370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

पशुओं और पक्षियों की लड़ाई // अफ्रीका की लोक कथाएँ // सुषमा गुप्ता

देश विदेश की लोक कथाएँ —


अफ्रीका की लोक कथाएँ–1

अफ्रीका, अंगोला, कैमेरून, मध्य अफ्रीका, कौंगो, मोरक्को

clip_image005

संकलनकर्ता

सुषमा गुप्ता

2 पशुओं और पक्षियों की लड़ाई[1]


clip_image003

एक बार की बात है कि एक मुर्गा और एक हाथी पास पास रहते थे। एक दिन हाथी ने मुर्गे की झोंपड़ी का डंडा तोड़ दिया तो मुर्गे ने भी बदले में हाथी की झोंपड़ी में कूड़ा कबाड़ फेंक दिया।

हाथी ने जब अपने घर में इतना सारा कूड़ा कबाड़ देखा तो वह आग बबूला हो गया और बोला — “ज़कारा, इस बात का फैसला तो अब लड़ाई से ही होगा। तुम ऐसे नहीं मानोगे। ”

मुर्गा बोला — “ठीक है ठीक है, पर लड़ाई से पहले हम लोग अपने अपने सम्बन्धियों को इस लड़ाई के बारे में तो बता दें। ”

सो हाथी ने जंगल के सभी जानवरों को और मुर्गे ने जंगल के सभी पक्षियों को कहला भेजा कि उन दोनों में लड़ाई होने वाली है और सारे जानवर और पक्षी लड़ाई के लिये तैयार हो जायें।

दोनों ओर से लड़ाई की पूरी पूरी तैयारियाँ हो गयीं। जानवरों का कप्तान बना भेड़िया और पक्षियों की कप्तान बना चील।

चील ने शुतुरमुर्ग को पशुओं की सेना को देखने के लिए भेजा। इसी समय भेड़िये ने भी यही सोचा कि पक्षियों की सेना की जाँच की जाये और दोनों एक दूसरे की तरफ चल दिये।

clip_image005

भेड़िया बोला — “कहो जिमिना, क्या तुम्हारी सेना तैयार है?”

शुतुरमुर्ग बोला — “बिल्कुल, और तुम्हारी?”

भेड़िया बोला — “हमारी भी। ”

शुतुरमुर्ग बोला — “ठीक है, तुम अपने साथियों को बोलो और मैं अपने साथियों को जा कर बोलता हूँ कि हम सब लड़ाई के लिये तैयार हैं। ” और शुतुरमुर्ग वापस अपनी सेना की ओर चल दिया।

जैसे ही शुतुरमुर्ग वापस जाने के लिए मुड़ा तो भेड़िये ने देखा कि शुतुरमुर्ग की टाँगों पर तो बहुत माँस है। उस माँस को देख कर उसके मुँह में पानी भर आया।

वह तुरन्त बोला — “जिमिना रुको, क्यों न पहले हम तुम आपस में ही लड़ लें। हममें से जो जीतेगा वह जीत जायेगा। ”

शुतुरमुर्ग बोला — “ठीक है, पहले तुम मुझे तीन बार मारो फिर मैं तुम्हें तीन बार मारूँगा। ”

भेड़िया अपनी जगह से उठा और उसने शुतुरमुर्ग पर तीन बार वार किया।

“अब मेरी बारी है। ” कह कर शुतुरमुर्ग ने अपनी चोंच से भेडिये को नोचा और अपने पंजे भी मारे।

भेड़िया परेशान हो गया और बोला — “तुम्हारी बारी अब खत्म हो गयी। ”

शुतुरमुर्ग बोला — “नहीं, अभी मेरी बारी खत्म कैसे हो गयी, यह तो अभी एक ही बार हुआ है। अभी तो मेरे दो बार और बाकी हैं। ”

कह कर वह उड़ा और अपनी चोंच से भेड़िये की दोनों आँखें निकाल लीं। इसके बाद वे दोनों अपनी अपनी सेनाओं में चले गये।

जानवरों ने जब भेड़िये को अन्धा देखा तो पूछा — “भाई भेड़िये, यह क्या हुआ?”

भेड़िया बोला — “वे लोग हमारे साथ अन्याय कर रहे हैं। देखो न उन्होंने मेरे साथ कैसा बरताव किया है। ”

यह देख कर सभी जानवरों को बडा, गुस्सा आया। लड़ाई का ऐलान कर दिया गया और दोनों सेनाएँ आगे बढ़ने लगीं।

चील आगे बढ़ा, उसने मुर्गे को सलामी दी और मुर्गी के कुछ अंडे उठा कर हाथी के सिर पर दे मारे और चिल्लाया — “देखो देखो, हाथी का सिर फूट गया। हाथी का सिर फूट गया। ”

जब हाथी ने यह सुना तो अपनी सूँड़ से अपना सिर छू कर देखा और बोला — “हे भगवान, अभी तो मेरा सिर सलामत है। ”

उसके बाद चील ने एक रस्सी ली और हाथी के आगे फेंकता हुआ बोला — “देखो देखो, हाथी की सूँड़ कट गयी, देखो हाथी की सूँड़ कट गयी। ”

जानवरों ने उस रस्सी को हाथी की सूँड़ समझा और वहाँ से उलटे पैरों भाग खडे, हुए। उन जानवरों के पीछे पीछे और जानवर भी भाग लिये। लड़ाई का मैदान जानवरों से खाली हो गया। बस फिर क्या था मुर्गा जीत गया और हाथी हार गया।

लड़ाई के बाद मुर्गा अपने घर वापस गया। उसने चील को बुलाया और कहा — “शैफो,, मैं तुम्हें इस लड़ाई में किये गये काम के लिए कुछ इनाम देना चाहता हूँ। वह यह कि आज के बाद जब भी हमारी पत्नियाँ बच्चे देंगी तो तुम एक बच्चा हर परिवार से ले सकते हो यही तुम्हारा इनाम है। ”

clip_image007अक्लमन्दी से काम लेने पर अपने से ज़्यादा ताकतवर दुश्मन को भी हराया जा सकता है इसलिये ताकतवर दुश्मन के सामने ताकत से नहीं बल्कि अक्लमन्दी से ही काम लेना चाहिये। चील ने अक्लमन्दी से काम लिया तो बड़े बड़े जानवरों को भी हरा दिया।


[1] The War Between the Birds and the Beasts (AT 222) – a folktale from Africa


---

सुषमा गुप्ता ने देश विदेश की 1200 से अधिक लोक-कथाओं का संकलन कर उनका हिंदी में अनुवाद प्रस्तुत किया है. कुछ देशों की कथाओं के संकलन का  विवरण यहाँ पर दर्ज है. सुषमा गुप्ता की लोक कथाओं के संकलन में से सैकड़ों लोककथाओं के पठन-पाठन का आनंद आप यहाँ रचनाकार के लोककथा खंड में जाकर उठा सकते हैं.

***

लोककथा 9026899158764139836

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव