नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

नया! अपनी किताबें किंडल पर ई-बुक के रूप में निःशुल्क प्रकाशित करवाएँ

यदि आप या आपके रचनाकार मित्र अब तक अपनी स्वयं की लिखी किताबें स्व-प्रकाशन, सह-प्रकाशन, प्रकाशन-सहयोग आदि तरीके से, स्वयं के खर्चे पर, 250 या 500 किताबों के प्रिंट आर्डर पर करवाते आ रहे हैं तो यह खबर आप जैसे रचनाकारों के लिए ही है. अब आप बिना किसी खर्च के, अपनी किताबें किंडल ईबुक फ़ॉर्मेट में प्रकाशित करवा सकते हैं, जिसकी पहुँच निःसंदेह असंख्य पाठकों तक हो सकती है.

नव-तकनीक अपनाने के मामले में रचनाकार.ऑर्ग सदैव अग्रणी रहा है. यूनिकोड हिंदी की सर्वप्रथम, सर्वाधिक प्रसारित-प्रचारित-पठित व सक्रिय ई-साहित्यिक-पत्रिका का गौरव तो इसे हासिल है ही, समय-समय पर साहित्यिक नवोन्मेष में भी यह अग्रणी रहा है. कुछ समय पूर्व फ़ोन करें, रचनाएँ रेकार्ड कर प्रसारित करें का विकल्प भी प्रस्तुत किया गया था जिसमें दर्जनों रचनाओं का जीवंत रचनापाठ दूरस्थ स्थान से रेकार्ड कर यूट्यूब चैनल पर प्रसारित किया गया था.

इसी तारतम्य में अब पाठकों व रचनाकारों की सुविधा के लिए प्रस्तुत है – अमेजन किंडल पर ईबुक प्रकाशन की निःशुल्क सुविधा.

यूँ तो किंडल पर सेल्फ पब्लिशिंग के जरिए रचनाकार स्वयं ही किताबें अब प्रकाशित कर सकते हैं, मगर बहुत बार तमाम तरह की तकनीकी असुविधाओं की वजह से यह संभव नहीं हो पाता है. किंडल पर अब यूनिकोड हिंदी का पूर्ण समर्थन आ गया है. जिसकी बानगी आप नीचे दिए गए स्क्रीनशॉट पर देख सकते हैं -

clip_image001

किंडल पर हालिया प्रकाशित हिंदी की कुछ किताबें

clip_image002

किंडल पर डाउनलोड की गई किताबों की सूची

clip_image003

किंडल पर किताबों के पढ़ने का आनंद.


यूनिकोड हिंदी में प्रकाशित (पीडीएफ नहीं) किताबों के टैक्स्ट को रीफ्लो कर आकार छोटा बड़ा कर पढ़ा जा सकता है. कुछ विशेष किंडल उपकरणों तथा एंड्रायड के किंडल ऐप्प में यूनिकोड हिंदी में प्रकाशित किंडल ईबुक का आनंद सुनकर भी लिया जा सकता है.

किंडल ईबुक के रूप मे्ं प्रकाशित करने पर आपकी किताब इटर्नल (अमर) हो जाएगी, कभी आउटआफ प्रिंट नहीं होगी, सदैव सर्वसुलभ रहेगी, आदि...आदि...

यानी तमाम तरह की सुविधा व खूबी. इसीलिए दुनिया के अधिकाधिक लोग किंडल उपकरणों व स्मार्टफ़ोन किंडल ऐप्प पर ही किताबें पढ़ने-पढ़ाने लगे हैं.

तो देर किस बात की? अपनी किताब की डिजिटल पांडुलिपि – वर्ड फ़ाइल / टैक्स्ट फ़ाइल / पेजमेकर फ़ाइल किसी भी फ़ॉन्ट में हो, हमारे पास भेजें. हम उन्हें यूनिकोड में बदल कर रचनाकार.ऑर्ग में तो प्रकाशित करेंगे ही, अमेजन किंडल पर भी किंडल ई-बुक के रूप में प्रकाशित करेंगे. यदि आपकी प्रिंट की किताब की पेजमेकर फ़ाइल आपके पब्लिशर के पास है तो उसे लेकर हमारे पास भिजवाएँ. उसे उपयुक्त फ़ॉर्मेट में बदल कर हम अमेजन किंडल पर व रचनाकार पर ईबुक के रुप में प्रकाशित करेंगे.

ध्यान दें – यह सुविधा आप सभी के लिए निःशुल्क है. साथ ही, आपकी रचना के लिए किसी तरह के मानदेय/रॉयल्टी का प्रावधान नहीं है. किंडल पर आपकी किताब को यथासंभव अमेजन द्वारा निर्धारित न्यूनतम मूल्य (प्राइम व अनलिमिटेड पर निःशुल्क पठन-पाठन हेतु) पर प्रकाशित किया जाएगा ताकि अधिकाधिक लोगों तक आपकी किताबें पहुंच सकें.

आप अपनी रचनाएँ रचनाकार.ऑर्ग को प्रकाशनार्थ प्रेषित कर रचनाकार.ऑर्ग के नियमों से स्वयंमेव आबद्ध होते हैं. रचना प्रकाशन संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह कड़ी देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

1 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.