नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

प्रेम मंगल की कविता - मेरा देश भारत

मेरा देश भारत

हमारा भारत समस्‍याओें का देश है

समस्‍याएं एक नहीं अनेक है।

कभी भुखमरी व शिक्षा की समस्‍या थी

कभी आरक्षण, और लोकपाल बिल की समस्‍या थी

अन्‍त हुआ नहीं इन समस्‍याओं का

जन्‍म हो गया गैस सिलेन्‍डर की समस्‍या का

भ्रष्‍टाचार और बेरोजगारी की समस्‍या का तो नाम लेना नहीं

आंतकवाद,मिथ्‍यावाद, की परिभाषा को कोई समझना नहीं

स्‍थिति बिगड़ चुकी है सारे ही जहां की

बच्‍चों को कमी नहीं है चांदी के टुकड़ो की

सीता, सावित्री की, जरुरत नहीं है अब इस घरा पर

अप्‍सराओं और परियों की मखमली चादर बिछी है धरा पर

सुन्‍दर काण्‍ड नहीं रेपकाण्‍ड यहां होते है

राम, तो क्‍या रावण भी नहीं इस जहां मैं होते है

मनुष्‍य की जान से सस्‍ती कोई वस्‍तु नहीं जहां में है

कभी आतंकवादी कभी भूचाल औ तूफान ले जाते हैं।

कभी दुर्घटनाओं में शीष औ धड कट जाते हैं

कभी पडोसी देश देशसेवकों को मौत के घाट उतार देते हैं

पता नहीं किस मोड़ पर दोस्‍ती दुश्‍मनी में बदल देते हैं

दोस्‍ती और दुश्‍मनी का पैमाना नहीं कोई शेष है

दुर्गुणों के सारे अब रखे यहां अवशेष हैं।

कारण इस बदलाव का क्‍या है

हमारी समझ से तो बहुत ही परे हैं।

 

श्रीमती प्रेम मंगल

कार्यालय अधीक्षक

स्‍वामी विवेकानन्‍द कालेज आफ इंस्‍टी्रट्र्‌यूशन्‍स इन्‍दौर

2 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.