370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

अभिषेक शुक्ला "सीतापुर" की कविताएँ

image

याराना

प्रेम से भी बड़ा बन्धन,

सुकून आये दोस्ती में।

कभी कृष्णा कभी अर्जुन

याद आये दोस्ती में।

अपनी जिंदगी से

हार थक करके हर इन्सान,

सभी परेशानियां और

गम भूल जाये दोस्ती में।

बना दे जिंदगी सुंदर

निभाओ साथ जब दिल से

यकीन करना बड़ा मुश्किल

दग़ा गर कोई दे फिर से।

दोस्ती है बड़े विश्वास

और एहसास का बन्धन,

निभाओ इसको तुम निःस्वार्थ

हो विश्वास जब दिल से।

मेरे मन के मंदिर में

दोस्ती राज करती है,

मेरे यार की मूरत

ही मन में वास करती है।

मेरे दोस्त और मुझसे

है कुछ ज्यादा ही मीठापन

साथ बस कुछ ही पल का है

ये दुनिया बात करती है।

कर्ण ने दुर्योधन से

निभाया खूब याराना।

रक्त के रिश्तों को तोड़ा

निभाया खूब याराना।

कन्हैया ने तो अर्जुन को

गीता उपदेश दे डाला,

उठा हथियार वचन तोड़ा

निभाया खूब याराना।।


"धरा का भूषण"

"वृक्ष धरा का भूषण कहलाते है,

ये पर्यावरण प्रदूषण मिटाते हैं।

हमें पेड़ पौधे लगाना चाहिए,

पर्यावरण को स्वस्थ बनाना चाहिए।

हमें ये फल,फूल व प्राण वायु देते है,

अपनी छाया से हमारे सारे दुख दर्द हर लेते है।

पेड़ पौधों से ही पृथ्वी सुंदर दिखती है,

हरियाली से ही हमें सुख शांति मिलती है।

जीवन के लिए हमें पर्यावरण को बचाना होगा।

हमें अवश्य ही पेड़ पौधे लगाना होगा।। "

अभिषेक शुक्ला "सीतापुर"


"नेताजी"

*लपेटे में नेताजी*

मेरे देश के नेताओं का अजीब हाल हो गया,

गरीबों के लिए लड़ते लड़ते वो मालामाल हो गया।

चुनाव में हाथ जोड़कर घर घर जाता हैं,

हर किया वादा निभाने की कसम खाता है।

चुनाव जीतने पर वो खुशियां मनाता हैं,

फिर सबको जाति धर्म के नाम पर लड़ाता है।

किये गए सारे वादे वो पल में भूल जाता है,

नेताजी का दर्शन भी दुर्लभ हो जाता है।

हमारे देश में पचपन का भी युवा नेता कहलाता है,

देश का युवा पढ़ लिखकर भी

बेरोजगार रह जाता है।

अनपढ़ बन नेता अपना काम चलाता हैं,

अधिकारियों पर भी खूब रौब जामाता हैं।

दिन रात वो दौलत शोहरत कमाता है,

पांच साल बाद उसे जनता का होश आता है।


#व्यंग्य

रण बांकुरों को नमन

" देशहित में जो प्राण हते, वही माई का लाल हैं।

सीमा पर करे सुरक्षा,जागे दिन हर रात है।

उन सपूतों को वन्दन करता,मेरा देश महान है।

उन्हीं के कारण हम है सुरक्षित, उन्हीं से अपना मान है।

सर्दी,गर्मी ,बारिश में भी वो हमेशा तैनात है।

और हर हाल दुश्मन को देता मात है।

उन रण बांकुरों को अभिषेक दिल से करता सम्मान है।

उन्हीं से पावन धरा का पल पल बढ़ता मान है। "



क्षेत्रपाल

" सूखी धरती की देख दरारें,

भृकुटी पर बन गयी मेरी धराये।

नित नवीन चिंता में रहता हूँ,

सब सहता हूँ चुप रहता हूँ।

सलिल की एक बूंद की खातिर,

नित मेघों को निहारता रहता हूँ।

समझ बिछौना वसुंधरा को,

अम्बर के नीचे रहता हूँ।

रज की खुशबू धर ललाट,

मैं चन्दन तिलक समझता हूँ।

धरती का सीना चीर मैं उसमें फ़सल उगाता हूँ,

अपने स्वेद से सींच उसे मैं जीवंत बनाता हूँ,

यूँ ही नहीं मैं धरापुत्र, क्षेत्रपाल कहलाता हूँ।।


ये चाँद तू बता

ये चाँद तू बता इतनी दूर क्यों बसता है,

तू तो सबके दिलों की धड़कनों में रहता है।

कोई तुझे देखे बिना ईद न मना पाये,

कोई तेरे दीदार बिना व्रत न पूर्ण कर पाये।

सब तुझसे अमन शांति की कामना करते हैं,

सब तुझ सा प्यारा साथी पाने को आह भरते हैं।

प्रेमी अपनी प्रेयसी में तेरा दीदार करते हैं,

कवि तुझ पर अपना काव्य रचते हैं।

तू तो सितारों बीच आसमान में बसता है,

तुझको धरती से ये "अभिषेक" नमन करता है।

तुझको पाने को कन्हैया का भी मन मचलता है।

ये चाँद तू बता तू इतनी दूर क्यों बसता है।


*अभिषेक शुक्ला "सीतापुर"

शिक्षक व सहित्य साधक

कविता 4699891257727002684

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव