नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

* स्वादिष्ट मालपुए बनाने की विधि* - डॉ पूनम सिंह

image

सामग्री:-


(1)गेंहू की भुनी हुई बालियाँ(जब गेंहूँ की फसल आती है,तभी उसकी अधपकी बालियों को भूनकर छाया में सुखाकर रख लिया जाता है)।
(2)चीनी (3)चिरौंजी (4)नारियल की गिरी(5)गुलाब जल या छोटी इलायची (6)दूध (7)तलने के लिए देशी घी।

बनाने की विधि:-


सर्वप्रथम गेंहूँ की बालियों से दाने निकालें।उन्हें छाया में सुखाकर मिक्सी में बारीक पीस लें और बारीक छलनी से छान कर एक कटोरे में रख लें।(आज कल बाजार में इसका तैयार आटा भी मिलता है पर स्वाद व शुद्धता के लिहाज से आटा घर पर तैयार करना ठीक रहता है।)
नारियल की गिरी के चिरौंजी जितने आकार के टुकड़े काट लें।आटे में चिरौंजी और गरी के टुकड़े मिला लें।
गुलाब जल की कुछ बूँदे या छोटी इलायची के दानों को दरदरा कूटकर इसमें मिला दें।(जिसको जो पसंद हो।)
चीनी को स्वादानुसार अनुपात में लेकर दूध में गला लें।अब इस घोल को धीरे धीरे आटे में मिलते हुए पुए बनाने योग्य नरम आटा गूंथ लें।
एक नॉनस्टिक कड़ाही में देशी घी गर्म होने रख दें।
अब आटे के डो में से छोटे छोटे गोले काट लें।इन गोलों  से हाथ की सहायता से छोटे छोटे पुए बनाकर माध्यम आँच पर देशी घी में डीप फ्राई कर लें।
मुलायम, मुलायम स्वादिष्ट पुए तैयार हैं।


-------------------/////------------------------------
पूनम सिंह
वैज्ञानिक अधिकारी
राज्य न्यायलयिक विज्ञान प्रयोगशाला
सागर(म प्र)
09425788228

poonamsingh.gwl@gmail.com
--

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.