नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

मोबाइल जिंदगी // डॉ अश्विनी शुक्ल

image

याद है जुलाई 1999 का वह वक्त ।

पहली पहली बार मोबाइल सिम की लॉटरी निकली थी । एक हजार एक सौ लोगों में केवल दस लोगों को ही लॉटरी सिस्टम से सिम मिले थे । एक्सचेंज पर मेला लगा था। सिम प्राप्त करने वाले लोगों को प्रत्यक्ष बधाई और परोक्ष ईर्ष्या का सामना करना पड़ रहा था । बड़े सुखद एवं आत्म गौरव के क्षण। उस समय पूरे शहर में गिनती के मोबाइल धारक थे ।मेरा भी नाम मोबाइल धारकों में शुमार हो गया । चलती बस में मोबाइल का टोन अभिजात वर्ग में खुद ही सम्मिलित करा देता , लेकिन मोबाइल पर फोन आते नहीं तो घंटी सुनाई कैसे दें । पहली बात मोबाइल की कमी , दूसरी सेट के अभाव में कोई किसी को कैसे फोन करें । फिर भी मेरे पास दस बीस फोन तो आ ही जाते थे । पूरा का पूरा दिन कुछ लोग इंतजार ही करते रह जाए ।

हैलो कहकर मोबाइल को देखकर जेब में रख लेने से ही बडे आत्म गौरव की अनुभूति होती ।धीरे-धीरे समय बदला । तमाम प्राइवेट कंपनियां मार्केट में आने लगी । फोन का आना शुरू हुआ । फोन काल्स फिर धीरे-धीरे मैसेज । इनबॉक्स में मैसेज से सन्देशा देने का सिलसिला जारी । एक कदम हमारे दो कदम उनके । कदम दर कदम की यात्राएं बढ़ती गई और आज जहां हम खड़े हैं उसके पीछे बहुत बड़ा फलक दिखाई दे रहा है । विभिन्नस्मृतियां ,घटनाएं ,मिलन ,बिछोह , आमोदप्रमोद, यश अपयश और सुख-दुख की ढ़ेरों चित्र अपना अस्तित्व बनाए दिखाई दे रहे हैं । वेज तथा नॉनवेज मैंसेज ।

उस दिन भी मारे थकान के अल्मोड़ा जाने का मन नहीं था । पूरे दिन की थकान को लेकर कार्यालय के पास एक किराए के मकान में अक्सर देर हो जाने पर हम लोग रूक जाया करते थे । हम जैसों को चाहिए एक या दो गज का कमरा दो रोटी और कॉपी कलम किताब । सायं काल की बेला थी । सर्दियों के दिन थे । वही 6 दिसंबर की शाम । कुहरे ने शाम से ही अपने चादर में पूरी दुनिया को छुपा लिया था । सुनिधि को अल्मोड़ा वापस जाना था । बाप रे बाप । ऐसा मौसम और साठ किलोमीटर की यात्रा । रास्ते भर पूरे दिन लगा रहने वाला जाम । तब तक अचानक मोबाइल बज उठा । हां .. हां.।

मैं तो अभी कार्यालय पर ही हूं ।कहकर फोन काट दिया । कुछ देर में ही सुनिधि भी कार्यालय पहुँच गईं ।उसने अपने बैग से कुछ पेपर निकालें और सत्यापन हेतु हस्ताक्षर का आग्रह करने लगी । उसने लगभग 10 मिनट बाद अल्मोड़ा चलने का आग्रह करने लगी ।

यद्यपि आज मुझे घर नहीं जाना था फिर भी सोचा चलो अल्मोड़ा हो ही आएं । यही सोचकर सुनिधि से कहा अच्छा चलो बस में सीट लो । हम 5 मिनट में पहुंच रहे है।। बस स्टेशन से निकल चुकी थी । चौराहे पर सुनिधि बस में बैठ गई ।ऑफिस से निकलते निकलते कुछ वक्त लग गया तब तक जाम ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया । बड़े चौराहे पर पुलिस वालों ने बस को 200 मीटर आगे जाकर खडा कर दिया । थोड़े इंतजार के बाद मैं भी बस पर पहुंच गया । सुनिधि बेचैनी के साथ मेरा इंतजार कर रही थी ।

सौंदर्य और सौजन्य की अप्रतिम प्रतिमा । सोचा चलो कोई बात नहीं । मुझ को देखते ही खीझ रहे यात्रियों के चेहरे पर संतोष उभर आया । बस में अधिकांश दैनिक यात्री थे । कंडक्टर सुनिधि के कारण बस को सड़क के किनारे रोककर टिकट काटने लगा । कड़ाके की ठंड के कारण ऊनी कंबल को कंधे पर डाले बैठा था । रह-रहकर ठंड हवा के झोंके हाड़़ तक कंपा दे रहे थे । बमुश्किल 20 यात्री रहे होंगे । जानबूझकर सुनिधि बस के पीछे वाली सीट पर बैठ गई । मैंने कंबल अपने पैरों पर डाल लिया ।

कुछ कुशल शिकारी अपने को पूर्ण सुरक्षित करके ही शिकार करते हैं । जब तक अपनी सुरक्षा के प्रति आश्वस्त नहीं होते तब तक निष्क्रिय ,निर्लिप्त एवम निष्काम भाव से बैठे रहते हैं । धीरे-धीरे अंधकार होने लगा । अपनत्व एवं नजदीकियां मानसिक से वाचिक और कड़ाके की ठंड के कारण शारीरिक । रास्ता कोहरे के कारण दिखाई नहीं दे रहा था । सुरभि का रूप सौंदर्य कुछ ऐसा था कि पहली बार में देखने वाला मोहित हो जाए । धीरे-धीरे बस सरकने लगी । तब तक कंडक्टर टिकट- टिकट बोल पड़ा । मैंने कंडक्टर को पैसा दे दिया । उसने मात्र एक ही टिकट का पैसा काट कर शेष पैसा वापस कर दिया कर दिया । धीरे-धीरे ठंड का भी एहसास बढ़ने लगा । मैंने अपने आजू-बाजू को भी कंबल से ढक लिया था। गरम टोपी टोपी निकाल कर सुनिधि को दे दिया । उसका सौंदर्य बढ़ गया था । दो सीट वाली बस में जगह ही कितनी होती है । उसने आराम से बैठने के लिए आश्वस्त कर दिया । कपड़ो ने शरीर का आकार बढ़ा दिया था । दोनों को मजबूर होकर बैठना ही पड़ा । रास्ता साफ नहीं दिख रहा था । पहाड़ी इलाका ,ऊंचे ऊंचे पहाड़ों पर खड़े भीमकाय चीड़ देवदार के वृक्ष और दूसरी और अनंत घटाटोप अंधकार में श्मशान सी नीरवता लिए हुए घाटियां ।

ठंड के कारण झोपड़ियों की रोशनी भी बुझी बुझी सी लग रही थी । घुप्प अंधकार मन को आतंकित कर रहा था । मेरे लिए सुनिधि ही इस यात्रा का आकर्षण था । सामने की सीट पर दो वयस्क पहाड़ी स्त्रियां । कान को मैले कुचैले स्कार्फ से ढके हुए रह रह कर पीछे मुड़े बिना हमारी बातें सुनने की असफल कोशिश कर रही थी । समर्पण व अभिसार की प्रतिमूर्ति सुनिधि मेरा साथ दे रही थी । जैसे

बस आज कुछ ज्यादा ही तेज चल रही थी ,शायद आज जाम भी नहीं लगेगा।

सुनिधि का अपॉइंटमेंट हुए अभी एक माह भी नहीं बीता था । वह पूरे ऑफिस में अपनी सुंदरता के कारण चर्चा का विषय बन गई थी । सद्यस्नात , अक्षत सौंदर्य ,अनाघ्रात पुष्प की भांति सभी सहकर्मियों को वह अपनी ओर आकर्षित कर रही थी । जिसको देखो वही उसी के सान्निध्य के लिए छटपटा रहा था । इस समय ऑफिस में चर्चा की विषय वस्तु सुनिधि ही थी । मुझे लगता है कि उसे सर्वाधिक मेरा ही सान्निध्य पसंद है । जिसके कारण वह मुझमें कुछ ज्यादा ही रुचि दिखाई दे रही थी । ठंडी हवा के झोंकों के साथ ही उसका सामीप्य भी बढ़ता जा रहा था । खिड़कियों के शीशे के बंद होने के बाद भी शीशों के बीच से आ रही सर्द हवा रह-रह कर हांड़ कंपा रही थी ।

हर झोंके के सिहरन के साथ सुनिधि और भी पास आ जा रही थी ।। बाहर घना अंधकार छा गया था ।हम दोनों लोग आश्वस्त होकर बैठे थे । तब तक सुनिधि का फोन अचानक कांप उठा । पर्स से फोन निकालकर उसने बस 20 मिनट में कहकर फोन काट दिया ।

किसका फोन था ?

इनका।

मैंने पूछा देर हो रही है ?

परेशान हो रहे हैं । सुनिधि में संक्षेप में उत्तर देकर अपना सिर मेरे कंधे पर रख दिया ।

बस धीरे-धीरे रेंगते हुए चल रही थी । लगभग आधे घंटे तक सुनिधि ने अपने दांपत्य जीवन के बारे में बहुत कुछ बता डाला । मुझे इस बात में कोई बहुत दिलचस्पी नहीं रही । वह बार-बार केवल और केवल मेरे प्रति सद्भाव व्यक्त कर रही थी । मैं भी आह्लादित हो रहा था । कुछ देर बाद बस अल्मोड़ा पहुंच गई । रात के लगभग 7:40 हो रहे थे । सभी यात्री सराय से दूर जल्दी-जल्दी अपने घर जाने के लिए उत्सुक थे ।

मैं बस अड्डे के बाहर ही उतर गया और किसी अंधेरे की खोज में लघुशंका से निपटने के लिए बढ़ गया । मध्यम मध्यम प्रकाश में बस के नीचे के यात्री दिखाई दे रहे थे । वह इधर उधर देखने लगी । शायद वह किसी को खोज रही थी । शायद वह रिक्शा या ऑटो खोज रही थी । दस कदम चली ही होगी कि उसके बगल बीस बाइस वर्ष का एक लड़का चलता हुआ दिखाई पड़ा । मैं गुमटी की ओट में खड़ा हो गया । सुनिधि के पास ही वह लड़का भी आकर खड़ा हो गया। मैंने अपनी सांसे थाम ली । बमुश्किल चार कदम पर मैं गुमटी के पीछे था और वह दोनों गुमटी के बगल में । मैं अंधकार में वह प्रकाश में । मैं जड़वत उन दोनों की बात सुनने लगा ।

सुनिधि तुमने तो बड़ी देर लगा दी ।

यार बस खराब हो गई थी ।

मेरा फोन क्यों नहीं रिसीव कर रही थी।

अरे यार क्या करती हो मेरे पीछे वाली सीट पर ही मेरे एक विभागीय अधिकारी आकर बैठ गए थे । वह तो गनीमत थी कि मेरे बगल में एक महिला बैठी थी नहीं तो चिपकू मेरे ही पास बैठे होते ।

तो क्या होता ?

यार बेकार की बातें छोड़ो मुझे ऐसे लोगों का साथ पसंद नहीं है ।

इतना कहकर वह उसके सीने से लिपट गई । उसने जोर से सुनिधि को अपनी बांहों में भींच लिया । मैं किसी चलचित्र के दर्शक की भांति सांसे थामें हुए उन दोनों को अपलक देखता रहा । वह अज्ञात बड़ी देर से सुनिधि के शरीर के साथ खेलता रहा । सुनिधि भी बिना प्रतिवाद किए आनंदित हो रही थी । दोनों की गर्म गर्म सांसे मेरे कानों में पिघले शीशे की तरह उतर रही थी । सुनसान बढ़ता जा रहा था । सीमा उल्लंघन के भय से सुनिधि ने जल्दी से चलने का उपक्रम किया । इतना कहकर उसने उस अज्ञात के चेहरे पर दो चार चुंबन जड़ दिए। दोनों के चेहरे खिल उठे । दोनों परिंदे अलग-अलग दिशा में उड़ चले ।

मैं अवाक पूरी घटना का चश्मदीद । दस मिनट हुए होंगे ,अचानक मेरा फोन घनघना उठा ।

घर पहुंच गए ? मैंने हां में उत्तर दिया ।

और आप?

मैं तो कब की पहुंच गई। अच्छा ठीक है ।पिताजी कमरे में हैं। फिर बात करेंगे ,कहकर फोन काट दिया।

मैंने इधर से प्रयास किया तो वह व्यस्त थी । किसी दूसरे से बात करने में मशगूल थी ।

वह स्टेशन पर मुझसे मात्र बीस कदम की दूरी पर चल रही थी । मैं और उसके नजदीक बढ़ने लगा । वह किसी को अपनी लोकेशन दे रही थी । तब तक एक मोटरसाइकिल सवार उसके पास आकर रुका । लगभग साढ़े आठ हो गए थे । मोटर साइकिल के प्रकाश में वह अपने बैग में मोबाइल रखते हुए दिखाई पड़ी । वह जल्दी से उछलकर मोटरसाइकिल पर बैठ गई और किसी चिड़िया की बात अनंत आकाश मैं उड़ चली । मोबाइल स्विच ऑफ हो गया था। मैं उसको अपने आगे आगे मोटर साइकिल पर जाते हए देख रहा था। घर पहुंचकर उसने फिर फोन किया ।

मेरी थकान मेरे शब्दों पर उतर आई थी । जबकि उसकी खनकती आवाज और भी खनकदार हो गई । ना मालूम क्यों मैं बुझा जा रहा था । मेरा मन उससे बात करने को नहीं कह रहा था । मैं ऐसे सरल व्यक्तित्व की जटिलता में पूरी रात उलझा रहा ।

देर रात तक नींद ना आने के कारण सुबह जब सुनिधि का फोन आया तो सुबह के 8:30 बज रहे थे । मैंने स्पष्ट शब्दों में बाहर जाने से इंकार कर दिया । बहाना था शारीरिक अस्वस्थता का लेकिन थी मानसिक अस्वस्थता। धन्य हो मोबाइल ! मोबॉईल तुम्हारी जय हो !तुमने तो रिश्तों को भी मोबाइल कर दिया।

-------------

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.