370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

कहानी // शर्म की काली चादर // लोकनाथ साहू ललकार

लोकनाथ साहू ललकार

एक बूढ़ा पीपल का पेड़ था । उसकी रंगत उतर चुकी थी । बस पत्ते विहीन शाखाएँ दिख रही थीं । उसमें चील-गिद्धों का बसेरा था । पेड़ के नीचे एक घर था, जहाँ मानवता रहती थी । मानवता, सीधी-सादी-सौम्य । जेठ का महीना चल रहा था । चिलचिलाती दुपहरी में रास्ते सुनसान थे । अलबत्ता, कभी हवा की सरसराहट, तो कभी पत्तों की खड़खड़ाहट से नीरवता टूट जाती थी । तभी असत्य ने मानवता के घर दस्तक दी । मानवता ने द्वार खोला । सामने काला-कलूटा असत्य सत्ता की बैसाखी के सहारे खड़ा था । चेहरा भद्दा और कुरूप ।  दो दाँत निकले हुए थे । एक आँख के नीचे गहरा जख्म था । चेहरे पर कुटिल मुस्कान । उसके साथ हैवानों की टोली भी थी । उनकी आँखों में दरिंदगी झलक रही थी । उनकी बदबूदार साँसों से मानवता की साँसें घुटने लगीं । असत्य की विकरालता देख मानवता डर गई ।

असत्य ने हैवानों को मुस्कुराते हुए संकेत किया । हैवान दरिंदगी पर उतर आए । मानवता अनुनय-विनय करती रही । हैवानों की दरिंदगी से मानवता चीख उठी । चीख की गुंज ! अनुगूंज !! प्रतिगूंज !!!  तभी नैतिक और संवेदना, दोनों भाई-बहन निकट रास्ते से गुजर रहे थे ।  मानवता का चीत्कार सुन दोनों मदद के लिए आए ।  असत्य ने अपशब्दों से घुड़की लगाई-
नैतिक ! तुम यहाँ से दफ़ा हो जाओ ।

[post_ads]
असत्य ! तुम गलत कर रहे हो । अपने दरिंदों से कहो, मानवता को छोड़ दे - नैतिक ने कहा ।
             नैतिक ! तुम अपनी बहन संवेदना की खैरियत चाहते हो, तो लौट जाओ । अन्यथा, ये हैवान उसे भी ... ।
डरकर दोनों भाई-बहन लौट गए । मानवता चीखती रही । चीख गुंजती रही । मददगार कोई न था । हैवान मानवता के जिस्म पर दरिंदगी की दास्ताँ लिखते रहे । पश्चात् लौट गए । मानवता लहूलुहान तड़पती पड़ी रही । असत्य ने इंसानियत का मुखौटा लगाया और कानून को इत्तला की । कानून आया । देखा, मंजर वीभत्स था । मानवता अत्यंत गंभीर ।  उपचार के लिए उसने मानवता को चिकित्सालय दाखिल करवाया । बाहर इंसानियत के मुखौटेधारियों का हुजूम था । मानवता की स्थिति अब-तब की थी । नैतिक और संवेदना मानवता की सेवा के लिए आए ।  असत्य ने उन्हें अपशब्दों से भगा दिया ।  कानून जाने कहाँ था ।  अंततः, असहाय मानवता मर गईं ।
मानवता मर गई ! मानवता मर गई !! सुनकर असत्य की आँखों में चमक आ गई । चेहरा खिल उठा । हुजूम मानवता की मौत के लिए चिकित्सकों को जिम्मेदार ठहरा रहे थे । कोई चिकित्सालय को जलाने की बात कर रहा था, कोई चिकित्सक को मारने की । मानवता के शव को दहन के लिए ले जाया गया ।  दहन स्थल पर सत्य के अस्थि-पंजर की चिता सजी थी ।  असत्य एक हाथ में सत्ता की बैसाखी, दूसरे हाथ में अग्नि । उसने सत्य की चिता को अग्नि दी । चिता धू-धूकर जलने लगी । मानवता भस्म हो गई । यह सब देख पश्चिम में सूर्य तमतमा रहा था ।  तभी क्षितिज से सूर्य के निकट काले-काले बाद आ गए ।  सूर्य ने शनैः-शनैः शर्म की काली चादर ओढ़ ली  ।

[post_ads_2]
     सांझ के बाद रात हुई । झींगुर अपने होने का अहसास करा रहे थे । पीपल के पेड़ से चील-गिद्धों की कर्कश आवाजें आ रही थीं ।  निकट ही, असत्य और हैवानों का जश्न चल रहा था । मानवता के घर घुप्प अंधेरा ... सन्नाटा पसरा था ।  संवेदना ने नैतिक से कहा-
नैतिक, मेरे भाई ! मानवता के बिना घर में कितना सन्नाटा है  ।  एक दीया तो जला दे ।
बहन ! एक दीया क्या कर लेगा ?
भाई ! दीया मध्यम ही सही, इसमें आस की ज्योति होती है । चाहे सब दीये बुझ जाएं, पर एक आस का दीया जलते रहना चाहिए । उससे अन्य दीये रोशन हो सकते हैं । कौन जाने, मानवता की आत्मा किसी मानव में समा जाए।

नैतिक ने अपनी बहन संवेदना की बात मानी । उसने माटी का एक दीया मानवता के अंधेरे-सूने घर में रख दिया । सन्नाटों के बीच दीया निस्तेज जल रहा था ।

---


लोकनाथ साहू ललकार
बालकोनगर, कोरबा (छग)

कहानी 5909527056466973572

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव