रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

मनोज 'आजिज़' की नज़्म

नावाकिफ
-- मनोज 'आजिज़'

सब कुछ कायदे से चल रहा था
लबों पर मखमली हंसी थी
हर एक इशारा
अपनी बात को रवां करने में
कामयाब ।
रिश्ते  पर नाज
और कभी गुरुर भी
पर
एकाएक
कोई बात नागवार गुजरी
और बात बढ़ गयी
रिश्ते की मिठास में
घुल गयी कड़वाहट की जहर
हर लम्हा नफरत की बू
को दे रहा था दस्तक ।
बंद कमरे में कोसने  का सिलसिला
एक सच्चाई से नावाकिफ--
कि --
रिश्ते को नजर लगा है
' बे -इन्तिहाँ उम्मीद' की

--
संपर्क- जमशेदपुर, झारखण्ड

mkp4ujsr@gmail.com

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.