रु. 25,000+ के  नाका लघुकथा पुरस्कार हेतु रचनाएँ आमंत्रित.

अधिक जानकारी के लिए यहाँ http://www.rachanakar.org/2018/10/2019.html देखें.

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

समाजार्थिक यथार्थ के कवि डॉ. महेंद्र भटनागर से कुछ प्रश्न // शिवा सहाय

साझा करें:

वार्तालाप एवं आत्म-कथ्य  // महेन्द्रभटनागर समाजार्थिक यथार्थ के कवि डॉ. महेंद्रभटनागर से कुछ प्रश्न शिवा सहाय कविता लिखने की प्रेरणा कैसे-कब...

image

वार्तालाप एवं आत्म-कथ्य  // महेन्द्रभटनागर

समाजार्थिक यथार्थ के कवि

डॉ. महेंद्रभटनागर से कुछ प्रश्न

शिवा सहाय

कविता लिखने की प्रेरणा कैसे-कब हुई? अपने प्रारम्भिक काव्य-लोक पर प्रकाश डालें।

सर्वप्रथम कविता के प्रति आकर्षण उत्पन्न हुआ। कविता से परिचय सबसे पहले घर में हुआ - बहुत-कुछ घर के सांस्कृतिक वातावरण के फलस्वरूप। माता जी-पिता जी द्वारा ‘रामचरित मानस’ / वैदिक ऋचाओं का गान / पाठ करने, तीज-त्योहारों एवं विशिष्ट अवसरों पर घर-पड़ोस की महिलाओं द्वारा गायन करने, यहाँ-तक कि मुहल्ले में जब-तब किसी फ़कीर / साधु के गाते हुए गुज़रने पर - मेरी काव्य / गायन चेतना जाग उठती थी। सब काम छोड़कर मैं संगीत-गान की तरफ़ खिँच जाता था। तदुपरांत पाठशाला / विद्यालय में साहित्य / काव्य के अध्ययन ने मेरे मन में कविता के प्रति रुचि ही उत्पन्न नहीं की, काव्य-संस्कार भी दिये। और जब बृहत् समाज से जुड़ा तो नगर के साहित्यिक परिवेश ने प्रभावित किया। कवि-सम्मेलनों / मुशायरों को सुनने में ख़ूब आनन्द आता था। आसपास के सामाजिक जीवन और प्राकृतिक दृश्यों ने भी कोई कम प्रभावित-आकर्षित नहीं किया।

छात्र-जीवन से ही तुकबंदी करने लग गया था। इस कालावधि की रचनाएँ अनुपलब्ध हैं। मैट्रिक परीक्षा उ­त्तीर्ण करने के बाद, उच्च अध्ययन-हेतु, ‘विक्टोरिया कॉलेज’ में प्रवेश लिया (जुलाई 1941)। अपने सहपाठी अनेक युवा साहित्यकारों के सम्पर्क में फिर, ‘महेंद्र’ नाम से लिखने लगा। ‘महेंद्रभटनागर’ नाम से सर्वप्रथम कविता ‘हंस’ में प्रकाशित हुई (1948)। इस नाम का भी एक क़िस्सा है! ख़ैर।

सर्वप्रथम मेरी कविता (‘सुख-दुख’ / ‘विहान’ में संकलित) ‘विक्टोरिया कॉलेज मैगज़ीन’ में ही छपी। वस्तुतः मेरी सर्वप्रथम प्रकाशित कविता ‘हुंकार’ (‘टूटती शृंखलाएँ’ में संकलित) है, जिसे ‘विशाल भारत’ (कलकत्ता / मार्च 1944) में उस समय के यशस्वी सम्पादक श्री. मोहन सिंह सेंगर जी ने स्थान दिया। उपलब्ध कविताओं में प्रथम रचना नवम्बर 1941 में तारों पर लिखा एक गीत है, जो ‘तारों के गीत’ में संकलित है। मेरे क्रमशः प्रथम प्रकाशित (सन् 1949) दो कविता-संग्रह ‘तारों के गीत’ और ‘टूटती शृंखलाएँ’ हैं।

साहित्य-सर्जन से सम्बद्ध आपकी विचार-धारा क्या है?

वस्तुतः साहित्य-रचना किसी विशिष्ट विचार-धारा को ध्यान में रखकर प्रारम्भ नहीं की। जीवन और जगत में जो देखा, जो अनुभव किया वही साहित्य में व्यक्त किया। मेरे विचारों और अन्य विभिन्न विचार-धाराओं में कुछ साम्य हो सकता है। मैंने तो कभी विधिवत् धार्मिक, राजनीतिक, सामाजिक विचारकों के जीवन और उनकी विचार-धाराओं का ज्ञान प्राप्त नहीं किया। मेरे चिन्तन का जो वाम पक्ष है, वह पुस्तकीय नहीं। मेरा अधिकांश जीवन बड़ी ग़रीबी में बीता। न अच्छा खा सका, न पहन सका। न घूम-फिर सका, न उच्च अध्ययन करने के लिए कहीं दाख़िला ले सका। बी. ए. (1945) करते ही 60/- प्रति माह की मास्टरी करनी पड़ी। रहने को अति-साधरण आवास पा सका। अधिकांश जीवन बड़ी मशक़्क़्त से जी लेने के बाद, अपने और अपने परिवार के लिए जीवन की कुछ बुनियादी ज़रूरतें मुहैया करा सका। आज भी इतना क्षम नहीं हूँ कि अचानक गंभीर रोग हो जाने पर, अपना या अपने परिजनों का आधुनिक सुविधा-सम्पन्न अस्पतालों में आसानी से उपचार करवा सकूँ। विदेश जा सकना तो मात्र सपना है। सर्वत्रा धन-लोलुप राजनीतिक नेताओं, अतिभ्रष्ट-गंदे धर्माचार्यों और निकृष्ट स्तर के पूँजीपतियों को ऐश करते देखता हूँ। ऐसे माहौल में मेरी विचार-धारा यदि तथाकथित वाम विचार-धारा का भी अतिक्रमण करे (उसका विकास करे) तो इसमें आश्चर्य क्या? आलोचक यदि ऐलान करते हैं,ं ‘साम्यवादी’ हूँ तो इसमें परेशानी क्या? मतभेद क्या? जीवन की धुरी आर्थिक है। अर्थ का अधिकाधिक सम-विभाजन हो। श्रम का शोषण कदापि न हो। आदमी को इतना मजबूर न किया जाय कि वह बेइंसाफ़ियों को झेलते जानवर बन जाए (द्रष्टव्य मेरी ‘आग्रह’ शीर्षक कविता)। जनता की सामूहिक शक्ति ही दुनिया को बदल सकती है।

जीवन-दृष्टि पर प्रकाश डालिए।

सार्थक दिशा में ‘चरैवेति .... चरैवेति’। सार्थकता-विवेक - अन्तर्रात्मा की आवाज़।

सर्वाधिक महत्वपूर्ण जीवन-मूल्य - सहनशीलता, परोपकार, पर-दुख-कातरता, विनम्रता, कार्य में आस्था, अहं-त्याग, क्रोध-त्याग, लघुता की महत्ता का ज्ञान, बार-बार उद्देश्य / लक्ष्य च्युत होने पर भी हर बार प्रयत्नशील रहना, ग़लतियों और कमज़ोरियों से हताश न होना, पराजय से नव-शक्ति की प्राप्ति, आदर्श के प्रति निष्ठा, मृत्यु-भय से मुक्त, कष्ट-सहन-अभ्यासी, बौद्धिकता और वैज्ञानिकता - निर्णायक तत्व, मस्तिष्क के द्वार खुले रहें, शोषण-विषमता रहित समाज-रचना के लिए सक्रिय, विश्व-बंधुत्व (‘वसुधैवकुटुम्बकम्’)......

आदमी की पशुता-क्रूरता दूर हो - इसके लिए सामूहिक प्रयत्न करना, पर आदमी पर भरोसा रखना। दृष्टिकोण सदा सकारात्मक। अच्छे भविष्य के प्रति विश्वास कम न हो ......

आप लब्धप्रतिष्ठ प्रगतिवादी-जनवादी कवि हैं। वाम साहित्यान्दोलन को आपके लेखन से बल मिला है। 50-60 के दशक में आप सर्वाधिक चर्चित रहे। कुछ आलोचकों ने आपको प्रगतिवाद के द्वितीय उत्थान (नवप्रगतिवाद) का केन्द्रीय कवि माना है। अनेक प्रगतिशील साहित्यकारों से आपके घनिष्ठ संबंध रहे। यथा - राहुल सांकृत्यायन, शिवमंगलसिंह ‘सुमन’, रामविलास शर्मा, रांगेय राघव, शिवदानसिंह चौहान, प्रकाशचंद्र गुप्त, अमृतराय, त्रिलोचन, मुक्तिबोध, शिवकुमार मिश्र, कर्णसिंह चौहान, रवि रंजन आदि (द्रष्टव्य आपकी कृति ‘साहित्यकारों से आत्मीय संबंध’। इस सबके बावज़ूद, आपकी कविता का मूल्यांकन जैसा होना चाहिए था, नहीं हुआ। अन्य प्रगतिवादी कवियों की तुलना में आप पर्याप्त अनदेखे क्यों और कैसे रह गये

इसका उत्तर मैं क्या दे सकता हॅूँ!

शायद, इसका प्रमुख कारण, बाहर न निकलने का मेरा स्वभाव है। यात्राएँ, निकट की भी, करता नहीं। अधिकतर मजबूरी में ही, दुखी मन से , ब-मुश्किल कहीं जाता हूँ। साहित्यिक कार्यक्रमों और विशिष्ट अधिवेशनों में भाग नहीं लेता। स्थानीय आयोजनों तक में नहीं। स्वयं को पुरस्कृत-सम्मानित किये जाने वाले कार्यक्रमों तक में, स्वीकृति देकर भी, उपस्थित नहीं होता। पीएच. डी. / डी. लिट. के परीक्षार्थियों की मौखिकी लेने देश के अनेक विश्वविद्यालय बुलाते हैं, हवाई-यात्रा तक की अनुमति देते हैं, लेकिन नहीं जाता। कवि-सम्मेलनों और साहित्यिक गोष्ठियों में भाग लेने को मन नहीं करता। यह-सब जानबूझ कर मैं नहीं करता। इच्छा ही नहीं होती। मित्र डॉ. विश्वम्भरनाथ उपाध्याय जी ने अपने एक पत्रा में मुझे लिखा भी - ‘‘आपने अनुभव किया होगा कि आपके अलग-थलग रहने से आपकी ओर समुचित ध्यान नहीं दिया गया। सो, कामरेड, अब इस कमी को पूरा कीजिए।’’

अन्य कारण मेरी कृतियों की अनुपलब्ध्ता हो सकता है। जिन प्रकाश्ाकों का व्यावसायिक-व्यापारिक तंत्र देश-विदेश में दूर-दूर तक फैला हुआ है, वहाँ से मेरी काव्य-कृतियाँ प्रकाशित नहीं हुईं। इस कारण उनका समुचित प्रचार-प्रसार सम्भव नहीं हो सका। पुस्तक-विक्रेताओं के पास मेरी कृतियाँ मिलती नहीं। चूँकि नये संस्करण प्रकाशित नहीं हो पा रहे, एतदर्थ प्रकाशकों के यहाँ भी वे अनुपलब्ध हैं। इस संदर्भ में, देश के विश्वविद्यालयों में कार्य-रत अनेक शोधार्थियों और उनके निर्देशकों के पत्र प्रायः आते हैं। वैसे मेरे काव्य-कर्तृत्व पर स्तरीय आलोचकों द्वारा बहुत-कुछ लिखा गया है, जो अनेक सम्पादित आलोचना-पुस्तकों में समाविष्ट है। स्वतंत्र आलोचना-कृतियाँ और अनेक शोध-प्रबन्ध भी उपलब्ध हैं। कुछ के नाम तो आप उद्धृत कर ही सकते हैं। यथा :

अध्ययन

(1) महेन्द्रभटनागर की काव्य-संवेदना : अन्तःअनुशासनीय आकलन / 2009 / डॉ. वीरेंद्र सिंह

(2) कवि महेन्द्रभटनागर का रचना-कर्म / 2002 / डॉ. किरणशंकर प्रसाद

(3) डॉ. महेन्द्रभटनागर की काव्य-साधना / 2005 / ममता मिश्रा

(4) महेंद्रभटनागर का काव्य-लोक / 2015 / वंशीधर सिंह

सम्पादित

(5) महेंद्रभटनागर की कविता : संवेदना और सर्जना / 2015 /

सं. डॉ. पाण्डेय शशिभूषण ‘शीतांशु’

(6) महेंद्रभटनागर की कविता : अन्तर्वस्तु और अभिव्यक्ति / 2015 / सं. डॉ. मनोज मोक्षेन्द्र

(7) कवि महेन्द्रभटनागर की रचना-धर्मिता / 2013 / सं. डॉ. कौशलनाथ उपाध्याय

(8) महेन्द्रभटनागर की काव्य-यात्रा / 2012 / सं. डॉ. रामसजन पाण्डेय

(9) डॉ. महेन्द्रभटनागर का कवि-व्यक्तित्व / 2005 / सं. डॉ. रवि रंजन

(10) सामाजिक चेतना के शिल्पी : कवि महेंद्रभटनागर / 1997 / डॉ. हरिचरण शर्मा

(11) कवि महेन्द्रभटनागर का रचना-संसार / 1980 / सं. डॉ. विनयमोहन शर्मा

(12) कवि महेन्द्रभटनागर : सृजन और मूल्यांकन / 1970 / सं. डॉ. दुर्गाप्रसाद झाला

शोध-प्रबन्ध / प्रकाशित

(13) महेन्द्रभटनागर और उनकी सर्जनशीलता / 1995 / डॉ. विनीता मानेकर

(14) प्रगतिवादी कवि महेन्द्रभटनागर : अनुभूति और अभिव्यक्ति / 2005 /

डॉ. माधुरी शुक्ला

(15) महेन्द्रभटनागर के काव्य का वैचारिक एवं संवेदनात्मक धरातल / 2009 /

डॉ. रजत कुमार षड़ंगी

अनेक उच्चकोटि के लब्ध-प्रतिष्ठ आलोचकों की कृतियों में, साहित्येतिहासों में, अनेक शोध-प्रबन्धें में भी मेरे साहित्यिक अवदान का उल्लेख मिलता है। माना, तमाम ऐसी कृतियाँ हैं, जिनमें उल्लेख होना चाहिए था, नहीं हुआ। ज़ाहिर है, इसके कारण, जानकारी का अभाव और मेरे साहित्य का उपलब्ध न होना है। मानता हूँ, व्यक्तिगत कारणों से भी, ऐसा करने वाले होते हैं। यह एक सर्वदेशीय-सर्वकालिक बात है। वस्तुतः, रचनाकार को इस-सब की चिन्ता करनी ही नहीं चाहिए। जिस लेखन में सार होगा, वह जीवित रहेगा। प्रचार से क्षणिक यश भले ही मिल जाए। काल सबसे बड़ा निर्णायक तत्व है। काल के चलने में साहित्य जब छनता है तो थोथा उड़ जाता है।

आप द्वि-भाषिक (हिन्दी और अंग्रेज़ी) कवि हैं। ‘इंडियन इंग्लिश पोइट्री’ में भी आपका नाम है / स्थान है। ‘पोइटक्रिट’ और ‘इंडियन जनरल ऑफ़ पोस्ट कोलोनियल लिटिरेचर्स’ जैसी अन्तर्राष्ट्रीय पत्रिकाओं के आप सलाहकार हैं। विश्वविद्यालयों के अंग्रेज़ी-विभागों में भी आपके काव्य पर शोध-कार्य हुआ है, हो रहा है। अंग्रेज़ी में भी आपका विपुल काव्य-साहित्य पुस्तकाकार प्रकाशित है। ‘कॉनटेमपोरेरी वाइब्ज़’, ‘कोहिनूर’ आदि पत्रिकाओं के मुख-पृष्ठों पर आप के चित्र छपे हैं। इंटरनेट की विश्व-विख्यात वेबसाइटों में आपकी रचनाएँ प्रमुखता से प्रकाशित होती हैं। इंटरव्यू छपते हैं। अंग्रेज़ी में आपके काव्य-साहित्य पर जो आलोचनात्मक आलेख लिखे गये हैं, वे भी पुस्तकाकार प्रकाशित हैं। पाठकों को इस सब की कुछ जानकारी यदि देंगे तो उनकी जिज्ञासा कम हो सकेगी।

हाँ, अंग्रेज़ी में भी मैंने लिखा है। अंग्रेज़ी का अधिकांश काव्य-साहित्य हिन्दी से अनूदित है। अनुवाद मेरे अतिरिक्त, अंग्रेज़ी के विद्वानों ने किये हैं, जिनमें अधिकांश प्रोफ़ेसर हैं। इन अनुवाद-प्रारूपों में मैंने पर्याप्त संशोधन किये हैं। भावों और विचारों की दृष्टि से, अनुवादों को यथासम्भव मूल के अनुरूप बनाने की कोशिश की है। मेरे द्वारा विरचित अंग्रेज़ी-साहित्य की कुछ जानकारी इस प्रकार है :

अंग्रेज़ी में ग्यारह संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं। यथा -

[1] Forty Poems of Mahendra Bhatnagar [2] After The Forty Poems

[3] Exuberance and other poems

[4] Dr. Mahendra Bhatnagar's Poetry

[5] Death-Perception : Life-Perception [6] Poems : For A Better World [7] Passion and Compassion

[8] Lyric-Lute [9] A Handful of Light

[10] New Enlightened World

[11] Dawn to Dusk

विषयानुसार पाँच एन्थोलोजी पृथक से प्रकाशित हैं :

[1] POEMS : FOR HUMAN DIGNITY

[Poems of social harmony & humanism : Progressive Poems.]

[2] LIFE : AS IT IS

[Poems of faith & optimism : delight & pain. Philosophy of life.]

[3] O, MOON, MY SWEET-HEARET! [Love poems]

[4] SPARROW and other poems [Nature Poems]

[5] DEATH and LIFE [Poems on Death-perception : Life-perception ]

अंग्रेज़ी में प्रकाशित आलोचना-साहित्य और शोध इस प्रकार है :

[1] Living Through Challenges : A Study of Dr.Mahendra Bhatnagar's Poetry /

By Dr. B.C. Dwivedy.

[2] Poet Dr. Mahendra Bhatnagar : His Mind And Art (In Eng. & French) /

Ed. Dr. S.C. Dwivedi & Dr. Shubha Dwivedi

[3] Concerns and Creation

[A Critical Study of Mahendra Bhatnagar's Poetry /

Ed. Dr. R. K. Bhushan

[4] Dr. Mahendra Bhatnagar's Poetry : In The Eyes Of Critics

[e-book.] /

By Kedar Nath Sharma

[5] Death and Life : Criticism /

Ed. Dr. D. C. Chambial

[6] Poet Mahendra Bhatnagar : Realistic and Visionary Aspects /

Ed. Dr. Vijay Kumar Roy

[7] Post-Independence Voice For Social Harmony and Humanism :

A Study of Selected Poems of Mahendra Bhatnagar / Thesis /

By Dr. Rama Krishnan Karthikeyan

आपने ‘समस्यामूलक उपन्यासकार प्रेमचंद’ शोध-प्रबन्ध/ आलोचना-कृति, ‘प्रकाश-स्तम्भ’ (अद्यतन तृतीय संस्करण) नाट्य-कृति और ‘जीवन का सच’ (अद्यतन तृतीय संस्करण) लघुकथाएँ लिखीं, जो प्रसिद्ध हैं। इन विधाओं पर आगे क्यों नहीं लिखा?

‘समस्यामूलक उपन्यासकार प्रेमचंद’ 1957 में प्रकाशित हुआ। इसमें उपन्यासकार प्रेमचंद के दृष्टिकोण पर प्रमुख रूप से विमर्श है। ‘प्रेमचंद-समग्र’ (2015) भी पृथक से प्रकाशित है, जिसमें प्रेमचंद के विचारक, उपन्यासकार और कहानीकार रूपों पर लिखा गया है। शोधपरक आलोचनात्मक लेख और भी लिखे हैं, जो ‘महेंद्रभटनागर-समग्र’ के खंड 4 और 5 में समाविष्ट हैं। मेरे द्वारा लिखित आलोचना-साहित्य भी विपुल है, जो समय-समय पर पुस्तकाकार प्रकाशित होता रहा। यथा - ‘आधुनिक साहित्य और कला’, ‘विजय-पर्व’ : एक अध्ययन’, ‘दिव्या : विचार और कला’, ‘नाटककार हरिकृष्ण ‘प्रेमी’ और ‘संवत्-प्रवर्तन’, ‘पुण्य-पर्व’ एक अध्ययन’, ‘हिन्दी कथा-साहित्य : विविध आयाम’, और ‘नाट्य-सिद्धान्त और हिन्दी नाटक’। मेरा सम्पूर्ण आलोचना-साहित्य ‘समग्र’ खंड 4 और 5 में उपलब्ध है। इधर की लिखी समीक्षाएँ निकट भविष्य में पुस्तकाकार प्रकाशित होंगी।

नाट्य-विधा के अन्तर्गत कुछ रेडियो-फ़ीचर लिखे, जो आकाशवाणी-केन्द्रों से प्रसारित हुए, आज भी प्रसारित होते रहते हैं। हरिकृष्ण ‘प्रेमी’ लिखित ‘संवत्-प्रवर्तन’ के पर्याप्त प्रकाशन-पूर्व, ‘गण-नायक विक्रम’ एक एकांकी लिखा, जो अनेक पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हुआ। इसमें विक्रमादित्य को गण-नायक बताया गया है और ‘विक्रम संवत्’ के प्रचलन पर ंअपना मन्तव्य प्रस्तुत किया है। हाँ, एकांकी-लेखन में मेरी रुचि नहीं रही।

लघुकथाएँ भी लिखीं। ‘लड़खड़ाते क़दम’ तो ‘मध्य-भारत कला-परिषद्’ द्वारा पुरस्कृत (1952) भी हुई। लघुकथाओं का समग्र-संकलन ‘जीवन का सच’ अभिधान से इन दिनों उपलब्ध है। लेकिन, लघुकथा-लेखन में भी मेरी रुचि नही रही

आपने बाल-साहित्य भी लिखा है। बाल-साहित्य-लेखन के अनुभव बताइए।

बाल-साहित्य की मेरी पाँच पुस्तिकाएँ प्रकाशित हैं। ये ख़ूब बिकीं और पसंद की गयीं। बच्चों अथवा अ-हिन्दी भाषी छात्रों की कक्षाओं के पाठ्य-क्रमों में निर्धारित भी हुईं। अच्छी रॉयल्टी मिली! मैंने शौक़िया बाल-साहित्य लिखा ज़रूर, किन्तु बाल-साहित्य-लेखन भी मेरे लिए इतना प्रेरक नहीं रहा।

‘देश-देश की बातें’ ‘राजकमल प्रकाशन, नई दिल्ली से प्रकाशित हुई। इसका द्वितीय संस्करण ‘देश-देश की कहानी’ अभिधान से ‘पीताम्बर पब्लिशिंग कम्पनी, नई दिल्ली’ से प्रकाशित हुआ।

‘बच्चों के रूपक’ के दो संस्करण ‘साहित्य प्रकाशन मंदिर, ग्वालियर’ से निकले। अगले दो संस्करण ‘स्वार्थी दैत्य एवं अन्य रूपक’ अभिधान से ‘अम्बर प्रकाशन, नई दिल्ली’ (‘पीताम्बर पब्लिशिंग कम्पनी’) ने छापे। ‘आकाशवाणी’ केन्द्रों ने इन रूपकों को प्रसारित किया।

‘जय-यात्रा’ (आलेख) के दो संस्करण ‘रवीन्द्र प्रकाशन, ग्वालियर’ ने प्रकाशित किये।

‘दादी की कहानियाँ’ ‘प्रसाद बुक ट्रस्ट, आगरा से छपी।

‘हँस-हँस गाने गाएँ हम!’ (बाल-काव्य)े कविता-संग्रह ‘साहित्य प्रकाशन मंदिर, ग्वालियर’ से प्रकाशित हुआ। संकलन की कविताएँ ‘आकाशवाणी’ केन्द्रों के बालकों के कार्यक्रमों में ख़ूब प्रसारित हुईं।

इन कृतियों के नये संस्करण निकलने हैं। अब बाल-साहित्य की पुस्तिकाओं का मुद्रण-स्वरूप पर्याप्त बदल गया है। जहाँ-तक इन पुस्तिकाओं की विषय-सामग्री का संबंध है, इनकी विषय-वस्तु आज भी प्रासंगिक है और आगे भी प्रासंगिक बनी रहेगी।

¥

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

.... प्रायोजक ....

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=blogging$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3841,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,336,ईबुक,192,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2785,कहानी,2116,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,486,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,329,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,50,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,9,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,17,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,831,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,4,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,315,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1919,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,648,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,688,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,55,साहित्यिक गतिविधियाँ,184,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,68,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: समाजार्थिक यथार्थ के कवि डॉ. महेंद्र भटनागर से कुछ प्रश्न // शिवा सहाय
समाजार्थिक यथार्थ के कवि डॉ. महेंद्र भटनागर से कुछ प्रश्न // शिवा सहाय
https://lh3.googleusercontent.com/-6NWCvLFcAA8/W8bcNGy11_I/AAAAAAABEwo/P8dOxcl7UPgIZCg5lqLuVyRxb2XtM2OggCHMYCw/image_thumb?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-6NWCvLFcAA8/W8bcNGy11_I/AAAAAAABEwo/P8dOxcl7UPgIZCg5lqLuVyRxb2XtM2OggCHMYCw/s72-c/image_thumb?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2018/10/blog-post_80.html
https://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2018/10/blog-post_80.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ