---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

प्राची - जनवरी 2019 : साहित्य पद्मावत : लोकचेतना में लिपटा दिव्य सौंदर्य - डॉ. राज भारद्वाज

साझा करें:

साहित्य पद्मावत : लोकचेतना में लिपटा दिव्य सौंदर्य डॉ. राज भारद्वाज भारतीय संस्कृति की सौंदर्य चेतना के निर्माण में सूफी साहित्य का विशिष्ट ...

साहित्य

पद्मावत : लोकचेतना में लिपटा दिव्य सौंदर्य

डॉ. राज भारद्वाज

भारतीय संस्कृति की सौंदर्य चेतना के निर्माण में सूफी साहित्य का विशिष्ट योगदान रहा है। मलिक मोहम्मद जायसी भक्ति काव्य की सूफी प्रेमाख्यानक कविता के प्रतिनिधि कवि हैं। जायसी कृत ‘पद्मावत’ सूफी साहित्य की कालजयी रचना है। पद्मावत ही लोक चेतना में पद्मावत, पद्मावती अथवा पद्मनि के रूप में भी प्रसिद्ध हैं। ‘मलिक’ शब्द जायसी के पूर्वजों की याद दिलाता है जो सम्भवतः अरब से आए हुए माने जाते हैं। उत्तर प्रदेश के रायबरेली जिले में ‘जायस’ नाम का एक छोटा सा कस्बा है, जहाँ इनके निवास करने के कारण वो जायसी कहलाया। ‘पद्मावत’ में जायसी ने लिखा भी है- ‘जायस नगर धरम अस्थानू। तहाँ आइ कवि कीन्ह बखानू।’

‘आखिरी कलाम’ में भी जायसी एक स्थान पर कहते हैं-

‘जायस नगर मोर अस्थानू।

नगर क नाँव आदि उदयानू।

तहाँ दिवस दस पहुने आएउँ।

भा बैराग बहुत सुख पाएउँ।।’

पद्मावत की रचना हिजरी संवत् 927 यानि (सन् 1540) में बतायी जाती है। ‘सन नौ सै सत्ताईस अहा। कथा अरंभ बैन कवि कहा।’ इन प्रमाणों के आधार पर यह पता चलता है कि जायस को ही जायसी का स्थायी निवास या निर्माण काल माना जा सकता है. उस समय के लोग ‘उदयानू’ को ‘जायस’ का पुराना नाम बताते हैं और कहते हैं कि जायस का यही पुराना नाम उदयानू था।

यह प्रसिद्ध है कि जायसी बचपन में ही अपने माता-पिता को खो चुके थे और मानिकपुर अपने नाना के घर रहते थे। इनके जन्मकाल को लेकर कोई निश्चित नहीं है अलग-अलग विद्वानों के अनुसार अलग-अलग जन्म स्थान बताया जाता रहा है ये हमेशा साधू फकीरों के वेश में रहा करते थे। कुछ लोग इसे मलिक शेख ममरेज़ और मानिकपुर के शेख अलहदाद की पुत्री की संतान बताते हैं लेकिन इससे प्रामाणिक तथ्य की पुष्टि नहीं होती है। जायसी कुरूप थे और उन्होंने स्वयं को एक आँख का काना कहा है, उनके एक कान से सुनाई भी नहीं पड़ता था। जायसी ने अपने कुरूपता का उल्लेख अपनी रचना पद्मावत में स्वयं ने किया है-

मुहम्मद वाई दिसि तजा, एक स्रवन, एक आँखि।’

जायसी के बारे में कहा जाता है कि उन्होंने अपनी कुरूपता की क्षतिपूर्ति अपने प्रभावशाली लेखन रूपी काव्य से पूरी की। यह जायस में भी प्रसिद्ध है कि वे एक बार शेरशाह के दरबार में गए तो शेरशाह उनके चेहरे की कुरूपता को देख कर हंस पड़ा तो जायसी ने बड़े ही शान्त भाव और सहजता से शेरशाह से पूछा ‘मोहिंका हँसेसि, कि कोहरहि’ अर्थात् तू मुझ पर हँसा या उस कुम्हार (ईश्वर) पर जिसने यह कुरूपता गढ़ी। इस बात को सुनकर शेरशाह सबके सामने लज्जित हुआ और उनसे माफी मांगी। कुछ किवदंतियां है कि जायसी शेरशाह के दरबार में नहीं गये बल्कि शेरशाह ही जायसी से मिलने स्वयं उनके पास आए थे। इसी से कवि जायसी के प्रभावशाली व्यक्तित्व का अंदाजा लगाया जा सकता है कि वह इतना प्रतिभाशाली, विनम्र और वाक्य चातुर्य से परिपूर्ण था।

जायसी का जन्म आचार्य रामचन्द्र शुक्ल ने काजी नसरूद्दीन हुसैन जायसी जिन्हें अवध के नवाब शुजाउद्दौला से सनद मिली थी उनके अनुसार 870 हिजरी यानी 1464 ई. और उनकी मृत्यु 4 रषब 949 हिजरी यानि (1542 ई.) स्वीकार किया है। कहा जाता है, कि जीवन के अंतिम दिनों में अमेठी से दो किलोमीटर दूर एक जंगल में रहते थे और अमेठी राजघराने में इनका बहुत मान था, इसलिए इनकी मृत्यु स्थान अमेठी को ही माना जाता है।

जायसी की सूफी संत परम्परा को लेकर अलग-अलग संकेत देखने को मिलता है. आचार्य रामचन्द्र शुक्ल ने जायसी को सूफी फकीर शेख मोहिदी (मुहीउदीन) के शिष्य बताते हैं जबकि कुछ लोग सैयद अशरफ़ जहाँगीर को जायसी का गुरू मानते हैं। ‘चित्ररेखा’ पुस्तक की पंक्तियों में कालपी वाले मुहीउद्दीन महँदी को जायसी का गुरु कहा गया है-

‘महँदी गुरू सेख बुरहानू। कालपि नगर तेहिंक अस्थानू।

सो मोरा गुरू तिन्ह हौ चेला। धोबा पाप-पानि सिर मेला।।’

जायसी एक ऐसे सच्चे सूफी साधक थे जिन्होंने प्रेम का ही नहीं बल्कि वर्ग, वर्ण, नस्ल, धर्म, सम्प्रदायगत भेदों से ऊपर मनुष्यता और साधारण जन का पैरोकार इन्सान माना जाता है। जिस तरह से तुलसी को लोकनायक कवि कहा जाता है उसी तरह जायसी भी अपनी जमीन, अपनी मिट्टी, अपने अंचल के मन के सहज पारखी कवि थे. साधारण जनमानस की सोच ही उनकी सोच थी या सोच का प्रतिबिम्ब था। जायसी ने ‘पद्मावत’ नामक प्रबन्ध-काव्य की रचना मसनवी शैली में की जो उस समय की सबसे महत्त्वपूर्ण रचनाओं में से एक मानी गयी। उस समय के भारतीय जनमानस के जोड़ का काव्य दूर-दूर तक देखने को नहीं था, तुलसी के रामचरित मानस के अलावा। यह महाकाव्य हिन्दूओं और मुसलमानों दोनों के बीच ‘साधुता’ का परिचय देने वाला आदर्श काव्य माना गया था। जायसी की सूफी काव्य परम्परा पारसी सूफी मसनवियों से प्रभावित होकर भी पूरी तरह से भारतीय थी। ईश्वर वंदना, शाहेवक्त की प्रशंसा, गुरू-वन्दना, आत्म परिचय फिर अपना परिचय यह मसनवियों की विशेषता मानी जाती थी। सूफियों ने तसव्वुफ की उदयभूमि में भी मुल्लावाद के विरोध में साधारण जीवन और निश्छल पे्रम पर ही जोर दिया जिसे जायसी कृत पद्मावत में भी स्पष्ट देखा जा सकता है।

जायसी निजामुद्दीन औलिया की शिष्य परम्परा के कवि है। वह जनमानस के हृदय कवि थे जिन्होंने मुसलमान होकर भी हिन्दू-मुस्लिम समाज और संस्कृतियों का उल्लेख बखूबी से किया। विजयदेवनारायण साही ने अपनी ‘जायसी’ नामक रचना में जायसी को हिन्दी के पहले ‘विधिवत वरिष्ठ कवि’ माना। वे कवि नहीं हैं, बल्कि आत्मसजग कवि हैं। इसी प्रसंग में कबीर और जायसी की तुलनात्मक रूप से तारीफ़ करते हुए आचार्य रामचन्द्र शुक्ल जायसी को कबीर से भी बड़ा बता देते हैं जिसका उल्लेख यहाँ इस उद्धरण में समझा जा सकता है-

‘कबीर ने अपनी झाड़ फटकार के द्वारा हिंदुओं और मुसलमानों के कट्टरपन को दूर करने का जो प्रयास किया वह अधिकतर चिढ़ानेवाला सिद्ध हुआ, हृदय को स्पर्श करने वाला नहीं। ....जायसी ने मुसलमान होकर भी हिंदुओं की ही बोली में पूरी सहृदयता से कहकर उनके जीवन की मर्मस्पर्शिनी अवस्थाओं के साथ अपने उदार हृदय का पूर्ण सामंजस्य दिखा दिया। कबीर ने केवल भिन्न प्रतीत होती हुई परोक्ष सत्ता की एकता का आभास दिया था। प्रत्यक्ष जीवन की एकता का दृश्य सामने रखने की आवश्यकता बनी थी। यह जायसी द्वारा पूरी हुई।’

जायसी एक खास विचारधारा या परिपाटी के कवि नहीं थे। सूफी काव्य धारा या विश्वास ही उनके काव्यसृजन की प्रतिभा का निर्धारण करते हुए दिखायी देते हैं। प्रबंध-रचना में लिखी गयी उनकी शैली मसनवी-शैली है। एक भारतीय कवि के स्वभाव का समावेशी दृष्टिकोण, उदारता, त्याग एवं उदात्तता का रचनात्मक विवेक जायसी के पद्मावत में देखने को मिलता है। सूफी कवि नैतिक जीवन को ही भक्ति के लिए पर्याप्त समझते और मानते थे। भक्ति के नाम पर कोई आडम्बर जायसी के बीच में कभी बाधक नहीं बना। जायसी की गुरू-परम्परा पर उल्लेख करते हुए वासुदेवशरण अग्रवाल कहते है- ‘जायसी के मन में जो निर्मल भाव थे, वे अकस्मात् किसी एक व्यक्ति के हृदय में उत्पन्न हो गए हों, ऐसी बात नहीं है। वस्तुतः इस प्रकार के मनोभावों की देश में एक पृष्ठभूमि थी, जो उनकी गुरू-परम्परा पर ध्यान देने से समझी जा सकती है. मुसलमानी शासकों ने देश के अनेक भू-भागों पर अधिकार जमाकर राज्य-शक्ति को अपने हाथ में कर लिया था, जिन्होंने जनता के भीतर प्रविष्ट होकर जनता की भाषा में उसी के स्तर पर धर्म का प्रचार किया।’

जायसी लोक जीवन एवं लोकमानस के कवि हैं। उनके प्रबंध-काव्य में लोक जीवन के विविध रंग रूप देखने को मिलते हैं जो पूर्ण रूप से भारतीय सांस्कृतिक परम्परा में खरे उतरते हैं। उनके काव्य में लोक में प्रचलित तंत्र-मंत्र, जादू-टोना, विवाह, संस्कार, पर्व, लोक-गीत, लोकगान, लोक-कथाएँ, जन्म-मरण, प्रेम, विवाह, राग-विराग, आभूषण, हाट-बाजार का सौंदर्य, श्रृंगार, सजावट, वेश्याओं का सौंदर्य, शतरंज, चौगान, पनिहारियों का सौंदर्य, भौंरे के रंग, मेंहदी के रंग, होली, दीवाली, बसंत-पंचमी, भूत-प्रेत, अंधविश्वास, अंध-आस्थाएं, जादू-टोना, शकुन-अपशकुन, मुहूर्त-विचार, लग्न-टीका, तीर्थांटन, पेड़-पौधे, नदी-नाले, पशु-पक्षी, जंगल-पठार, युद्ध, स्थापत्य, मैत्री, ईर्ष्या, आदि लोकमन में गहनता से विद्यमान है। एक जगह पद्मावत के मानसरोदक खण्ड के माध्यम से लोकसंस्कार किस तरह चिंता का कारण बनते हैं, इन पंक्तियों के माध्यम से समझा जा सकता है-

‘ए रानी! मन देखु बिचारी। एहि नैहर रहना दिन चारी।

जौ लागे अहै पिता कर राजू। खेलखेलहु जो खेलहु आजू।।

पुनि सासुर हम गवनब काली। कित हम कित यह सरवर पाली।

कित आवा पुनि अपने हाथा। कित मिलि कै खेलव एक साथा।।

सासुननद बोलिन्ह जिउ लेंही। दारून ससुर न निसरै देहीं।।’

जायसी किस तरह लोकव्यवहार और लोकजीवन में रचे बसे थे उन्होंने पद्मावत में जो लोक जीवन का यथार्थ वर्णन किया उसी सन्दर्भ में शिवकुमार मिश्र ‘भक्ति आंदोलन और भक्तिकाव्य’ नामक पुस्तक में लिखते हैं कि ‘लोक जीवन का एक विशिष्ट पहलू लोक की अपनी संस्कृति होती है जिसमें लोक का व्यवहार, उसके आचार मूर्त होते हैं। जन्म से लेकर मृत्यु तक के संस्कार और उनसे जुड़ा लोक मन का हर्ष उल्लास और दुख दाह, उसका अंग है। अपने इस प्रबंध-काव्य में जायसी ने इन्हें विशद रूप में आँका और हमारे अपने अनुभव का विषय बनाया है। जन्म, नामकरण, लग्न, विवाह, सुहागरात, भोजन, जेवनार आदि आदि तथा मृत्यु तक के सारे विधान पद्मावत में हैं, अपने पूरे ब्योरों के साथ।’ आगे इसी लोक जीवन से जुड़े प्रसंगों के संदर्भों में वागर्थ में प्रकाशित विजयबहादुर सिंह का लेख ‘जायसी का सौंदर्यबोध’ उल्लेखनीय है कि ‘जायसी के ‘पद्मावत’ में जो बात मुझे खींचती है, वह है उनके जैसा लोकजीवन का चित्रण तुलसी में भी नहीं है। उसमें भी अवध का जीवंत किसानी जीवन। तुलसी ने यह सब जरूरत भर किया है। पर जायसी उसे एक प्रधान जीवनानुभूति के रूप में व्यक्त करते हैं। इसलिए वे षड्ऋतु वर्णन के साथ-साथ लोक की ‘बारहमासा’ वाली परम्परा को भी स्थान देते हैं।’

‘पद्मावत’ एक प्रेम काव्य है। सूफी कवि प्रेम को ही ईश्वर प्राप्ति का एकमात्र साधन मानते थे। सूफी साधक विरह को ही पे्रम की कसौटी मानते आये हैं। जिस तरह जायसी ने ‘पद्मावत’ में पद्मावती रूपी ईश्वर के पे्रम में रत्नसेन रूपी साधक या भक्त को पे्रम में मतवाला दिखाया गया है यहां परमात्मा रूपी ईश्वर के रूप में पद्मावती या स्त्री तथा दूसरी तरफ आत्मा रूपी रत्नसेन पुरूष को एक दूसरे को एक दूसरे के साथ किस तरह जायसी अपने काव्य में उल्लेख करते हैं जो किसी से छिपता नहीं है। आचार्य रामचन्द्र शुक्ल जायसी ग्रंथावली में चार प्रकार के पे्रम की चर्चा करते हैं, पहला पे्रम वह होता है जो विवाहोपरान्त उत्पन्न होता है, जैसे राम और सीता का। दूसरा प्रेम वह होता है, जिसमें प्रेमी-पे्रमिका किसी उपवन या सुरम्य जगह पर मिलते है और पे्रम हो जाता है, जैसे दुष्यन्त और शकुन्तला का। तीसरा पे्रम वह होता है, जिसकी शुरुआत राजाओं के अंतःपुर में होती है और चौथा पे्रम वह होता है जिसको स्वप्न-दर्शन, चित्र-दर्शन, गुण-श्रवण के बाद मन में उदय होता है। और जायसी का पे्रम भी चौथे प्रकार के प्रेम के रूप में इस प्रबंध काव्य में देखने को मिलता है।

जायसी इस मसनवी शैली के प्रेमाख्यानक काव्य को लौकिक प्रेम को अलौकिक बनाया है। इस प्रेम में पे्रमी को परमात्मा के रूप में देखता है, उसे पाने के लिए चाहे लाख कष्ट ही क्यों न सहना पड़े वह उसे सहने के लिए तैयार रहता है। जायसी का प्रेम भक्ति का नहीं, पूरी मनुष्य जाति का है। जायसी सम्पूर्ण समाज में प्रेम की आग जगाना चाहते थे वह भी धर्म धरातल पर नहीं मनुष्यता के धरातल पर। उस समय की मांग ही हिन्दू-मुस्लिमों के बीच पे्रम की स्थापना करना। वह कहते हैं-

‘मानुष प्रेम भयहु बैकुंठी, नाहित कार छार भई मूँठी।-

अर्थात् मनुष्य का प्रेम ही स्वर्गीय तत्त्व है. इससे बढ़कर दुनिया में कुछ नहीं है वह ईश्वर के प्रति प्रेम पर जोर नहीं देता और न ही उसे ‘बैकुंठी’ कहता है। जायसी पे्रम को सम्पूर्ण मानवीय धरातल पर देखते हैं उसे सम्पूर्ण समाज का हिस्सा बनाते हैं। जायसी के मर्मज्ञ अनुवादक-व्याख्याता शिरेफ़ ने जायसी के महत्त्व को स्पष्ट करते हुए कहा है- ‘जायसी सबसे पहले कवि हैं और पे्रम की कहानी ही उनका प्रमुख वक्तव्य है।’ आगे जायसी पद्मावत में पे्रम की महत्ता की घोषणा बार-बार करते हुए देखे जा सकते हैं. प्रेम के इस महत्त्व-स्मरण से जायसी अपने लक्ष्य को पहचानते हुए कहते हैं-

‘तीन लोक चौदह खण्ड सबै परै मोहिं सूझि।

पे्रम छाँड़ि नहिं लोन किछु जो देखा मन बूझि।।’

‘पद्मावत’ एक सूफी कवि द्वारा लिखा गया प्रेमाख्यानक महाकाव्य है जिसमें इश्क-मजाजी में इश्क-हकीकी अर्थात् लौकिक से अलौकिक प्रेम की व्यंजना की गयी है। जायसी का प्रेम आध्यात्मिक प्रेम के निकट ठहरता हुआ दिखायी देता है। जिस तरह से जायसी ने अपने पे्रम चित्रण में भारतीय और फ़ारसी प्रभाव दोनों का अच्छा मिश्रण इस महाकाव्य में दिखाया है। जायसी अपने ‘पे्रम की पीर’ को मानवीय तथा लौकिक भूमि पर बड़ी सहृदयता और भावुकता के साथ व्यंजित करते हैं। इनका पे्रमदर्शन एक मौलिक उपलब्धि है। आचार्य शुक्ल पे्रम की महत्ता के सन्दर्भ में ‘त्रिवेणी’ में कहते हैं ‘जायसी ऐकान्तिक प्रेम की गूढ़ता और गम्भीरता के बीच-बीच में जीवन के और अंगों के साथ भी उस पे्रम के सम्पर्क का स्वरूप कुछ दिखाते गये हैं, इससे उनकी प्रेमगाथा पारिवारिक और सामाजिक जीवन से विच्छन होने से बच गयी है। उसमें भावात्मक और व्यवहारात्मक दोनों शैलियों का मेल है। पर है वह प्रेमगाथा ही, पूर्ण जीवनगाथा नहीं। ग्रंथ का पूर्वार्द्व-आधे से अधिक भाग तो पे्रममार्ग के विवरण से ही भरा है...

जायसी के ‘पद्मावत’ में पद्मावती का सौंदर्य औदात्य आभा के साथ देखने को मिलता है और पद्मावती के सौंदर्य को एक अलौकिक और अद्वितीयता के साथ जायसी प्रस्तुत करते हैं। पद्मावती का सौंदर्य ऐन्द्रिय संवेदनात्मक अनुभवों से गुजरता हुआ रूपों, बिम्बों, रूप, रस, गंध, स्पर्श को छूता हुआ लोक से लोकोत्तर की ओर जाता है। पद्मावती के प्रेम सौंदर्य को अलग-अलग लोगों द्वारा अलग रूपों में व्यंजित किया जाता है जैसे हीरामन तोता, पप्रमनि के सौंदर्य का बखान जिस रूप में करता है उस रूप में राघव चितौड़ पहुँचकर अलाउद्दीन के समक्ष पप्रनि के सौंदर्य का बखान नहीं करता। राघव चेतन सौंदर्य वर्णन करते समय कहता है, कि पद्मावती की देह सोने जैसी है, हँसने पर उसके दाँतों से फुलझरी छूटती है। वह आगे कहता है, उसकी नजरें इतनी कामुक हैं कि पुरुष को नागिन की तरह डंस लें और पूरे शरीर में जहर फैला के बैचेनी पैदा कर दें। ‘राजा-सुआ संवाद-खण्ड’ में तोते के द्वारा कही गयी उक्तियाँ -

"उन्नत सूर जस देखिए, चाँद छपै तेहि धूप।

ऐसे सबैं जाहिं छपि पप्रावति के रूप।।"

जायसी के ‘पद्मावत’ में सौंदर्य चित्रण दो स्थलों पर देखने को मिलता है एक ‘नखशिख-खण्ड में’ और दूसरा ‘पद्मावती रूप चर्चा खण्ड’ में। जिसमें एक खण्ड में हीरामन तोता वर्णन करता है तो दूसरे खण्ड में राघव चेतन प्रतिशोध लेने के छल से अलाउद्दीन के समक्ष रूप सौंदर्य को प्रकट करता है।

जायसी के पद्मावती के सौंदर्य में चमक का बार-बार प्रयोग देखने को मिलता है जैसे झलकना, कौंधना, चमकना जैसी प्रतिकात्मक क्रियाएँ बार-बार दिखायी देती है। जायसी पद्मावती के नेत्रों की पुत्तलियों को ‘कालभँवर’ कहते हुए नेत्रों की उपमा ‘सुभर-सरोवर’ से कर देते हैं। पद्मावती को यहाँ मालती कहा जाता है, इसके कैश भौंरे जैसे हैं जब उन कैशों को खोलती है तो पृथ्वी घनी अंधकारमयी हो जाती है। उसकी बोली कोयल जैसी है, उसके वक्ष नारंगी जैसे हैं, और ऐसा लगता है उस पर बैठा भौंरा मानों रसपान कर रहा हो। वह बोलती है तो फूल झड़ते हैं, हंसती हैं तो संसार में उजाला हो जाता है। उसकी गर्दन मोरनी जैसी है और जब पान खाती है तो उसके नाल से पान की लाल लकीर दिखती है। ऐसा सौंदर्य पद्मावती का जायसी के काव्य में देखने को मिलता है।

सूफी कवि प्रेम के मार्ग को ही महत्त्वपूर्ण बताकर जीवन दर्शन के लिए सर्वोच्च मानते हैं। जायसी ‘मसलानामा’ कृति में भी प्रेम के महत्त्व को भी रेखांकित करते हैं। साथ ही अहंकार का नाश सिर्फ प्रेम के माध्यम से ही किया जा सकता है। ‘चित्ररेखा’ रचना जायसी की वृद्धावस्था की रचना है, जिसमें प्रेमकाव्य में समासोक्ति जैसी गंध देखने को मिलती है। ‘अखरावट’ ककहरा शैली पर लिखी गई रचना है। ‘कहरनामा’ में मध्यकालीन संतों की बहुत सी कहानी कही गई है। ‘अखरावट’ में देवनागरी वर्णमाला के एक-एक अक्षर को लेकर सैद्धांतिक बातों की चर्चा की गई है। जबकि ‘आखिरी कलाम’ में कयामत का वर्णन है। अन्त में पद्मावती में प्रेम का वर्णन किया है जो अपने आप में अद्भूत है।

पिछले दिनों पद्मावती एक बार फिर से भारतीय लोकमानस में चर्चा के केन्द्र में उभरकर सामने आयी। इसका प्रमुख कारण पद्मावती पर आधारित एक फिल्म का निर्माण और उससे जुड़ी राजपूत समाज की तीखी प्रतिक्रिया थी। सवाल उठता है कि पद्मावती इतिहास है या लोकचेतना में लिपटा कोई नैसर्गिक दिव्य सौंदर्य। पद्मावती को लेकर पहला सवाल मेरे जेहन में उसके ऐतिहासिक संदर्भों से टकराता है। फिल्म ‘पद्मावती’ को कुछ समीक्षक सूफी कवि मलिक मोहम्मद जायसी की रचना ‘पद्मावत’ पर आधारित मानते हैं। जायसी, जो कि सूफी कवि थे, उत्तर प्रदेश के अमेठी के आसपास रहते थे। अवधी भाषा में लिखते थे। मूलतः सूफी मत के साधक थे और सूफी साधना के माध्यम से इस्लाम को भारतीय जनमानस से जोड़ना चाहते थे। इसी दौर में तलवार के दम पर इस्लाम के फैलाने की बजाय रोमांटिक सूक्ष्म प्रेम साधना के जरिए इस्लाम की पैठ बनाने के ख्वाहिश मंद थे। इसके लिए हिन्दू लोक-जीवन में मौजूद कथाओं में सूफी रंगत के सहारे अपने अपने उद्देश्य को साधते थे। ‘पद्मावत’ ग्रथ की नायिका खुदा की प्रतीक है। जिसे पाने के लिए साधक को इश्क-मिजाजी से इश्क-हकीकी जैसी अवस्थाओं के रहस्यवाद से गुजरना पड़ता है। हिंदी के विद्वान आलोचक इसे अन्योक्ति काव्य के रूप में व्याख्यायित करते हैं। पद्मावत, राजा रत्नसेन की पूर्व पत्नी नागमती, राघव-चेतन, गोरा-बादल, अलाऊद्दीन खिलजी आदि पात्र इस ग्रंथ की कथा-योजना में शामिल हैं। ग्रंथ की कथावस्तु लोक-जीवन में उपलब्ध चित्तौड़ की महारानी पद्मावती के इर्द-गिर्द घूमती है। लोगों का मत है कि पद्मावत या रानी पप्रिनी की कहानी दरअसल जायसी के पद्मावत से निकलकर लोकगाथाओं से होते हुए किले, मोहल्लों में रच-बस गयी। जबकि सूफी परम्परा के अध्येता मानते हैं कि जायसी ने लोक-परम्परा में मौजूद रानी पप्रिनी की शौर्य-गाथा को अपने ग्रंथ का आधार बनाया। जायसी अवधी के कवि थे. अवधी भाषा में लिखी गई ‘पद्मावत’ से चित्तौड़ के लोक जीवन में रानी पप्रिनी के रचने-बसने की कल्पना, तर्क से परे है क्योंकि भाव-भाषा के स्तर पर चित्तौड़ राजपूतानी शान का ऐतिहासिक केन्द्र रहा है और राजस्थानी भाषा बोलने वाले लोगों पर अवधी की किसी रचना का इतना अधिक प्रभाव अखरता है। स्पष्ट होता है कि रानी पप्रिनी की जौहर-गाथा लोक-जीवन में पहले से मौजूद थी जिसे सूफी कवि जायसी ने इस्लाम के भीतर मौजूद ‘सूफी मत’ को फैलाने में इस्तेमाल किया है।

पद्मावत को लेकर कुछ इतिहासकारों की शोध-दृष्टि बेहद अंधकारमय और उलझी हुई है। 1540 के आसपास लिखी गई पद्मावत से लगभग 200 साल पहले 1303 के आसपास दिल्ली के सुल्तान अलाऊद्दीन खिलजी ने चित्तौड़ पर हमला किया। भयंकर युद्ध में चित्तौड़ की हार हुईं। हारने वाला चित्तौड़ का राजा कौन था? इतिहासकार - चुप...! क्यों? क्योंकि जियाऊद्दीन बर्नी ने उसका नाम नहीं बताया। अगर बर्नी ने नहीं बताया तो भी चित्तौड़ में हारने वाला कोई राजा तो जरूर था। यह उतना ही सच है जितना आप अपने दादाजी के दादाजी के दादाजी का नाम बेशक न जानते हों लेकिन वे थे जरूर। यह जानना भी रोचक है कि ऐतिहासिक सत्य की मर्मानुभूति इतिहास लिखने और लिखवाने वाले की दृष्टि में बसती है। हारने वालों को इतिहासकारों ने कोई तवज्जो नहीं दी है। लेकिन अपने वतन की रक्षा के लिए प्राणों को न्यौछावर करने वाले वीर योद्धाओं का इतिहास तत्कालीन समाज से गुजरता हुआ लोकगाथाओं, किंवदंतियों, लोकगीतों, कहावतों में जिंदा रहता है। यह किसी इतिहासकार द्वारा लिखित पुर्जे से अधिक शक्तिशाली और महत्त्वपूर्ण होता हैं यद्यपि इसमें अतिरंजना का पुट इसको अधिक रोचक और जीवंत बनाता है, तो भी यह देश-काल की सीमाओं से परे चला जाता है। व्यापक अर्थों में ऐसे मिथकों का निर्माण करता है जो युगों-युगों तक मानव-चेतना को नयी ऊर्जा देता है। इस अर्थ में मिथक अतिरंजित और किसी हद तक काल्पनिक होकर भी इतिहास से अधिक व्यापक और ताकतवर हो उठता है। देशकाल की सीमाएँ पीछे छूट जाती हैं। पद्मावती या पप्रिनी रानी एक ऐसा ही ऐतिहासिक चरित्र है जिसने देशकाल की सीमाएँ लाँघकर आस्था और सत्ता आप्लावित मिथक का रूप ले लिया है। यद्यपि यह तय है कि सारा मिथक साहित्य इतिहास नहीं हो सकता तब भी मिथकों में, साहित्य में, लोक-चेतना में इतिहास के तत्त्व बिखरे पड़े हैं, इसमें संदेह नहीं होना चाहिए। कहा भी गया है कि इतिहास में डे, डेट, घटना के अलावा कुछ भी सत्य नहीं होता जबकि साहित्य में डे, डेट, घटना से अलग सभी कुछ सत्य होता है। वह अपने समय का दस्तावेज होता है। जिसमें मनुष्य की चित्तवृत्तियाँ समाहित होती है। युगीन-मूल्य मौजूद रहते हैं। इतिहास अपने मूल चरित्र में तथ्यों के अन्वेषण पर बल देता है, जबकि लोकजीवन में रचा-बसा साहित्य और मिथक व्यापक अर्थों में मानव मन के भीतर घटित सत्य के अधिक निकट होता है। इस रूप में इतिहास-राजाओं के युद्धों का, हारजीत का सिलसिलेवार वर्णन करता है और लोक-गाथाएँ तथा श्रेष्ठ साहित्य-अपने समय के समाज के क्रिया-व्यापार का, रीति-रिवाज का मान्यताओं और जीवन-मूल्यों का सजीव चित्रण होता है। इसलिए लोक-परम्परा से अपनी फिल्मों का कथानक चुनकर उससे व्यवसाय करने वाले कलाकारों को अधिक सजग होकर चलने की अपेक्षा है। आप अपनी फिल्मों में इतिहास की नयी कलात्मक व्याख्याएँ करके लोकमानस को आस्था के स्तर पर विचलित करने का कार्य नहीं कर सकते। नयी पीढ़ी को मल्टी मीडिया के माध्यम से इतिहास और लोक-जीवन का घालमेल कर अपना ‘क्रिएटिड छप्र इतिहास’ नहीं परोस सकते।’

कथित इतिहासकारों की दृष्टि का उलझाव एवं भटकाव इतना विकट है कि उन्होंने स्वयं तो इस संदर्भ में अपेक्षित रिसर्च की ही नहीं, जो उपलब्ध तथ्य, साक्ष्य, सूत्र-किलों, मंदिरों, साहित्य या लोक-गाथाओं में बिखरे पड़े थे उन्हें भी सिरे से नकार दिया। यहाँ तक कि पद्मावती और उनसे जुड़े घटनाक्रम को कोरी कल्पना की बकवास घोषित कर दिया। हैरानी होती है कि एक ओर तो इतिहासकार प्राचीन भारत के संदर्भ में अपनी रिसर्च को दमदार और फलदायी बताते हुए उपलब्ध साहित्य के सूत्रों का उपयोग कर कथित रूप से प्राचीन भारत के जीवन-चिंतन को, हिंसा प्रेरित प्रमाणित करने के लिए आतुर हैं। भारतीय चिंतन के चरम-मूल्य ‘अहिंसा’ को गाँधी का ‘क्रिएटिव मिथक’ घोषित करते हैं और दूसरी ओर चित्तौड़गढ़ के किले, साहित्य, लोक-परम्परा इत्यादि में कोई ऐतिहासिक सूत्र नहीं खोज पाते। यहाँ उल्लेखनीय है कि साहित्य, स्थापत्य, पुरातत्व इत्यादि इतिहास सम्बन्धी शोध के प्रमुख सूत्र माने जाते हैं। यदि टीपू सुल्तान के पास राकेट जैसे हथियार थे जो कि उनसे सम्बन्धित चित्रों से ज्ञात होता है, तो महारानी पप्रिनी के महल, आज भी उपलब्ध जौहर-स्थल, लोक-साहित्य को चित्तौड़ के इतिहास का अंग मानने में भला एतजराज क्यों है? पप्रिनी के सौंदर्य की चर्चा प्रायः भारत भर के हर घर तक चली आयी है। नयी नवेली सुन्दर दुल्हन के ससुराल में आने पर आज भी गाँव-देहात की औरतें उसे पप्रिनी रानी जैसी सुन्दर बताती हैं। दरअसल बात यह है कि विदेशी पैमानों और औजारों से इतिहास की मरम्मत करने वाले विचारकों का मूल मंतव्य भारतीय मन से जुड़ता ही नहीं है। सोलह हजार वीरांगनाओं के साथ इतिहास का सबसे बड़ा जौहर करने वाली पद्मावती को आत्मदाह या पति वियोग में विलाप करके दम तोड़ती औरत के रूप में व्याख्यायित करते हैं। स्त्री-स्वाभिमान, नारी के सतीत्व का सम्मान, प्राण देकर भी पति के प्रति एकनिष्ठता का प्रण निभाना, राष्ट्र के ऊपर पहले अपने वीर योद्धा पति की कुर्बानी, फिर गोरा-बादल जैसे वीर सैनिकों का युद्ध भूमि में वीरगति को प्राप्त करना और नारी अस्मिता की रक्षा के लिए स्वयं भी जिंदा अग्नि-स्नान कर लेना पश्चिमी दृष्टि-धारक इतिहासकारों की समझ से परे की बात है। यह स्पष्ट रूप से कथित बुद्धिजीवियों के आम जनमानस के निकट हुए होने की घटना है या जनता द्वारा विदेशी मानसिकता से लिखे गए अपने पुरखों की परम्पराओं, इतिहास और दास्तानों को नकार देने की बात है।

कहते हैं कि ‘मदर इंडिया’ फिल्म को ‘आस्कर’ नहीं मिलने का एक कारण यह था कि ज्यूरी के एक सदस्य को यह समझ नहीं आया कि क्यों नायक के घर वापिस न आने की स्थिति में नायिका (राधा) ने विलेन के शादी के प्रस्ताव को ठुकरा दिया। जबकि विलेन उसके दो बेटों की जिम्मेदारी उठाने को तैयार था। जरा सोचिए अगर नायिका ने विलेन का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया होता तो वह भारतीय माँ अर्थात् ‘मदर इंडिया’ के त्याग-तपस्या-बलिदान वाले चरित्र से कितनी दूर निकल गयी होती।

दरअसल ‘पद्मावती’ फिल्म के इस विवाद के बहाने से इतिहास और परम्पराओं की उचित व्याख्या तथा उन पर भारतीय दृष्टि से अनुसंधान करने की आवश्यकता स्पष्ट हुई है। संजय लीला भंसाली जैसे फिल्मों से जुड़े कलाकारों, व्यावसायियों को कलात्मक पुनर्सृजन का अधिकार तो है। लेकिन उन्हें समझना होगा कि यह प्रेम-सौंदर्य से भरी-स्त्री-पुरुष संबंधों की एक और कलात्मक प्रस्तुति या रोमांटिक फेंटेसी नहीं है, बल्कि इतिहास से आगे चलकर जन-मन में रच-बस गए आस्था, विश्वास, श्रद्धा, वीरता और उत्सर्ग जैसे मूल्यों की ड्डोत-वाहिनी, चित्तौड़ की पूज्य महारानी पप्रिनी की जौहर-गाथा है जिसे न तो 500 करोड़ या 1000 करोड़ के नफे-नुकसान के व्यवसाय से ही समझा जा सकता है और न ही ‘जिसे पसंद नहीं हो, वह न देखे’ जैसे बचकानी तर्कबाजी से। जिस तरह से ‘पद्मावत’ फिल्म और उसके निर्देशन पर स्त्री के वस्तुकरण और बाजारीकरण के साथ-साथ जौहर और सामंती-मूल्यों के गुणगान का मंडन के आरोपों का स्वर तीखा और आक्रोशपूर्ण था। इन आरोपों में जो उस समय में देखने को मिला वह एक ओर तो भारतीय राजनीति में जातियों को लेकर छिड़े संघर्ष और फिल्म अभिनेत्री स्वरा भास्कर का निर्देशन को लिखे गए पत्र। जिसमें स्त्री के वस्तुकरण के आरोप लगाये गये तथा यह भी कहा गया कि जिंदगी यौनिक पवित्रता या अपवित्रता से बढ़कर होती है अब चाहे वो बलात् यौनिकता का ही प्रश्न क्यों न हो? जिंदगी पति की मृत्यु और बलात् यौनिकता के बाद भी चलती ही रहती है चाहे वो धीमी या कष्टों के साथ ही क्यों नहीं, बल्कि चलती रहती है? वह समाप्त नहीं होती। यौन संबंधों में पुरुष के लिए जितना देह सुख आत्महित की संतुष्टि का विषय होता है, उतना ही स्त्री के लिए भी होता है। भले ही उसकी आत्म-संतुष्टि वह व्यक्त कर नहीं पाये क्योंकि हमेशा से पुरुष की काम-इच्छाओं को चुनने का अधिकार स्वयं पुरुष का ही रहा है। इसी दृष्टिकोण से देखे तो ‘षड्ऋतु वर्णन खंड’ और ‘पद्मावती रत्नसेन भेंट’ में यौन क्षेत्र में पुरुष सत्ता के वर्चस्व की परम्परा में एक हस्तक्षेप है। जिसका उल्लेख इतिहास मनुष्य की नैतिकता और सामाजिक दृष्टिकोण के जरिये वैचारिक परिप्रेक्ष्य में यह सभी तथ्यों को ‘पद्मावत’ महाकाव्य में पहले से भी देखा जा सकता है।

भारतीय चिंतन और मेधा तो आस्था, विश्वास, अध्यात्म की यात्रा है। जब तक कथित इतिहासकारों और प्रोगे्रसिव कलाकारों को खिलजी ने किस राजा को हराकर चित्तौड़ जीता? जैसे प्राथमिक-बुनियादी सवालों के जवाब नहीं मिलते तब तक तो पप्रिनी की जौहर-गाथा से संबंधित अहिंसक जन मानस की आस्था और विश्वास से हिंसक छेड़खानी नहीं करनी चाहिए।

निष्कर्ष रूप में कहा जा सकता है कि मलिक मोहम्मद जायसी कृत ‘पद्मावत’ प्रबंध महाकाव्य एक प्रतीकात्मक कालजयी रचना है जो मध्यकाल का एक श्रेष्ठ सृजन है। यह शुद्ध अवधी भाषा में रचित है. जायसी के पहले के कवियों ने पांच-पांच चौपाइयों (अर्द्धालियों) के पीछे एक दोहे का क्रम रखा है पर जायसी ने अपनी रचना में सात-चौपाइयों के पीछे एक दोहे का क्रम रखा. यही क्रम का अनुकरण उसमान ने भी अपनी ‘चित्रावली’ जैसी रचनाओं में रखा है। पद्मावत में नगर वर्णन, प्रकृति वर्णन, हठयोग, कुंडलिनी योग, रसायन साधना, षड्ट्टतु वर्णन, बारहमासा वर्णन का भरपूर प्रयोग देखने को मिलता है। पद्मावती में प्रेम के लौकिक स्वरूप को अलौकिक रूप में (इश्क मजाजी से इश्क हकीकी) जिस तरह से दिखाया गया वह उस रचना की सृजनात्मकता का जीवंत रूप है। नागमति के विरह-वर्णन का प्रसंग भी मार्मिक रूप में देखने को मिलता है। ‘मानसरोदक खण्ड’ का वर्णन भी बड़े रोचकता के साथ प्रकट किया है. जिस तरह से प्रेम को ‘मानुष प्रेम भयो बैकुंठी’ के रूप में दिखाकर उन्होंने एक बेजोड़ उदाहरण के रूप में अपने आप को प्रस्तुत किया है। जायसी ने पद्मावत में लोक के हवाले का जिस रूप में भारतीय मुसलमान और हिन्दुओं की संस्कृतियों का रूप प्रस्तुत किया वह अपने आप में अद्भुत है। जायसी प्रेम को ईश्वर प्राप्ति का जिस तरह एकमात्र साधन मानते थे उस तरह का रूप सूफी काव्य ही नहीं बल्कि मध्यकाल के किसी भी कवि की काव्य रचना में देखने को नहीं मिलता है।

आचार्य रामचन्द्र शुक्ल ने जायसी को ‘सम्पूर्ण भारतवर्ष का कवि’ कहा था इस रूप में पद्मावत एक अखिल भारतीय कवि की ऐसी महाकाव्यमूलक रचना है जिसके विराट्-व्यापक-वैभवशाली सौंदर्य के चित्र लोकचेतना में रचे बसे हुए हैं। पद्मावत काव्य का यही विशिष्ट रूप उसे हिंदी की महानतम रचना सिद्ध करता है। जिसके कलेवर में मौजूद कालजयी तत्त्व इससे सदैव प्रासंगिक बनाये रखेंगे।


सम्पर्क :एसोसिएट प्रोफेसर
(हिन्दी विभाग)
भगिनी निवेदिता कॉलेज,
दिल्ली विश्वविद्यालय

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

|कथा-कहानी_$type=blogging$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|हास्य-व्यंग्य_$type=three$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|काव्य-जगत_$type=complex$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|आलेख_$type=two$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|संस्मरण_$type=complex$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|लघुकथा_$type=blogging$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|उपन्यास_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|लोककथा_$type=complex$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * |

| * उपन्यास *|

| * हास्य-व्यंग्य * |

| * कविता  *|

| * आलेख * |

| * लोककथा * |

| * लघुकथा * |

| * ग़ज़ल  *|

| * संस्मरण * |

| * साहित्य समाचार * |

| * कला जगत  *|

| * पाक कला * |

| * हास-परिहास * |

| * नाटक * |

| * बाल कथा * |

| * विज्ञान कथा * |

* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4062,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,338,ईबुक,193,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,112,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3027,कहानी,2267,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,542,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,99,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,346,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,68,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,16,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,28,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,244,लघुकथा,1255,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,327,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2009,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,711,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,798,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,17,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,89,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,209,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,77,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: प्राची - जनवरी 2019 : साहित्य पद्मावत : लोकचेतना में लिपटा दिव्य सौंदर्य - डॉ. राज भारद्वाज
प्राची - जनवरी 2019 : साहित्य पद्मावत : लोकचेतना में लिपटा दिव्य सौंदर्य - डॉ. राज भारद्वाज
https://4.bp.blogspot.com/-SrCcBLOMiuo/XElaR8Ri04I/AAAAAAABGw4/ADwIcY8qRrAOer_Qr-OG98lXkIFtqQUbQCLcBGAs/s320/%25E0%25A4%25AA%25E0%25A5%258D%25E0%25A4%25B0%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%259A%25E0%25A5%2580%2B%25E0%25A4%259C%25E0%25A4%25A8%25E0%25A4%25B5%25E0%25A4%25B0%25E0%25A5%2580%2B2019.png
https://4.bp.blogspot.com/-SrCcBLOMiuo/XElaR8Ri04I/AAAAAAABGw4/ADwIcY8qRrAOer_Qr-OG98lXkIFtqQUbQCLcBGAs/s72-c/%25E0%25A4%25AA%25E0%25A5%258D%25E0%25A4%25B0%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%259A%25E0%25A5%2580%2B%25E0%25A4%259C%25E0%25A4%25A8%25E0%25A4%25B5%25E0%25A4%25B0%25E0%25A5%2580%2B2019.png
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2019/01/2019_5.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2019/01/2019_5.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ