370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

विनय भारत शर्मा की लघुकथाएं - चेहरे पे चेहरा, आह! वर्तमान

1.

चेहरे पे चेहरा

.................................

मैथ के टीचर ने छात्र को सवाल न करने पर मारा और बालक की आंखों से चश्मा झरने लगा।

" तुम घर पढ़ते नहीं, इसलिए आज डंडे मारने पड़े हैं।

क्या हमें तुम्हें मारने में खुशी मिलती है क्या?"

बालक की आँखों में आंसू और आश्चर्य दोनों थे।

" कोई भी टीचर बिना बात नहीं मारता , पर तुम हो कि पढ़ते नहीं हो" ये कहकर गुप्ता जी बालक को शब्दों से सांत्वना देने की कोशिश कर रहे थे कि अचानक उनके मोबाइल की घण्टी बजी और आवाज सुनाई दी -

" पापा ! आज मेरे सर ने मुझे स्कूल में कम मार्किंग के लिए इतना मारा कि मैं बेहोश हो जाता " अंशू ने रोते हुए गुप्ताजी से कहा,बालक का रोना सुनकर गुप्ताजी तैश में आ गए और उनका शब्द सुनाई दिया।

" बेटे तू चिंता मत कर ,कल तेरे स्कूल आता हूँ , आजकल के मास्टर पढ़ाते कम हैं , मारते ज्यादा हैं, देख लूँगा उसे।

[post_ads]

2.

आह! वर्तमान

.................................

... बड़े उपदेशक बने फिरते हो!

आज के युग में ऐसी बातें कौन करता है! तुम संन्यासी हो संन्यासी।

आज के बच्चे तुम्हारी तरह पुराने ख्यालात वाले नहीं है।

आज के बच्चे हैं कोई मज़ाक नहीं।

उनकी अपनी निजी ज़िन्दगी !

तुम करते क्या हो ? तुम्हारा कोई अधिकार नहीं है बच्चों से कुछ कहने का।

बाप ही तो हो कोई एहसान है क्या?

गलत नहीं लगता तुम्हें बच्चों को सही राह दिखाना।

[post_ads_2]

कहते हुए रीमा ने अपने पति के सर से घाव का निशान पोंछा, जो अभी कुछ देर पहले बेटे ने थप्पड़ मारकर दिया था। शेखर का घाव उतना दर्द नहीं दे रहा था जितना उसके अंदर के दर्द ने आज उसको दिया था,   शेखर के घाव देखकर रीमा की आंखों से गंगा बह निकली।

लघुकथा 2664519940111112436

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव