370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

लघुकथा // पेंशन // निहाल चन्द शिवहरे

image

पेंशन


बैंक के केबिन से मेरी दृष्टि बाहर एकत्र बुजुर्ग ग्राहकों पर पड़ी। मैंने अपने चपरासी से पूछा " यह भीड़ कैसी है ? "

चपरासी ने जवाब दिया ' सर, आप भूल गये आज तो वृद्धावस्था पेंशन का वितरण दिवस है , इसलिए आज सभी बैंक आये हैं ।

" हॉं , याद आया " यह कहते हुए मैं अपने कार्य में व्यस्त हो गया ।

नमस्ते बेटा , अचानक यह सुनकर मेरा ध्यान भंग हुआ । मैंने उनका अभिवादन करते हुए प्रश्नवाचक दृष्टि से उनके साथ आये एक लड़के की ओर ध्यान से देखा तो उन्होंने परिचय कराते हुए कहा कि "ये मेरे छोटे बेटे का बेटा है जो मेरे साथ आया है ।"

कार्य में व्यस्त होते हुए भी मैंने उत्सुकतावश पूछा कि "पिछली बार आपके साथ जो पोता आया था , वह इससे उम्र में छोटा है या बड़ा ।"

अचानक उनके चेहरे के भाव बदल गये और उनकी आवाज़ भर्रा गयी ,करूण भाव से बोली " बेटा पिछली छ:माही में , मैं अपने बड़े बेटे के साथ रह रही थी इसलिए उसका बेटा मेरे साथ आया था । अब अगली छ:माही में , मैं छोटे बेटे के साथ रहूँगी , इस कारण छोटे बेटे का पुत्र आज मेरे साथ पेंशन लेने आया है ।"

मैं अवाक् !!!!!

----------------------------

निहाल चन्द शिवहरे

     374, नानक गंज , सीपरी बाज़ार

झॉंसी - 284003

लघुकथा 3944901934798352419

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव