रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

विश्व दीपक जैन की कविता - कन्या भ्रूण हत्या


image

कन्या भ्रूण हत्या 
मुझे आने दो संसार में माँ
मैं भी इस संसार में जीना चाहती हूँ
संसार की हर राह में जाना चाहती हूँ
आपकी आवाज सुनना चाहती हूँ
नष्ट न कर दे ये कोई देह मेरी,
मैं भी बेटे जैसी बनना चाहती हूँ
बेटे के हर कार्य मैं करना चाहती हूँ
बेटों से आगे जाना चाहती हूँ
सूर्य की वह धूप लेना चाहती हूँ
चाँद से बात करना चाहती हूँ
मुश्किलों को आसान बनाना चाहती हूँ
मैं देश की आवाज बनना चाहती हूँ
देश का गौरव बढ़ाना चाहती हूँ
आपके करीब रहना चाहती हूँ
पक्षियों का कलरव सुनना चाहती हूँ
आसमां को छूना मैं चाहती हूँ
हर दिशा में जाना चाहती हूँ
रोक दो गर्भ में मरण का सिलसिला,
क्योंकि मैं भी आप जैसी बनना चाहती हूँ
मुझे आने दो संसार में माँ
मैं भी इस संसार में जीना चाहती हूँ
मुझे आने दो संसार में माँ
                       "विश्व दीपक जैन"

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.