रचनाकार में खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

शिव का भौतिक एवं वैज्ञानिक महत्व / प्रमोद भार्गव

SHARE:

संपूर्ण संस्कृत वांग्मय में शिव साधु रूप में हैं। माया मोह से लगभग निर्लिप्त हैं। शिव अपने शरीर पर जो वस्तुएं धारण किए हुए हैं,उनमें भी वैभ...

image

संपूर्ण संस्कृत वांग्मय में शिव साधु रूप में हैं। माया मोह से लगभग निर्लिप्त हैं। शिव अपने शरीर पर जो वस्तुएं धारण किए हुए हैं,उनमें भी वैभव के प्रतीक नहीं झलकते। उनके शरीर पर राख मली हुई है। जटा-जूट धारी हैं। कई सर्प उनके गले और हाथों में गहनों की तरह शोभायमान हैं। बर्फ की सघनता से आच्छादित हिमालय में उनकी आश्रयस्थली है। साधनालीन शिव की आंखें सदैव बंद रहती हैं। हालांकि वे त्रिनेत्र धारी हैं। लेकिन उनका तीसरा नेत्र अपवादस्वरूप आपातस्थिति में ही खुलता है। इस समय शिव रौद्र, यानी गुस्से में होते हैं। इसी समय कभी-कभी शिव तांडव नृत्य भी करते हैं। इस नृत्य का शाब्दिक अर्थ 'देवता का नृत्य' या 'नृत्य करते देवता' है। इस नृत्य का चित्राकंन विश्व प्रसिद्ध 'नटराज' की मूर्ति में किया गया है। ऐसी मान्यता है कि शिव ने यह नृत्य केरल के चिदंबरम् नामक स्थान पर किया था। प्राचीन भौगोलिक धारणा के अनुसार इस स्थल को विश्व का केंद्र माना जाता है। इससे यह भाव प्रकट होता है कि हमारे जिज्ञासु ऋषि-मुनियों को दुनिया का केंद्र जानने की इच्छा थी।

नटराज की प्रतिमा में शिव की महिमा प्रदर्शित है। नटराज की मूर्ति के वृत्ताकार घेरे में चारों तरफ अलंकृत अग्नि व मछली जैसे चिन्ह प्रस्तुत हैं। ये चिन्ह पृथ्वी पर जीवन और विनाश को प्रदर्शित करने के प्रतीक हैं। नटराज के ऊपर अर्द्धचंद्र व जटाओं में गंगा ब्रह्माण्ड व पृथ्वी की सृजन की कथा बयान करते हैं। नटराज के दाहिने हाथ में डमरू व अभय मुद्रा प्रदर्शित है। यह विश्व में घटित होने वाले घटनाचक्रों का प्रतीक है। बाईं भुजा में आधृत अग्नि शिव के रौद्र रूप को दर्शाती है। साथ ही यह अग्नि के महत्व को भी चिन्हित करती है। आमतौर पर नटराज की मूर्ति को एक बालक पर खड़े होकर नृत्य करते हुए दिखाया गया है। यह बालक के रूप में अपस्मरा नामक दानव का वध है। शिव की खुली जटाएं, नेत्रों में झलकता आवेग, बालक पर सधे हुए एक पैर से खड़े होकर संतुलित नृत्य का संयोजन और स्थिर मुद्रा भाव, वैसे तो शिव का तांडव नृत्य है, लेकिन जब इसी मुद्रा को मूर्त रूप दिया जाता है तो यही शिव कहलाते हैं, नटराज ! पत्थर पर उत्कीर्ण नटराज की ये कलाकृतियां अजंता व एलोरा की गुफाओं में भी देखने को मिलती हैं।

[ads-post]

भगवान महादेव के इस रूप वर्णन में शिव एक तरह से प्रकृति के अवयक्त रूप भी हैं। दरअसल अव्यक्त प्रकृति से महत्त्तव और महत्तत्व से अहंकार तत्व उत्पन्न होता है। इस अहंकार तत्व के अधिष्ठाता शिव हैं। अवतारवाद की कथा कहने वाले सभी पुराणों में विष्णु के नाभि-कमल से ब्रह्मा तथा ब्रह्मा के क्रोध से रूद्र अर्थात शिव की उत्पत्ति का वर्णन है। त्रिदेव के इस प्रादुर्भाव के क्रम में उनका पूर्वापरत्व सिद्ध है। अर्थात विष्णु प्रथम, ब्रह्मा द्वितीय और महेश यानी शिव का तृतीय स्थान अपने-अपने जन्म की वरिष्ठता के अनुसार हैं। इसीलिए इस त्रिदेववाद की कल्पना में ब्रह्मा सृष्टि की रचना, विष्णु सृष्टि का पालन और शिव संहार व प्रलय करने वाले देवता माने गए हैं।

शिव को अनेक नामों से जाना जाता है। इनमें महेश, शंकर, महेश्वर, महाकाल, ओंकारेश्वर, रुद्र, नीललोहित प्रमुख नाम हैं। शिव कई जगह अनेक अंगों-उपांगों वाले दर्शाए गए हैं। इन रूपों में उन्हें पंचानन, दशबाहु, त्रिनेत्र, त्रिशूली, अष्टमूर्ति, त्र्यम्बक, अर्धनारीश्वर, चंद्रधर, भूतनाथ और वृषवाहन के नामों से जाने जाते हैं। वृष यानी बैल उनका वाहन है। उनके हाथों में शक्ति, त्रिशूल, डमरू, यष्टि नामक अस्त्र उपलब्ध हैं। शिव की धर्म पत्नी गौरी भी गौरांगी हैं। इसलिए उनका नाम गौरी है। शिव जिस हिमालय में अधिकतम समय रहते हैं, चूंकि वह बर्फीला क्षेत्र है, इसलिए वह भी सफेद है।

एकमुखी और बहुमुखी शिव जिस रूप में भी हैं, उनका प्रकृति से गहरा रिश्ता है। पहले एकमुखधारी रूप में शिव की जटाएं पृथ्वी तत्व की,उसमें स्थित गंगा जल तत्व की, कपाल में स्थित तीसरा नेत्र अग्नि तत्व की, नीलकंठी गला वायुतत्व का और शब्दात्मक ध्वनि प्रकट करने वाला डमरू आकाश तत्व का प्रतीक है। जीवनदायी यही पंचमहाभूत हैं।

पंचमुखी शिव को यदि पांच महाभूतों का प्रतीक माना जाए तो उनके इन अलंकरणों को पंचतन्मात्रात्मक स्वरूप का प्रतीक माना जा सकता है। इन मुखों को विष्णु पुराण में सद्योजात, वामदेव, अघोर, तत्पुरूष तथा ईशान नामों से भी जाना गया है। इन पांच मुखों को पंचत्व का भी प्रतीक माना गया है। पंचतन्मात्र का उद्गम तामस अहंकार से माना गया है। ये मूर्त रूप में नहीं होते। ये ऐसी सूक्ष्म अवस्थाएं हैं, जिनका अनुभव किया जाता है। इसीलिए इन्हें अविशेष रूप में भी संबोधित किया जाता है। ये पांच तन्मात्र हैं, शब्द, रूप, रस, गंध तथा स्पर्श। इन्हीं अविशेष तन्मात्रों से स्थूल भूतों की सृष्टि होती है। ये स्थूल भूत इंद्रियों द्वारा ग्रहण करके अनुभूति मात्र से समझ आते हैं। इन तन्मात्रों में शब्द से आकाश, रूप से तेज, रस से जल, गंध से पृथ्वी तथा स्पर्श से वायु को आकार प्राप्त होता है।

शिव को पुराणों में दस भुजाओं वाला भी दर्शाया गया है। ये भुजाएं, दस दिशाओं की प्रतीक हैं। उनके हाथों में जो दस प्रकार के आयुध हैं, वे दस कारणों के अधिष्ठता होने के साथ, दस देवताओं की प्रतिकात्मक शक्ति के प्रतीक हैं। शिव अपने मस्तक पर पंचमी को प्रकट करने वाले चंद्रमा का आकार रूप धारण किए हुए हैं। इसीलिए शिव को चंद्रधर, चंद्रशेखर या चंद्रमौली कहा जाता है। चंद्रमा को सात्विक अंहकार का भी प्रतीक माना गया है। चंद्रमा की कपाल पर यह उपस्थिति उनके मनोहारी होने के भाव को भी अभिव्यक्ति देती है। पंचमी के इस चंद्रमा का जो कला रूप शिव के भाल पर प्रस्तुत है, उसका संबंध चंद्रमा की घटती-बढ़ती कलाओं से भी है, जो शिव के अंतर्मन में आलोड़ित होने वाले संकल्प व विकल्प की असमंजस रूपी मनस्थिति का प्रतीक है।

शिव त्रिनेत्रधारी हैं। अर्थात उनकी तीन आंखें हैं। शिव की ये तीन आंखें सूर्य,च्रद्रमा तथा अग्नि की द्योतक हैं। इन तीन चक्षुओं को अंहकार के तीन गुण, सत्व, रज तथा तम का भी प्रतीक भी माना गया है। अब त्रिशूलधारी शिव को जानते हैं। शिव का प्रमुख अस्त्र त्रिशूल है। इसी से शिव अनाचारी व अन्यायिओं का दण्ड देते हैं। त्रिशूल के तीन शूल दैहिक, दैविक तथा भौतिक तापों का प्रतीक हैं। चूंकि अहंकार से दुखों की उत्पत्ति होती है, इसलिए त्रिशूल के तीन शूलों को उपरोक्त तीन तापों का प्रतीक माना गया है।

पुराणों में शिव के आठ रूप भी दर्शाए गए हैं। ये रूप हैं रुद्र, भव, शर्व, ईशान, उग्र, पशुपति, भीम तथा महादेव। इन्हें आठ रुद्र भी कहा जाता है। इन रुद्रों के निवास स्थान के रूप में सूर्य, जल, पृथ्वी, वायु, अग्नि, आकाश, दीक्षित, ब्रह्माण्ड एवं चंद्रमा का भी उल्लेख है। रुद्रों के इन्हीं आवास-स्थलों को अष्टमूर्तियों के प्रतीकों के रूप में जाना जाता है। अर्थात शिव की इन अष्टमूर्तियों में अंततः एक तो मनुष्य की जो आठ मूल प्रकृतियां हैं, पंचतन्मात्र, अहंकार, बुद्धि तथा अव्यक्त उन्हें अभिव्यक्त किया गया है, दूसरे इन्हीं में से पांच पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु तथा आकाश तत्व एवं पंचतन्मात्र की और तीन महत् अव्यक्त एवं अहंकार का प्रतीक हैं। इसी प्रकार चंद्रमा को समाधि रूपों में दर्शया गया है। वैसे अब विज्ञान ने मान लिया है कि अंततः ब्रह्माण्ड का उद्गम सोम अर्थात चंद्रमा और अग्नि अर्थात सूर्य से अस्तित्व में आया है। भौतिक प्रकृति को बनाने वाले दिन और रात के उदय व अस्त होने की स्थिति भी सूर्य और चंद्रमा की चाल पर निर्भर है। दिन में सूर्य अर्थात अग्नि की प्रधानता रहती है, जबकि रात में चंद्रमा यानी सोम तत्व की। चंद्रमा अपनी परिवर्तनशील कलाओं को व्यक्त करता हुआ घटता-बढ़ता रहता है। इसीलिए शिव को काल यानी समय का देवता भी माना गया है। यदि पंचतत्व से निर्मित संपूर्ण भौतिक जगत की एक यज्ञ के रूप में परिकल्पना करें तो सभी भौतिक पदार्थ यज्ञ की समिधा होंगे, सूर्य उनको जलाने वाली आग और चंद्रमा उसमें दी जाने वाली आहुति और इस सृष्टि रूपी यज्ञ की प्रक्रिया को संपन्न करने वाले व्यक्ति कहलाएंगे, भगवान शिव। अर्थात शिव का जो अलंकारिक विलक्षण रूप है, उसमें सृष्टि समाई हुई है। सृष्टि को इतने सूक्ष्म एवं एक रूप में अभिव्यक्त कर देना हमारे पुराणकारों की अनूठी बौद्धिक कल्पनाशीलता का विलक्षण प्रतिबिंब है।

पुराणों में शिव की कल्पना एक ऐसे विशिष्ट व्यक्ति के रूप में की गई है,जिसका आधा शरीर,स्त्री का तथा आधा शरीर पुरुष का है। शिव का यह स्त्री व पुरुष मिश्रित शरीर अर्धनारीश्वर के नाम से जाना जाता है। शिव पुराण के अनुसार शिव को इस रूप-विधान में परम पुरूष ब्रह्मात्मक मानकर, ब्रह्म से भिन्न उसकी शक्ति माया को स्त्री के आधे रूप में चित्रित किया गया है। शिव का रूप अग्नि एवं सोम अर्थात सूर्य एवं चंद्रमा के सम्मिलन का भी रूप है। यानी पुरूष का अर्धांश सूर्य और स्त्री का अर्धांश चंद्रमा के प्रतीक हैं। यह भी पुराण सम्मत मान्यता है कि सृष्टि के आरंभ में फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी के दिन शिव और शक्तिरूपा पर्वती हुए थे। कथा में यह भी है कि इसी दिन शिव अत्यंत क्रोधित हुए और संपूर्ण ब्रह्माण्ड के विनाश के लिए विश्व प्रसिद्ध तांडव नृत्य करने लगे। शिव स्वयं यह मानते हैं कि स्त्री-पुरूष समेत प्रत्येक प्राणी की ब्रह्माण्ड में स्वतंत्र सत्ता स्थापित है। इसे ही वैयक्तिक रूप में ब्रह्मात्मक या आत्मपरक माना गया है।

अर्घनारीश्वर के संदर्भ में जो प्रमुख कथा प्रचलन में है,वह है, जब ब्रह्मा ने सृष्टि के विधान को आगे बढ़ाने की बात सोची और इसे साकार करना चाहा, तो उन्हें इसे, अकेले पुरुष रूप से आगे बढ़ाना संभव नहीं लगा। तब उन्होंने शिव को बुलाकर अपना मंतव्य प्रगट किया। शिव ने ब्रह्मा के मूल भाव को समझते हुए उन्हें अर्घनारीश्वर में दर्शन दिए। अर्थात स्त्री और पुरुष के सम्मिलन या सहवास से सृष्टि के विकास की परिकल्पना दी। इस सूत्र के हाथ लगने के बाद ही ब्रह्मा सृष्टि के क्रम को निरंतर गतिशील बनाए रखने का विधान रच पाए। सच्चाई भी यही है कि स्त्री व पुरुष का समन्वय ही सृष्टि का वास्तविक विधान है। इसीलिए स्त्री को प्रकृति का प्रतीक भी माना गया है। अर्थात प्रकृति में जिस तरह से सृजन का क्रम जारी रहता है, मनुष्य-योनी में उसी सृजन प्रक्रिया को स्त्री गतिशील बनाए हुए है। अर्धनारीश्वर यानी आधे-आधे रूपों में स्त्री और पुरुष की देहों का आत्मसात हो जाना, शिव-गौरी का वह महा-सम्मिलन है, जो सृष्टि के बीज को स्त्री की कोख, अर्थात प्रकृति की उर्वरा भूमि में रोपता है। सृष्टि का यह विकास क्रम अनवरत चलता रहे, इसीलिए सृष्टि के निर्माताओं ने इसमें आनंद की उत्तेजक सुखानुभूति भी जोड़ दी है। सृष्टि के इस आदिभूत मातृत्व व पितृत्व को पुराणों की प्रतीकात्मक भाषा में पर्वती-परमेश्वर या शिव-पर्वती कहा गया है। अर्थात शिव-शक्ति के साथ संयुक्त होकर अर्द्वनारीश्वर बन जाते हैं। इसलिए शिव से कहलाया गया है कि शक्ति यानी स्त्री को स्वीकार किए बिना पुरुष अपूर्ण है। उसे शिव की प्राप्ती नहीं हो सकती। स्त्री के सहयोग के बिना कोई कल्पना फलित नहीं हो सकती। इसीलिए पुरुषरूपी शिव और प्रकृति रूपी स्त्री जब अर्धनारीश्वर के रूप में एकाकार होते हैं तो सभी भेद और विकार स्वतः समाप्त हो जाते हैं। अर्थात जब पति-पत्नी के रूप में स्त्री-पुरूष एक दूसरे को आंतरिक रूप से तृप्त करते हैं, तभी अर्धनारीश्वर स्वरूप सार्थक होता है। अर्धनारीश्वर की तरह एकाकार हुए बिना हम अपने जीवन अर्थात काल को आनंद या सुख की अनंत अनुभूति के साथ जी ही नहीं सकते हैं। मनुष्य जीवन में सुख अनंत काल तक बना रहे, इस हेतु स्त्री-पुरूष का एकालाप भी युग-युगांतरों में बने रहना जरूरी है।

शिव माथे पर जो त्रिपुण्ड धारण किए हुए हैं और पूरे शरीर पर जो भस्म लपेटते हैं, उसके भी प्रकृति की महिमा से जुड़े महत्व व उपयोग हैं। शिव के ललाट पर तीन अनुप्रस्थ यानी बहुधा चौड़ी रेखाएं हैं। त्रिपुण्ड रूपी इन तीन रेखाओं में त्रिपुर रूपी तीनों लोक पृथ्वी, पाताल और आकाश प्रतीक रूप में विद्यमान हैं। हालांकि वेदों में इन्हें पृथ्वी, वायुमंडल और आकाश रूपों में चित्रित किया गया है। ब्रह्माण्ड के लोकों की कल्पना के साथ मनुष्य के शरीर की आंतरिक सरंचना भी त्रिपुण्ड में अंतनिर्हित है। इस दृष्टि से पहली रेखा पृथ्वी या भूलोक के साथ देहात्मा और क्रियाशक्ति स्वरूप मानी गई है। दूसरी रेखा, अंतरिक्ष अर्थात वायुमंडल के अलावा इच्छाशक्ति की प्रतीक मानी गई है। तीसरी रेखा आकाश अर्थात स्वर्गलोक के अलावा ज्ञानशक्ति स्वरूप मानी गई है। त्रिपुण्ड, त्रिशूल का भी प्रतीक है, जो संघर्षकाल में, मार्ग में आने वाले शूलों को नष्ट करता है। त्रिपुंण्ड शिव के तीन नेत्रों का प्रतीक माना गया है। त्रिपुंण्ड के बीच वाली रेखा पर वृत्त के रूप में उभरी हुई बिंदी भी अंकित है। यह बिंदी आम धारणा के अंतर्गत तो शिव पत्नी सती के प्रतीक स्वरूप मानी जाती है, इस नाते बिंदी का महत्व एक रूढ़िवादी परंपरा को ढोते रहने तक सीमित होकर रह जाता है। जबकि इसका मनुष्य की शारीरिक सरंचना से जुड़ा वैज्ञानिक महत्व है। इससे यह पता चलता है कि हमारे ऋषि-मुनियों ने मानव विकास और जीव विकास के क्रम में शरीर की आंतरिक सरंचना को तो समझ ही लिया था, साथ ही शरीर के भीतरी अंगों को पोषण के लिए ऊर्जा कैसे मिले, ये उपाय सुझाने में भी वे सक्षम हो गए थे।

त्रिपुण्ड, तिलक, टीका या फिर बिंदी के अपने महत्व हैं। इनका गूढ़ रहस्य यह है कि शरीर में जितनी भी तंत्रिकाएं हैं, कोशिकाएं हैं, इन सभी की श्रृखंलाबद्ध सरंचनाएं मस्तिष्क से जुड़ी हैं। इस कारण मस्तिष्क सभी संवेगों और संवेदनाओं का केंद्र बिंदु है। बुद्धि के तीन रूप, स्मरण, प्रतिभा और ज्ञान होते हैं अर्थात बुद्धि की प्रतीक भी ये तीन रेखाएं हैं। भस्म, चंदन या रोली का तिलक या त्रिपुण्ड मस्तिष्क को उसी प्रकार ऊर्जावान बनाए रखने का काम करते हैं, जिस तरह से एक कांच के टुकड़े पर सूर्य की किरणें केंद्रित करने से अग्नि प्रज्वलित हो उठती है, उसी तरह तिलक मस्तिष्क में ऊर्जा का संचार करने का काम करता है। इस कारण इसे सात्विक गुणों का प्रतीक भी माना जाता है।

हिमालय पर ध्यानस्थ शिव, शरीर पर भस्मी का लपेटे हुए दिखाए जाते हैं। चूंकि शिव संहार के प्रतीक माने गए हैं, इस दृष्टि से भस्म, राख के रूप में एक ऐसी वस्तु है, जो जलकर जिस रूप में थी, अपना वह जीवन नष्ट कर चुकी है। यानी नश्वर हो चुकी है। अब भस्म ऐसे रूप में है, जिसे न तो जलाया जा सकता है और न ही नष्ट किया जा सकता है, अर्थात भस्म जिस रूप में है, वह पांच तत्वों का अनश्वर रूप है। अनश्वर आत्मा को माना गया है और आत्मा सनातन धर्म के मतानुसार अमर है। अनश्वर है। वह कभी नष्ट नहीं होती है। इसलिए शिव भस्म को लपेटते हैं। 'कालग्निरूद्रोपनिषद्' में पीपल और खैर की समिधा से रूपांतरित हुई भस्म को श्रेष्ठ माना गया है। इसी अनुसार आज भी हवन व यज्ञ में पीपल व खैर की लकड़ियां ही समिधा के रूप में प्रयोग में लाई जाती हैं।

शिव-लिंग का रहस्य जाने बिना, शिव-महिमा का बखान अधूरा है। इसलिए लिंग के प्रकृति से जुड़े महत्व और इसकी पूजा के कारण भी जान लेते हैं। वैसे आम प्रचलन में तो यही मान्यता है कि शिव और शक्ति दोनों का संयोगात्मक प्रतीक ही शिव-लिंग है। और यही इनकी माया है। क्योंकि सामान्यतः पुरूष और स्त्री के गुप्तंगों का आभास देने वाले शिव-लिंग की प्रतीक मूर्तियों से साधारण अर्थ यही निकलता है। लेकिन 'स्कंदपुराण' में इसका अर्थ प्रकृति की चेतना से संबंधित है, आर्थात आकाश लिंग है और पृथ्वी उसकी पीठिका है। यह आकाश इसलिए लिंग कहलाता है, क्योंकि इसी में समस्त देवताओं का निवास है और इसी में वे गतिशील रहते हैं। आकाश को पुराणकारों ने इसलिए लिंग माना है, क्योंकि इसका स्वरूप शिव-लिंग जैसा अर्ध-वृत्ताकार है। दूसरे वह पृथ्वी रूपी पीठिका पर स्थित या अधिरोपित होने जैसा दिखाई देता है।

प्रकृतिमय इसी लिंग के आकार का वर्णन लिंग पुराण में है। इसके अनुसार सभी लोकों का स्वरूप लिंग के आकार का है। इसी लिंग में ब्रह्मा समेत सभी चर-अचर जीव, बीज स्वरूप लघु रूपों में प्रतिष्ठित हैं। सांख्य दर्शन भी लिंग और योनि को प्रकृति के रूपों में देखता है। इसमें व्यक्त प्रकृति के लिए लिंग शब्द का उपयोग किया गया है, जबकि अव्यक्त प्रकृति के लिए अलिंग शब्द का। अलिंग अर्थात जो लिंग नहीं है, यानी इसका आशय योनि से है। अर्थात शिव-लिंग के रूप में जिस मूर्ति की पूजा की जाती है ,वह लौकिक स्त्री-पुरूष के जननांग नहीं, वरन् विश्व जननी व्यक्त एवं अव्यक्त प्रकृति की मूर्तिस्वरूपा प्रतिमा है। शिवपुराण में शिव-ंिलंग को चैतन्यमय और लिंगपीठ को अंबामय बताया गया है। किंतु लिंग पुराण में लिंग को शिव और उसके आधार को शिव-पत्नी बताया गया है। यहीं से यह मान्यता लोक प्रचलन में आई कि शिव-लिंग उमा-महेश के प्रतीक स्वरूप हैं।

लिंग-पुराण में एक जगह शिव-लिंग को त्रिदेव का घोतक भी बताया गया है..,

'मूले ब्रह्मा तथा मध्ये विष्णुस्त्रि भुवनेश्वरः।

अर्थात लिंग के मूल में ब्रह्मा, मध्य में विष्णु तथा शीर्ष पर भगवान शिव का निवास माना गया है।

शिव-लिंग को ज्योतिर्लिंग कहे जाने तथा उसके जन्म के विषय में भी लिंग पुराण में एक कथा है, जो लिंग को प्रकृति के प्रतीक रूप में प्रस्तुत करती है। इस कथा के अनुसार एक दिन ब्रह्मा और विष्णु में विवाद छिड़ गया। इस विवाद के फलस्वरूप ही ज्योतिर्लिंग का आविर्भाव वायुमंडल में अचानक हुआ। अततः इस अद्भुत शक्तिशाली ज्यातिर्लिंग के उद्भव को संज्ञान में लेने में ब्रह्मा व विष्णु असमर्थ रहे, तब दिव्यवाणी के एकाएक गूंजने से उन्हें पता चला कि यह तो महादेव का प्रताप है। इससे अर्थ यह निकलता है कि पहले पहल संसार में कुछ भी नहीं था,किंतु शिव थे। प्रकाश-पुंज रूपी शिव ही विद्युत-पुरुष ज्योतिर्लिंग रूप में अवतरित हुए। गोया, प्रकृति में प्रतिष्ठित श्वितत्व ही लिंग है, जबकि प्रकृति के तीनों गुण, सत्व, रज और तम त्रिकोण रूप में योनि स्वरूप में अवस्थित हैं। ये गुण जलहरी रूप में हैं। इन्हीं से सृष्टि की उत्पत्ति होती है। इस तरह से शिव-लिंग, शिव-शक्ति के मिलन का त्रिदेव के संघात का तथा व्यक्त एवं अव्यक्त प्रकृति का अनुपम प्रतीक चिन्ह है। पुराणकारों और उस समय प्रकृति के रहस्यों को खंगालने पर प्रस्तर प्रतिमाओं में ढालने में लगे शिल्पकारों को लिंग और योनि के अतिरिक्त सृजन का इससे और कौन सी श्रेष्ठ परिकल्पना हो सकती थी ? सृष्टि का प्रत्येक जीवधारी इन्हीं जननांगों से ही तो सृष्टि के सृजन में संलग्न था।

वैदिक ऋचाओं को पढ़ने वाले जानते होंगे कि रुद्र गण शक्तिशाली होने के साथ, स्वेच्छाचारी भी थे। लेकिन इनकी स्वेच्छाचारिता स्वाभिमान से जुड़ी हुई थी। ये लोग उस समय के प्रमुख संगठक व नेतृत्वकर्ता इंद्र, वरूण, दैत्य व दानव किसी भी समूह में रहना पसंद नहीं करते थे। जब इंद्र ने देव संगठन बना लिया और उसका स्वयं को स्वयंभू घोषित करते हुए देवराज इंद्र कहलाना शुरू कर दिया, तब इंद्र ने रुद्रों की उपेक्षा की। उन्हें अपने संगठन से वंचित रखा । परिणामस्वरूप वे यज्ञ-भाग से भी वंचित हो गए। इसके साथ ही सूर्य समेत इन सब देवों ने व्यक्ति-पूजा की शुरूआत कर दी। ब्रह्माणों को दान-दक्षिणा देकर अपनी अर्चना से संबद्ध प्रार्थना से जुड़े स्तुति गान और वैदिक सूक्तों की नई रचनाओं के माध्यम से प्रशंसा-प्रणाली की एक वैचारिक धारा को जन्म दे दिया। इस एकपक्षीय स्थिति का निर्माण होते देख रुद्रों को अपने अस्तित्व की चिंता सताने लगी और उन्होंने इस विषय को गंभीरता से लेते हुए भग और लिंग की पूजा प्रारंभ कर दी। मिट्टी, काठ व पत्थर के योनि-लिंग भी इसी कालखंड में अस्तित्व में आने लग गए। रुद्रों के द्वारा इस पूजा के शुरू होने से जो लोग इनके समर्थक थे व इनके गुटों से जुड़े थे, वे भी लिंग पूजक बन गए। चूंकि ये लोग ताकतवर थे और इनके भी निष्ठावान अनुयायिओं की एक पूरी श्रृंखला थी, इसलिए लिंग-पूजा ने एक प्रथा का विस्तृत रूप ले लिया।

शिव महिमा के अंत में शिव के वाहन नंदी यानी वृषभ का वर्णन जरूरी है। नंदी शिव के वाहन के रूप में इसलिए उपयुक्त हैं, क्योंकि वृषभ लोकव्यापी प्राणी होने के साथ खेती-किसानी का भी प्रमुख आधार है। यानी खेती का यांत्रिकीकरण होने से पहले बिना बैल के खेती संभव ही नहीं थी। फिर शिव ने लोक कल्याण की दृष्टि से सर्वहारा वर्ग के ज्यादा हित साधे हैं, उन्हीं के बीच उन्होंने अधिकतम समय बिताया है। इसलिए ऐसे उदार नायक का वाहन बैल ही सर्वोचित है। नंदी के वाहन होने के कारण शिव को नंदीश्वर, वृषध्वाज, वृषध्वज और वृषभकेतन नामों से भी विष्णुधर्मोत्तरपुराण, मत्स्यपुराण, रामायण और महाभारत में उल्लेख किया गया है।

हमारे ऋषि-मुनियों ने प्रकृति के रहस्यों की गवेषणा की आरंभिक अवस्था में ही समझ लिया था कि प्रकृति के अन्य जीव-जगत के साथ ही मनुष्य का सह-अस्तित्व संभव व सुरक्षित है। इसी कारण सभ्यता और संस्कृति का विकास क्रम आगे बढ़ा, वैसे-वैसे अलौकिक शक्तियों में प्रकृति के रूपों को प्रक्षेपित करने के साथ, पशु-पक्षियों को भी देवत्व से जोड़ते गए। नंदी को विरक्ति का द्योतक माना जाता है,इसलिए साधनारत शिव के लिए नंदी शक्ति के भी प्रतीक हैं।

पुराणों में वृषभ को धर्म-रूप में प्रस्तुत किया गया है। इनके चार पैरों को सत्य, ज्ञान, ताप तथा दान का प्रतीक माना गया है। शिव-लिंग की उत्पत्ति को विद्युत तरंगों से भी होना मानते हैं। इसके आकार को ब्रह्माण्ड का रूप माना गया है। इस कारण शिव को विद्युताग्नि और नंदी को बादलों का प्रतीक माना गया है। बादल के प्रतीक होने के कारण ही शिव के नंदी शुभ्र श्वेत हैं। शिव-लिंग के रूप में योनि और लिंग प्रजनन के शक्ति के प्रतीक भी हैं, इसलिए वृषभ को काम का प्रतीक भी माना गया है। इसे काम का प्रतीक इसलिए भी माना गया है, क्योंकि इसमें काम शक्ति प्रचुर मात्रा में होती है। इस नाते वृषभ, सृजन शक्ति का प्रतीक है। शिव को नंदी पर आरूढ़ भी दिखाया गया है। इसका आशय है, एक शिव ही हैं, जो कामियों की वासनाओं को नियंत्रित करने में या उन पर विजय प्राप्त करने में सक्षम हैं। स्पष्ट है, काम के रूप में वृषभ का प्रतीक शिव को विश्व की सृष्टि के लिए अभिप्रेरणा का द्योतक भी है।

---

प्रमोद भार्गव

शब्दार्थ 49,श्रीराम कॉलोनी

शिवपुरी म.प्र.

मो. 09425488224

फोन 07492 232007

लेखक वरिष्ठ साहित्यकार और पत्रकार हैं।

COMMENTS

BLOGGER

-----****-----

|13000+ रचनाएँ_$type=complex$count=6$page=1$va=0$au=0

|विविधा_$type=blogging$au=0$va=0$count=6$page=1$src=random-posts

 आलेख कविता कहानी व्यंग्य 14 सितम्बर 14 september 15 अगस्त 2 अक्टूबर अक्तूबर अंजनी श्रीवास्तव अंजली काजल अंजली देशपांडे अंबिकादत्त व्यास अखिलेश कुमार भारती अखिलेश सोनी अग्रसेन अजय अरूण अजय वर्मा अजित वडनेरकर अजीत प्रियदर्शी अजीत भारती अनंत वडघणे अनन्त आलोक अनमोल विचार अनामिका अनामी शरण बबल अनिमेष कुमार गुप्ता अनिल कुमार पारा अनिल जनविजय अनुज कुमार आचार्य अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ अनुज खरे अनुपम मिश्र अनूप शुक्ल अपर्णा शर्मा अभिमन्यु अभिषेक ओझा अभिषेक कुमार अम्बर अभिषेक मिश्र अमरपाल सिंह आयुष्कर अमरलाल हिंगोराणी अमित शर्मा अमित शुक्ल अमिय बिन्दु अमृता प्रीतम अरविन्द कुमार खेड़े अरूण देव अरूण माहेश्वरी अर्चना चतुर्वेदी अर्चना वर्मा अर्जुन सिंह नेगी अविनाश त्रिपाठी अशोक गौतम अशोक जैन पोरवाल अशोक शुक्ल अश्विनी कुमार आलोक आई बी अरोड़ा आकांक्षा यादव आचार्य बलवन्त आचार्य शिवपूजन सहाय आजादी आदित्य प्रचंडिया आनंद टहलरामाणी आनन्द किरण आर. के. नारायण आरकॉम आरती आरिफा एविस आलेख आलोक कुमार आलोक कुमार सातपुते आशीष कुमार त्रिवेदी आशीष श्रीवास्तव आशुतोष आशुतोष शुक्ल इंदु संचेतना इन्दिरा वासवाणी इन्द्रमणि उपाध्याय इन्द्रेश कुमार इलाहाबाद ई-बुक ईबुक ईश्वरचन्द्र उपन्यास उपासना उपासना बेहार उमाशंकर सिंह परमार उमेश चन्द्र सिरसवारी उमेशचन्द्र सिरसवारी उषा छाबड़ा उषा रानी ऋतुराज सिंह कौल ऋषभचरण जैन एम. एम. चन्द्रा एस. एम. चन्द्रा कथासरित्सागर कर्ण कला जगत कलावंती सिंह कल्पना कुलश्रेष्ठ कवि कविता कहानी कहानी संग्रह काजल कुमार कान्हा कामिनी कामायनी कार्टून काशीनाथ सिंह किताबी कोना किरन सिंह किशोरी लाल गोस्वामी कुंवर प्रेमिल कुबेर कुमार करन मस्ताना कुसुमलता सिंह कृश्न चन्दर कृष्ण कृष्ण कुमार यादव कृष्ण खटवाणी कृष्ण जन्माष्टमी के. पी. सक्सेना केदारनाथ सिंह कैलाश मंडलोई कैलाश वानखेड़े कैशलेस कैस जौनपुरी क़ैस जौनपुरी कौशल किशोर श्रीवास्तव खिमन मूलाणी गंगा प्रसाद श्रीवास्तव गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर ग़ज़लें गजानंद प्रसाद देवांगन गजेन्द्र नामदेव गणि राजेन्द्र विजय गणेश चतुर्थी गणेश सिंह गांधी जयंती गिरधारी राम गीत गीता दुबे गीता सिंह गुंजन शर्मा गुडविन मसीह गुनो सामताणी गुरदयाल सिंह गोरख प्रभाकर काकडे गोवर्धन यादव गोविन्द वल्लभ पंत गोविन्द सेन चंद्रकला त्रिपाठी चंद्रलेखा चतुष्पदी चन्द्रकिशोर जायसवाल चन्द्रकुमार जैन चाँद पत्रिका चिकित्सा शिविर चुटकुला ज़कीया ज़ुबैरी जगदीप सिंह दाँगी जयचन्द प्रजापति कक्कूजी जयश्री जाजू जयश्री राय जया जादवानी जवाहरलाल कौल जसबीर चावला जावेद अनीस जीवंत प्रसारण जीवनी जीशान हैदर जैदी जुगलबंदी जुनैद अंसारी जैक लंडन ज्ञान चतुर्वेदी ज्योति अग्रवाल टेकचंद ठाकुर प्रसाद सिंह तकनीक तक्षक तनूजा चौधरी तरुण भटनागर तरूण कु सोनी तन्वीर ताराशंकर बंद्योपाध्याय तीर्थ चांदवाणी तुलसीराम तेजेन्द्र शर्मा तेवर तेवरी त्रिलोचन दामोदर दत्त दीक्षित दिनेश बैस दिलबाग सिंह विर्क दिलीप भाटिया दिविक रमेश दीपक आचार्य दुर्गाष्टमी देवी नागरानी देवेन्द्र कुमार मिश्रा देवेन्द्र पाठक महरूम दोहे धर्मेन्द्र निर्मल धर्मेन्द्र राजमंगल नइमत गुलची नजीर नज़ीर अकबराबादी नन्दलाल भारती नरेंद्र शुक्ल नरेन्द्र कुमार आर्य नरेन्द्र कोहली नरेन्‍द्रकुमार मेहता नलिनी मिश्र नवदुर्गा नवरात्रि नागार्जुन नाटक नामवर सिंह निबंध नियम निर्मल गुप्ता नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’ नीरज खरे नीलम महेंद्र नीला प्रसाद पंकज प्रखर पंकज मित्र पंकज शुक्ला पंकज सुबीर परसाई परसाईं परिहास पल्लव पल्लवी त्रिवेदी पवन तिवारी पाक कला पाठकीय पालगुम्मि पद्मराजू पुनर्वसु जोशी पूजा उपाध्याय पोपटी हीरानंदाणी पौराणिक प्रज्ञा प्रताप सहगल प्रतिभा प्रतिभा सक्सेना प्रदीप कुमार प्रदीप कुमार दाश दीपक प्रदीप कुमार साह प्रदोष मिश्र प्रभात दुबे प्रभु चौधरी प्रमिला भारती प्रमोद कुमार तिवारी प्रमोद भार्गव प्रमोद यादव प्रवीण कुमार झा प्रांजल धर प्राची प्रियंवद प्रियदर्शन प्रेम कहानी प्रेम दिवस प्रेम मंगल फिक्र तौंसवी फ्लेनरी ऑक्नर बंग महिला बंसी खूबचंदाणी बकर पुराण बजरंग बिहारी तिवारी बरसाने लाल चतुर्वेदी बलबीर दत्त बलराज सिंह सिद्धू बलूची बसंत त्रिपाठी बातचीत बाल कथा बाल कलम बाल दिवस बालकथा बालकृष्ण भट्ट बालगीत बृज मोहन बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष बेढब बनारसी बैचलर्स किचन बॉब डिलेन भरत त्रिवेदी भागवत रावत भारत कालरा भारत भूषण अग्रवाल भारत यायावर भावना राय भावना शुक्ल भीष्म साहनी भूतनाथ भूपेन्द्र कुमार दवे मंजरी शुक्ला मंजीत ठाकुर मंजूर एहतेशाम मंतव्य मथुरा प्रसाद नवीन मदन सोनी मधु त्रिवेदी मधु संधु मधुर नज्मी मधुरा प्रसाद नवीन मधुरिमा प्रसाद मधुरेश मनीष कुमार सिंह मनोज कुमार मनोज कुमार झा मनोज कुमार पांडेय मनोज कुमार श्रीवास्तव मनोज दास ममता सिंह मयंक चतुर्वेदी महापर्व छठ महाभारत महावीर प्रसाद द्विवेदी महाशिवरात्रि महेंद्र भटनागर महेन्द्र देवांगन माटी महेश कटारे महेश कुमार गोंड हीवेट महेश सिंह महेश हीवेट मानसून मार्कण्डेय मिलन चौरसिया मिलन मिलान कुन्देरा मिशेल फूको मिश्रीमल जैन तरंगित मीनू पामर मुकेश वर्मा मुक्तिबोध मुर्दहिया मृदुला गर्ग मेराज फैज़ाबादी मैक्सिम गोर्की मैथिली शरण गुप्त मोतीलाल जोतवाणी मोहन कल्पना मोहन वर्मा यशवंत कोठारी यशोधरा विरोदय यात्रा संस्मरण योग योग दिवस योगासन योगेन्द्र प्रताप मौर्य योगेश अग्रवाल रक्षा बंधन रच रचना समय रजनीश कांत रत्ना राय रमेश उपाध्याय रमेश राज रमेशराज रवि रतलामी रवींद्र नाथ ठाकुर रवीन्द्र अग्निहोत्री रवीन्द्र नाथ त्यागी रवीन्द्र संगीत रवीन्द्र सहाय वर्मा रसोई रांगेय राघव राकेश अचल राकेश दुबे राकेश बिहारी राकेश भ्रमर राकेश मिश्र राजकुमार कुम्भज राजन कुमार राजशेखर चौबे राजीव रंजन उपाध्याय राजेन्द्र कुमार राजेन्द्र विजय राजेश कुमार राजेश गोसाईं राजेश जोशी राधा कृष्ण राधाकृष्ण राधेश्याम द्विवेदी राम कृष्ण खुराना राम शिव मूर्ति यादव रामचंद्र शुक्ल रामचन्द्र शुक्ल रामचरन गुप्त रामवृक्ष सिंह रावण राहुल कुमार राहुल सिंह रिंकी मिश्रा रिचर्ड फाइनमेन रिलायंस इन्फोकाम रीटा शहाणी रेंसमवेयर रेणु कुमारी रेवती रमण शर्मा रोहित रुसिया लक्ष्मी यादव लक्ष्मीकांत मुकुल लक्ष्मीकांत वैष्णव लखमी खिलाणी लघु कथा लघुकथा लतीफ घोंघी ललित ग ललित गर्ग ललित निबंध ललित साहू जख्मी ललिता भाटिया लाल पुष्प लावण्या दीपक शाह लीलाधर मंडलोई लू सुन लूट लोक लोककथा लोकतंत्र का दर्द लोकमित्र लोकेन्द्र सिंह विकास कुमार विजय केसरी विजय शिंदे विज्ञान कथा विद्यानंद कुमार विनय भारत विनीत कुमार विनीता शुक्ला विनोद कुमार दवे विनोद तिवारी विनोद मल्ल विभा खरे विमल चन्द्राकर विमल सिंह विरल पटेल विविध विविधा विवेक प्रियदर्शी विवेक रंजन श्रीवास्तव विवेक सक्सेना विवेकानंद विवेकानन्द विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक विश्वनाथ प्रसाद तिवारी विष्णु नागर विष्णु प्रभाकर वीणा भाटिया वीरेन्द्र सरल वेणीशंकर पटेल ब्रज वेलेंटाइन वेलेंटाइन डे वैभव सिंह व्यंग्य व्यंग्य के बहाने व्यंग्य जुगलबंदी व्यथित हृदय शंकर पाटील शगुन अग्रवाल शबनम शर्मा शब्द संधान शम्भूनाथ शरद कोकास शशांक मिश्र भारती शशिकांत सिंह शहीद भगतसिंह शामिख़ फ़राज़ शारदा नरेन्द्र मेहता शालिनी तिवारी शालिनी मुखरैया शिक्षक दिवस शिवकुमार कश्यप शिवप्रसाद कमल शिवरात्रि शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी शीला नरेन्द्र त्रिवेदी शुभम श्री शुभ्रता मिश्रा शेखर मलिक शेषनाथ प्रसाद शैलेन्द्र सरस्वती शैलेश त्रिपाठी शौचालय श्याम गुप्त श्याम सखा श्याम श्याम सुशील श्रीनाथ सिंह श्रीमती तारा सिंह श्रीमद्भगवद्गीता श्रृंगी श्वेता अरोड़ा संजय दुबे संजय सक्सेना संजीव संजीव ठाकुर संद मदर टेरेसा संदीप तोमर संपादकीय संस्मरण संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018 सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन सतीश कुमार त्रिपाठी सपना महेश सपना मांगलिक समीक्षा सरिता पन्थी सविता मिश्रा साइबर अपराध साइबर क्राइम साक्षात्कार सागर यादव जख्मी सार्थक देवांगन सालिम मियाँ साहित्य समाचार साहित्यिक गतिविधियाँ साहित्यिक बगिया सिंहासन बत्तीसी सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध सीताराम गुप्ता सीताराम साहू सीमा असीम सक्सेना सीमा शाहजी सुगन आहूजा सुचिंता कुमारी सुधा गुप्ता अमृता सुधा गोयल नवीन सुधेंदु पटेल सुनीता काम्बोज सुनील जाधव सुभाष चंदर सुभाष चन्द्र कुशवाहा सुभाष नीरव सुभाष लखोटिया सुमन सुमन गौड़ सुरभि बेहेरा सुरेन्द्र चौधरी सुरेन्द्र वर्मा सुरेश चन्द्र सुरेश चन्द्र दास सुविचार सुशांत सुप्रिय सुशील कुमार शर्मा सुशील यादव सुशील शर्मा सुषमा गुप्ता सुषमा श्रीवास्तव सूरज प्रकाश सूर्य बाला सूर्यकांत मिश्रा सूर्यकुमार पांडेय सेल्फी सौमित्र सौरभ मालवीय स्नेहमयी चौधरी स्वच्छ भारत स्वतंत्रता दिवस स्वराज सेनानी हबीब तनवीर हरि भटनागर हरि हिमथाणी हरिकांत जेठवाणी हरिवंश राय बच्चन हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन हरिशंकर परसाई हरीश कुमार हरीश गोयल हरीश नवल हरीश भादानी हरीश सम्यक हरे प्रकाश उपाध्याय हाइकु हाइगा हास-परिहास हास्य हास्य-व्यंग्य हिंदी दिवस विशेष हुस्न तबस्सुम 'निहाँ' biography dohe hindi divas hindi sahitya indian art kavita review satire shatak tevari undefined
नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3793,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,326,ईबुक,182,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2744,कहानी,2070,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,484,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,129,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,87,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,309,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,326,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,48,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,8,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,16,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,226,लघुकथा,808,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,306,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,57,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1882,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,637,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,676,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,52,साहित्यिक गतिविधियाँ,181,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,51,हास्य-व्यंग्य,52,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: शिव का भौतिक एवं वैज्ञानिक महत्व / प्रमोद भार्गव
शिव का भौतिक एवं वैज्ञानिक महत्व / प्रमोद भार्गव
https://lh3.googleusercontent.com/-7tIGGHb0vNk/WKghm9CR0GI/AAAAAAAA2o4/rbJzZKt4lXc/image_thumb.png?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-7tIGGHb0vNk/WKghm9CR0GI/AAAAAAAA2o4/rbJzZKt4lXc/s72-c/image_thumb.png?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2017/02/blog-post_96.html
https://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2017/02/blog-post_96.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ