नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

समसामयिक आलेखः- जनता की जागरूकता और भागीदारी गणतंत्र को मजबूत करती है - शशांक मिश्र भारती

हर साल गणतंत्र दिवस पर पूरे देश यह नारा लगता है अमर रहे गणतंत्र हमारा लेकिन कैसे ?बड़ा महत्वपूर्ण प्रश्न है। भारत का इतिहास गणतंत्र के मामले में बहुत पुराना है। बालि जरासन्ध कंस दुर्योधन नन्द जैसे राजा गणतंत्र को कमजोर या समाप्त करने के प्रयास करते रहे पर जनसमर्थन योग्य राजनीतिज्ञों-कूटनीतिज्ञों ने सबके प्रयास असफल कर लोकतंत्र तो बचाया ही राष्ट्र और समाज का अहित भी कम से कम होने दिया। वर्तमान विश्व में अनेक गणतंत्र हैं सबकी अपनी अपनी व्यवस्थायें शासन प्रणालियां हैं जहां जहां सत्ता व सत्ता में बैठे लोग कमजोर हुए जनता ने गलत निर्णय किया वहां या उन देशों में गणतंत्र की कई कई बार हत्या हुई सरकारें और सरकार में बैठे लोग अपदस्थ हुए अथवा किये गये। पर हमारे भारत देश में ऐसा संकट न पहले कभी था न अब है और न आगे कभी होगा। यह हमारे लोकतांत्रिक मूल्यों परम्पराओं की परिवक्वता का परिचायक तो है ही साथ ही हमारे संविधान व उसमें निहित तत्वों की विशिष्टता भी। दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र होने के बाद भी हमारी शासन प्रणाली के अंगों की परिपक्वता इसको कमजोर नहीं होने देती। सारे अंग चाहें कार्यपालिका हो विधायिका या न्यायपालिका सब आपस में जुड़ें हैं और मिलकर कभी कभी एक दूसरे पर दृष्टि रख इसको कमजोर नहीं होने देते इनका संतुलन हमारे देश की देश के गणतंत्र की सबसे बड़ी ताकत है जो हमको दुनिया के अन्य गणतंत्रों से अलग करती है। पानी के बुलबुलों की भांति लगने वाले झटके इसको कमजोर नहीं कर पाते।

हमारे गणतंत्र में संविधान हमें अधिकार ही नहीं देता अपितु कर्तव्य की ओर भी उन्मुख करता है। हमारा जीवन दो तरह से है एक अपने अपनों के लिए और दूसरा देश के लिए। देश के लिए जो हमारा जीवन है उसको जीने का तरीका और उसमें गम्भीरता निष्ठा ही गणतंत्र की मजबूती का आधार है। कई बार हमारे देश में कई क्षेत्रीय मुद्दों पर या अन्य कई अवसरों पर कुछ क्षेत्रीय राष्ट्रीय दलों ने संघ से अलग राय रख कमजोर करने प्रयास किया है। ऐसा दिखाने का प्रयास किया है कि हमें केन्द्र की सरकार या उसकी सहायता की आवश्यकता नहीं। कई मामलों में केन्द्र से अलग राय रख दी । पर राष्ट्रीय स्तर पर जनसमर्थन न मिलने जनता द्वारा बार बार नकार दिये जाने से ऐसे तत्वों को कमजोर होना पड़ा अन्यथा क्षेत्रवाद भाषावाद वर्गवाद और क्षेत्रीय मुद्दों पर अलग दृष्टिकोण बहुत नुकसान कर देता।

वास्तव में गणतंत्र में संविधान एक बीज की तरह है जिसको पल्लवित पुष्पित और फलित करने का काम जनता का है जिसको कि भारतीय जनमानस ने समय समय पर भली-भांति किया हैं कई बार देश की राजनीति व उसमें घुस रही क्षुद्रता को सबक भी सिखा दिया। उसको अपनी ताकत का अनुभव करवा दिया। सांप सीढ़ी के खेल की भांति ऐसे तत्वों का राजनीतिक फलक पर ऊपर नीचे करती रही। सावधान हो सुधर जाओ का संकेत भी दिया। हालांकि नब्बे के दशक के बाद तेजी से गिरते राजनीतिक स्तर को न रोका जा सका। कई दल केवल सत्तासुख के लिए अपने को अपनी नीति और नियत को बदलते रहे। कई बार ऐसा आभास हुआ कि कुछ देश के जनमानस की अपेक्षाओं, देश के प्रति कम दुश्मन देशों के हाथों अधिक खेल रहे हैं। जिस पर देश में आक्रोश विशेषकर युवाओं में देखा गया। इससे कई बड़े आन्दोलन भी खड़े हुए आम जनता तेजी से उनसे जुड़ी भी।

इसीलिए अमर रहे भारतीय गणतंत्र के सन्दर्भ में मेरा मानना है कि चूंकि जनता जनप्रतिनिधि चुनती है इसलिए उसकी सहभागिता जागरूकता व मतदान में शतप्रतिशत भागीदारी देश- समाज हित अपने निजी स्वार्थ से ऊपर उठकर सहयोग-असहयोग का प्रदर्शन सबसे महत्वपूर्ण है। जब देश में हो रहे चुनावों में जनप्रतिनिधियों के साथ-साथ जनता द्वारा भी जातिवर्ग और क्षेत्र के आधार मतदान किया जाता है या राजनीति होती है तो कष्ट होता है। यह प्रश्न उठता है कि हमारे पढ़े लिखे इक्कीसवीं सदी में होने से क्या लाभ? जब हम निर्णय सामन्तवाद जाति आधारित व्यवस्था से ले रहे हों । अतः जनता के जागरूक होने के साथ-साथ देश के विविध जनसंचार माध्यमों को अपनी भूमिका निष्पक्षता निडरता के साथ निभानी चाहिए जो केवल निभायी जाये अपितु जनता को दिखे भी। तभी उद्देश्य सार्थक होगा अन्यथा अपनी ढपली अपना राग से कुछ अधिक न होगा जैसाकि आजकल कुछ माध्यम करते हैं और उन पर इसका ठप्पा भी लगता रहता है।

अन्त में यही कहना चाहूंगा कि जनता के साथ साथ जनसंचार माध्यमों सोशल मीडिया का बड़ा दायित्व है कि सजगता से अपना दायित्व निभायें। तभी सत्ता व सत्ता में बैठे लोग सावधान रहेंगे गणतंत्र शासन व्यवस्था का लाभ गांधी जी के सपने के अनुसार आखिरी व्यक्ति तक पहुंचेगा और हमारा गणतंत्र अधिकाधिक मजबूत जीवन्त और अमर होगा।


शशांक मिश्र भारती

हिन्दी सदन

बड़ागांव शाहजहांपुर उ0प्र0 242401

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.