विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका -  नाका। प्रकाशनार्थ रचनाएँ इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी इस पेज पर [लिंक] देखें.
रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -

पिछले अंक

मेरा जिला - सबसे निराला - खान मनजीत भावडिय़ा मीद

साझा करें:

मैं सोनीपत जिले का निवासी हूं। मैं सबसे पहले बताना चाहता हूं कि मेरा जिला हरियाणा एक मध्यम स्तरीय जिला है यह न तो अधिक बड़ा है और न ही अधिक ...


मैं सोनीपत जिले का निवासी हूं। मैं सबसे पहले बताना चाहता हूं कि मेरा जिला हरियाणा एक मध्यम स्तरीय जिला है यह न तो अधिक बड़ा है और न ही अधिक छोटा है। सोनीपत नई दिल्ली से उत्तर में 43 कि.मी. दूर स्थित है। इस नगर की स्थापना सम्भवत: लगभग 600 ई.पू्. में आरंभिक आर्यों ने की थी। यमुना नदी के तट पर यह शहर फूला-फला जो अब 15 कि.मी. पूर्व की और स्थानांतरित हो गया है। हिन्दू महाकाव्य महाभारत में इसका नाम (स्वर्णप्रस्थ) के रूप में था।

महाकाव्य के अनुसार पाण्डवों में सबे बड़े युधिष्ठिर ने इस स्थान को दुर्योधन से शांति के बदले मांगा था। हालांकि इसका कोई ऐतिहासिक प्रमाण नहीं है लेकिन पाणिनी के अष्टाध्यायी में सोनीपत का उल्लेख मिलता है। इसका मतलब यह हुआ कि इस शहर का अस्तित्व लगभग 600 ई.पू. का है। यहां का मुख्य आकर्षण ख्वाजा खिज्र की कब्र है। यह कब्र इब्राहिम लोधी के शासन के अंत और उनके पुत्र के पनाह की अंतिम स्थान थी।

इस शहर में अब्दुल नसीरुद्दीन की मस्जिद है जो कि 1272 में बनी, ख्वाजा खिज्र का मकबरा 1522 से 1525 ईस्वी के बीच निर्मित हुआ और इन्हीं पुराने किलों के अवशेष हैं। यह उन चुनिंदा इमारतों में से है जिनमें लाल बलुये के पत्थर के साथ-साथ कंकड़ के टुकड़ों का प्रयोग किया गया है। कब्र या मकबरा भारतीय पुरातत्व विभाग द्वारा संरक्षित हैं। यहां पर हिन्दूओं का बाबा धाम मंदिर भी प्रसिद्ध है। सोनीपत दिल्ली से अमृतसर को जोडऩे वाले रेलमार्ग पर स्थित है। लोग काम के लिए रोजाना सोनीपत आते-जाते हैं।

ऐतिहासिक स्थलों के शहर के पुराने, अवशेषों के निकट मामा-भान्जा नामक मकबरा है। सन् 1971 में उत्खनन के दौरान यहां 1200 यूनानी वैक्ट्रीयाई आधे दिरहम और हर्षवद्र्धन की झीलें प्राप्त हुई। लगभग 1880 में रेल मार्ग चालू हुआ। यह स्थल लगभग 2200 वर्ग कि.मी. फैला हुआ है। यह हरियाणा के मध्यपूर्व में स्थित है। इसके पूर्व में उत्तर प्रदेश, दक्षिण-पूर्व में दिल्ली, दक्षिण में झज्जर व रोहतक पश्चिम में जीन्द उत्तर में पानीपत जिला स्थित है। इस जिले का जन्म 22 दिसंबर 1972 को हुआ। आज इसमें तीन उपमण्डल, चार तहसील व सात खण्ड तथा एक उप तहसील है। यहां प्रमुख यमुना नदी बहती है। सोनीपत के गांव में गेहूं, चावल, ज्वार, दालें, गन्ना, बाजरा आदि फसलें मुख्य रूप से होती हैं। इसके अन्दर साईकिल, मशीनी उपकरण, सूती वस्त्र, हौजरी, चीनी मील, सिलाई मशीन, हैण्डलूम वस्त्र, ताम्बे के बर्तन के व हस्तशिल्प उद्योग हैं। लेकिन दिल्ली से लेकर गन्नौर तक यह क्षेत्र उद्योगों से भरा पड़ा है। यहां पर काश्त 26.50, खेती करने वाले 71.07, उद्योगों में काम करने वाले लगभग 2 प्रतिशत हैं। यहां का पर्यटन स्थल चकौर है। यहां का साईकिल उद्योग विश्व विख्यात है। 2011 के आंकडों के अनुसार यहां की जनसंख्या 1480080 है।

1. सोनीपत में बगावत :

सोनीपत का इलाका दिल्ली से लगा हुआ है दिल्ली को आजाद करा लेने के बाद भी उसके उत्तर में अंग्रेज सेना घेरा डाले पड़ी थी। पंजाब से उन्हें जी.टी. रोड तथा रोहतक-हिसार रोड के रास्ते कुमक पहुंच रहीं थी। इसे रोकने के लिए दिल्ली और सोनीपत जी.टी. रोड के साथ-साथ बसे गांव ने बड़ी भूमिका निभाई। लोक परंपरा के अनुसार इन बागी गांवों में लिबासपुर, कुण्डली, बहालगढ़, खामपुर, अलीपुर, हमीदपुर सराय आदि प्रमुख हैं। लिबासपुर गांव में उदमीराम नामक युवक ने अंग्रेजों के काफिलों को रोकने के लिए 22 युवकों का एक दल बना लिया था। विद्रोह के दौरान उन्होंने बड़ी वीरतापूर्वक अंग्रेज सैनिकों के दिल्ली-पानीपत के बीच आने-जाने के रास्ते को रोक दिया। इस प्रयास में कई अंग्रेज मारे गए। बागियों की मुखबिरी के परिणाम स्वरूप दिल्ली फतह कर लेने के बाद बागी गांव को दण्ड देने के लिए एक दिन अंग्रेज सेना ने लिबासपुर को आ घेरा। लड़ाई हुई और अनेक वीर मारे गए। गांव को जी भर कर लूटा गया। महिलाओं के जेवर तक छीन लिए गए। लोग गांव छोडक़र भाग गए। वीर उदमीराम को सडक़ पर पेड़ से बांध दिया गया। उसके हाथों में लोहे की कीलें गाड़ दी गई। वह देशभक्त 35 दिन तक भूखा-प्यासा तडफ़-तडफ़ कर शहीद हो गया। अंग्रेजो ने उसके शव तक को परिजनों को नहीं दिया। भाग गए लोग शांति स्थापित होने पर ही कई साल बाद वापिस लौट पाए परंतु उनकी सारी जमीन राठधाना निवासी मुखबीर सीताराम के नाम चढ़ा दी गई। गांव के असली बाशिंद भूमिहीन मुजारे बनकर रह गए।

लिबासपुर के पास ही मुरथल गांव है। 1857 के विद्रोह में इसकी भी अच्छी भूमिका रही। कुण्डली गांव ने भी स्वतंत्रता संग्राम में बढ़ चढ़ कर भाग लिया। जी.टी. रोड पर आते-जाते अंग्रेजों को खत्म करना और उन्हें लूट लेना इन लोगों का आम काम था। पुन: कब्जा कर लेने के बाद मुखबिरी के आधार पर अंग्रेज सेना ने उन्हें दण्ड देने की खातिर एक दिन गांव को घेर लिया और खूब लूटा। पकड़े हुए पशु अलीपुर ले जाकर अंग्रेजों ने नीलाम कर दिए। 11 लोगों को दण्ड दिया गया 8 को एक साल की कैद और 3 व्यक्तियों को आजन्म काले पानी की सजा। ये तीन सुरताराम, जवाहरा और बाजा थे जो फिर लौटकर गांव नहीं आ पाए। उधर गांव की सारी सरकारी जमीन तीन साल के लिए जब्त कर ली परन्तु यह जमीन कुण्डली के मूल निवासियों को कभी नहीं लौटाई गई। आज कुण्डली गांव के मालिक सोनीपत के रहने वाले पण्डित मामूल सिंह के वंशज बताए जाते हैं। ग्राम निवासी बेबिश्वेदार (बिना स्वामी) हो गए। अंग्रेजी शासन में किसी भी कुण्डली निवासी को सरकारी नौकरी पर रखे जाने को भी मनाही कर दी गई। खामपुर गांव भी विद्रोह के अपराध में जब्त कर लिया गया। गांव की सारी जमीन दिल्ली के निवासी पंडित लछमन सिंह के पूर्वज को दे दी गई।

गांव अलीपुर भी जी.टी. रोड पर बसा है 1857 में अंग्रेजों को यहां के वीर सडक़ पर आने-जाने नहीं देते थे ताकि वे दिल्ली पर दबाव न बना सकें। लोगों ने सभी सरकारी कागजात जला दिए। बाजार को भी लूट लिया। यहां युद्ध में अनेक अंग्रेजों के मारे जाने की कथा प्रचलित है। दिल्ली पर कब्जे के बाद गांव को सजा देने के लिए एक दिन मैटाकाफ जिसे काना साहब कहकर पुकारा जाता था, सेना लेकर पहुंच गया। गांव को चारों तरफ से घेर लिया और 70-75 व्यक्तियों को गिरफ्तार कर लाल किले ले जाया गया। उन सबको फांसी दे दी गई। मुहम्मद और बुरड़ नाम के दो व्यक्ति बचकर भागने में कामयाब हो गए। फांसी चढ़ाए जाने वालों में तुलसीराम और हंसराज के नाम आज भी सोनीपत के लोगों की जबान पर हैं। इसी गांव के तोताराम ने अंगे्रजी पिट्ठू सिक्ख सेना के हाथ में बादली समयपुर के आसपास के इलाकों व बारह गांव के पशुओं को छुड़ाने में नेतृत्वकारी भूमिका निभाई थी। वे इस लड़ाई में शहीद हो गए। अलीपुर के इस एहसान को बादली, समयपुर वासी आज भी सम्मान के साथ याद करते हैं। हमीदपुर को भी गांव की जमीन जब्त कर व्रिदेाह करने की सजा दी गई। पीपलथला सराय को बगावत की सजा के तौर पर लूटा गया और जला दिया गया। बाबर खान राघड़ ने अपनी अलग सेना बनाकर अंगेे्रजों को मार भगाया। उस वक्त बाबर खान रोहतक का मुख्य था क्योंकि उस समय सोनीपत का इलाका सारा रोहतक के अंतर्गत आता था। राई गांव के सरकारी पड़ाव में ले जाकर सडक़ पर लिटाकर भारी पत्थर के कोल्हुओं के नीचे डालकर पीस दिया गया। उन कोल्हुओं में से एक कोल्हू पत्थर अब भी 20वें मील दूसरे फर्लांग पर पड़ा हुआ है।

गोहाना में स्थित पीर जमाल का मकबरा है। जो हिन्दू मुसलमान एकता का प्रतीक है। 1861 ई. में इस स्थान पर राजपूत सरदार तेज सिंह और बुटाना गांव के एक व्यापारी फेरनमल को क्रमश: सन् 1238 और 1239 में बलपूर्वक मुसलमान बनाया गया। उस समय इसे ‘गोऊध्वना’ कहा जाता था। बाद में इसका नाम बदलकर गोहाना रख दिया गया। प्राचीन समय में गोहाना को ‘गवम भावना’ कहते थे फिर इसका नाम गोऊकरण भी रखा। यह एक तीर्थ स्थान माना जाता था। पृथ्वीराज चौहान ने यहां पर एक किला बनवाया था जिसका नाम उनके सेनापति दरिया सिंह के नाम पर दरियापुर रखा गया। यह किला सन 1192 ई. में मो. गौरी ने नष्ट करवा दिया था। यह कस्बा अब सोनीपत जिले का उपमण्डल है और रोहतक-पानीपत हाइवे तथा सोनीपत-जीन्द के मध्य स्थित है। गोहाना तहसील में 85 गांव आते हैं और गोहाना शहर की 65हजार से अधिक आबादी है। गोहाना को ब्रिटिश हुकूमत के समय वर्ष 1826 में तहसील का दर्जा दिया था। यह पूरे 190 साल पुरानी तहसील है। इस तहसील को नौ शहरों की सीमा लगती है। सोनीपत, रोहतक, खरखौदा, जीन्द, पानीपत, महम, गन्नौर, जुलाना, सफीदो है।

सोनीपत की ऐतिहासिक भूमिका :

शहर की प्राचीन धरोहर को बचाने का प्रयास रंग लाता नजर आ रहा है। इसी कड़ी में शहर के कोट मोहल्ला स्थित ब्रिटिश सरकार में बनाई गई प्राचीन धरोहर का जीर्णोद्धार करने का प्रयास शुरू हो गया है जिसका 20 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है। ब्रिटिश काल में यातना का प्रतीक बना सोनीपत के कोट मोहल्ला स्थित पुराना किला आज भी अपनी विरासत को संजोए हुए है। ब्रिटिश शासन में अदायगी न देने वालों पर यातना का प्रतीक बन चुका यह किला अपने नए स्वरूप में तैयार हो रहा है। इस किले का इतिहास सालों पुराना है।

ब्रिटिश काल में इस किले में तहसील और जेल होती थी। सजा पाने वाले अपराधियों को किले में बनी जेल में बंद रखा जाता था। पुरुष और महिलाओं के लिए अलग-अलग बैरग थे। किले के अन्दर मालखाना, बन्दीगृह, अधिकारियों के कमरे, कोर्ट रूम आदि की जर्जर हालत इतिहास को दर्शाते हैं। किले में अंग्रेजों द्वारा बनाया गया मालखाना आज भी मौजूद है। सोनीपत वासियों ने पर्यटन स्थल में रखने की मांग की है। गोहाना के मूलचन्द जैन प्रमुख स्वतंत्रता सेनानियों में से एक हैं। इन्होंने जैन ग्रन्थों को पढ़ा व छुआछूत से नफरत ही नहीं थी बल्कि छुआछूत करने वाले व्यक्तियों से दूर ही रहना पसंद करते थे। ये दलितों के साथ अन्याय सहन नहीं करते हैं।

संबंधित जिले में हर्षकालीन ताम्र मुद्राएं भी मिली हैं। सिन्धु घाटी सभ्यता के क्षेत्र भावड़, घड़वाल, छपरा, मदीना, रीठाला, नूरन खेड़ा आदि मुख्यत: हैं। वैदिक कालीन क्षेत्र समन और गुमद हैं। खरखौदा में यौधेयगण के प्राचीन सिक्के 1834 ई. कैप्टन कोटल से प्राप्त हुए। कनिंघम को सोनीपत से प्राप्त हुए। गोहाना में हिन्दुओं द्वारा बनवाए गए मंदिर को सुल्तान ने तुड़वा दिया तथा मूर्ति, पुस्तकें व अन्य सामग्री जलाकर वहां पूजा करने वालों को बंदी बनाया अनेक व्यक्तियों को मार दिया और फिरोज तुगलक के इस कार्य के कारण गोहाना के अतिरिक्त अन्य जगह पर भी विरोध हुआ जिन्हें सुल्तान ने सेना भेजकर दबाया। नजीबुदौला के साथ संघर्ष में 1974 ई. सूरजमल की मृत्यु के पश्चात नजीबुदौला ने सोनीपत क्षेत्र पर भी आक्रमण व नरसंहार करके कब्जा कर लिया।

सोनीपत का सांस्कृतिक परिदृश्य

खरखौदा क्षेत्र का सबसे ऐतिहासिक गांव बरोणा जो पहले बरोणा खेड़ा के नाम से वर्ष 1276 में अस्तित्व में आया था। सबसे पहले यहां दहिया गोत्र का सूत्रपात हुआ था जो राजस्थान से आए थे। हरियाणा में दहिया गोत्र की निकासी इसी गांव की देन है जो करीब 1576 में तहसील के गांव बरोणा खेड़ा गांव से हुई थी। दहिया गोत्र के जाट सबसे पहले बरोणा गांव के पास स्थित बरोणा खेड़ा में राजस्थान से आकर रहे थे। वर्ष 1276 के करीब यहां पर राजस्थान के गांव ददरेड़ा कस्बे से कुछेक व्यक्तियों का समूह आया था। हरियाणा के मशहूर लेखक फौजी मेहर सिंह भी इसी गांव के थे। मेहर सिंह का जन्म साधारण किसान परिवार में हुआ। इनका जन्म कुछ इतिहासकार 1916 तो कुछ 1918 मानते हैं। वे बहुत अच्छे गायक थे। गायन के लिए उन्हें अपने परिवार की प्रताडऩा सहन करनी पड़ी। 1936 में फौज में भर्ती हुए फौजी जीवन व फौजियों की पत्नियों की पीड़ा को विशेष तौर पर अभिव्यक्त किया। मुक्तक, रागनी के विकास में महत्त्वपूर्ण योगदान रहा। सन् 1944 को इनका देहांत हो गया। इसी गांव के रणबीर ङ्क्षसह दहिया थे जो जनवादी कविता लिखते हैं इनका जन्म 11 मार्च 1950 को हुआ। 1971 में एम.बी.बी.एस. की तथा 1977 में एम.एस. की। उन्होंने सामाजिक बदलाव का कार्य हमेशा किया। इन्होंने हरियाणवी में उपन्यास व कहानी भी लिखी समसामयिकी घटनाओं को अपनी रचनाओं में बखूबी प्रयोग किया। आज यह भगवत दयाल शर्मा चिकित्सा विश्वविद्यालय से सेवानिवृत्त हो गए हैं और मुफ्त में चिकित्सा का काम करते हैं।

सोनीपत जिले के सिसाना गांव से कृष्णचंद, बाजे भगत व ओमप्रकाश सांगी रहे। कृष्ण चंद फौज में भर्ती थे व बाद में दिल्ली पुलिस में अपनी सेवाएं दी। इनका जन्म 22 जुलाई 1922 को हुआ था। इसी के साथ बाजे भगत का जन्म 16 जुलाई 1838 को हुआ। ये सांगी हरदेवा के शिष्य रहे इन्होंने करीब 15 सांगों की रचना की। दीपचन्द का जन्म सोनीपत के गांव सेहरी खाण्डा में हुआ। ये छज्जूराम के शिष्य थे। ये ढोलक, सारंगी व नगाड़ा का प्रयोग करते थे।

आधुनिक युग में सूर्य कवि कहे जाने वाले पं. लख्मीचन्द भी जिला सोनीपत के गांव सिरसा जाटी के थे। इनके पिता का नाम उदमी राम था। कला के क्षेत्र में आने के लिए परिवारजनों का विरोध सहना पड़ा। अपनी गायन कला के दम पर न केवल हरियाणा बल्कि आस-पास के राज्यों में भी अपना नाम कमाया। इनकी पत्नी का नाम बर्फी देवी था। इनके गुरु पंडित मान सिंह थे। इन्होंने पं. रामचन्द्र खटकड़, पं. रतीराम हीरापुर, पं. माईचंद बबैल, सुल्तान रोहद, चन्दन लाल बजाना, मांगेराम पान्ची, फौजी मेहर सिंह, रामस्वरूप सिटावली, ब्रह्म शाहपुर बड़ौली, धारा सिंह बड़ौत, धर्म जोगी डिकाणा, जहूरमीर बाकनेर, सरूप बहादुरगढ़, तुंगल बहादुरगढ़, हरबंस पथरपुर आदि इसके शिष्य रहे हैं। लख्मीचन्द के लडक़े पदम् श्री पण्डित तुलेराम कौशिक इन्होंने सांस्कृतिक उत्थान के लिए मात्र एक कलाकार 2008 में निधन होने से सांग प्रस्तुति बंद हो गई। इनके पुत्र विष्णु कोशिक आज इस परंपरा को आगे बढ़ाने का काम कर रहे हैं। इनके अलावा बलवान सिंह, गांव बुटाना व वेदप्रकाश उर्फ बेदू-गन्नौर भी मशहूर सांगी रहे हैं। राणा गन्नौरी गजल कलाकार हैं। गन्नौर के लगते गांव अगवानपुर में हरियणा के मोहम्मद रफी राजकिशन अगवानुरिया रहे और पं. जगन्नाथ समचाना के शिष्य रहे। पं. मांगेराम सांगी भी पांजी गांव में रहे जो कि जन्म का गांव सिसाना है। बाद में ये अपने मामा ने गोद लिए थे।

सोनीपत का शिक्षा स्तर :

सोनीपत में राजीव गांधी एजुकेशन सिटी के रूप में राई में स्थापित किया गया तथा इस गांव के अंदर मोतीलाल नेहरू खेल विद्यालय तथा अंबेडकर विधि विश्वविद्यालय की स्थापना की गई है। तकनीकी शिक्षा के सोनीपत में बहुतकनीकी संस्थान तथा राजीव गांधी विज्ञान एवं प्रौद्योगिक विश्विद्यालय की रचना हुई। सोनीपत के अन्दर खानपुर गांव में भगत फूल सिंह महिला विश्वविद्यालय की स्थापना हुई। एक केवल महिला विश्वविद्यालय इसके अलावा दो निजी विश्वविद्यालय है जिनमें से एक ओ.पी. जिन्दल ग्लोबल विश्वविद्यालय है। यहां शिक्षा की प्रतिशतता 79.12 है।

सोनीपत के मेले व उत्सव :

डेरा नग्र बालक नाथ का मेला : यह मेला सोनीपत के गोहाना उपमण्डल के गांव रभड़ा में फाल्गुन शुक्ल पक्ष की नवमी को लगता है। यहां बाबा बालक नाथ की पूजा की जाती है।

नवरात्रि देवी मेला : यह मेला भी रभड़ा गांव में चैत्र पक्ष की अष्टमी तथा आश्विन शुक्ल पक्ष के नवरात्रि के पर्व पर लगता है।

सतकुम्भा का मेला : यह मेला सोनीपत जिले के गांव खेड़ी गुज्जर में श्रावण मास के अंतिम रविवार को लगता है।

बाबा रामकशाह मेला : यह मेला गोहाना तहसील के खुबडू़ गांव में फाल्गुन की पूर्णमासी को लगता है। बाबा रामकशाह सैयद सम्प्रदाय के सन्त थे। वे लोगों का इलाज जड़ी-बूंटियों से करते थे। उनकी मृत्यु के बाद हिन्दू और मुसलमान भक्तों ने उनकी कब्र बनवाई। उनकी याद में इस मेले का आयोजन किया जाता है।

रक्षाबन्धन का मेला : यह मेला सोनीपत में श्रावण मास की पूर्णमासी पर लगता है। इसमें निशानेबाजी, नाच-गाना, कुश्तियां आदि पारंपरिक खेलों का आयोजन किया जाता है।

दादा मंदार का मेला : यह मेला सोनीपत की गोहाना तहसील के गांव भावड़ में ज्येष्ठ के महीने में वीरवार को लगता है। गांव भावड़ सन् 1250 ई. के आस-पास अस्तित्व में आया था। बताया जाता है कि यहां सन् 1500ई. के आस-पास पीर दादा मंदार यहां आए थे। भक्ति की थी फिर यहीं पर उनकी मृत्यु हो गई। उस समय गांव में मुसलमान पठान रहते थे उस वक्त मुगल शासक था लेकिन गांव में 1857 के आस-पास जब स्वतंत्रता संग्राम की क्रांति हुई थी तो भावड़ गांव में कालीरामण गांव सिसाय हिसार व बूरा गुराना (हिसार) से आकर यहां बसे थे फिर कौशिक ब्राह्मण गांव रधाणा से आकर बसे थे फिर यहां के पठान चले गए और आज भी यह दादा मंदार पीर की मजार हिन्दू-मुस्लिम एकता की प्रतीक है। दोनों धर्म के लोग यहां आते हैं। गांव की औरत गीतों पर नाचती हैं झूमती हैं।

उपरोक्त के अलावा यमुना स्नान का मेला गांव बैगा व मेहंदीपुर में लगता है। मेला सांझाी शाम चुलकाना, देवी मेला चटाना, बाबा जिन्दा मेला मोई आदि गांव में लगता है।


लेखक

खान मनजीत भावडिय़ा मीद

शैक्षणिक नाम - मनजीत सिंह

पिता का नाम - श्री भूप सिंह

माता का नाम - श्रीमती किताबो देवी

प्रकाशित पुस्तक : हरियाणवी झलक (काव्य संग्रह)

संप्रति शैक्षिक योग्यता - एम.ए. (समाशास्त्र, जनसंचार) बी.एड.

पता - गांव भावड़ तह. गोहाना जिला- सोनीपत-131302

ईमेल - manjeetbhawaria@gmail.com

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * || * उपन्यास *|| * हास्य-व्यंग्य * || * कविता  *|| * आलेख * || * लोककथा * || * लघुकथा * || * ग़ज़ल  *|| * संस्मरण * || * साहित्य समाचार * || * कला जगत  *|| * पाक कला * || * हास-परिहास * || * नाटक * || * बाल कथा * || * विज्ञान कथा * |* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4095,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,341,ईबुक,196,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,112,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3061,कहानी,2275,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,542,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,110,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,346,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,68,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,16,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,29,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,245,लघुकथा,1269,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,19,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,340,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2013,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,714,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,802,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,18,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,91,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,211,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,78,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: मेरा जिला - सबसे निराला - खान मनजीत भावडिय़ा मीद
मेरा जिला - सबसे निराला - खान मनजीत भावडिय़ा मीद
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2019/03/blog-post_31.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2019/03/blog-post_31.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ