रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

मनोज 'आजिज़' की लघुकथा

(लघुकथा)

जाति 

-------

         -- मनोज 'आजिज़'

स्कूल में जातिगत आरक्षण के तहत छात्रों के लिए मुफ्त किताबें देने की बात कही गई । कई अभिभावक आये, आवेदन दिए और जांचोपरांत सभी को किताबें दी गईं । अमन भी कोशिश करने लगा पर पिता की ड्यूटी और माँ की नासाज़ तबीयत के चलते काम बन नहीं रहा था । खुद कई बार जाकर अपने वर्ग-शिक्षक से कहा पर विशेष आग्रह और ध्यान बटोर नहीं पाया । 

तीन-चार दिन पर अमन की माँ स्कूल गई । शिक्षक से मिली और आवेदन दी । आवेदन देने के साथ ही अमन की माँ कह पड़ी-- मैडम, जाति से ऊँचे हैं तो क्या हुआ, कमाई से तो गरीब ही हैं । तीन साल में अमन को कितना कुछ दे पाये हैं, ये तो आप लोगों से छुपा नहीं है । हम लोगों को जो कहिए, अमन को किताब दिला दीजिए, मैडम । आप जो भी मानिये, हम लोग तो गरीबी को ही अपनी जाति मानते हैं ।

3 टिप्पणियाँ

  1. लघुकथा अच्छी है पर किसी जाति को आरक्षण इसलिए दिया जाता है क्युकि उस जाति पर कई प्रकार के अत्याचार किये गए .

    जवाब देंहटाएं
  2. मनोज, आपने एक गंभीर विषय उठाया है और इस लघुकथा के माध्यम से मानवता को विशेष जगह दी है । जाति-धर्म-प्रान्त-भाषा आदि की संकीर्णता मानवतावादी होकर ही ख़त्म होगी । आपको बधाई !

    जवाब देंहटाएं
  3. मनोज, आपने एक गंभीर विषय उठाया है और इस लघुकथा के माध्यम से मानवता को विशेष जगह दी है । जाति-धर्म-प्रान्त-भाषा आदि की संकीर्णता मानवतावादी होकर ही ख़त्म होगी । आपको बधाई !

    जवाब देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.