---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

अर्जुन प्रसाद की कहानी - जुड़वां

साझा करें:

जुड़वॉ सोलापुर के तुकाराम शिंदे के दो पुत्र थे और एक पुत्री। उनके पुत्रों का नाम था राजीव और संजीव। उनकी इकलौती बेटी का नाम सुप्रिया था। ब...

image

जुड़वॉ

सोलापुर के तुकाराम शिंदे के दो पुत्र थे और एक पुत्री। उनके पुत्रों का नाम था राजीव और संजीव। उनकी इकलौती बेटी का नाम सुप्रिया था। बाबू तुकाराम के दोनों बेटे एक ही साथ पैदा होने से जुड़वाँ थे जबकि उनकी बेटी अकेली ही पैदा हुई थी। सुप्रिया तुकाराम की बड़ी संतान थी। राजीव और संजीव छोटे थे। जिनमें राजीव इस दुनिया में पहले आने से अग्रज कहलाए तो संजीव उनका पीछा करते हुए उनसे कुछ पल बाद जन्‍म लेने की वजह से अनुज बनकर ही रह गए।

मगर एक बात है उनमें बड़े गजब का अपनापन और लगाव था। उनका आपसी प्रेम देखकर बाबू तुकाराम और उनकी पत्‍नी पार्वती को बड़ी खुशी का अहसास होता। मारे खुशी के वे फूले न समाते। पति-पत्‍नी का दिल बाँग-बाँग हो जाता। आजकल भाई-भाई में जो द्वेष, अलगाव और जानी दुश्‍मन जैसा मनमुटाव देखने को मिलता है वैसा उनमें किसी को कदापि न देखने को मिलता था।

वहीं कितना दुःखद है कि आज एक ही जन्‍मदायिनी माँ के पैट से जन्‍म लेने पर भी बिल्‍कुल सगे भाइयों में जन्‍म-जन्‍म के वैरी जैसा व्‍यवहार देखने-सुनने को मिल रहा है। अपने माता-पिता और गुरुजनों से भांति-भांति के मिले हुए संस्‍कारों को भूलकर वे एक-दूसरे के शत्रु बने हुए हैं। अब तो नौबत यहाँ तक आ पहुँची है कि जीवन भर सुख-दुःख में एक-दूसरे का साथ निभाने वाला भाई ही अपने भाई का कातिल बनता जा रहा है। लोग इंसानियत और मानवता का दिन-प्रतिदिन गला घोंटते जा रहे हैं। आपस में बढ़ती प्रतियोगिता के चलते संसार में इतनी घोर अंधेर मची हुई है कि खून अपने खून को ही जड़ से मिटाने को उतारू होता जा रहा है।

बाबू तुकाराम के तीनों बच्‍चे साथ-साथ पढ़ते और खेलते थे। कहने को राजीव और संजीव का बदन तो दो था लेकिन मन से वे एक ही थे। उनके विचारों में बड़े गजब का तालमेल था। दोनों वाकई बड़े मिलनसार स्‍वभाव के थे। कभी भूलकर भी वे एक-दूसरे से अलग न होते। कदाचित किसी एक को कभी कोई कष्‍ट महसूस होता तो दूसरा भी स्‍वतः ही कष्‍ट का अनुभव करने लगता। यह देखकर उनकी ओर से उनके मां-बाप एकदम बेफिक्र थे। उन्‍हें उनकी तनिक भी फिक्र न थी।

वैसे तुकाराम कोई बहुत अमीर पुरुष न थे। बस एक छोटी सी परचून की दुकान के मालिक थे। उसी की जो थोड़ी-बहुत आमदनी हो जाती थी किसी तरह अपने परिवार का भरण-पोषण करते थे। उनकी कुछ आय तीनों बच्‍चों की पढ़ाई-लिखाई में खर्च हो जाती तो बची-खुची से घर का गुजर-बसर होता। घर में कमाई का दूसरा कोई जरिया न था। कमर तोड़ने वाली इस महँगाई में कमाने वाले एक तो खाने वाले पाँच।

आखिर जैसे-तैसे उनकी मेहनत रंग लाई और उनके दोनों संस्‍कारवान बेटे पढ़-लिखकर कामयाब हुए। खूब मन लगाकर पढ़ने-लिखने से उनकी शिक्षा पूरी हो गई। इसके बाद कालेज की डिग्री लेकर वे नौकरी-चाकरी की तलाश में जुट गए। दोनों साथ-साथ कभी कहीं टेस्‍ट और साक्षात्‍कार देने जाते तो कभी कहीं। अंततः परमात्‍मा की दयादृष्‍टि से वे अपने मकसद में सफल भी हुए।

रेलवे भर्ती बोर्ड की प्रतियोगितात्‍मक परीक्षा में दोनों भाई अन्‍य प्रतियोगियों के मुकाबले सबसे अव्‍वल साबित हुए। तत्‍पश्‍चात उन्‍हें रेलवे में अच्‍छी नौकरी मिल गई। राजीव शिंदे कामर्शियल विभाग में बाबू बने तो संजीव कार्मिक शाखा में चुने गए। दोनों बेटों को नौकरी मिलते ही बाबू तुकाराम के दिन धीरे-धीरे बहुरने लगे। अब घर में कमाने वाले तीन हो गए। इससे उन्‍हें बड़ी राहत महसूस हुई। उनके सिर का बोझ काफी कम हो गया।

घर में आमदनी बढ़ते ही वह दिन दूनी रात चौगुनी तरक्‍की करने लगे। इधर सुप्रिया भी पढ़-लिखकर अब आहिस्‍ता-आहिस्‍ता जवान और शादी योग्‍य हो गई। बाबू तुकाराम ने एक अच्‍छा सा घर-वर देखकर एक शिक्षित और नौकरीशुदा लड़के से बड़ी धूमधाम से उसका विवाह कर दिए। व्‍याह के बाद वह अपने माता-पिता और भाइयों को छोड़कर अपनी ससुराल चली गई।

अब घर में कुल चार लोग ही रह गए। अपनी लाडली बेटी के हाथ पीले करके तुकाराम बाबू एकदम निश्‍चिंत हो गए। ईश्‍वर की मर्जी कि सुप्रिया की खातिर घर-वर तलाशने में उनके जूते नहीं घिसे। सारा काम बड़ी सरलता से पूरा हो गया वरना हमारे समाज में दहेज रूपी दानव के चलते एक अच्‍छे दामाद की तलाश में भाग-दौड करते-करते लोगों के पैरों में छाले तक पड़ जाते हैं। उनकी इच्‍छा बड़ी मुश्‍किल से ही पूरी हो पाती है। किन्‍तु सच में तुकाराम इतने सौभाग्‍यशाली निकले कि हर्रै लगी न फिटकिरी और रंग भी खूब चोखा ही चढ़ा। बगैर किसी खास मशक्‍कत के ही उनके अरमान आसानी से पूरे हो गए। मनोवांछित दामाद भी मिल गया और जबरदस्‍ती माँगे जाने वाले दान, दहेज की मार भी नहीं झेलनी पड़ी।

समयचक्र पंख फैलाकर तीव्रगति से उड़ता रहा। काफी समय तक सब कुछ बिल्‍कुल ठीक चलता रहा। घर में कहीं कोई दिक्‍कत न आई। जिधर भी देखिए उधर ही चारों ओर खुशियाँ ही खुशियाँ फैली हुई थीं। लेकिन अब उनके दुर्भाग्‍य को क्‍या कहा जाए? विधाता की रचना भी बड़ी अजीब है। मानव जीवन की यह एक ऐसी सच्‍चाई है जिसे कतई झुठलाया नहीं जा सकता। इंसान पर उसकी संगति का कुछ न कुछ असर पड़ता ही है न चाहते हुए भी राजीव और संजीव इससे बच न सके। आधुनिकता के फेर में संयमी, राजीव पर तो कुछ विशेष फर्क नहीं पड़ा मगर इंसान कमजोरियों का दास होता ही है अतः संजीव शनैः-शनैः कुसंगति की ओर अग्रसर होते चले गए।

यद्यपि बचपन में दोनों ही भाई एकदम सात्‍विक, संयमी विचार के थे। उनके जीवन का बस यही ध्‍येय था कि सादा जीवन उच्‍च विचार। उनका रहन-सहन तो बिल्‍कुल सादा था ही उन्‍हें सदैव सादा और शाकाहारी भोजन भी पसंद था। वे अभक्षणीय मांस-मदिरा को भूलकर भी कभी हाथ न लगाते थे। धूम्रपान तो बहुत दूर की बात है वे तंबाकू या उससे निर्मित और मनुष्‍य की सेहत के लिए हानिकर नाना प्रकार की वस्‍तुओं को छूना भी पसंद न करते थे। क्‍या अनुकरणीय उच्‍च आदर्श था उनका?

राजीव को एकदम निरामिष भोजन ही भाता था अतएव हमेशा सामिष और मांसाहारी व्‍यंजन से वह कोसों दूर ही रहते थे। मद्यपान उन्‍हें तनिक भी पसंद न था। उससे उनका दूर का भी कोई रिश्‍ता न था। यही शिक्षा वह सदा संजीव को भी देने का भरपूर यत्‍न करते। परंतु अफसोस कि संजीव उनकी बातों को कभी संजीदगी से न लिए। वह उनकी हर सलाह को एक कान से सुनकर दूसरे से तुरंत अनसुना कर देते। वह दिनोंदिन मांस-मदिरा के मकड़- जाल में उलझते गए। कहने का मतलब यह कि ज्‍यों-ज्‍यों दवा की त्‍यों-त्‍यों मर्ज बढ़ता ही गया। वह अपने दोस्‍तों के संग बैठकर देषी और विदेशी शराब का सेवन करने के अभ्‍यस्‍त होते चले गए। मांस, मछली भी जी भर खाने लगे। आहिस्‍ता-आहिस्‍ता वह पक्‍के पियक्‍कड़ बन गए। रेस्‍तराँ और होटलों में नित आए दिन दारूबाजों की महफिलें सजने लगीं।

अगर कभी मौका पाकर राजीव उन्‍हें समझाने-बुझाने की कोशिश करते तो वह कोई न कोई बहाना बनाकर उनकी बातों को साफ-साफ टाल देते। वह उनसे कहने लगते कि अरे भइया,आप कुछ नहीं खाते-पीते तो न खाइए-पीजिए पर बात-बात पर मुझे तो मत रोकिए-टोकिए। अरे खाइए मन भाता और पहनिए जग भाता यही जिंदगी है। यह सब मुझे बिल्‍कुल भी अच्‍छा नहीं लगता। अपना अच्‍छा-बुरा मैं भलीभांति खूब समझता हूँ इसलिए आए दिन बात-बात पर रोकना-टोकना मुझे हरगिज भी पसंद नहीं। मैं यह मानता हूँ कि आप उम्र में मुझसे थोड़े-बहुत बड़े हैं किन्‍तु इसका यह अभिप्राय कतई नहीं कि अनायास ही मेरे खाने-पीने में भी दखल देते रहिए। आपका जीवन अलग है और मेरा एकदम अलग। नाहक ही मेरी इतनी चिंता करके आपको इस तरह कमजोर होने की कोई जरूरत नहीं है।

संजीव का यह जवाब सुनकर राजीव अपना सिर पीट लेते। उनकी हालत आगे कुंआँ तो पीछे खाई वाली हो जाती। उनके सामने एक ओर अपने लाडले छोटे भाई की जिंदगी थी तो दूसरी ओर आधुनिक स्‍वच्छंदता का खुलापन। अधिक दबाव डालने पर उसके बगावत करने का खतरा था। वह बार-बार यही सोचते कि यह दुनिया भी बहुत बहुरंगी है। लोग किसी को न जीने ही देते हैं और न मरने ही देते हैं। एक ही भाई है लोग सुनेंगे तो बुरा मानेंगे। वे कहेंगे कि छोटा होने की वजह से राजीव हमेशा संजीव को जानबूझकर दबाते हैं। साथ ही वे यह भी कहेंगे कि मुझे बड़ा होने का बड़ा घमंड है।

दूसरी बात संजीव भी विद्रोह पर उतर सकता है। अब वह कोई बच्‍चा नहीं बल्‍कि एक शिक्षित, तगड़ा और बाँका जवान है। कहीं मेरी बातों को वह बुरा न मान जाए। आजकल के युवकों का कोई भरोसा थोड़े ही है कि कब वे किस बात पर नाराज होकर बिगड़ खड़े हों। भाई के मन भाई के प्रति द्वेष पैदा होना कतई जायज नहीं है। ज्‍यादा नुक्‍ताचीनी करने से भाइयों के दिलों में नाहक ही दरार पड़ जाती है। मैं इसे कतई बर्दास्‍त नहीं कर सकता। यह सोचकर संजीव पर राजीव कभी अधिक जोर न डालते। वह सोचते कि देर-सबेर संजीव अपनी तामसी दुनिया छोड़कर रास्‍ते पर आएंगे ही तब मैं बिना मतलब ही इतना दुःखी क्‍यों होऊँ?

हाँ इतना जरूर है कि कभी-कभी अवसर देखकर यह कहने से न चूकते कि संजीव, आजकल तुम्‍हें क्‍या हो गया है? तुम आखिर इतने तामसी क्‍यों बनते जा रहे हो? क्‍या तुम्‍हें अपनी जिंदगी की कोई परवाह नहीं? मुझे तुम्‍हारा खाना-पीना तनिक भी नहीं सुहाता है। मैं कोई पराया नहीं वरन तुम्‍हारा सगा अग्रज हूँ। मैं जो कुछ भी कह रहा हूँ तुम्‍हारी भलाई की खातिर ही कह रहा हूँ। वक्‍त ऐसे ही गुजरता रहा। संजीव पर अपनी जवानी का ऐसा नशा हावी था कि वह राजीव की एक भी सुनने को हरगिज तैयार न थे दोस्‍तों के साथ जमकर बेखटके खूब खाते-पीते और मौज उड़ाते। कभी भांति-भांति की मछलियाँ तलवाते तो कभी जी भर बकरे की नल्‍ली पकड़कर चूसते। यह समझिए कि उन्‍हें तरह-तरह का मांसाहारी भोजन और शराब के सेवन की लत पड़ गई।

समय ऐसे ही गुजरता रहा। एक दिन की बात है राजीव यूँ ही बनावटी गुस्‍से में भरकर संजीव से बोले-बेवकूफ कहीं के लगता तुम्‍हें अपनी जिंदगी से सचमुच कोई लगाव नहीं है। अगर अब भी तुम नहीं चेते तो समझ लो बहुत जल्‍दी क्‍ँवारे ही इस दुनिया से चले जाओगे। मैंने अपने जीवन में तुम्‍हारे जैसा पहला व्‍यक्‍ति ही देखा है जिसे अपने जान की कोई परवाह नहीं है।

यह सुनते ही संजीव तपाक से बोले-अगर ऐसी ही बात है चलिए चलकर किसी डॉक्‍टर से चेक करा लेते हैं। अभी सब पता चल जाएगा कि आप जल्‍दी मरेंगे या मैं। कोई चिकित्‍सक झूठ थोड़े ही बोलेगा। आपका सारा भ्रम दूर हो जाएगा। इससे आपको तसल्‍ली भी हो जाएगी। आए दिन रोज-रोज की किचकिच करने से अच्‍छा हे कि हम दोनों ही अपनी-अपनी जाँच करा लें। मैं एकदम सच कहता हूँ आप चाहे तो शर्त लगा लें मैं सब कुछ खाता-पीता जरूर हूँ मगर मेरे अंदर कोई बीमारी न निकलेगी। आप बिल्‍कुल सात्‍विक साधु पुरूष बने घूमते-फिरते हैं आपके अंदर यूँ ही अनेक बीमारियाँ निकल आएंगी। भइया, इसी का नाम कलयुग है। आप मेरी इतनी चिंता व्‍यर्थ ही करते हैं।

तब राजीव बोले-हरगिज नहीं, ऐसा कदापि नहीं हो सकता। सारे उल्‍टे-सीधे काम तुम करते हो मैं नहीं तो भला मुझे कोई रोग क्‍यों होने लगा? देख लेना जब डॉक्‍टर से जाँच कराई जाएगी तब सब कुछ दूध का दूध और पानी का पानी एकदम साफ हो जाएगा। अगर कोई रोग निकलेगा तो वह केवल तुम्‍हारे ही शरीर में निकलेगा। मैं अभी तक बिल्‍कुल तंदुरूस्‍त हूँ और डॉक्‍टरी जाँच के बाद भी स्‍वस्‍थ ही रहूँगा।

इतना सुनते ही संजीव बोले-ठीक है ज्‍यादा फिक्र क्‍यों करते हैं? लेकिन जब ऐसी ही बात है तब कल डॉक्‍टर के पास चलकर जाँच जरूर करानी पड़ेगी। ऐसा ही होगा।

यह सुनकर राजीव हँसकर बोले-बिल्‍कुल ठीक, हम दोनों सुबह डॉक्‍टर सुरोडकर के पास चलकर अपनी-अपनी जाँच कराएंगे। एक बात और जिसके शरीर में कोई बीमारी निकलेगी वह हममें से दूसरे को मनमाफिक पार्टी भी देगा। मैं रोगी निकला तो तुम जो चाहोगे मैं खिलाऊँगा और अगर तुम रोगी साबित हुए तो मेरी पसंद की खिलाओगे।

इतना सुनना था कि संजीव व्‍यंग्‍यमय मुस्‍कान के साथ बोले- मैं बिल्‍कुल तैयार हूँ। मुझे आपकी सारी शर्त मंजूर है। आपके चैलेंज को मैं खुशी-खुशी स्‍वीकार करता हूँ। पर एक बार फिर सोच लीजिए। मुझसे शर्त लगाना आपके लिए कहीं मँहगा न सिद्ध हो। आप उम्र में मुझसे बड़े हैं तो क्‍या हुआ? यह शर्त जरूर हारेंगे। कुछ भी कर लीजिए जीत मेरी ही होगी।

तब राजीव मुस्‍कराकर बोले-अरे यार इतने चिंतित क्‍यों होते हो? जब ओखली में सिर दे ही दिया तब फिर सोचना कैसा? में तुमसे बड़ा हूँ तो मेरी हर बात बड़ी रहेगी। अब सारी बातों का खुलासा कल ही होगा। देखते हैं हम दोनों में से कौन जीतता है और कौन हारता है। दूसरी बात हार-जीत कोई मायने नहीं रखती है। दरअसल बात स्‍वास्‍थ्‍य की है। मनुष्‍य को अभक्षणीय पदार्थों का भी सेवन करना शोभा थोड़े ही देती है। खाद्य-अखाद्य का ध्‍यान रखना निहायत ही जरूरी है। तुम्‍हारे खान-पान को देखकर मुझे सचमुच तुम पर बड़ा तरस आता है। हम सब मनुष्‍य हैं कोई असुर नहीं कि जो कुछ भी सामने आ जाए आँखें मूंदकर फटाफट उसका भक्षण करते चले जाएं। इंसान और पशुओं में बड़ा अंतर होता है। मनुष्‍य, मनुष्‍य है और पशु, पशु ही है। दोनों में कही कोई लेषमात्र भी समानता नहीं है। इसलिए दोनों का खान-पान और रहन-सहन सब बिल्‍कुल अलग-अलग है। यह बात अलग है कि आजकल कुछ लोग हमारे पशुओं का चारा तक डकार जा रहे हैं। वे कोई इंसान थोड़े ही हैं। मेरी नजर में ऐसे लोग मनुष्‍य के रूप में पशु से भी बदतर हैं।

यह सुनते ही संजीव हँसकर बोले-आप तो न जाने किस आदिम जमाने की बात करते हैं? क्‍या आपको इतना भी नहीं मालूम कि आज शाकाहार के नाम पर हम जो कुछ भी खा-पी रहे हैं वे सब जैविक रसायनों की देन हैं। आज की दुनिया में कुछ भी शुद्ध नहीं है। यहाँ तक कि देशी घी भी अब पशुओं की चर्बियों से बन रहा है। आए दिन मैगजीन और अखबारों में पढ़ने को मिलता है कि अमुक जगह चर्बी से नकली घी बनाने की फैक्‍टरी पकड़ी गई। अब आप खुद ही सोच सकते हें कि जब सब कुछ मिलावटी या नकली ही मिल रहा है तब असली और शुद्ध स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक क्‍या है?

संजीव फिर बोले- बड़े भइया, सच मानिए जब इंसान को आजकल पीने को शुद्ध जल नसीब नहीं हो रहा है तब खाने को कहां से मिलेगा? इतना ही नहीं मनुष्‍य के तमाम रोगों को दूर भगाने वाली दवाइयाँ भी अक्‍सर नकली ही मिल रही हैं। इंसान की सेहत के साथ खुलेआम खिलवाड़ करने वालों का कोई बाल भी बाँका नहीं कर पा रहा है। इसलिए मेरे विचार से सब कुछ खाद्य है अखाद्य कुछ भी नहीं। एक समय था कि लोग डालडा खाने से परहेज करते थे आज वही पाम आयल के साथ-साथ न मालूम क्‍या-क्‍या इस्‍तेमाल कर रहे हैं? लोग सिंथेटिक दूध बड़े शौक से इस्‍तेमाल करते नजर आ रहे हें। लगता है ऐसी उल्‍टी-सीधी चीजों का सेवन करते-करते किसी माई के लाल में इतनी ताकत ही नहीं रह गई है जो मनुष्‍य की सेहत के दुश्‍मनों को तगड़ी सबक सिखा सके।

तब राजीव गंभीर मुद्रा में बोले-बात तो तुम पते की कहते हो संजीव पर, यह मत भूलो कि अब मांसाहारी चीजें ही कहाँ असली मिल रही हैं? इस संसार में सब कुछ नकली ही मिल रहा है। ऐसे में अनाप-शनाप वस्‍तुओं के खाने-पीने से बचने की सख्‍त जरूरत है वरना स्‍वास्‍थ्‍य बिगड़ते तनिक भी देर न लगेगी। जरा तुम्‍हीं सोचो जब कुछ भी न खाने-पीने वाले को कैंसर तक हो सकता है तब बहुत कुछ खाने-पीने वाले क क्‍या होगा? कोई उच्‍च रक्‍तचाप का शिकार है तो कोई मधुमेह का। यहाँ तक मद्यपान और धूम्रपान से कोसों दूर रहने वाली स्‍त्रियाँ भी अब अनेक बीमारियों की गिरफ्‌त में हैं। अस्‍पतालों में जाकर देखो तो प्रतीत होता है कि सारी दुनिया ही बीमार है। कोई भी इंसान रोग से मुक्‍त नहीं है।

इस प्रकार दिन ढल गया और धीरे-धीरे षाम हो गई। सुबह राजीव और संजीव अपने-अपने तन-मन की जाँच कराने डॉक्‍टर सुरोडकर के पास पहुँच गए। उन्‍होंने बारी-बारी दोनों भाइयों की तरह-तरह से खूब जाँच-पड़ताल की मगर जॉचोपरांत उनके सामने जो कुछ भी आया उसे देखकर डॉक्‍टर साहब एकदम चौक गए। उन्‍होंने देखा कि जवानी की षुरूआत से ही बिल्‍कुल सामिष भोजन करने वाले संजीव तो पूरी तरह स्‍वस्‍थ हैं लेकिन इसके विपरीत एकदम षाकाहारी निरामिष भोजन का सेवन करने वाले राजीव हृदयघात से पीड़ित हैं। उन्‍हें सचमुच बहुत ताज्‍जुब हुआ। इससे उनके आष्‍चर्य का कोई ठिकाना ही न रहा। उनकी समझ में कुछ भी न आ रहा था कि यह सब बिल्‍कुल उल्‍टा-पुल्‍टा कैसे हो गया? इस बात को लेकर वह बड़े दुःखी हुए।

अंततः डॉक्‍टर सुरोडकर ने राजीव और संजीव को उनकी जाँच रिपोर्ट देते हुए उदास मन से कहा-बड़े अफसोस के साथ बताना पड़ रहा है कि संजीव हर तरह से एकदम तंदुरूस्‍त हैं मगर राजीव, आपको भई हार्ट अटैक की शिकायत है। दरअसल आपको तनिक सावधानी बरतने की सख्‍त जरूरत है वरना मर्ज बढ़ने का अंदेशा है।

यह सुनते ही राजीव के हाथ के तोते उड़ गए। वह बहुत परेशान हो गए। वह डॉक्‍टर साहब से पूछने लगे-अरे साहब, ऐसा कैसे हो गया? कहीं आपको कोई गलतफहमी तो नहीं हो गई। जिस रिपोर्ट को आप मेरी बता रहे हैं वह कहीं संजीव की तो नहीं है?

तब डॉक्‍टर सुरोडकर बेझिझक बोले-नहीं भई नहीं ऐसा नहीं है। मैंने भी पहले यही सोचा कि कही रिपोर्ट आपस में बदल न गई हो इसलिए बार-बार उसकी जाँच की है। अब यह दूध की तरह एकदम स्‍पष्‍ट है कि आपको कभी कुछ भी हो सकता है। मुझे आपसे कोई वैर थोड़े ही है। समझिए इसे ही कुदरत का खेल कहते हैं। ईश्‍वरीय महिमा भी बड़ी निराली है राजीव बाबू, कभी-कभी वह ऐसा भी खेल खेल देता है कि उस पर सरलता से यकीन ही नहीं होता है। विधि का विधान वाकई बड़ा अपरंपार है। उसका कोई हिसाब नहीं लगा सकता है। परमेश्वर की यही नियति है।

इतना सुनते ही राजीव और संजीव सोच में डूब गए। वे देखते ही देखते वे गम के सागर में डूबने-उतराने लगे। आखिर अपना कोई वष न चलते देखकर दोनों भाई मायूस होकर अपने घर चले गए। संजीव के मन में भी बड़ा शोक उत्‍पन्‍न हुआ। अपने अग्रज की बीमारी के बारे में सुनते ही वह भी बहुत चिंतित हो गए। वह तपड़पकर रह गए।

रात तो जैसे-तैसे बीत गई लेकिन दुश्चिंता के मारे राजीव अचानक सचमुच बीमार पड़ गए। उन्‍हें पक्‍का विश्‍वास हो गया कि मैं एकदम निरामिषाहारी होते हुए भी दिल का रोगी क्‍यों हूँ? यह बात बहुत गहराई से उनके दिल में उतर गई। बाबू तुकाराम और संजीव उन्‍हें उठाकर अस्‍पताल ले गए किन्‍तु सब कुछ व्‍यर्थ ही रहा। एक से बढ़कर एक तजुर्बेकार डॉक्‍टर उन्‍हें बचाने में असफल ही रहे। चंद घंटों में ही राजीव सबको त्‍यागकर दूसरी दुनिया को चलते बने। यह देखते ही तुकाराम बाबू और संजीव पर मानो मुसीबतों का पहाड़ ही टूट पड़ा। उनके नेत्रों से अश्रुधार बहने लगी। बहुत भारी मन से वे किसी तरह राजीव के मृतक शरीर को उठाकर घर ले गए।

घर जाने के बाद बाबू तुकाराम जैसे-तैसे राजीव की चिता को मुखाग्‍नि देकर उनका अंतिम संस्‍कार निभाए किन्‍तु संजीव के दिल पर अपने भाई से बिछड़ने का बड़ा आघात पहुँचा। उन्‍हें इस बात का बहुत पश्‍चाताप हुआ कि मैंने अपने भाई से ऐसी ऊटपटाँग शर्त ही क्‍यों लगाई जो उसके जान का शत्रु बन गई। हमारे मजाक ने भाई को असमय ही हमसे छीन लिया। अब इस जग में मैं एकदम अकेला रह गया। उसके स्‍थान पर मैं ही क्‍यों रोगी साबित न हुआ? लगातार कई घंटे तक दुराशा से घिरे रहने से एकाएक संजीव भी बीमार पड़ गए और तीसरे दिन आनन-फानन में भरी जवानी में ही इस दुनिया से आँखें फेर लिए। अपने दोनों जवान बेटों को खोकर बाबू तुकाराम और उनकी अर्धांगिनी पार्वती पर गमों का पहाड़ डूट पड़ा।

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर: 2
  1. भाई के गम में भाई मर गया , पर दोनों बेटों के मरने के गम के बावजूद माता-पिता जीवित रहे ।कहानी बहुत अच्छी लगी मगर दूसरे भाई का मर जाना एक नकारात्मक संदेश छोड़ गया ।उसे संभलना था , शेष जिम्मेदारियों को पूरा करना था ।उसे अग्रज बन जाना था ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. ओह ह्रदयविदारक कुछ कहने मे असमर्थ

    उत्तर देंहटाएं
रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * |

| * उपन्यास *|

| * हास्य-व्यंग्य * |

| * कविता  *|

| * आलेख * |

| * लोककथा * |

| * लघुकथा * |

| * ग़ज़ल  *|

| * संस्मरण * |

| * साहित्य समाचार * |

| * कला जगत  *|

| * पाक कला * |

| * हास-परिहास * |

| * नाटक * |

| * बाल कथा * |

| * विज्ञान कथा * |

* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4017,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,338,ईबुक,193,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,111,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2983,कहानी,2237,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,533,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,94,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,344,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,66,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,14,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,28,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,242,लघुकथा,1243,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2002,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,705,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,790,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,16,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,79,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,200,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,75,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: अर्जुन प्रसाद की कहानी - जुड़वां
अर्जुन प्रसाद की कहानी - जुड़वां
http://lh4.ggpht.com/-WnDL0S0RnTo/UP01YYL9JKI/AAAAAAAATCE/RtgpbwM5EEg/image%25255B2%25255D.png?imgmax=800
http://lh4.ggpht.com/-WnDL0S0RnTo/UP01YYL9JKI/AAAAAAAATCE/RtgpbwM5EEg/s72-c/image%25255B2%25255D.png?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2013/01/blog-post_9650.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2013/01/blog-post_9650.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ