---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

महावीर सरन जैन का आलेख - अपभ्रंश एवं आधुनिक भारतीय आर्य भाषाओं के संक्रमण-काल की रचनाएँ (हिन्दी के विशेष संदर्भ में)

साझा करें:

अपभ्रंश एवं आधुनिक भारतीय आर्य भाषाओं के संक्रमण-काल की रचनाएँ (हिन्दी के विशेष संदर्भ में) प्रोफेसर महावीर सरन जैन यह तथ्य है कि यद्यपि अप...

अपभ्रंश एवं आधुनिक भारतीय आर्य भाषाओं के संक्रमण-काल की रचनाएँ (हिन्दी के विशेष संदर्भ में)

प्रोफेसर महावीर सरन जैन

यह तथ्य है कि यद्यपि अपभ्रंश के विविध भाषिक रूपों से ही आधुनिक भारतीय आर्य भाषाओं का विकास हुआ है तथापि इस विकास का व्यवस्थित एवं वैज्ञानिक अध्ययन प्रस्तुत करना सम्भव नहीं है। इस सम्बन्ध में अभी तक जितने कार्य सम्पन्न हुए हैं उनमें अधिकांशतः ‘अज्ञात से ज्ञात’ की प्रक्रिया अपनाई गई है। इस सम्बन्ध में यह उल्लेखनीय है कि ‘ ज्ञात से अज्ञात ॔ की ओर उन्मुख होने पर ही पुनर्रचना के सिद्धान्तों के आधार पर अज्ञात-अनुपलब्ध भाषिक रूपों को प्राप्त किया जा सकता है। इस प्रकार अपभ्रंश के अज्ञात एवं अनुपलब्ध भाषिक रूपों की पुनर्रचना करने के अनन्तर ही आधुनिक भारतीय आर्य भाषाओं की विकास यात्रा का वैज्ञानिक अध्ययन अंशतः सम्पन्न किया जा सकता है।

आज हमारे पास अपभ्रंश की जो सामग्री उपलब्ध है, उसके आधार पर आधुनिक आर्य भाषाओं की विकास यात्रा की सारी कडि़याँ अलग-अलग सुस्पष्ट रूप से जोड़ पाना दुष्कर है। इसके निम्नलिखित कारण हैंः

(1) हमारे पास अपभ्रंश के साहित्यिक भाषिक रूप ही उपलब्ध हैं। अपभ्रंश भाषाओं के बोले जाने वाले विविध प्रादेशिक भाषिक रूप उपलब्ध नहीं हैं।

(2) अपभ्रंश के जो साहित्यिक भाषिक रूप प्राप्त हैं, उनके प्रादेशिक भेदों / परिवर्तों का विवरण मिलता है। इस सम्बन्ध में विचारणीय यह है कि उपलब्ध प्रादेशिक भेद / परिवर्त क्या आधुनिक भारतीय आर्य भाषाओं (यथा - पंजाबी , हिन्दी, गुजराती, मराठी, बांग्ला, असमिया, ओडिया आदि) की भाँति भिन्न-भिन्न भाषाएँ हैं अथवा अथवा उस काल में सम्पर्क-भाषा की भूमिका का निर्वाह करने वाली एक साहित्यिक अपभ्रंश के प्रादेशिक भेद / परिवर्त हैं। दूसरे शब्दों में उपलब्ध रूप भिन्न-भिन्न भाषाएँ हैं अथवा किसी एक ही भाषा के प्रादेशिक भेद / परिवर्त हैं।

इस दृष्टि से जब हम उपलब्ध विविध अपभ्रंश रूपों पर विचार करते हैं तो पाते हैं कि इनके नामकरण का आघार प्रादेशिक है। विद्वानों ने इन्हें भिन्न-भिन्न भाषाएँ माना है। गहराई से अघ्ययन करने के बाद यह तथ्य हमारे सामने आता है कि इनमें केवल उच्चारण के धरातल पर थोड़े से घ्वन्यात्मक/ स्वनिक अन्तर ही मुख्य हैं। इन अन्तरों के सम्बन्घ में लेखक ने अपने एक आलेख में विचार किया है।

प्रोफेसर महावीर सरन जैन का आलेख - अपभ्रंशः भाषिक वैविध्य, सम्पर्क भाषा एवं भाषिक विशेषताएँ

http://www.rachanakar.org/2013/06/blog-post_946.html#ixzz2WrLrIEqu

ये अन्तर इतने भेदक नहीं हैं कि इन्हें अलग-अलग भाषाआओं का दर्जा प्रदान किया जा सके।

हिन्दी, मराठी, गुजराती,बांग्ला आदि आधुनिक भारतीय आर्य भाषाओं में केवल थोड़े से उच्चारणगत भेद ही नही हैं अपितु इनमें भाषागत भिन्नता है; इनमें पारस्परिक बोधगम्यता का अभाव है। उदाहरणार्थ, मराठी भाषी वक्ता मराठी भाषा के द्वारा मराठी से अपरिचित हिन्दी, बंगला गुजराती आदि किसी आधुनिक भारतीय आर्य भाषी के व्यक्ति को भाषिक स्तर पर अपने विचारों एवं भावों का बोध नही करा पाता। भिन्न भाषी व्यक्ति अपने अपने अभिप्राय को संकेतों, मुख मुद्राओं, भावभंगिमाओं के माध्यम से भले ही समझाने में समर्थ हों; भाषा के माध्यम से उनमें पारस्परिक बोधगम्यता नहीं होती । आज हमें जो साहित्यिक अपभ्रंश रूप उपलब्ध हैं, उनका नामकरण भले ही सुदूरवर्ती क्षेत्रों के आधार पर हुआ हो किन्तु तत्वतः ये उस युग के जन जीवन में उन विविध क्षेत्रों में व्यवहृत होने वाली भिन्न भाषाएँ नहीं हैं, प्रत्युत एक ही मानक अथवा साहित्यिक अपभ्रंश के क्षेत्रीय रूपों से रंजित रूप हैं। ऐसा नहीं हो सकता कि दसवी-बारहवीं शताब्दी के बाद तो भिन्न-भिन्न भाषाएँ विकसित हो गई हों किन्तु उसके पूर्व भाषिक अन्तर न रहे हों। आधुनिक युग में ‘भारतीय आर्य भाषा क्षेत्र’ में जितने भाषिक अन्तर मिलते हैं उसकी अपेक्षा अपभ्रंश युग में तो और अधिक अन्तर रहे होंगे । सर्वमान्य सिद्धान्त है कि सामाजिक सम्पर्क जितना सघन होता है, भाषा विभेद उतना ही कम होता है। आधुनिक युग में तो विभिन्न कारणों से सामाजिक संप्रेषणीयता के साधनों का अपभ्रंश युग की अपेक्षा कई गुना अधिक विकास हुआ है। नागरिक जीवन का फैलाव, महानगरों का बहुभाषी स्वरूप, पर्यटन विकास, शिक्षा का प्रसार, विभिन्न भाषा-भाषी समुदायों के बीच वैवाहिक, व्यापारिक एवं सांस्कृतिक सम्बन्धों का विकास, औद्योगिक क्षेत्रों की स्थापना और उनका बहुभाषिक परिवेश तथा सम्पूर्ण भारतवर्ष में एक केन्द्रीय शासन आदि विविध कारणों के विकास एवं प्रसार के कारण आज भिन्न भाषाओं के बोलने वालों के बीच परस्पर जितना सम्पर्क हो रहा है, आज से एक हजार साल पहले वह सम्भव नहीं था। इसके अतिरिक्त आधुनिक भारतीय आर्य भाषा काल में तो अरबी, फारसी, अंग्रेजी आदि विदेशी भाषाओं के शब्दों, ध्वनियों एवं व्याकरणिक रूपों ने सभी भाषाओं को प्रभावित किया है। इतना होने पर भी आज भी भिन्न क्षेत्रों की भाषाओं में पारस्परिक बोधगम्यता की स्थिति नहीं है। आज आधुनिक भारतीय आर्य भाषाओं के क्षेत्र में जितनी भिन्न भाषाओं एवं किसी भाषा के जितने भिन्न-भिन्न भाषिक उपरूपों तथा बोलियों का प्रयोग होता है, अपभ्रंश युग में इनकी अपेक्षा बहुत अधिक संख्या में प्रयोग होता होगा।

अपभ्रंश शब्द के भाषागत प्रयोग का जो प्राचीनतम उल्लेख प्राप्त है उसमें अपभ्रंश किसी स्वतंत्र भाषा के लिए नहीं अपितु संस्कृत के विकृत रूपों के लिए प्रयुक्त हुआ है।

(एकैकस्य हि शब्दस्य बहवोऽपभ्रंशाः। तद्यथा।गौरिस्यस्य निपशब्एकैकस्य शब्दस्य गावी गोणी गोता गोपोतलिकेत्येवमादयोऽपभ्रंशाः।

= एक एक शब्द के बहुत से अपभ्रंश होते हैं, जैसे ‘गौ’ इस शब्द के गावी, गोणी, गोता, गोपातलिका इत्यादि अपभ्रंश होते हैं।

(पातंजल, व्याकरणमहाभाष्यं, प्रथम आह्निक ))

नाट्यशास्त्रकार के समय प्राकृतों के काल में अपभ्रंश एक बोली थी। कालान्तर में इस बोली रूप पर आधारित मानक अपभ्रंश का उत्तरोतर विकास हुआ जिसका स्वरूप स्थिर हो गया। अपनी इस स्थिति के कारण इसका प्रयोग हिमालय से लेकर सिन्धु तक होता था तथा इसका रूप उकार बहुल था। प्राकृतों के साहित्यिक युग के पश्चात् उकार बहुला अपभ्रंश साहित्यिक रचना का माध्यम बनी। आठवीं-नौवीं शताब्दी तक राजशेखर के समय तक यही अपभ्रंश सम्पर्क भाषा के रूप में पंजाब से गुजरात तक व्यवहत होती थी। इसका प्रमाण ‘समस्त मरू एवम् टक और भादानक में अपभ्रंश का प्रयोग होता है तथा सौराष्ट्र एवं त्रवरगादि देशों के लोग संस्कृत को भी अपभ्रंश के मिश्रण सहित पढ़ते हैं’ - जैसी उक्तियाँ हैं।

सापभ्रंश प्रयोगाः सकलमरुभुवष्टक्कभादानकाश्च।

(काव्यमीमांसा, अध्याय 10)

सुराष्ट्र त्रवणाद्या ये पठन्त्यर्पितसौष्ठम् अपभ्रंशवदंशानि ते संस्कृत वचांस्यपि

(काव्यमीमांसा, अध्याय 7))

इस सम्पर्क भाषा अथवा मानक साहित्यिक अपभ्रंश का विविध क्षेत्रो में प्रयोग होने के कारण इसके उन विविध क्षेत्रों में प्रयुक्त होने वाले भिन्न-भिन्न भाषिक-रूपों से रंजित उच्चारण भेद हो गए। नौवी शताब्दी में ही रूद्रट ने स्वीकार किया कि अपभ्रंश के देशभेद से बहुत से भेद हैं। अपभ्रंश भाषा उपनागर, आभीर एवं ग्राम्य भेदों को भूरिभेद कहकर अर्थात् भूमि की भिन्नता के कारण एक ही भाषा के स्वाभाविक भेद बतलाकर रुद्रट ने एक महत्वपूर्ण तथ्य की ओर संकेत किया है।

(...... भूरिभेदो देशविशेषादप्रऽभंशः। स चान्यैरुपनागराभीर

ग्राम्यत्वभेदेन त्रिधोक्तस्तन्निरासार्थमुक्तं भूरि भेद इति। तस्य च लक्षणं लोकादेव सम्यगवसेयम् ।

(काव्यालंकार, 2।12।))

ईसा की 10 शताब्दी तक अपभ्रंश लोक-भाषा न रहकर साहित्य में प्रयुक्त होने वाली रूढ़ भाषा बन चुकी थी। वस्तुतः 11वीं शताब्दी से आधुनिक आर्य भाषाओं के प्राचीन भाषा रूपों में लिखित साहित्यिक ग्रन्थ मिलने आरम्भ हो जाते हैं। इसका यह अर्थ हुआ कि बोलचाल की भाषा के रूप में अपभ्रंश के विविध रूप 900 ई0 या अधिक से अधिक 1000 ई0 तक ही बोले जाते होगें। अपभ्रंश के इन विविध रूपों से विविध आधुनिक भारतीय आर्य भाषाओं का जिस प्रकार विकास हुआ, वह बोली जाने वाली सामग्री उपलब्ध नहीं है। इतना निश्चित है कि अपभ्रंश के देशगत भेद (विविध क्षेत्रों में बोले जाने वाले भिन्न-भिन्न भाषिक रूप) उतने अथवा उनसे भी अधिक अवश्य ही रहे होंगे जितने आधुनिक भारतीय आर्य भाषाओं के विद्यमान भेद मिलते हैं।

विष्णु धर्मोतरकार के अनुसार तो स्थान भेद के आधार पर अपभ्रंश के भेदों का अन्त ही नहीं है।

देशभाषा विशेषेण तस्यान्तो नैवे विद्यते

(विष्णुधर्मोत्तर पुराण, 3/3))

मार्कण्डेय ने ‘प्राकृत सर्वस्व’ में अपभ्रंश के 27 भेद गिनाए हैं –

1. व्राचड 2. लाट 3. वैदर्भ 4. उपनागर 5. नागर 6. वार्बर 7. आवन्त्य 8. मागध 9. पांचाल 10. टाक्क 11. मालव 12. कैकय 13. गौड़ 14. औढ्र 15. वैवपाश्चात्य 16. पाण्ड्य 17. कौन्तल 18. सैहल 19. कलिंग 20. प्राच्य 21. कार्णाट 22. कांच्य 23. द्रविड 24. गौर्जर 25. आभीर 26. मध्य देशीय 27. वैताल

(ब्राचडो लाट वैदर्भानुपनागर नागरौ बार्बरावन्त्यपांचालटांक्कमालवकैकयाः।

गौडोद्र वैनपाश्चात्यपाँडूयकौन्तल सैहला कलिंगप्राच्य कार्णाटिकां चद्राविडगौर्जराः।

आभीरो मध्यदेशीयः सूक्ष्म भेदव्यवास्थिताः सप्तविंशत्यपभ्रंशाः वेतालादि प्रभेदतः।)

(प्राकृत सर्वस्व, 2)

http://www.rachanakar.org/2013/06/blog-post_946.html

अपभ्रंश के विविध रूप बोले जाते थे, इसमें कोई सन्देह नहीं है किन्तु इनमें साहित्य उपलब्ध न होने के कारण इनका स्वरूप अज्ञात है। अपभ्रंश साहित्य का विकास मालवा, राजस्थान तथा गुजरात में हुआ। इन्ही प्रदेशों के भाषिक रूपों से रंजित साहित्यिक अपभ्रंशों में साहित्यिक रचना हुई। इसी साहित्यिक अपभ्रंश का रूप आज सुरक्षित है जिसमें कालान्तर में प्रत्येक प्रदेश के साहित्यकारों ने साहित्य रचना की। इस प्रकार हमें अपभ्रंश काल में विविध क्षेत्रों में बोले जाने वाले भिन्न-भिन्न भाषिक रूपों की कोई जानकारी नहीं है क्योंकि वे रूप उपलब्ध नहीं हैं; हमारे पास साहित्य के रूप में प्रयुक्त मानक अपभ्रंश के कुछ रंजित रूप ही उपलब्ध हैं। अपभ्रंश के इन साहित्यिक रूपों से निःसृत होते समय आधुनिक भारतीय आर्य भाषाओं का जो रूप बोला जाता होगा उसकी भी हमें जानकारी नहीं है। इस प्रकार के विवरण तो उपलब्ध हैं कि किस अपभ्रंश रूप से किस आधुनिक आर्य भाषा का विकास हुआ है। पंडित हरगोविन्द दास त्रिकमचंद सेठ ने जो विवरण प्रस्तुत किया है, उससे निम्न रूपरेखा प्राप्त होती है –

1.मागधी अपभ्रंश की पूर्वी शाखा से बंगला, उडि़या, असमिया

2. मागधी अपभ्रंश की बिहारी शाखा से मैथिली, मगही, भोजपुरी

3. अर्द्ध मागधी अपभ्रंश से पूर्वी हिन्दी भाषाएँ अर्थात अवधी, बघेली, छत्तीसगढ़ी

4. शौरसेनी अपभ्रंश से पश्चिमी हिन्दी भाषाएँ अर्थात बुन्देली, कन्नौजी, ब्रजभाषा, बांगरू, हिन्दी या उर्दू

5. नागर अपभ्रंश से राजस्थानी, मालवी, मेवाड़ी, जयपुरी, मारवाड़ी तथा गुजराती

6. पालि से सिंहली और मालदीवन

7. टाक्की अथवा ढाक्की से लहँदा या पश्चिमी पंजाबी

8. टांक्की अपभ्रंश (शौरसेनी से प्रभावयुक्त) पूर्वी पंजाबी

9. ब्राचड अपभ्रंश से सिन्धी

10. पैशाची अपभ्रंश से काश्मीरी

(पण्डित हरगोविन्ददास त्रिकमचंद सेठ: पाइअ-सद्द-महण्णवों (प्राकृत शब्द महार्णव) कलकत्ता, प्रथम आवृत्ति, संवत् 1985 (सन् 1928 ई0))

यद्यपि यह विवरण ऐतिहासिक सम्बंध निरूपण के उद्देश्य को ध्यान में रखकर प्रस्तुत है तथा इसका वर्तमान अथवा एककालिक भाषावैज्ञानिक अध्ययन की दृष्टि से कोई महत्व नही है तथापि इससे यह जानकारी मिलती है कि अपभ्रंश के विविध भाषिक रूप थे जिससे आधुनिक भारतीय आर्य भाषाओं का उद्भव हुआ है। जिसप्रकार हमें अपभ्रंश की अलग-अलग धारा के वैशिष्ट्य की जानकारी एवं सामग्री प्राप्त नहीं है, उसी प्रकार इन धाराओं से निःसृत होते समय आधुनिक भारतीय आर्य भाषाओं के बोलचाल अथवा उच्चरित स्वरूप की कोई जानकारी नहीं है।

अपभ्रंश की काल सीमा सन् 1000 तक मानी जाती है। आधुनिक भारतीय आर्य भाषाओं का उद्भव काल सन् 1000 से माना जाता है। अपभ्रंश एवं आधुनिक भारतीय भाषाओं का संक्रमण-काल सन् 800 ईस्वी से लेकर सन् 1150 ईस्वी तक माना जा सकता है। इस संक्रमण काल में बोलचाल के भाषिक रूपों की अनुपलब्धता की स्थिति में इसके भाषिक रूपों को जानने का आधार इस काल में रचित वे साहित्यिक अथवा भाषिक ग्रंथ ही हैं। इस काल का नाम हिन्दी के विद्वानों ने पिछली अपभ्रंश, उत्तरकालीन अपभ्रंश एवं अवहट्ठ भाषा का काल किया है। इस लेख में इस संक्रमण-काल (सन् 800 ईस्वी से सन् 1150 ईस्वी तक) में रचित रचनाओं अथवा कृतियों के सम्बंध में सूत्र शैली में प्रतिपादन किया जाएगा।

(1) सिद्ध साहित्य

महामहोपाध्याय हरिप्रसाद शास्त्री ने नेपाल की राजशाही लाइब्रेरी से सन् 1907 में ताड़पत्रों पर लिखे गए चर्यापद या सिद्धों की रचनाएँ (आठवीं से बारहवीं शताब्दी) का सम्पादन किया तथा उनकी पुस्तक “बौद्ध गान ओ दोहा” नाम से कलकत्ता से प्रकाशित हुई। कलकत्ता विश्वविद्यालय के जर्नल ऑफ द डिपॉर्टमैन्ट लैटर्स (JDL) के 28 वें अंक में सन् 1934 में श्री बागची द्वारा सम्पादित निम्न ग्रंथों का प्रकाशन हुआ – (1) तिल्लोपाद का दोहा कोष (2) सरहपाद का दोहा (3) कण्हपाद का दोहा (4) सरहपादकीय दोहा संग्रह (5) प्रकीर्ण दोहा संग्रह। हिन्दी के संदर्भ में राहुल सांकृत्यायन ने 84 सिद्धों में से 81 सिद्धों जैसे सरहपा, कणरीपा, लुईपा, कण्हवा आदि के साहित्य से उदाहरण देकर यह प्रमाणित किया है कि यह साहित्य हिन्दी के आरम्भिक काल का है। सरहपा का चौरासी सिद्धों की तालिका में छठा स्थान है। इनके सरहपाद, सरोजवज्र, राहुल भद्र नाम भी मिलते हैं। श्री राहुल सांकृत्यायन ने इनका जन्म काल सन् 769 ईस्वी माना है। ऐसी मान्यता है कि वे पाल वंश के राजा धर्मपाल (सन् 770 से 810 ईस्वी) के समकालीन थे। इस आधार पर इनका समय आठवीं एवं नौवीं शताब्दी ठहरता है। इनको बौद्ध धर्म की वज्रयान और सहजयान शाखा का प्रवर्तक माना जाता है। इनकी 20 से अधिक रचनाओं के नाम मिलते हैं किन्तु भाषा के अध्ययन की दृष्टि से इनका दोहा कोश अधिक चर्चित है। कण्हपाद के भी विविध नाम मिलते हैं। ये कण्हपा, कानपा, कानफा, कान्हूपा आदि नामों से जाने जाते हैं। इनका समय देवपाल (सन् 809 से सन् 849 ईस्वी तक) माना जाता है। इनके 27 संकीर्तन के पद तथा इनकी 57 पुस्तकों के नाम मिलते हैं। इनकी भाषा के सम्बंध में मत-भिन्नता है। श्री विनय तोष भट्टाचार्य इन्हें उड़िया (ओडिया) भाषी मानते हैं।

(साधनमाला, गायकवाड़ ओरियंटल सीरीज़, पृष्ठ 53)

श्री हर प्रसाद शास्त्री ने इन्हें बंगला (बांग्ला) भाषी माना है।

(बौद्ध गान ओ दोहा, पृष्ठ 24)

श्री राहुल सांकृत्यायन ने इन्हें मगही (बिहार की हिन्दी की उपभाषा) भाषी माना है।

(गंगा, पुरातत्त्वांक, पृष्ठ 254-255)

डॉ. धर्मवीर भारती ने डॉ. धीरेन्द्र वर्मा के निर्देशन में सिद्ध साहित्य पर डी. फिल. उपाधि के लिए कार्य किया तथा इसी शीर्षक से उनकी पुस्तक प्रकाशित है।

(2) ‘पुष्य’ या ‘पुष्प’- हिन्दी के संदर्भ में डॉ. हीरा लाल जैन ने इनका वास्तविक नाम ‘पुष्पदंत’ माना है तथा इनका रचनाकाल विक्रम सम्वत 1020 अर्थात 963 के आसपास माना है। डॉ. हीरा लाल जैन के मतानुसार मान्यकेट राष्ट्रकूट राजा कृष्ण तृतीय (सन् 939 से 968 ईस्वी) के मंत्री भरत तथा उनके पुत्र नन्न का इन्हें आश्रय प्राप्त था। उन्होंने इनकी रचनाओं का रचनाकाल इस प्रकार माना है-

(अ) तिसट्ठि पुरिस गुणालंकार (महापुराण) (रचनाकाल – 965 ईस्वी के आसपास)

(आ) णायकुमार चरिउ (चरित कथा) (रचनाकाल – सन् 971 ईस्वी में रचना पूर्ण हुई)

(इ) जसहर चरिउ (यशोधर कथा) (रचनाकाल सन् 972 ईस्वी में रचना पूर्ण हुई)

इनकी भाषा के स्वरूप को समझने की दृष्टि से एक उदाहरण प्रस्तुत है –

हहउं थंभमि रविहि विमाणु।

जंतु चंदस्स जोण्ह छायामि तुरंतु।

सव्वहु विज्जउ महु विफ्फुरंति।

बहु तंत मंत अग्गइ सरंति।

(मैं सूर्य के विमान की गति को रोक सकता हूँ। चन्द्रमा की ज्योति को फीका कर सकता हूँ। मुझमें सब विद्याएँ स्फुरायमान हैं। बहुत से तंत्र मंत्र मेरे आगे चलते हैं।)

अपभ्रंश एवं प्राचीन हिन्दी के संक्रमण काल की भाषा के स्वरूप को समझने की दृष्टि से उपर्युक्त उदाहरण में कारक रचना एवं क्रिया रचना के निम्न विभक्ति रूप / परसर्गों के पूर्ववर्ती रूपों को पहचाना जा सकता है –

कारक

विभक्ति / परसर्ग

सम्बंध कारक

- हि, -अस्स

अधिकरण कारक

- हु, -मज्झि, -उप्परि

उत्तम पुरुष एक वचन वर्तमान काल

- मि

अन्य पुरुष बहु वचन वर्तमान काल

- अन्ति

(3) देवसेन कृत सावय धम्म दोहा – डॉ. हीरा लाल जैन ने इसका रचनाकाल विक्रम सम्वत् 990 (990 – 57) सन् 933 ईस्वी माना है। इसकी भाषा का परवर्ती रूप हमें मुनि राम सिंह के पाहुड दोहा में मिलता है। पाहुड दोहा की भाषा निश्चित रूप से सन् 950 ईस्वी के बाद की है। इस कारण सावय धम्म दोहा की भाषा पाहुड दोहा की भाषा के पहले की है। डॉ. हीरा लाल जैन ने पाहुड दोहा का रचना काल सन् 1100 ईस्वी के पूर्व माना है।यद्यपि सावय धम्म दोहा का रचनाकाल पुष्प दंत की रचनाओं के रचनाकाल के पहले का है मगर भाषा विकास की दृष्टि से सावय धम्म दोहा की भाषा अधिक विकसित है। इससे यह प्रतीत होता है कि देवसेन ने पुष्प दंत की अपेक्षा जन-भाषा के प्रयोग पर अधिक बल दिया है।

(4) अद्दहमाण पसिद्धो संनेह रासयं रइयं (संदेश रासक) – इसके रचनाकार ने अहने नाम का उल्लेख “अद्दहमाण” के रूप में किया है और इससे अब्दुल रहमान का आश्रय लिया गया है। (देखें- संदेश-रासक, हिन्दी ग्रंथ रत्नाकर, बम्बई, प्रस्तावना – डॉ. हजारी प्रसाद द्विवेदी)

कवि ने रचना के आरम्भ में कवि वंदना में “तिहुयण” (त्रिभुवन) का भी उल्लेख किया है तथा उनके लिए “ दिट्ठ” का प्रयोग किया है जिसका अर्थ होता है – देखा है। बाह्य साक्ष्यों के अनुसार त्रिभुवन का समय सन् 893- 943 के आसपास ठहरता है। (पउम चरिउ के सम्पादक डॉ. भयाणी के मतानुसार)। इस आधार पर इनका समय दसवीं शताब्दी का पूर्वार्द्ध माना जा सकता है।

इस रचना को अगर चंद नाहटा विक्रम सम्वत् 1400 के आसपास की रचना मानते हैं।

(राजस्थान भारती, भाग 3, अंक 1, पृष्ठ 46)

मुझे अगर चंद नाहटा का मत तर्क संगत नहीं लगता। इसका कारण यह है कि आचार्य हेमचन्द्र सूरि ने अपने ग्रंथ हेम शब्दानुशासन में संदेश रासक का पद्य उद्धृत किया है तथा “सिद्ध-हेम” का रचनाकाल विक्रम सम्वत् 1192 (1192 – 57 = 1135) सन् 1135 मान्य है। इस कारण अगर चन्द नाहटा की मान्यता तर्क संगत नहीं है तथा इसका रचनाकाल आचार्य हेम चन्द्र सूरि के पूर्व मानना उपयुक्त प्रतीत होता है। मुनि जिन विजय के मतानुसार इसकी रचना विक्रम सम्वत् 1175 से 1225 के बीच हुई होगी। इस आधार पर इसका रचनाकाल सन् 1118 से 1168 ईस्वी के बीच हुआ। इसकी भाषा के स्वरूप को समझने की दृष्टि से एक उदाहरण प्रस्तुत है –

तं जि पहिय पिक्खेविणु पिअउक्कंखिरिय,

मंथरगय सरलाइवि उत्तावलि चलिय।

तह मणहर चल्लंतिय चंचल रमण भरि,

छुडवि-खिसिय रसणावलि किंकिणरव पसरि।। 26।।

(पथिक को देखकर पति के पास संदेश भेजने की उत्कंठा से वह वियोगिनी नायिका मंथर गति से सरल करके उतावली से चल पड़ी। शीघ्रता के कारण उसके मनोहर चंचल नितम्बों से करधनी खिसककर गिर पड़ी। उसकी किंकिणियों का स्वर फैल गया।)

इस उदाहरण से क्रिया के भूतकाल के निम्न रूपों में प्रयुक्त होनो वाली विभक्तियों का प्रयोग स्पष्ट है-

अन्य पुरुष एकवचन स्त्रीलिंग भूतकाल

- इय

अन्य पुरुष एकवचन पुल्लिंग भूतकाल

- इ

(4) आचार्य हेमचन्द्र सूरी(1088 -1172)-

आचार्य हेमचंद्र का जन्म विक्रम सम्वत् 1145 (1145 -57 =1088) सन् 1088 माना जाता है। आप अद्वितीय विद्वान थे। आपकी दर्शन, धर्म, योग, व्याकरण, साहित्य विषयक संस्कृत और प्राकृत में अनेक प्रसिद्ध रचनाएँ हैं। उनके 'त्रिषष्ढिशलाकापुरुश चरित' (पुराण काव्य) एवं देशीनाममाला (कोश ग्रंथ) तथा अभिधानचिंतामणि (पर्यायवाची कोश) में तत्कालीन युग की भाषिक सामग्री प्राप्त हो जाती है।

(5) प्राकृत पैंगलम - यह किसी एक काल की रचना नहीं है। डॉ. सुनीति कुमार चटर्जी के मतानुसार इसमें संकलित पदों का रचनाकाल 900 ईस्वी से लेकर 1400 ईस्वी तक का है। इस कारण इसके आधार पर अपभ्रंश तथा आधुनिक भारतीय भाषाओं के संक्रमण काल के भाषिक स्वरूप के सम्बंध में प्रामाणिक सामग्री नहीं मानी जा सकती। हिन्दी की उपभाषाओं पर कार्य करने वाले विद्वान भी इसकी भाषा के सम्बंध में एकमत नहीं हैं। ब्रज भाषा पर कार्य करने वाले विद्वानों ने इसे ब्रज भाषा का ग्रंथ माना है किन्तु डॉ. उदय नारायण तिवारी के अनुसार इसमें अवधी, भोजपुरी, मैथिली और बंगला के प्राचीनतम रूप भी मिलते हैं।

(देखें- डॉ. उदय नारायण तिवारी : हिन्दी भाषा का उद्गम और विकास, पृष्ठ 152)

डॉ. कैलाश चन्द्र भाटिया ने इसमें खड़ी बोली के तत्त्व भी ढूढ़ निकाले हैं।

(देखें – प्राकृत पैंगलम की शब्दावली और वर्तमान हिन्दी : सम्मेलन पत्रिका, वर्ष 47, अंक 3)

(6) रोडा कृत राउलबेल – डॉ. कैलाश चन्द्र भाटिया इसका रचना काल 1050 ईस्वी के आसपास मानते हैं। इसकी भाषा के सम्बंध में डॉ. माता प्रसाद गुप्त का कहना है कि इसकी भाषा को पुरानी दक्षिण कोसली माना जा सकता है। इसकी भाषा के सम्बंध में डॉ. हरिवल्लभ चुनीलाल भायाणी का मत सबसे अधिक प्रामाणिक प्रतीत होता है। उनके मतानुसार इसमें वर्णित आठ राजभवन की रमणियों के नखशिख सौन्दर्य का वर्णन है जो अपभ्रंशोत्तर आठ बोलियों के तत्त्वों से युक्त रहे होंगे। डॉ. भयाणी के मत से इसमें प्राप्त वर्णन क्रमशः अवधी, मराठी, पश्चिमी हिन्दी, पंजाबी, बंगाली, कन्नौजी तथा मालवी के पूर्व रूपों में लिखे गए हैं।

(7) सुगंध दशमी कथा – डॉ. हीरा लाल जैन के अनुसार इसके रचनाकार उदय चन्द्र हैं तथा इसका रचनाकाल सन् 1150 ईस्वी है।

(8) कथा कोश – डॉ. हीरा लाल जैन के अनुसार इसके रचनाकार मुनि श्रीचन्द्र है तथा इसकी रचना सन् 1066 ईस्वी के लगभग हुई।

डॉ. हीरा लाल जैन के अनुसार सुगंध दशमी कथा तथा कथा कोश इन दोनों रचनाओं के भाषिक रूपों से अपभ्रंश के परवर्ती भाषिक स्वरूप की जानकारी प्राप्त होती है

-----

प्रोफेसर महावीर सरन जैन

सेवा निवृत्त निदेशक, केन्द्रीय हिन्दी संस्थान

123, हरि एन्कलेव, बुलन्द शहर – 203 001

855 DE ANZA COURT

MILPITAS

C A 95035 – 4504

(U. S. A.)

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

रचनाकार - हिंदी साहित्य का असीमित आनंद लें

---प्रायोजक---

---***---

|कथा-कहानी_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

|हास्य-व्यंग्य_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

---प्रायोजक---

---***---

|काव्य-जगत_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

|संस्मरण_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

आपके लिए हिंदी में सैकड़ों वर्ग पहेलियाँ

---प्रायोजक---

---***---

|लघुकथा_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

|उपन्यास_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

|लोककथा_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * |

| * उपन्यास *|

| * हास्य-व्यंग्य * |

| * कविता  *|

| * आलेख * |

| * लोककथा * |

| * लघुकथा * |

| * ग़ज़ल  *|

| * संस्मरण * |

| * साहित्य समाचार * |

| * कला जगत  *|

| * पाक कला * |

| * हास-परिहास * |

| * नाटक * |

| * बाल कथा * |

| * विज्ञान कथा * |

* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=complex$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3996,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,338,ईबुक,193,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,110,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2968,कहानी,2228,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,529,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,94,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,339,बाल कलम,25,बाल दिवस,3,बालकथा,62,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,10,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,26,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,240,लघुकथा,1217,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1995,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,700,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,782,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,15,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,75,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,196,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,75,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: महावीर सरन जैन का आलेख - अपभ्रंश एवं आधुनिक भारतीय आर्य भाषाओं के संक्रमण-काल की रचनाएँ (हिन्दी के विशेष संदर्भ में)
महावीर सरन जैन का आलेख - अपभ्रंश एवं आधुनिक भारतीय आर्य भाषाओं के संक्रमण-काल की रचनाएँ (हिन्दी के विशेष संदर्भ में)
https://lh3.googleusercontent.com/-gY2x1Y2oUCw/AAAAAAAAAAI/AAAAAAAAAAA/E7BGmIIKJ4g/s120-c/photo.jpg
https://lh3.googleusercontent.com/-gY2x1Y2oUCw/AAAAAAAAAAI/AAAAAAAAAAA/E7BGmIIKJ4g/s72-c/photo.jpg
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2014/04/blog-post_6.html
https://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2014/04/blog-post_6.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ