नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

हास्य - व्यंग्य // सार्वजनिक नियुक्तियां : आवश्यकता है धरनाधरों की // सुरेश खांडवेकर

सुरेश खांडवेकर


देश के प्रत्येक राज्य में 5000 से 15000 धरनाधरों (धरनाबाजों) की आवश्यकता है। सूक्ष्म दृष्टि से ‘लोकतंत्र खतरे में है, हमारे अधिकारों का हनन हो रहा है, हमारे साथ अन्याय हो रहा है।’ इन अलग-अलग ज्वलंत समस्याओं का मूल एक ही है वह है व्यवसाय के प्रति असंतोष। इन समस्याओं के समाधान हेतु देश के प्रत्येक राज्य में 5000 से 15000 पदों की आपूर्ति के लिए आवेदन आमंत्रित हैं।

बलिष्ठ धरनाधर (Strong Dharnadhar) शैक्षणिक योग्यता गौण है। बेसिक एजुकेशन सर्टिफिकेट मजबूत व अच्छे कद-काठी के हों। ऐसे ग्रेजुएट्स को वरियता। यहां दिमाग का का काम कम हाथ-पांव का ज्यादा है।

वरिष्ठ धरनाधर (Senior Citizen) इस वर्ग में उन सभी वरिष्ठजनों के आवेदन मान्य है, जो रिटायर्ड हो, अन्यथा वरिष्ठ हो, अनुभवी हो, टाइम पास करना चाहते हो, इस वर्ग में बीमार वरिष्ठों के आवेदन भी स्वीकार किये जायेंगे जिससे ‘दयाभाव, सहानुभूति’ उत्पन्न हो सके और उद्देश्यों की पूर्ति प्रभावशाली हो सके, नाटकीय आत्महत्या में प्रयत्नशील भी आवेदन कर सकते है।

कनिष्ट धरनाधर (Junior Dharnadhar) : 16 -30 वर्ष के बेबाक युवा, कॉलेज के विद्यार्थी, प्रोफेसर, बेरोजगार, दो रोजगार वाले, जवाबलाल यूनिवर्सिटी के विद्यार्थी और स्वच्छ जीवन और बेलगाम बातें करने वाले प्रत्याशी आवेदन कर सकते है। धरनाधर बिना सोचे-समझे धारा में बहनेवाले, उंगली का इशारा समझकर साथ चलने वाले, ऊंची ललकारें निकालने वाले, ठेकेदार भी अपना आवेदन कर सकते है।

सूचनाएं -

ये नियुक्तियां अस्थाई है

ये नियुक्तियां सांकेतिक अनुबंध के आधार पर होगी ।

[post_ads]

सफलता के आधार पर इन पदाधिकारियों को पुरस्कृत किया जा सकता है।

सामान्य और असामान्य पदोन्नति के सुअवसर

वकृत्व कला में निखार होगा।

कार्यक्षेत्र-

राज्यों की राजधानी से लेकर दिल्ली के जंतर-मंतर जैसे स्थानों पर शक्ति प्रदर्शन करना होगा। बुद्धिजीवी को केवल विरोध करने का अधिकार है।

प्रधानमंत्री , मुख्यमंत्री व राज्यपाल के मुख्यालय पर धरना कार्यक्रम को संक्रामक रूप देना होगा।

आंदोलन प्रकृति के अनुसार , झण्डे, डन्डे, बैनर, लेना, उठाना, चलना, रुकना, बैठना होगा।

सुस्ती मिटाने हेतु या उत्साह भरने हेतु नारे बनाने, नारे लगाना, स्याही फेंकना, जूते उछालना, उछलकूद करना, पत्थर फेंकना आदि सामयिक परिस्थितियों के अनुसार करना होगा।

भूख हड़ताल, वार्तालाप( मौन) हड़ताल

सेलफोन चैटिंग हड़ताल

सोफा, आरामकुर्सी , दरी , धूप-छाव, सर्दी-गर्मी, सभी परिस्थितियों में सेवाएं देने की तत्परता होनी चाहिए।

[post_ads_2]

यदि विशेष योग्यता, अनुभव अतिरिक्त कौशल हो तो कृपया लिखें। ......

पदों की संख्या कई हजारों में हो सकती है। आवेदक अपनी योग्यताओं के साथ-साथ जीवनशैली व पारिवारिक परिचय भी दे। राष्ट्रीय स्तर पर सेवाएं देना चाहे तो कृपया उल्लेख करे। कृपया प्रत्यक्ष सम्पर्क ना करें। आवेदन ऑनलाइन करें।

ज्ञातव्य :

यह सर्वविदित है की देशभर में अभी तक ‘धरना प्रशिक्षण’ सुविधायें उपलब्ध नहीं है। एक-दो कार्यक्रमों के बाद ऐसे सेवाधर्मी स्वाभाविक रूप से निपुण हो जाते हैं। परम्परागत रूप से इस क्षेत्र में लाखों लोग जुड़े हैं। कई युवाओं को यह ज्ञान अनुवांशिक रूप से मिला है। कुछ अज्ञात कारणों से जुड़े है। कुछ अतिरिक्त ऊर्जा को निकालने के लिए इस क्षेत्र में प्रवेश कर रहे है। अतः शैक्षणिक योग्यता व प्राकृतिक गुण एवं क्षमताओं का पांच सात वाक्यों में करे तो केन्द्र एवं राज्य सरकारों को ‘धरना प्रशिक्षित’ सुविधायें उपलब्ध करने हेतु धरना देकर प्रयास किया जा सकता है ।

विशेष :

ज्ञानी -विज्ञानी, इतिहासकार, पुरातत्वी, नीतिकार, न्यायाधीश शासकीय अधिकारी, कर्मचारी, दायित्वजीवी कृपया आवेदन न करें। 

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.