---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

अर्जुन प्रसाद की कहानी - मृत्युमूल्य

साझा करें:

मृत्युमूल्य अर्जुन प्रसाद कुबेरपुर के गिरीश प्रसाद स्थानीय महाविद्यालय में प्रोफेसर थे। गोरा रंग, सुंदर चेहरा और लंबा कद। शेर जैसी चौड़ी छा...

image

मृत्युमूल्य

अर्जुन प्रसाद

कुबेरपुर के गिरीश प्रसाद स्थानीय महाविद्यालय में प्रोफेसर थे। गोरा रंग, सुंदर चेहरा और लंबा कद। शेर जैसी चौड़ी छाती और नाक के नीचे छोटी-छोटी मूँछें बड़ी अच्छी लगतीं। खेती और बाग-बगीचे कई गाँवों तक फैले हुए थे। घर में खूब धन-धान्य था। कहीं कोई कमी न थी। गिरीश बाबू तीन भाई थे। मँझले भाई उमाशंकर भोपाल में व्याख्याता थे तो छोटे भाई मध्य प्रदेश में ही एक कारखाने में नौकर। गिरीश बाबू की पत्नी नीलिमा देवी बहुत ही कुलीन, मृदुभाषिणी और विचारशील महिला थीं। रूप-रंग ऐसा कि जो भी देखे, देखता ही रह जाय। इसके विपरीत एक सुयोग्य अध्यापक होते हुए भी प्रोफेसर साहब रीति-अनरीति और यश-अपयश से कोसों दूर रहते। समाज की फिक्र बिल्कुल भी न थी। जैसे भी हो, धनार्जन का उन्हें पूर्ण ज्ञान था। कर्म-अकर्म को तनिक भी महत्व न देते। उनका मत था कि यह दुनिया बहुरंगी है। अच्छा करने पर भी लोग आलोचना करने से नहीं चूकते। फिर अनौतिक और खराब काम तो बुरा है ही। लोगों का काम बस, कहना है। लोग क्या कहते हैं, उसे क्या सुनना? जो अंतर्रात्मा और विवेक कहे, उसे ही करने में भलाई है। क्योंकि आज के जमाने में निर्धन को पूछता भी नहीं है। गरीबी और अभावपूर्ण जीवन भी क्या कोई जीवन है? धनाढ¶, संपन्न और सामथ्र्यवान का आदर सभी करते है। कदाचित उनमें दोष आ जाने पर भी उसे कोई दोषी नहीं मानता। इसलिए मनुष्य के जीवन का उद्देश्य दौलतमंद बनना होना चाहिए। पर,उनके विचारों से नीलिमा देवी कदापि सहमत न होतीं। बात-बात पर विवाद हो जाता। तकरार बढ़ने से मनमुटाव और अनबन बनी रहती। एक पुत्र और दो पुत्रियां होने पर भी पति-पत्नी उत्तरी तथा दक्षिणी ध्रुवों की तरह सदैव अलग-अलग ही रहते। कभी एक साथ रहने को तैयार ही न होते। पतिदेव की तृष्णा देखकर नीलिमा मन में कुढ़ती रहती थीं। कभी-कभी मौका पाकर प्रोफेसर साहब को वह समझातीं कि मनुष्य के जीवन का लक्ष्य मात्र धन संग्रह ही नहीं होना चाहिए। यह दुनिया हमारी कर्मभूमि है। हम सब यहाँ सद्कर्म और नेक कार्य करने आए हैं। मानव जीवन सुकर्मों से सफल है। उलटे-सीधे कार्य तो कोई भी कर सकता है। पर, सभ्य और शिक्षित व्यक्ति को प्रेरणादायी और अनुकरणीय भले कार्य ही शोभा देते हैं। उसे अनैतिक और अपयश वाले कार्यों से सदा दूर रहना चाहिए।

प्रोफेसर साहब की दोनों बेटियों की शादी हो गई। वे ससुराल जाकर अपनी-अपनी गृहस्थी सँभालने लगीं। गिरीश बाबू का इकलौता बेटा राजकुँवर बड़ा ही पितृभक्त और आज्ञाकारी था। बहुत ही सुंदर, विनीत और सभ्य भी। बिल्कुल माँ की तरह गोरा, बाँका और सजीला जवान। प्रोफेसर साहब और नीलिमा उस पर जान छिड़कते। लेकिन, पति के आचार-विचार से नीलिमा इतनी व्यथित रहतीं कि वह पुत्र पर पति की परछाईं भी न पड़ने देना चाहती थीं। उनकी मंशा थी कि जहाँ तक हो सके उनका बेटा, बाप की सोहबत से दूर रहकर सुशिक्षित, नैतिक और सदाचारी बने। कुलदीपक बनकर खानदान का नाम रोशन करे। इसलिए हृदय पर पत्थर रखकर राजकुँवर की शिक्षा-दीक्षा के लिए कलेजे के टुकड़े को अपने देवर उमाशंकर के पास भोपाल भेज दीं। राजकुँवर अपने चाचा के पास रहकर अध्ययन करने लगा। बड़ा शीलवान और होनहार लड़का था। सुसभ्य और संस्कारवान तो था ही। पढ़ाई पूरी होते ही एक दिन उमाशंकर उससे बोले-हमने अपना फर्ज पूरा किया। अब तुम बड़े और योग्य हो गए हो। कोई काम-धंधा तलाशकर जीविकोपार्जन शुरू करो। अपने पैरों पर खड़े हो जाने पर किसी के आगे हाथ नहीं फैलाना पड़ेगा। समय का मूल्य समझकर आगे बढ़ो। तुम्हारे आत्मनिर्भर बनने से परिवार को आर्थिक मदद मिलेगी। घर में सुख-समृद्धि आएगी। यह सुनकर राजकुँवर बोला-चाचाजी आप ठीक कहते हैं लेकिन, जल्दबाजी में कोई छोटी-मोटी नौकरी करके जीवन बर्बाद न करूँगा। एम.काम. की डिग्री लेकर यह कदापि न होगा। कहीं ऐसा तो नहीं कि हमसे आपका मन भर गया और मुझे बोझ समझ रहे हों। उसकी बात सुनकर उमाशंकर के दिल को बड़ी ठेस लगी। वह तीर बनकर उनके सीने में चुभने लगी। पर, सँभलकर संयम के साथ बोले-अरे पगले, क्या तुमने हमें पराया समझ लिया? मेरा मकसद तो बस यह था कि अच्छी नौकरी खोजते-खोजते अन्य युवकों की भाँति कहीं ऐसा न हो तुम न घर के रहो और न घाट के और ओवरएज हो जाओ। आजकल एक से एक शिक्षित और पात्र नौजवान सड़कों की धूल फाँकने पर विवश हैं। कुछ भी न करने से कुछ करना ही अच्छा है। कोई छोटा-मोटा काम करते हुए अच्छी नौकरी तलाशते रहना। प्रतियोगिता और साक्षात्कार में सफल होकर विकास की सीढ़ी चढ़ते जाओ। वक्त की यही जरूरत है। कालेज में दूसरे युवाओं की तरह राजकुँवर को भी आधुनिकता की हवा लग चुकी थी। मां-बाप के सहारे विलासिता का जावन जीने वाला लड़का मँहगाई और बेरोजगारी का सही अर्थ न जानता था। दीन-दुनिया से एकदम अनभिज्ञ था। रात-दिन हवाई महल बनाने के ख्वाब देखता। हकीकत से अनजान राजकुँवर कोई कार्य करने को तैयार ही न था।

एक रोज वह बड़ी आत्मीयता के साथ उमाशंकर से बोला- चाचाजी, अम्मा और बाबूजी को हमसे बड़ी उम्मीद है। उनके भी दिल में कुछ अरमान हैं। उनके अपने सपने हैं। एक बार उनसे पूछ लेने दीजिए। मैं आपको वचन देता हूँ। पित्राज्ञा का पालन जरूर करूँगा। अपनी मनमर्जी करके मैं उन्हें कोई कष्ट नहीं देना चाहता। मन की बात आदमी के मुँह से अनायास ही निकल जाती है। लेक्चरार साहब सोचने लगे- कितनी अजीब बात है? आटे का चिराग घर रखूँ तो चूहा ले जाय, बाहर रखूँ तो कौआ ले जाय। आजकल के युवकों को समझाना बड़ी टेढ़ी खीर है। अत: वह भतीजे पर कोई दबाव न डालना चाहते थे। वह युवकों की मानसिकता और उनके उलटे-सीधे कामों से भलीभँति परिचित थे। उनके सामने आगे कुंआँ तो पीछे खाई वाली स्थिति हो गई। लाचार होकर खिन्न मन से बोले- ठीक है, पूछ लो उनसे। वे कोई न कोई अच्छा रास्ता ही सुझाएंगे। तुम उनकी सलाह अवश्य लो। तुम पर मुझसे अधिक उनका अधिकार है। इसके बाद राजकुँवर अपने मम्मी-पापा से मिलने उनके पास चला गया। युवा और पात्र पुत्र को देखकर पति-पत्नी बड़े खुश हुए। उनकी बांछें खिल गर्इं। राजकुँवर ने पिता का चरण-स्पर्श किया तो वह गदगद होकर आशीर्वाद देते हुए बोले- युग-युग जीओ और अफसर बनो। मैं तुम्हें एक बडे़ हाकिम के रूप में देखने के लिए लालायित हूँ। अब तुम कहीं साहब बन जाओ बस। यही मेरी हार्दिक अभिलाषा है। बेटे, तुम मेरी दिली तमन्ना का अंदाज नहीं लगा सकते कि आज मैं कितना प्रसन्न हूँ। मैं चाहता हूँ कि तुम अब किसी काम-धंधे से लग जाओ। मैं तुम्हारा विवाह आदि करके छुटकारा पाऊँ। हमें भी एक न एक दिन रिटायर ही होना है। आठ-दस साल और बचे हैं। बुढ़ापा चैन से कट जाएगा। तब नीलिमा देवी ममत्व के साथ राजकुँवर के सिर पर हाथ फेरती हुई बोली-बेटा, एक बात ध्यान रखना। आज तुम्हारे जैसे बहुत से हुनरमंद युवक साहब बनने के फेर में नौकरी से बेचित होकर खाली-पीली इधर-उधर खाक छानते फिरते हैं। अच्छी और सरकारी नौकरी ढूँढ़ने के चक्कर में उम्र निकलते ही वे काबिल होते हुए भी अयोग्य हो जाते हैं। इस बेरोजगारी के युग में जो हाथ वही साथ। जैसी भी मिले पकड़ लेना। छोड़ना मत, अच्छी की कोशिश बाद में करना। क्योंकि, न जाने कितने ही युवा मंहगाई और बेरोजगारी से तंग आकर बड़ा आत्मघाती कदम उठाने पर मजबूर हैं। यह कतई ठीक नहीं है। असफल होने पर मैदान छोड़कर भागना कायरता है। हमने कलेजे पर पत्थर रखकर तुम्हें इतने दूर भेजकर पढ़ाया-लिखाया है। बेटा, एक बार कुविचारों में उलझ जाने पर फिर सँभलना बड़ा मुश्किल है। तब राजकुँवर उन्हें सांतवना देते हुए बोला-माँ, आप ये कैसी बातें कर रही है? मैं आपका बेटा हूँ। मुझे मालूम है कि आत्महत्या करना बड़ा पाप है। आप बेफिक्र रहें। मैं ऐसा कोई कदम न उठाऊँगा जिससे कुल में कोई दाग लगे। मुझे आपके माथे पर कलंक का टीका नहीं लगाना। इस प्रकार जब भी समय मिलता माता-पिता उसे ऊँच-नीच समझाने लगते।

कुछ दिन बाद राजकुँवर पुन: अपने चाचाजी के पास चला गया और एक कारखाने में सहायक मौनेजर के पद पर काम करने लगा। पर, वह उसी में उलझकर रह गया। उसकी सारी इच्छा धरी की धरी रह गई। इतनी फुर्सत ही न मिलती कि कहीं दूसरी नौकरी के लिए प्रार्थना-पत्र भी दे सके। वहाँ वह एक बँधुआ मजदूर बनकर रह गया। यदि उमाशंकर कभी उसे समझाने-बुझाने का प्रयास करते तो कहता- चाचाजी, मैं वहाँ रहे बार-बार छुट्टी नहीं ले सकता। किसी अन्य काम की भागदौड़ के लिए मेरे पास बिल्कुल भी वक्त नहीं है। यह सुनकर लेक्चरार साहब घायल पक्षी की तरह मन मारकर रह गए। समय तीव्रगति से पंख लगाकर उड़ता रहा। आहिस्ता-आहिस्ता कई वर्ष गुजर गए। अगर कभी राजकुँवर के विवाह की कहीं बात चलती तो लड़की वाले साफ कह देते- भाई, मँहगाई का जमाना है। इस मामूली सी तन्ख्वाह में दोनों का गुजर-बसर न होगा। वे टका सा जवाब देते कि ऐसे कर्महीन लड़के को हम लड़की कदापि नहीं दे सकते। खेती-बाड़ी का कोई भरोसा नहीं। कभी सूखा-अकाल आता है तो फसल कभी बाढ़ की भेंट चढ़जाती है। बनिए की नौकरी का क्या ठिकाना कि कब निकाल बाहर करे। हम यह जोखिम उठाकर लाडली बेटी का जीवन बर्बाद थोड़े ही कर सकते हैं। दुनिया में एक से बढ़कर एक लड़के हैं। उनकी बात सुनकर प्रोफेसर दंपती का चेहरा उतर जाता। वे असह्य पीड़ा का अनुभव करते। जिगर के टुकउे को न नौकरी मिलती और न कोई छोकरी ही। वे मजबूर थे, कुछ कर न सकते थे। विवशता उनके चेहरे पर साफ झलकती। विनीत और सुशील बेटा जवानी की दहलीज पर जो खड़ा था। नीलिमा कई बार सोचतीं कि- बेटे की प्रगति में शायद पति-कर्म आड़े आ रहा है। वरना, मेरे लाडले की सौभाग्य को ऐसा पाला कभी न मारता। अब तो भई गति साँप-छछूँदर केरी। मेरे अनमोल रत्न को न जाने किसकी नजर लग गई। यदि प्रोफेसर महाशय कोई नेक काम करते तो आज यह दुर्दिन न देखना पड़ता। आखिर, पुत्र अपने पिता के सत्कर्मों से ही फूलता-फलता है। इनका पाप मेरे बेटे को उड़कर लग रहा है। पर, मैंने तो कभी कोई अनौतिक कार्य न किया। फिर भी न मालूम क्यों मेरा लाल दर-दर की ठोकरें खा रहा है।

समय पंख लगाकर उड़ता रहा। नौकरी के लिहाज से राजकुँवर के अयोग्य होने में बस, डेढ़-दो वर्ष ही बाकी रह गए। जवान बौटे की दुर्दशा देखकर प्रोफेसर साहब के दिल में बड़ा शोक होता। वह बार-बार यही सोचते कि मेरी सारी मनोकामना खटाई में पड़ती दिखाई दे रही है। पिता अपने पुत्र का उद्धारक और रक्षक होता है। एक मैं हूँ कि बेटे का पतन होता हुआ देखने को विवश हूँ। वह कितना कष्ट और कितनी पीड़ा झेल रहा है। अब बचे ही कितने दिन हैं? इधर मैं सेवा से रिटायर हूँगा, उधर मेरे कलेजे का टुकड़ा जीवन भर के लिए कुपात्र बन जाएगा। इस उम्र में ही उसके सिर पर कितना बड़ा बोझ है? हमारी आशाएं मिट्टी में मिलती दिखाई दे रही हैं। अपने जीते जी मैं उसकी यह बर्बादी कैसे देख सकता हूँ? उसकी परेशानी देखकर लोग कल को फब्तियां कसेंगे। उसकी खिल्ली उड़ाकर हमारे आत्म-गौरव पर कुठाराघात करेंगे। परिवार की सारी मान-प्रतिष्ठा खाक में मिल जाएगी। बना-बनाया घर तबाह ओर बर्बाद हो जाएगा। मन में यह विचार आते ही प्रोफेसर उदास हो जाते। उनके हृदय की धड़कन तेज हो जाती। वह निराशा के भवसागर में डूबने-उतराने लगते। उन्हे भाँति-भाँति की आशंका घेर लेती। उनका चेहरा मलिन हो जाता। तब ऐसी विदीर्ण स्थिति में मेरे जीवन का क्या अर्थ और मूल्य रह जाएगा? मात्र अफसोस करने के सिवा हाथ कुछ भी न लगेगा। मेरे लाल का जीवन निरर्थक व्यतीत हो, यह मेरे लिए जीते जी मरने के समान होगा। मैं इतना निर्बल और असहाय बनकर नहीं जी सकता। यह मेरी सहनशक्ति से बाहर है। मेरे इस जीवन को धिक्कार है। आखिकार, मानवजीवन का कुछ मूल्य तो होना चाहिए न? तभी मनुष्य के जिंदगी की कोई सार्थकता है। यह सोचकर वह इतने चिंतित हुए कि पत्नी के साथ-साथ घर-परिवार से भी कटे-कटे से रहते। उनका दमकता हुआ कांतिमय चेहरा बीमारों जैसा कंातिहीन दिखाई देने लगा।

उन्हें इस तरह उदास देखकर नीलिमा देवी ने एक दिन उनसे पूछा-अजी सुनिए, मेरा मन तो नहीं कहता कि आपसे कोई सवाल करूँ पर, फिर भी यदि मैं पूछ रही हूँ तब बिल्कुल साफ-साफ बताइए। मेरी कसम कुछ छिपाइए मत। मैं जैसी भी हूँ, आपकी पत्नी हूँ। आप मेरे पति-परमेश्वर हैं। हमारे कर्म और विचार नहीं मिलते इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। यह सुनकर प्रोफेसर साहब बात को टालने की गरज से पहले कुछ इधर-उधर की हांकने लगे पर, नीलिमा देवी की आत्मीयता भरी जिद के आगे उन्हें समर्पणभाव से कुछझुकना पड़ा। मायूसी भरे अंदाज में बोले- नीलिमा, मैं तुम्हारे जैसे उच्च आदर्शों वाला तो न बन सका और न ही तुम्हें अपने रंग में रंग सका। किंतु, युवा बेटे की दीन-दशा देखकर अब अहसास होता है कि मैं संसार का सबसे बड़ा पापी हूँ। मेरा जीवन व्यर्थ है। कभी-कभी सोचता हूँ कि जब पुत्र अपने बाप के लिए प्राण न्यौछावर कर देते हैं तो मौका आने पर पिता अपने बेटे के लिए प्राणों की आहूति क्यों नहीं दे सकता? आजकल वैसे भी भौतिकता की अंधी दौड़ में बेटे-बहुओं से तंग आकर बुजुर्ग मां-बाप दर-दर की ठोकरें खाते हुए घुट-घुटकर जी रहे हैं। इसलिए मेरी जिंदगी सार्थक न हुई तो न सही। मैं इकलौते बेटे के कल्याण और तुम्हारी खुशी के लिए कुछ न कुछ अवश्य करूँगा। सच कहता हूँ, मेरे बेटे को कामयाबी भी मिलेगी और तुम्हें चिंतामुक्ति भी। मेरी मृत्यु फलदायी साबित होगी। मेरी जीजीविषा अब समाप्त हो चुकी है। जितनी जल्दी हो सके, मैं इस जग से कूच करना चाहता हूँ। यह सुनते ही नीलिमा को मानो काठ मार गया। वह एकदम सन्न रह गर्इं। हक्की-बक्की सी इधर-उधर देखने लगीं। पति के शब्दों से वह बड़ी आहत हुई। उनका हृदय कचोट उठा। वह बड़ी उलझन में पड़ गई। समझ में न आ रहा था कि क्या करें। वह दुविधाग्रस्त हो गर्इं। कातर नेत्रों से देखती हुई सँभलकर बोलीं-मैं आपकी बात से कतई सहमत नहीं हूँ। न जाने क्यों आप सदैव मेरी इच्छा के विपरीत ही बोलते हैं। क्या मौत से भी आज तक किसी का भला हुआ है? आज ऐसी बहकी-बहकी बातें क्यों कर रहे हैं? एक अध्यापक को इतनी भावुकता शोभा नहीं देती। शिक्षक तो राष्ट्र का भविष्य निर्माता है। एक आप हैं कि विनाश की बात कर रहे हैं। इससे लोगों में क्या संदेश जाएगा? वे क्या सोचेंगे? शिक्षक जैसे सुधारक को समाज के साथ इतना अन्याय नहीं करना चाहिए। लगता है आपकी तबीयत ठीक नहीं है। चलिए, चलकर किसी अच्छे डॉक्टर से चेक करा लीजिए। आपकी यह उदासी मेरे लिए असह्य है। इस उम्र में खुद को इतना कमजोर क्यों समझ रहे हैं? आपके किसी उलटे-सीधे कदम से मेरा जो होगा, सो होगा ही। खानदान पर भी बड़ा अमिट कलंक लगेगा। इससे हमारा जीवन और भी कष्टमय हो जाएगा। मेरा निवेदन है, अपने विचारों की इस संकीर्णता को त्याग दीजिए। दिक्कतों का अटल होकर सामना कीजिए। तकलीफ और मुसीबत से डरकर भागना कायरता है। इससे हमें बड़ा अपयश लगेगा। लोग तरह-तरह का दोषारोपण करेंगे।

तब प्रोफेसर साहब बोले- नीलिमा, मेरी बात सुनो- जिसके पास जितनी बड़ी डिग्री होती है, उसका स्वार्थ और लोभ भी उतना बड़ा होता है। मानो यही विद्वानों के लक्षण हैं। मैं अपनी आँखों के सामने सब कुछ तहस-नहस होते नहीं देख सकता। तुम यश-अपयश और मान-अपमान की फिक्र न करो। मैं ऐसा कुछ भी न करूँगा। पुत्रमोह में विषपान करके मैं अपनी जीवन लीला थोड़े ही करूँगा। किंतु, क्या तुम नहीं चाहतीं कि बेटे की जिंदगी मिट्टी में मिलने से बच जाय। दुनिया से सबको एक न एक दिन रफूचक्कर होना ही है। इसलिए यह अंत का बिगड़ना नहीं, उसका निर्माण है। मेरा संपूर्ण जीवन नीरस और कठोरता के साथ ही गुजरा है। क्योंकि मनुष्य कमजोरियों का पुतला है। इसलिए नौबत यहाँ तक आ गई कि मैं हमेशा तिमिरलोक में ही भटकता रहा। सच्चा ज्ञान तो मुझे अब मिला है। मैं जो काम जीते जी न कर सका, उसे मरकर पूरा कर सकूँ तो यही मेरे लिए सभी पापों का सबसे बड़ा पश्चाताप होगा। क्या यह संतोष की बात नहीं कि अब अपने ही जीवन से मुझे घृणा सी हो गई है। आत्मग्लानि से रह-रहकर कलेजे में टीस उठ जाती है। हमे किसी की उलाहना या अपनी बदनामी का कोई भय नहीं। यह सुनते ही नीलिमा देवी की आँखें भर आर्इं। कलेजे में उथल-पुथल होने लगी। वह बोलीं- यह ठीक है कि मनुष्य कमजोरियों का पुतला है। पर, अपनी जान का दुश्मन बनना कहाँ तक उचित है? यह कहकर उनके नेत्रों में आंसुओं की नदी उमड़ पड़ी। पलभर बाद बोलीं- आप बड़ा अनर्थ करने की सोच रहे हें। इतनी बुजदिली भी किस काम की? बेटे को आपकी इस सोच का पता चलेगा तो क्या वह सुखी रह पाएगा? मन में सदैव कुढ़ता रहेगा। लोग उसे जली-कटी सुनाकर ताने मारेंगे। उसके जीवन में एक धब्बा लग जाएगा। उसे बड़ी पीड़ा होगी। उसका संपूर्ण जीवन कष्टमय होकर रह जाएगा। लोगों की छोडि़ए, वे उसे उलाहना देंगे ही। वह अपनी ही नजर में गिर जाएगा। ऐसा मालूम होता है, आपकी अक्ल नष्ट हो गई है। वरना, अपने ही प्राणों के बौरी न बनने की सोचते। उस बेचारी को क्या पता कि प्रोफेसर साहब उनसे मात्र कौशल कर रहे हैं। वह केवल इसलिए मरने के इच्छुक हैं कि उनके स्थान पर बेटे को अनुकंपा के आधार पर नौकरी जरूर लेगी। वह बेरोजगार न रहेगा। नीलिमा बस इतना ही जानती थीं कि प्रोफेसर साहब तनावग्रस्त और अवसादग्रस्त होकर अपनी जीवन लीला से छुटकारा पाने को ठान चुके हैं। उनका जीवनमोह खत्म हो चुका है।

प्रोफेसर गिरीश एक दिन नीलिमा से बोले- देखो, अवसर से लाभ उठाना ही बुद्धिमानी है। चूक जाने पर पछताने के अलावा कुछ भी नहीं रह जाता। बाद में समय की निंदा करना व्यर्थ और भूल है। सुनो नीलिमा, तुम मुझे कायर बनाने की कोशिश न करो। मनुष्य को एक न एक दिन यमलोक का रास्ता नापना ही पड़ता है। यहाँ अमर कोई भी नहीं है। यह सुनकर नीलिमा का कोमल मन किसी अनहोनी की आशंका से कांप उठा। उनके अंतस्तल में अपार वेदना होने लगी। वह उदास मन से बोलीं- अगर जीवन का अंत करने से ही मुसीबतों से मुक्ति मिल जाती तो दुनिया कब की समाप्त हो गई होती। जानबूझकर संसार से आँखें फेर लेना घोर पाप भी है और बड़ा अनैतिक भी। जग की रीति के अनुसार चलना ही अक्लमंदी है। आप गमगीन होकर ऐसा क्यों सोच रहें हैं कि नेत्र बंद होते ही सब कुछ ठीक हो जाएगा। प्रारब्ध के लिखे को मिटाना बड़ा ही असंभव है। वाद-विवाद और तर्क-कुतर्क के दलदल में पति-पत्नी क ो फँसे हुए कई महीने बीत गए। आखिरकार धीरे-धीरे बीमार प्रोफेसर साहब एक दिन खाट पकड़ लिए। दिनोदिन उनकी हालत बिगड़ती गई। हार-थककर नीलिमा देवी ने उन्हें लखनऊ के एक जाने-माने अस्पताल में भर्ती करा दिया। लेकिन, वह फिर ठीक न हुए। शरीर बिल्कुल पीली पड़ गई। आँखें अंदर को धँस गर्इं। नर्सिंग होम और सरकारी चिकित्सालय के बड़े-बड़े डॉक्टर भी उनकी नब्ज पहचानने में विफल रहै। वह महीनों अचेत पड़े रहे। अंत में प्राण पखेरू उनके बदन का साथ छोछकर उड़ गए। एक मर्मांतक पीड़ा के साथ एक रात उन्होंने आँखें मूंद ली। दुनिया से नेत्र फेरते ही शरीर ठंडी हो गई। नीलिमा देवी पर मानो गम के पहाड़ ही टूट पडे। वह पछाड़ खाकर गिर पड़ीं। सुहागिन को असमय ही वैधव्य का जीवन जीने के लिए विवश होना पड़ा। वह मन मारकर रह गर्इं। मृत शरीर के दाह-संस्कार के कुछ दिन बाद राजकुँवर को प्रोफेसर साहब की जगह बाबूगिरी अवश्य मिल गई और एक कुलीन, शिक्षित कन्या से उसका विवाह भी हो गया। गिरीश बाबू न रहे किन्तु उनकी इच्छा जैसे-तैसे पूरी हो गई।

 

-

राजभाषा सहायक,

मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय,

उत्तर मध्य रेलवे, आगरा

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

रचनाकार - हिंदी साहित्य का असीमित आनंद लें

---प्रायोजक---

---***---

|कथा-कहानी_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

|हास्य-व्यंग्य_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

---प्रायोजक---

---***---

|काव्य-जगत_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

|संस्मरण_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

आपके लिए हिंदी में सैकड़ों वर्ग पहेलियाँ

---प्रायोजक---

---***---

|लघुकथा_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

|उपन्यास_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

|लोककथा_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * |

| * उपन्यास *|

| * हास्य-व्यंग्य * |

| * कविता  *|

| * आलेख * |

| * लोककथा * |

| * लघुकथा * |

| * ग़ज़ल  *|

| * संस्मरण * |

| * साहित्य समाचार * |

| * कला जगत  *|

| * पाक कला * |

| * हास-परिहास * |

| * नाटक * |

| * बाल कथा * |

| * विज्ञान कथा * |

* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=complex$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3996,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,338,ईबुक,193,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,110,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2968,कहानी,2228,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,529,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,94,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,339,बाल कलम,25,बाल दिवस,3,बालकथा,62,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,10,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,26,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,240,लघुकथा,1217,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1995,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,700,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,782,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,15,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,75,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,196,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,75,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: अर्जुन प्रसाद की कहानी - मृत्युमूल्य
अर्जुन प्रसाद की कहानी - मृत्युमूल्य
http://lh6.ggpht.com/-Qbcwm3eDuJY/UP0txxR5A_I/AAAAAAAAS44/wj2_HeoqGn8/image%25255B2%25255D.png?imgmax=800
http://lh6.ggpht.com/-Qbcwm3eDuJY/UP0txxR5A_I/AAAAAAAAS44/wj2_HeoqGn8/s72-c/image%25255B2%25255D.png?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2013/01/blog-post_8748.html
https://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2013/01/blog-post_8748.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ