गिरीश पंकज के प्रसिद्ध उपन्यास "एक गाय की आत्मकथा" की यथार्थ गाथा

SHARE:

(गिरीश पंकज के उपन्यास एक गाय की आत्मकथा का विमोचन)     दिनेश कुमार माली , तलचेर , ओडिशा   ' एक गाय की आत्मकथा ' ही क्यों ? ‘...

image

(गिरीश पंकज के उपन्यास एक गाय की आत्मकथा का विमोचन)

 

 

दिनेश कुमार माली,

तलचेर,ओडिशा

 

'एक गाय की आत्मकथा' ही क्यों ?

‘एक गाय की आत्मकथा’ गिरीश पंकज जी का आधुनिकता के प्रभाव से विकृत होती मानवीय चेतना को झकझोरने वाला शिक्षाप्रद उपन्यास है, जो न केवल वर्तमान समय वरन मानव सभ्यता के उद्भव से लगाकर वेद-पुराण सारे धार्मिक ग्रन्थों के रचयिताओं, धर्मगुरुओं, राज-नेताओं, गांधी, विनोबा भावे, शंकराचार्य जैसे महान विद्वानों द्वारा गो-वध पर रोक लगाने के आवाहन को चरितार्थ करने के पीछे छुपे उद्देश्यों के प्रासंगिकता पर पूरी तरह से खरा उतरता है।

गिरीश पंकज जी से मेरा व्यक्तिगत परिचय लगभग एक दशक पुराना है,इसलिए मैं यह कह सकता हूँ कि वे जितने मितभाषी है, उतने ही ज्यादा मृदुभाषी भी है।यह ही नहीं,वे बहुत ही कम शब्दों में अधिक से अधिक सारगर्भित बातों को रखने में सिद्धहस्त हैं। व्यंग्य की दुनिया में तो उनका कहना ही क्या! गैलेक्सियों में चमकते हुए एक सितारे की तरह वह दैदीप्यमान है।सृजन गाथा में लगातार कई वर्षों से प्रकाशित हो रहे उनके स्थायी स्तंभ “विक्रम वेताल” का मैं नियमित पाठक व प्रशंसक रहा हूँ, उनकी व्यंग्य-रचनाएँ समाज के यथार्थ को उजागर करने के साथ-साथ एक नव संदेश भी देती है, अपने सामाजिक मूल्यों,चारित्रिक गुणों,मान-मर्यादा तथा विरासत में प्राप्त संस्कृति की रक्षा के लिए।

 

इस किताब पर कुछ लिखने से पूर्व बार-बार मेरे मन में एक ही सवाल आ रहा था कि आखिरकार गिरीश पंकज जी जैसे बड़े रचनाकार को “एक गाय की आत्मकथा” जैसे छोटे विषय पर इतना बड़ा उपन्यास लिखने की आवश्यकता क्यों पड़ी? क्या वह हाईफ़ाई व हाइटेक आधुनिक संवेदनहीन समाज को कुछ सिखाना चाहते है? उन्हें विकास के नाम पर प्रकृति व संस्कृति के दोहन को रोकने की शिक्षा देना चाहते हैं? आज भी वह बात अच्छी तरह याद है,बचपन में जब छोटी क्लास में हम पढ़ते थे, तब होमवर्क में गाय की आत्मकथा जैसे निबंध लिखने के लिए शिक्षक देते थे। आज भी स्मृति-पटल पर एक छात्र द्वारा परीक्षा के पेपर में लिखा गया वाक्य “गाय हमारी माता है, हमको कुछ नहीं आता है” की जांच की दौरान शिक्षक के द्वारा लिखा गया कमेंट “बछिया के तुम ताऊ जी, जीरो नंबर पाओ जी” का व्यंग्य तरोताजा हो कर उभरकर सामने आता है और अतीत की उन यादों में खोकर मंद-मंद मुस्कराने के लिए बाध्य कर देता है। मेरे कहने का अर्थ यह था कि हमारी शिक्षा की प्रारम्भिक नींव की शुरूआत भी गाय से होती है, बचपन से ही हमारे भीतर अपने देश की सांस्कृतिक परम्पराओं के अनुसार गाय को ‘गौ-माता', गंगा नदी को ‘गंगा माँ,’ हमारे देश को ‘भारत माता तथा सरस्वती प्रतिमा को सरस्वती-माँ के नाम से पुकारकर एक रागात्मक रिश्ता दर्शाते हुए भारतीय दर्शन के पावन परिवेश को उजागर करने का प्रचलन रहा है। इस उपन्यास में गिरीश पंकज जी ने 17 अध्यायों की रचना की है, जिसमें उन्होंने देशभर की अनेक पत्र-पत्रिकाओं पुस्तकों तथा शोध-ग्रंथों का संदर्भ लिया है,जिसमें ‘कल्याण’ मासिक पत्रिका ‘गौ अंक’, गीताप्रेस गोरखपुर, राम चरित मानस, युग निर्माण योजना डॉ॰ नेमीचन्द की पुस्तक ‘कत्लखाने:सौ तथ्य', किसान और गाय स्वामी मंसूक दास ‘पेटा’ की वेव साइट विकास दावे की पौराणिक एवं आधुनिक गौ भक्ति कथाएँ आदि प्रमुख हैं। यही नहीं, उपन्यास के अंदर सभी धर्मों जैसे मुस्लिम, जैन, सिख, बौद्ध, ईसाई सभी धर्मों के ग्रंथों का सटीक सहारा लेते हुए यह सिद्ध किया है कि किसी भी धर्म में गो-वध का उल्लेख नहीं है, वरन सारे धर्म गो रक्षा के पक्षधर है

 

राजस्थान के एक किसान परिवार में पैदा होने के कारण मुझे गिरीश पंकज जी के उपन्यास “गाय की आत्मकथा” को आत्मसात करने में बिलकुल भी समय नहीं लगा, क्योंकि मैंने अपने घर के मुख्य व्यवसाय पशु-पालन व खेतीबाड़ी के कार्यों को अत्यंत ही नजदीक से देखा। यह उपन्यास पढ़ते समय ऐसा लग रहा था मानो कोई अदृश्य शक्ति मुझे अपने अतीत में ले जा रही हो और उस बाल्य व किशोर जीवन के स्मृति-पटल पर अंकित दृश्य एक-एककर पुनर्जीवित हो रहे हो।अरावली पर्वत के तलहटी में बसी मेरी जन्म-स्थली सिरोही नगरी के कालकाजी तालाब के पीछे वाला हमारा हरा-भरा खेत,गेहूं और 'रजगे' की क्यारियों में हाथ में फावड़ा लिए सिंचाई करती माँ, 'ओडू' के पास खूँटें से बंधी चारे के लिए रंभाती गाय और नहर के उस पार से गुलाबी साफा पहने अपने कार्यालय जिला कोषालय से घर लौटते पिताजी। सब-कुछ एक-एककर याद आने लगा था। साइकिल के पीछे कैरियर पर चारे व सूखी लकड़ी की गठरी बाँधें खेत से घर की ओर जाता बड़ा भाई। बीच रास्ते में हिन्दू श्मशान घाट। इस उपन्यास की एक-एक पंक्ति मेरे अवचेतन मन के किसी सुषुप्त कोने को जगा रही थी। ऐसा लग रहा था, जैसे हो-न-हो, मैं भी इस उपन्यास के किसी पात्र की भूमिका अदा कर रहा हूँ और सशक्त भाषा-शैली इतना ज्यादा प्रभावित कर रही थी कि मुझ जैसे एक अकर्मण्य पाठक के भीतर एक कर्मयोगी पात्र सजीव हो उठा हो। धन्य हो उस लेखनी को जो मुझे याद दिला रही थी,घर के अलंदू भरे गुवाल में आठ-दस गायों का झुंड तथा उनकी सेवा-सुश्रूषा करती,चारा डालती,पानी पिलाती,गोबर उठाती व छत पर कंडे बनाती माँ की स्मृतियाँ। गायों के बीमार होने की अवस्था में बांस की वेजनुमा खोखल से दवाई पिलाना, प्रसूता गाय द्वारा बछड़ों को जन्म देने जैसे सजीव दृश्य क्या भूले जा सकते हैं!

एक वृतचित्र की तरह मेरी आँखों के सामने उपन्यास पढ़ते समय सब-कुछ गुजर रहा था मानो मैं सिनेमाघर में बैठकर कोई मर्मस्पर्शी फिल्म देख रहा हूँ।मानवीय संवेदनाओं से ओत-प्रोत कई भावुक दृश्यों की तरह शाम को घर आती गायों का अपने बछड़ों के लिए रंभाना,अपने  निश्चित खूँटे पर जाकर चुपचाप खड़ी होकर अपने बांधने का इंतजार करना तथा अपने चारा डालते मालिकों के प्रति गल-कंबल हिला कर आभार व्यक्त करना देख मैं अचंभित होता जा रहा है। क्या पाशविक संवेदनाओं में मानवीय संवेदनाएँ अध्यारोपित हो सकती है? पशु मनुष्य की संवेदनाओं को ग्रहण कर सकता है, मगर मनुष्य पशु के हृदय की बात को समझ सकता है? यह कैसा साहचर्य व कैसी जैव-मित्रता है? वह दृश्य आज भी मेरे लिए अविस्मरणीय है जब हमारी गाय का बछड़ा किसी साँप के काटने अथवा बीमारी की वजह से मर गया था और गाय की आँखों से उसका मृत-देह देखकर लगातार आँसू गिर रहे थे,फिर भी खेत में काम कर रहे उस ग्वाले की लालच के बारे में क्या टिप्पणी करूंगा जिसने उसकी पिछली दोनों टांगों को रस्सी के टुकड़े से बांधकर दूध दोहना शुरू किया। इस पर जब गाय ने सींग हिलाकर,पूंछ फेंककर तथा आगे के पाँव पटककर अपनी असहमति और आपत्ति का प्रदर्शन किया तो उस छद्मवेशी गोपाल ने मरे हुए बछड़े को किसी चमार को देकर उसका चमड़ा उधेड़ कर उसमें घास-फूस भरकर उसका पुतला बनाकर गाय के सामने लाकर रख दिया ताकि गाय उसे असली समझकर दूध देने के लिए तत्पर हो जाए। मगर यह किसी पशु के साथ 'इमोशनल ब्लैकमेल' नहीं तो और क्या है? क्या गाय संवेदनशील प्राणी नहीं है? क्या उसे जिंदा या मुर्दा बछड़े के भीतर अंतर महसूस नहीं हो सकता है? क्या वह अपनी आँखों के सामने अपने मरे हुए बछड़े का पुतला देखकर असलियत नहीं समझ पाएगी? मगर लालची मनुष्य को गाय की संवेदना से क्या लेना-देना, उसे तो पैसे कमाने से मतलब होता है। क्या पाप क्या,पुण्य। सारा भारतीय दर्शन ‘जियो और जीने दो’, “जैव-मैत्री” के सारे सिद्धान्त, सारी विचार-धारा पल भर के लिए उनकी लोलुपता के आगे समाप्त हो जाती है।

अगर मनुष्य पुनर्जन्म में विश्वास करता है और चौरासी लाख योनियों के आवागमन के चक्कर में पड़ने से बचने के लिए सोचता तो इस तरह के घातक कार्य कभी नहीं करता। अगर आत्मा का पुनर्जन्म होता है तो आज जो मनुष्य गाय को खा रहा है तो कल उसी गाय की आत्मा एक कसाई का रूप धारण कर अगले जन्म में गाय का शरीर धारण किए हुए उसी मनुष्य का भक्षण कर सकती है।अगर यह सृष्टि का नियम है तब तो मनुष्य को किसी भी मूक प्राणी का वध करना नहीं चाहिए। एक दृश्य मुझे आज भी विचलित करता है कि  जब हमारी गाय,जिसे माँ गोमती कहकर पुकारती थी, अचानक एक ऐसी बीमारी की चपेट में आई कि वह अपने खूंटे से उठ नहीं पा रही थी और बैठी-बैठी वह अपनी मृत्यु का इंतजार कर रही थी। माँ उस गाय को नहलाती,धुलाती गरम पानी में कपड़ा भिगो कर उसके गल-कंबल का सेंक करती,मगर गोमती की आँखों से झर-झर टपकते आँसू माँ के हृदय को विचलित कर देते थे। वह अन्यमनस्क हो जाती थी और एक विचित्र-सी परेशानी दुख या यंत्रणा के भाव उसके चेहरे पर स्पष्ट दिखाई देने लगते थे। मेरे लिए वह घटना कितनी हृदय-विदारक थी,जब गाय ने अपना शरीर त्याग दिया तो माँ फूट-फूटकर रोई थी और तीन-चार दिन तक उसने खाना भी नहीं खाया था। वह तो इतनी शोक-विह्वल हो चुकी थी मानो घर के किसी आत्मीय सदस्य की मृत्यु हो गई हो। माँ,भले ही,अनपढ़ थी,मगर उसकी संवेदनाएँ, भावनाएँ और जानवरों के प्रति भी प्रेम हमारे लिए अनुकरणीय था।

बचपन की मधुर स्मृतियों में एक और दृश्य साकार होने लगता है, जब मैं भूरे-सफ़ेद रंगों से चित्रित ललाट वाले नवजात बछड़े को दोनों हाथों से आलिंगन करते हुए सीढ़ियों से चलकर छत पर ले जाकर सर्दी की गुलाबी धूप में उसके साथ खेलता था। माँ चिल्लाती रहती थी,उसे डर लगा रहता था कि कहीं वह बछड़ा गिर न जाएँ,मगर हम सभी बच्चे उस बछड़े के ललाट पर हाथ फेर कर अपने प्यार का इजहार करते हुए पुचकारते थे। सही अर्थों में, गिरीश पंकज जी के इस उपन्यास में मैं अपनी आत्म-कथा खोजने लगा था। सिरोही के राम झरोखा मंदिर में सायंकालीन की जाने वाली ईश्वर-स्तुति में तुलसीदास जी का दोहा “गो धन, गजधन, बाजी धन, और रत्न धन खान/जब आवे संतोष धन, सब धन धूल समान आज भी स्तुत्य है, जिसमें उन्होंने तत्कालीन समाज के अभिजात्य वर्ग की संपन्नता को दर्शाने में “गो-धन” की मुख्य भूमिका बताई है।मगर समय के परिवर्तन के कारण आजकल गायों को धन की श्रेणी में न गिनकर केवल इसे मांसाहार की एक सामग्री के रूप में विकसित समाज देखने लगा है। भारतीय, सांस्कृतिक और धार्मिक परम्पराओं में गाय की जितना महत्त्व दर्शाया गया है,आधुनिक मनुष्य उन सारी बातों को भूलकर धन लोलुपता का शिकार होता जा रहा है। परकाया प्रवेश करने वाले वैदेही आदिगुरु शंकराचार्य की तरह गिरीश पंकज जी ने गाय के शरीर में अपनी आत्मा को प्रवेश कराकर उसके सुख-दुख,  वेदना,व्यथा सभी का प्रत्यक्ष अनुभव करते हुए उसकी आत्मकथा को इस उपन्यास के स्वरूप  में लिखने के लिए कितनी मेहनत की होगी, इसका अनुमान लगाना भी मेरे लिए नामुमकिन है।

 

कसाईखानों में सर्वदेवमयी गाय की आर्तनाद देवतागण क्यों नहीं सुनते ?

गिरीश पंकज जी के इस उपन्यास का कलेवर बहुत ही ज्यादा विस्तृत है। अगर इसके सत्रह अध्यायों के साथ इसमें पुरोवाक भी जोड़ा जाए तो इस उपन्यास में श्रीमद भागवत गीता की तरह अठारह अध्याय हो जाते हैं। यह ग्रंथ केवल गाय तक ही सीमित नहीं है, वरन सृष्टि के समस्त जन्तु-जगत् के हितार्थ जैव-मैत्री का संदेश देता है। इस उपन्यास के प्रथम अध्याय की शुरूआत अथर्ववेद के निम्न श्लोक से होती है:-

“माता रुद्राणाम दुहिता वसूनां स्वसादित्यानाममृतस्य नाभि:।

प्र नु वोचं चिकितुषे जनाय मा गामनागामदितिम वघिष्ट ।।"

इस श्लोक में गाय को रुद्रों की माता, वसुओं की पुत्री, अदिति पुत्रों की बहन और घृतरूप अमृत के खजाने की उपमा से सुशोभित करते हुए स्तुति की गई है। यहीं नहीं,समुद्र मंथन से उत्पन्न कामधेनु गाय में सभी देवताओं के प्रवेश कर जाने वाले मिथक द्वारा गाय को सर्वदेवमयी होने का घटना का जहां उल्लेख किया है, वहीं वर्तमान समय में गाय की काया में समस्त देवताओं का निवास होने के बावजूद प्रतिदिन लाखों गायों के कसाईखानों में कटते समय उनकी आर्तनाद को किसी भी देवता द्वारा न सुने जाने के कारण लेखक ने उनकी उपस्थिति पर प्रश्नवाचक खड़ा किया है। कहने का अर्थ यह है कि वेदों, पुरानों तथा अन्य ग्रन्थों में गाय की महत्ता को लेकर जितने मिथक गढ़े गए हैं, क्या प्रकृत में वे सब क्या मिथ्या है? उपन्यासकार ने यहाँ अपनी सुपरिचित व्यंग्य शैली में आधुनिक समाज अपने वृद्ध माँ-बाप को वृद्धाश्रम में भेजकर जिस तरह अपनी कुटिल मानसिकता का परिचय देता है तो उन्हें गायों को निर्ममतापूर्वक काटे जाने के लिए कसाईबाड़ा, कसाईखाना, कसाईघर, वधशाला या स्लोटर हाउस में भेजे जाने पर तो क्यों  दुख होगा ?

जब मैंने गूगल पर किसी विदेशी स्लोटर हाउस अल-कबीर का वीडियो पहली बार देखा तो देखकर रोंगटे खड़े हो गए। किस तरह तीन-चार दिन से भूखी प्यासी गायों को रेलिंग से बंधे हुए खांचे में भेजी जाता है, जिसमें उसकी गर्दन फंस जाती है और तुरंत ऊपर आरा मशीन की तेज धार वाली ब्लेड एक ही क्षण में सिर धड़ से अलग कर देती है। एक तरफ कटा हुआ गाय का मुंड, दूसरी तरफ खून से लथपथ धड़, जिसे क्रेन की तरह एक मशीन अपने शिकंजे में पकड़  लेता है और दूसरे कटर मशीन द्वारा उसकी चमड़ी उधेड़ जाती है। शेष में बचा रह जाता है लटकता हुआ मांस का लोथड़ा,जिसे तीव्र गति से चलने वाली आरा मशीन उस लोथड़े का दो-भागों में विभक्त कर देती है। इन लोथड़ों को पानी के तेज फव्वारों से धोया जाता है और फिर उनका रसायनिक परीक्षण किया जाता है। इतना करने के बाद अलग-अलग माप के टुकड़ों में काटकर पॉलीथीन में भरा जाता है और वजन करने के बाद ‘ओके’ का पोस्टर छिपकाया जाता है। बस, पोलिथीन में पैक गाय के मांस का उत्पाद विश्व-बाजार की निर्यात वस्तु का रूप ले लेती है। जिसे आत्मकेंद्रित, स्वादकेन्द्रित, अर्थकेंद्रित और पाखंडजीवी समाज चटकारे ले लेकर खाता है । उपन्यासकार गिरीश पंकज ने स्पष्ट किया है कि भूमाफिया, कोलमाफिया की तरह हमारे देश में बड़ी तेजी से गोमाफिया भी पनपने लगा है।

गिरीश पंकज जी ने अत्यंत ही प्रभावशाली भाषा शैली में लोकधेनु अर्थात सामान्य गायों पर किए जाने वाले अत्याचारों का खुलासा किया है कि ब्रह्माजी द्वारा देवताओं की विशाल सेना भेजकर ‘देवासुर संग्राम’ की कहानी वाले दृष्टांत के माध्यम से यह स्पष्ट करने का प्रयास किया है कि वशिष्ठ मुनि की कामधेनु को देवनार जंगल से चुराने के प्रयासों में असुरों के विफल हो जाने के कारण वे सामान्य गायों पर अपना बदला निकाल रहे हैं,तभी तो उस संग्राम में मरे हुए असुरों के रक्तबीजों से उत्पन्न दानवी संस्कारों से युक्त मानव अभी भी पुरातन गो मांस के स्वाद को नहीं भूल पाया है और गायों को देखकर उनके दबे हुए संस्कार पुनः जागृत हो जाते हैं। यही देवपुर धीरे-धीरे औपनिवेशिक परिवर्तन का शिकार होने लगा। जंगल कटने लगे और उसकी जगह पर विशाल अट्टालिकाओं वाली गगनचुंबी इमारतें ‘देवनार विहार’,‘टाइगर पार्क’,‘डीयर इंकलेव’,'करुणा एवेन्यू', ‘महावीर सिटी’जैसी हाइटेक कॉलोनियां बनने लगी। उपन्यासकार ने यहाँ भी अपनी प्रखर व्यंग्य-बाण में गायों के इस संहार के कारण उन्हें विलुप्त होने वाली प्रजाति के साथ जोड़कर देखा कि वह समय भी दूर नहीं है जब धरती पर जीवित गाय कभी देखने को मिलेगी। आने वाली पीढ़ी को गायों के चित्र, प्रतिमा अथवा इन्टरनेट में दिखाकर संतुष्ट होना पड़ेगा कि गाय इस तरह का एक घरेलू चौपाया पशु हुआ करता था, जिसके दुग्ध से सारी सृष्टि का पालन होता था, मगर मांसाहारी लोगों की लपलपाती जीभ ने उन सारे जंतुओं को हमेशा-हमेशा के लिए ग्रास कर लिया। कितना पैथेटिक समय होगा वह हमारी पीढ़ी के लिए!

गिरीश पंकज जी ने उपन्यास को सजीव भाषा शैली प्रदान करने के साथ-साथ उसमें मर्मांतक आरोपण करने के लिए सरायपुर के कसाइयों के चंगुल से छूटी दो गायों श्वेता और श्यामा के आपसी आलाप-प्रलाप के माध्यम से बदलते सामाजिक परिवेश में गायों की स्थिति के यथार्थ तत्त्वों को बखूबी उजागर किया है। सारा उपन्यास पाठकों के समस्त इस तरह दृश्य प्रस्तुत करता है मानो कोई चित्रपट पर अलग-अलग मनोभावों का प्रकट करती हुई कोई मार्मिक फिल्म देखी जा रही हो, जिसमें कहीं वैदिक जमाने की नैसर्गिक प्राकृतिक सौंदर्य के दृश्य तो कहीं त्रेता युगीन गायों की स्तुति-आराधना तो कहीं द्वापर में गाय चराते श्री कृष्ण और तो कलियुग में कल-कारखानों में कटती गायों के दृश्य एक-एक कर गुजर रहे हो ।

 

एक सवाल यहाँ अवश्य उठता है कि आधुनिक युग की संस्कृति है या विकृति ? लोग मॉडर्न कहलाना पसंद करता है। अपने आपको सभ्य घोषित करता है, मगर गाय तो क्या जो भी जानवर सामने दिखाई दे, चाहे वह हिरण, बकरी, सूअर, कुत्ता, तितर, बटेर, तोता, मैना, कबूतर, मुर्गा-मुर्गी, मछली से लेकर चूहा, छछूंदर, छिपकली और चींटी तक क्यों न हो,वह उसे चटकर जाता है मानो सूट-बूट, टाई पहने आधुनिक मानव पाषाणयुग की कन्दराओं में रहने वाला  प्रागैतिहासिक इंसान की तरह जंगली जीवन जी रहा हो।क्या उसे खाने को और कुछ नहीं मिल रहा है ? क्या खेती,बाग-बगीचों के फल और अन्य वानस्पतिक सामग्री उसकी आवश्यकता पूरी नहीं कर पा रही है आहार के रूप में ? तो फिर क्यों वह अपने हाथ में पत्थर के हथियार लिए घूमता है? मानव विकास की चरमोत्कर्ष की गाथा गाने वाले ग्रंथ वृहत्पाराशर  स्मृति और अथर्ववेद धरे के धरे रहे जाते है। राम और कृष्ण-कन्हैया की धरती पर आज तीस हजार कसाई खाने हैं।

कभी देश की आजादी के समय सौ करोड़ गौ वंश था और आज आजादी के साथ अड़सठ साल बाद घटकर मात्र आठ करोड़ है। मनुष्य को केवल पैसा चाहिए, उसके कानों में गायों की चीखें जूं तक बनकर नहीं रेंगती है। कुछ फर्क नहीं पड़ता उनकी अंतरात्मा पर। यही ही नहीं गौशालाओं के घटने तथा मधुशालाओं के बढ्ने के चिंता व्यक्त करते हुए पुरानी कहावत गली-गली गो रस बिके मदिरा बैठ बिकाय की तर्ज पर अपनी स्वरचित कहावत 'जगह-जगह मदिरा बिके, दूध नजर न आए' द्वारा उपन्यासकार ने वर्तमान स्थिति पर परिहास करने के साथ-साथ  'जिसे चाहिए दूध,वह सिंथेटिक ही पाए द्वारा आधुनिक समाज की यथार्थता पर करारा व्यंग किया है। क्या यही सोच आधुनिक सभ्यता की पराकाष्ठा है ? क्या समाज वह बात भूल गया जब मंगल पांडे ने बारूद में गोमांस की भनक मिलने पर 1857 में अंग्रेजों के खिलाफ बगावत की थी और ‘गदर’ की पहली पृष्ठभूमि का निर्माण हुआ था ? क्या हम भूल गए,महान स्वतन्त्रता नेताजी लोकमान्य तिलक का वह आवाहन जब भी देश आजाद होगा, गोवध पर सर्वप्रथम रोक लगेगी?  क्या याद नहीं गांधीजी का वह दो टूक वक्तव्य, ‘ऐसे स्वराज से मेरा क्या लेना-देना,जहां गो वध किया जाता हो,गाय का सवाल मेरे लिए स्वराज से बढ़कर है।'?  क्या हमने संत विनोबा भावे की उस बात को भी नहीं भुला दिया, जिसमें उन्होंने कहा था पवित्र कुरान और बाइबिल के अनुसार भी अप्रत्यक्ष रूप से गो हत्या करना जघन्य पाप है ? ये ज्वलंत सवाल ही नहीं,वरन उपन्यासकार ने लाल बहादुर शास्त्री, लोक नायक जय प्रकाश नारायण, देवराहा बाबा, जवाहर लाल नेहरु आदि के गोवध निषेध के बारे में विचारों का उल्लेख करते हुए उपन्यास को अत्यंत ही प्रेरणादायी व शिक्षाप्रद बनाया है। रही गो-वध पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने वाले कानून की बात,जिसमें 19 नवंबर 1947 को दातार सिंह की अध्यक्षता वाली सरकारी समिति की अनुशंसाओं को एक तरफ रखकर 23 अप्रेल 1958 को पशुवध को व्यक्ति का मौलिक अधिकार घोषित किया है और भगवान महावीर, बुद्ध, ईसा मसीह, पैगंबर मोहम्मद, स्वामी विवेकानंद, स्वामी दयानंद सरस्वती गांधी और विनोबा भावे जैसे महापुरुषों की सोच पर तुषारापात कर दिया।

 

कहाँ चला गया वह उन लोगों का महान कथन "यतो गावस्ततो वयं' अर्थात  जहां गाय हैं, वहाँ हम हैं। काश! गाएँ बोल पाती। काश! वे वोट दे पाती। चार्ल्स डिकन्स के ‘एनिमल फार्म’ की तरह गायें भी अपने संगठन का प्रतिनिधित्व करती हुई लोकतन्त्र के ढांचे में अपनी उपस्थिति दर्ज करवाती। पूजा-पाठ के पाखंडी लोगों पर गिरीश जी की कविता “चाहे लाख करो तुम पूजा/ तीरथ करो हजार/ अगर किया पशुओं का वध तो/ सबकुछ है बेकार" ने लालच में फंसे गुमराह समाज को सचेत किया है। यही ही नहीं, श्वेता और श्यामा के बीच चल वही प्रासंगिक बातों के मध्य  ‘संडे हो या मंडे रोज खाओ अंडे’ जैसे सरकारी विज्ञापनों को भी उपन्यासकार आड़े हाथों लेने से नहीं चुके हैं कि किस अंडे से चूजा निकलेगा या नहीं,इसका निर्णय सरकार लेगी ?

 

'मॉडर्न इंडिया' में 'बीफ' का बढ़ता प्रचलन

द्वितीय अध्याय में उपन्यासकार श्यामा गाय के मुख से गोवर्धन पूजा के दिन यादव समाज द्वारा कृष्ण भगवान का यशगान तथा राऊत समाज द्वारा नाचते दोहों को पढ़ते हुए गायों की पूजा का परंपरा को आधुनिक शहरी संस्कृति में इसे पिछड़े वर्ग की दकियानूसी सोच का परिणाम बताया है! आधुनिक युग में जहां बच्चों को पिज्जा,बर्गर, हॉट-डॉग या बीफ के प्रति ज्यादा अभिरुचि है वहाँ उन्हें दूध,घी और मक्खन से क्या लेना-देना! आज के लोगों में जहां कुत्तों के प्रति ज्यादा रुझान है,वहाँ उन्हें गो-शावकों से क्या मतलब? वरन उन्हें गांव के कसाईखाने में  भेजने में भी बिलकुल तकलीफ नहीं होती है। मुझे फेसबुक पर भारत के कसाईखानों के कुछ दृश्य देखने को मिले थे, जिन्हें देखते ही दिल दहल जाता है। कसाई लोग किस तरह सींगों से पकड़ कर भूख-प्यास से बिलखती गाय को नीचे जमीन पर गिरा देते हैं, और फिर तेज धार वाली  कटार से मरोड़ी हुई गर्दन से झूल रहे गल-कंबल को काटने लगते हैं। किसी तरह निरीह आँखों से वह गाय इन जल्लाद यमदूतों की आँखों में अपनी मृत्यु देखने लगती है।  देखते-देखते चारों तरफ खून ही खून बहने लगता है। फिर कटे सिर को दूर फेंककर उसके धड़ की चमड़ी उधेड़ने लगते हैं और कितनी बेदर्दी से उसकी मांस के लोथड़ों को निर्दयतापूर्वक काटा जाता हैं। इस  दृश्य को लिखने में जब मेरी कलम रुक-रुककर रोने लगती हैं तो पता नहीं,किस तरह अपने सीने पर एक विशाल पत्थर रख कर गिरीश पंकज जी ने उन दृश्यों को सजीवता पूर्वक लिखने का साहस किया होगा,वह भी एक बड़े उपन्यास के रूप में। शायद जो वेदना कभी पन्ना धाय ने अपनी आँखों के सामने अपने बेटे की गर्दन कटते देख सही होगी,वैसे ही गाय के गर्दन कटने की सोचकर उनकी आत्मा लिखते-लिखते कितनी बार रोई होगी! क्योंकि ये दृश्य तभी लिखे जा सकते हैं, जब गायों की हत्या के दर्द को उपन्यासकार ने बुरी तरह से अपने भीतर समेटा होगा।

'आर्यावर्त' कहलाने वाला विश्व-गुरु भारत का यह भी एक भयावह चेहरा है,'.मार्डन इंडिया' का,जहां संवेदना,नैतिकता,उपदेश सब कुछ बेमानी हो चुके हैं और बचा रह गया है केवल भ्रष्टाचार,पाखंड,धन-लोलुपता का भोथरापन।  उपन्यासकार ने श्वेता और श्यामा के संवादों के मध्य प. बिहारीलाल जी के परिवार का भी किस्सा दिया है जिसने आजादी के दौरान हो रहे धार्मिक उन्मादों के मध्य आततायी मुसलमानों के भय से गोमांस न खाकर अपने परिवार को धर्म-भ्रष्ट होने से बचाने के लिए सपरिवार आत्महत्या करना मंजूर कर लिया था। ऐसे ही आज भी कुछ संवेदनशील हिन्दू परिवार विद्यमान हैं। ज्यादा पुरानी बात नहीं होगी, ओड़िशा के कटक शहर  में एक बस ड्राइवर बारात लेकर महानदी का पुल पार कर रहा था कि कुछ बारातियों ने जबर्दस्ती उसके मुंह में गोमांस डाल दिया। विक्षुब्ध मन से उसने अपना जीवन निरर्थक समझा और कंडक्टर को बस से नीचे उतारकर कहा कि वह उसकी माँ को जाकर कह देगा कि उसने उसका धर्म भ्रष्ट करने वालों से प्रतिशोध ले लिया है, यह कहकर उसने पुल के रेलिंग से इतनी ज़ोर से अपनी बस को टक्कर दी कि कुछ ही पल में वह बस महानदी में हमेशा-हमेशा के लिए जल समाधि में लीन हो गयी।

कितनी घोर विरोधी आस्था है अभी भी कुछ लोगों में गोमांस  भक्षण के खिलाफ! और ऐसे कई किस्से सुनाई पड़ते हैं कि बेटा पढ़ने के लिए विदेश चला जाता है और वहाँ की विदेशी संस्कृति में .रच-बच जाता है,यहाँ तक कि गो-मांस का सेवन करना भी सीख जाता है और जब वह इंडिया अपने घर लौटता है तो अपने पिताजी को 'बीफ' का डब्बा उपहार स्वरूप प्रदान करता है। डिब्बा में 'बीफ' देखते ही पिताजी को गहरा सदमा लग जाता है और हृदयघात से तत्काल मृत्यु हो जाती है। हमारे देश में एक ऐसा वर्ग है, जो न केवल गोमांस वरन किसी भी प्रकार के मांस से परहेज करता है,जबकि दुनिया में एक दूसरा वर्ग ऐसा भी है जो शाकाहारी गायों को भी हृष्ट-पुष्ट बनाने के लिए मांस खिलाता है ताकि वे ज्यादा से ज्यादा दूध दे सके। नतीजा क्या है ? "मेडकाऊ' जैसी खतरनाक बीमारियाँ पैदा होने लगती हैं। इस उपन्यास की सबसे बड़ी खासियत है सभी धर्मों के पाखंडियों को इसमें लतेड़ा गया है, जो गायों के नाम पर अर्थ-अर्जन करना चाहते हैं। क्या हिंदू,क्या मुस्लिम,सिख,ईसाई,बौद्ध,जैन सभी धर्म। इन धर्मों के संस्थापकों तथा पवित्र ग्रन्थों का उल्लेख करते हुए उपन्यासकार गोवध निषेध की महता को स्थापित करने को पूरी तरह सफल हुए हैं। बीच-बीच में, सरकार द्वारा कत्लखानों की स्थापना से अर्थ-व्यवस्था में सुधार जैसे विषय पर करारा व्यंग्य करते हुए गिरीश जी निठारी कांड जैसे अमानुषिक कुकर्मों को भी समाज के सामने प्रस्तुत करने से नहीं चुके हैं। कुछ लोग गायों की जगह बैलों की हत्या करते हैं, इस पर प्रहार करने से गिरीश जी पीछे नहीं रहे। .जैन मुनि तरुण सागर जी महाराज का कथन कि कसाई खाने ले जाई जा रही एक गाय की जान बचाना एक मंदिर बनाने के बराबर पुण्य का कार्य है, इस पर मैं यह कहना चाहूँगा कि इस उपन्यास के रचनाकार गिरीश जी ने सहस्र मंदिरो को बनाने के बराबर पुण्यकार्य किया है, जिसे पढ़ कर सहस्र पाठकों के दिल में परिवर्तन आएगा और वे मांसाहार से उपराम लेकर शाकाहार की ओर प्रवृत्त हो जाएंगे, जिससे सैकड़ों जीव जंतुओं की प्राणों की रक्षा हो सके।

 

गायों का देश की अर्थव्यवस्था पर प्रभाव

अध्याय तीन में सरायपुर की 'कपिला गोशाला' का वर्णन किया गया है। यही ही नहीं, गायों की रक्षा करने के लिए अपने प्राणों की बाजी लगाने वाले महंत रामपुरी,हेडगेवार, विनोबा-भावे,महावीर बुद्ध,गांधी जैसे उद्दात्त चरित्रों का उल्लेख कर अत्यंत ही पुनीत कार्य किया है। जहां द्वापर युग में गायों की देख-भाल की जाती थी, वहीं आधुनिक युग में गायों के नाम पर “गौ सेवा आयोग” तथा “गौशाला’ खोलकर लाखों रुपए हथियाए जाते हैं और जनता को इमोशनल ब्लैकमेल भी किया जाता है। गौ प्रेमी विद्वान सर विलियम बोर्न के अनुसार किसी गाय के बिना राष्ट्र की कल्पना करना असंभव है। दूसरे विद्वान के अनुसार, गाय राष्ट्र के दुग्ध भवन की देवी है, जो भूखों को खिलाती है, नंगों को पहनाती है और रोगी को निरोगी करती है। उपन्यासकार ने गायों से हमारी देश की अर्थ व्यवस्था पर पड़ने वाले  प्रभाव को जिस तरह से दर्शाया है,वैसा कभी सन 1875 में स्वामी दयानंद सरस्वती ने अपनी पुस्तक “सत्यार्थ प्रकाश” के दशमसमुल्लास: में दर्शाया था,पाठकों के लिए जिसका अधोलिखित उद्धरण करना उचित रहेगा।

" जिसमें उपकारक प्राणियों की हिंसा अर्थात जैसे एक गाय के शरीर से दूध, घी, बैल, गाय उत्पन्न होने से एक पीढ़ी में चार लाख पचहत्तर सहस्र छः सौ मनुष्य को सुख पहुंचता है वैसे पशुओं कों न मारे, न मारने दे। जैसे किसी गाय से बीस सेर और किसी से दो सेर दूध प्रति दिन होवे उसका मध्य भाग। ग्यारह सेर प्रत्येक गाय से दूध होता है, कोई गाय अठरह और कोई छः महीने तक दूध देती है। उसका मध्य भाग बारह महीने हुए, अब प्रत्येक गाय की जन्म भर के दूध से 24960 मनुष्य एक बार में तृप्त हो सकते हैं, उसके छः बाछियाँ छः बछड़े होते हैं उनमें से दो मर जाएँ तो भी दस रहे, उनमें से पाँच बछड़ियों के जन्म भर के दूध को मिलाकर 124600 मनुष्य तृप्त हो सकते हैं अब रहे पाँच बैल वे जन्म भर में 5000 मन अन्न न्यून से न्यून उत्पन्न कर सकते हैं, उस अन्न में से प्रत्येक मनुष्य तीन पाव खावे तो अढ़ाई लाख मनुष्यों की तृप्ति होती है, दूध और अन्न मिला 374600 मनुष्य तृप्त होते हैं, दोनों संख्या मिला के एक गाय की एक पीढ़ी में 475600 मनुष्य एक बार पालित होते हैं और पीढ़ी पर पीढ़ी बढ़ाकर लेखा करें तो असंख्य मनुष्यों का पालन होता हैं इससे भिन्न बैलगाड़ी सवारी भार उठाने आदि कामों से मनुष्यों के बड़े उपकार होते है तथा गाय दूध में अधिक उपकारक होती है और जैसे बैल उपकारक होते हैं भैंसे भी हैं परंतु गाय के दूध घी से जितने बुद्धिवृद्धि से लाभ होते हैं उतने भैंस के दूध से नहीं, इससे मुख्योपकारक आर्यों ने गाय को गिना है और जो कोई अन्य विद्वान होगा वह भी इसी प्रकार समझेगा। बकरी के दूध से 24920  आदमियों का पालन होता है, भैंस,हाथी, घोड़े, ऊंट, भेड़, गधे आदि से बड़े उपकार होते हैं। इन पशुओं को मारने वालों को सब मनुष्यों की हत्या करने वाले जानिएगा ।

 

देखो! जब आर्यों का राज्य था तब ये महोपकारक गाय आदि पशु नहीं मारे जाते थे तभी आर्यवर्त्त वा अन्य भूगोल के देशों में बड़े आनंद में मनुष्य प्राणी वर्त्तते थे, क्योंकि दूध, घी, बैल आदि पशुओं की बहुतायत  होने से अन्न रस पुष्कल प्राप्त होते थे, जब से विदेशी मांसाहारी इस देश में आकर  गौ आदि पशुओं के मारने वाले मद्यपानी राज्याधिकारी हुए हैं तब से क्रमशः आर्यों के दुख की बढ़ती होती जाती है, क्योंकि – "नष्टे मूले नैवे फलां न पुष्पम"(जब वृक्ष का मूल काट दिया जाय तो फल फूल कहाँ से हो?)"

 

गो-शालाओं में 'मिठलबरें'

अध्याय 4 में उपन्यासकार गिरीश पंकज जी ने कपिला गोशाला में गायों की देख भाल कर रहे सेठों की वास्तविकता को उजागर करते हुए गो मित्रों और गो सेवक बन रहे इन चेहरों के पीछे छुपी हुई असली सूरत को सामने लाया है। आडंबर की आड़ में गाय केवल पैसा कमाने की मशीन बन जाती है और गौ-सेवा या समाज-सेवा महज एक दिखावा। ऐसे लोगों के लिए उपन्यासकार ने छत्तीसगढ़ की भाषा का शब्द ‘मिठलबरा’ प्रयुक्त किया है। उसका अर्थ होता है एक ऐसा आदमी जो झूठा व्यवहार करे मगर बातचीत में बड़ा मीठा हो। ऐसे दमडीमल सेठों का गायों के दुख दर्द और संवेदनाओं से कुछ भी लेना-देना नहीं होता है। यहाँ तक कि मरे हुए बछड़े को गाय के सामने रखकर उनका दूध निकालना अपना असली धर्म समझते हैं,जैसा कि प्रारम्भ में मैंने अपने संस्मरण में लिखा है। उनके लिए न तो करुणा, न दया जैसे शब्द लागू होते हैं। इस अध्याय की एक खास और विशेषता है जिसमें गायों के अत्यंत ही सुंदर-सुंदर नामों का उल्लेख है जैसे शुभ्रा, सुवर्ण कपिला, गोल पिंगला, रक्त पिंगाक्षी, खुर पिंगला, पूछ पिंगला, श्वेत पिंगला, स्वर्णआभा, गल पिंगला, पाटला आदि। अथर्ववेद में गायों की महिमा का बखान करने वाले अनेक श्लोक दिए है उसमें से एक श्लोक यह है : -

“प्रजावती: सूयवसे रुशंती: शुदधा अप: सुप्रषाणे पिवन्ती:

मा व स्तेन ईशत माघशंस: परि वो  रुद्रस्य हेतिर्वूनक्तु”

 

अर्थात हे गायो तुम अधिक से अधिक बच्चों को जन्म दो, चरने के लिए तुम्हें हरा-भरा चारा मिले, तुम सुंदर तालाब में शुद्ध पानी पियो। तुम चोरो से बचो। हिंसक जानवरों से भी बचो। रुद्र का शस्त्र तुम्हारी रक्षा करे। मगर आज के जमाने में इन श्लोकों का कोई अर्थ नहीं रह जाता है। उपन्यासकार ने गौतम ऋषि और सत्यकाम का संदर्भ देते हुए ब्रह्म ज्ञान के समस्त सूत्रों में गो सेवा को प्रमुख बताया है। मगर धूर्त सेठ लोग ‘गो अनंत गो कथा अनंत’ कहकर इसका अनुकरण नहीं करते। इस अध्याय में गो चारण बंधुओं के कुछ गानों का भी समावेश किया गया है। गो सेवा आयोग से गायों की देखभाल के लिए अनुदान झटकने वाली गौ शाला द्वारा कमजोर और बांझ गायों को कसाई खाने भेजने की साजिश का पर्दाफाश उपन्यासकार द्वारा करने पर मंत्रालय द्वारा की गई सिफ़ारिशों का जिक्र कर गिरीश पंकज जी ने ‘चारा घोटाला’ की तरह ‘गौशाला घोटाला’ को सामने लाया। श्वेता और श्यामा गायों की वार्तालाप के मध्य उपन्यास के इस अध्याय के अंत में राजस्थान के पथमेड़ा नामक जगह पर बनी गो शाला आनंदवन राजस्थान की ओर ले जाते हैं। जहां भगवान कृष्ण अपने गायों को चराने के लिए रुक गए थे और पथमेड़ा में पर्याप्त चारागह देखकर कृष्ण भगवान ने यहीं विश्राम करने का मन बनाया था। आज यह दुनिया की सबसे बड़ी गोशाला है, जहां २ लाख गाय रहती है। इस गोशाला का निर्माण दत्तशरणनन्द महाराज ने सन1993 में कुछ गो भक्तों द्वारा पाकिस्तान ले जाए जा रही आठ गायों को कसाईयों के खूनी पंजों से मुक्त करवाकर शुरू किया था और आज इस कलयुग में आनंदवन मानो द्वापर की याद दिला रहा हो। यहाँ सारी गाय मुक्त हो कर विहार करती है। खाने-पीने की कोई कमी नहीं। नियमित रूप से बीमार गायों की देखभाल होती है। पंचगण्य (गोबर, गो मूत्र, दूध, दही और घी) से तरह-तरह की दवाइयाँ बन रही है। सत-साहित्य का प्रकाशन प्रकाशन हो रहा है। बच्चों को भारतीय संस्कारों की शिक्षा-दीक्षा मिल रही है।

 

मनुष्यों में बढ़ती मांसाहार प्रवृति

अध्याय पाँच में उपन्यासकार ने बकरा, कुत्ता, तीतर, बटेर, गौरैया, तोता,बिल्ली नए-नए पात्रों को जोड़ कर उनकी समस्याओं के बारे में ध्यान आकृष्ट करते हुए समस्त मानव समाज के समग्र जीव-दया की अपील की है, क्योंकि मनुष्य इन सभी जानवरों को भी खाने से नहीं छोड़ा है। किसी शायर ने कहा है –

“हम निर्बल है मूक जीव बस ऐसे ही रह जाते हैं

सुबह सलामत देखते हैं पर शाम हुई कट जाते हैं

कितने हैं इंसान लालची, गिरे हुए यह मत पूछो

मांस मिले गर खाने को तो मजहब से हट जाते हैं।"

सभी जीव-जंतुओं ने मनुष्यों के मन में विलुप्त हो रही करुणा और पत्थर दिल इन्सानों के भीतर इस भागमभाग और निपट बाजारू युग में सबकी विवेकहीनता को परिभाषित करते हुए मनुष्यों के भीतर जीव-दया,करुणा का उपहास उड़ाने वाली मांसाहारी आदमियों की अपराधबोध हीनता पर दुख प्रकट किया है।

 

शास्त्रों में गो-रक्षा और गो-दान ;-

छठे अध्याय में महर्षि वशिष्ठ के इक्ष्वाकु वंश के सौदास राजा से गायों का दान मांगना ‘यतो गावस्ततो वयम’, भगवान राम द्वारा त्रिजट ब्राह्मण सहस्र करोड़ गायों का दान करना, बाल्मीकि रामायण में महाराज दशरथ द्वारा यज्ञ के अवसर पर दस लाख गायों का दान देने  (गवां शतसहस्रानि दश तथ्यों ददौ नृप:), तुलसीदासकृत रामचरित मानस में ‘विप्र धेनु, सुर संत हित लीन्ह मनुज अवतार’ या ‘सात्विक श्रद्धा धेनु सुहाई, जौ हरिकृपा हृदय बस आई’ जैसी उक्तियों द्वारा गोभक्ति कि अवधारणा तथा सोने के सींग मढ़ी एक हजार गायों को राजा जनक द्वारा याज्ञवल्क्य ऋषि को दान दिए जाने वाले दृष्टांतों का उल्लेख करते हुए गायों की महिमा पर विशेष प्रकाश डाला है। रघुवंश के महाराज दिलीप की गोसेवा का महाकवि कालीदास के महाकाव्य ‘रघुवंश’ में सुंदर वर्णन है। विनोबा भावे द्वारा गोवध को रोकने के आमरण अनशन पर बैठने, गो प्रेमी कृष्ण भगवान की दिनचर्या गाय, गोपियाँ और ग्वाल बालों के साथ, यहाँ तक गाय चराने जाते समय भी यशोदा माया द्वारा गायों को पशु कहने पर रूठ जाना, सूरदास द्वारा पदों की रचना, गायों के झुंड में ‘वत्सासुर’ बनकर कृष्ण को मारने का षड्यंत्र, कृष्ण द्वारा धारोष्ण दुग्धपान करना आदि यथार्थ व मिथकीय ज्ञान से भरा हुआ यह उपन्यास पाठक को त्रेता व द्वापर युग की याद दिलाता है। भगवान शंकर, अश्विनी कुमार, माँ पार्वती आदि के गो रक्षा से संबंधित दृष्टांत दिए गए हैं, जिसमें अत्यंत ही सुंदर नामों वाली उन्नत गायों जैसे मनोरमा,गौरा,नंदा,गोपिका,कृष्णा,नंदिनी,गौरमुखी,नीला-वनिता,सुपुत्रिका,स्वरूपा,शंखिनी,सुदती, सुशालिका,अमिनता,मित्रवर्णा के नामों का उल्लेख है। ये सब दृष्टांत उपन्यासकार की न केवल गायों के प्रति अगाध-आस्था,प्रेम व भक्ति के प्रतीक है, वरन आधुनिक समाज में गो-वध को लेकर बढ़ती दुष्प्रवृत्तियों से निजात पाने के लिए एक अनुकरणीय ग्रंथ की रचना करना ही उनका विशेष उद्देश्य है।

 

इस्लाम धर्म में गो-वध निषेध

सातवें अध्याय में ‘इस्लाम’ धर्म में गो-वध निषेध के प्रति क्रांतिकारी विचारों से लेखक ने  अवगत कराया है,अगर सही कहूँ तो ऐसे विचार मैंने अपने जीवन में पहली बार पढ़े, कि इस्लाम धर्म भी गायों को सम्मान की दृष्टि से देखता है। ‘इस्लाम’ अरबी के सलाम धातु से निकला है, जिसका अर्थ होता है किसी को भी दुख नहीं देना।‘ मोहम्मद साहब ने जीवन भर दुख देखा, मगर दया का काम करते रहे। कुरान-पाक में लिखा है- ‘दया धर्म का मूल है’। कुर्बानी के बारे में उपन्यासकार का कहना है कि कुर्बानी ‘सिंबालिक’ दी जा सकती है। अल्लाह के हुक्म के अनुसार, जिस जानवर के पेट में दूध हो, उसकी कुर्बानी तो कभी भी नहीं दी जा सकती। खुदा ज़िबह किए जानवरों का मांस नहीं चाहता, वह केवल तुम्हारी श्रद्धा चाहता है। चींटी को भी नहीं सताना चाहिए, उसमें भी जान है। ‘इजहारेहम’ में इन सारी चीजों का उल्लेख मिलता है। तभी तो मुगलकाल के अधिकतर बादशाह अदभूत गो प्रेमी थे। सब के सब गो-मांस के विरोधी थे। उन्होंने गो हत्या पर रोक लगा दी थी। अबुल फजल द्वारा रचित आईने अकबरी में एक जगह लिखा है कि सुंदर धरती भारत में गाय मांगलिक समझी जाती है। उसकी भक्ति-भाव से पूजा होती है। इस जीव से राज्य का बड़ा काम चलता है, इसलिए गो मांस निषिद्ध है और इसे छूना भी पाप है। अकबर के जमाने में गौ शालाओं के संचालन का कानून बना था। अकबर ने गो स्वामी विटठलनाथ को कुछ गायें और ज़मीनें दान दी थी, ताकि गोस्वामी गोपालन कर सकें। 5 जून सान 1593 इसवीं में अकबर ने फरमान जारी किया था, जानें कि जहां की तामिल करने काबिल हुक्म जारी किया गया कि इसके बाद करोड़ी व जागीरदारान परगने मथुरा, सहरा संगोध व ओड़े के इर्द-गिर्द मोर ज़िबह न करें और शिकार न करें और आदमियों कि गायों को चरने से न रोकें। फिर भी अकबर के जमाने में चोरी-छिपे हो रही गोहत्याओं पर दृष्टिपात करने के लिए अकबर के नौ रत्नों के प्रकांड विद्वान कवि नरहरी ने दरबार में अपने साथ एक गाय ले जाते हुए उसके गले में छप्पय बांधा था। जिसे पढ़कर सुनाने पर अकबर की आँखें खुल गई। यह छप्पय इस प्रकार था : -

 

अरिहु दंत तृन धरई ताहि भारत न सबल कोई ।

हम संतत तृन चरहि वचन उच्चरही दीन होई ।

हिंदुहि मधुर न देहि कटुक तुरकहीं न पियावहीन ।

पाय विशुद्ध अति श्रवहीन बच्च महि ठमन जवाहीन ।

सुन शाह अकबर ! अरज यह करत गऊ जोरे करन ।

सौ कौन चुके मोहिं मारियतु मुहेयु चाम सेवत चरन ।।

जैसे हि अकबर ने यह छ्प्पय सुना, तो गायों कों अभयदान देने का फरमान जारी किया।

कुरान पाक के दूसरे अध्याय का नाम “सुर-ए-बकर” जिसका हिन्दी में अर्थ है गायों का अध्याय अर्थात कुरान में भी प्रकाश डाला गया है। मुक़द्दस कुरान में कहा गया है कि बैल कि सींग पर पृथ्वी विराजमान है। जब बैल पृथ्वी को एक सींग से दूसरे सींग पर लेता है तो पृथ्वी हिलती है और भूकंप आता है। गाय के पानी को भी पाक माना गया है, कितनी बड़ी बात है यह। खुदाबन्द कहते है – जो बैल को मारता है वह उस आदमी कि मानिंद है जो मनुष्य को मारता है । मैं तो घर का बैल न लूँगा और न तेरे बाड़े का बकरा, क्योंकि जंगल के सारे जानवर मेरे हैं। क्या मैं बैल का गोश्त खाता हूँ या बकरी का लहू पिता हूँ ? अल्लाह के पास गोश्त और खून हरगिज नहीं पहुँचते। हाँ, तुम्हारी परहेजगारी जरूर पहुँचती है। फिर भी बकरीद के दीन कलकत्ता और दूसरे शहरों में हजारों गायों काट दी जाती है। हदीसशरीफ़ में तीन चीजों पर सख्त पाबंदी  है। ‘काते-उल-शजर’ यानि हरे पेड़ को काटना, ‘बाय-उल-बशर’ मनुष्य को बेचना, ‘जाबह-उल-बकर’ का अर्थ  है गाय की हत्या। इस प्रकार के अनेकानक उदाहरण देकर न केवल उपन्यासकार ने गो-वध के प्रति मन में नफरत पैदा करने तथा मुस्लिम धर्म के उन पहलूओं को उजागर करना जो गो-वध पर प्रतिबंध लगाते हैं। साथ ही साथ,हिन्दू और मुस्लिम लोगों के मध्य भाईचारा, प्रेम तथा सौहार्द्र पैदा करना है।

 

मिथकों में गाय :-

आठवें अध्याय में फिर से उपन्यासकार द्वापर युग की तरफ ले जाते हैं और बीच में देशी गाय तथा जर्सी गायों के विभेद को दर्शाते हुए यह सिद्ध करने का प्रयास करते हैं कि जर्सी गायों की तुलना में देशी गाय ज्यादा श्रेष्ठ हैं। यही नहीं पुराण, महाभारत का अश्वमेध प्रकरण, भविष्य पुराण, स्कन्द पुराण जैसे धार्मिक ग्रन्थों का संदर्भ लेते हुए अनेकानेक रोचक कहानियों के माध्यम से “कपिला तीर्थ” आदि की उत्पत्ति का जिक्र किया है। इसी तरह राजा विश्वामित्र, मुनि वशिष्ठ के मध्य कामधेनु को लेकर हुए संघर्ष की कहानी भी अपने आप में गो भक्ति का विशेष संदेश देती है। इस तरह राजा कार्तवीयार्जुन द्वारा ‘सुरभि’ गाय को लेकर जमदग्नि ऋषि (परशुराम के पिता) से जबर्दस्त हुए बहस और अहंकारी राजा द्वारा जबरदस्ती गाय को ले जाने के कारण परशुराम द्वारा उस सहस्र बाहु वरदानी राजा के एक-एक हाथ को फरसा से काट काटकर गिराने वाले की कहानी अपने आप में उन जमाने के सामाजिक संस्कारों में गो भक्ति के लक्षण परिलक्षित करती है। इसी तरह च्यवन ऋषि तथा राजा नहुष के मध्य हुए संवादों में गाय का महत्त्व उभरकर सामने आया है। भले ही इन कहानियों में मिथक चरित्र रहे हो,मगर उनका एक मूल-संदेश गायों की सुरक्षा के उपाय तत्कालीन समाज की समृद्धि का परिचय देती हैं।

 

गायों की नस्लें, पशु निर्दयता अधिनियम के प्रावधान एवं बीस थ्योरी:-

अध्याय नौ में गो-शाला में रहने वाली गायों की समस्याओं को उपन्यासकार ने सामने लाया है तथा जर्सी गायों के बारे में गो विशेषज्ञ घावरी के वक्तव्य की जर्सी नामक द्वीप में सुअर के जींस से जर्सी गायों की नस्ल को विकसित करने का वैज्ञानिक तथ्य सामने लाया है तथा जर्सी गायों के प्रति बढ़ते आकर्षण को खत्म करने के लिए भारत की उत्तम नस्लों के बारे में भी उल्लेख किया है। जिसमें हरियाणा नस्ल की गाय, काठियावाडी की गीर, मैसूर की अमरूमहाल, हल्लीकार, फंगायम, बरगुर, आलमदादी और गुजूरात की कोकरेज, मध्यभारत की ‘’मालवी’, ‘निगाड़ी’, ‘नागौरी’, पंजाब की ‘साहिवाल’, ‘हांसी’, महाराष्ट्र की ‘कृष्णावेली’, राजस्थान की ‘राठ’, ‘खिलारी’, ‘देवनी’ ‘डांगी’, ‘मेवाती’ नागौरी आदि की भी व्याख्या की है। दूध दोहने के कई तरीकों तथा इंजेक्शन द्वारा ज्यादा दूध निकालने के दुष्परिणाम के साथ-साथ पशु निर्दयता अधिनियम के प्रावधानों तथा पशुओं की क्रूर हत्याओं से भूकंपीय तरंगों के पैदा होने की “बीस थ्योरी’, कचड़ों के ढेरों पर भूखी गायों का लोहे की किले, हेयरपिन, तार की टुकड़े, बटन और पॉलीथीन की थैलियों आदि खाने जैसी समस्याओं को भी सामने लाने का उपन्यासकार ने प्रयास किया।

 

राष्ट्रवादी गो-भक्त संघ, मुस्लिम गो-रक्षा संघ एवं सर्वधर्म गोरक्षा संघ

अध्याय दस में राष्ट्रवादी गो-भक्त संघ की स्थापना, गो सेवा आयोग की प्लानिंग तथा उनके फर्जी तौर तरीकों पर भी प्रकाश डाला गया। अध्याय ग्यारह में ‘सर्व धर्म गो रक्षा संघ’ द्वारा गो-वध को प्रतिबंधित करने के प्रयासों में राष्ट्रीयता व अस्मिता का सवाल बनाते हुए सभी धर्मों में इस पर किया गया समर्थन पर प्रकाश डाला गया है, इस संघ में हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई सभी धर्म गाय की सुरक्षा के प्रश्न पर 'करो या मरो' अभियान पर सहमत होकर ‘राजधानी चलो’ मुहिम में शामिल होने के सूत्रपात को प्रकाशित किया है। सभी सदस्य गाय के चित्र बने हुए टी-शर्ट पहने हुए थे,जिन पर  'काऊ इज द ग्लोबल मदर', 'सेव द काऊ', 'काऊ इज अवर नेशनल एनिमल' और 'आई लव काऊ' जैसे तरह-तरह के नारे लिखे हुए थे। मीडिया के ओपिनियन मेकर ‘थिंक टैक’ विज्ञापन बैंक आदि भी सोशल मुददों की माध्यम से कसाई खाने में देवनार और अल-कबीर जैसे कसाई खाने में हो रही निर्ममतापूर्वक गो हत्याओं की जानकारी देने के साथ-साथ सरकार पर गो वध कानून मीडिया की प्राथमिकता होनी चाहिए मगर वास्तव में ऐसा नहीं हैं। उपन्यासकार के आधुनिक मीडिया पर करारा कटाक्ष करते हुए लिखा है कि मीडिया टी॰आर॰पी (टेलीविज़न रेटिंग पॉइंट) हीरो हीरोइनों के प्रेम-प्रसंग माफिया डॉन, नाग-नागिन के  पुनर्जन्म की कहानी जैसे अंधविश्वास फैलाने जैसे कामों में लगा रहता है, न कि गो वध रोकने के लिए कानून बनाने के लिए दबाव डालने वाले काम।

अध्याय बारह में सर्वधर्म संघ के साथ-साथ मुस्लिम गो-रक्षा संघ के सदस्यों द्वारा गो रक्षा के लिए उठाए हुए कदमों का उल्लेख है। मुजफर भाई जैसे प्रमुख सदस्य ने बाबर हुमायूँ के वसीयतनामा, फिरोज साह तुगलक, काश्मीर के बादशाह जेनूल-आबदिल, सुल्तान नसुरुदीन खुसरो, फारुख शेख, बादशाह आलम, बादशाह आदिल शाह जैसे सैकड़ों नामों पर प्रकाश डाला, जिन्होंने इस बात की पूरी कोशिश की थी कि गो हत्या न हो पाए। उन्होनें अपनी खुद की गो-शालाए भी बनवाई थी। यहाँ तक कि गायों को ध्यान में रखते हुए कुछ क़व्वालियाँ, गजल और शेर भी लिखे थे। एक उदाहरण के तौर पर –

 

गऊ माता को जो काटेगा, समझो वह इंसान नहीं

कौन भला यह कहता है कि वो हिंसक शैतान नहीं

कहता हूँ मैं बड़ी बात यह सुन ले अपना पूरा देश

बिना गाय के देश हमारा सचमुच हिन्दुस्तानी नहीं

चलो बताओ गऊ माता को सबको बड़ी जरूरत है

बिन इनके अपने भारत की दुनिया में पहचान नहीं

गाय बचेगी, देश बचेगा, हम भी सेहतमंद रहे

बिना गैया के मेरे भैया बिलकुल ही उत्थान नहीं ।

अध्याय तेरह आधुनिक सूचना क्रान्ति के उपयोग से गो रक्षा के लिए अनेक शहरों में इन्टरनेट और मोबाइल पर ‘एसएमएस’ के जरिए सैकड़ो लोगों का जुनून पैदा करने का वैसा ही कार्य हुआ जैसा पहले कभी जेपी ने गांधी, विनोबा और लोहिया के विचारों को मथकर ‘सम्पूर्ण क्रान्ति’ का हुजूम पैदा किया था। मुस्लिम फकीर गौप्यारा शाह की शिक्षा कुरान शरीफ ‘हल जनाउल इहसानि इल्लल इहसानु’ मतलब यह कि अहसान का बदला अहसान के सिवाय और क्या हो सकता है? इसलिए सच्चा मुसलमान गाय के अहसान को भूल नहीं सकता। दाऊद अलक के ग्रंथ ‘जुहूर’ में भी अल्लाताला हुक्म देते है कि ‘ जो इंसान गाय की हत्या करता है, वह आदमी की हत्या करता है। गांधीजी के अनुसार जब कहीं कोई गाय काटी जाती है तो मुझे लगता है कि मुझे काटा जा रहा है।

 

ईसाई धर्म में गोवध निषेध

फादर स्टीफन का उद्बोधन कि प्रभु ईसा मसीह का जन्म एक गऊ-शाला में हुआ था, अतः वह गाय-प्रेमी थे ‘ओल्ड टेस्टामेंट’ में लिखा हुआ है कि “तू किसी की जान मत ले। जंगल में किसी भी जीव का वध मत कर। तू मांस का भक्षण मत कर। अमेरिका के मालकम आर बैर स्पेन के अबूसार –गाय तो बिना ताज की महारानी है। पूरी पृथ्वी पर उसका शासन चलता है। वह जितना लेती है उससे कई गुना हमें लौटाती है।

 

सिख धर्म में गो-वध निषेध

सिख धर्म में दसवें गुरु गोविंद सिंघ जी मे खालसा पंथ की स्थापना करते हुए कहा था कि यह पंथ आर्य धर्म, गौ-ब्राह्मण, साधु-संत और दीन दुखी जन की रक्षा के लिए बना है। उन्होंने अपने ‘दशम ग्रंथ’ में एक जगह लिखा है,

'यही देहु आज्ञा तुर्क को सपाऊँ, गो घात का दुख जगत से हटाऊँ।

यही आस पूरन करो तौं हमारी मिटे कष्ट गौऊन छुटे खेद भारी।'

सन 1871 में पंजाब में मलेर कोटला में नामधारी सिखों ने गो रक्षा के लिए अपनी कुर्बानियाँ दी थीं। मुगलों के समय तो गायें सुरक्षित थीं लेकिन अंग्रेजों का शासन आने के साथ ही गायें कटने लगी थी। तब नामधारी सिखों ने कसाईघरों पर हमले किए और जिन लोगों ने गायों की हत्या की, ऊन लोगों को मौत के घाट उतार दिया। गुरु तेज बहादुर जी गुरु अर्जुन देव जी सहित अधिकतर सिख गुरुओं ने गौ रक्षा के लिए बलिदान दिया था। महाराजा रणजीत सिंह ने सत्ता संभालते ही गो हत्या पर रोक लगाई थी। भगवान कृष्ण की तरह गुरु नानक देव भी बाल्यकाल में गाय चराने जंगल जाते थे।

 

गाय का दूध शाकाहार या मांसाहार ? :-

सतनाम पंथ के जनक गुरु घासीदास के भक्त महंत जनक राम जी के अनुसार जब 18 दिसंबर 1756 में गुरु घासी दास के जन्म के समय उनकी माता के छाती में दूध नहीं उतर रहा था तो किसी महात्मा ने फौरन एक गाय और बछिया भेंट की थी, जिसके दूध से उनका लालन-पालन हुआ। आगे जाकर उन्होंने समता, समानता और विश्वबंधुत्व का संदेश दिया। उनके अनुसार जिसका गाय का बछड़ा मर गया हो उसका दूध नहीं पीना चाहिए क्योंकि उस समय गाय दुखी है। उस समय गाय का दूध निकालना निरी पशुता है। उन्होंने मांसाहार न करने के लिए भी प्रेरित किया। यहाँ तक कि लाल भाजी खाने से भी मना किया, क्योंकि उसका रंग लाल है खून-सा दिखता है और लाल रंग देखने से उग्रता आती है। सतनाम पंथ की यह विवेचना पढ़ते ही मेरे मन में फिर से एक बार ‘शाकाहार’ और ‘मांसाहार’ की परिभाषाओं की तरफ ध्यान जाने लगा। क्या गाय का दूध शाकाहार है ? अगर शाकाहारी है तो वनस्पतियों से पैदा होता, मगर यह तो गाय की दुग्ध-ग्रंथियों के रस का उत्सर्जन है जो उसके शरीर के मांस की विभिन्न ग्रंथियों से होते हुए पार होती है। अतः सामान्य परिभाषा के अनुसार गाय का दूध तो मांसाहारी होना चाहिए। इस तथ्य को आधार लेते हुए बिहार स्कूल ऑफ योग, मुंगेर वाले दूध से बनी चाय भी नहीं पीते हैं। इसी तरह सतनाम पंथ अथवा जैन धर्म में ‘प्याज’, ‘लहसुन’, ‘गाजर’, तथा ‘लालभाजी’ को मांसाहार की श्रेणी में गिनकर उनके सेवन पर प्रतिबंध है, जबकि ये चारों तो वनस्पति से पैदा होते हैं। कभी ऐसी ही विवादास्पद विवेचना मैं अपने मित्र श्रीकांत प्रधान के साथ कर रहा था तो उन्होंने ‘एजलेस बॉडी टाइमलेस माइंड’ पुस्तक के विश्व प्रसिद्ध लेखक दीपक चौपड़ा का उदाहरण देते हुए कहा था कि जिन चीजों में एमीनो एसिड की मात्रा ज्यादा हो तो वे सारा सामग्रियाँ ‘मांसाहार’ की श्रेणी में आती है और जिन सामग्रियों में एमीनो एसिड की मात्रा नहीं हो या न्यून हो तो उन्हें ‘शाकाहार’ की श्रेणी में गिना जाता है। चूंकि एमीनो एसिड की उपस्थिति लाल रंग को दर्शाती है। इस शोध के आधार पर दूध ‘शाकाहार’ की श्रेणी में आता है जबकि ‘प्याज’, ‘लहसुन’, ‘गाजर’, तथा लालभाजी ‘मांसाहार’ के वर्ग में गिने जाते है अर्थात दूध में एमीनो एसिड नहीं होता है,जबकि प्याज’, ‘लहसुन’, ‘गाजर’, तथा लालभाजी आदि में एमीनो एसिड होता है।  जैन धर्म तो ‘अहिंसा परमो धर्म:’ की अवधारणा पर भी खड़ा है, मगर कुछ विधर्मी जैन लोग पैसों की चाह में गो हत्या जैसे जघन्य अपराधों में शामिल हो जाते है। इस तरह इस अध्याय में ‘सर्वधर्म गो रक्षा संघ’ के उद्देश्य सार्थक होते नजर आते हैं।

 

गौ-शालाओं में व्याप्त भ्रष्टाचार :-

अंतिम तीन अध्यायों में फिर से कई कथानकों, अंतर्वस्तुओं और विषयों का विस्तार हुआ है । इंजेक्शन लगाकर गायों से दूध निकालने पर मनुष्य की सेहत पर होने वाले कुप्रभाव गौशालाओं में प्राप्त भ्रष्टाचार को जहां उपन्यासकार ने जिस पारदर्शिता से पाठकों के समक्ष रखा है, उसी साफ़गोई से ‘कामधेनु मिष्ठान भंडार’, ‘कामधेनु पंचगव्य चिकित्सा केंद्र’ आदि के माध्यम से दूध से बनने वाली मिठाइयों तथा दवाइयों को भी पाठकों के सामने रखा है। सोलहवें अध्याय में गो सेवकों पर की गई गोलीकांड का वर्णन इतना सजीव है, मानो आँखों के सामने जालियांवाला बाग की घटना घटित हो रही हो। सरकार कत्लखानों पर प्रतिबंध नहीं लगाना चाहती है, मगर गो रक्षा के लिए उत्तेजित जनता राजधानी में व्यापक रूप से रैली का आयोजन करती है। इधर करोड़ों लोगों की आस्था का केंद्र गाय, उधर डगमगाती अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए कत्लखानों को रियासत देने पर तूली सरकार। अंतिम अध्याय में ‘रहीम गौ शाला’ में आराम से रह रही श्वेता-श्यामा गायें बेहद बूढ़ी हो जाती है। तब तक पूरे विश्व में ‘विश्व मंगल गौ ग्राम यात्रा’ का माहौल बन जाता। तभी उपन्यास के क्लाइमैक्स में अचानक परिवर्तन आ जाता है, कि ‘रहीम गौशाला’ की लोकप्रियता को देखकर कोई आदमी श्यामा गाय को जहर खिलाकर मार देता है, ताकि गौ-मांस का निर्यात कर सरकार विदेशी मुद्रा कमाती रहे और उसकी यह करतूत न केवल रहीम गौ शाला ले दुश्मन बढ़ाने बल्कि खालबाडा के कसाईयों को भी चाँदनी ले आती है । श्यामा गाय को मरा  देखकर श्वेता भी दम तोड़ देती है कि पशुओं में भी संवेदनाएँ होती है । एक का दुख दूसरा देख नहीं पाता।

उपन्यास का उपसंहार

अंत में जनकवि सतीश उपाध्याय की गीत रचना की प्रस्तुति के द्वारा लेखक ने गाय के असहायपन को सामने लाया है :-

‘मैं गाय हूँ मिटता हुआ अध्याय हूँ।

लोग कहते हैं माँ मगर, मैं तो बड़ी असहाय हूँ

चाहिए सबको कमाई, बन गई दुनिया कसाई,

खून मेरा मत बहाओ, माँ को अपनी मत लजाओ

बिन कन्हैया के धरा पर, भोगती अन्याय हूँ,

मैं गाय हूँ, मैं गाय हूँ।

मगर उन्होंने एक आशा भी जगाई है कि एक न एक दिन लोग हर तरह की जीव-हिंसा के सवाल पर सोचेंगे जरूर, सारा पशु-धन बचेगा, अहिंसा जीतेगी और यह खूबसूरत दुनिया अहिंसा के सहारे ही सुखमय और आधुनिक जीवन जी सकेगी।

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आत्मकथा,1,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4290,आलोक कुमार,3,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,374,ईबुक,231,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,269,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,113,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3240,कहानी,2361,कहानी संग्रह,247,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,550,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,141,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,32,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,152,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,2,बाल उपन्यास,6,बाल कथा,356,बाल कलम,26,बाल दिवस,4,बालकथा,80,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,20,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,31,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,288,लघुकथा,1340,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,20,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,378,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,79,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2075,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,730,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,847,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,21,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,98,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,216,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,78,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: गिरीश पंकज के प्रसिद्ध उपन्यास "एक गाय की आत्मकथा" की यथार्थ गाथा
गिरीश पंकज के प्रसिद्ध उपन्यास "एक गाय की आत्मकथा" की यथार्थ गाथा
http://lh3.googleusercontent.com/-JjQHTfGwELY/VbspGLBk3KI/AAAAAAAAlhM/7WqyjZAypEU/image%25255B2%25255D.png?imgmax=800
http://lh3.googleusercontent.com/-JjQHTfGwELY/VbspGLBk3KI/AAAAAAAAlhM/7WqyjZAypEU/s72-c/image%25255B2%25255D.png?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2015/07/blog-post_612.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2015/07/blog-post_612.html
true
15182217
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy Table of Content