---प्रायोजक---

---***---

रु. 25,000+ के  नाका लघुकथा पुरस्कार हेतु लघुकथाएँ आमंत्रित हैं.

अधिक जानकारी के लिए यहाँ [लिंक] देखें. आयोजन में अब तक प्रकाशित लघुकथाएँ यहाँ [लिंक] पढ़ें.

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

रामलीला मेरे गांव की - गीता द्विवेदी की कविताएँ

साझा करें:

रामलीला मेरे गांव की ---- 01 ----------------------------- अश्विन महीने में भक्ति के , रंग हजार देखती हूँ , हाँ , मैं अपने गांव में , राम...

रामलीला मेरे गांव की ---- 01
-----------------------------

अश्विन महीने में भक्ति के , रंग हजार देखती हूँ ,
हाँ , मैं अपने गांव में , राम  -  दरबार  देखती हूँ ।

बहू  हूँ मैं यहाँ की , सो छिपते - छिपाते जाती हूँ ,
घूंघट  नहीं सरकती , मर्यादा  भी बचाए जाती  हूँ ,
फिर हर्षित हो राम  -  सीता का  श्रृंगार  देखती हूँ ,
हाँ , मैं अपने  गांव  में  राम  -  दरबार  देखती हूँ ।

बच्चे  -  बूढ़े  सभी  में , उत्साह  बड़ा  भारी है ,
चूल्हे  जले हैं जल्दी , रामलीला की  तैयारी  है ,
एक  माह  तक , अनोखा  त्योहार  देखती  हूँ ,
हाँ , मैं  अपने गांव  में  राम - दरबार देखती हूँ ।

अभिनय  करने  वाले  भी , सभी  मेरे  अपने हैं ,
ये  उत्सव  सफल  हो , सब ये  कामना  करते हैं ,
चूड़ी , साड़ी , और धोतियों का ,उपहार देखती हूँ ,
हाँ , मैं  अपने  गांव  में  राम -  दरबार  देखती  हूँ ।

भेदभाव भूलकर  सब , यहाँ   दौड़े चले आते  हैं ,
देव गण भी निज धाम से ,अविलम्ब चले आते हैं ,
दर्शन  को  लालायित  नयन  , हजार  देखती  हूँ ,
हाँ , मैं अपने  गांव  में  राम  -  दरबार  देखती हूँ ।

सुख  की  वर्षा  यहाँ  , अनवरत  होती  रहती  है ,
स्वर्ग  की  चाह कभी , किसी  को  नहीं  रहती है ।
हर  हृदय  में  राम के  प्रति , प्रेम  अपार देखती हूँ ,
हाँ , मैं  अपने  गांव  में  राम  -  दरबार  देखती  हूँ ।

आदरणीय जन ... मेरे ससुराल में विगत लगभग 80--90 शालों से रामलीला का आयोजन अनवरत होते आ रहा है । ग्राम की सदभावना , भाईचारा ने मुझे प्रभावित किया । और मैं भगवान श्री राम की कृपा से  मेरे अंतःकरण में स्व अनुभूति से इस रचना के बीज अंकुरित हुऐ   जो पटल पर प्नस्तुत है ।
(ग्राम -हरला , पत्रालय -- महूआरी, थाना- सोनहन , जिला -- कैमुर , भभुआ प्रांत बिहार की संदर्भित संदर्भ है )
       
    
                                             --------- गीता द्विवेदी


खत लिखती हूँ    --- 02
-------------------------------

खत लिखती हूँ , इस आस से ,
कि  तुमसे  सहारा  मिल जाए ,
जितने  गिले , शिकवे  जमा हैं ,
मेरे  दिल में , सारे  धूल जाएँ ।

पढ़कर  जवाब  जरूर  देना ,
या  हो सके  तो आ  ही जाना ,
मन  मेरा  एक  बार  फिर  से ,
सुनहरे  सपनों  में  खो  जाए ।

देखा  था  पहली बार तुम्हें जब ,
दुनिया  बड़ी  खुशरंग  लगी थी ,
फिर  हुआ अचानक कुछ ऐसा
घिरते  ही  गए  गम  के  साये ।

कहाँ हो , किस हाल में हो तुम ?
खबर  नहीं  है  मुझे अरसे  से   ,
मगरूर  हवा  को क्या पड़ी जो ,
वो  तुम्हारा  पता  बता  जाए ।

आती  - जाती  साँसें  अब  भी ,
नाम  तुम्हारा  गुनगुना  रही  हैं ,
तुम ही  बता  दो  कोई  कैसे ,
बढ़ी धड़कनों  पे  काबू  पाए ।

अभी  बस इतना ही लिखना है ,
शेष  बातें , तुमसे  मिलने  पर ,
लम्हा -  लम्हा  तुम्हें याद किया ,
कितना , ये  राज  न  खुल जाए ।

खत  लिखती  हूँ , इस  आस से ,
कि  तुमसे  सहारा  मिल  जाए ,
जितने  गिले , शिकवे  जमा  हैं ,
मेरे  दिल में  सारे  धूल  जाएँ ।

   
              -------गीता द्विवेदी


रात तो आएगी --- 03
----------------------------


रात  तो  आएगी , आके  फिर  जाएगी ,
जाते  -  जाते  दिल ,  दर्द में  डुबाएगी ।

और कोई बात नहीं , फिक्र इतनी सी है ,
क्या  तेरी याद  मुझे , उम्र भर रुलाएगी ।

जख्म  सी  लूँ  सारे , तुझे  जताए बिना ,
लाली आँखों की , छिपाई  नहीं जाएगी ।

गर  इजाजत  दे दूँ , मौन  रह जाएं लब ,
पर मेरी  नजरें  तुझे , ढूंढने  ही  जाएंगी ।

दिल यूँ  मायूस न हो , कर ले सब्र जरा ,
हसरतें  तेरी  कभी  तो , सँवर  जाएंगी ।

रात  तो  आएगी , आके  फिर  जाएगी ,
जाते  -  जाते  दिल , दर्द  में  डुबाएगी ।


-------गीता द्विवेदी


  मेरी दादी ---- 04
---------------------------

अंजली में जल लेकर ,
अर्ध्य देती सूर्यदेव  को ,
फिर बैठती आसन पर ,
लेकर  तुलसी  माला ।

रटती रहती राम नाम ,
  साँझ  ढ़ले  सजा देती ,
  तुलसी  के चबूतरे पर
  जगमगाती  दीपमाला ।

हाथों में स्वर्ण कंगन ,
माथे  पर रक्त चंदन ,
निर्मल वस्त्र पहनती ,
गले शुभ्र मोती माला ।

उसकी  ही  तपस्या से ,
खिला है अपना आंगन ,
करता तुम्हें नमन दादी ,
तुम्हारा पोता भोलाभाला।

------------ गीता द्विवेदी


तू मेरा दूल्हा --- 05
-----------------------------
तू  मेरा  दूल्हा मैं तेरी  दूल्हन ,
देर  न  कर  अब  आ  मोहन ।

बांध  पगड़िया  झालर  वाली ,
पहनूं   चूनर  मैं   गोटे   वाली ,
सैर  करा गोकुल गलियन का ,
चाहे  मुझे  ले  चल    मधुबन ।

यमुना  तट  पे   बंशी  बजाना,
मधुर  -   मधुर   राग   सुनाना ,
खो  जाएं  एक   दूजे  में   हम ,
मैं    सुगंध   और   तू    चंदन ।

सास  , ननद  चाहे  ताना  मारें ,
कैसी  आयी  बहू   घर   हमारे ,
चिंता नहीं  मुझे अब किसी की ,
मैं  सजनी   तू  है  मेरा   सजन ।

जन्म - जन्म का साथ है हमारा ,
मैंने   पाया   तुझमें  ही   सहारा ,
आ  जा  देख   मुझे  तंग न कर ,
बरस    पड़ेंगे    मेरे    नयन ।

तू  मेरा  दूल्हा  मैं  तेरी  दुल्हन ,
देर  न   कर  अब  आ   मोहन ।


-------  गीता द्विवेदी


बेचारा जहर --- 06
----------------

जहर बेचारा
सीधा - सादा अबोध
गूंगा , बहरा 
जहाँ बैठा दो
जहाँ खड़े कर दो
चाहे सुला दो
या जगाए रखो ।
कोई भय  नहीं
बेहद शरीफ है
अजी , कहा ना !
चूँ भी नहीं करेगा
सच ! बड़ा भोला है
अपना जहर
प्रेम के काबिल
नफरत करे कोई कैसे ?
बिगाड़ने की नीयत ही नहीं ।
छू लो , डाँटो , चाहे फटकारो
मार भी दो , दो थप्पड़
ओह ! कितना सीधा
चलो , अब जरा लेकर देखो
उसकी टाफी
जरूरी है न , ये परीक्षा भी
नतीजा क्या निकला ?
सीधापन फुर्र .....।
सीधे यमलोक पहुँचाएगा
या हास्पिटल
भ्रम में मत पड़ना
किसी के भोले चेहरे
और अच्छे बर्ताव से
पाला पड़े जब कभी
जहर जैसा असर
वो भी दिखा सकता है
सही कहा ना ।


शेर भूखा है ----07
   -------------

सदियों से , सृष्टि के नियम अनुकूल ,
हर काम होते चले गए ,
पर एक शेर भूखा था , आरंभ में ,
आज भी  भूखा है ।

सभ्यता के जाल में ,
फँसकर छटपटाता है ,
जाल कोई काटता नहीं ,
संभवतः जाल वाला सभ्य भी नहीं ,
तभी तो शेर भूखा है ।।

मानवता सूंघता है ,
दयालुता चखता है ,
ममता नोचता है ,
सम्वेदना कुरेदता है ,
स्वाद समझ न आता ,
तभी तो शेर भूखा है ।।

गरीबी के मारे लोग ,
प्रकृति से दुत्कारे लोग ,
अपनों से हारे लोग ,
कमजोर , बेसहारे लोग ,
प्रिय तो हैं उसे बहुत ,
पर आधा खाकर उन्हें,
तड़पने को छोड़ देता है ,
तभी तो शेर भूखा है ।।

चलो कुछ प्रयत्न करें ,
  पेट भर जाए उसका , जतन करें ,
लोभ , लालच , क्रोध , हिंसा ,
सब उसके आगे रखें ,
अच्छा हो , ये सभी भा जाएं उसे ,
अभी तो इनसे अछूता है ,
तभी तो शेर भूखा है ।।

--------गीता द्विवेदी


हाइकु ---- 08
-------

*  -  तितली आयी
        फूल न आंगन में
        उदास गई

* -  रिश्तों के मोती                
      जुड़ते हैं प्रेम से
       धागा अटूट

*  -  मण्डप मध्य
        बैठे हैं वर - वधु
        मंगलाचार

*  -   बैठ गौरेया
        मुंडेर पे चहके
        गुड़िया हँसी

*  -   केसर गंध
         ले उड़ जा पवन
         पिया हैं जहाँ

*   -  कतारबद्ध
         हो जाएँ सारे तारे
         राह निराली

*  -  श्याम की छवि
        मन मन में बसी ऐसे
        राधा लगूं मैं

*  -  प्रेम की सीमा
        कब किसने जानी
        है अंतहीन

*  -  सीप से मोती
        निकला और भूला
        अपना घर

*  -  विरही मन
        पाए न चैन कहीं
        आओ सजन


----- गीता द्विवेदी


   भूमि उर लेटी माँ --09
-------------------------------

भूमि  उर  लेटी  माँ  , सगुण  रुप  धारी है ,
जाग जाओ, जाग माँ , ये  विनती हमारी है ।

रावण  के  पाप  से  है , धरा  अकुला  रही ,
बढ़े  अत्याचार  से  , सृष्टि  तिलमिला  रही ,
फूट  जाए  घड़ा पाप का जो हुआ भारी है ।
जाग जाओ ......................................।।
डूबे  हैं  संताप  में , संत  ऋषि , मुनि, ज्ञानी ,
नाश   करे  धर्म  का ,  करके  वो  मनमानी ,
वर  लिया  शिव  से ,  इसी  का मद भारी है ।
जाग जाओ .............................।।

महाराज  जनक  जी  के , भवन  पधार  लो ,
महारानी  सुनैना  जी  से ,  स्नेह   दुलार  लो ,
कहेंगे  वो  अलौकिक ,  कन्या  अवतारी  है ।
जाग जाओ .......................................।।

त्रिशूल ,  तलवार ,   मुसल ,  खेटक   नहीं  ,
रौद्ररूप    नरमुंड ,   कर  में  खप्पर   नहीं ,
तृण   से   तपेगा   जो   कायर  दुराचारी  है ।
जाग जाओ ......................................।।
बंधन  छुड़ाओ  माता , जगत  के जीवों का ,
दुख , दाह  हरो  देवी ,  हम  सब  देवों  का ,
त्राहि  -  त्राहि  कर  रहे , बड़ी ही लाचारी है ।
जाग जाओ .................।।

     ----- गीता द्विवेदी


  आधुनिक कविता
दण्डित तो होगा--- 10
------------------------
मोमबत्ती की लौ पर
हथेली रख दी हैं मैंने
एक ताप से
मुक्ति पाने के लिये ।
पर दोनों ताप समान हैं,
समान तप रहे हैं-
हथेली और  हृदय!
मोमबत्ती गल जायेगी,
हथेली शीतल हो जायेगी
और हृदय ......  
वो कैसे शीतल हो ?
विरह गलता नहीं,
इसलिये हृदय को
सारी रात तपना है,
सारा दिन भी
या तब तक
जब तक वो आता नहीं!
वो कब आएगा?
ये प्रश्न अनुत्तरित है अभी,
तो फिर तपे हृदय---
दोषी तो ये भी कम नहीं,
दण्डित तो होगा
निश्चित ही
हाँ ......निश्चित ही !!!


-----गीता द्विवेदी


ऐसे न देखो मुझे ----11
---------------------
ऐसे न देखो मुझे ,
कि मैं केवल एक स्त्री हूँ ,
मुझमें माँ , बहन , बेटी ,
और गृह - लक्ष्मी का रूप ,
भी निहार लो।

माथे पर मर्यादा का आँचल ,
आँखों में ममता का सागर ,
हाथों में सेवा का गागर ,
हो सके तो इनसे अपना ,
जीवन सँवार लो ।

आस्था रखती हूँ मानवता में ,
अटूट संबंध  है दयालुता से ,
तप ही मेरा सर्वोत्तम गहना ,
इस गहने से तुम भी अपना ,
सहज श्रृंगार लो ।

हृदय भी है धड़कने वाला ,
अच्छा - बुरा समझने वाला ,
अनादर की अधिकारिणी ,
न थी कभी , न हूँ अभी ,
अपनी भूल सुधार लो ।

पिता , पुत्र , और भाई सम ,
जब तुम्हें देख सकती हूँ मैं ,
तब तुम क्यों भ्रमित होते हो ?
करोगे सदा सम्मान मेरा ,
अडिगता का प्रण , स्वीकार लो ।

------ गीता द्विवेदी


  मृत्यु आती है ----12
----------------

मृत्यु आती है ,
सदियों से अकेले ही ,
बार - बार , हजार बार
लाखों , करोड़ों , अरबों बार ।
पर अकेले जाती नहीं ,
ले जाती है अपने साथ ,
उन्हें , जिन्हें ले जाना चाहती है ।
एक , दो या हजार
कुछ भयभीत रहते हैं ,
उसके नाम से , उसकी छाया से ,
कुछ आलिंगन करते हैं सहर्ष ,
देश के लिए , धर्म के लिए ।
कुछ आमंत्रित करते हैं ,
ईर्ष्यावश दूसरों के लिए ।
स्वयं डरते हैं ,
जैसे प्रेतनी है ।
कुछ लोगों का कहना है कि ,
निगल लेती है सबको ,
अजगरी सी .......
तब एक प्रश्न निर्मित होता है ,
कभी उसकी क्षुधा शांत हुई या नहीं ?
निःसंदेह नहीं ..... क्योंकि ...
ऐसा कोई दिन , महिना , वर्ष नहीं ,
जब उसकी परछाईं ,
किसी ने भी न देखी हो ...
अब ये भी परम सत्य है ,
वो आती रहेगी , प्रलय तक ,
ले जाएगी सबको पारी-पारी ,
तो उसके आने से पहले ,
क्यों न कुछ ऐसा प्रबंध करें ,
कि उसके साथ जाने का ,
पश्चात न हो ,
मुड़कर देखें भी नहीं ,
हो सके तो कुछ चिन्ह छोड़ दें ,
स्वर्णिम , चिरस्थायी , यश चिन्ह ,
यही श्रेष्ठ होगा ,
सार्थक भी ।


सरगुजिहा गीत ----13
-------------------

मोर सरग जइसन गांव
मोर सरग जइसन गांव
परसागुड़ी येकर   नांव
मोर सरग जइसन गांव

परसा , महुआ , डहू , इमली ,
फुले फुल अउ उड़े तितली ,
खेत - कियारी मह - मह करे ,
लछमी बइठे येही ठावं ।
मोर - - - - - - - - - - - -।।

निरमल तरिया येला जुड़ाथें ,
गुड़ी दाइ कर चरन धोवाथें ,
संकर कर किरपा हे अब्बड़ ,
मय उनकर जस ला गावं ।
मोर - - - - - - - - - - - -- ।।

गुरतुर बोली लोग बोलथें ,
नान - बड़ जम्मो मिलके रइथें ,
एगो रुख के पतई जइसन ,
बैर ला कहों नी पावं ।
मोर - - - - - - - - - - -।।


---------- गीता द्विवेदी


क्या सोच चले आए सपेरा ---14
------------------------------------------

क्या सोंच चले आए सपेरे ?
मेरे  घर  कोई  साँप  नहीं ,
पूजा करते हैं , दूध पिलाते ,
हत्या का करते पाप नहीं ।

आ ही गए तो बीन बजाओ ,
शायद  कहीं  दुबका  होगा ,
घर  में  तो कोई  बिल  नहीं ,
चूहा  देख  लपका  होगा ।

या  किसी  जन्म का बैर लिये ,
आया हो , कुछ कह नहीं सकता ,
देख  लिया ,  उसे  फन फैलाए ,
सच कहूँ , खड़ा रह नहीं सकता ।

लपकती जीभ , अपलक आँखें ,
देख  भ्रमित  न  हो  जाना ,
मानव  की  भी  पहचान  ये ,
जो  मुझमे  भी  तुमने जाना

चलो ,  बता ही  दूँ  तुमको ,
  अपना  कान  इधर  लाओ ,
कुछ  ले  देकर  चलते  बनो ,
मेरा मान सुरक्षित कर जाओ ।

ये  क्या !  तुम  तो हँसने लगे ,
जहर  मेरा  परखने  लगे ,
गठरी ,  बीन समेट कर कैसे ,
धीरे  -  धीरे  खिसकने  लगे ।

चलो  , जल्दी ही समझ गए ,
वर्ना  नाहक  ही  पछताते ,
रोजी - रोटी छिनती ही छिनती ,
जान  से  भी  निश्चित  जाते ।

----------गीता द्विवेदी


प्रेम की बूँद भी अधिक सुहावे ---15
------------------------------------

मूँद अखियाँ भरमावे सभी को ,
कहता  है  मेरा  ध्यान  लगावे ।

कोई  संकेत  न  मेरी  तरफ से ,
स्वयं से ही योगी, संत  कहावे ।

बन  न  सका है अभी नर पूरा ,
नारायण   की   उपाधि   पावे ।

नाम लिखा मेरा पाहन पर तो ,
पाहन  भी  कभी  डूब न पावे ।

नाम लिखा एक हनुमत ने मेरा ,
जग में एक वो ही अमर कहावे ।

लिख  ले तू  भी  स्व-हृदय  पर ,
दूजा  शब्द  सिया  ही  सुहावे ।

ताक  न राह  अधीर कभी  हो ,
दूर   कहाँ   मैं  जो  तू   बुलावे ।

साहस नहीं जूठे फल खिला दे ,
ये  मंत्र तो  शबरी को  ही भावे ।

ला थोड़ा  जल  दे प्यास लगी है ,
प्रेम  की  बूँद भी अधिक सुहावे ।

आऊँगा ले  मुरली  भी कभी मैं ,
बैठूँ वहीं  जहाँ  वृंदा   लहरावे ।


---- गीता द्विवेदी


सजल ----16
---------------------

हमें इस कदर वो  सताने लगे हैं ,
बहुत नीचा हमको दिखाने लगे हैं


  मचलती नदी तट बड़ा है भयावह ,
दिखा कर हमें वो डराने लगे हैं ।

उन्हें प्रेम था या अभी हो गया है,
  बताते  न नजरें   बचाने  लगे  हैं ।

सुनाते भ्रमर को तो कुछ बात होती
वो फूलों  को दुखड़ा सुनाने लगे हैं ।

भटकते रहे वो गमों की गली में ,
सुखद मोड़ अब रास आने लगे हैं ।

उन्हें भा  गई जब हमारी तबस्सुम,
तो पतझार सावन बताने लगे हैं ।

------ गीता द्विवेदी

दहेज बेल सूख जाए ----17
-------------------------

मेरी गली के एक आंगन में ,
एक गमला मुस्कुराता है ,
उस गमले में एक पौधा ,
सगर्व सिर उठाता है ।
उस पौधे में एक फूल ,
कोई गीत गुनगुनाता है ।
पौधे की मिट्टी भी ,
महक - महक जाती है ,
पास एक चिड़िया ,
चहक - चहक जाती है ।
दोनों को इंतजार है 
कि सूरज कब उगे और ,
वे रोशनी से नहाएं ।
ऐसा रोज ही होता है ,
न आंगन बड़ा होता है ,
न गमला ही बढ़ता है ।
पौधा भी सीमित दायरे में ,
तन्हा सा रहता है ।
फूल रोज खिलता ,
रोज मुरझाता है ,
चिड़िया भी चहक कर रोज ,
दूर चली जाती है ।
बढ़ता है उस आंगन में ,
हर रोज सन्नाटा ।
चिंताएं पसरती ,
सूनापन छाता है ।
क्योंकि वहाँ पर ,
कुछ और बढ़ता जाता है ।
जानना चाहते हो क्या ?
वहाँ एक बालिका ,
तेजी से बढ़ती जाती है ,
साथ ही दहेज की एक बेल
भी पसरती चली जाती है ।
सिर पकड़े कभी - कभी
पिता भी नजर आता है ।
चहकती चिड़िया अब ,
दुख बदली बन गई है ।
दुखती नजरों से विवश
कातर तितली बन गई है ।
दहेज की बेल तो ,
बस पसरती जाती है ,
बेबस पिता की आँखों से ,
नींद फिसलती जाती है ।
प्यार करने को माँ ,
जब बाहें फैलाती है ,
बेटी कहीं दूर
दहेज की ही
धूंध में खो जाती है ।
मैं भी देखता हूँ
आते - जाते दहेज बेल को ,
चाहता हूँ , उखाड़ फेंक दूँ ......
पर वश चलता नहीं ,
शायद निर्बल हूँ ।
अब इसी आस में हूँ कि
अबकी सावन न बरसे .......
वो बेल सूख जाए ।
आंगन में रह जाए ,
सिर्फ़ एक गमला ,
गमले में फूल ,
और चहकती चिड़िया ,
हरदम चहकती चिड़िया ।

-------गीता द्विवेदी


  चाँद  है जरा हटकर ----18
------------------------

चाँद ने  कहा बच्चों  से ,
मुझे ले चलो अपने घर,
उंगली  थामकर चलुंगा ,
जिधर कहो  मुड़ुं  उधर ।

बच्चों ने भी मानी बात ,
उतारने चले  हैं  आज ,
सीढ़ी कहीं मिली नहीं ,
उछाल दी गेंद कहकर ।

आ गिरा चाँद भूमि पर
झट से उठ खड़ा  हुआ ,
उछला, कूदा खूब हँसा ,
बच्चे प्रसन्न उसे पाकर ।

कहा  सबने  एक साथ ,
चलो  अब  हमारे  घर ,
मिश्री,मेवे,बरफी, पेड़े ,
खिलांएगे जी भरकर।

रेशमी कपड़े पहनना ,
माँ  ने  बुना  वो स्वेटर ,
ये सुन के चाँद ने कहा ,
मैं तो  हूँ  जरा हटकर ।

ठण्डा - ठण्डा रहता हूँ ,
घटता , बढ़ता  रहता हूँ ,
सोउंगा तुम्हारे साथ ही ,
पर  कम्बल ओढ़  कर ।


-------- गीता द्विवेदी
अम्बिकापुर ,सरगुजा (छत्तीसगढ़)

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

.... प्रायोजक ....

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच करें : ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=complex$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3864,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,337,ईबुक,192,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2812,कहानी,2137,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,489,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,348,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,50,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,9,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,18,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,865,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,24,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1932,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,659,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,703,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,15,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,61,साहित्यम्,2,साहित्यिक गतिविधियाँ,186,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,69,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: रामलीला मेरे गांव की - गीता द्विवेदी की कविताएँ
रामलीला मेरे गांव की - गीता द्विवेदी की कविताएँ
https://lh3.googleusercontent.com/-C4Dd_Sn1B6o/W_qBeVrzytI/AAAAAAABFUU/StF-9yWiyvgwsnSykSd9OQeqW0SBU-MUACHMYCw/IMG-20181007-WA0013_thumb?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-C4Dd_Sn1B6o/W_qBeVrzytI/AAAAAAABFUU/StF-9yWiyvgwsnSykSd9OQeqW0SBU-MUACHMYCw/s72-c/IMG-20181007-WA0013_thumb?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2018/11/blog-post_24.html
https://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2018/11/blog-post_24.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ