कल्पना मिश्रा की लघुकथा - मुर्दाघर

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

लघुकथा

मुर्दाघर

कल्पना मिश्रा

image

******

अब कल सुबह ही पोस्टमार्टम होगा ,तो देर रात एक एक करके मुर्दाघर में दो औरतों के शव रखकर पीउन चला गया।

"हाय,आह्ह.." तभी एक शव के मुँह से कराह निकली...

"क्या हुआ..तुम इतना ज़्यादा जली कैसे ..?"  बूढ़ी औरत के शव ने कहा।

"मेरे पति और सास ने जलाकर मार दिया। दहेज़ नहीं ला पाई थी..इसीलिए। जिस पति को सर्वस्व न्योछावर कर दिया, उसी ने....? आह..आग की जलन से ज़्यादा मन जल रहा है। और सास इतनी बुरी क्यों होती हैं? मैं भी तो किसी की बेटी थी, उन्हें तरस भी नही आया?"... कहते हुए उसका गला भर आया।

"और आप..?"

"दम घुटने से..."

"कैसे?"

"बहू बेटे ने तकिया मुँह के ऊपर रखकर दबा दिया था। प्रापर्टी पाने के लिये.." गहरी साँस लेते हुए उन्होंने आँखें बंद कर ली।

--

कल्पना मिश्रा

15/74-75,सिविल लाइंस

कानपुर

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "कल्पना मिश्रा की लघुकथा - मुर्दाघर"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.