रु. 25,000+ के  नाका लघुकथा पुरस्कार हेतु रचनाएँ आमंत्रित.

अधिक जानकारी के लिए यहाँ http://www.rachanakar.org/2018/10/2019.html देखें.

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

साहित्यकारों से आत्मीय संबंध (पत्रावली / संस्मरणिका) भाग - 4 // डॉ. महेन्द्र भटनागर

साझा करें:

. साहित्यकारों से आत्मीय संबंध (पत्रावली/संस्मरणिका) डॉ. महेंद्र भटनागर द्वि-भाषिक कवि / हिन्दी और अंग्रेज़ी        (परिचय के लिए भाग 1 में य...

.

image

साहित्यकारों से आत्मीय संबंध

(पत्रावली/संस्मरणिका)

डॉ. महेंद्र भटनागर

द्वि-भाषिक कवि / हिन्दी और अंग्रेज़ी

image

       (परिचय के लिए भाग 1 में यहाँ देखें)

--

भाग 1 || भाग 2 || भाग 3 ||


भाग 4


श्रद्धेयउदयराजसिंह

‘नई धारा’ (पटना) के स्वामी एवं सम्पादक, लब्ध-प्रतिष्ठ कथाकार श्री. उदयराज सिंह से अपनी घनिष्ठता को एक वरदान मानता हूँ।

‘नई धारा’ में मैंने पर्याप्त लिखा; मेरे साहित्यिक कर्तृत्व पर भी ‘नई धारा’ में पर्याप्त छपा। बिहार के साहित्यिक क्षेत्र में मेरी बहुत-कुछ पहचान ‘नई धारा’ के माध्यम से बनी। वैसे तो ‘नई धारा’ सम्पूर्ण देश में जाती है और सम्पूर्ण देश के हिन्दी-रचनाकार उससे जुड़े हुए हैं। उदयराज सिंह जी से मेरा पत्राचार बराबर रहा। उन्होंने सदैव मेरे लेखन में रुचि ली।

जैसा कि कहा जाता है - सच्चा मित्र वह है; जो आवश्यकता पड़ने पर काम आये। श्री उदयराज सिंह जी इस उक्ति पर खरे उतरते हैं। मुसीबत में उनका भरपूर सहयोग मुझे प्राप्त हुआ।

मेरे ज्येष्ठ पुत्र डा. अजय कुमार का एक कानूनी झंझट था। मुंगेर-कोर्ट में। अतः मुझे भी बेटे के साथ एकाधिक बार पटना-मुंगेर जाना पड़ा; समय - सेवानिवृत्ति के बाद का। मुंगेर दूर पड़ता था, जाना-रहना असुविधाजनक था। अतः हम वाद-प्रकरण को पटना उच्च-न्यायालय में ले आये।

एक बार, पटना में, श्री उदयराज सिंह जी के निवास, बोरिंग रोड, पर ठहरे। उनकी आत्मीयता, उनका आतिथ्य अविस्मरणीय है। विपक्ष से मिल कर, प्रकरण निपटाने हेतु पटना गया था। विपक्ष के लोग वहाँ आये - समूह में; और फूहड़ आक्रोश का प्रदर्शन किया। बात बनी नहीं। वार्ता बिना ग्वालियर लौट आना पड़ा।

[post_ads]

इस प्रसंग में, पटना-मुंगेर के अनेक मित्र मेरे साथ रहे। पटना के डा. रामप्यारे तिवारी अनुज की तरह हर बार साथ रहे। उन्होंने अपने मित्रों के सहयोग से ‘पटना विश्वविद्यालय’ से शोध-प्रबन्ध परीक्षण-हेतु भिजवाए; इस प्रकार, मौखिकी के बहाने भी पटना-यात्रा कर सका। डा. शोभाकान्त मिश्र से परिचय व संबंध उनके माध्यम से सम्भव हुआ। भागलपुर के डा. तपेश्वरनाथ प्रसाद जी ने मुंगेर में एडवोकेट का प्रबन्ध किया। मुंगेर के युवा कहानीकार-ग़ज़ल-गो श्री अनिरुद्ध सिन्हा के सहयोग से बड़ा घरेलू वातावरण-परिवेश प्राप्त हुआ। शुरू-शुरू में सुरक्षा-भावना का ध्यान रख कर, मुंगेर में उन्हीं के यहाँ हम ठहरे; बाद में होटलों में। श्री अनिरुद्ध सिन्हा मुंगेर कोर्ट में सेवा-रत हैं। उनके कारण दुश्चिन्ताएँ दूर हुईं। गया के मित्र डा. वासुदेवनन्दन प्रसाद जी तो हर बार लिखते रहे कि मैं गया होता हुआ उनके साथ पटना जाऊँ। दो-बार उनकी बहन के निवास पर श्रीकृष्णपुरी, पटना ठहरा भी। प्रस्तुत आलेख में चूँकि मुंगेर-पटना कोर्ट-प्रसंग आया; अतः इस स्थल पर, प्रकारान्तर से सही, सहयोगी-मित्रों के प्रति अपनी कृतज्ञता व्यक्त करना सुखद लग रहा है। वाद-प्रकरण तो फिर पारस्परिक समझौते से सद्भावनापूर्ण वातावरण में निपट गया। ग़लतफ़हमियों के दुष्परिणाम कभी-कभी बड़ी भयावह शक़्ल ले लेते हैं। वास्तविकता कुछ और ही होती है।

श्रद्धेय उदयराज सिंह जी के दो पत्र उद्धृत हैं; जो मेरे प्रति उनके आन्तरिक भावों के प्रतिबिम्ब तो हैं ही; अप्रत्यक्ष रूप से, उनके भी अनेक गुणों को प्रकाशित करते हैं :

. ‘नई धारा’

शेखपुरा, पटना-14

प्रिय महेंद्र भटनागर साहिब,

ज़माने-दराज़ के बाद आपका पोस्टकार्ड मिला। बड़ी खुशी हुई - मैं तो सोच रहा था कि आहिस्ता-आहिस्ता अब आप अपने पुराने मित्रों को भूल रहे हैं। ख़ैर, आपके ब्रेन की एक सेल में मैं भी जीवित हूँ। वह समालोचना ‘नई धारा’ में अवश्य छपेगी। साफ़ प्रति भेजेंगे। आपकी पुस्तकों की प्रतीक्षा रहेगी। यह बड़ी प्रसन्नता की बात है कि आपकी रचनाओं का ‘खमरा’ भी छप रहा है। आप मुझसे काफ़ी छोटे हैं। मैं 76 हूँ-वार्धक्य का खिलौना हो गया हूँ। वह बन्दर की तरह नचा रहा है। हरि इच्छा!

‘जो आके चली जाय वह जवानी देखी, जो आके न जाय वह बुढ़ापा देखा।’

(राजा राधिकारमण के एक भाषण से-‘जिनकी जवानी, उनका ज़माना!’ से-1943)

सानंद होंगे।

भवदीय, उदयराज सिंह


26 जून 2000 को 75वें में प्रवेश कर जाऊंगा। ‘अभिनन्दन-ग्रंथ’ निकालने का ग्वालियर के मित्रों का आग्रह टाल न सका। लेकिन, वित्त-प्रबन्ध के जटिल प्रश्न के कारण कार्य-योजना रुकवानी पड़ी। अच्छे-से-अच्छे रचनाकारों के ‘अमृत-महोत्सव’ नहीं मने! जो पर्याप्त सामग्री एकत्र हुई थी; वह अब डा. रवि रंजन जी (हैदराबाद) के सम्पादन में, पृथक से पुस्तकाकार प्रकाशित है।

(‘डॉ. महेंद्रभटनागर का कवि-व्यक्तित्व’)


श्री. उदयराज सिंह जी ने उत्तर, सम्पादक को न देकर, मुझे दिया :

. सूरजपुरा हाउस, पटना

दि. 7 जुलाई 1999

आदरणीय महेंद्र भटनागर जी,

सप्रेम वंदे। आपके ‘अभिनन्दन-ग्रंथ’ के सम्पादक का पत्र मिला था। मुझे यह जान कर बड़ी प्रसन्नता हुई कि आपकी 75 वीं जयन्ती ख़ूब धूम-धाम से मनाई जा रही है। इस शुभ अवसर पर मैं भी श्रद्धा की एक डली सजा कर लाया हूँ। कृपया स्वीकार करें। आप ‘नई धारा’ के भी पिछले पचास वर्षों से लेखक रहे हैं। हम लोग आपको बड़े आदर तथा प्रेम-भाव से देखते हैं। कृपया मेरी हार्दिक बधाई स्वीकार कीजिए। मैं प्रभु से आपको 125 वर्षों तक जीने की प्रार्थना करता हूँ। उपनिषदों ने मानव की यह आयु निर्धारित की है।

[post_ads_2]

‘तुम ज़िन्दा रहो हज़ार साल और हर साल के दिन हों पचास हज़ार!’

अपनी पत्नी की घातक बीमारी के बाद मैं अभी दिल्ली से उसका शैल्य चिकित्सा करा कर लौटा हूँ। अभी भी वह बहुत पीड़ा में रहती है। डाक्टर कहते हैं कि यह पीड़ा धीरे-धीरे जाएगी। मैं अभी भी मानसिक रूप से पूर्ण स्वस्थ नहीं हो पाया हूँ। सानंद होंगे।

भवदीय, उदय राज सिंह

. सूरजपुरा हाउस, बोरिंग रोड, पटना-800 001

  दि. 1 दिसम्बर 2001

मान्यवर,

मेरी अस्सी वर्ष-पूर्ति पर आपका शुभकामना-संदेश प्राप्त हुआ।

कृपया मेरा आभार स्वीकार करें।

भविष्य में ऐसा ही सम्पर्क बनाए रखेंगे।

क्षमा करेंगे-एक शेर नज़र है :

‘‘मेरी ज़िन्दगी के दुआ चाहने वालो,

हँसी आ रही है, तेरी सादगी पर!’’

सानंद होंगे।

भवदीय, उदय राज सिंह)

अग्रज उदयराज सिंह जी के प्रति श्रद्धावनत हूँ। कहने को बाध्य हूँ, ऐसे आत्मीय, पूर्व-जन्मों के कोटि पुण्यों के फलस्वरूप प्राप्त होते हैं।

.

 

उमेशचंद्रमिश्र (सं. ‘सरस्वती’)

‘सरस्वती’ सम्पादक

उमेशचंद्र मिश्र

यद्यपि इंटर का प्रथम-वर्ष, ‘विक्टोरिया कॉलेज’, ग्वालियर से उत्तीर्ण किया (सत्र 1941-1942); किन्तु द्वितीय-वर्ष (सत्र 1942-1943) ‘माधव महाविद्यालय’, उज्जैन से। बी. ए. करने-हेतु , ‘विक्टोरिया कॉलेज’, ग्वालियर में पुनः प्रवेश लिया ( सत्र 1943-44 और 1944-45)। इन दिनों, अपने बड़े चाचा-चाची के साथ कोतवाली संतर, मुरार-ग्वालियर में रहता था और रोज़ साइकिल से 5-6 मील दूर, मुरार से विक्टोरिया कॉलेज जाता था।

मुरार में जगन्नाथ प्रसाद ‘मिलिन्द’, हरिहरनिवास द्विवेदी, रघुनाथ सिंह चौहान (एक कवि-मित्र), श्रीकृष्ण वार्ष्णेय, नन्नूलाल खंडेलवाल आदि से ख़ूब मिलना-जुलना रहा। ग्वालियर में जगदम्बा प्रसाद त्यागी (सुमधुर गायक गीतकार), रामचंद्र श्रीवास्तव ‘चंद्र’ (कहानीकार / पत्रकार / फिर, हिन्दी-प्रोफ़ेसर); बाद में, अटल बिहारी वाजपेयी, शिवमंगल सिंह ‘सुमन’, रामकुमार चतुर्वेदी ‘चंचल’ आदि से।

प्रारम्भ में, ‘अज्ञात’ उपनाम से एकाधिक रचनाएँ छपीं। एक छोटी-सी कविता ‘विक्टोरिया कॉलेज-पत्रिका’ में छपी थी (सत्र 1941-42); ‘विहान’ में ‘सुख-दुख’ शीर्षक से समाविष्ट है (क्र. 25); तदुपरांत केवल ‘महेन्द्र’ नाम से लिखा। इन्हीं दिनों, ग्वालियर-रियासत के सरकारी पत्र ‘जयाजी प्रताप’ साप्ताहिक में श्री रामचन्द्र श्रीवास्तव ‘चंद्र’ जी ने मेरा एक तथाकथित लघु हास्य-एकांकी ‘चाय’ छापा था; ‘अज्ञात’ या ‘महेन्द्र’ नाम से; जो मैंने अपने पास सुरक्षित नहीं रखा; साधारण कोटि की रचना होने के कारण। मार्च 1944 के ‘विशाल भारत’ (कलकत्ता) में श्री मोहनसिंह सेंगर जी ने एक लघु कविता ‘महेन्द्र’ नाम से छापी; जो ‘हुंकार’शीर्षक से ‘टूटती शृंखलाएँ’ में संगृहीत है-क्र. 27.

इन दिनों, इंडियन प्रेस लि., इलाहाबाद से ‘सरस्वती’ का प्रकाशन हो रहा था। सम्पादक श्री उमेशचंद्र मिश्र थे। उन्हें मैंने अपनी एक कविता प्रकाशनार्थ भेजी। सम्पादक जी ने तुरन्त उत्तर दिया और रचना लौटा दी। उनका पत्र पोस्टकार्ड पर, इस प्रकार है :

The Indian Press, Ltd., Allahabad

14.3.44

प्रियवर,

रचना मिली। यद्यपि सुन्दर है, पर नवयुवकों में निराशा की भावनाओं का प्रचार करना हमारा उद्देश्य नहीं है। अतएव इसे सखेद लौटा रहा हूँ। इस रचना से हमें ज्ञात होता है कि आपके हृदय में कविता का बीज विद्यमान है; फलतः यह आशा करने का हमें पूरा-पूरा अवसर है कि आपकी कोर्ई दूसरी अनुकूल रचना छापने का सौभाग्य हमें अनतिदूर भविष्य में ही प्राप्त हो सकेगा।

आपका,

उ. च. मिश्र

वास्तव में, यह कविता इतनी निराशावादी नहीं थी। फिर भी, मैंने तत्काल इसमें कुछ परिवर्तन किए और उसमें अभिव्यक्त नैराश्य-भावों को दूर करने की चेष्टा की। कविता का मूल-प्रारूप अब न सुरक्षित है; न याद है। प्रथम पंक्ति ज़रूर निराशावादी थी :

घोर निराशा में जीवन की, पल-पल घुलना सीख रहा हूँ!

और भी कुछ निराशा-पूर्ण रहा होगा। प्रथम पंक्ति को यों बदल दिया :

आशा में, घोर निराशा को आज बदलना सीख रहा हूँ!

कुछ और भी परिवर्तन किये होंगे। यह कविता ‘अंतराल’ कविता-संग्रह में ‘साधना’ शीर्षक से समाविष्ट है-क्र. 32.

इतना सब लिखने-बताने का उद्देश्य यही है कि एक समय था, जब हिन्दी-पत्रकारिता; विशेष रूप से साहित्यिक पत्रकारिता, कितनी उत्तरदायित्वपूर्ण थी। सम्पादक नये रचनाकारों की ओर पूरा-पूरा ध्यान देते थे। उन्हें प्रोत्साहित करते थे। श्री उमेशचंद्र मिश्र जी ने अस्वीकृति प्रेषित की; किन्तु मैं उससे निराश नहीं हुआ; वरन् मुझे उनके पत्र से बल मिला। निराशावादी दृष्टिकोण बदला। मेरी काव्य-रचना में जो आशावाद, आस्था और विश्वास समाया हुआ है; उसकी भूमिका में श्री उमेशवंद्र मिश्र जी का यह पत्र कहीं-न-कहीं है ज़रूर! आश्चर्य है, मैंने फिर ‘सरस्वती’ पत्रिका में अपनी अन्य कविताएँ प्रकाशनार्थ क्यों नहीं भेजीं! जीवन में न जाने कितने सुअवसर मैंने गँवाएँ हैं।!

.

चेकगणराज्यकेहिन्दीकवि

मित्रडा. ओडोलेनस्मेकल

सोवियत-संघ, चीन, जर्मनी, दक्षिण कोरिया और चेकोस्लोवेकिया के हिन्दी-साहित्य प्रेमियों से सम्पर्क में आया; किन्तु सर्वाधिक निकटता मात्र चेकोस्लोवेकिया के

डा. ओडोलेन स्मेकल से रही। यह एक संयोग मात्र है कि सर्वप्रथम किसी विदेशी विद्वान/लेखक से यदि परिचय हुआ तो वह डा. ओडोलेन स्मेकल से। उनसे प्रथम सम्पर्क भी अपने में विशिष्ट रहा। भारत में प्रकाशित होने वाली साहित्यिक पत्रिकाएँ विदेशों में भी जाती हैं। साहित्यिक पत्रिकाओं में नये प्रकाशनों की समीक्षाएँ प्रकाशित होती हैं; जिनमें लेखक का पता तो नहीं, प्रकशक का पता रहता है। डा. स्मेकल ने किसी पत्रिका, सम्भवतः ‘नया पथ’ (लखनऊ) में मेरे रेखाचित्र/लघुकथा संग्रह ‘लड़खड़ाते क़दम’ की समीक्षा देखी-पढ़ी होगी। ‘लड़खड़ाते क़दम’ के प्रकाशक ‘स्वरूप ब्रदर्स’, खजूरी बाज़ार, इंदौर के माध्यम से उन्होंने मुझसे सम्पर्क किया; पत्र भेजा। ग़नीमत है, प्रकाशक ने यह पत्र मेरे पते पर, पुनर्निर्देशित कर दिया। यों

डा. स्मेकल से मेरा परिचय हुआ और पत्राचार शुरू हुआ। यह परिचय आश्चर्यजनक था; सुखद था।

डा. स्मेकल के प्रारम्भिक पत्र उपलब्ध नहीं। उनका 9 सितम्बर 1955 का पत्र ही, मेरे लिए सुरक्षित प्रथम पत्र है :

. Czechoslovakia

9th Sept.1955

My dear brother Mahendra,

I owe you an apology for my inability to write to you in response to your letter of July 18, 1955. I am writing this letter in English for type-writing facility.

Yes, I am in receipt of your poetry and thank you from the bottom of my heart. I am so enthusiastic about your poems, that I intend to write for our publicity an essay about you in connection with modern


Hindi progressive poetry. For this purpose I should be grateful to you for same articles they have been written perhaps about you in several periodicals. I should like to have also some assistent material and names of main Hindi and Indian progressive poets in your group and a survey of trends in Indian poetry of modern times.

I have just translated some of the new poems you have sent me; when published somewhere, I shall give you notice. A propos, did you get my Czech periodicals of Novy Orient with your poems? It is a great pleasure that one or two poems of yours have been also broadcasted in CSR radio.

You are writing, my dear Indian bother, in last letter that ‘ap se ek zarui kam bhi hai’. What is the matter please? You may rest assured of my fulest co-operation in your effort. I would do all I can in helping you.

I wish you great success in your literary career and remain,

Your Czech brother

Odolen Smekal

I should be also grateful for some details of your own life.


डा. स्मेकल ने Novy Orient’ के जो दो अंक भेजे थे; जिनमें मेरी कविताओं के अनुवाद प्रकाशित हैं; मेरे पास सुरक्षित हैं।

डा. स्मेकल के फिर दो हिन्दी-पत्र रोमन लिपि में टाइप किये, मिले। जिनका नागरी-लिप्यन्तर निम्नांकित है :

. चेकोस्लोवेकिया

दि. 18-10-1956

प्रिय भाई,

आपका 18 सितम्बर ‘56 का पत्र मिल गया था। अनेक - अनेक धन्यवाद। ‘अजन्ता’ नामक मासिक पत्र जिसमें मेरा संक्षिप्त परिचय छापा गया है मुझे नहीं मिला। भेजने के लिए मैं श्री यशपाल जी से प्रार्थना करूंगा। आपको अधिक कष्ट नहीं देना चाहता।

आप चेक भाषा सीखना चाहते हैं यह समाचार पढ़ कर मैं गद्गद हो उठा। इस में आपको भारत स्थित चेक राजदूतावास से सहयोग अवश्य मिलेगा। दो महीने के अन्दर में मेरी ‘हिन्दी पाठ्य-पुस्तक’ निकलेगी; जिसमें बहुत से हिन्दी-वाक्य चेक में अनूदित हैं। आपकी सुविधा व पढ़ने के लिए अवश्य भेज दूंगा। कठिनाई तो आपको


ठीक उच्चारण में होगी। मुझे आशा है कि शायद इस वर्ष अध्ययन के लिए भारत जाऊंगा। फिर आपको स्वयं चेक भाषा पढ़ाऊंगा। यों आपके सहयोग से हम दोनों अपनी भाषाओं में साहित्य से अच्छे अनुवाद कर सकेंगे। ऐसा पक्का विश्वास है कि हमारी मैत्री हमारे सारे जीवन के लिए सुन्दर और लाभदायक होगी।

जहाँ तक आपकी कविताओं का प्रश्न है मैं नीचे रूपान्तरों की सूचना दे रहा हूँ। 26 जनवरी को भारतीय स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर हमारी आकाशवाणी में साहित्यिक प्रोग्राम में आपकी कविताएँ प्रसारित होंगी। इस आध घंटे वाले प्रोग्राम में कुछ और भारतीय कविताएँ शामिल होंगी, लेकन सब मेरे अनुवाद में।

आधुनिक हिन्दी कविता का प्रतिनिधि संकलन हम को समयाभाव से अनिश्चित काल के लिए स्थगित करना होगा।

अब मैं आपकी नयी कविताओं की राह देख रहा हूँ। अब तक अनूदित कविताओं की सूचना यह है :

हिम्मत न हारो!, काटो धान, बिजलियाँ गिरने नहीं देंगे!, झुकना होगा, गाओ गान, दीप, चुनौती, परिवर्तन, एकाकीपन, बदलता युग, धरती की पुकार, परिवर्तन हो, खेतिहर, खेतों में, अभियान, मशाल, री हवा!, घटाएँ, दीपक, आज तो, नया प्रकाश, जीवन-पथ के राही से, मनुष्य जीवन, पतझड़ और वसंत, तुम्हारी याद, मिटाते चलो, दमित नारी, हम एक हैं, युद्ध-क्षेत्र पर, सोओ नहीं!, मेरे देश में।

यदि हलेक की कविता छपी हो तो कृपया भेजने का कष्ट करें। आशा है आप और आपकी पत्नी स्वस्थ व कुशल हैं।

आपका ही भाई,

ओडोलेन स्मेकल

डा. स्मेकल का संक्षिप्त परिचय लिख कर ‘अजन्ता’ (हैदराबाद) मासिक को भेजा था। जो अगस्त 1956 के अंक में छपा था। डा. स्मेकल-द्वारा तैयार की गयी ‘हिन्दी पाठ्य पुस्तक’ की साक्लोस्टाइल हुई प्रति प्राप्त हुई थी; जिसमें मेरी कविता की कुछ पंक्तियाँ भी मुद्रित थीं। डा. स्मेकल ने चेक भाषा में अनुवाद तो मेरी अनेक कविताओं के किये; किन्तु वे पुस्तकाकार प्रकाशित नहीं हो सके।

रोमन लिपि में टाइप किया हुआ दूसरा पत्र इस प्रकार है :

. प्राहा

दि.11-3-57

प्रिय भाई,

एक युग के पश्चात आज मुझे आपको पत्र लिखने का अवसर मिला। आपका पत्र तदुपरांत आपकी भेजी पत्रिकाएँ, कविता-संग्रह और निबंध यथासमय प्राप्त हुए। मैं सब कुछ के लिए आपका बहुत ही कृतज्ञ हूँ। मुझे दुःख है कि कार्य-भार के कारण आपको पहले यथावत् न लिख सका, आपको नियमित रूप से और बिना विलम्ब के उत्तर दे नहीं सका। आजकल बहुत सी बातें योग्य सेवा से आपको सूचित करना चाहूंगा।

आपके सब साहित्यिक निबंध पढ़ डाले। आपके निबंध जो प्रगतिशील दृष्टिकोण से लिखे हैं मेरी हिन्दी-साहित्य की जानकारी बढ़ाने के लिए बड़े सहायक हुए। ‘दिव्या’ पर यह पुस्तक अत्यंत शिक्षाप्रद और विद्यार्थियों के लिए मेरे विचार में इस प्रकार के लेख की बड़ी आवश्यकता है। यह तो वयस्कों के ज्ञान-वर्द्धन के लिए भी बहुत ही उपयुक्त पुस्तिका हो सकती है। आपकी भेजी हुई कविताओं में से मैं अब तक केवल दो कविताओं का अनुवाद कर सका हूँ-‘हिम्मत न हारो’/‘विश्वास’। इतनी कम नहीं कि वे मुझे पसंद नहीं आयीं; प्रत्युत आपकी कविताएँ मुझे बड़ी रुचिकर जान पड़ती हैं और उन्हें पढ़ने और अनुवाद करने में मैं सदा प्रसन्नता प्राप्त कर रहा हूँ; प्रत्युत किसी और प्रकार के कार्य में लगे रहने के कारण उनके अनुवाद करने की सम्भावना नहीं मिली।

भारतीय स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर आपकी कविता ‘काटो धान’ जनवरी मास की 24 तारीख़ को चेक आकाशवाणी में प्रसारित हुई। उसकी प्रशंसा मेरे मित्रों ने खूब की। वह उन्हें सारे प्रोग्राम से सबसे अच्छी लगी।

यद्यपि मैं ऐसा दीर्घ काल मौन रहा फिर भी हिन्दी और आपकी कविता और प्रकाशित करने की सम्भावना ध्यान में ही रही। इस बीच के समय में मैंने आपकी उत्तम कविताओं का अनुवाद एक हमारे प्रकाशन मंडल को प्रकाशित करने का प्रस्ताव दिया। मुझे कहा गया कि भारत जैसे महान् देश की केवल एक ही कवि की कविता पुस्तक रूप में छापना असम्भव है। इसलिए मैंने हिन्दी कविता का प्रतिनिधि संकलन प्रकाशित करने का सुझाव दिया। इस विषय पर अभी कार्रवाई हो रही है। किन्तु सभी लक्ष्यों से प्रतीत हो रहा है कि मेरा यह प्रस्ताव स्वीकृत होगा। आप यदि इस काम में मेरी सहायता कर सकें तो हिन्दी कविता की उत्तम रचनाओं के चुनाव में आप सहायक हों और उपयुक्त सामग्री काफ़ी सोच-समझ कर भिजवाने की कृपा करें।

यों समझिए, जो बात अब निश्चित हुई है वह यह कि भारतीय लोक-कथाओं की दो पुस्तकें मेरे अनुवाद में भविष्य में दो वर्षों में प्रकाशित होंगी। अब इसी कार्य में लगा हूँ। मैं न केवल उनके अनुवाद करने में रत हूँ लेकिन जो सबसे दुखमय बात है कि मेरे हाथ काफ़ी उपयुक्त लोक साहित्य संबंधी सामग्री मिलती नहीं। मुझे बहुत से भारतीय मित्रों के यहाँ यह लोक साहित्य प्राप्त करने के लिए प्रार्थना चिट्ठियाँ भेजनी पड़ती हैं। यह विशाल पत्र-व्यवहार मेरा बहुत-सा समय जो मेरे लिए इतना बहुमूल्य है कूड़ा रहा है। पुस्तकों का अभाव मैं कैसे पार कर सकूँ? मेरे कार्य में यह सबसे बड़ी कठिनाई और बाधा है; जिनका कड़ा सामना मुझे करना पड़ता है। परन्तु मैंने निश्चय किया कि भारतीय लोक कथाओं की दो पुस्तकें और लोक गीतों की एक पुस्तक प्रकाशनार्थ प्रस्तुत कर दूंगा। और मेरा यह निश्चय अटल है। मेरी पूर्ण आशा है कि इस कार्य में मेरी साधना सफल होगी; क्योंकि भारतीय लोक साहित्य का क्षेत्र हमारे देश में सर्वथा अज्ञात है और इस में भारत की इतनी उत्कृष्ट निधि है। इस अभाव की पूर्ति शीघ्र ही करनी चाहिए।

एक दूसरा कार्य मेरे सामने है। मेरी इच्छा है कि मेरे देश की लोक कथाएँ भी भारतीय जनता को उपलब्ध हो सकें। इस कारण प्रायः तीन मास हुए ‘बाल भारती’ सम्पादक मंडल को दो-तीन कथाओं का अनुवाद भेज दिया था। अभी तक कोई उत्तर नहीं मिला। दूसरी लोक कथाएँ मैंने ‘कहानी’ सम्पादक श्रीपतराय जी को भेज दी थीं। परिणाम यही रहा। इस लिए मैंने सब प्रकार के अनुवाद आपके सहयोग के साथ करने की ठान ली। यदि आपको कोई आपत्ति नहीं है तो भविष्य के लिए मैं आपको ऐसा नम्र सुझाव प्रस्तुत कर रहा हूँ कि हम दोनों मिल कर चेक लोक कथाओं का हिन्दी में अनुवाद प्रकाशनार्थ तैयार करें। क्या भारतीय प्रकाशकों को इसमें अभिरुचि है? इस पर आपका क्या विचार है? कृपया सूचित कर दें।

इस बात से कुछ और प्रश्न संबंधित हैं। वह आपका चेक भाषा सीखने का प्रश्न। उत्तम होता यदि आप चेक भाषा जानें और हमारे साहित्य की कुछ आदर्श रचनाएँ अपनी भाषा में रूपान्तरित कर सकें। इस विषय में जो सहायता मुझसे हो सकेगी वह करने का प्रयत्न करूंगा। क्या आप अभी उसे सीखने की अभिलाषा है? अधिकतर एक सप्ताह में मेरी हिन्दी पाठ्य-पुस्तक निकलेगी। उसके निकलने बाद तुरन्त ही आप की सेवा के लिए एक प्रति भेजनी होगी। साथ ही साथ यह आप पर लिखी समीक्षा सामग्री और कई चेक लोक कथाओं का अनुवाद भेज दूंगा। उसी हिन्दी पाठ्य-पुस्तक से आप कुछ न कुछ चेक पढ़ सकेंगे। मुझे चेक-हिन्दी वार्तालाप प्रस्तुत करने की इच्छा है। अनेक भारतीय सज्जन पत्रों के माध्यम से चेक भाषा सीखने के इच्छुक हैं और उनको सिखाने का अनुरोध करते हैं। मैं यह काम किस प्रकार करूँ? यदि चेक-हिन्दी वार्तालाप एवं व्याकरण की पुस्तक रूप में भारत में प्रकाशन की सम्भावना हो तो उसे तैयार करने का प्रयत्न करूंगा। कृपया इस विषय पर भी अपने बहुमूल्य विचार जानने का अवसर दें।

आजकल मैंने आपको बहुत सी सूचनाएँ लिख दीं। आशा है आप प्रसन्न हैं। यद्यपि हमारे पत्र-व्यवहार की गति विशेषकर मेरी ओर से बड़ी मंद हो रही है। मुझे बहुधा उसका प्रायश्चित हो रहा है। फिर भी मेरा पूर्ण विश्वास है कि आप मेरी कठिनाइयाँ और समयाभाव समझते हैं। हो न हो हमारी आप से आत्मीयता पक्की हुई है। हमारे सामने सारा जीवन लगा रहता है, सब हमारे कार्य, साधनाएँ और अभिलाषाएँ भी। हम दोनों कुछ ऐसा परस्पर कार्यक्रम बना लें कि हमें भविष्य में हमारे दो देशों के सांस्कृतिक क्षेत्र में क्या क्या करने की इच्छा है और क्या क्या करना आवश्यक है, ताकि हमारे दो देशों की मित्रता और आपसी संबंध अधिक दृढ़ हो जाएँ। मैं अपने कुछ और प्रस्ताव और भावनाएँ अगले पत्र के लिए स्थगित कर रहा हूँ। आशा है, आप सपत्नीक स्वस्थ व प्रसन्न हैं। योग्य सेवा से लिखें कि कृपा करें। मैं कुछ ही दिनों में अपको वह उपरोक्त पाठ्य-पुस्तक भेज दूंगा। साथ ही मेरा निज चित्र / फोटो। हिन्दी पत्रिकाओं के लिए विभिन्न प्रकार के चेकोस्लोवेक संस्कृति के विषय पर हिन्दी लेख प्रस्तुत कर रहा हूँ। यह भी आपको क्रमशः भेज दूंगा। शेष फिर। मेरी शुभकामनाएँ आपके साथ हैं।

आपका भाई,

ओडोलेन स्मेकल

इस पत्र में, चेक - रेडियो से, 24 जनवरी 1957 को प्रसारित, ‘काटो धान’ के चेक-अनुवाद की सूचना विशिष्ट है। डा. स्मेकल ने पाँच संक्षिप्त लोक-कथाओं (‘हाँडी पका’, ‘एक गर्वीली कुमारी’, ‘कथा छोटी क्यों है’, ‘कुत्ते के बारे में’ और ‘पटरियाँ भी थक जाती हैं’) के हिन्दी-रूपान्तर मुझे भेजे थे; जिनकी भाषा शुद्ध करके मैंने श्री चिरंजीत-द्वारा सम्पादित ‘मधुकर’ के दिसम्बर 1957 के अंक में प्रकाशित करवाए।

मार्च 1959 में, डा. स्मेकल का एक पोस्टकार्ड मिला :

प्रियवर भाई,

स्नेह अभिवादन। दीर्घकालीन मौन के लिए सविनय क्षमा चाहता हूँ। मार्च में 20वीं तिथि को भारत का तीन मासिक भ्रमण करने जा रहा हूँ। आपसे, मेरे प्रिय कवि और मित्र से मिलने को अत्यंत उत्सुक हूँ। कैसे? कब? कहाँ? परामर्श दें। कृपया मुझे चेक दूतावास के पते पर दिल्ली में सूचित करें। कोई 22-29 तक बम्बई में रहूंगा, फिर दिल्ली के लिए प्रस्थान कर दूंगा (विमान पथ से)। बम्बई का पता :

O.S.k~ èk~ Sion, Matunga Estate, Plot 16, Bombay

समस्त प्रेम और सद्भावनाओं सहित -

आपका,

ओडोलेन स्मेकल

मिलने की इच्छा तो मेरी भी कोई कम न थी; किन्तु दिल्ली जाकर उनसे मिलना कठिन था। खेद है, भेंट न हो सकी।

फ़रवरी 1962 में डा. स्मेकल न,े ‘बातचीत’ की जिस पुस्तक के संशोधन का प्रस्ताव रखा था; वह आगे चल कर मुझे प्राप्त हुई। उसमें काफ़ी संशोधन भी मैंने किये; किन्तु पूर्ण रूप से उसे मैं व्यवस्थित नहीं कर सका। हाँ, डा. स्मेकल यदि समक्ष होते तो अवश्य यह कार्य सम्पन्न हो जाता। आंशिक संशोधनों वाली पाण्डुलिपि मैंने प्रकाशक को लौटा दी। प्रकाशक ने न पारिश्रमिक भेजा; न मैंने माँगा। अपूर्ण कार्य


का क्या पारिश्रमिक! सम्मति-पत्र भेजा ज़रूर होगा; किन्तु जहाँ तक याद आता है - प्रकाशन-संबंधी ‘हरी झंडी’ प्रकाशक को नहीं दी; क्योंकि पाण्डुलिपि में कुछ और संशोधन शेष थे। डा. स्मेकल को दुःख तो हुआ। संबंधित पत्र इस प्रकार है :

. Praha-Prague

dated : 16.2.62

प्रिय भाई,

बहुत दिनों के बाद आपके समाचार मिले। आपका पत्र पढ़ कर बड़ा प्रसन्न हुआ। मुझे भारत से लौट आये दो वर्ष बीत चुके हैं। पिछले वर्ष मेरी बिटिया ‘इन्दिरा’ का जन्म हुआ। अब हम सपत्नीक संतुष्ट हैं। आप भी अपने घर का कोई शुभ समाचार सुनाइए।

जहाँ तक मेरे काम की बात है बहुत-कुछ मैंने इस बीच में किया। विद्यार्थियों के लिए हिन्दी साहित्य की रूपरेखा समाप्त कर चुका हूँ। हिन्दी बातचीत की पाठ्य-पुस्तक प्रकाशक को छापने के लिए दे दी। वो तीन भाषाओं की है : हिन्दी, चेक और अंग्रेज़ी। अब प्रकाशक को किसी भारतीय हिन्दी-ज्ञाता की इस के संबंध में सम्मति आवश्यक है। लिखने की कृपा करें। आपको मेरी पाठ्य-पुस्तक एक दम भिजवा दी जाएगी। इस काम के लिए आपको पैसे मिलेंगे।

बहुत दिनों से किसी भी हिन्दी कविता का अनुवाद नहीं किया। कृपया अपनी नई कृतियाँ ज़रूर भेज दें। एक मास के भीतर चारेक चेक कविताएँ अवश्य भेज दूंगा। अब इनकी खोज में हूँ। यही काम मैं आपको भी सौंपता हूँ, मुझे एक भाव की कविताएँ, विशेषकर वैज्ञानिक उपलब्धियों के उल्लास तथा श्रमिक जीवन पर हिन्दी कविताएँ चाहिए। अब साहित्यिक काम और अनुवाद के लिए समय मैंने निकाला है। हमारा पारस्परिक सहयोग दोनों के लिए लाभकारी होगा। आप जल्दी उत्तर देने की कृपा करें। योग्य सेवा लिखें।

आपका,

ओदोलेन स्मेकल

. दि. 1-4-1962 का पत्र।

प्रिय भाई,

आपका पत्र मिला, प्रसन्नता हुई। आपकी इच्छानुसार अपने परिवार का फ़ोटो भेज रहा हूँ। दो मास का पुराना है।

मेरे भारत रहते समय हमारी भेंट न हो सकी इसका खेद आपको न हो। एक तो आशा मुझे है कि भविष्य में फिर से भारत जाने का अवसर मिलेगा, दूसरे मुझे विश्वास है कि कुछ समय बीतकर आप भी हमारे देश आ ही सकेंगे। पहले हम दोनों को कुछ काम करना पड़ेगा। आप कृपया लिख दें कि भारत में हिन्दी के संबंध में इस और अगले वर्ष में कोई महत्त्वपूर्ण सम्मेलन होने वाला है या नहीं जिसमें मैं अपना भाग ले सकूँ। मैं सपरिवार, इसका अर्थ, सपत्नीक भारत जाना चाहता हूँ। लेकिन इसके बारे में फिर।

आज आपको तीन बालोपयोगी कविताएँ भेज रहा हूँ। कवि प्रसिद्ध हैं। अब अगले पत्र में एक भाव की कविताएँ भेजता रहूंगा।

हिन्दी साहित्य की रूपरेखा’ चेक में लिखी है। ‘हिन्दी बातचीत की पाठ्य-पुस्तक’ आपको हमारे दूतावास द्वारा भेजी जाएगी। पुस्तक के चौथे भाग में उद्योग के संबंध में कुछ वाक्य अपूर्ण हैं। आपसे बड़ी प्रार्थना है वाक्यों को पूरा करने की कृपा करें। दूसरी प्रार्थना यह है कि आप जहाँ कहाँ त्रुटियाँ मिलती हैं उन्हें दूर कर दें। आपका बड़ा आभारी रहूंगा। शेष फिर।

आपका भाई,

ओदोलेन स्मेकल

. दि. 10-7-62 का पत्र।

प्रिय भाई,

बहुत दिनों से आपके समाचार नहीं मिले। दो तीन मास की बात होगी मैंने आपको तीन चेक कविताओं सहित एक पत्र भेज दिया था, परन्तु उसका उत्तर प्राप्त नहीं हुआ। कृपया लौटती डाक से आपके हाल की सूचना दीजिए। इस सप्ताह के अंत में छुट्टियों के दो महीने वाले अवकाश के लिए सपरिवार प्रस्थान कर रहा हूँ। आपकी सूचना प्राप्त करने पर आपकी सेवा में दूसरी चेक कविताएँ भेजने का विचार है। मुझे आशा है इन दिनों आपके पास मेरी चेक-अंग्रेज़ी-हिन्दी बातचीत की पाठ्य-पुस्तक, आपकी सम्मति देने के लिए मिलती है। इसके विषय में आपकी क्या राय है? इस संबंध में मेरी आपसे एक बड़ी प्रार्थना है। मेरे वहाँ कुछ वाक्य अपूर्ण रहे। उनका अनुवाद करना मेरे सामर्थ्य से परे है। वाक्य इन्हीं विषयों के हैं : Earth works,Construction, Structure Building Assembly, Metallurgical Works, Machining, Work with hand tools, Assembly, Electro...., Miscellaneous, Accident Prevention.— यह सब चौथे भाग के वाक्य हैं। इन वाक्यों के अनुवाद करने के लिए मैं आपका बहुत आभारी और ऋणी रहूंगा। सारी पुस्तक आप कब वापस दे सकेंगे?

शेष आपका उत्तर आने के बाद। आशा है मौन रहते हुए भी आप सपरिवार स्वस्थ व प्रसन्न हैं। अपने और पुस्तक के बारे में योग्य सेवा लिखें।

आपका चेक भाई,

ओडोलेन स्मेकल

. प्राग-प्रहा

दि. 20-12-62

प्रिय भाई,

आपके दो पत्र दो मास पूर्व मिल गये। उस समय मैं सपरिवार अपनी माताजी के यहाँ छुट्टियों में रहा। कोई 24 सितम्बर को प्राग हम लौट आये लेकिन पढ़ाने से पहले ही मैं बीमार पड़ गया। प्रायः दो मास तक मुझे अस्पताल में रहना पड़ा। सारे शरीर पर त्वचा-रोग फैल गया। अब अस्पताल से लौट कर पढ़ाने लग रहा हूँ। कुछ स्वस्थ हो गया हूँ। आशा है कुछ दिनों में बिल्कुल अच्छा हो जाऊंगा।

जहाँ तक मेरी पाठ्य-पुस्तक की बात है आपने अपनी सम्मति लिख दी भी यह जानने की इच्छा है। प्रकाशक को अभी तक मेरी पाण्डुलिपि नहीं मिल गयी। हो सकता है आपने समयाभाव के कारण पाठ्य-पुस्तक हमारे दूतावास को नहीं दे दी। यह भी संभव है आपने पुस्तक भेज दी थी लेकिन वह अभी तक हमारे देश नहीं पहुँच गयी। कृपया शीघ्र लिखने का कष्ट करें बात कैसी है? हम आपकी सम्मति की प्रतीक्षा में हैं। इस बीच में, मैंने प्रत्येक परिच्छेद के लिए विशिष्ट शब्दावली तैयार की। वह काम पूर्ण हो गया। अब छापने का समय आ गया है।

इसी काम से मेरा भाषा संबंधी कार्य समाप्त हो रहा है। अब से मेरा ध्यान हिन्दी साहित्य पर केन्द्रित रहेगा। अनुसंधान व अनुवाद के लिए अधिक समय रह जाएगा। हिन्दी साहित्य की रूपरेखा प्रकाशित हो चुकी है। आपकी सेवा में इसे भेज दूंगा।

पुस्तक में आपके नाम का उल्लेख और कविता का नमूना भी छप चुका है।

आशा है प्रसन्न होंगे।

इस वर्ष के अंत तक आपको चेक कविता के दूसरे अनुवाद नहीं भेज सकूंगा, लेकिन आगामी वर्ष के प्रारम्भ में आपको निःसंदेह प्राप्त होंगे। कई मास से भाई, आपकी नयी कविताओं की प्रतीक्षा में हूँ। अभी तो कुछ भी नहीं मिल गया। आप तीन महीने से मौन रहे हैं। अपने कुशल मंगल का समाचार दीजिए। मेरी धर्मपत्नी पुत्री इंदिरा के साथ स्वस्थ व प्रसन्न है। हम सब लोग आपके पत्र की राह देख रहे हैं। जल्दी लिखने की कृपा करें। हमारे देश में आपको किसी चीज़ की आवश्यकता हो यह भी लिखना न भूलिए। हम सानंद भेजने की कोशिश करेंगे। शेष फिर। योग्य सेवा लिखें।

आपका भाई,

ओदोलेन स्मेकल

. चेकोस्लोवेकिया

4-5-63

प्रिय भाई,

सप्रेम वंदे। पिछले महीने मुझे पाठ्य-पुस्तक हमारे विदेश मंत्रालय से मिल गयी। पुस्तक में आप द्वारा अनूदित हिन्दी-वाक्यों को पाकर बड़ा हर्ष हुआ है। इसके और वाक्यों के संशोधन के लिए आप मेरा हार्दिक धन्यवाद स्वीकार कीजिए। पर एक बात हमें स्पष्ट नहीं। आपने पुस्तक पर अपनी सम्मति लिख दी या नहीं? न तो पाठ्य-पुस्तक में वह सम्मति-पत्र मिला, न तो प्रकाशक ने डाक से। हो सकता है आपने सम्मति-पत्र लिख दिया, हमारे दूतावास को पुस्तक सहित दे दिया और वह कहीं खो गया। बात यह है कि जब-तक आपकी विस्तारपूर्ण सम्मति प्रकाशक को नहीं मिलेगी, पुस्तक छप नहीं सकेगी। मैं इस बीच में अपनी हस्तलिपि अंतिम बार सावधानी के साथ पढ़ रहा हूँ, और अपनी शक्ति के अनुसार संशोधन कर रहा हूँ। लेकिन वह काम शीघ्र ही पूरा कर दूंगा। आपकी सम्मति मिलते ही प्रकाशक पुस्तक को छापने का आरंभ करेगा। मुझे किसी भी दूतावास पर विश्वास नहीं। यदि आप अपना सम्मति-पत्र प्रकाशक को भेज सकें तो सबसे अच्छा होगा। यदि आपने वह पत्र दूतावास को दे दिया तो दिल्ली में इस विषय में लिखने की कृपा करें। प्रकाशक को यह जानना चाहिए कि पुस्तक कैसी है, उसकी क्या विशेषता, बातचीत कैसी है, पुस्तक छापने योग्य है या नहीं, आप उसके अनुमोदक हैं या नहीं, इत्यादि। आशा है आपको प्रकाशक से अंग्रेज़ी में लिखित प्रार्थाना-पत्र पिछले वर्ष मिल गया था। और कष्ट के लिए क्षमाप्रार्थी हूँ। आपका कविता-संग्रह प्राप्त हुआ, हार्दिक धन्यवाद। पाठ्य-पुस्तक का कार्य समाप्त करने उसके कुछ काव्यों का अनुवाद चेक में कर सकूंगा।

मैं सपत्नीक स्वस्थ हूँ। आशा है आपका और आपकी धर्मपत्नी का स्वास्थ्य भी ठीक है।

आपका भाई,

ओडोलेन स्मेकल



. चेकोस्लोवेकिया - प्राग

20-2-64


प्रिय भाई,

सप्रेम अभिवादन। पिछले वर्ष के आपके दो पत्र (दि.11-3, 7-9-63) प्राप्त हुए। आपकी ‘मधुरिमा’, ‘जिजीविषा’, ‘संतरण’, और ‘टूटती शृंखलाएँ’ नामक पुस्तकें मुझको मिल गयीं। इन सभी चीज़ों के लिए आज जो धन्यवाद देने के लिए बैठ रहा हूँ, इसके लिए मुझे क्षमा प्रदान करें, यही मेरी आपसे बड़ी प्रार्थना है। अनेक कार्यों में संलग्न रहकर मुझसे यह त्र्ुटि हुई। एक बार फिर हृदय से धन्यवाद स्वीकार करें।

आपके अनेक प्रश्नों का उत्तर देने को जा रहा हूँ। पिछले वर्ष में मुझको अनुवाद करने को समय नहीं मिल गया। मुझे पाँच अहिन्दी भारतीय साहित्यों की रूपरेखा प्रकाशनार्थ तैयार करनी थी। इसके अतिरिक्त मैंने प्रेमचंद के ग्राम उपन्यासों पर एक शोध-निबंध लिख दिया था और इन दिनों आधुनिक हिन्दी साहित्य के काल-विभाजन की समस्या को सुलझाने का प्रयत्न कर रहा हूँ। इस वर्ष के दौरान में ‘आधुनिक हिन्दी साहित्य की उद्भव-प्रक्रिया’ नामक अनुसंधान-कार्य पर मेरा ध्यान केन्द्रित रहेगा। साथ-साथ वैज्ञानिक candidate डिग्री प्राप्त करने के लिए इससे संबंधित परीक्षाओं में बैठना चाहूंगा। अतः कार्य अधिक होने के कारण न तो इसी साल में अनुवाद के लिए समय निकाल सकूंगा। आपकी कविताएँ अपने एक छात्र को दे दूंगा जिससे वह उनका अनुवाद करने का प्रयत्न करे। एक दो वर्ष बीतने पर फिर अनुवाद कार्य के लिए समय निकाल सकूंगा। अब मेरे लिए बहुत ज़रूरी है ऊपर लिखित उपाधि प्राप्त करने को।

हिन्दी बातचीत की पुस्तक अभी तक प्रकाशित नहीं हो गई। हमारे देश में देवनागरी लिपि में पुस्तकों के प्रकाशन में बहुत समय लगता है। पुस्तक केवल अगले वर्ष प्रकाशित होने वाली है। बातचीत की पुस्तक का उल्लेख करते हुए मुझे एक बात का बहुत दुःख हो रहा है। आपने पुस्तक में से तीन अध्यायों का संशोधन किया था तथा एक का अनुवाद करके, इसके लिए मैं आपका बड़ा आभारी हूँ। मेरे कार्य के लिए अपना बहुमूल्य समय निकाल कर आपने बहुत कृपा की। आप फिर से मेरा धन्यवाद स्वीकार करें। लेकिन मेरे विचार में पूरे पुस्तक का संशोधन करना था। यह आपके लिए असम्भव था इसमें कोई संदेह नहीं। किसी अपने हिन्दी छात्र को संशोधन के लिए दे देते और वह शोध अध्यायों को ठीक करदे मेरी राय में बहुत अच्छी बात होती। अब मैं बहुत चिन्तित हूँ कि मेरी वह पुस्तक इतनी अच्छी नहीं होगी, जितनी मेरी इच्छा थी। यह बात है। यही तो मेरे दुःख का कारण भी है। अस्तु।


आजकल आप क्या लिख रहे हैं? आपके ‘साहित्यिक निबंध’ मुझको नहीं मिल गये। आशा है दो-तीन वर्ष में भारत जाने का फिर से अवसर मिलेगा। तब हम अवश्य मिलेंगे। मैं सपत्नीक जाने का विचार रखता हूँ। हम इधर संतुष्ट हैं। इन्दिरा और अरुण सानंद हैं। हो सके, आपको नहीं मालूम कि हमारे पुत्र को जन्मे आध वर्ष बीत चुका है।

शेष फिर, आज मैंने बहुत लिख दिया। पत्र दें। आशा है आप सपरिवार स्वस्थ

व प्रसन्न हैं।

आपका चेक भाई

ओडोलेन स्मेकल

सन् 1966 में डा. स्मेकल का पत्नी-सहित भारत़शुभागमन का कार्यक्रम फिर बना :

. प्राग

21-1-1966

परम प्रिय भाई,

सस्नेह नमस्कार। बहुत दिनों से आपके समाचार नहीं मिले। आशा है, आप सपरिवार स्वस्थ व प्रसन्न हैं।

मैं 29/1 को एक मासिक भारत यात्रा पर सपत्नीक जा रहा हूँ। दिल्ली में फ़रवरी का पहला सप्ताह बिताने का कार्यक्रम है, फिर आगरा, ग्वालियर, झाँसी, लखनऊ आदि नगरों में थोड़ी देर ठहरने का विचार है।

इस बार हमको मिलना अवश्य चाहिए। कृपा करके मुझे दिल्ली के पते पर सूचित करे दें यदि यह सम्भव है कि मैं सपत्नीक आपके यहाँ ठहर सकूँ और ग्वालियर घूमने की व्यवस्था भी यदि आप करा सकें। कष्ट के लिए क्षमा-प्रार्थी हूँ। शेष मिलने पर।

आपके जल्दी मिलने की राह देखते हुए-

आपका ही,

ओडोलन स्मेकल

अफ़सोस है, इस बार भी, हम नहीं मिल सके। सन् 1967 के पत्र में

डा. स्मेकल ने भी खेद प्रकट किया :


. प्राहा

8-7-1967

प्रिय भाई,

सप्रेम वंदे। आपका 18-6-67 का कृपा-पत्र प्राप्त हुआ। मुझे अत्यंत हर्ष हुआ है कि हमारा पत्र-व्यवहार फिर चला है और विश्वास है कि भविष्य में चलता रहेगा।

जिस पत्र का आप उल्लेख करते हैं वह मुझे मेरे भारतीय पते पर नहीं मिला था। आपसे भेंट करने की बहुत इच्छा थी, लेकिन मध्य-प्रदेश के लिए मुझे समय

नहीं बच गया। आशा है, दो-तीन वर्ष बाद फिर भारत जाने का सुअवसर मिलेगा, तब केवल राजस्थान तथा मध्य-प्रदेश जाऊंगा।

आपका गीत-संग्रह नेशनल पब्लिशिंग हाउस की ओर से मुझको प्राप्त हुआ, बहुत धन्यवाद। ‘चयनिका’ और Forty Poem+s निश्चय ही भेज दें। आठ-दस वर्ष से मुझे अनुवाद करने के लिए समय नहीं मिला। अब फिर से हिन्दी से रूपान्तर के लिए मैं समय निकाल सकूंगा।

मैंने कई अपने शोध-कार्य समाप्त किये हैं। हिन्दी साहित्य के इतिहास पर, हिन्दी लोक कथाओं पर, हिन्दी भाषा के इतिहास पर, हिन्दी ग्राम उपन्यासों पर इत्यादि। खेद है, मेरी चेक-हिन्दी-अंग्रेज़ी वार्तालाप वाली पाठ्य-पुस्तक अभी तक प्रकाशित नहीं हो गई यद्यपि वह मुद्रणाधीन है। कहते हैं अगले वर्ष निकल जाएगी।

आप हिन्दी-विभागाध्यक्ष बन गये, मेरी मंगल-कामनाएँ स्वीकार करें। महू में कौन-सी हिन्दी पत्रिकाएँ निकलती हैं, इस भू-भाग की लोक-कथाएँ क्या संकलित तथा प्रकाशित हो गईं? कृपा कर इस विषय में समाचार भी दें।

शेष विधिवत् पत्र-व्यवहार में -

आपका भाई,

ओदोलेन स्मेकल

सन् 1975 में भी डा. स्मेकल दिल्ली आये और फिर तो वे भारत में ‘चेक गणराज्य’ के राजदूत बन कर रहे। इधर के पत्र इस प्रकार हैं :

. वाराणसी, 21-1-75

प्रिय भाई,

विश्व हिन्दी सम्मेलन के अवसर पर मैं अब भारत में रह रहा हूँ। 1 फ़रवरी से 15 तक दिल्ली में रहूंगा। फिर बंबई से होकर 20 फरवरी को अपने देश लौट रहा हूँ।

आपके पत्र निरुत्तर रहे, मैं बड़ा पापी हूँ, क्षमाप्रार्थी हूँ। किंतु हम युरोप में अतिव्यस्त रहते हैं। कृपा कर अपना सबसे नया फोटो तथा पिछले चार-पाँच वर्षों की कृतियाँ भेज दें। मैं दिल्ली में जनपथ होटल में रहता हूँ परन्तु विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के नाम पर भेजना अधिक अच्छा होगा।

सस्नेह, सधन्यवाद

आपका चेक बन्धु

ओदोलेन स्मेकल

. चेक गणराज्य का दूतावास

50, एम - नीति मार्ग,

चाणक्यपुरी, नई दिल्ली

मार्च 1993

प्रिय डा. महेंद्र भटनागर जी,

नमस्कार। आपका पत्र प्राप्त हुआ। कार्यालय में हिन्दी टंकण यंत्र और टंकक उपलब्ध न होने के कारण मैं स्वयं ये पत्र हाथ से लिख कर भेज रहा हूँ। राजदूत का कार्यभार सँभालने के पश्चात मैं अति व्यस्त हो गया हूँ। यह जानकर कि आप मार्च के प्रथम सप्ताह में दिल्ली आ रहे हैं, अति प्रसन्नता हुई। आपके दिल्ली आने की प्रतीक्षा करूंगा। मेरा पूर्ण डाक पता इस प्रकार से है।

धन्यवाद।

ओदोलेन स्मेकल

आपका मित्र / प्रभारी राजदूत

सन् 1993 में उनसे मिलने दिल्ली गया भी; किन्तु उनके कार्यालय न जा सका! मात्र फ़ोन पर लम्बी वार्ता की। डा. स्मेकल बहुत प्रसन्न हुए। उन्हें फ़ोन पर मेरी आवाज़ बहुत ही रुचिकर लगी। बातचीत के दौरान बार-बार इसका उल्लेख करते रहे।

उनके एक कविता-संग्रह पर अपना ‘अभिमत’ भी मैंने दिया; जो इस प्रकार है :

‘नमो-नमो भारत माता’

अभिमत

‘नमो-नमोभारतमाता’ कविता-संग्रह के रचयिता चेकोस्लोवेकिया-निवासी, भारत और हिन्दी-प्रेमी एवं प्रसिद्ध भारत विद्या-विद्वान् डा. ओदोलन स्मेकल हैं।

‘नमो-नमो भारत माता’ जैसा कि अभिधान से ही स्पष्ट है; भारत के प्रति अपार प्रेम और श्रद्धा से परिपूर्ण भावोद्गारों का स्तवक है। यह एक विशुद्ध सांस्कृतिक काव्य है। कवि ने भारत का व्यापक भ्रमण किया है। उसकी विभिन्न प्रादेशिक संस्कृतियों और सभ्यताओं का अवलेकन किया है। भारत की विविधता, प्राकृतिक सौन्दर्य, पौराणिक आख्यानों, इतिहास, सांस्कृतिक-धार्मिक केन्द्रों, स्त्री-पुरुषों, प्रेम-गाथाओं, कलाओं आदि के प्रति उसका अद्भुत लगाव इन कविताओं में प्रतिबिम्बित है। भारत देश की महिमा का बखान करते वह अघाता नहीं। एक विदेशी के हृदय में भारत के प्रति इतने सम्मान और प्रेम का पाया जाना विस्मयकारी है। विदेश में जन्म लेने पर भी ओदोलेन स्मेकल का मन और आत्मा भारतीयता के रंग में डूबे हुए हैं। उनकी कविता-सृष्टि प्रांजल और प्रभावी है। भाषा की स्वच्छता भी द्रष्टव्य है।

डा. महेंद्रभटनागर


‘डा. भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय’, आगरा की ‘हिन्दी शोध उपाधि समिति’ का दो-वर्ष ( मार्च 1996 से फ़रवरी 1998) बाह्य विशेषज्ञ सदस्य रहा। पी-एच.डी. हेतु शोध-कार्य करने के विचारार्थ प्रस्तुत एक शोधार्थी का विषय

डा. ओडोलेन स्मेकल के जीवन और साहित्य पर था; जो स्वीकृत किया। एक दिन, इसी शोधार्थी ने सूचित किया कि डा. ओडोलेन स्मेकल दि. 14 जुलाई 1998 को नहीं रहे। भारत से अपने देश वे कब चले गये; पता न चला। उनके निधन का दुखद समाचार पढ़ कर हतप्रभ रह गया। डा. स्मेकल बहुत जल्दी चले गये! उनका जन्म 18 अगस्त 1928 को हुआ था।


.

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

.... प्रायोजक ....

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=blogging$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3843,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,336,ईबुक,192,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2786,कहानी,2116,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,486,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,329,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,50,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,9,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,17,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,834,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,7,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,315,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1921,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,648,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,688,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,55,साहित्यिक गतिविधियाँ,184,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,68,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: साहित्यकारों से आत्मीय संबंध (पत्रावली / संस्मरणिका) भाग - 4 // डॉ. महेन्द्र भटनागर
साहित्यकारों से आत्मीय संबंध (पत्रावली / संस्मरणिका) भाग - 4 // डॉ. महेन्द्र भटनागर
https://lh3.googleusercontent.com/-aNkPNr_fihE/W5Tds197R_I/AAAAAAABEKE/nryRJGL00a45tktfX7ShkdNdUNXp7h_HgCHMYCw/image_thumb?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-aNkPNr_fihE/W5Tds197R_I/AAAAAAABEKE/nryRJGL00a45tktfX7ShkdNdUNXp7h_HgCHMYCw/s72-c/image_thumb?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2018/09/4.html
https://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2018/09/4.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ