---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

प्रमोद यादव का व्यंग्य - अपने हिस्से का स्वर्ग

साझा करें:

‘अपने हिस्से का स्वर्ग’/प्रमोद यादव प्रतिदिन अखबारों में दो-तीन ऐसे समाचार पढ़ने को मिलता है कि फलां जगह पर फलां नंबर के खम्बे के पास ट्रे...

‘अपने हिस्से का स्वर्ग’/प्रमोद यादव

प्रतिदिन अखबारों में दो-तीन ऐसे समाचार पढ़ने को मिलता है कि फलां जगह पर फलां नंबर के खम्बे के पास ट्रेन से कटकर एक नवयुवती ने आत्महत्या कर ली... आत्महत्या का कारण अज्ञात है.... फलां स्टेशन के पहले आउटर पर नवतान्वा एक्सप्रेस के सामने कूदकर एक युवक ने अपनी इहलीला समाप्त कर ली.. युवक ने नीले रंग की कमीज काले रंग का जींस पहन रखा था..उसके पास से एक ‘सुसाइड़ल नोट’ भी बरामद हुआ है....फलां रेलवे फाटक को क्रास करती मुंबई-हावड़ा एक्सप्रेस ट्रेन के सामने एक कालेज छात्रा के अचानक कूद जाने से हड़कंप.... मामला आत्महत्या का.. ... पुलिस-विवेचना जारी...आदि...आदि ..आदि..

.ट्रेन से कटकर और भी लोग मरते हैं पर वह मौत सर्वथा ‘एक्सीड़ेंट’ की श्रेणी में आते हैं..जैसे कोई-कोई चढ़ते-उतरते सीधे ‘ऊपर’चढ जाते हैं..तो कोई-कोई पटरी पार करते ‘पार’ हो जाते हैं.. हद तो तब हो जाती है जब एकाध-दो युवतियां ‘शौचादि’ से निवृत्त हो दुनिया से ही निवृत्त हो जाती हैं - पटरी क्रास करते.....ताज्जुब की बात है कि क्या शौच के बाद कोई इतना उन्मत्त, मतवाला या गाफिल हो जाता है कि ड़ायनासोर जैसा शोर करता विराट इंजन भी इन्हें न दिखे ?

खैर, मैं उन लोगों के विषय में ज्यादा सोचता हूँ जो ट्रेन के सामने छलांग लगा मौत को गले लगाते हैं...भगवान जाने .किन स्थितियों-परिस्थितियों में वो ये कदम उठाते हैं..क्या मरने के और विकल्पों ( जहरखुरानी ,जल-समाधि फांसी, आदि ) पर इन्हें विश्वास नहीं या वह सब ये आजमाकर असफल हो चुके होते हैं ? कई-कई लोगों का तो ‘हाबी’ की तरह जूनून होता है – आत्महत्या करने का ...पड़ोस की एक औरत, पति के प्रताड़ना के चलते चार बार खुद पर मिटटी-तेल छिड़क आग लगा चुकी है पर हर बार कोई न कोई कमबख्त आकर बुझा देता है – कभी उसका तथाकथित हरामी पति तो कभी अड़ोस-पड़ोस के अति संवेदनशील लोग.. वह इन असफलताओं से निराश कम और शर्मिंदा ज्यादा है..दूसरे विकल्पों पर सोचने का उसे मन ही नहीं क्योंकि जानती है कि उसमे बचने के कोई ‘चांस’ नहीं.

रोज सुबह-शाम तीन किलोमीटर दूर शहर से बाहर वीराने में रेल की पटरी तक टहलने जाता हूँ..पांच-सात मिनट पटरी को निहारता हूँ और लौट आता हूँ एक दिन ‘एड़वेंचर’ करने का मन किया सोचा कि किसी न किसी वजह से तो लोग अक्सर कटते-मरते हैं....बेवजह कोई क्यों नहीं मरता ? मन किया तो ‘ड़ेमो’ के तौर पर धड़ाम से धड़धड़ाते आते एक सुपरफास्ट के सामने कूद गया...पूरे शहर की जैसे बिजली गुल होती है,वैसा ही कुछ हुआ..एकदम अँधेरा छा गया..जब लाईट आई ( होश ) तो देखा ,एक प्राचीनकालीन सिपाहीनुमा व्यक्ति मेरी कलाई पकड़े चलने को उद्यत...मैंने पूछा-‘ कौन हो भाई और कलाई क्यों पकड़े है..छोड़िये मुझे..’

उसने जवाब दिया- ‘ हम यमदूत हैं..आपको ले जाने आये हैं ..यहाँ का कार्यकाल आपका समाप्त हुआ..’

‘ अरे भई..मैंने तो यूँ ही बैठे-ठाले एक ड़ेमो (एड़वेंचर) किया और आप सचमुच आ गए..अभी मेरा वक्त बाकी है महोदय और भी कई ‘एड़वेंचर’ करने हैं आपसे कोई भूल हुई है.....आप वापस जाएँ..’

‘ नहीं वत्स, भूल-चूक केवल मृत्युलोक के प्राणियों से होती है ...हमसे नहीं..आपका यहाँ इतना ही बसेरा था ..अब यमलोक चलें .. ’

‘हम छोड़ चले हैं महफ़िल को’ वाले अंदाज में मैं उदास हो गया..कलाई उसने जोरों से पकड़ रखी थी..छुड़ाना मुश्किल था.. मैंने कहा- ‘ ठीक है ..चलो..पर एक नजर मुझे ‘फ्लेशबेक’ तो निहारने दो कि ‘स्वर्गीय’ होने के बाद नीचे कैसा माहौल है....मेरे जाने से कौन उदास है , कौन खुश ..मेरे टहलकर नहीं लौटने से पड़ोसी कितने चिंतित हैं.. कामवाली बाई की क्या हालत है .... बेचारी बहुत दुखी होगी..दो बर्तन भर मांजने के सात सौ जो मिल जाया करते थे...’

‘वत्स, पहली बात तो यह है कि आप अपनी गलती सुधार लें...आप खुद को ‘स्वर्गीय’ ना कहें..वो तो ऊपर जाने पर तय होगा कि आप स्वर्गीय हैं या नारकीय..’

‘ पर हमारे यहाँ तो सदियों से हरेक परलोकवासी को इसी नाम से पुकारते हैं..इस पर आपको क्यों आपत्ति ?’

‘आपत्तिजनक बात है इसलिए आपत्ति है..सदियों से हम भी देखते आ रहे हैं....नाइंटीनाइन परसेंट आपके ये ‘स्वर्गीय’ नरक की शोभा बढ़ा रहें हैं..एक्के-दुक्के ही स्वर्गलोक के ‘वेटिंगलिस्ट’ में होते हैं..और रही बात फ्लेशबेक देखने की ..तो स्पस्ट बता दूँ. अपनी .तेरहवीं तक आप कुछ भी नहीं देख सकते..’

‘ भला क्यों?’

‘ वो इसलिए कि आपके ‘बेक’ में जाने से हमें ‘आगे’ जाने में काफी कठिनाई होती है..आप पुनः माया-मोह के चक्कर में पड़े कि हमारी समस्याएं बढ़ी ..’

‘ ठीक है..तेरहवीं के बाद ही सही..पर दिखाना जरुर..उस दिन का अखबार भी याद से दिखाना..सबकी खबर ली (पढ़ी) तो अपनी भी लूं ( देखूं).... एक बात बताओ..मैंने तो सुना था कि प्राण हरने यमलोक के अधिपति यमराज आते हैं..मुझे लेने क्यों नहीं आये ?’

‘ वे केवल वी.वी.आई.पी.. केस में जाते हैं ..ऐरे-गैरे नत्थू खरों के केस हम यमदूत ही निपटाते हैं..’

सुनकर मेरा दिमाग खराब हो गया..पर करता क्या ? कलाई उसने पकड़ रखी थी.

‘ अच्छा ये बताओ..कैसे जाना है ?...यमराज के पास तो भैंसा होता है...भगवान जाने वी.वी.आई.पी. को लेकर कैसे जाते हैं...मुझे तो शक है..वे ऊपर तक उन्हें ले भी जाते हैं या नहीं क्योंकि उनकी संख्या(वी.वी.आई.पी की ) हमारे यहाँ आज भी जस का तस है..’

‘ तुम फालतू की बातें अच्छी कर लेते हो....समझ लो ‘न हाथी है न घोड़ा है’ पैदल ही जाना है..’

‘ सजन रे झूठ मत बोलो..’ के अंदाज में मैं चीख पड़ा- ‘ नहीं.....’

किसी भी तरह मैं किसी वी.वी.आई.पी..की तरह रास्ते में नहीं छुटा और यमलोक पहुँच गया.रास्ते में दूत ने बताया कि उनका यम लोक देवलोक के अधीन काम करता है. यमलोक की कार्यप्रणाली से भी अवगत कराया...बताया कि मृत्युलोक में मनुष्य जिस-जिस प्रकार के कर्म किये होते हैं उसके अनुसार उन्हें स्वर्ग या नर्क का आबंटन होता है.. यमपुरी के अधिकारियों के नाम भी बताये- धर्मध्वज,चित्रगुप्त और धर्मराज.. वैसे प्रधान लेखाधिकारी श्री चित्रगुप्त ही माने जाते हैं जो मृत्युलोक के सब प्राणियों के कर्मों का, जन्म-मृत्यु का लेखा-जोखा रखते हैं. स्वर्ग और नरक पर संछिप्त जानकारी दी कि दंड़ या पुरस्कार प्राप्ति के लिए मनुष्य वहाँ जाता है..सत्संग,परोपकार,शुभ कार्य,समाजसेवा,करनेवाले स्वर्ग के हकदार होते है..यहाँ सदा दया, प्रेम,करुणा,सहानुभूति,उदारता की धाराएं बहती हैं..और भोग-विलास,तृष्णा,छोभ,दुःख,भय,चिंता,कष्ट जैसे अशुभ वासनाओं से ग्रसित लोग नरक को प्राप्त होते है..काम, क्रोध,लोभ और मोह को नरक के दरवाजे माने गए हैं.जब दूत इन सब की जानकारी बिना आर.टी.आई. के तहत दे रहा था तो मैंने उसे बीच मे टोका, पूछा- ‘ आपके यहाँ कितने स्वर्ग और कितने नर्क हैं ? ‘

‘स्वर्ग तो एक ही है पर नरक चौरासी लाख है..’ उसने जवाब दिया.

‘ ऐसा क्यूँ ? इतना अंतर तो हमारे यहाँ अमीर-गरीब के बीच भी नहीं..’ मैं चकित था.

‘ क्योंकि मनुष्य पाप अधिक और पुण्य कम करते हैं..’ उसने उत्तर दिया.

‘ तो सीधे-सीधे कहो न कि सबको नरक में धकेलना है..आपने जो मापदंड़ बना रखे हैं कि काम, क्रोध,लोभ और मोह को त्यागने वाले ही ‘स्वर्गवासी’ होंगे तो इससे बेहतर तो हमारा मृत्युलोक है...कुछ भी मत त्यागो.. खाओ, पीयो, मरो और ‘स्वर्गीय’ हो जाओ....’

उसने सफाई दी- ‘ मृत्युलोक में स्वर्गीय होना अपने मुंह मियां मिट्ठू बनने जैसे होता है... यहाँ की बात ही कुछ और है.. सुन्दर-सुन्दर नाचती-गाती अप्सराएं... शांत-शुद्ध निर्मल वातावरण.. खूबसूरत झरने..पहाड़.. चित्त को प्रसन्न करने वाले सारे सुहावने दृश्य...’

बातें करते-करते कब चित्रगुप्त के पास पहुंचे ,पता ही न चला..दुआ-सलाम के बाद यमदूत ने जब खाता खोलने का आग्रह करते मुझे चित्रगुप्त के सामने पेश किया तो एक ही झटके में मैंने कह दिया- ‘ ये सब नाटक की जरुरत नहीं महोदय .. वैसे भी मुझे ‘स्वर्ग’ जाने का कोई शौक नहीं....मैंने अपने हिस्से का स्वर्ग भोग लिया है...मैंने शादी ही नहीं की.. .सुन्दर-सुन्दर अप्सराओं का धौंस किसी और को दीजियेगा..बालीवुड़ की हिरोइनों को शायद आपने कभी देखा ही नहीं....’मुन्नी’ के एक ही लटके-झटके में आप चटक जायेंगे तड़क जायेंगे ....बताइये..कौन से नरक में जाना है मुझे ? महा रौरव में ,तामिस में, अंध तामिस में या कुम्भीपाक में... नरक तो आपने चौरासी लाख बना डाले हैं..हरेक पाप के लिए एक नरक.. पहले मालूम होता तो सारे पाप करके आता..इतना सब करते-करते एकाध हजार साल तो लग ही जाता...आपसे एक आग्रह है..स्वीकार करें तो बोलूं ?’

‘ अवश्य..’ चित्रगुप्त ने कहा.

‘ मेरी माने तो कहूँ....इतने सारे नरक मेंटेन करने की कोई जरुरत ही नहीं ..आप दो-तीन दिनों की छुट्टी लेकर मृत्युलोक जाएँ और वहाँ के किसी भी एक थाने, कचहरी, या सरकारी अस्पताल का दौरा कर आये..विश्वास दिलाता हूँ...हमारे ये तीनों स्थान आपके चौरासी-चौरासी लाख नरकों पर भारी पड़ेंगे...’

मेरी बातों पर अमल कर वे निकल तो गए पर दो-तीन महीने हो गए अब तक नहीं लौटे न मालूम किस नरक में वे ‘फ्राई ’ हो रहे हैं.. यमलोक का उनका सारा काम इन दिनों मैं ही देख रहा हूँ.. पुराने सारे खाते मैंने फिकवा दिए और सारे आगुन्तकों को(मृतकों को) सीधे स्वर्ग भेज रहा हूँ..(नरक तो बेचारे भोगकर ही आते हैं) .देवलोक में हड़कंप मचा है..सब एकजुट हो मुझे बर्खाश्त करने आमादा हैं..पर मैं भी ‘यू. पी.ए..’सरकार की तरह बेशर्मी से खूंटा गाड़े बैठा हूँ..देखता हूँ कौन माई का लाल मुझे हटाता है...’केग’ की तरह देवलोक की पोल खोल कर रख दूँगा..

.तभी कुछ खुलने की आवाज आई और मेरी नींद खुल गयी.. सामने दरवाजा खुला था ..दूधवाला दूध लिए यूँ मुस्कुराता खड़ा था जैसे विश्व बैंक किसी गरीब देश को मदद देने खड़ा हो.. मेरे स्वर्गीय सपने पर उसने दूध फेर दिया..भगवान जाने सपनों में ‘गतांक से आगे’ का पार्ट होता भी है या नहीं....अभी तक तो स्वर्ग बाँट रहा था..अब मेरे नरक जाने का ( आफिस जाने का ) समय हो रहा है...खुदा हाफिज..फिर मिलेंगे..

xxxxxxxxxxxxxxx

प्रमोद यादव

दुर्ग,छत्तीसगढ़

मोबाईल-09993039475

.

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर: 13
  1. वाह.....
    मन प्रफुल्लित हुआ
    सच में प्रमोद भैय्या दिन भर की थकान उतर गई
    सादर
    यशोदा

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर

    1. यशोदा बहनजी,
      मेरी हलकी-फुलकी रचना से आपका मन हल्का और प्रफुल्लित हुआ..मेरा अहोभाग्य...धन्यवाद...प्रमोद यादव

      हटाएं
  2. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए बुधवार 14/08/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in ....पर लिंक की जाएगी.
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर

    1. यशोदाजी, 'नयी-पुरानी-हलचल' में लिंक करने का शुक्रिया..कल जरुर यह लिंक देखूंगा..
      आपका -प्रमोद यादव

      हटाएं
  3. akhilesh chandra Srivastava7:25 pm

    Badhiy a likha hai badhaiee

    जवाब देंहटाएं
  4. अति सुंदर और यथार्थपरक.............

    जवाब देंहटाएं
  5. अति सुंदर और यथार्थपरक

    जवाब देंहटाएं

  6. श्री सुशील,अखिलेश,आशीष जी...आप सबका आभारी हूँ कि रचना आपने पसंद की ..आगे भी प्रयास रहेगा कि आपकी थकान दूर कर सकूँ..प्रमोद यादव

    जवाब देंहटाएं
  7. vaah pramod yaadav ji aapane to chauke chhakke lagaagaakar kahiyon ki chhutee kar dee ! jindagee ki aadhee peeda to aapake byang ke sheershak dekhkar khatam ho jaatee hai baakee padhane par ! bahut sundar , bahut saaree badhaaee ! harendra singh rawat

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर

    1. धन्यवाद रावतजी, बैठे-ठाले यूँ ही कुछ लिख लेता हूँ..आपका आभारी हूँ ..प्रमोद यादव

      हटाएं

  8. श्री रावतजी, आपकी बधाइयों का बहुत-बहुत शुक्रिया...प्रमोद यादव

    जवाब देंहटाएं
  9. बेनामी3:39 pm

    Pramod ji aap k ye व्यंग्य bhari baate kafi achhe lagti hai mai lagbhag roz 1-2 apne frnds ko aap ki व्यंग्य bhari kahaniya sonata hu.प्याज नमक वार्ता wali pada maja aa gaya... bas aap aise hi likhate rahna..

    vikas srivastava
    vikas.1104@gmail.com

    जवाब देंहटाएं
रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * |

| * उपन्यास *|

| * हास्य-व्यंग्य * |

| * कविता  *|

| * आलेख * |

| * लोककथा * |

| * लघुकथा * |

| * ग़ज़ल  *|

| * संस्मरण * |

| * साहित्य समाचार * |

| * कला जगत  *|

| * पाक कला * |

| * हास-परिहास * |

| * नाटक * |

| * बाल कथा * |

| * विज्ञान कथा * |

* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4040,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,338,ईबुक,193,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,112,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3005,कहानी,2255,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,541,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,96,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,345,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,67,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,16,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,28,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,242,लघुकथा,1249,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2005,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,709,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,794,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,17,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,84,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,205,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,77,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: प्रमोद यादव का व्यंग्य - अपने हिस्से का स्वर्ग
प्रमोद यादव का व्यंग्य - अपने हिस्से का स्वर्ग
http://lh3.ggpht.com/-it07IN4Vxig/UfoOz3NhHzI/AAAAAAAAVYo/wa0o9XIc6cw/clip_image002%25255B3%25255D.jpg?imgmax=800
http://lh3.ggpht.com/-it07IN4Vxig/UfoOz3NhHzI/AAAAAAAAVYo/wa0o9XIc6cw/s72-c/clip_image002%25255B3%25255D.jpg?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2013/08/blog-post_13.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2013/08/blog-post_13.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ