारी द्वारा रुढि़यों की जकड़बदी को तोड़ आगे बढ़ना....जैसे तमाम विषयों के बहाने स्त्री के ‘स्व‘ और ‘अस्मिता‘ को तलाशता व्यापक स्पेस भी है। साहित्य की विभिन्न विधाओं से लेकर प्रायः हर विषय पर सशक्त लेखन और संवाद स्थापित करती महिला हिंदी ब्लागर, ब्लागिंग जगत में काफी प्रभावी हैं। चर्चित जाल-पत्रिका ’अभिव्यक्ति’ और ’अनुभूति’ का संपादन करने वाली पूर्णिमा वर्मन का नाम वेब पर हिंदी की स्थापना करने वालों में सर्वोपरि है। वर्ष 2004 में ’अभिव्यक्ति‘ पत्रिका में चर्चित हिंदी ब्लागर रवि रतलामी द्वारा लिखित हिन्दी में ब्लागिंग पर प्रथम आलेख ”अभिव्यक्ति का नया माध्यम: ब्लाग” प्रकाशित कर उन्होंने तमाम लोगों को ब्लागिंग से जुड़ने में मदद की। सम्प्रति संयुक्त अरब अमीरात में रह रहीं एवं विकिपीडिया के प्रमुख प्रबंधकों में से एक पूर्णिमा वर्मन ने प्रवासी और विदेशी हिंदी लेखकों और लेखिकाओं को प्रकाशित करने तथा हिंदी के साथ उनका सेतु-सम्बन्ध जोड़ने में प्रमुख भूमिका निभाई है। इसी प्रकार रश्मिप्रभा ने आनलाइन कवि सम्मेलन को लोकप्रिय बनाया तो संगीता पुरी ’गत्यात्मक ज्योतिष’, ’फलित ज्योतिष: सच या झूठ’ के बारे में बता रही हैं।

आकांक्षा यादव ‘उत्सव के रंग‘ बिखेर रही हैं तो ‘खाना खजाना‘ (गरिमा तिवारी), ‘खान-पकवान’, ‘खाना मसाला‘ (उर्मि चक्रवर्ती) को समेटते ब्लाग अपने जायकों से किसी के भी मुँह में पानी ला सकते हैं। रंजना भाटिया ‘अमृता प्रीतम की याद में‘ लिख रही हैं तो डा० हरदीप संधु ‘हिंदी हाइकु‘ को ब्लाग-जगत में समृद्ध कर रही हैं। विदेश में बैठकर रानी पात्रिका ‘आओ सीखें हिन्दी‘ का आहवान कर रही हैं, वहीं डा० कविता वाचक्नवी ‘हिंदी भारत‘ एवं ‘वेब प्रौद्योगिकी (हिंदी)‘ को बढ़ावा दे रही हैं। पूर्वोत्तर व कश्मीर में आतंकवाद के विरूद्ध लड़ने वालों हेतु प्रतीकात्मक रूप में ‘हमारी बहन शर्मीला‘ (मणिपुर की इरोम चानू शर्मीला जो पिछले 8 सालों से धरनारत हैं) ब्लाग भी दिखेगा। किन्नर भी ब्लागिंग के क्षेत्र में हैं और बाकायदा हिज(ड़ा) हाईनेस मनीषा (अर्धसत्य) इस क्षेत्र में प्रथम नाम है। ’शेयर बाजार और ऊर्जा चिकित्सा’ में भला कया संबध हो सकता है, गरिमा तिवारी मनोयोग से बताती हैं। अलका मिश्रा ’मेरा समस्त’ के माध्यम से बता रही हैं कि जडी बूटियाँ हमारा खजाना हैं, न विश्वास हो तो आजमा कर देखें। लबली गोस्वामी वेब निर्माण संबंधित प्रोग्रामिंग भाषाओं एवं वेब से जुडे़ तकनीकी पहलुओं को ‘संचिका‘ में समेट रही हैं।

नारीवादी सिद्धान्तों की साधारण शब्दों में व्याख्या और नारी की कुछ समस्याओं के कारणों की खोज और समाधान ढ़ूँढ़ने का प्रयास ’नारीवादी-बहस’ में है। इसकी संचालिका आराधना चतुर्वेदी ‘मुक्ति‘ कितनी साफगोई से लिखती हैं -”कुछ खास नहीं, बस नारी होने के नाते जो झेला और महसूस किया, उसे शब्दों में ढालने का प्रयास कर रही हूँ। चाह है, दुनिया औरतों के लिए बेहतर और सुरक्षित बने।” ऐसे ही तमाम विषय हैं, जिन पर महिला ब्लागर्स प्रखरता से लिख रही हैं।


यहाँ एक बात और गौर करने लायक है कि हिंदी में ब्लागिंग करने वाली महिलाएं सिर्फ हिंदी-बेल्ट तक ही नहीं सीमित हैं, बल्कि इनमें जम्मू-कश्मीर, अंडमान-निकोबार द्वीप समूह, पूर्वोत्तर भारत एवं दक्षिण भारत तक की महिलाएं शामिल हैं।

भारत से चर्चित महिला ब्लागरों में निर्मला कपिला (वीर बहूटी), लावण्या शाह (लावण्यम-अन्तर्मन), Mired Mireg(घूघूती बासूती), रचना (नारी, बिना लाग लपेट के जो कहा जाए वही सच है), आकांक्षा यादव (शब्द शिखर, सप्तरंगी प्रेम, उत्सव के रंग, बाल दुनिया), हरकीरत हीर (हरकीरत ‘हीर‘), आर0 अनुराधा (इंद्रधनुष, समवेत), रचना सिंह (बस ऐसे ही, बस यूं ही, शब्द, नारी का कविता ब्लॉग, ब्लॉगर रचना का ब्लॉग बिना लाग लपेट के जो कहा जाए वही सच है, नारी NAARI), कविता रावत (kavita Rawat), रश्मि प्रभा (मेरी भावनाएं, क्षणिकाएं, नज्मों की सौगात, वट वृक्ष), रश्मि रविजा (मन का पाखी), रश्मि स्वरूप (नन्हीं लेखिका), शेफाली पांडे (कुमाऊंनी चेली), रेखा श्रीवास्तव (यथार्थ, मेरा सरोकार, कथा-सागर, मेरी सोच), रेखा (राहें जो अनजानी सी थी, मैंने पढ़ी है), रेखा रोहतगी (Rekha Rohatgi), शोभना चैरे (मेरी कविताओं का संग्रह, अभिव्यक्ति), लता ‘हया‘ (हया), फिरदौस खान (मेरी डायरी, The Pardise), संगीता पुरी (गत्यात्मक ज्योतिष, फलित ज्योतिष: सच या झूठ), संगीता स्वरूप (बिखरे मोती, गीत...मेरी अनुभूतियाँ), सुमन मीत (अर्पित सुमन, बावरा मन), मनीषा कुलश्रेष्ठ (बोलो जी), वीणा श्रीवास्तव (वीणा के सुर), वाणी गीत (गीत मेरे, ज्ञानवाणी), अजित गुप्ता (अजित गुप्ता का कोना), संध्या गुप्ता (संध्या गुप्ता), प्रतिभा कटियार (प्रतिभा की दुनिया), नमिता राकेश (नमिता राकेश), डा0 स्वाति तिवारी (शब्दों के अक्षत), प्रत्यक्षा सिन्हा (प्रत्यक्षा), अलका मिश्र (साहित्य हिन्दुस्तानी, मेरा समस्त), वंदना अवस्थी दुबे (अपनी बात, जो लिखा नहीं गया, किस्सा-कहानी), रजनी नैयर मल्होत्रा (मेरे मन की उलझन), मीनू खरे (उल्लास), पुनीता (हमारा बचपन, नारी जगत), रंजना सिंह (संवेदना संसार), रंजना (रंजू) भाटिया (साया, अमृता प्रीतम की याद में, कुछ मेरी कलम से), आराधना चतुर्वेदी ‘मुक्ति‘ (aradhana-आराधना का ब्लॉग, नारीवादी-बहस, Feminist Poems), डा0 मीना अग्रवाल (टमाटर-2), किरण राज पुरोहित नितिला (भोर की पहली किरण, मेरी कृति), गरिमा तिवारी (खाना खजाना, शेयर बाजार और ऊर्जा चिकित्सा, मैं और कुछ नहीं), पारुल पुखराज (सरगम, चांद पुखराज का), सीमा गुप्ता (My Passion, kuchlamhe), सीमा रानी (काहे नैना लागे, कुछ कवितायें कुछ हैं गीत), सीमा सचदेव (खट्टी-मीठी यादें, सञ्जीवनी, मानस की पीड़ा, मेरी आवाज, नन्हा मन), डा0 मोनिका शर्मा (परवाज....शब्दों के पंख), स्वाति ऋषि चड्ढा (मेरे एहसास भाव), ज्योत्सना पांडेय (ज्योत्सना मैं), पूनम श्रीवास्तव (झरोखा), अपर्णा मनोज भटनागर (मौलश्री), अनामिका ‘सुनीता‘( अनामिका की सदायें, अभिव्यक्तियाँ), सुशीला पुरी (सुशीला पुरी), नीलम पुरी (Ahsas), मृदुला प्रधान (Mridula's blog), विनीता यशस्वी (यशस्वी), वंदना गुप्ता (जिन्दगी एक खामोश सफर, जख्म जो फूलों ने दिये, एक प्रयास), शारदा अरोरा (गीत-गजल, जिन्दगी के रंग दोस्तों के संग, जीवन यात्रा, एक दृष्टिकोण, सफर के सजदे में), रचना त्रिपाठी (टूटी-फूटी), प्रिया (एक नीड़ ख्वाबों,ख्यालों और ख्वाहिशों का, जीवन के रंग मेरी तूलिका के संग), डा0 निधि टंडन (जिंदगीनामा), फौजिया रियाज (अल्फाज), सीमा सिंघल (सदा), डॉ. जेन्नी शबनम (लम्हों का सफर), मुदिता (एहसास अंतर्मन के), सुषमा ’आहुति’ (आहुति), साधना वैद (Sudhinamaa), प्रवीणा जोशी (रेत पर बनते निशान), शेफाली श्रीवास्तव (मेरे शब्द), दर्शन कौर धनोय (मेरे अरमान.. मेरे सपने), इस्मत जैदी (शेफा कजगाँवी), ऋचा (Lamhon ke jharokhe se), स्तुति पांडेय (शान की सवारी), कंचन सिंह चौहान (ह्नदय गवाक्ष), पल्लवी त्रिवेदी (कुछ एहसास), हर्ष छाया (जींस गुरू), विभा रानी (छम्मकछल्लो कहिस), लवली कुमारी (संचिका), शमा (सिमटे लम्हें), मीनाक्षी पन्त (एक नजर इधर भी, सुविचार), अपर्णा त्रिपाठी (Palash पलाश), सुमन जिंदल (Kshitij), शहरोज अनवरी (साझी संस्कृति), सुषमा सिंह (चिट्ठी जगत), प्रियदर्शिनी तिवारी (प्रियदर्शिनी), सोनल रस्तोगी (कुछ कहानियाँ, कुछ नज्में), महेश्वरी कनेरी (अभिव्यंजना), असीमा भट्ट (असीमा), डा. किरण मिश्रा (किरण की दुनिया), आशा (Akanksha), पवित्रा अग्रवाल (लघु कथा, बाल किशोर), प्रीति महेता (Antrang - The InnerSoul), सुधाकल्प (तूलिका सदन, बचपन के गलियारे, बाल कुंज), (ऑब्जेक्शन मी लॉर्ड), रुचि झा (Aagaaz), शबनम खान (क्योंकि मैं झूठ नहीं बोलती), स्वप्न मंजूषा अदा (काव्य मंजूषा), नीलम (पाखी- मेरी उम्मीद, क्या अमरों का लोक मिलेगा तेरी करुणा का उपहार), रमा दिवेदी (अनुभूति कलश), मीनू खरे (उल्लास, Science is interesting), गायत्री शर्मा (मीठी मालवी), बेजी जैसन ( दृष्टिकोण, अवलोकन, मेरी कठपुतलियाँ), दीप्ति गुप्ता (दीप्ति गुप्ता), मीनाक्षी अरोड़ा (सुजलाम- इधर- उधर से), पूजा उपाध्याय (लहरें), प्रियंका राठौड़ (विचार प्रवाह), संध्या शर्मा (मैं और मेरी कविताएँ), विश्व महिला परिवार इत्यादि एक लम्बी सूची है, जो अनवरत अपनी रचनात्मक पहल से हिन्दी ब्लागिंग को समृद्ध कर रही हैं।

हिंदी में ब्लागिंग करने वाली महिलाओं के बारे में Woman Who Blog In Hindi ब्लॉग, http://hindibloggerwoman.blogspot.com/ और ’महिलावाणी’ एग्रीगेटर पर भी विस्तार से देखा जा सकता है।


हिन्दी ब्लागिंग में महिलाओं की सक्रियता सिर्फ भारत तक ही नहीं बल्कि विदेशों तक विस्तारित है। इनमें शारजाह, संयुक्त अरब अमीरात से पूर्णिमा वर्मन (चर्चित जाल-पत्रिका अभिव्यक्ति और अनुभूति की सम्पादिका, चोंच में आकाश, अभिव्यक्ति मंच, एक आंगन धूप, साहित्य समाचार, शुक्रवार चैपाल), आबूधाबी, संयुक्त अरब अमीरात से अल्पना वर्मा (व्योम के पार, भारत दर्शन), दुबई, संयुक्त अरब अमीरात से मीनाक्षी धन्वन्तरी (प्रेम ही सत्य है), कनाडा से स्वप्न मंजूषा शैल ‘अदा‘ (काव्य मंजूषा, संतोष शैल, ब्लाग रेडियो), पर्थ, आस्ट्रेलिया से उर्मि चक्रवर्ती (गुलदस्ते-ए-शायरी, कवितायें), डा० हरदीप संधू (शब्दों का उजाला, हिंदी हाइकु), डॉ० भावना कुँअर (दिल के दरमियाँ, शाख के पत्ते - लीलावती बंसल), सिंगापुर से श्रद्धा जैन (भीगी गजल), लंदन से शिखा वाष्र्णेय (स्पंदन), यू0के0 से डा0 कविता वाचक्नवी (हिन्दी भारत, वागर्थ, पीढि़याँ, वेब-प्रोद्यौगिकी (हिन्दी),Beyond the second Sex (स्त्री विमर्श), पल्लवी (मेरे अनुभव), अमेरिका से आशा जोगलेकर (स्वप्न रंजिता, श्रीमद्भागवत व्यंजनम्), डा0 सुषमा नैथानी (स्वप्नदर्शी), गिरिबाला जोशी (द ग्रिस्ट मिल: आटा चक्की), रानी विशाल (काव्य तरंग), वंदना सिंह (कागज मेरा मीत है कलम मेरी सहेली), पोर्टलैंड से रानी पात्रिक (आओ सीखें हिन्दी), थाईलैंड से डा0 दिव्या श्रीवास्तव (Zeal), स्वीडन से अनुपमा पाठक (अनुपम यात्रा...की शुरूआत), क्वालालंपुर, मलेशिया से अनुपमा त्रिपाठी (anupama's sukrity)इत्यादि नाम लिये जा सकते हैं।


कहते हैं बच्चों की प्रथम शिक्षक माँ होती है। माँ की लोरियाँ, लाड-दुलार व खेल-खेल में बताई गई बातें ही बच्चों का परिवेश तैयार करते हैं और उन्हें अपने संस्कारों से परिचित कराते हैं। ऐसे में तमाम महिलाएं नन्हे-मुन्ने बच्चों के लिए भी तमाम ब्लाग संचालित कर रही हैं। इनमें बाल-मन से जुडे तमाम सवाल हैं, बालोपयोगी साहित्य है, प्रेरक प्रसंग हैं, बच्चों से जुड़ी तमाम रचनाएं व बातें हैं। इन ब्लागों में प्रमुख हैं- बाल दुनिया (आकांक्षा यादव), बाल संसार (किरण गुप्ता), बाल सभा (डा० कविता वाचक्नवी), बाल कुंज, बचपन के गलियारे (सुधा कल्प), बाल वृंद (अपराजिता), नन्हा मन (सीमा सचदेव), बच्चों की दुनिया (शन्नू), लाडली (बेटियों का ब्लाग: सदा), खिलौने वाला घर (रश्मि प्रभा), मेरा आपका प्यारा ब्लॉग, नन्हे फरिश्तों के लिए हम तो हर पल जिए (शिखा कौशिक), पाखी-मेरी उम्मीद (नीलम),Baby Notes (मोनिका शर्मा), पार्थवी (इंदु अरोड़ा), बाल किशोर (पवित्रा अग्रवाल), मन के रंग (कार्तिका सिंह)। ऐसे ही तमाम ब्लाग अपनी पोस्ट से बच्चों के साथ-साथ बड़ों को भी रिझा रहे हैं ।


जब घर में मम्मी व अन्य ब्लागिंग कर रहे हों तो भला बेटियाँ इससे पीछे कैसे रह सकती हैं? आखिर ये 21वीं सदी की बेटियाँ हैं जो वक्त के माथे पर नई इबारत लिखने को तत्पर हैं । बेटियों के इन ब्लॉगों पर उनके हँसने-रोने, रूठने-मनाने, खेलने-कूदने, सीखने-सिखाने की बातें हैं तो उनकी बनाई ड्राइंग, उनकी दिनचर्या, उनका घूमना-फिरना, उनकी शरारतें, स्कूल की बातें, बर्थ-डे पार्टियाँ, उनकी प्यारी-प्यारी बातें सब कुछ यहाँ मिलेंगीं और इन बेटियों के लिए यह काम उनके मम्मी-पापा करते हैं। बेटियों से जुड़े प्रमुख ब्लाग हैं- पाखी की दुनिया (अक्षिता : पाखी), नन्हीं परी (इशिता जैन), चुलबुली (चुलबुल), लविजा | Laviza (लविज़ा), अक्षयांशी (अक्षयांशी सिंह सेंगर), अनुष्का (अनुष्का जोशी),kritika choudhary (कृतिका चैधरी), पंखुरी टाइम्स (पंखुरी), Angel(अनन्या साहू), परी कथा (मानसी), चुन चुन गाती चिडि़या (पाखी), नन्हीं कोपल (कोपल कोकास), कुहू का कोना (कुहू), Little Fingers(चिन्मयी) इत्यादि। बच्चों की मासूमियत और नटखटपन के गवाह बनते ये ब्लॉग काफी लोकप्रिय हैं। इनमें अक्षिता (पाखी) को तो हिंदी साहित्य निकेतन, परिकल्पना डॉट कॉम और नुक्कड़ डॉट कॉम की त्रिवेणी द्वारा हिंदी भवन, नई दिल्ली में 30 अप्रैल, 2011 को आयोजित भव्य अन्तराष्ट्रीय ब्लागर्स सम्मलेन में श्रेष्ठ नन्हीं ब्लागर हेतु ”हिंदी साहित्य निकेतन परिकल्पना सम्मान-2010” दिया गया। यह सम्मान उत्तराखंड के मुख्यमंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल ”निशंक” द्वारा चर्चित साहित्यकार अशोक चक्रधर, वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. रामदरश मिश्र, प्रभाकर श्रोत्रिय जैसे गणमान्य साहित्यकारों की गौरवमयी उपस्थिति में दिया गया।

अक्षिता (पाखी) का चित्र चर्चित बाल साहित्यकार दीनदयाल शर्मा ने अपनी पुस्तक ‘चूं-चूं‘ के कवर-पेज पर भी दिया। इतनी कम उम्र में अक्षिता के एक कलाकार एवं एक ब्लागर के रूप में असाधारण प्रदर्शन हेतु भारत सरकार की महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती कृष्णा तीरथ ने ’राष्ट्रीय बाल पुरस्कार, 2011’ भी प्रदान किया। इसके तहत अक्षिता को 10,000 रूपये नकद राशि, एक मेडल और प्रमाण-पत्र प्रदान किया गया। मात्र 4 साल 8 माह की आयु में ’राष्ट्रीय बाल पुरस्कार’ प्राप्त कर नन्हीं ब्लागर अक्षिता ने एक अनूठा कीर्तिमान बनाया है। यही नहीं यह प्रथम अवसर था, जब किसी प्रतिभा को सरकारी स्तर पर हिंदी ब्लागिंग के लिए पुरस्कृत-सम्मानित किया गया। चुलबुल तो अपनी हर बात प्यारा सी चित्र बनाकर करती है। ऐसे ही बेटियों का हर ब्लाग अनूठा है। तमाम पत्र-पत्रिकाओं ने इनकी इस क्रिएटिवटी को लेकर फीचर/लेख भी प्रकाशित किए हैं। वाकई बेटियों और उनसे जुड़े ब्लॉगों को देखकर अज्ञेय जी के शब्द याद आते हैं-‘‘भले ही बच्चा दुनिया का सर्वाधिक संवेदनशील यंत्र नहीं है पर वह चेतनशील प्राणी है और अपने परिवेश का समर्थ सर्जक भी। वह स्वयं स्वतन्त्र चेता है, क्रियाशील है एवं अपनी अंतःप्रेरणा से कार्य करने वाला है, जो कि अधिक स्थायी होता है।‘‘


वास्तव में देखा जाय तो ब्लॉगिंग के क्षेत्र में महिलाओं की स्थिति बड़ी मजबूत है और वे तमाम विषयों पर अपनी रुचि के हिसाब से खूब लिख रही हैं। अपने व्यक्तिगत ब्लॉगों के साथ तमाम सामुदायिक ब्लागों पर भी महिलाएं अपनी प्रभावी उपस्थिति दर्ज करा रही हैं। अन्य ब्लॉगों पर प्रकाशित रचनाओं को महिलाएं खूब प्रोत्साहित कर रही हैं। अपनी लेखनी के जरिए जहाँ तमाम छुए-अनछुए मुद्दों को स्थान दे रही हैं, वहीं 21वीं सदी में तेजी से बढ़ते नारी के कदमों को भी रेखांकित कर रही हैं। कई बार तो कुछ पुरुष ब्लागर्स यह सब बर्दाश्त नहीं कर पाते और अनाप-शनाप टिप्पणियां भी करते दिखते हैं। पर उन्हें उसी अंदाज में भरपूर जवाब भी मिल रहा है, आखिर यही तो सशक्तीकरण है। यही नहीं महिलाओं के लिए उलूल-जुलल लिखने एवं उन्हें परंपरागत रूढि़वादी बधनों में बाँधने के हिमायती पोस्टों पर अपना वैचारिक प्रतिरोध भी दर्ज कर रही हैं। प्रिंट मीडिया भी विभिन्न ब्लागों की चर्चा में नारियों द्वारा लिखी जा रही पोस्टों को अपने पन्नों पर बखूबी स्थान दे रहा है, ताकि वहाँ भी विमर्श का दायरा खुल सके।

दूसरे शब्दों में कहें तो हिन्दी ब्लागिंग द्वारा नारी सशक्तीकरण को नए आयाम मिले हैं। तमाम महिला-ब्लाॅगर्स सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट्स- फेसबुक, टिवटर, आरकुट, हाई 5, बिग अड्डा, गूगल प्लस इत्यादि पर भी उतनी ही सक्रिय हैं। कुछेक महिला ब्लागर्स तो इससे परे प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में भी सक्रिय हैं। वस्तुतः ब्लाग का सबसे बड़ा फायदा है कि यहाँ कोई सेंसर नहीं है, ऐसे में जो चीज अपील करे उस पर स्वतंत्रता से विचार प्रकट किया जा सकता है। इस क्षेत्र में महिलाओं का भविष्य उज्जवल है, क्योंकि यहाँ कोई रूढि़गत बाधाएं नहीं हैं। जैसे-जैसे हिंदी ब्लागिंग का दायरा बढ़ता गया, वैसे-वैसे इस पर सम्मलेन, सेमिनार, शोध और पुस्तकों का उपक्रम भी आरंभ हो गया। इन सबमें महिला ब्लागर्स ने बढ़-चढ़ कर भाग लिया। मध्य प्रदेश स्थित विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन से गायत्री शर्मा ”हिंदी ब्लागिंग के विविध आयाम” विषय पर शोधरत हैं तो पेशे से पत्रकार और ब्लागिंग में सक्रिय सुषमा सिंह भी हिंदी-ब्लाॅगिंग पर शोधरत हैं। स्पष्ट है कि महिलाएं हिन्दी ब्लागिंग को न सिर्फ अपना रही हैं बल्कि न्यू मीडिया के इस अन्तर्राष्ट्रीय विकल्प के माध्यम से अपनी वैश्विक पहचान भी बनाने में सफल रही हैं।


आकांक्षा यादव
द्वारा- श्री कृष्ण कुमार यादव
निदेशक डाक सेवाएं
अंडमान व निकोबार द्वीप समूह, पोर्टब्लेयर-744101
kk_akanksha@yahoo.com http://shabdshikhar.blogspot.com/
आकांक्षा यादव: 30 जुलाई, 1982 को सैदपुर (गाजीपुर, उ.प्र.) में जन्म। शिक्षा-एम0 ए0 (संस्कृत)। कॉलेज में प्रवक्ता के साथ-साथ साहित्य, लेखन और ब्लागिंग के क्षेत्र में भी चर्चित नाम। देश-विदेश से प्रकाशित शताधिक प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं- इण्डिया टुडे, कादम्बिनी, नवनीत, साहित्य अमृत, वर्तमान साहित्य, अक्षर पर्व, अक्षर शिल्पी, युगतेवर, अहा जिंदगी, आजकल, उत्तर प्रदेश, मधुमती, हरिगंधा, पंजाब सौरभ, हिमप्रस्थ, दैनिक जागरण, जनसत्ता, अमर उजाला, राष्ट्रीय सहारा, स्वतंत्र भारत, दैनिक आज, राजस्थान पत्रिका, अजीत समाचार, वीणा, परती पलार, हिन्दी चेतना (कनाडा), भारत-एशियाई साहित्य, शुभ तारिका, शोध दिशा, सरस्वती सुमन, समय के साखी, राष्ट्रधर्म, हरसिंगार, अपरिहार्य, नव निकष, नूतन भाषा-सेत, संकल्य, प्रसंगम, पुष्पक, गोलकोण्डा दर्पण, हिन्दी प्रचार वाणी, हिन्दी ज्योति बिंब, मैसूर हिन्दी प्रचार परिषद पत्रिका, केरल ज्योति, भारतवाणी, भाषा स्पंदन, श्री मिलिंद, द्वीप लहरी, प्रेरणा भारती (असम) इत्यादि में रचनाएँ प्रकाशित।


विभिन्न वेब पत्रिकाओं, ब्लॉग- अनुभूति, सृजनगाथा, साहित्यकुंज, साहित्यशिल्पी, वेब दुनिया हिंदी, रचनाकार, ह्रिन्द युग्म, हिंदीनेस्ट, हिंदी मीडिया, हिंदी गौरव, लघुकथा डाट काम, उदंती डाट काम, कलायन, स्वर्गविभा, हमारी वाणी, स्वतंत्र आवाज डाट काम, कवि मंच, इत्यादि पर रचनाओं का निरंतर प्रकाशन। विकिपीडिया पर भी तमाम रचनाओं के लिंक उपलब्ध। दर्जनाधिक पुस्तकों/संकलनों में रचनाएँ प्रकाशित। ‘क्रांति-यज्ञ 1857-1947 की गाथा‘ पुस्तक का कृष्ण कुमार यादव जी के साथ संपादन।


आकाशवाणी पोर्टब्लेयर से वार्ता इत्यादि का प्रसारण। व्यक्तिगत रूप से ‘शब्द-शिखर’ और युगल रूप में ‘बाल-दुनिया’, ‘सप्तरंगी प्रेम’ व ‘उत्सव के रंग’ ब्लॉग का संचालन। व्यक्तित्व-कृतित्व पर ‘बाल साहित्य समीक्षा‘ (कानपुर) द्वारा विशेषांक जारी। विभिन्न प्रतिष्ठित साहित्यिक-सामाजिक संस्थानों द्वारा विशिष्ट कृतित्व, रचनाधर्मिता और सतत् साहित्य सृजनशीलता हेतु दर्जनाधिक सम्मान और मानद उपाधियाँ प्राप्त।


संपर्क: आकांक्षा यादव द्वारा-श्री कृष्ण कुमार यादव, निदेशक डाक सेवा, अंडमान व निकोबार द्वीप समूह, पोर्टब्लेयर-744101
ई-मेलः kk_akanksha@yahoo.com
ब्लॉग:
http://shabdshikhar.blogspot.com/
http://saptrangiprem.blogspot.com/
http://balduniya.blogspot.com/
http://utsavkerang.blogspot.com/

COMMENTS

BLOGGER: 21
  1. Badhayi ho Akanksha ji
    I sabhibhoot karte hue lekh se nari shakti ke nirmaan ka bhavan apni se oorja se wakif kara raha hai..aapko des pardes ki magazines mein padhte rahti hoon. Is lekh se nari shakti se hindi ke prachar prasar mein aur nayi chtne se sanchar hone ki sambhavana hai
    shubhkamnaon ke saath
    Devi Nangrani

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत बढिया आलेख्।

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत अच्‍छा आलेख। तकनीकी समस्‍या की वजह से बहुत सी महिलाएं ब्‍लॉगिंग से दूर रहती हैं। लेकिन अब बहुत सी महिलाएं ब्‍लाग लिख रही हैं। मेरी पत्‍नी को हिन्‍दी टाइपिंग व ब्‍लॉगिंग के बारे में अधिक जानकारी नहीं हैं। इसलिए उनका ब्‍लॉग 'बात बोलेगी' मैं ही उनकी तरफ से टाइप करता हूँ। लेकिन मैनें भी ठान रखी है कि उन्‍हें ब्‍लॉगिंग सिखाकर ही रहूँगा।

    जवाब देंहटाएं
  4. इस आलेख को प्रकाशित करने के लिए आभार.
    आप सभी के प्रोत्साहन के लिए आभार.

    जवाब देंहटाएं
  5. श्रमसाध्य संकलन
    आभार

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर आलेख...

    जवाब देंहटाएं
  7. काबिले तारीफ कदम !एक विशिष्ट ,संयुक्त व उत्साहजनक मंच मिला |

    जवाब देंहटाएं
  8. हिंदी ब्लॉगिंग शोध के लिए भी एक विषय बन गया है ,
    इसका एक सदस्य होने के नाते जानना और भी अच्छा लगा !

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत बढ़िया ..शुक्रिया तहे दिल से

    जवाब देंहटाएं
  10. आकांक्षा जी हिंदी-साहित्य की उन चर्चित लेखिकाओं में शामिल हैं जो ब्लागिंग में भी उतनी ही तल्लीन हैं. 'ब्लागिंग : अभिव्यक्ति की नई क्रांति' पुस्तक में ब्लागिंग पर उनका एक विस्तृत आलेख पढ़ा था, और पुन: हिंदी ब्लागिंग में महिलाओं की सुदृढ़ स्थिति पर यह शोधपरक आलेख. इसमें तो कई सारी बातें हमारे लिए एकदम नई हैं. वाकई इसके लिए आकांक्षा यादव जी साधुवाद की पात्र हैं. इस आलेख को प्रकाशित करने के लिए 'रचनाकार' के संपादक रवि रतलामी जी भी बधाई के पात्र हैं. ऐसे ही आलेखों से 'रचनाकार' का भी मान बढ़ता है.

    जवाब देंहटाएं
  11. हम तो यही सोचकर हैरान हैं कि इतना सब कुछ आकांक्षा जी ने कैसे एकत्र किया होगा. हिंदी-ब्लागिंग में नारियों की स्थिति पर लिखा गया अब तक का इसे सबसे महत्वपूर्ण आलेख कहें तो अतिश्योक्ति नहीं होगी. हर पहलू का आकांक्षा जी ने बारीकी से अध्ययन किया है और फिर यह शानदार आलेख प्रस्तुत किया है..आकांक्षा जी की लेखनी को नमन !!

    जवाब देंहटाएं
  12. इस आलेख के माध्यम से आकांक्षा जी ने 'गागर में सागर' भर दिया है. जितनी भी बड़ाई की जाय कम ही होगी.उन्होंने सही ही लिखा है कि हिन्दी ब्लागिंग द्वारा नारी सशक्तीकरण को नए आयाम मिले हैं।

    जवाब देंहटाएं
  13. आप सभी की टिप्पणियों और प्रोत्साहन के लिए आभार.

    जवाब देंहटाएं
  14. आकांक्षा जी , आपकी जागरूकता और श्रम साधना के लिए आपको नमन।

    जवाब देंहटाएं
  15. सौ. आकांक्षा जी का सविस्तार आलेख आज ही देखा ! मैं यु. एस ए. में रहती हूँ भारत में नहीं !
    नाम : लावण्या शाह
    ब्लॉग : लावण्यम - अंतर्मन
    रवि भाई कृपया सुधार लें ...
    सस्नेह सादर ,
    - लावण्या

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. लावण्या जी,
      जानकारी के लिए आभार. भविष्य के लिए सुधार कर लिया.

      हटाएं
  16. ब्लॉगर हूँ और कई ब्लॉग्स हैं भी ।

    पर आपका यह प्रयास स्तुत्य है!

    बधाई !

    वशिनी

    जवाब देंहटाएं
रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आत्मकथा,1,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4290,आलोक कुमार,3,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,374,ईबुक,231,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,269,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,113,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3240,कहानी,2360,कहानी संग्रह,247,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,550,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,141,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,32,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,1,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,152,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,2,बाल उपन्यास,6,बाल कथा,356,बाल कलम,26,बाल दिवस,4,बालकथा,80,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,20,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,31,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,288,लघुकथा,1340,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,20,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,378,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,79,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2075,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,730,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,847,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,21,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,98,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,216,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,78,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: आकांक्षा यादव का आलेख : हिन्दी ब्लागिंग को समृद्ध करती महिलाएं
आकांक्षा यादव का आलेख : हिन्दी ब्लागिंग को समृद्ध करती महिलाएं
http://lh4.ggpht.com/-lUKHtqEcIXQ/TvQ-Mi0VxDI/AAAAAAAALAo/NWxrnbBD1HY/image%25255B2%25255D.png?imgmax=800
http://lh4.ggpht.com/-lUKHtqEcIXQ/TvQ-Mi0VxDI/AAAAAAAALAo/NWxrnbBD1HY/s72-c/image%25255B2%25255D.png?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2011/12/blog-post_603.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2011/12/blog-post_603.html
true
15182217
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy Table of Content