---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

अनामिका शुक्ला का संस्मरण : कैंसर का समाचार मृत्यु का संदेश नहीं है।

साझा करें:

यह मेरी माँ की कहानी है, जिन्होंने अपनी अदम्य इच्छाशक्ति के बल पर स्तन कैंसर को मात दी। मैं एक ऐसी विवाहिता हूँ, जिसकी एक संतान है और मेरे ...

यह मेरी माँ की कहानी है, जिन्होंने अपनी अदम्य इच्छाशक्ति के बल पर स्तन कैंसर को मात दी। मैं एक ऐसी विवाहिता हूँ, जिसकी एक संतान है और मेरे पति ने चार साल पहले साथ रहना छोड़ दिया था। उस कठिन हालत में मेरी माँ मेरे लिए सबसे बडा संबल थीं। उनके सहारे मैंने अपने कठिन हालातों पर विजय पायी थी।

मेरे पिता एक सेवानिवृत्त सरकारी अधिकारी हैं। अपने पति से अलग होने के बाद मैं अपने परिवार के साथ हरिद्वार भ्रमण पर गयी। कहावत है कि गंगा मे स्नान करने से समस्त पापों से छुटकारा मिल जाता है परंतु मेरा और मेरे परिवार का यह उद्देश्य नहीं था। हरिद्वार से लौटने के बाद मेरे पिता, माँ को डॉक्टर के पास लेकर गए क्योंकि उन्हें कुछ दिनों से अपने स्तन में एक दर्दरहित गाँठ होने की शिकायत थी। मेरी माँ ने यह सोचा कि यह कोई खास बात नहीं है और धीरे-धीरे यह गाँठ स्वतः समाप्त हो जाएगी। परंतु डॉक्टर ने इसकी पुष्टि स्तन कैंसर के रूप में की। उन्होंने और भी जांचें कराने तथा अन्य डॉक्टरों से परामर्श लेने की भी सलाह दी।

पिताजी को माँ के स्तन कैंसर का समाचार सुनकर गहरा धक्का लगा क्योंकि आमतौर पर ये धारणा है कि कैंसर होने का मतलब है सिर्फ मृत्यु। डॉक्‍टर ने उनसे मेरा फोन नंबर लिया तथा मुझसे विस्‍तार से बात की। शुरुआत के कुछ दिन हम लोगों को इस खबर पर यकीन ही नहीं हो रहा था। मैं अपने आप से पूछती कि आखिर ऐसा क्यों हुआ ? क्योंकि मेरी माँ का व्‍यवहार तो सभी के प्रति बहुत अच्छी रहा है। उन्होंने मुझे न सिर्फ अपने पैरों पर खड़ा किया वरन जीवन की समस्याओं से जूझना सिखाया। इस खबर के बाद कई बार मैं और पिताजी अकेले में मिलकर रोये लेकिन माँ को इसकी जानकारी नहीं दी। पर उनसे कब तक इस रहस्य को छुपाते ? अंततः तीसरे दिन हमने उन्‍हें इस बारे में बताया। यह सुनने के बाद उनके मुंह से सिर्फ यही वाक्य निकला कि, ‘‘हे प्रभु मुझे सिर्फ छह माह की मोहलत दे दो, मैं अपनी बेटी के जीवन में फिर से खुशियाँ देखना चाहती हूं।’’

आँखों में आँसू भरकर मैने उनसे पूछा कि – ‘क्या छह महीनों में मेरा जीवन सामान्य हो जाएगा और क्या मेरे पति मेरे पास लौट आयेंगे?’ मेरे आश्चर्य का उस समय कोई ठिकाना नहीं रहा, जब वे बोलीं, ‘‘हां वो वापस लौट आएगा।’’ जिस महिला को अभी-अभी स्तन कैंसर की बीमारी का पता लगा हो, वह अपने बारे में न सोचकर मेरे बारे में सोच रही थी। तब पहली बार मुझे लगा कि वे भीतर से बहुत दृढ इच्‍छाशक्‍ति वाली महिला हैं।

माँ और पिताजी ने मुझसे कहा कि मैं इस बुरी खबर को अपने भाई, जो मुंबई में नौकरी करते है, को न बताऊॅं। पर मुझे लगा कि इकलौते पुत्र होने के नाते उन्हें अपनी माँ की बीमारी के बारे में जानने का हक है। अतः मैंने उसे फोन पर सारी सूचना दे दी। अगले ही दिन वह दिल्ली पहुंच गए। उनके दिल्ली पहुंचने के बाद हमने दिल्ली में 4-5 डॉक्टरों से संपर्क किया और सारी रिपोर्ट मुंबई में एक डॉक्‍टर को भेजी। मेरे भाई ने माँ को इलाज के लिए मुंबई ले जाने का निर्णय लिया क्योंकि मैं एक कामकाजी महिला थी तथा मुझे अकेले दौड़भाग करने में दिक्क्त होती। मेरी माँ दिल्ली में रहकर ही इलाज कराना चाहती थी क्योंकि वे मुझे अकेला छोड़ना नही चाहती थी। परंतु मेरे भाई ने मुझे व्यावहारिक कठिनाईयों के बारे में समझाया।

काफी भारी मन से मेरी माँ इलाज के लिए मुंबई रवाना हो गयी। उनका उपचार शुरू हो गया तथा उन्होंने बेहद साहसपूर्ण तरीके से सर्जरी करायी। उनके इलाज के दौरान मेरे पिता और भाई बहुत बड़ा संबल थे। अस्पताल मे रहने के दौरान भी मेरी माँ ने कठोर इच्छा शक्ति का परिचय दिया। उन्हें अस्पताल में भी स्वयं से ज्यादा मेरी चिंता लगी रहती थी। उन्होंने अपने कष्टों के बारे में किसी को एक शब्द भी नहीं कहा।

इस दौरान उन्होने कीमोथैरेपी और रेडियोथैरेपी जैसे बेहद कष्टकारी उपचार झेले। हम सभी जानते हैं कि कीमोथैरेपी किसी कैंसर मरीज के लिए सबसे ज्यादा कष्टकारक इलाज है। इलाज के दौरान उनके सारे बाल झड़ गए। वे फोन पर मुझसे कहती कि ‘‘बेटा मेरे सारे बाल झड गए हैं?’’ मैं उन्हें तसल्ली देती कि ‘‘माँ, चिंता मत करो आपके और भी सुंदर बाल निकल आयेंगे।’’ कीमोथैरेपी के बाद उनका रेडियोथैरेपी से गुजरना तय था। उसके पूर्व वे मुझसे मिलने दिल्‍ली आयीं।

एयरपोर्ट पर जैसे ही मेरे बेटे ने उन्हें देखा, वह भागकर उनके गले लग गया। वे यह देखकर बहुत खुश हुयीं कि लगभग एक साल बाद भी मेरा कम उम्र बेटा उन्हें भूला नहीं था। इससे उनकी इच्छा शक्ति और जीने के हौसले में वृद्धि हुयी। चूँकि मेरी माँ का कैंसर काफी उन्नत अवस्था में था, इसलिए उन्हें हरसैप्टिन (मोनोक्लोनल एंटीबॉडी) के 17 इंजैक्शन भी लगाए गए। इस पूरे इलाज के बाद, जिसमें लगभग ढाई वर्ष का समय लगा, वे फिर से मेरे साथ रहने लगी लेकिन मेरे पति नहीं लौटे। फिर भी उन्हें आशा थी कि एक दिन वे लौट आयेंगे। छह माह बाद मेरे पति लौट आये और मेरे साथ रहने लगे।

अब मेरी माँ के बाल फिर से निकल आये हैं और सभी लोग कहते हैं कि वे विजयलक्ष्मी पंडित की तरह लगने लगी हैं। वे यह सुनकर मुस्कराती और थोड़ा शर्माती हैं।

अपनी इच्छा शक्ति, जीवन जीने की इच्छा, अपनों के प्यार और परिवार के सहयोग से कोई भी कैंसर पीडि़त व्यक्ति पुनः स्वस्थ हो सकता है, ऐसा मेरा मानना है। कैंसर का समाचार कोई मृत्यु का संदेश नहीं है।

- अनामिका शुक्‍ला

सेक्‍टर 7, रोहिणी

दिल्‍ली

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर: 8
  1. आप माता जी की हिम्मत की दाद देनी चाहिए। उनका नया जीवन मंगलमय हो।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सही बात !
    इच्छाशक्ति वाकई कुछ होती है !

    उत्तर देंहटाएं
  3. साहस और जीने की प्रबल इच्छा बहुत बड़ी दवा है. आपकी माँ शतायु हों.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेनामी11:47 am

    आपकी माँ के स्वस्थ होने से हमारा भी संबल बढ़ा है और एक सीख मिली है कि इच्छाशक्ति में असीमित बल है और क्यों न ठीक होतीं उनके पास एक पवित्र प्रयोजन था किसी का घर बसाने का............. डॉ. शुक्ल

    उत्तर देंहटाएं
  5. ashwani kumar sharma9:00 pm

    After all mother is mother, and who has a great will power which is a great thing and it is very rare...........this type of mother i wish should be everywhere..........

    उत्तर देंहटाएं
  6. Akhilesh Chandra Srivastava7:01 am

    Anamikaji aapke dwara varnit aapki mataji ka cancer jaisi ghatak bimaari se sangharsh vastav men prernadayak hai jo prabhu ichchashakti dete hain vohi
    ant tak ladne ki prerna bhi ,unki antim vijay par par hamari badhaii aur shubh
    kamna sachmuch padhte padhte aansoo nikal pade Bhagwan unhe lambi aayu
    den

    उत्तर देंहटाएं
  7. ‘ह्रदय घाव मोरे पीर रघुवीरे’,,,पुरे परिवार पर ईश्वर कि कृपया बनी रहे ,
    मनोज शर्मा ,sec.-7,Rohini,Delhi-85,

    उत्तर देंहटाएं
  8. your mother, your father, your brother & you are the icons who taught us how to live. I salute your struggle.

    उत्तर देंहटाएं
रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * |

| * उपन्यास *|

| * हास्य-व्यंग्य * |

| * कविता  *|

| * आलेख * |

| * लोककथा * |

| * लघुकथा * |

| * ग़ज़ल  *|

| * संस्मरण * |

| * साहित्य समाचार * |

| * कला जगत  *|

| * पाक कला * |

| * हास-परिहास * |

| * नाटक * |

| * बाल कथा * |

| * विज्ञान कथा * |

* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4020,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,338,ईबुक,193,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,111,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2985,कहानी,2239,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,534,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,94,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,344,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,66,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,14,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,28,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,242,लघुकथा,1244,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2002,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,705,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,790,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,17,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,80,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,201,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,75,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: अनामिका शुक्ला का संस्मरण : कैंसर का समाचार मृत्यु का संदेश नहीं है।
अनामिका शुक्ला का संस्मरण : कैंसर का समाचार मृत्यु का संदेश नहीं है।
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2014/02/blog-post.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2014/02/blog-post.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ