370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

गिरिराजशरण अग्रवाल की कुछ चुनिंदा ग़ज़लें

image

1

मुझे जिसकी इक-इक गली जानती है

वो बस्ती मुझे अजनबी जानती है


कला हम भी पुश्ते बनाने की सीखें

जमीं काटना गर नदी जानती है


गिरी ओस लेकिन न अधरों से फूटी

कली कैसी जालिम हँसी जानती है


अँधेरे हों, कोहरा हो, बन हो, भँवर हो

बिताना समय जिंदगी जानती है


लपट-सी उठी और नजरों से ग़ायब

अँधेरा है क्या रोशनी जानती है

2

मधुरता में तीखा नमक है तो क्यों है

किसी का भी जीवन नरक है तो क्यों है


कसक में तड़पने से कुछ भी न होगा

यह सोचो कि दिल में कसक है तो क्यों है


अकेले हो, इसका गिला क्या, यह सोचो

किसी से मिलन की झिझक है तो क्यों है


जरा-सा है जुगनू तुम्हारे मुकाबिल

मगर उसमें इतनी चमक है तो क्यों है


लचकती है आँधी में, कटती नहीं है

हरी शाख़ में यह लचक है तो क्यों है


वो हो लालिमा, चाँद या फूल कोई

सभी में तुम्हारी झलक है तो क्यों है


3

आँखों में स्वप्न, ध्यान में चेहरे छिपे हुए

बेरंगियों में रंग हैं कितने छिपे हुए


कोई नहीं कि जिसमें न हो जिंदगी की आग

पत्थर में हमने देखे पतंगे छिपे हुए


पाया निराश आँखों में अंकुर उम्मीद का

रातों में हमने देखे सवेरे छिपे हुए


कुछ देर थी तो खोजते रहने की देर थी

बीहड़ वनों के बीच थे रस्ते छिपे हुए


फैली जरा-सी धूप तो बाहर निकल पड़े

पेड़ों की पत्तियों में थे साये छिपे हुए

4

अगर स्वप्न आँखों ने देखा न होता

समझ लो कि मौसम यह बदला न होता


जमीनों से उगतीं चिराग़ों की फ़सलें

निराशा न होती, अँधेरा न होता


कमर आदमीयत की ऐसे न झुकती

समाजों से ऊपर जो पैसा न होता


जमीं नफ़रतों के शरारे उगलती

दिलों में जो चाहत का दरिया न होता


जरा सोचिए हम गिला किससे करते

जमाने में गर कोई अपना न होता

5

चलते रहो मंजिल की दिशाओं के भरोसे

जलते हुए दीपों की शिखाओं के भरोसे


पतवार को हाथों में सँभाले रहो माँझी

छोड़ो नहीं किश्ती को हवाओं के भरोसे


सच यह है कि दरकार है रोगी को दवा भी

बनता है कहाँ काम, दुआओं के भरोसे


सूखा ही गुजर जाए न बरसात का मौसम

तुम खेत को छोड़ो न घटाओं के भरोसे


ख़ुद अपना भरोसा अभी करना नहीं सीखा

जीते हैं अभी लोग ख़ुदाओं के भरोसे

--


डा. गिरिराजशरण अग्रवाल

7838090732 

--

image

Dr. Giriraj Sharan Agrawal
Director
Hindi Sahitya Niketan

www.hindisahityaniketan.com
http://facebook.hindisahityaniketan.com

ग़ज़लें 5966251487545709142

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव