370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

लघुकथा // डाँगर // ज्योत्सना सिंह

लघुकथा

डाँगर

ज्योत्सना सिंह

image

शम्भु गोड़ा की साफ़-सफ़ाई कर जानवरों का चारा-पानी करने लगा।

तसला भर-भर सभी जानवरों को देने के बाद बचा खुचा चारा लाल वाली गाय के पास ले चला और दालान में बैठे बापू से बोला।

“बापू! ई ललकई गैया अब डाँगर हो गई है। दूध तो सात कोस लौ नाही दिखाई पर रहा है। कहो तो इका हाँक देई?”

बापू कोई जवाब न दे अपनी सेई-पाली गाय को करुण नेत्रों से निरखने लगे। बापू की चुप्पी को भाँप शम्भु बोला।


“अरे! बापू अब कसाई न काटे पायी। बड़ी सख़्ती है। ऊ देखो रामदीन की ग़ैया को।

नगर-निगम वाले कान में ये बिल्ला पहना देते हैं। जो इनकी सुरक्षा के लिये होवे है।”

समझाते हुए शम्भु ने पिता की सहमति चाही।

जब रोटी खाने बाप-बेटा बैठे तो बापू दूध की कटोरी थाली से खिसका कर कहा।


“बहु! दूध अपनी माई को दे देना।”

और फिर घरवाली को आवाज़ दे बोले।

“बुढ़िया! दूध पी लियो ताकी डाँगर न होये पायो और हाँ,अपने कान के बूँदे भी सम्भाले रहियो। का पता किसका बुलावा पहले आ जाए और मेरे पीछे ये लोग तुझे डाँगर समझ हाँक दें।”

बापू की चुप्पी का जवाब शम्भु को मिल चुका था। और वह ललकई ग़ैया को अगराशन देने उसके खूँटे तक जा पहुँचा।


ज्योत्सना सिंह

गोमती नगर

लखनऊ

लघुकथा 6973510887084236558

एक टिप्पणी भेजें

  1. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन प्लास्टिक मुक्त समाज के संकल्प संग ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव