नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

जरा हटके - लघुकथा - देह की दुर्गति

जरा हटके - लघुकथा - देह की दुर्गति

image
          चार भाई बहनों में बड़ी , नाजों से पली राजो का बचपन हंसते खेलते बीत गया था ।
          कैशोर्य की अल्हड़ता और प्रस्फुटित हो रही मादकता ने उसके स्वभाव में चंचलता और स्वच्छन्दता को बढ़ा दिया था।       
         गांव में उसके निखरते रूप और यौवन की चर्चा होने लगी थी। मनचले युवकों की टोली राजो को आते - जाते हल्के -फुलके बेसुरे राग से उसका सौन्दर्य बोध कराते जिसे सुनकर वह और अधिक खिल उठती ।  
       पहले तो राजो ने इन पर कोई ध्यान नहीं दिया किन्तु धीरे - धीरे वह प्रशंसा सुनने के मौके तलाशने लगी । परिणाम यह हुआ कि वह अनचाहे आरोपों से घिर गई और पढ़ाई छूट गई । बड़े घर की बेटी थी समय रहते बदनामी के डर से बचने के लिए पिता ने आनन - फानन में उसकी शादी कर दी ।
      राजो अपने विवाह से खुश थी । सम्पन्न ससुराल में उसे सब कुछ मिला पर शराबी पति से वह सन्तुष्ट नहीं थी । फलतः जल्दी ही ऊब गई । बार - बार रूठ कर मायके चली जाना , राजो की फितरत बन गई । अतृप्त मन की कसक ने उसे विचलित कर दिया । उसकी बढ़ती स्वच्छन्दता और लगते आरोपों के बीच वह दो बच्चों की माँ भी बन गई पर उसके स्वभाव में कोई परिवर्तन नहीं आया ।
      समय बीतता गया और एक दिन अत्यधिक शराब पीने की वजह से संसार में अपने बच्चों के साथ वह अकेली रह गई । ससुराल वालों ने उस पर बदचलनी और पति की असमय मौत का आरोप लगाकर पल्ला झाड़ लिया ।
        वह मायके आ गई पर मायके में भी कब तक रहती । उसके मनचले स्वभाव से सब परेशान थे।       इतना कुछ बीत जाने के बाद भी राजो के स्वभाव में कोई परिवर्तन नहीं आया तो भाइयों ने मिलकर उसे पास ही के शहर में नौकरी लगवा दी ।
      अब राजो अपने बच्चों के साथ शहर में एक किराए के मकान में रहने लगी। अकेलेपन का उसने जमकर फायदा उठाया और अनेक व्यक्तियों से उसके मधुर सम्बंध बन गए। पैसे की चाहत में वह लोगों को ब्लैक मेल करने लगी । उसकी बढ़ती ज्यादतियों से तंग आकर किसी ने उसकी हत्या कर दी ।
       कई दिन बाद घने जंगल में उसका मृत कंकाल पुलिस ने बरामद किया । जिस देह के बल पर राजो इतराती थी वह देह हड्डियों के ढांचे में परिवर्तित हो चुकी थी । बमुश्किल राजो की शिनाख्त हो सकी ।
        क्रिया कर्म के बाद लोग बतिया रहे थे - लगते आरोपों से यदि राजो समय रहते सम्हल जाती तो आज उसकी देह की यूँ दुर्गति न हुई होती । 


                      - देवेंन्द्र सोनी, इटारसी।

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.