नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

बय्ये के घोंसले - विनोद सिल्ला की कविताएँ

FB_IMG_1485665905136

1.

घुटन

शहर के
पार्क में
उमड़ी भीड़
रही थी बता
कि आजकल
घर हैं
कितने घुटन भरे

-विनोद सिल्ला©

2.

बय्ये के घोंसले

मेरे मित्र की
अतिथिशाला में
बढ़ा रहे हैं शोभा
बय्ये के घोंसले
जब देखता हूँ इन्हें
दंग रह जाता हूँ
देखकर हुनर
नन्हें कलाकारों का

-विनोद सिल्ला©

3.

शब्द हैं कठपुतली

शब्द हैं कठपुतली
जो नाचते हैं
वक्ता के इशारे पर
कहे जाते हैं
इच्छा से
या अनिच्छा से
सुने जाते हैं
इच्छा से
या अनिच्छा से

-विनोद सिल्ला©

4.

शब्द

कई बार
शब्द होते हैं
मीठे की परत में
लिपटी कुनीन
तो कभी होते हैं
कुनीन की परत में
लिपटा हुआ मीठा

-विनोद सिल्ला©

5.

शब्द हैं जादूगर

शब्द हैं जादूगर
जो किसी को
फर्श से अर्श पर
और
अर्श से फर्श पर
पहुंचा देते हैं

-विनोद सिल्ला©

6.

हवा का संदेश

मैं हूँ हवा
लाई हूँ
सुखद संदेश
किसे दूं
यह संदेश
सब व्यस्त हैं यहाँ

-विनोद सिल्ला©

7.

सावन

बादलों ने
कर लिया अपहरण
सूरज का
हवा भी
जाने कहाँ से
ले आई शीतलता
मौसम हुआ सुहावना
शायद इसी को
कहते हैं सावन

-विनोद सिल्ला©

8.

बादल

भाग रहे हैं बादल
मानो रहे हैं धकेल
एक-दूसरे को
जाने क्या जल्दी है
जाने की
जाने कहाँ जाएंगे
कहाँ धरा की
प्यास बुझाएंगे
एक दम लगे
शरारती बच्चे से

-विनोद सिल्ला©

9.

स्वर्ग की कल्पना

ये है सावन
इसमें
ठंडी है फुहार
मौसम है सुहावना
शायद
ऐसा ही मौसम
देखकर
की होगी
स्वर्ग की कल्पना

-विनोद सिल्ला©

10.

समय है

मैं हूँ हवा
लाई हूँ
अल्हड़पन
चुलबुलापन
क्या आपके पास
समय है
मेरे लिए

-विनोद सिल्ला©
  --

परिचय

नाम - विनोद सिल्ला
शिक्षा - एम. ए. (इतिहास) , बी. एड.
जन्मतिथि -  24/05/1977
संप्रति - अध्यापन

प्रकाशित पुस्तकें-

1. जाने कब होएगी भोर (काव्यसंग्रह)
2. खो गया है आदमी (काव्यसंग्रह)
3. मैं पीड़ा हूँ (काव्यसंग्रह)
4. यह कैसा सूर्योदय (काव्यसंग्रह)
5. जिंदा होने का प्रमाण(लघुकथा संग्रह)

संपादित पुस्तकें

1. प्रकृति के शब्द शिल्पी : रूप देवगुण (काव्यसंग्रह)
2. मीलों जाना है (काव्यसंग्रह)
3. दुखिया का दुख (काव्यसंग्रह)

सम्मान

1. डॉ. भीम राव अम्बेडकर राष्ट्रीय फैलोशिप अवार्ड 2011
(भारतीय दलित साहित्य अकादमी द्वारा)
2. लॉर्ड बुद्धा राष्ट्रीय फैलोशिप अवार्ड 2012
(भारतीय दलित साहित्य अकादमी द्वारा)
3. उपमंडल अधिकारी (ना) द्वारा
26 जनवरी 2012 को
4. दैनिक सांध्य समाचार-पत्र "टोहाना मेल" द्वारा
17 जून 2012 को 'टोहाना सम्मान" से नवाजा
5. ज्योति बा फुले राष्ट्रीय फैलोशिप अवार्ड 2013
(भारतीय दलित साहित्य अकादमी द्वारा)
6. ऑल इंडिया समता सैनिक दल द्वारा
14-15 जून 2014 को ऊना (हिमाचल प्रदेश में)
7. अम्बेडकरवादी लेखक संघ द्वारा
कैथल  में (14 जुलाई 2014)
8. लाला कली राम स्मृति साहित्य सम्मान 2015
(साहित्य सभा, कैथल द्वारा)
9. दिव्यतूलिका साहित्य सम्मान-2017
10. प्रजातंत्र का स्तंभ गौरव सम्मान 2018
(प्रजातंत्र का स्तंभ पत्रिका द्वारा) 15 जुलाई 2018 को राजस्थान दौसा में
11. अमर उजाला समाचार-पत्र द्वारा
'रक्तदान के क्षेत्र में' जून 2018 को
12. डॉ. अम्बेडकर स्टुडैंट फ्रंट ऑफ इंडिया द्वारा
साहब कांसीराम राष्ट्रीय सम्मान-2018
13. एच. डी. एफ. सी. बैंक ने रक्तदान के क्षेत्र में प्रशस्ति पत्र दिया, 28, नवंबर 2018

पता :-

विनोद सिल्ला
गीता कॉलोनी, नजदीक धर्मशाला
डांगरा रोड़, टोहाना
जिला फतेहाबाद (हरियाणा)
पिन कोड-125120

ई-मेल vkshilla@gmail.com

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.