रु. 25,000+ के  नाका लघुकथा पुरस्कार हेतु रचनाएँ आमंत्रित.

अधिक जानकारी के लिए यहाँ http://www.rachanakar.org/2018/10/2019.html देखें.

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

कहानी // आखिरी मुराद // रामानुज श्रीवास्तव

साझा करें:

आज हॉस्पिटल में एक परिचित को देखने के लिए आया था, उससे मिलकर वार्ड से बाहर आया ही था कि एक अपरिचित ने रास्ता रोककर कहा... साब जी !! "बइ...

आज हॉस्पिटल में एक परिचित को देखने के लिए आया था, उससे मिलकर वार्ड से बाहर आया ही था कि एक अपरिचित ने रास्ता रोककर कहा...

साब जी !! "बइया बहुत बीमार है उतै भरती हबै, आपसे मिलबे खातिर मोही भेजो है।" मैंने सोचा होगा कोई परिचित चलो देख ले ,मैं उसके पीछे पीछे वार्ड में दाखिल हो गया, वार्ड के कोने वाले बेड में एक महिला जिसके शरीर में केवल हड्डियां बची थी तकिया के सहारे पलंग में बैठी थी। वो आदमी मेरे बैठने को स्टूल रख दिया।

"बैठ लो बाबू सा.मैं कचनार हूँ... ...जे झुन्नू है छोटा वाला भाई "

"कच ना र ????

"हाँ बबुआ...तुहरी कचनार"

"लेकिन ये...का हुआ ??

साब !! "आपके तबादले के बाद बइया बहुत उदास रही...फिर धीरे धीरे सब ठीक भयो, इसने शादी नाहीँ करी, मेरे साथ रहित है, गांव केर सरपंच रही, गांव का बहुत काम कराई पै आपन शरीर केर धियान नहीं किहिस, आज छः महीना से बीमार चल रही, चार दिन से इतै भरती हओ...डाक्टर अब कहत हैं... ई अब ठीक नाहीँ होई।"...झुन्नू एक साँस में सब बोल गया।

विआह नहीं किया...पर ये मांग में सिंदूर ?? आश्चर्य से मैं बोला।

हाँ !! बाबू सा...."इआ सेंदुर तोहरे नाम का मोरे मांग मा भरा है...कोऊ नहीं जानय इआ बात का...... आपन आतिमा हम माई के सामने तुमही सौंप चुकेन रहा...इआ देह का भरोसा का करी ...इआ माटी से बनी है...माटिन मा मिल जैहै। माई बड़ी ताकत वाली है...पक्का भरोसा रहा क़ि अंतिम बेरा तुमही दिखिन के बाद मोर साँस छूटी।"

नहीं नहीं !! ऐसा अशुभ मत बोलो...अनायास ही मेरे हाथ उसके सूखे गाल में बह आये आँसुओं को पोंछने के लिए बढ़ गये थे..साथ ही यादों की सभी वो परते बन्द किताब के पन्नों की तरह खुलने लगी थी...जो तीस सालों से मेरे सीने में दफन थी।

***** यह बात उन दिनों की है जब मैं पच्चीस साल का था, दौड़ सकता था और दौड़ा भी सकता था। यह मेरी नौकरी की पहली पोस्टिंग थी, ये इलाका भी कुछ नये मिज़ाज़ का था चारों तरफ जंगलो से घिरा हुआ आदिवासी बाहुल्य गाँव... वहाँ के निवासी भी अलग तरह के, काला मुँह और सफेद दांत...रात में दाँतों की चमक से ही पता लगता था कोई मानव प्राणी है, लेकिन स्वभाव से बहुत सीधे साधे, अपने काम से काम रखने वाले....." न ऊधो का लेना न माधो का देना"....अपने आप में मस्त...चाँदनी रात और घर के आंगन में जब वे कमर में अंगोछी कसकर महुआ की कच्ची दारू पीकर मादल और गुदुम की धुन में दुनिया से बेखबर घर की औरतों के साथ........" रैन छिटकी जोधइया हँसय तरई.........चला संगी नाची जगाय चिरई।"...... के बोल पर पैर में छम्म छम्म घुंघर बांधकर अलमस्त नाचते थे, तो इनका अंग प्रत्यंग नाचता था इनके साथ चाँद सितारे धरती आकाश भी नृत्य करते प्रतीत होते थे।

"कचनार" को कर्मा और राई नृत्य पर महारत हासिल थी...वह बीस बाइस साल की मजबूत कद काठी की युवती थी उसके अंग अंग से यौवन छलकता था...यकीनन वह कचनार कली थी, जब वह अपने जोड़ीदार धूमन के साथ सुध बुध खोकर नाचती थी...अंग अंग से बिजली सी फूटती थी............राई नाच में जब वह चढ़ाव भरकर फिरिहरी भरती तब उसकी बलखाती कमर पर हर किसी की आँख ठहर जाती थी। उसकी नाच देखने को पूरा गांव जमा होता था मैं भी चोरी छिपे उसकी नाच कई दफा देख आया था। वैसे वह शादी ब्याह के समय में या उत्सव के दिनों में ही नाचती थी।

मुझे मालूम नहीं क्यूँ मुझे कचनार अच्छी लगने लगी थी, उस समय कोई अगर संसार की सबसे सुन्दर स्त्री का नाम पूछता तो मेरे मुँह से कचनार ही निकलता। उस समय मुझे चाय पीने की लत नहीँ थी....लेकिन कचनार की चाह ने मुझे चाय का आदी बना दिया। सड़क के मोड़ पर सुबह की बस जहाँ सवारी के लिए ठहरती थी, वह बस अड्डा कहा जाता था वहीं पर मात्र एक टपरेनुमा मकान में चाय बनती थी। मैं एक कप चाय पीने में आधा घण्टा लगाता और बीच में उसकी घर की ओर भी देख लेता। वह भी दो चार बार घर से बाहर आकर मेरी और नजरें फेंक देती...नजर से नजर का मिलाप हो जाता ....यह मेरी सुबह की दिनचर्या में अनिवार्य सा हो गया था। एक दिन कचनार बाहर नहीं निकली, मेरी चाय भी खत्म हो गई, दुकानदार ने पूछा....

"दूसरी दूँ साब।"

"नहीं नहीं' !! ....मैं हड़बड़ाकर बोला था, जैसे चोरी पकड़ ली गई हो।

" एक बात बोलूं साब !!

" बोलो..."

वह मेरे कान के पास मुँह ले जाकर फुसफुसाकर कहने लगा....." ई ठीक नाहीँ साब !! अपुन जानत हबै आप फिसल रहो है, ऊ ठहरी गोंड़ आदिवासी ऊ का कछू बिगड़ने को नाहीँ।

नाहक आपकी बदनामी होबे, आप साहब लोग हैं, बड़े घरन केर लड़िका आहो।"

नहीँ नहीं सुन्दर !! ऐसी बात नहीं...तुम भी का सोच रहे हो। हाँ कचनार मुझे अच्छी लगती है, अच्छी लगने का मतलब कुछ और तो नहीं, तुम लोग भी उल्टा सीधा अर्थ निकाल लेते हो।"

"माल तो एक नम्मर का साब !!"... सुन्दर दांत निकालते हुये बोला था।

मेरा हाथ उठ गया था...लेकिन अगले पल खुद को संयत कर हाथ वापस खींच लिया था और सुन्दर को ताकीद किया था कि दोबारा इस तरह की बात कचनार के लिए नहीं बोलेगा। समय कितना तेजी से निकल गया...जरा सा आभास नहीं हुआ। दिन बीतते बीतते डेढ़ साल गुजर गये, बिल्कुल मालूम नहीँ पड़ा, कचनार ने अब नाचना कम कर दिया था, बाहर तो यदा कदा ही निकलती थी। एक दिन शाम को मैं स्कूल की तरफ से घूमकर लौट रहा था कि वह रास्ते में मिल गई, मुझे देखकर थोड़ी ठिठकी फिर आगे बढ़ गई। मुझसे रहा नहीं गया मैं बोल उठा......

" कचनार रुको !! तुमसे बात करनी है।

"का फायदा बाबू सा, अब तो देखन को जी तरसे है, आप भी होटल अब नहीं आऊत, तुमने हमही लैके सुन्दर पे हाथ उठाया, ठीक नाहीँ किया"...वह बिना रुके चलते हुए बोली थी।

तुम्हें सब कइसे पता ??

सुन्दर ने दउआ (पिता) से बताउत.....दउआ खीब गुस्सा हुआ, मुझे पहले मारा फिर समझाइस "देख कच्चू !! अपुन गोड़ आदिवासी हयेन अउर ऊ ठहरे बड़के मन्नुख..... हमार उनखर कछू मेल नाहीँ बेटबा.......ऊ तोही नहीं चाहय......तोर देह चाहत है... कबौ तोही घरवाली का दर्जा न देई.... बात का समझ।"

"तुम का सोचती हो ??" ...मैं भीतर तक आहत होकर बोला।

"हम का शोचबे...अपुन का सोचन केर हक नहीँ आय बाबू सा"

मुझसे कुछ बोला नहीं गया ....मैं उसके पीछे पीछे चुपचाप बराबर का फासला बनाये रास्ता चल रहा था, शाम का धुंधलका बढ़ गया था, गाँव के घर और दरख़्त धीरे धीरे अँधेरे में विलीन होने लगे थे, इधर दोनों दिलों में विचारों का सैलाब आया था, लेकिन नदी के किनारों की तरह एक दूसरे से अलग थलग थे....भीतर तूफान और बाहर सन्नाटा.....अचानक कचनार पलटी और मुझसे कसकर लिपट गई...उसके आँखों से हो रही आँसुओ की बरसात से मेरे कपड़े गीले होने लगे थे, इस अप्रत्याशित घटना से मैं घबरा गया...मुँह से बोल नहीं फूट रहे थे...केवल ओंठ काँप रहे थे।

कचनार मुझसे अलग हो गई थी.....रास्ता चलते हुए मुझसे बोली...."बबुआ !! कबौ कबौ मोही दिख जइहौ....इहै बहुत होई...."

उस दिन के बाद मेरे कार्य व्यवहार में बहुत परिवर्तन आ गया...मैं अंतर्मुखी होने लगा, काम में बहुत गल्तियां करने लगा...हमारे बॉस बहुत अच्छे थे, वे हमें डाँटते थे फिर समझाते भी थे... "देखो प्रकाश तुम मेरे छोटे भाई की तरह हो, तुम्हारे भीतर क्या चल रहा है.. मैं समझ सकता हूँ। लेकिन ऐसे रहने से कोई फायदा नहीं....मुझसे सच सच बताओ मैं तुम्हारे साथ हूँ... कुछ भी गलत नहीं होने दूँगा.... बोलो !!"

"दादा !! ये सही है कचनार मुझे बहुत अच्छी लगती है...उसे नाचते हुए जब पहली बार देखा था तभी से .....लेकिन मुझे इस बात का कभी इल्म नहीं हुआ कि वह भी हमें चाहती है। बस इतनी सी बात को लेकर गाँव में कितनी तरह की बात फैली है वह आप जानते है।" हिम्मत बटोर कर मैंने उस दिन शाम को जो कुछ हुआ था, वो भी उनको बता दिया।

"क्या चाहते हो ??" ....उन्होंने सीधा सवाल किया।

मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा दादा क्या करूँ क्या न करूं....मुझे रास्ता दिखाइये प्लीज !!

घबराओ नहीं कल पंचायत बैठेगी...जो दिल में हो ख़ुल कर बोलना....कचनार भी अपनी बात कहेगी.....फिर पंचायत अपना फैसला देगी। मैं भी रहूँगा....गाँव के और कई समझदार लोग होंगे स्कूल के प्रिंसिपल साहब भी होंगे...सब बुद्धिजीवी है....कुछ भी गलत नहीं हो सकता। अगले दिन गाँव से थोड़ा हटकर चार इमली के पेड़ों की छाया में पंचायत बैठी। यह कचनार के पिता की शिकायत पर बैठी थी...जिसमे मैं उसकी बेटी को बरगलाने और प्रेम पाश में फंसाने का आरोपी था। इसके पहले भी कई बार पंचायत बैठ चुकी है, इस गांव की ये अच्छी परंपरा और सोच रही है, कि गाँव के छोटे मोटे फसादों को पंचायत के माध्यम से निपटाया जाये, लोगों को कोर्ट कचहरी के चक्कर से बचाया जाये। पंचायत की करवाई देखने हर उम्र के लोग आ जुटे थे। ग्राम प्रधान राजुल सिंह, हाई स्कूल के प्रिंसिपल भटनागर साहब, मेरे बॉस वर्मा जी पूर्व सांसद जुगराज देव और ग्राम पुरोहित पंडित दीनानाथ को सुनने और निर्णय देने को पंचायत की तरफ से अधिकृत किया गया था।

पंचायत ने पहला सवाल मुझसे किया...."प्रकाश जी आप पर कचनार के पिता ने आरोप लगाया है कि आप उसकी बेटी को बहला फुसलाकर प्रेम जाल में फंसा लिए है, आपकी नीयत साफ नहीं है।

इस सम्बन्ध में अपना पक्ष रखें।"...... मैंने ज्यों का त्यों वो सब यहाँ भी बता दिया जो पूर्व में वर्मा जी से बता चुका था। मेरी बात नोट कर ली गई। फिर पंचायत ने कचनार को बोलने के लिए कहा....

कचनार बोलने को खड़ी हुई...सब लोग देखकर दंग हो गये.... सबने सोचा था कि ये आदिवासी लड़की इतने लोगो के सामने नहीं बोल पायेगी...लेकिन आज वह बड़ा संकल्प लेकर आई थी उसका चेहरा आत्मविश्वास से भरा हुआ था, मुझे आज वह बहुत सुंदर लग रही थी। कचनार ने सर्वप्रथम सभी को हाथ जोड़कर प्रणाम किया फिर धीमी आवाज में बोलना शुरू किया....

"बड़ा मुश्किल लागत है..आप बड़ेन केर बीच मा बोलय मा.. पै का करी न बोलय त एक निर्दोष का दोषी माना जई... बाबू सा जौं कुछ बोले निकबर सही आय..हम उनखे हिम्मत पे दाद देबय कि बिना कुच्छ छिपाये सच बताइन...अब हमार बात... हम बाबू सा का बहुत चाहित थे, परेम करित थे...सच्चे दिल से किरिया उठाय के कहित थे, हम दोनों जने एक दुसरे से परेम करित थे।"

"तो तुम दोनों शादी कर लो, दोनों बालिग हो, अपना निर्णय लो और पंचायत को बताओ" पंडित दीनानाथ ने कचनार को बीच में रोककर कहा।

"पंडित जी हम विआह उहै दिन कई चुके... जब हम एक दूसरे का छुअन....पै हमार बियाह मीरा औ कन्हइया .....राधा अउर मोहन के बीच जइसन भा..उहै तरह है। बाबू सा बहुत बड़े दिल के आदमी है इआ बियाह का कृष्ण भगमान के नै मन्जूर करिहै। आप पंचन के आगे हम सब कहि दिहिन.... अब जौं हुकम होई हम मनबे का तैय्यार हैं।"

"दस मिनट की मन्त्रणा के बात पंचायत ने अपना निर्णय दिया...." प्रकाश जी और कचनार के बीच का प्यार पवित्र है...इनके मन में कोई खोट नहीं पाई गई...प्यार करना मानव स्वभाव है,...प्यार करना कोई जुर्म भी नहीं है और जुर्म करार देना तब तक उचित नहीं है जब तक समाज के लिए नुकसानदायक न हो। दोनों ने जिस निडरता से पंचायत को सच सच बताया है....इस बात का संकेत देता है दोनों के बीच सच्चा प्यार है ....लिहाज़ा पंचों के मन्तव्य जानने के बाद पंचायत प्रकाश जी को दोषमुक्त करती है। कचनार के पिता द्वारा लगाया गया आरोप झूठा साबित होता है, इसलिये वह पंचायत से माफ़ी मांगे। पंचायत बर्खास्त की जाती है।"

इन सबके बावजूद भी मेरे भीतर की छटपटाहट कम नहीं हुई, पंचायत भले ही निर्दोष करार दी हो लेकिन मैं अब भी स्वयं को दोष मुक्त नहीँ कर पाया था, इसी बीच मेरा ट्रांसफर भी कर दिया गया.....कार्यालय समय बाद मुझे रिलीव्ह भी कर दिया गया ...सुबह की बस से मुझे जाना था पूरा गांव आया था मुझे बिदा करने.... सबकी आँखों में आंसू थे..ऐसी मुहब्बत मैंने कभी महसूस नहीं की थी....एक कोने में मूर्तिवत खड़ी कचनार शून्य में न जाने क्या ताक रही थी।

मुझसे रहा नहीं गया मैं उसके पास जाकर बोला.....

"तुम मुझे बिदा नहीं करोगी?"

"कइसे बाबू सा...आप तो मेरे हिरदय में हो......माई चाहेगी तो कभी न कभी फिर मिलेगे इस जनम न सही तो उस जनम जरूर मिलना होगा। एक विनती बाबू सा. वह हाथ जोड़कर बोली थी...."तुम शादी करना...माँ बाप की ख़ुशी से और हो सके तो मुझे भूल जइओ।"

इतना कहकर वह घर की तरफ दौड़ गई थी। उस समय मेरे भीतर में उठी पीड़ा को बता पाना सम्भव नहीं है...।

[बस चल पड़ी थी, मुझे कुछ भी दिख नहीं रहा था न सुनाई दे रहा था बस में ठसाठस सवारी थी उन सबसे बीच मैं अकेला अपनी स्थूल काया को बस की सीट से जकड़े चला जा रहा था अपनी आत्मा को कचनार को सौंपकर....समय ने करवट बदला, माँ बाप की इच्छा से शादी हो गई,... बच्चे हो गये, कायर तो था नहीँ की जिंदगी से पलायन करूँ सो चलता रहा कर्तव्य पथ पर... अपनी यादो को कंधों में उठाये हुये....लेकिन इन तीस सालों में कचनार मेरे साथ रही हर समय....परछाई की तरह।

"बोलते काहे नहीं बाबू सा !!" कचनार के इस आवाज ने मुझे वर्तमान में ला दिया। मुझे मालूम नहीँ कब मैं स्टूल से पलंग पर बैठ गया था कचनार का सर मेरी गोद में......शेष शरीर पलंग में मैली चादर ओढ़कर पसरा हुआ....उसके सूखे गालों में बह आये आँसुओं को पोंछते मेरी दोनों हथेलियाँ.... ओह !! ये कब कैसे?? कुछ पता नहीं...पर आज मुझे दुनिया की परवाह नहीं थी। "अब तुम ठीक हो जाओगी।"

"नहीं बाबू सा....अब अउर नहीँ....माई ने मेरी अंतिम मुराद पूरी कर दई।"

वह हँसने की असफल कोशिश करती हुई बोली....मुझे मालूम है इस थोड़ी सी हँसी के लिये उसने कितनी पीड़ा झेली है।

"ऐसा क्यों सोचती हो...मैं आ गया हूँ.....अब कहीँ नहीँ जाने वाला हूँ.... तुम्हें कुछ नहीं होने दूँगा।" "कइसी बात करत हो बाबू सा. . तुम पढ़े लिक्खे अदमी हो....मैं तुमरे साथ हर पल रही..तुम हमरे साथ हर पल रहे...और रहब।। अरे !! हमार तुम्हार जनम जनम के नाता है...फेर जनम होई फेर मिलब... इआ चलत रही। अब जांय दे...राम रा........म।"

पंक्षी उड़ गया था....पिंजड़ा खाली पड़ा था.....दो स्थिर आँखें अब भी मुझे निहार रही थीं।

*****

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर: 1
Loading...

-----****-----

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

.... प्रायोजक ....

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=blogging$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3842,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,336,ईबुक,192,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2786,कहानी,2116,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,486,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,329,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,50,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,9,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,17,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,831,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,4,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,315,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1920,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,648,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,688,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,55,साहित्यिक गतिविधियाँ,184,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,68,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: कहानी // आखिरी मुराद // रामानुज श्रीवास्तव
कहानी // आखिरी मुराद // रामानुज श्रीवास्तव
https://lh3.googleusercontent.com/-_RieU21uEs8/WmHMwoEKXrI/AAAAAAAA-ew/zKNCio3c-GIb2gzn45N9w0D-FteXqZMUwCHMYCw/s72-c/PicsArt_06-14-12.30.46_thumb%255B9%255D?imgmax=200
https://lh3.googleusercontent.com/-_RieU21uEs8/WmHMwoEKXrI/AAAAAAAA-ew/zKNCio3c-GIb2gzn45N9w0D-FteXqZMUwCHMYCw/s72-c/PicsArt_06-14-12.30.46_thumb%255B9%255D?imgmax=200
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2018/04/blog-post_6.html
https://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2018/04/blog-post_6.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ