रु. 25,000+ के  नाका लघुकथा पुरस्कार हेतु रचनाएँ आमंत्रित.

अधिक जानकारी के लिए यहाँ http://www.rachanakar.org/2018/10/2019.html देखें.

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

दक्षिणी अफ्रीका की लोक कथाएँ // 1 सूरज और चाँद की बेटी // सुषमा गुप्ता

साझा करें:

देश विदेश की लोक कथाएँ — दक्षिणी अफ्रीका : दक्षिणी अफ्रीका की लोक कथाएँ अंगोला, बोट्सवाना, लिसोठो, मलावी, मोरेशस, मौज़ाम्बीक, नामिबिया, स्वाज़...

देश विदेश की लोक कथाएँ — दक्षिणी अफ्रीका :

clip_image002

दक्षिणी अफ्रीका की लोक कथाएँ

अंगोला, बोट्सवाना, लिसोठो, मलावी, मोरेशस, मौज़ाम्बीक, नामिबिया, स्वाज़ीलैंड, जाम्बिया, ज़िम्बाब्वे

clip_image004

संकलनकर्ता

सुषमा गुप्ता

Cover Page picture: A Water Fall in Lesotho, Southern Africa

Published Under the Auspices of Akhil Bhartiya Sahityalok

E-Mail: sushmajee@yahoo.com

Website: http://sushmajee.com/folktales/index-folktales.htm

Read More such stories at: www.scribd.com/sushma_gupta_1

Copyrighted by Sushma Gupta 2014

No portion of this book may be reproduced or stored in a retrieval system or transmitted in any form, by any means, mechanical, electronic, photocopying, recording, or otherwise, without written permission from the author.

Map of Southern Africa

clip_image006

11 countries of Southern Africa

(1) Angola, (2) Botswana, (3) Lesotho, (4) Malawi, (5) Mozambique, (6) Namibia, (7) Reunion,

(8) South Africa, (9) Swaziland, (10) Zambia, and (11) Zimbabwe

South Africa’s folktales are given separately.

विंडसर, कैनेडा

मार्च 2017

Contents

सीरीज़ की भूमिका 4

दक्षिणी अफ्रीका की लोक कथाएँ 5

1 सूरज और चाँद की बेटी 8

2 ऐमपिपिडी और मोटलोपी पेड़ 27

3 माडीपैटसैने 35

4 माँ जो धूल में बदल गयी 46

5 बाज़ और बच्चा 61

6 एक सुन्दर नौजवान साकूनाका 67

7 जादुई खीरे 72

8 बिल्ली घर में कैसे आयी 85

सीरीज़ की भूमिका

लोक कथाएँ किसी भी समाज की संस्कृति का एक अटूट हिस्सा होती हैं। ये संसार को उस समाज के बारे में बताती हैं जिसकी वे लोक कथाएँ हैं। आज से बहुत साल पहले, करीब 100 साल पहले ये लोक कथाएँ केवल ज़बानी ही कही जातीं थीं और कह सुन कर ही एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी को दी जाती थीं इसलिये किसी भी लोक कथा का मूल रूप क्या रहा होगा यह कहना मुश्किल है।

आज हम ऐसी ही कुछ अंग्रेजी और कुछ दूसरी भाषा बोलने वाले देशों की लोक कथाएँ अपने हिन्दी भाषा बोलने वाले समाज तक पहुँचाने का प्रयास कर रहे हैं। इनमें से बहुत सारी लोक कथाएँ हमने अंग्रेजी की किताबों से, कुछ विश्वविद्यालयों में दी गयी थीसेज़ से, और कुछ पत्रिकाओं से ली हैं और कुछ लोगों से सुन कर भी लिखी हैं। अब तक 1200 से अधिक लोक कथाएँ हिन्दी में लिखी जा चुकी हैं। इनमें से 400 से भी अधिक लोक कथाएँ तो केवल अफ्रीका के देशों की ही हैं।

इस बात का विशेष ध्यान रखा गया है कि ये सब लोक कथाएँ हर वह आदमी पढ़ सके जो थोड़ी सी भी हिन्दी पढ़ना जानता हो और उसे समझता हो। ये कथाएँ यहाँ तो सरल भाषा में लिखी गयी है पर इनको हिन्दी में लिखने में कई समस्याएँ आयी है जिनमें से दो समस्याएँ मुख्य हैं।

एक तो यह कि करीब करीब 95 प्रतिशत विदेशी नामों को हिन्दी में लिखना बहुत मुश्किल है, चाहे वे आदमियों के हों या फिर जगहों के। दूसरे उनका उच्चारण भी बहुत ही अलग तरीके का होता है। कोई कुछ बोलता है तो कोई कुछ। इसको साफ करने के लिये इस सीरीज़ की सब किताबों में फुटनोट्स में उनको अंग्रेजी में लिख दिया गया हैं ताकि कोई भी उनको अंग्रेजी के शब्दों की सहायता से कहीं भी खोज सके। इसके अलावा और भी बहुत सारे शब्द जो हमारे भारत के लोगों के लिये नये हैं उनको भी फुटनोट्स और चित्रों द्वारा समझाया गया है।

ये सब कथाएँ “देश विदेश की लोक कथाएँ” नाम की सीरीज के अन्तर्गत छापी जा रही हैं। ये लोक कथाएँ आप सबका मनोरंजन तो करेंगी ही साथ में दूसरे देशों की संस्कृति के बारे में भी जानकारी देंगी। आशा है कि हिन्दी साहित्य जगत में इनका भव्य स्वागत होगा।

सुषमा गुप्ता

मई 2016

दक्षिणी अफ्रीका की लोक कथाए

संसार में सात महाद्वीप हैं – एशिया, अफ्रीका, उत्तरी अमेरिका, दक्षिणी अमेरिका, अन्टार्कटिका, यूरोप और आस्ट्रेलिया – सबसे पहले सबसे बड़ा और सबसे बाद में सबसे छोटा। इस तरह अफ्रीका साइज़ और जनसंख्या दोनों में एशिया से दूसरे नम्बर पर आता है। अफ्रीका की जनसंख्या 1 बिलियन से ज्यादा है और उनमें से भी इसमें 50 प्रतिशत जनता 20 साल की उम्र से कम की है। इस तरह से यह दुनिया का सबसे ज़्यादा जवानों का महाद्वीप है।

इस महाद्वीप में संसार के सातों महाद्वीपों में सबसे ज्यादा देश हैं – 54 देश। मिश्र, इथियोपिया, यूगान्डा, तनज़निया, केन्या, दक्षिण अफ्रीका, ज़िम्बाब्वे और नाइजीरिया यहाँ के जाने माने देशों में आते है। इस महाद्वीप में संसार का सबसे बड़ा रेगिस्तान भी है – सहारा रेगिस्तान। इसने अफ्रीका का 25 प्रतिशत हिस्सा घेरा हुआ है। इसकी मुख्य नदियाँ हैं नील नदी, ज़ाम्बेज़ी नदी, कौंगो नदी। इसकी मुख्य झील है विक्टोरिया झील जो तीन देशों में बँटी है – केन्या, यूगान्डा और तनज़ानिया। नील नदी इस विक्टोरिया झील से यूगान्डा के उत्तर की तरफ से निकलती है और उत्तर की तरफ ही चली जाती है। इसका मुख्य पहाड़ है किलिमन्जारो जो तनज़ानिया में है। इसमें तीन ज्वालामुखी चोटियाँ हैं।

इसके इथियोपिया देश को “तेरह महीने की धूप का देश” पुकारा जाता है। इसके लिसोठो देश को “आकाश में राज्य” नाम से पुकारा जाता है। [1] इसके मिश्र देश के पिरामिडों को कौन नहीं जानता। वे संसार के आठ आश्चर्यों में से एक हैं।

बहुत बड़ा होने की वजह से इसमें पूर्व से ले कर पश्चिम तक और उत्तर से ले कर दक्षिण तक बहुत भिन्नता है – खाने में, पीने में, पहनने में, रहने सहने में, लोगों की शक्लों में, भाषा में। पर एक बात सबमें एक सी है कि यहाँ के बहुत सारे देश फुटबाल खेलते हैं। यहाँ की जनसँख्या में ईसाई और मुसलमान करीब आधे आधे हैं।

इस महाद्वीप का अपना लिखा साहित्य और इसके बारे में लिखा साहित्य और दूसरे महाद्वीपों की तुलना में बहुत कम मिलता है इसी वजह से हमने इस महाद्वीप की लोक कथाएँ हिन्दी भाषा में प्रस्तुत करने का विचार किया है। इस महाद्वीप से हमने 400 से भी अधिक लोक कथाएँ इकठ्ठी की हैं। अफ्रीका के 54 देशों में से केवल कुछ ही देशों की ही लोक कथाएँ ज़्यादा मिलती हैं – नाइजीरिया, घाना, मिश्र, ज़ंजीबार, पश्चिमी अफ्रीका, दक्षिणी अफ्रीका, इथियोपिया आदि। इसलिये इन देशों की लोक कथाएं इन देशों के नाम से ही दी गयीं हैं। दूसरे, अफ्रीका में नाइजीरिया और घाना देशों की लोक कथाओं में अनन्सी मकड़े, खरगोश और कछुए का अपना एक अलग ही स्थान है इसलिये इन तीनों की लोक कथाएँ भी अलग से ही दी गयीं है।

दक्षिणी अफ्रीका अफ्रीका महाद्वीप के सुदूर दक्षिण में स्थित हिस्से का नाम है। इसके उसी तरह से तीन तरफ समुद्र है जैसे भारत के। पुराने समय में यानी जब तक लाल सागर को भूमध्य सागर को मिलाने वाली स्वेज़ नहर नहीं बनी थी तब तक पानी के जहाज पूर्व से यूरोप की ओर और यूरोप से पूर्व की ओर इसी दक्षिणी अफ्रीका के बन्दरगाहों से हो कर जाया करते थे।

दक्षिणी अफ्रीका में 11 देश आते हैं – अंगोला, बोट्सवाना, लिसोठो, मलावी, मोरेशस, मोज़ाम्बीक, नामीबिया, दक्षिण अफ्रीका, स्वाज़ीलैंड, ज़ाम्बिया, और ज़िम्बाब्वे। कुछ समय पहले नेलसन मन्डेला ने एक पुस्तक सम्पादित[2] की थी जिसमें अफ्रीका के कई देशों से ली गयी 32 लोक कथाएँ प्रकाशित की गयी थीं।

उन लोक कथाओं में से हम दक्षिण अफ्रीका देश को छोड़ कर दक्षिणी अफ्रीका के देशों की कथाएँ चुन कर अपने हिन्दी भाषा भाषियों के लिये हिन्दी भाषा में “दक्षिणी अफ्रीका की लोक कथाएँ” नाम की इस पुस्तक में प्रकाशित कर रहे हैं। इन कथाओं के अलावा हमने इस पुस्तक में दक्षिणी अफ्रीका के देशों की कुछ और लोक कथाएँ भी शामिल की हैं जो नेलसन मन्डेला की पुस्तक के अलावा दूसरी जगहों से ली गयी हैं। कुल मिला कर हम इसमें 8 लोक कथाएँ दे रहे हैं।

दक्षिणी अफ्रीका के देशों में बहुत पहले से यूरोप के बहुत सारे देशों के लोग आ कर बस गये थे। इन कथाओं में उनकी अपने देशों से लायी गयी कुछ कथाओं का असर भी शामिल है।

तो लो यह है तुम्हारे हाथों में “दक्षिणी अफ्रीका की लोक कथाएँ”।

1 सूरज और चाँद की बेटी[3]

अफ्रीका की यह लोक कथा दक्षिणी अफ्रीका के अंगोला देश की लोक कथाओं से ली गयी है।

यह बहुत दिनों पुरानी बात है कि अफ्रीका के अंगोला देश में एक बहुत ही सुन्दर और बहादुर नौजवान रहता था जिसका नाम था किया–तुम्बा ऐनडाला[4]। वह एक सरदार का बेटा था और उस सरदार का नाम था किमानौऐजे,[5]

गाँव की सारी लड़कियाँ उस नौजवान से शादी करना चाहती थीं। उसका पिता किमानौऐज़े भी चाहता था कि उसके बेटे की अब शादी हो जानी चाहिये सो वह बार बार किया से इस बारे में बात करता।

“मेरे बेटे, अब समय आ गया है जब तुमको शादी कर लेनी चाहिये सो अब तुम शादी कर लो और अपना परिवार बनाओ। गाँव में बहुत सारी लड़कियाँ हैं। तुम उनको देखो और जो तुमको सबसे अच्छी लगे उससे शादी कर लो। ”

पर हर बार किया कोई न कोई बहाना बना कर पिता की बात को या तो टाल जाता या फिर अनसुना कर देता।

आखिर एक दिन अपने पिता के लगातार कहने पर वह बोला — “पिता जी, मुझे इस धरती की किसी लड़की से शादी नहीं करनी। ”

किमानौऐज़े को लगा कि शायद उसकी समझ में नहीं आया कि उसके बेटे ने क्या कहा सो उसने उससे फिर कहा — “तुमने क्या कहा बेटा? तुम किससे शादी करना चाहते हो?”

किया कुछ नाराजी से बोला — “मैंने कहा न पिता जी कि मुझे इस धरती की किसी लड़की से शादी नहीं करनी। ”

यह सुन कर तो उसका पिता और भीे आश्चर्य में पड़ गया और उससे पूछा — “तब तुम किससे शादी करना चाहते हो बेटा?”

“मुझे अगर शादी करनी ही पड़ी तो मैं भगवान सूरज और रानी चाँद की बेटी से शादी करूँगा। ”

पिता बाला — “मेरे बेटे ज़रा ठीक से सोचो। हम लोग सूरज और चाँद की बेटी का हाथ माँगने के लिये स्वर्ग कैसे जा सकते हैं?”

“देखेंगे पिता जी। पर यह बात पक्की है कि मैं भगवान सूरज और रानी चाँद की बेटी के अलावा किसी और से शादी नहीं करूँगा। ”

सारे गाँव ने जब यह सुना तो उन सबको यही लगा कि किसी ने उसके ऊपर जादू कर दिया है और इस जादू की वजह से उसकी अक्ल काम नहीं कर रही। उसका दिमाग काम नहीं कर रहा।

यहाँ तक कि उसके पिता ने भी फिर उससे शादी के बारे में बात करना बन्द कर दिया। पर किया–तुम्बा ने यह पक्का इरादा कर रखा था कि वह अगर शादी करेगा तो केवल भगवान सूरज और रानी चाँद की बेटी से ही करेगा और किसी से भी नहीं।

सो उसने भग्वान सूरज को एक चिठ्ठी लिखी जिसमें उसने उनकी बेटी का हाथ माँगा।

हाथ में वह चिठ्ठी लिये हुए वह एक हिरन[6] के पास गया ताकि वह उसकी चिठ्ठी सूरज के पास स्वर्ग ले जा सके पर हिरन ने अपना सिर ना में हिलाया और कहा — “मुझे अफसोस है किया कि मैं इतनी दूर नहीं जा सकता। ”

clip_image008

किया फिर एक हिरनी[7] के पास गया पर उसने भी उसको मना कर दिया — “अफसोस किया मैं इतनी दूर ऊपर स्वर्ग में नहीं जा सकती। ”

उसके बाद किया–तुम्बा एक बाज़[8] के पास गया तो अपने पर चौड़े चौड़े फैला कर उसने कहा — “मैं उतनी दूर तक उड़ तो सकता हूँ पर मैं भगवान सूरज तक नहीं जा सकता। ”

अन्त में वह गिद्ध[9] के पास पहुँचा पर गिद्ध ने भी ऐसा ही कुछ कहा — “मैं आधी दूर तक तो जा सकता हूँ पर पूरी तरह से वहाँ जाना यानी स्वर्ग में अन्दर जाना, नहीं नहीं मैं वहाँ तक नहीं जा सकता। यह मुश्किल काम है किया। अफसोस यह मैं नहीं कर सकता। ”

इतने सारे जानवरों से ना सुनने के बाद किया काफी नाउम्मीद हो गया। उसको लगा कि यह शादी तो सचमुच में मुमकिन नहीं लगती सो उसने वह चिठ्ठी एक बक्से में बन्द कर दी और उसके बारे न सोचने की कोशिश की।

clip_image010clip_image012

उधर भगवान सूरज और रानी चाँद की दासियाँ धरती पर किया–तुम्बा के गाँव के पास वाले कुँए से पानी भरने के लिये आया करती थीं।

वहीं उस कुँए में एक मेंढक रहता था। उसने उनको वहाँ से पानी ले जाते हुए कई बार देखा था। उस मेंढक को किया की इच्छा का भी पता था।

इसके अलावा वह किया को यह भी दिखाना चाहता था कि वह उसके लिये कितने काम का जानवर था सो उसके दिमाग में एक तरकीब आयी।

एक दिन वह किया के पास गया और बोला — “मुझे मालूम है कि तुमने अपनी शादी के लिये एक चिठ्ठी लिखी है। ”

किया बोला — “हाँ लिखी तो है। पर वह तो ऐसी ही है जैसे मैंने उसको लिखा ही न हो क्योंकि मुझे कोई ऐसा मिला ही नहीं जो उसको ऊपर स्वर्ग में ले जा सके। ”

मेंढक बोला — “तुम उस चिठ्ठी को मुझे दे दो मैं देखता हूँ। ”

किया कुछ शक के साथ बोला — “बेवकूफ मत बनो। क्योंकि जब उसको बड़े बड़े परों वाली चिड़ियें नहीं ले जा सकीं तो तुम कैसे ले कर जाओगे?”

मेंढक बोला — “मेरा विश्वास करो मुझे मालूम है कि मैं क्या कह रहा हूँ। तुम देखना मैं तुम्हारे लिये क्या कर सकता हूँ। ”

किया–तुम्बा ने कुछ देर सोचा पर फिर यह सोच कर कि इसमें हर्ज ही क्या है उसका कोई नुकसान तो है नहीं उसने वह चिठ्ठी ला कर मेंढक को दे दी और कहा — “याद रखना कि अगर तुम अपने इस काम में कामयाब नहीं हुए तो तुमको इसके लिये पछताना पड़ेगा। ”

मेंढक ने इसकी कुछ ज़्यादा चिन्ता नहीं की और किया से कुछ ज़्यादा हील हुज्जत भी नहीं की। बस वह उस चिठ्ठी को ले कर उस कुँए की तरफ चला गया जहाँ वह रहता था और जहाँ भगवान सूरज और रानी चाँद की दासियाँ पानी भरने आया करती थीं।

उसने वह चिठ्ठी अपने मुँह में रखी और उसको मुँह में रख कर वह कुँए के पानी में कूद गया और जा कर वहाँ बिल्कुल चुपचाप बैठ गया।

कुछ देर बाद ही वहाँ भगवान सूरज और रानी चाँद की दासियाँ पानी भरने के लिये आयीं। वहाँ आ कर उन्होंने पानी भरने के लिये अपने अपने घड़े पानी में डुबोये और पानी भर कर उनको ऊपर खींच लिया।

पलक झपकते ही वे पानी ले कर स्वर्ग की तरफ उड़ चलीं। मेंढक भी चुपचाप एक घड़े में छिप कर बैठ गया और उनके पानी के साथ साथ उनके घड़े में बैठ कर स्वर्ग चला गया।

जब वे दासियाँ भगवान सूरज के घर पहुँच गयीं तो उन्होंने पानी के घड़े उनकी जगह पर रख दिये और वहाँ से चली गयीं। एक बार जब मेंढक सूरज के घर में पहुँच गया तो वह पानी के घड़े से बाहर कूद गया।

उसके बाद वह कमरे के बीच में रखी एक ऊँची सी मेज पर कूद गया। वहाँ उसने किया की चिठ्ठी निकाल कर मेज पर रखी और तुरन्त ही एक अँधेरे कोने में जा कर छिप कर बैठ गया।

कुछ देर बाद भगवान सूरज वहाँ पानी पीने आये तो उन्होंने मेज पर रखी एक चिठ्ठी देखी तो उन्होंने अपनी दासियों को बुलाया और वह चिठ्ठी दिखाते हुए उनसे पूछा — “और यह? यह कहाँ से आयी?”

वे डर कर बोलीं — “मालिक हमें नहीं पता कि यह चिठ्ठी कहाँ से आयी। हमें सचमुच ही नहीं पता कि यह चिठ्ठी कहाँ से आयी। ”

भगवान सूरज ने कागज काटने वाला एक चाकू उठाया और उस चिठ्ठी को खोल कर पढ़ा — “मैं किया–तुम्बा ऐनडाला, किमानौऐज़े का बेटा, धरती का एक आदमी, भगवान सूरज और रानी चाँद की बेटी से शादी करना चाहता हूँ। ”

भगवान सूरज मुस्कुराये और सोचा — “ज़रा इन धरती के लोगों के स्वर्ग में आने के विचार तो देखो। यह किया तो बहुत ही बहादुर है। पर यह सन्देश लाया कौन होगा। ”

भगवान सूरज ने कुछ कहा नहीं और वह चिठ्ठी अपनी जेब में रख कर कमरे से बाहर चले गये।

इस बीच उनकी दासियाँ और पानी लाने के लिये कुँए पर वापस जाने वाली थीं कि कमरे में छिपा हुआ मेंढक उनके एक घड़े में फिर से छिप कर बैठ गया और इस तरह फिर धरती पर वापस पहुँच गया। तुरन्त ही वह किया के गाँव की तरफ चल दिया।

वह किया के घर पहुँचा और जा कर उसका दरवाजा खटखटाया। किया ने दरवाजा खोला तो मेंढक को सामने खड़ा देख कर उसने उससे पूछा — “प्रिय मेंढक, क्या तुम मुझसे यह कहने आये हो कि तुमने मेरी चिठ्ठी भगवान सूरज तक पहुँचा दी है या फिर मेरी मार खाने के लिये आये हो?”

मेंढक बोला — “मैंने तुम्हारी चिठ्ठी भगवान सूरज तक पहुँचा दी है इसलिये तुम अपने मुझे मारने की तकलीफ को बचा कर रख सकते हो। ”

किया ने पूछा — “अगर ऐसा है तो फिर तुम्हारे पास उसका कोई जवाब क्यों नहीं है?”

मेंढक बोला — “यह तो मुझे नहीं पता पर मुझे यह पता है कि तुम्हारी चिठ्ठी सही आदमी के हाथ में पहुँच गयी है और उसने उसको पढ़ भी लिया है।

अगर तुम चाहते हो कि तुमको उसका जवाब मिले तो तुम एक और चिठ्ठी लिख सकते हो जिसमें तुम भगवान सूरज को जवाब देने के लिये कहो। तुम्हारे लिये मैं उसको भी स्वर्ग ले जाने के लिये तैयार हूँ। ”

किया–तुम्बा एक पल के लिये तो हिचकिचाया क्योंकि उसको डर था कि यह मेंढक शायद उसका मजाक बना रहा था पर फिर उसको भगवान सूरज और रानी चाँद की बेटी का ख्याल आया और उसने एक और कोशिश करने का निश्चय कर लिया।

वह बैठा और उसने एक और चिठ्ठी लिखी — “मैं किया–तुम्बा ऐनडाला, किमानौऐज़े का बेटा, धरती का एक आदमी, ने आपको पहले भी आपकी बेटी का हाथ माँगने के लिये लिखा था।

चिठ्ठी आपको भिजवा दी गयी थी पर मुझे अभी तक उसका कोई जवाब नहीं मिला है। इसलिये मैं यह जानने के लिये कि मेरा यह प्रस्ताव आपको मंजूर है कि नहीं मैं एक और चिठ्ठी भेज रहा हूँ। आशा है कि आप बताने की कृपा करेंगे। ”

चिठ्ठी लिख कर उसने अपने दस्तखत किये, उसको मोड़ा और बन्द करके मेंढक को दे दिया। मेंढक फिर से उस कुँए की तरफ चल दिया।

जब मेंढक कुँए पर पहुँचा तो पहले की तरह से उसने किया की चिठ्ठी अपने मुँह में रखी और कुँए में कूद गया। वहाँ वह भगवान सूरज की दासियों के आने का इन्तजार करने लगा। कुछ देर बाद जब वे वहाँ पानी भरने आयीं तो वह मेंढक उनके घड़े में बैठ कर फिर से स्वर्ग चला गया।

वहाँ पहुँच कर उसने फिर से मेज पर चिठ्ठी रखी और अपने उसी अँधेरे कोने में छिप कर बैठ गया। कुछ देर बाद भगवान सूरज वहाँ आये तो उन्होंने मेज पर फिर एक चिठ्ठी रखी देखी। उन्होंने उसको भी उठाया, खोला और पढ़ा।

उस चिठ्ठी को देख कर उनका आश्चर्य और बढ़ गया कि वे चिठ्ठियाँ धरती पर से कौन ला रहा था सो उन्होंने अपनी दासियों को फिर से बुलाया और उनसे उस चिठ्ठी के बारे में पूछा।

उन्होंने कहा — “तुम लोग पानी लाने के लिये हमेशा ही धरती पर जाती रही हो। क्या तुमने किसी को देखा जो ये चिठ्ठियाँ वहाँ से यहाँ लाता है?”

यह सुन कर वे दासियाँ तो भगवान सूरज से भी ज़्यादा आश्चर्य में पड़ गयीं। वे एक साथ बोलीं — “नहीं तो। हमें तो इस बात का बिल्कुल ही पता नहीं है। ”

यह सुन कर भगवान सूरज ने अपना सिर खुजलाया पर उनकी समझ में यह नहीं आया कि वे चिठ्ठियाँ उनके पास तक पहुँच कैसे रही थीं। फिर भी उन्होंने एक कागज लिया और उस पर लिखा —

“तुम मुझे चिठ्ठियाँ भेजते रहे हो। कैसे, यह मैं नहीं जानता। उन चिठ्ठियों में तुमने मुझे लिखा था कि तुम मेरी बेटी से शादी करना चाहते हो। मैं तुमको उससे शादी करने की इजाज़त दे तो सकता हूँ पर इस शर्त पर कि तुम खुद यहाँ उसके लिये पहली भेंट ले कर आओ ताकि मैं यह देख सकूँ कि तुम किस तरह के आदमी हो। ”

फिर उन्होंने उस चिठ्ठी पर दस्तखत किये, उसको मोड़ा और बन्द करके उसको वहीं मेज पर रख दिया। मेज पर चिठ्ठी रख कर वह वहाँ से चले गये।

जैसे ही भगवान सूरज वहाँ से गये तो मेंढक अपनी जगह से निकला, मेज पर कूदा, चिठ्ठी उठा कर अपने मुँह में रखी और एक घड़े में जा कर बैठ गया। जब भगवान सूरज की दासियाँ फिर से पानी भरने के लिये धरती पर गयीं तो वह भी उनके साथ साथ धरती पर चला गया।

जब तक वे दासियाँ वहाँ से स्वर्ग गयीं तब तक वह वहीं छिप कर उनके जाने का इन्तजार करता रहा। जैसे ही वे स्वर्ग चली गयीं वह तुरन्त गाँव में किया के घर भाग गया।

किया ने दरवाजा खोला तो उसने भगवान सूरज की चिठ्ठी उसको थमा दी। किया को तो अपनी अपनी आँखों पर विश्वास ही नहीं हुआ कि वह भगवान सूरज के हाथ की लिखी चिठ्ठी पढ़ रहा था।

किया खुश हो कर बोला — “इसका मतलब है कि तुम सच बोल रहे थे दोस्त मेंढक। मैं उनके लिये अभी जा कर पहली भेंट तैयार करता हूँ ताकि तुम उसे भगवान सूरज के पास ले जा सको। ”

सो उसने एक चमड़े का थैला लिया और उसमें सोने के 40 सिक्के रखे और फिर एक और चिठ्ठी लिखी —

“आदरणीय भगवान सूरज जी और रानी चाँद जी। यह आपको मेरी पहली भेंट है। मुझे अफसोस है कि मैं आपके पास खुद नहीं आ सकता। मुझे धरती पर ही ठहरना है क्योंकि मुझे अभी शादी की तैयारियाँ करनी हैं। ”

और मेंढक किया की चिठ्ठी और पहली भेंट ले कर पहले की तरह से फिर से स्वर्ग पहुँच गया। उसने वह चिठ्ठी और पैसों का थैला मेज पर रखा और जैसे गया था वैसे ही वापस आ गया।

इस तरह मेंढक कुछ समय तक किया और भगवान सूरज के बीच सन्देश लाता ले जाता रहा। किया की भेंटें ले जाता रहा।

इस तरह दिन दिन करके एक महीना निकल गया, फिर दूसरा महीना भी निकल गया और फिर आया वह दिन जिस दिन किया की शादी भगवान सूरज और रानी चाँद की बेटी से होनी थी।

पर किया–तुम्बा अपना मन पक्का नहीं कर पा रहा था क्योंकि उसको बहुत चिन्ता लगी थी। बारह दिन तक वह पलक तक नहीं झपका सका था। आखिर उसने मेंढक को बुलाया और उससे अपनी चिन्ता बतायी।

वह बोला — “दोस्त, मैं खुद तो अपनी पत्नी को लेने के लिये स्वर्ग जा नहीं सकता और न मैं किसी और को जानता हूँ जो उसको यहाँ धरती पर ला सके। मैं क्या करूँ?”

मेंढक तुरन्त ही बोला — “पर मैं तो हूँ। मैं वहाँ जाऊँगा और फिर पता लगाता हूँ कि उसको यहाँ कैसे लाया जा सकता है। तुम चिन्ता न करो। ”

किया–तुम्बा को मेंढक के तसल्ली देने पर भी तसल्ली नहीं हुई। वह बोला — “पर तुम तो बहुत छोटे से हो तुम ऐसा कैसे कर सकते हो। ”

पर मेंढक ने उसे विश्वास दिलाया — “तुम बिल्कुल चिन्ता न करो। तुम देखना कि मैं उसको यहाँ लाने का कोई न कोई रास्ता उसी तरह से निकाल लूँगा जैसे मैंने तुम्हारी चिठ्ठियाँ और भेंटें ले जाने का निकाला था। ,”

कह कर मेंढक फिर से उसी कुँए पर चला गया।

पहले की तरह से वह वहाँ से वह भगवान सूरज की दासियों की पानी के घड़े में बैठ कर स्वर्ग चला गया और जा कर अपने उसी कोने में बैठ गया जहाँ वह बैठा करता था और भगवान सूरज के सोने का इन्तजार करने लगा।

जब भगवान सूरज के सोने का समय आया तो सब जगह अँधेरा और शान्त हो गया। मेंढक अपनी जगह से निकला और भगवान सूरज की सुन्दर बेटी को ढूँढने चल दिया। उसने इधर देखा उधर देखा तो वह उसको गहरी नींद में सोती हुई मिल गयी।

वह चुपचाप उसके तकिये तक पहुँच गया। फिर उसने एक सुई धागा निकाला और उसकी पलकें सिलने लगा।

अब उस मेंढक के पास तो वह जादू की सुई धागा थे और दिखायी भी नहीं दे रहे थे। भगवान सूरज की बेटी को उसकी पलकों की सिलाई से कोई तकलीफ भी नहीं हुई। इसके अलावा उनकी सिलाई भी दिखायी नहीं दे रही थी।

जब उसने उसकी पलकें सिल दीं तो अब उनको कोई खोल भी नहीं सकता था।

जब वह लड़की अगले दिन सुबह उठी तो वह अपनी आँखें ही नहीं खोल पायी। वह बहुत डर गयी और चिल्ला चिल्ला कर रोने लगी और सहायता के लिये पुकारने लगी।

रानी चाँद उसके कमरे में दौड़ी दौड़ी आयी और उससे पूछा — “बेटी क्या बात है क्या हो गया?”

बेटी बोली — “माँ मुझे ऐसा लग रहा है जैसे मेरी आँखों पर बहुत सारा बोझ रखा है। मैं तो अपनी आँख ही नहीं खोल पा रही हूँ। मुझे डर है कि कहीं मैं अन्धी तो नहीं हो गयी हूँ। ”

यह सब सुन कर भगवान सूरज भी वहाँ दौड़े दौड़े आ गये। उन्होंने भी देखा कि उनकी बेटी की आँखें तो बन्द हैं।

वह बोले — “वैसे तो सब कुछ ठीक लग रहा है पर ऐसा लगता है कि किसी अनदेखी ताकत ने इसकी पलकों को नीचे कर रखा है। वह कौन सी ताकत हो सकती है? शायद कोई जादू। क्योंकि कल तक तो यह ठीक थी। ”

रानी चाँद ने चाँदी के आँसू बहाते हुए भगवान सूरज से पूछा —“तो अब हम क्या करें?”

भगवान सूरज बोले — “मैं अपने दो दूत अपने अक्लमन्द ओझा ऐनगोम्बो[10] के पास भेजता हूँ। वह हमको बतायेगा कि हमें क्या करना है। ” कह कर उन्होंने अपने दो नौकरों को बुलाया और उनको ऐनगोम्बो के पास धरती पर भेजा।

मेंढक वहीं बैठा यह सब सुन रहा था। वह तुरन्त ही एक घड़े में कूद गया और अपने पुराने तरीके से धरती पर पहुँच गया। वह उन दूतों के पहुँचने से पहले ही उस ओझा ऐनगोम्बो के घर पहुँच गया। दूतों ने रास्ते में शहतूत की झाड़ियाँ देखीं तो वे कुछ देर तक वहीं रुक गये।

उधर वह ओझा अपने किसी काम से घर से बाहर गया हुआ था तो इस मौके का फायदा उठाते हुए मेंढक उसके घर में घुस गया और अन्दर से घर का दरवाजा बन्द कर लिया।

clip_image014उस ओझा के घर में उसका मुखौटा[11] दीवार पर टँगा हुआ था जिसको वह अपनी रस्में करते समय पहना करता था सो वह मुखौटा उस मेंढक ने पहन लिया।

कुछ ही देर में भगवान सूरज के दोनों दूत वहाँ आ पहुँचे। उन्होंने ओझा के घर का दरवाजा खटखटाया तो मुखौटा पहने मेंढक ने अन्दर से पूछा — “कौन है?”

उसकी आवाज सारी झोंपड़ी में गूँज गयी।

दोनों दूतों ने कहा कि “हम भगवान सूरज के दूत हैं। क्या हम अन्दर आ सकते हैं?”

मेंढक जल्दी से बोला — “नहीं नहीं। तुम अभी अन्दर नहीं आ सकते। यह नामुमकिन है। मैं अभी एक बहुत जरूरी काम में लगा हूँ। तुम लोग मुझे वहीं बाहर से ही बता दो कि भगवान सूरज को मुझसे क्या काम है। ”

दूतों ने अन्दर आने की जिद नहीं की और उन्होंने उसको वहीं से बताया कि उनके मालिक की बेटी को क्या हुआ है। मेंढक ने शान्ति से उनकी बात सुनी जैसे कि वह उनकी बातें बड़े ध्यान और रुचि से सुन रहा था।

फिर वह कुछ देर चुप रहा जैसे वह कुछ सोच रहा हो और फिर उसी आवाज में बोला — “इसमें कोई शक नहीं है कि लड़की बीमार है और वह इसलिये बीमार है क्योंकि उसका होने वाला पति स्वर्ग जा कर उसको धरती पर नहीं ला सकता।

यह तो एक ऐसा जादू है जिसको सभी जानते हैं। यह तो बहुत पुराना और बहुत ही ताकतवर जादू है। यह कहता है कि “भगवान सूरज और रानी चाँद की बेटी तुम जल्दी से मेरे पास आ जाओ नहीं तो तुम हमेशा के लिये रात के अँधेरे में डूब जाओगी।

और तुम दोनों जल्दी से यहाँ से भाग जाओ और अपने मालिक से कहो कि वह अपनी बेटी को जल्दी से जल्दी धरती पर भेजने का इन्तजाम करें वरना मौत से बचने का और कोई रास्ता नहीं है। ”

यह सुन कर भगवान सूरज के नौकर तो तुरन्त ही भगवान सूरज के पास दौड़ गये और उनको जा कर जो कुछ भी ऐनगोम्बो ने कहा था वैसा का वैसा ही बता दिया।

इधर उन दूतों के जाने के बाद मेंढक किया के घर दौड़ा गया।

“किया–तुम्बा, किया–तुम्बा। अब तुम जल्दी से तैयार हो जाओ तुम्हारी होने वाली दुलहिन बस यहाँ कभी भी आने वाली होगी। ”

दुखी किया–तुम्बा घर से बाहर निकल कर आया और मेंढक से पूछा — “यह कैसे मुमकिन है दोस्त? क्या तुम मेरा बेवकूफ बना रहे हो? मेंढक तुम चले जाओ यहाँ से। मुझसे झूठ नहीं बोलो। ”

मेंढक बोला — “पर तुम मेरे कहने का विश्वास तो करो। देख लेना शाम होने से पहले पहले तुम्हारी होने वाली दुलहिन यहाँ मौजूद होगी। ”

और किया–तुम्बा को जवाब देने का समय दिये बिना ही वह फिर से उसी कुँए पर चला गया जहाँ सूरज भगवान की दासियाँ पानी भरने के लिये आती थीं। और उसके पानी में कूद कर वहाँ उनका इन्तजार करने लगा।

असल में तो मेंढक ने यह पहले ही देख लिया था कि जैसे ही भगवान सूरज के दूतों ने जा कर भगवान सूरज को उसका सन्देश दिया भगवान सूरज ने अपनी बेटी को धरती पर भेजने का इन्तजाम करना शुरू कर दिया था।

उन्होंने तुरन्त ही मकड़े को हुकुम दिया कि वह स्वर्ग से ले कर धरती तक एक बहुत ही लम्बा और मजबूत जाला तैयार करे जिस पर से उनकी अन्धी बेटी उतर कर नीचे धरती पर जा सके। मकड़े ने वैसा ही किया।

और लो। जब शाम होने लगी तो मकड़े का जाला ऊपर से नीचे लटकाया गया और भगवान सूरज की सुन्दर बेटी अपनी दासियों के साथ नीचे धरती पर उतरी।

उसकी दासियों ने उसको कुँए के पास बिठा दिया। उसके बाल सँवारे। उसको तसल्ली दी और उसको वहाँ शान्ति से इन्तजार करने के लिये कहा। उसके बाद वे स्वर्ग वापस चली गयीं।

जैसे ही भगवान सूरज की बेटी वहाँ अकेली रह गयी मेंढक पानी में से बाहर निकला और उसके पास आ कर बोला — “तुम डरो नहीं। मैं तुम्हें तुम्हारे होने वाले दुलहे के पास ले चलूँगा। ”

उसने अपना छोटा सा जादू का चाकू निकाला और उससे उसकी आँखों का वह धागा काटना शुरू किया जिससे उसने उसकी पलकों को पहले सिला था और जिसे केवल वही देख सकता था। जब वह दोनों आँखों के धागे काट चुका तो उसको दिखायी देखने लगा।

अब वे दोनों किया–तुम्बा के गाँव की तरफ चले। वे किया–तुम्बा की झोंपड़ी के दरवाजे के सामने आये और मेंढक ने उसका दरवाजा खटखटाया। किया–तुम्बा बाहर आया तो मेंढक बोला — “यह लो अपनी दुलहिन। ”

किया–तुम्बा तो उस लड़की सुन्दरता देख कर दंग रह गया। उसके मुँह से तो कोई शब्द ही नहीं निकला। मेंढक को धन्यवाद की जरूरत नहीं थी सो वह सबकी नजर बचा कर वहाँ से गायब हो गया।

इस तरह से धरती के एक बेटे ने भगवान सूरज और रानी चाँद की बेटी से शादी की और फिर वे दोनों ज़िन्दगी भर खुशी खुशी साथ साथ रहे।

clip_image017


[1] “Land of Thirteen Months of Sunshine” and “Kingdom in the Sky”

[2] Mandela, Nelson (ed). “Favorite African Stories”. 32 stories.

[3] The Daughter of the Sun and the Moon – a folktale from Mbundu Tribe, Angola, Southern Africa.

Adapted from the book “African Folktales” by A Ceni.

[4] Kia-Tumba Ndala – name of the young man

[5] Kimanaueze – name of the Chief.

[6] Translated for the word “Deer”

[7] Translated for the word “Antelope”. See its picture above.

[8] Translated for the word “Hawk”

[9] Translated for the word “Vulture.

[10] Translated for the word “Witch Doctor”. Ngombo is his name. Witch doctors are those people who control some kind of witch to tell the future and to do some very difficult job, like Ojhaa in India

[11] Translated fr the word “Mask”


---

सुषमा गुप्ता ने देश विदेश की 1200 से अधिक लोक-कथाओं का संकलन कर उनका हिंदी में अनुवाद प्रस्तुत किया है. कुछ देशों की कथाओं के संकलन का  विवरण यहाँ पर दर्ज है. सुषमा गुप्ता की लोक कथाओं के संकलन में से सैकड़ों लोककथाओं के पठन-पाठन का आनंद आप यहाँ रचनाकार के लोककथा खंड में जाकर उठा सकते हैं.

***

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

.... प्रायोजक ....

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=blogging$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3844,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,336,ईबुक,192,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2788,कहानी,2116,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,486,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,329,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,50,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,9,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,17,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,838,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,8,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,315,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1923,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,649,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,688,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,56,साहित्यिक गतिविधियाँ,184,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,68,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: दक्षिणी अफ्रीका की लोक कथाएँ // 1 सूरज और चाँद की बेटी // सुषमा गुप्ता
दक्षिणी अफ्रीका की लोक कथाएँ // 1 सूरज और चाँद की बेटी // सुषमा गुप्ता
https://lh3.googleusercontent.com/--bN9CrQKJSM/WwKn8d-yRYI/AAAAAAABBsw/pAnGHCxkXA0ZsbKWq7UEMDQYL7s8f6GMgCHMYCw/clip_image002_thumb?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/--bN9CrQKJSM/WwKn8d-yRYI/AAAAAAABBsw/pAnGHCxkXA0ZsbKWq7UEMDQYL7s8f6GMgCHMYCw/s72-c/clip_image002_thumb?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2018/05/1_21.html
https://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2018/05/1_21.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ