रु. 25,000+ के  नाका लघुकथा पुरस्कार हेतु रचनाएँ आमंत्रित.

अधिक जानकारी के लिए यहाँ http://www.rachanakar.org/2018/10/2019.html देखें.

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

देश विदेश की लोक कथाएँ — यूरोप–इटली–10 : 1 तीन सन्तरों से प्यार // सुषमा गुप्ता

साझा करें:

देश विदेश की लोक कथाएं — यूरोप–इटली–10 : इटली की लोक कथाएं–10 संकलनकर्ता सुषमा गुप्ता Cover Page picture: Colosseum, Rome, Italy Published U...

देश विदेश की लोक कथाएं — यूरोप–इटली–10 :

clip_image002

इटली की लोक कथाएं–10

clip_image004

संकलनकर्ता

सुषमा गुप्ता

Cover Page picture: Colosseum, Rome, Italy

Published Under the Auspices of Akhil Bhartiys Sahityalok

E-Mail: sushmajee@yahoo.com

Website: http://sushmajee.com/folktales/index-folktales.htm

Read More such stories at: www.scribd.com/sushma_gupta_1

Copyrighted by Sushma Gupta 2014

No portion of this book may be reproduced or stored in a retrieval system or transmitted in any form, by any means, mechanical, electronic, photocopying, recording, or otherwise, without written permission from the author.

Map of Italy

clip_image006

विंडसर, कैनेडा

मार्च 2017

Contents

सीरीज़ की भूमिका 4

इटली की लोक कथार्ऐं10 5

1 तीन सन्तरों से प्यार 7

2 सूरज़ चॉद और तालिया 25

3 डौन फ़िरीयूलीडू 37

4 छोटा चना 41

5 पिटिड्डा 56

6 सैक्सटन की नाक 62

7 मुर्गा और चूहा 69

8 गौडमदर लोमड़ी 74

9 चूहा और बिल्ली 81

10 तीन भाई 89

11 बूचैटीनो 93

12 तीन बतख के बच्चे 99

13 एन्ड्रोक्लीज़ और शेर 108

14 सात बच्चों को शाप 112

15 शैतान ने तीन बहिनों से शादी कैसे की 122

16 लौर्ड़ सेन्ट पीटर और लोहार 130

17 सेन्ट पीटर और उसकी बहिनें 136

18 पाइलेट 139

19 जूडास की कहानी 143

20 निराश मालकस 145

21 खम्भे के चारों तरफ मालकस 147

22 जियूफ़ा के कारनामे. 149

सीरीज़ की भूमिका

लोक कथाएं किसी भी समाज की संस्कृति का एक अटूट हिस्सा होती हैं। ये संसार को उस समाज के बारे में बताती हैं जिसकी वे लोक कथाएं हैं। आज से बहुत साल पहले, करीब 100 साल पहले, ये लोक कथाएं केवल ज़बानी ही कही जातीं थीं और कह सुन कर ही एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी को दी जाती थीं इसलिये किसी भी लोक कथा का मूल रूप क्या रहा होगा यह कहना मुश्किल है।

आज हम ऐसी ही कुछ अंग्रेजी और कुछ दूसरी भाषा बोलने वाले देशों की लोक कथाएं अपने हिन्दी भाषा बोलने वाले समाज तक पहुँचाने का प्रयास कर रहे हैं। इनमें से बहुत सारी लोक कथाएं हमने अंग्रेजी की किताबों से, कुछ विश्वविद्यालयों में दी गयी थीसेज़ से, और कुछ पत्रिकाओं से ली हैं और कुछ लोगों से सुन कर भी लिखी हैं। अब तक 1200 से अधिक लोक कथाएं हिन्दी में लिखी जा चुकी हैं। इनमें से 400 से भी अधिक लोक कथाएं तो केवल अफ्रीका के देशों की ही हैं।

इस बात का विशेष ध्यान रखा गया है कि ये सब लोक कथाएं हर वह आदमी पढ़ सके जो थोड़ी सी भी हिन्दी पढ़ना जानता हो और उसे समझता हो। ये कथाएं यहाँ तो सरल भाषा में लिखी गयी है पर इनको हिन्दी में लिखने में कई समस्याएं आयी है जिनमें से दो समस्याएं मुख्य हैं।

एक तो यह कि करीब करीब 95 प्रतिशत विदेशी नामों को हिन्दी में लिखना बहुत मुश्किल है. चाहे वे आदमियों के हों या फिर जगहों के। दूसरे उनका उच्चारण भी बहुत ही अलग तरीके का होता है। कोई कुछ बोलता है तो कोई कुछ। इसको साफ करने के लिये इस सीरीज़ की सब किताबों में फुटनोट्स में उनको अंग्रेजी में लिख दिया गया हैं ताकि कोई भी उनको अंग्रेजी के शब्दों की सहायता से कहीं भी खोज सके। इसके अलावा और भी बहुत सारे शब्द जो हमारे भारत के लोगों के लिये नये हैं उनको भी फुटनोट्स और चित्रों द्वारा समझाया गया है।

ये सब कथाएं “देश विदेश की लोक कथाएं” नाम की सीरीज के अन्तर्गत छापी जा रही हैं। ये लोक कथाएं आप सबका मनोरंजन तो करेंगी ही साथ में दूसरे देशों की संस्कृति के बारे में भी जानकारी देंगी। आशा है कि हिन्दी साहित्य जगत में इनका भव्य स्वागत होगा।

सुषमा गुप्ता

मई 2016

इटली की लोक कथाएं–10

इटली देश यूरोप महाद्वीप के दक्षिण पश्चिम की तरफ स्थित है। पुराने समय में यह एक बहुत ही शक्तिशाली राज्य था। रोमन साम्राज्य अपने समय का एक बहुत ही मशहूर राज्य रहा है। उसकी सभ्यता भी बहुत पुरानी है – करीब 3000 साल पुरानी। इसका रोम शहर 753 बीसी में बसाया हुआ बताया जाता है पर यह इटली की राजधानी 1871 में बना था। इटली में कुछ शहर बहुत मशहूर हैं – रोम, पिसा, फ्लोरैन्स, वेनिस आदि। यहाँ की टाइबर नदी बहुत मशहूर है। यूरोप में लोग केवल लन्दन, पेरिस और रोम शहर ही घूमने जाते हैं।

रोम में कोलोज़ियम और वैटिकन अजायबघर सबसे ज़्यादा देखे जाते हैं। पिसा में पिसा की झुकती हुई मीनार संसार का आदमी द्वारा बनाये गये आठ आश्चर्यों में से एक है। इटली का वेनिस शहर नहरों में बसा हुआ एक शहर[1] है। इस शहर में अधिकतर लोग इधर से उधर केवल नावों से ही आते जाते हैं। यहाँ कोई कार नहीं है कोई सड़क पर चलने वाला यातायात का साधन नहीं है, केवल नावें हैं और नहरें हैं। शायद तुम्हें मालूम नहीं होगा कि असल में वेनिस शहर कोई शहर नहीं है बल्कि 118 द्वीपों को पुलों से जोड़ कर बनाया गया है इसलिये ये नहरें भी नहरें नहीं हैं बल्कि समुद्र का पानी है और वह समुद्र का पानी नहर में बहता जैसा लगता है।

इटली का रोम कैसे बसा? कहते हैं कि रोम को बसाने वाला वहाँ का पहला राजा रोमुलस था। रोमुलस और रेमस दो जुड़वाँ भाई थे जो एक मादा भेड़िया का दूध पी कर बड़े हुए थे। दोनों ने मिल कर एक शहर बसाने का विचार किया पर बाद में एक बहस में रोमुलस ने रेमस को मार दिया और उसने खुद राजा बन कर 7 अप्रैल 753 बीसी को रोम की स्थापना की। इटली के रोम शहर में संसार का मशहूर सबसे बड़ा कोलोज़ियम[2] है जहाँ 5000 लोग बैठ सकते हैं। पुराने समय में यहाँ लोगों को सजाएं दी जाती थीं।

इटली में ही वैटीकन सिटी है जो ईसाई धर्म के कैथोलिक लोगों का घर है पर यह एक अपना अलग ही देश है। वहाँ इसके अपने सिक्के और नोट हैं। इसकी अपनी सेना है। पोप इस देश का राजा है। इसका अजायबघर बहुत मशहूर है। यह संसार का सबसे छोटा देश है क्षेत्र में भी और जनसंख्या में भी – 842 आदमी .4 वर्ग मील के क्षेत्र में बसे हुए हैं।

इटली की बहुत सारी लोक कथाएं हैं। इटली की सबसे पहली लोक कथाएं 1550 में इतालो कैलवीनो[3] ने इटैलियन भाषा में लिखी थीं। इनको 1956 में संकलित करके प्रकाशित किया गया था। इनका एक अंग्रेजी अनुवाद मार्टिन ने 1980 में किया। उन्होंने उस पुस्तक में 200 लोक कथाएं प्रकाशित की थीं। उन्हीं लोक कथाओं में से हमने 125 लोक कथाएं चुन कर अपने हिन्दी भाषा भाषियों के लिये हिन्दी भाषा में नौ संकलनों में प्रस्तुत की थीं।[4]

इटली की लोक कथाओं की एक पुस्तक क्रेन[5] ने 1885 में लिखी थी जिसमें उन्होंने 109 कथाएं प्रकाशित की थीं। इस पुस्तक में हम उनकी कुछ कथाएं हिन्दी में दे रहे हैं। उनके अलावा इटली की कुछ और लोक कथाएं भी यहाँ दी जा रही हैं। हमें पूरा विश्वास है कि ये लोक कथाएं भी तुम सबको इटली की लोक कथाओं के संकलनों की तरह बहुत पसन्द आयेंगीं।

1 तीन सन्तरों से प्यार[6]

पैन्टेलून[7] जोकर अपनी ऊँची आवाज में बोला — “आओ आओ सब लोग यहाँ आ कर इकठ्ठे हो जाओ। अभी हम एक बहुत ही अच्छा नाटक खेलने जा रहे हैं।”

एक ने पूछा — “यह किस तरह का नाटक है? क्या यह हँसी वाला नाटक है? यह नाटक जितना हँसाने वाला होगा उतना ही ज़्यादा अच्छा होगा।” यह सुन कर कई लोगों ने हाँ में अपने सिर हिलाये।

पर किसी ने कहा — “अगर कोई दुख भरा नाटक भी है तो वह भी क्या बुरा है? हम उनका रोना ही सुन लेंगे।”

पैन्टेलून ने सबको चुप कराने की कोशिश की — “चुप हो जाओ, चुप हो जाओ। मैं तुम लोगों से वायदा करता हूँ कि यह नाटक अपने में एक अकेला और बहुत ही बढ़िया नाटक होगा। ऐसा नाटक तुम लोगों ने पहले कभी कहीं नहीं देखा होगा। सो अब हम पेश करते हैं आज का नाटक तीन सन्तरों से प्यार।”

एक बूढ़ा बोला — “तीन सन्तरों से प्यार? इसका क्या मतलब हुआ?” पर वहाँ बैठे बच्चों को यह नाम अच्छा लगा और उन्होंने ज़ोर से ताली बजायी।

वे चिल्लाये — “हमको तीन सन्तरों से प्यार चाहिये। हमको तीन सन्तरों से प्यार चाहिये।”

जोकर को यह सुन कर बड़ा अच्छा लगा कि बच्चे उसका नाटक देखने के लिये उत्सुक हैं।

उसने उनके सामने सिर झुकाया और बोला — “बच्चो, तुम लोग तो हमेशा से ही मेरे बहुत अच्छे नाटक देखने वालों में से रहे हो। अच्छा अब देखो नाटक शुरू होता है और राजा आने वाला है।”

और सचमुच में ही एक राजा वहाँ आ गया बहुत ही बढ़िया कपड़े पहने। पर वह तो बहुत ही चिन्तित दिखायी दे रहा था। यह चिन्ता तो उसकी चटकीली रंगीन पोशाक से बिल्कुल भी मेल नहीं खा रही थी।

ऐसा इसलिये था क्योंकि वह अपने बेटे राजकुमार के बारे में बहुत चिन्तित था। उसने पूछा — “मेरे राजकुमार को क्या हुआ है? क्या राजकुमार के पेट में दर्द है? या फिर उसके सिर में दर्द है? या फिर उसकी कमर में दर्द है? या उसके हाथ या पैर में दर्द है?

उसकी ऑखें खाली खाली दिखायी देती हैं और वह एक शब्द भी नहीं बोलता। दुनिया भर के सैंकड़ों डाक्टरों ने उसको देख लिया और सब एक ही निश्चय पर पहुँचे हैं कि उसको हँसना चाहिये। पर भगवान जानता है कि मेरा बेचारा बेटा तो कभी हँसा ही नहीं।”

राजा बेचारा एक गहरी साँस ले कर रह गया। फिर वह उस जोकर की तरफ घूम कर बोला — “पैन्टेलून, तुम ही इसका कुछ उपाय करो।”

पैन्टेलून ने सलाह दी कि राजा को अपने दरबार के हँसोड़िये ट्रुफ़ालडीनो[8] को बुलाना चाहिये जिसका काम ही सबको हँसाना और सबका दिल बहलाना था।

उसके चुटकुले और उसकी बेवकूफी की बातें शायद राजकुमार को हँसा सकें। यह सलाह सुन कर राजा ने अपने दरबारियों को हुकुम दिया कि वे ट्रुफ़ालडीनो को ढूँढ कर लायें।

जब ट्रुफ़ालडीनो मिल गया तो सारे देश के लोग उसके शो का इन्तजार करने लगे। इस बीच चैलियो जादूगर और फ़ैटा मौरगैना जादूगरनी[9] ने भी उसके शो की तैयारी करने में काफी सहायता की।

चैलियो को शक था कि फ़ैटा मोरगैना जादूगरनी जरूर ही कुछ गड़बड़ चाल चलेगी इसलिये वह गहरी अ‍ँधेरी घाटी की तरफ चल पड़ा जहाँ वह बूढ़ी जादूगरनी रहती थी।

वह यह सोच रहा था कि वह उसको इस बात के लिये तैयार कर लेगा कि वह अपनी चाल न खेले। पर जब वह फ़ैटा मौरगैना के पास पहुँचा तो फ़ैटा मौरगैना ने चैलियो का एक भेदभरी मुस्कान के साथ स्वागत किया।

उसने पूछा — “तुम मुझे यह बताने के लिये यहाँ किस अधिकार से आये हो कि मैं क्या करूँ और क्या न करूँ?”

बात करते करते उसने अपनी ताश की गड्डी उठा ली और बोली — “क्या तुम फ़ैटा मौरगैना के ताश का पत्ता खींचने की हिम्मत कर सकते हो? अगर कर सकते हो तो करो। पर देखना कि अगर मैं हार गयी तो फिर जो तुम कहोगे मैं वही करूँगी।”

यह कह कर उसने ताश का एक पत्ता जादूगर को दिया और एक खुद लिया। एक पल बाद ही वह पागलों की तरह अपना पत्ता हिलाते हुए खुशी से बोली — “हा हा हा। हुकुम की रानी। अब तुम अगर अपना पत्ता दिखा सकते हो तो दिखाओ।”

चैलियो हार गया था। फ़ैटा खुशी से बोली — “मैं जीत गयी, मैं जीत गयी।” और ऐसा कहते हुए वह महल की तरफ भाग गयी।

उधर दरबार के हँसोड़िये ट्रुफ़ालडीनो ने राज्य के सारे जोकरों को इकठ्ठा कर रखा था। और वह तो बस क्या ही बढ़िया शो था।

मजाकिया चेहरे और कपड़े पहन कर सब लोग मंच पर इधर से उधर घूम रहे थे जिससे कि सारे देखने वाले हँसी से दोहरे हुए जा रहे थे। हँसते हँसते उनकी ऑखों से उनके गालों पर ऑसू बहे जा रहे थे।

पर अफसोस राजकुमार ऐसे ही बैठा था। इतनी सब हँसी की चीज़ें होते हुए भी राजकुमार का चेहरा वैसा ही पीला और उदास रहा।

क्योंकि हर आदमी राजकुमार को हँसाने की इतनी कोशिश कर रहा था कि उनमें से किसी ने देखा ही नहीं कि फ़ैटा मौरगैना कब महल में खिसक आयी।

बहुत ऊँची एड़ी के जूते पहने वह राजकुमार की तरफ चली जा रही थी जैसे वह उसे बहुत करीब से देखना चाहती थी।

इतने में उसका ध्यान बँटा और वह अपने स्कर्ट की झालर में अटक कर राजकुमार के सामने गिर गयी। उसके हाथ पैर सब तरफ फैल गये। उसकी पोशाक के नीचे पहना हुआ उसका धारी वाला निकर भी सबको दिखायी देने लगा।

कमरे में बैठे सारे लोग इस सबको देख कर पहले तो आश्चर्य में पड़ गये पर फिर ज़ोर ज़ोर से हँसने लगे।

पर पता है क्या हुआ? वह आदमी जो सबसे ज़्यादा ज़ोर से हँसा वह कौन था? वह था राजकुमार।

पर क्या वह सचमुच राजकुमार ही था जो हँसा था? उसकी तो हँसी इतनी ज़्यादा थी कि उसको तो साँस लेने का भी मौका नहीं मिल रहा था। वह तो बस उस अजीब सी हालत में पड़ी जादूगरनी को देखे जा रहा था जो उसके सामने पड़ी थी और हँसे जा रहा था।

“यह तो सबसे अजीब निकर होगा जो दुनियाँ में पहले कभी किसी ने देखा होगा।”

यह देख कर जादूगरनी का चेहरा शरम से लाल पड़ गया। जब वह लाल पड़े चेहरे वाली जादूगरनी उठने की कोशिश कर रही थी तो उसने गुस्से से राजकुमार की तरफ इशारा करके कहा — “फ़ैटा मौरगैना पर हँसने की तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई? मैं अभी तुमको सबक सिखाती हूँ तब तुमको अपनी इस हरकत पर अफसोस होगा।

यह कह कर उस बूढ़ी जादूगरनी ने शाप के कुछ शब्द बुड़बुड़ाने शुरू किये तो महल के उस कमरे में बैठे सब डर गये और डर के मारे एकदम चुप हो गये।

जब फ़ैटा मौरगैना ने अपना जादू राजकुमार पर डाला तो सबकी ऑखें राजकुमार पर ठहर गयी — “ंमैं तुम्हें हुकुम देती हूँ कि तुम तीन सन्तरों के प्रेम में पड़ जाओ।”

clip_image008जैसे ही उसने ये शब्द कहे राजकुमार बोल पड़ा — “मैं तीन सन्तरों को प्यार करता हूँ, मैं तीन सन्तरों को प्यार करता हूँ।”

clip_image010अपने शाप को काम करते देख कर सन्तुष्ट होते हुए उसने राजकुमार की तरफ देखा और फिर अपना हाथ हिलाया जिससे उसका अपना राक्षस नौकर एक बहुत बड़ी धौंकनी[10] खिसकाता हुआ वहाँ ले आया।

उस धौंकनी से उसने एक बड़ा सा हवा का झोंका फेंका और उस झोंके से वह राजकुमार और वह हँसोड़िया ट्रुफ़ालडीनो दोनों ही उस कमरे से बाहर जा पड़े – दूर कहीं बहुत दूर किसी दूसरे देश में।

राजकुमार और हँसोड़िया दोनों ही अपने होश खो चुके थे और उनको यह भी नहीं पता था कि वे थे कहाँ। वे एक जलते हुए रेगिस्तान में पड़े थे।

जब वे दोनों यह पता लगाने की कोशिश कर रहे थे कि उत्तर किधर है और दक्षिण किधर है, पूर्व किधर है और पश्चिम किधर है तभी वह चैलियो जादूगर वहाँ प्रगट हो गया।

जादूगर चैलियो राजकुमार और ट्रुफ़ालडीनो को यह बताने आया था कि वे इस शाप से कैसे आजाद हो सकते थे। चैलियो ने बताया कि जिन तीन सन्तरों के प्रेम में राजकुमार पड़ गया है वे तीनों सन्तरे एक किले में रखे हैं और वह किला एक रेगिस्तान के बीच में है।

एक डरावना राक्षस उन सन्तरों की रात दिन रखवाली करता है। यह राक्षस दुनियाँ के सबसे ज़्यादा लम्बे पेड़ से भी ज़्यादा लम्बा है और अफ्रीका के तीन हाथियों से भी ज़्यादा ताकतवर है।

यह राक्षस खाना बनाने के पीछे पागल है। अगर कोई अनजाने में भी उसके पास चला जाये तो वह रसोई के चाकू से उस आने वाले को बिना किसी वजह के खच खच करके तुरन्त ही बहुत छोटे छोटे टुकड़ों मे काट देता है।

जब राजकुमार और ट्रुफ़ालडीनो ने उन सन्तरों की खोज में जाने का यह भयानक हाल सुना तो वे बहुत डर गये।

पर जादूगर चैलियो ने अपने कपड़ों की आस्तीन के अन्दर से जादू की एक छड़ी निकाली जिसके एक सिरे पर पाँच अलग अलग रंगों के रिबन लगे हुए थे। वे सारे रिबन एक घंटी के बजने पर हवा में नाच उठते थे जो उस जादू की छड़ी में लगी हुई थी।

जादूगर चैलियो ने उनको तसल्ली दी और कहा — “जब तक तुम इस जादू की छड़ी से उस राक्षस का ध्यान बँटा सकते हो तब तक तुम लोगों को उन सन्तरों को लेने की चिन्ता करने की कोई जरूरत नहीं है।

और इस जादू की छड़ी से तुम उतनी देर तक उस राक्षस का ध्यान उन सन्तरों पर से हटा सकते हो जितनी देर में तुम उनको वहाँ से ले कर भाग सकते हो।”

फिर उसने उनको चेतावनी दी कि इस बात का ध्यान रखना कि अगर तुम उन सन्तरों को लेने में कामयाब हो जाओ तो उनको पानी के पास ही तोड़ना।

जादूगर चैलियो से वह जादू की छड़ी ले कर वे दोनों उस किले को ढूँढने चले। जल्दी ही उनको वह किला मिल गया। हिम्मत बटोरते हुए वे दोनों उस किले में दबे पाँव दाखिल हुए।

पाँच सात मिनट में ही उन्होंने उस राक्षस रसोइये को ढूँढ लिया। उनको देखते ही वह उन पर गरजा — “आहा, क्या ही बहादुर लोग आज मेरी रसोई में आये हैं। तुम लोग ठीक समय पर आये हो। मुझे अपना सूप बनाने के लिये बहुत अच्छा माँस चाहिये था। अब मैं तुम्हारे माँस से अपना सूप बनाऊँगा।”

राजकुमार ने जल्दी में तुरन्त ही जादू की वह छड़ी हिला दी। तुरन्त ही वह राक्षस उस छड़ी के हिलते हुए रिबनों और बजती हुई घंटी से अपने होश खो बैठा और उस जादू की छड़ी की तरफ देखता ही रह गया।

ट्रुफ़ालडीनो तुरन्त ही उस राक्षस के पास से गुजरा और बिजली की सी तेज़ी से वहाँ रखे उसके तीनों सन्तरे उठा लिये और उनको अपनी जेब में डाल लिया।

सन्तरे अपनी जेब में डालने के बाद उसने राजकुमार की बाँह खींची और बोला — “चलो चलो, जल्दी चलो।” और फिर बिजली की सी तेज़ी से ही वे दोनों उस किले के बाहर निकल कर अपनी जान बचा कर भाग लिये।

जब वे अपने घर जाने वाले रास्ते पर आये तो अचानक ही उन सन्तरों में कुछ बदलाव आने लगा। वे सन्तरे साइज़ में बड़े होते जा रहे थे। ऐसा लग रहा था जैसे कि वे ज़िन्दा हों।

कुछ ही देर में वे इतने बड़े हो गये कि वे ट्रुफ़ालडीनो की जेब से निकल कर सड़क पर नीचे लुढ़कने लगे। और अब वे इतने बडे. हो गये थे कि राजकुमार और ट्रुफ़ालडीनो दोनों को उन लुढ़कते हुए सन्तरों को पकड़ कर रखने में बड़ी ताकत लगानी पड़ रही थी।

सूरज की कड़ी धूप से नीचे रेगिस्तान की रेत बुरी तरह से जल रही थी। ट्रुफ़ालडीनो थकान और प्यास की वजह से उन सन्तरों को वहीं छोड़ने को तैयार था।

वह बोला — “चलो, इन सन्तरों को भूल जाओ। हम इनको यहीं छोड़े देते हैं।” हालाँकि राजकुमार भी उतना ही थका और प्यासा था पर फिर भी वह उन सन्तरों को छोड़ने के लिये तैयार नहीं था क्योंकि उसके वे प्यारे सन्तरे छोड़े जाने के लायक थे ही नहीें।

वह तो वैसे भी जादूगरनी फ़ैटा मौरगैना के शाप के असर में था इसलिये भी वह उन सन्तरों को बहुत प्यार करता था।

वह थोड़ा रुक कर बोला — “हम इनको यहाँ इस तरह अकेले नहीं छोड़ सकते।”

फिर उसने एक पल के लिये कुछ सोचा और बोला ऐसा करते हैं कि हम थोड़ी देर के लिये यहाँ कहीं आराम कर लें फिर चलेंगे। ऐसा कह कर वह सन्तरों के साये में ही लेट गया और सो गया।

पर ट्रुफ़ालडीनो तो सारा पसीने से भीगा हुआ था। वह गुस्से से में बुड़बुड़ाया — “इस भट्टी में कोई कैसे सो सकता है? मुझे तो ऐसा लग रहा है जैसे मैं इस गरमी में ज़िन्दा ही भुन रहा हूँ। मैं तो गरमी में भुन भुन कर चमड़ा हो गया हूँ, पानी कहाँ से लाऊँ?”

यह कह कर उसने उन परेशान करने वाले सन्तरों की तरफ देखा तो एक अजीब सा विचार उसके मन में आया। और उस विचार के साथ ही वह हँस पड़ा जैसे उसने कोई बड़ा इनाम जीत लिया हो।

अपने विचार पर खुश हो कर उसने अपने आपसे कहा — “मैं बस एक सन्तरा खा लूँ। वही मुझे इस गरमी और प्यास से बचाने के लिये काफी रहेगा।”

उस समय दरबार के उस हँसोड़िये की निगाहों में वे तीन बड़े और पके सन्तरे किसी शाही पकवान से कम नहीं थे।

वह धीरे से एक सबसे पास वाले सन्तरे के पास गया जिसके पीछे राजकुमार लेटा हुआ सो रहा था और उस सन्तरे को छीलना शुरू कर दिया।

पौप। उसका छिलका तो हाथ लगाते ही अपने आप फट गया और उसमें से रसीला गूदा नहीं बल्कि एक सुन्दर सी राजकुमारी बाहर निकल कर आ गयी और उस सन्तरे का छिलका जमीन पर चारों तरफ बिखर गया। वह राजकुमारी ट्रुफ़ालडीनो की तरफ देख रही थी।

बाहर निकलते ही वह राजकुमारी बोली — “ओ भले आदमी, मेहरबानी करके मुझे पानी दो वरना मैं प्यास से मर जाऊँगी।”

ट्रुफ़ालडीनो जो कुछ अभी उसकी ऑखों के सामने हुआ था उसको देखते हुए आश्चर्यचकित होता हुआ बोला — “मगर मेरे पास तो पानी नहीं है। मैं तो खुद ही प्यासा हूँ।”

सो उस राजकुमारी की प्यास बुझाने के लिये पानी पाने के लिये जल्दी में उसने दूसरा सन्तरा छील दिया।

पौप। पहले सन्तरे की तरह से इस सन्तरे का छिलका भी अपने आप ही फट गया और इसमें से भी एक राजकुमारी निकल आयी और इस सन्तरे का छिलका भी जमीन पर चारों तरफ बिखर गया।

इस राजकुमारी ने भी बाहर निकल कर कहा — “ओ भले आदमी, मेहरबानी करके मुझे पानी दो वरना मैं प्यास से मर जाऊँगी।”

अब तो ट्रुफ़ालडीनो को इस बात का बिल्कुल भी अन्दाजा नहीं था कि वह इस मुसीबत से कैसे छुटकारा पाये। वह यह सोच ही रहा था कि वह क्या करे कि इतने में वे दोनों राजकुमारियाँ मर कर जमीन पर गिर पड़ीं।

वह हँसोड़िया ट्रुफ़ालडीनो रो पड़ा और चिल्लाया — “ओह मेरे भगवान, मेरी सहायता करो। यह सब कैसे हो गया? मुझे यह सब क्यों देखना पड़ा?

मैं तो एक सादा सा शाही हँसोड़िया हूँ जिसका काम लोगों को हँसाना है। मैं तो ऐसी मौत देखने के लिये पैदा नहीं हुआ था। और कोई दूसरा भी ऐसी चीज़ का सामना कैसे कर सकता था। मुझे यहाँ से चले जाना चाहिये और आज जो कुछ भी यहाँ हुआ है उसे भूल जाना चाहिये।”

और यह कह कर वह वहाँ से खोये हुए बच्चे की तरह रोता हुआ भाग लिया।

ट्रुफ़ालडीनो के रोने की आवाज सुन कर और जो कुछ भी उसके आस पास हो रहा था उसको महसूस करके राजकुमार की ऑख खुल गयी। उसने पूछा — “यह सब यहाँ क्या हो रहा है?”

और जैसे ही उसने दो मरी हुई राजकुमारियों को अपने से कुछ गजों की दूरी पर जमीन पर पड़े देखा तो वह तो बहुत ही डर गया।

वह अपने आपसे ही बोला — “हे भगवान। दो मरी हुई राजकुमारियाँ? किसी ने मुझे कभी सिखाया ही नहीं कि इस दशा में मुझे क्या करना चाहिये। अब यह राजकुमार क्या करे?”

डरे हुए और प्यासे राजकुमार ने तीसरे और आखिरी सन्तरे की तरफ देखा तो उसका रस पीने के लिये उसके मुँह से लार टपकने लगी।

आखिर जब उससे नहीं सहा गया तो वह अपने प्यारे सन्तरे को छीलने पर मजबूर हो गया। पौप। उस सन्तरे का छिलका भी अपने आप फट कर खुल गया और उसमें से एक तीसरी राजकुमारी बाहर निकल आयी।

बाहर निकल कर वह राजकुमारी बोली — “मेरा नाम निनैटा[11] है। मुझे थोड़ा पानी चाहिये।”

राजकुमारी को देख कर राजकुमार का दुखी चेहरा खुशी से खिल उठा। वह बोला — “तुम इतनी सुन्दर हो कि मैं तो तुमको देखते ही प्यार करने लगा हूँ। क्या तुम मुझसे शादी करोगी?”

राजकुमारी बोली — “हाँ, मैं तुमसे शादी करूँगी पर मैं तुमसे इस पोशाक में शादी नही कर सकती। तुम पहले महल जाओ और मेरे लिये मेरे पहनने लायक कपड़े ले कर आओ।”

राजकुमार खुश हो कर बोला — “अच्छा तुम यहीं मेरा इन्तजार करो मैं तुम्हारे लिये शाही कपड़े ले कर अभी आता हूँ।” और यह कह कर वह अपने महल की तरफ भाग गया।

राजकुमार को जाये हुए अभी बहुत देर नहीं हुई थी कि रेगिस्तान की चिलचिलाती हुई धूप और उसकी गरमी से वह सूखी हुई राजकुमारी धीरे धीरे सुकड़ने लगी जैसे किसी सन्तरे का रस निकल जाने के बाद सन्तरा निचुड़ा हुआ सा दिखायी देता है।

तभी अचानक एक जादू सा हुआ और उस जादू से हँसोड़ियों का एक समूह पानी से भरे हुए बरतन और बालटियाँ लिये हुए उसको बचाने के लिये वहाँ प्रगट हो गया। वहाँ आ कर उन्होंने उसको पानी पिलाया।

उसे पानी पिला कर वे हँसोड़िये वहाँ से चले गये। लेकिन जैसे ही वे हँसोड़िये वहाँ से गये कि फ़ैटा मौरगैना ने दोबारा वहाँ आने का विचार किया और हवा के एक झोंके के साथ वह वहाँ आ पहुँची।

वह बोली — “हुँह, मुझे खुशी का अन्त[12] अच्छा नहीं लगता। राजकुमार को तो कपड़े मिल ही चुके हैं। वह और राजा और उनका शाही जुलूस बस किसी समय भी आता ही होगा। तो मुझे कोई और तरीका सोचना पड़ेगा जिससे कि मैं उनकी खुशियाँ रोक सकूँ।”

और उसने अपना कोई बुरा जादू डालने के लिये कुछ बुड़बुड़ाना शुरू कर दिया। देखते देखते वह राजकुमारी एक चूहे में बदल गयी। फिर उसने अपने उसी नौकर राक्षस को राजकुमारी के कपड़े पहना दिये और उसको वहाँ खड़ा कर दिया।

जब महल से वह शाही जुलूस आया तो राजा जिसने असली राजकुमारी को पहले कभी देखा नहीं था उस जादूगरनी के जादू के धोखे में आ गया और फ़ैटा मौरगैना के नौकर राक्षस को ही वह राजकुमारी समझ बैठा जिसके लिये राजकुमार शाही कपड़े ले कर आया था।

पर राजकुमार जानता था कि वहाँ कुछ तो था जो गड़बड़ था। वह चिल्लाया — “नहीं नहीं, यह राजकुमारी मेरी राजकुमारी निनैटा नहीं है। यह इतनी बदसूरत कैसे हो गयी?”

यह सुन कर राजा बोला — “हूँ, ऐसा ही सही कि यह वह नहीं है जिसको मैं सुन्दर कहूँगा पर अब तो तुमको इसी से शादी करनी पड़ेगी क्योंकि एक राजकुमार को तो अपना वायदा निभाना ही चाहिये।”

और फिर वह उस जादूगरनी के उस नौकर राक्षस की तरफ घूमा और बोला — “प्रिय राजकुमारी, अगर तुम्हारी इच्छा हो तो तुम हमारे साथ आओ।”

बेचारे राजकुमार के पास कोई और चारा नहीं था सिवाय इसके कि वह अपने पिता और अपनी होने वाली पत्नी के पीछे पीछे महल वापस जाता। वह बहुत दुखी था और अपने लिये बहुत पछता रहा था।

सब लोगों के पहुँचते ही महल में राजकुमार की शादी की तैयारियाँ होने लगीं। पर जैसे ही राजा अपने सिंहासन पर बैठने को था कि जरा सोचो कि वहाँ उसके बैठने पहले उस सिंहासन पर क्या था? एक चूहा।

राजा चिल्लाया — “चूहा।”

जादूगर चैलियो ने उन सब लोगों को पीछे किया जिनकी चीखों की आवाज से सारा कमरा गूँज रहा था। वह जल्दी से उस चूहे को देखने के लिये उस चूहे के सामने आया।

उसने भी कुछ जादू के शब्द बड़बड़ाये और उसके जादू के असर से वह चूहा तो वहाँ से गायब हो गया और असली राजकुमारी निनैटा अपनी पूरी सुन्दरता के साथ वहाँ प्रगट हो गयी।

राजकुमार खुशी से चिल्ला पड़ा — “आखिर मुझे अपनी प्यारी राजकुमारी मिल ही गयी।”

आखिर में जादूगरनी फ़ैटा मौरगैना की चाल का सारा कच्चा चिठ्ठा खुल गया। वह और उसका नौकर राक्षस महल से ही नहीं बल्कि राज्य से भी बाहर निकाल दिये गये।

राजा ने राजकुमार की राजकुमारी से शादी करते हुए खुश हो कर सन्तुष्ट होते हुए कहा — “बहुत अच्छे, मुझे तो खुशी का अन्त ही अच्छा लगता है।”

खुशी के उस हल्ले गुल्ले में नाटक देखने वालों के सामने पैन्टैलून फिर प्रगट हुआ और बोला — “चाहे ऑसू खुशी के हों या गम के, हम सब आगे बढ़ते रहते हैं। एक अच्छे नाटक का ऐसा अन्त होना चाहिये जो एक दूसरे नाटक की शुरूआत को जन्म दे। सो विदा। हम फिर मिलेंगे।”

clip_image012


[1] City of Canals

[2] Colosseum

[3] “Italian Folktales: collected and retold by Italo Calvino’. Translated by George Martin. San Diego, Harcourt Brace Jovanovich, Publishers. 1980. 300 p.

[4] “Italy Ki Lok Kathayen-1” – 15 folktales (No 1-18), by Sushma Gupta in Hindi languge

“Italy Ki Lok Kathayen-2” – 17 folktales (No 19-40), by Sushma Gupta in Hindi language

“Italy Ki Lok Kathayen-3” – 10 folktales (No 41-61), by Sushma Gupta in Hindi language

“Italy Ki Lok Kathayen-4” – 11 folktales (No 62-84), by Sushma Gupta in Hindi language

“Italy Ki Lok Kathayen-5” – 18 folktales (No 85-126), by Sushma Gupta in Hindi language

“Italy Ki Lok Kathayen-6” – 13 folktales (No 129-150), by Sushma Gupta in Hindi language

“Italy Ki Lok Kathayen-7” – 12 folktales (No 151-164), by Sushma Gupta in Hindi language

“Italy Ki Lok Kathayen-8” – 14 folktales (No 165-182), by Sushma Gupta in Hindi language

“Italy Ki Lok Kathayen-9” – 15 folktales (No 183-200), by Sushma Gupta in Hindi language

[5] Crane, Thomas Frederick. “Popular Italian Folktales”. London. 1885. Contains 109 tales.

Available free on the following Web Sites :

http://www.surlalunefairytales.com/authors/crane.html And https://books.google.ca/books?id=RALaAAAAMAAJ&pg=PR1&redir_esc=y#v=onepage&q&f=false

[6] The Love for Three Oranges – a story adapted from the book “The Love for Three Oranges”, by Sergei Prokofiev. Grimm Press. 2006. 30 p. A 1-story picture book.

Because this book is based on a play that is why some dramatic effect may be seen.

[It is a famous Italian fairy tale written by Giamattista Basile in the Pentamerone. It may be found with the title “The Three Citrons”. It has a variant too – “The Love of Three Pomegranates”.]

[7] Pentaloon is the clown

[8] Truffaldino jester

[9] Chelio wizard and Fata Morgana witch – Fata Morgana witch is a famous witch of Italy. She is mentioned in several other stories also. She is famous character of Italian folktales.

[10] Translated for the words “A pair of bellows” – a pair of bellows is a device constructed to furnish a strong blast of air. The simplest type consists of a flexible bag comprising a pair of rigid boards.

[11] Ninetta – name of the girl appearing from the orange

[12] Translated for the words “Happy ending”

------------

सुषमा गुप्ता ने देश विदेश की 1200 से अधिक लोक-कथाओं का संकलन कर उनका हिंदी में अनुवाद प्रस्तुत किया है. कुछ देशों की कथाओं के संकलन का  विवरण यहाँ पर दर्ज है. सुषमा गुप्ता की लोक कथाओं के संकलन में से क्रमशः  - रैवन की लोक कथाएँ,  इथियोपिया इटली की  ढेरों लोककथाओं को आप यहाँ लोककथा खंड में जाकर पढ़ सकते हैं.

(क्रमशः अगले अंकों में जारी….)

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

.... प्रायोजक ....

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=blogging$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3843,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,336,ईबुक,192,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2786,कहानी,2116,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,486,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,329,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,50,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,9,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,17,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,834,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,7,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,315,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1921,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,648,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,688,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,55,साहित्यिक गतिविधियाँ,184,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,68,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: देश विदेश की लोक कथाएँ — यूरोप–इटली–10 : 1 तीन सन्तरों से प्यार // सुषमा गुप्ता
देश विदेश की लोक कथाएँ — यूरोप–इटली–10 : 1 तीन सन्तरों से प्यार // सुषमा गुप्ता
https://lh3.googleusercontent.com/-0t7zBi89uxM/Wjof_n1yJpI/AAAAAAAA9cw/MJf-SzouH-s5CSL4jnEc4UHAB3YPlP4LACHMYCw/clip_image002_thumb?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-0t7zBi89uxM/Wjof_n1yJpI/AAAAAAAA9cw/MJf-SzouH-s5CSL4jnEc4UHAB3YPlP4LACHMYCw/s72-c/clip_image002_thumb?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2017/12/10-1-italy-ki-lok-katha-teen-santre.html
https://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2017/12/10-1-italy-ki-lok-katha-teen-santre.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ