नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

वसन्‍तोत्‍सव एवं पुस्‍तक लोकार्पण समारोह

image

आर0बी0एस0 नेशनल पब्‍लिक स्‍कूल, सारंग विहार, मथुरा में माँ शारदे के अवतरण के सुअवसर पर वसन्‍तोत्‍सव एवं पुस्‍तक लोकार्पण का भव्‍य आयोजन किया गया। मुख्‍य अतिथि महामंडलेश्‍वर श्री नवलगिरि जी महाराज, वृन्‍दावन एवं लखनऊ से पधारे श्री विमल कुमार शुक्‍ला जी की अध्‍यक्षता में कार्यक्रम का शुभारम्‍भ हुआ। सबसे पहले माँ शारदे के समक्ष दीप प्रज्‍ज्‍वलन एवं माल्‍यार्पण किया गया और स्‍कूल के बच्‍चों ने सरस्‍वती वन्‍दना प्रस्‍तुत की। तत्‍पश्‍चात मुख्‍य अतिथि नवलगिरि महाराज जी, अध्‍यक्ष श्री विमल कुमार शुक्‍ला जी, विशिष्‍ट अतिथि क्रमशः मथुरा-वृन्‍दावन विकास प्राधिकरण के सचिव श्री एस0के0सिंह, अमरनाथ विद्या आश्रम के प्रधानाचार्य श्री आदित्‍यनाथ वाजपेयी, सिटी मजिस्‍ट्रेट श्री विजय कुमार, एस0पी0 सिटी श्री मुकुल द्विवेदी एवं सिनेमा जगत से जुड़े संदीपन नागर का फूलमाला पहनाकर, शॉल उढ़ाकर और स्‍मृति चिह्‌न प्रदान कर स्‍वागत किया गया।

इस अवसर पर राष्‍ट्रपति द्वारा सम्‍मानित समाजसेविका श्रीमती लक्ष्‍मी गौतम, शिक्षा के क्षेत्र में सराहनीय कार्य के लिए श्रीमती डा0 प्रीति जौहरी, चिकित्‍सा के क्षेत्र में सेवायें प्रदान करने वाली डा0 सुनीता शर्मा एवं श्री विनोद चूरामणि को भी मंच पर सम्‍मानित किया गया।

 

image

कवि एवं लेखक श्री कृष्‍णावतार उमराव ‘विवेकनिधि’ की दो पुस्‍तकों का लोकार्पण भी इस गरिमामयी एवं भव्‍य आयोजन में उपस्‍थित अथितियों के कर कमलों से सम्‍पन्‍न हुआ। दोनों ही नाटकों की पुस्‍तकें हैं। एक पुस्‍तक का नाम है - ‘‘ वीरता का सूर्य’ तथा दूसरी का नाम ‘‘अदम्‍य साहसी छत्रपति शिवाजी’’ है।

इस अवसर पर मथुरा के अनेक साहित्‍यकार उपस्‍थित थे जिनमें वरिष्‍ठ साहित्‍यकार सन्‍तोष कुमार सिंह, कथाकार डा0 दिनेश पाठक शशि, श्रीमती शशि पाठक, गजलकार मदनमाहन शर्मा अरविन्‍द, डा0 धर्मराज, अशोक अज्ञ, मोहनलाल मोही,, युवाकवि अनुपम गौतम, कवि महारथी, श्रीमती अनुपमा पाठक, पत्रकार सन्‍तोष चतुर्वेदी, पं0 मृदुल शर्मा, चन्‍द्रवीर सिंह, कुमारी उपासना तथा अनेकों गणमान्‍य व्‍यक्‍ति उपस्‍थित थे। साहित्‍यक कार्यक्रम का संचालन अनुपम गौतम तथा सांस्‍कृतिक कार्यक्रमों का संचालन चन्‍द्रवीर सिंह एवं कु0 उपासना ने सम्‍मलितरूप से किया। अन्‍त में स्‍कूल के प्रधानाचार्य आशुतोष सिंह ने सभी अतिथियों का आभार व्‍यक्‍त किया।

 

प्रस्‍तुति -

सन्‍तोष कुमार सिंह

वरिष्‍ट कवि एवं बालसाहित्‍यकार, मथुरा।

रचनाकार आपको पसंद है? तो  फ़ेसबुक पर भी  रचनाकार को पसंद करें! यहाँ क्लिक करें!

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.