370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

बाल कहानी // वचन // सार्थक देवांगन

एक गांव में एक लड़का रहता था। उसका नाम श्याम था। वह पढ़ने में अच्छा नहीं था। फिर भी वह चाहता था कि वैज्ञानिक बने लेकिन वह अपने कक्षा में हमेशा पीछे रहता था। एक बार उसने रात को सपने में देखा कि वह वैज्ञानिक बन गया। सुबह उठते ही अपने मित्रों को जैसे ही बताया , तो वे सब हंसने लगे और मजाक उड़ाते कहने लगे कि तू बस सपने देख , पढ़ने का काम तेरा नहीं है। वह बहुत रोने लगा। दूसरे दिन उसका परीक्षा परिणाम आने वाला था। वह रात भर बेचैन रहा , ठीक से सो नहीं सका। आखिर वही हुआ जिसका। वह फेल हो गया। दोस्तों को मुंह दिखाने के काबिल नहीं रह गया। उसकी मां ने उसे बहुत समझाया। इस बार उसने बहुत अच्छा करने की ठान ली। उसे अपने मेहनत पर भरोसा था कि वह एक दिन सफल इंसान बनेगा और गांव का नाम रोशन करेगा। दूसरी तरफ उसके पिताजी को उससे बहुत उम्मीद नहीं थी इसलिए पिताजी ने उसके लिए दुकान खोलने का निर्णय ले लिया और उसके लिये पैसे जमा करना शुरू कर दिया।

वह इसलिए वैज्ञानिक बनना चाहता था क्योंकि उसकी मां बीमार रहती थी। वह चल नहीं पाती थी , ना कुछ काम कर पाती थी। वह हरेक दिन अपनी मां के बारे में सोचता था। वह किसी भी तरह अपनी मां के तकलीफ को दूर करना चाहता था। एक तरफ पढ़ाई का बोझ , दूसरी तरफ मां को फिर से खड़ा कर देने की जिद थी। वह कोई ऐसा गजेट बनाना चाहता था जो उसकी मां के काम में मदद करे। एक तरफ उसकी मां की परेशानी दिनोंदिन बढ़ती जा रही थी दूसरी ओर श्याम की चिंता। वह मेहनत तो काफी कर रहा था पर पुस्तकीय ज्ञान प्राप्त करने के लिए नहीं बल्कि कुछ नया कर गुजरने के लिए। एक दिन उसे रोबोट और उसके कार्यप्रणाली के संबंध में जानकारी देने वाली किताब मिल गई। उसने अपनी मेहनत से रोबोट बना लिया। उसकी मां की काम करने की तकलीफ तो दूर हो गई परंतु , शारीरिक समस्या कम नहीं हुई।

वह अभी भी परेशान था , वह अपनी मां की शारीरिक समस्या दूर करने के लिए दिन भर सोचता रहता , लेकिन वह कुछ कर नहीं पा रहा था दूसरी ओर उसकी मां की परेशानी और बढ़ती जा रही थी। वह देखकर भी कुछ नहीं कर पा रहा था और बेचैन रहता था। मां दिनोंदिन कमजोर होती जा रही थी। एक दिन उसकी मां ने श्याम को अपने पास बुलाकर कहा – बेटा , अब तू बड़ा हो गया है , अपने पैरों पर खड़ा होने का दिन आ गया है , तू जल्दी से अपने पैरों पर खड़ा हो जा ताकि मैं सुकून से मर सकूं। मां श्याम को पकड़कर रोने लगी। श्याम ने कहा – मां मैं , जब तक तुम्हें अपने पैर पर खड़ा नहीं कर लेता तब तक , और कुछ सोच नहीं सकता। मां ने बताया – अब मेरे जाने के दिन बहुत करीब है बेटा , तुम अपनी मां को कुछ देना चाहते हो तो सिर्फ यही करो कि , तुम कोई ऐसा गजेट बना दो ताकि , कोई तुम्हारी मां की तरह परेशान होकर न मरे। श्याम के हां कहते ही , मां ने दम तोड़ दिया। श्याम के पिता ने श्याम को काम धंधा करने के लिए खूब समझाया , किंतु श्याम मां को दिये वचन को पूरा करने के लिये जी जान से जुट गया। उसने खूब पढ़ाई की , डाक्टर बन गया और हड्डी रोग पर रिसर्च करने लगा। उसने पैर की हड्डी में होने वाली तकलीफों के कारणों को पता लगाया। इस तरह की बीमारी से बचने का उपाय खोज , किताबें लिख डाली। उसकी किताबों ने मेडिकल क्षेत्र में खूब नाम कमाया। उसके खोज के कारण दुनिया में पैरों की तकलीफ की बीमारी कम होती चली गई। उसे नोबल पुरस्कार मिला। पुरस्कार लेते समय किसी ने उसकी निजी जिंदगी के बारे में पूछ दिया। उसकी आंखों के सामने मां आ गई , उसकी आंख से आंसू बहने लगे। वह अपनी मां को दिये वचन को पूरा करने में कामयाब हो गया। दुनिया के कई लोग उसकी वजह से सफलता पूर्वक खड़े थे। उसे पुरस्कार से अधिक इसी बात की खुशी थी।

सार्थक देवांगन

सातवीं , के.वि. रायपुर

बालकथा 4903797663593500508

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव